Thursday, 31 October 2019

कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने सरदार पटेल और पूर्व पीएम इंदिरा गांधी के बलिदान को याद किया 


देहरादून। प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह के नेतृत्व में कांग्रेसजनों ने भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री स्व0 इन्दिरा गांधी के शहादत दिवस एवं भारत रत्न स्व0 सरदार बल्लभ भाई पटेल की जयंती के अवसर पर दोनों नेताओं के चित्रों पर मल्यापर्ण करते हुये उन्हें अपने श्रद्धा सुमन अर्पित किये गए। उनके द्वारा देश के लिये किये गये बलिदान को याद करते हुये सम्पूर्ण समाज को उनके उनके बाताये मार्ग पर चलने का अवाह्न किया। इस अवसर पर गोष्ठी कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

प्रदेश कांग्रेस प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने इन्दिरा मार्केट स्थित स्व0 इन्दिरा गांधी की मूर्ति एवं घण्टाघर स्थित स्व0 सरदार पटेल की मूर्ति पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने कहा कि आज हम राष्ट्र एवं विश्व की महान जननायिका तथा देष की एकता के लिए अपने प्राणों को न्यौछावर करने वाली त्याग और बलिदान की प्रतिमूर्ति, मात्र षक्ति स्व0 श्रीमती इन्दिरा गांधी जी एवं भारत के लौह पुरूष सरदार बल्लभ भाई पटेल को श्रद्धांजलि देने के लिए एकत्र हुए हैं। जहां स्व0 इन्दिरा जी ने अपनी प्रतिभा कौषल एवं विद्यता से देष को प्रगति के पथ पर लाने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी तथा गरीबी निवारण के साथ-साथ बैंकों का राष्ट्रीयकरण, बीस सूत्रीय कार्यक्रम जैसे विकासोन्मुखी कार्यक्रम षुरू करने के साथ ही सामाजिक समरसता एवं सद्भाव को मजबूत बनाने की दिशा में अनेकों उल्लेखनीय कार्य किये थे। वहीं सरदार बल्लभ भाई पटेल ने देष के विभिन्न प्रान्तों के एकीकरण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हुए मजबूत भारत की नींव रखने का काम किया था। स्व0 इन्दिरा ने विश्व ख्याति प्राप्त करते हुए समूचे विश्व का ध्यान भारत की ओर आकर्षित किया और देष के दुश्मनों का सिर झुका कर भारत की सम्प्रभुता मानने को मजबूर किया। उन्होंने षिमला समझौता तरते हुए षांति की दिषा में एक और कदम उठाकर गुट निरपेक्ष आन्दोलन की अध्यक्ष निर्वाचित होकर विश्व में भारत के गौरव को बढ़ाया।

प्रीतम सिह ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने सदैव साम्प्रदायिक सौहार्द एवं भाईचारे का वातावरण बनाने में सफलता प्राप्त की किन्तु आज कुछ विघटनकारी ताकते फिर से देश को गुलामी की ओर ले जाने का काम कर ही हैं उनका हमें डटकर मुकाबला करना है। कांग्रेस आज दावे के साथ कह सकती है कि आज बेसक हम केन्द्र में सत्ता में न हो परन्तु विपक्ष के रूप में भी कांग्रेस लोकतांत्रिक मर्यादा में रहते हुए जनभावनाओं के अनुरूप केन्द्र की वर्तमान सरकार पर सही दिषा में चलने के लिए दबाव बनाये रखेगी। हम सब को मिलकर उनके बताये हुए रास्ते पर चल कर एक षक्तिषाली भारत के निर्माण के उनके सपने को साकार करने के लिए अपनी सहभागिता निभान है यही उन्हें हमारी सच्ची श्रद्धांजलि होगी। कार्यक्रम में नेता प्रतिपक्ष इन्दिरा हृदयेश, पूर्व मंत्री हीरा सिंह बिष्ट, मातवर सिह कण्डारी, पूर्व विधायक गणेश गोदियाल, अनुसूया प्रसाद मैखुरी, शूरवीर सिंह सजवाण, प्रदेश उपाध्यक्ष सूर्यकान्त धस्माना, डाॅ0 संजय पालीवाल, महामंत्री विजय सारस्वत, मनोहर लाल शर्मा, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष चमन सिंह, मुख्य कार्यक्रम समन्वयक राजेन्द्र शाह, महामंत्री याकूब सिद्धिकी, सुरेन्द्र रांगड़, अनुषासन समिति के अध्यक्ष प्रमोद कुमार सिह, महानगर अध्यक्ष लालचन्द षर्मा,, पूर्व मंत्री अजय सिंह, प्रदेष प्रवक्ता, डाॅ0 आर.पी. रतूड़ी, लखपत बुटोला, गरिमा दसौनी, अर्जुन कुमार, प्रदेश सचिव राजेश पाण्डे, भरत षर्मा, नीनू सहगल, डाॅ0 विजेन्द्र पाल, डाॅ0 प्रदीप जोषी, पीसीसी सदस्य राजेश चमोली, गिरीष पुनेड़ा, राजेश षर्मा, नवीन पयाल, राजीव महर्षि, हरविन्दर ंिसह रतन, देविका रानी, राकेश नेगी, दीप बोहरा, कै0 बलवीर रावत, सुनीत राठौर, कमलेष रमन, चन्द्रकला नेगी, पुश्पा पंवार, कामेष्वर राणा, महेष जोषी, बाला षर्मा, विनोद धनोषी, षोभा राम, पूनम पुण्डीर, मोहन काला, त्रिलोक सजवाण , सुधीर सुनेहरा, रजत अग्रवाल, अवधेष पन्त, पूरण सिंह रावत, अजय सिह, विपुल नौटियाल, धर्म सिंह पंवार, राजेन्द्र सिंह चैहान, हरिमोहन नेगी,  भगत ंिसह चैहान, कुंवर सिंह यादव, सावित्री थापा, देवेन्द्र बुटोला, सीताराम नौटियाल, संतोष सैनी, उषा नेगी, शोभा कन्याल, आदि अनेक कार्यकर्ता उपस्थित थे। 

अंतरराष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव 5 से 8 नवंबर तक कोलकाता में 



देहरादून। विज्ञान और प्रौद्योगिकी तथा भू-विज्ञान मंत्रालय और विज्ञान भारती के संयुक्त तत्वावधान में 5 से 8 नवंबर तक कोलकाता में अंतरराष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव आयोजित किया जाएगा। इसमें बच्चों को विज्ञान की ओर आकर्षित करने के उद्देश्य से सीएसआईआर की 1000 से अधिक उल्लेखनीय प्रौद्योगिकियों व उत्पादों का प्रदर्शन किया जाएगा। इस समारोह में बच्चों को अपनी कल्पना और रचनात्मकता को मूर्त रूप देने के लिए एक मंच भी उपलब्ध कराया जाएगा जहां बच्चे उनके द्वारा निर्मित प्रदर्शित वैज्ञानिक मॉडल के माध्यम से अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करेंगे। इस प्रकार इस समारोह के अंतर्गत लगभग 28 विभिन्न विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। इस बार के भारत अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव का उद्देश्य महिला सशक्तिकरण भी है और इसके अंतर्गत सफल महिला वैज्ञानिकों द्वारा महिला उद्यमियों को प्रोत्साहन एवं प्रेरणा दी जाएगी। यह महोत्सव सीएसआईआर तथा भारतीय उद्योगों के मध्य एक कड़ी का कार्य करता है, जहां सीएसआईआर के वैज्ञानिक-उद्यमियों के साथ चर्चा करते हैं तथा उनकी आवश्यकताओं क समझते हुए उन्हें अपने प्रौद्योगिकीय समाधान सुझाते हैं।

अंतरराष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव के आयोजन के संबंध में भारतीय पेट्रोलियम संस्थान देहरादून द्वारा संस्थान में प्रेस सम्मेलन का आयोजन किया गया। इस सम्मेलन में नगर निगम देहरादून के मेयर सुनील उनियाल गामा, सीएसआईआर-भारतीय पेट्रोलियम संस्थान के निदेशक डॉक्टर अंजन रे, डॉ. डीसी पांडे हेड पब्लिक इंगेजमेंट ने अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव के इतिहास एवं उद्देश्य पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि किस प्रकार भारतीय युवाओं को विज्ञान की ओर आकर्षित करने के उद्देश्य से इस महोत्सव का प्रारंभ हुआ तथा इस वर्ष इस महोत्सव का आयोजन 5 से 8 नवंबर को कोलकाता में किया जा रहा है। संस्थान के निदेशक डॉ. अंजन रे ने इस अवसर पर इस महोत्सव और इसकी सफलता के बारे में बताते हुए कहा कि भारत अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव - वैज्ञानिक अनुसंधान को जन-जन तक पहुंचाने और युवाओं को वैज्ञानिक अनुसंधान की ओर प्रेरित करने का एक सफल मंच बन चुका है. निश्चित रूप से भारतीय मीडिया के हम आभारी हैं जिन्होंने इसे सफल बनाने में अपना अत्यधिक महत्वपूर्ण सहयोग दिया है.  इस महोत्सव का मुख्य उद्देश्य है कि सभी जन विज्ञान और वैज्ञानिक अनुसंधान और उसके समाधान को अपनाएं तभी संपूर्ण राष्ट्र का विकास संभव है. इसके लिए मीडिया को भी और अग्रणी भूमिका निभानी होगी, जिससे प्रत्येक जन की इसमें भागीदारी सुनिश्चित हो सके।

 हम आपको इस भारत अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव में आमंत्रित करते हैं. आइये हम जन जन तक यह संदेश पहुंचाए कि विज्ञान के सहयोग से हमारा भारत शीघ्र विकसित बन सकता है. जन जन के जीवन की उन्नति विज्ञान से ही सम्भव है. इस अवसर पर भारतीय पेट्रोलियम संस्थान द्वारा किए जा रहे मुख्य अनुसंधान जैसे कि प्रयोग किए गए खाद्य तेल व रतनजोत बीज से डीजल निर्माण, बायोडीजल निर्माण, बायो जेट ईंधन, पुराने वाहनों को ई वाहनों में परिवर्तित करने संबंधी अनुसंधान कार्य, पाइपलाइन नेचुरल गैस (पीएनजी) के लिए निर्मित विशिष्ट उन्नत पीएनजी बर्नर, उन्नत गुड भट्टी, विद्यालय छात्रध्छात्राओं को विज्ञान की ओर आकर्षित करने हेतु आयोजित की जा रहे जिज्ञासा कार्यक्रम, कौशल निर्माण के अंतर्गत दिए जा रहे विभिन्न प्रशिक्षण कार्यक्रमों आदि की विस्तार से जानकारी दी गई तथा पत्रकारों के तत्संबंधी सवालों के जवाब भी दिए। इसके अतिरिक्त हाल ही में केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण तथा भू-विज्ञान मंत्री माननीय डॉ हर्षवर्धन जी द्वारा उद्घाटित अपशिष्ट प्लास्टिक से डीजल निर्माण संयंत्र की जानकारी भी दी गई।  संस्थान की इको कैंपस परियोजना की प्रमुख डॉ सुमनलता जैन ने उपस्थित मीडिया को बताया कि स्मार्ट कैंपस के अंतर्गत देहरादून संभाग में भारतीय पेट्रोलियम संस्थान के आवासीय परिसर को दूसरा स्थान प्राप्त हुआ है इसके लिए संस्थान द्वारा 2 वर्षों से प्रयास किए गए हैं और संस्थान परिसर को प्लास्टिक मुक्त परिसर बनाया गया है। यहां प्रभावी रूप से कूड़े का पृथक्करण होता है तथा सही ढंग से निस्तारण होता है. मेयर सुनील उनियाल गामा ने आईआईपी द्वारा किए जा रहे प्रयासों की सराहना की तथा देह्रादून के स्मार्ट आवासीय परिसर में आईआईपी को द्वितीय स्थान पाने पर बधाई दी और आशा व्यक्त की कि अन्य आवासीय परिसर भी इन श्रेष्ठ परिसर के मॉडल का अनुकरण करेंगे। उन्होंने अपशिष्ट प्लास्टिक से डीजल निर्माण संयंत्र का दौरा भी किया। इस अवसर पर संस्थान के वरिष्ठ वैज्ञानिक अमर कुमार जैन भी उपस्थित रहे।

पुलिस लाइन में रैतिक परेड का भव्य आयोजन, सीएम ने किया परेड का निरीक्षण 


-क्लेमनटाउन थाना को सर्वश्रेष्ठ थाना चयनित होने पर सम्मानित किया गया

 

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने गुरूवार को पुलिस लाईन, देहरादून में राष्ट्रीय एकता दिवस के अवसर पर आयोजित रैतिक परेड में प्रतिभाग किया। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने परेड का निरीक्षण किया व राष्ट्रीय एकता की शपथ दिलाई। इस अवसर पर क्लेमेंटाउन थाना को सर्वश्रेष्ठ थाना चयनित होने पर सम्मानित किया गया। पुलिस के अधिकारियों को उत्कृष्ट कार्यों एवं विवेचना के लिए सम्मानित किया गया। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि देश की आजादी के बाद देशी रियासतों के एकीकरण में लोह पुरूष सरदार बल्लभ भाई पटेल की अहम भूमिका रही। आजादी के बाद अंग्रेज भारत को छोड़कर तो चले गये थे, लेकिन उन्होंने देश को अनेक रियासतों में बांट दिया। देश की एकता और अखण्डता के लिए लिये सरदार पटेल ने रियासतों का एकीकरण कर अंग्रजों के सपने को चकनाचूर किया। सरदार पटेल जी का किसानों के लिए भी अद्धितीय चिंतन रहा। उनका मानना था कि बिना किसानों के भारत की कल्पना नहीं की जा सकती।

 प्रशासनिक क्षेत्र के अलावा उनका अन्नपूर्ण भारत के लिए विशेष चिंतन रहा। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के प्रयासों से सरदार पटेल जी के 'एक भारत, श्रेष्ठ भारत' का सपना साकार हो रहा है। उन्होंने कहा कि यह वर्ष जम्मू-कश्मीर की धारा 370 से आजादी का वर्ष भी है। जम्मू-कश्मीर और लद्दाख का भविष्य उज्ज्वल दिखाई दे रहा है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि जब सरदार पटेल अहमदाबाद के मेयर थे, तब उन्होंने 222 दिन तक स्वच्छता को लेकर अभियान चलाया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देशवासियों से सिंगल यूज प्लास्टिक मुक्त भारत बनाने का आह्वाहन किया है। सरदार पटेल जी का जीवन आदर्श हमें हमेशा प्रेरित करता रहेगा। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने नैनीताल में ज्योलिकोट के पास पुलिस वाहन दुर्घटना में मृतक पुलिस कर्मियों को श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि इन पुलिस कर्मियों के परिवारजनों को राज्य सरकार द्वारा हर सम्भव मदद दी जायेगी। पुलिस महानिदेशक अनिल कुमार रतूड़ी ने कहा सरदार पटेल ने भारत के प्रथम गृह मंत्री बनने के बाद देशी रियासतों के विलय एवं प्रशासनिक व्यवस्थाओं को सुदृढ़ करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने कहा कि सरदार पटेल जी के जीवन से प्रेरणा लेते हुए हमें देश की अखण्डता व सम्प्रभुता को अक्षुण्ण रखते हुए कार्य करना होगा। उत्तराखण्ड पुलिस राज्य एवं देश को अक्षुण्ण रखने का पूरा प्रयास करेगी।

इस अवसर पर उच्च शिक्षा राज्य मंत्री डॉ. धन सिंह रावत, सांसद माला राज्यलक्ष्मी शाह, विधायक हरवंश कपूर, खजान दास, गणेश जोशी, देशराज कर्णवाल, उमेश शर्मा काऊ, मेयर देहरादून सुनील उनियाल गामा, मेयर ऋषिकेश अनीता मंमगाई, अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी, पुलिस महानिदेशक कानून एवं व्यवस्था अशोक कुमार, पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी एवं गणमान्य उपस्थित रहे।    

राज्य स्थापना सप्ताह की तैयारियों को लेकर डीएम ने ली बैठक

 

 

देहरादून। जिलाधिकारी शिविर कार्यालय में जिलाधिकारी सी रविशंकर की अध्यक्षता में राज्य स्थापना दिवस तथा राज्य स्थापना सप्ताह मनाये जाने के अवसर पर होने वाले कार्यक्रमों के सम्बन्ध में सम्बन्धित अधिकारियों के साथ बैठक आयोजित करते हुए आवश्यक दिशा-निर्देश दिये।

जिलाधिकारी ने अवगत कराया कि वर्ष राज्य स्थापना दिवस के साथ-साथ राज्य सप्ताह मनाने का भी सरकार द्वारा निर्णय लिया गया है, जिसके क्रम में उत्तराखण्ड सरकार तथा विभिन्न मीडिया संगठनों द्वारा संयुक्त रूप से प्रदेश  के जनपद में भी 4 नवम्बर 2019 को देहरादून में सैनिक सम्मेलन, (मेरे सैनिक मेरा-अभिमान) तथा मसूरी में 8 नवम्बर 2019 को फिल्म कान्क्लेव का आयोजन निर्धारित है। उपरोक्त कार्यक्रम को सफलतापूर्वक सम्पादन हेतु जिलाधिकारी ने अपर जिलाधिकारी प्रशासन रामजी शरण शर्मा, जिला सैनिक कल्याण अधिकारी कर्नल डी.के कौशिक और अपर आयुक्त नगर निगम सोनिया पंत को जरूरी दिशा-निर्देश दिये। जिलाधिकारी द्वारा मुख्यमंत्री की घोषणा के क्रम में जनपद में बीएसएफ के शहीद सैनिक की पत्नी श्रीमती स्वाति भट्ट को सरकारी नौकरी प्रदान करने का अनुमोदन किया गया और जिला सैनिक कल्याण अधिकारियों को इस सम्बन्ध में जरूरी समन्वय करने के निर्देश दिये। उन्होंने गांव में रहने वाले एक्स सर्विसमैन का विवरण के साथ ही आपदा प्रबन्धन में उनकी सक्रिय भागीदारी का विवरण के साथ ही आपदा प्रबन्धन में उनकी सक्रिय भागीदारी सुनिश्चित करने हेतु उनको प्रशिक्षण, आपदा किट के वितरण और उनमें से प्रत्येक गांव में एक चीफ कार्डिनेटर नियुक्त करने के निर्देश दिये। उन्होंने सैनिक पृष्ठभूमि के प्रवासी उत्तराखण्डी जो देश के विभिन्न भागों में कार्यरत व निवासरत् है  उनकी सूची प्राप्त करते हुए। उनका, उनके पैतृक गांव के बेहतर विकास और महत्वपूर्ण सुझाव साझा करने के लिए सोशल मीडिया अथवा इसी तरह का कोई प्रभावी प्लेटफाॅर्म बनाने के भी जिला सैनिक कल्याण अधिकारी को निर्देश दिये, जिससे ऐसे प्लेटफार्म पर कोई सैनिक अपने अनुभव, अपने पैतृक गावं की समस्या इत्यादि के साथ ही अपने पैतृक गांव के विकास में किसी भी तरह के योगदान के लिए अपना सहयोग और अनुभव भी साझा कर सकें। इसके अतिरिक्त उन्होंने जनपद में निवासरत् विधवाओं का भी डाटा प्राप्त करने तथा उनकी यथा संभव समस्याओं और उसके समाधान के सम्बन्धित प्रयास करने के भी अधिकारियों को निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने जनपद में देहरादून व मसूरी में स्थापना दिवस सप्ताह के अवसर आयोजित होने वाले कार्यक्रम के स्वरूप अनुसार उसके सफल सम्पादन हेतु सभी तरह की जरूरी सहयोग करने के अधीनस्थ अधिकारियों को निर्देश दिये साथ ही नगर निगम को भी उनको विभागीय स्तर पर किये जा सकने वाले कार्यों में जरूरी सहयोग करने के भी निर्देश दिये।

साहिया क्वानू मार्ग पर सफर जोखिमभरा

विकासनगर। साहिया-क्वानू मिनस मोटर मार्ग पर विभागीय अनदेखी के चलते सफर जोखिमभरा साबित हो रहा है। मार्ग पर बरसात के दौरान आई स्लिपों की सफाई न होने के साथ जगह-जगह बने गड्ढे राहगीरों को चोटिल कर रहे हैं। स्थानीय लोगों ने विभाग से जल्द मार्ग के सुधारीकरण की गुहार लगाई है। जौनसार- बावर क्षेत्र में साहिया क्वानु मिनस मोटर मार्ग प्रमुख मार्गों में एक है। इस मार्ग पर प्रतिदिन कोठा, तारली, पंजिटीलानी, सलगा, चिवोऊ, फेडूलानी, आरा, अस्टी, मलेथा, दुनुवा, गोना, हिडका, हाजा, दसोऊ, गवेला, दोधा, मटियाना सहित तीन दर्जन से अधिक गांवों के ग्रामीणों सफर करते हैं। लेकिन, विभागीय अनदेखी के चलते मार्ग जगह-जगह से खस्ताहाल हो रखा है। ग्रामीण राजेन्द्र सिंह, आनन्द शर्मा, भगतराम शर्मा, बिरेन्द्र सिंह चैहान, जसबीर सिंह आदि ने बताया कि मार्ग पर जगह-जगह स्लिपें पड़ी हुई हैं। जगह-जगह पुश्ते गिरे हैं। लोनिवि साहिया के ईई डीपी सिंह ने बताया कि मार्ग से स्लिपें जल्द हटवाई जाएंगी। पुश्ते निर्माण के लिए भी शासन को प्रस्ताव भेजा जाएगा।

वन विभाग से की गुलदार के आतंक से निजात दिलाने की मांग

विकासनगर। चकराता वन प्रभाग अंर्तगत बावर रेंज में इन दिनों गुलदार का आंतक है। ग्रामीणों ने वन क्षेत्राधिकारी से मिलकर गुलदार के आंतक से निजात दिलाने की गुहार लगाई है।

 बुधवार सुबह ग्रामीणों का एक शिष्ट मंडल बावर रेंज कार्यालय पर वन क्षेत्राधिकारी से हरीश गैरोला से मिला। उन्होंने ज्ञापन के माध्यम से चांजोई, डिमीच, भंद्रोली, कइलोण, ककटे, खारशोई आदि गांव व छानियों में बने गुलदार के आंतक से अवगत कराया। बताया कि करीब एक माह में गुलदार ने आधा दर्जन से अधिक पशुओं को अपना निवाला बना लिया है। आरओ हरीश गैरोला ने ग्रामीणों को जल्द कार्रवाई का आश्वासन दिया। शिष्ट मंडल में पशुपालक भागीराम, सहज राम, कृपाल सिंह, चैतराम, अछर सिंह, अमर सिंह, दीवान सिंह, भरत सिंह आदि शामिल रहे।

---------------------------------------------------------

हिरण नृत्य के साथ बावर क्षेत्र में दिपावली संपन्न

विकासनगर। जौनसार के बावर क्षेत्र में चल रही पांच दिवसीय नई दिवाली बुधवार को काठ का हाथी व हिरण नृत्य के साथ सम्पन्न हुई। गांव-गांव में ग्रामीणों ने पंचायती आंगन में ढोल दमाऊ व गाजे बाजे के साथ सामुहिक नृत्य किया। जौनसार के बावर क्षेत्र में चल रही पांच दिवसीय नई दिवाली बुधवार को काठ का हाथी और हिरन नृत्य के साथ सम्पन्न हुई। गांव-गांव में ग्रामीणों ने पंचायती आंगन में ढोल दमाऊं और गाजे बाजे के साथ सामूहिक नृत्य कर पर्व की खुशियां बांटी। अंतिम दिन ग्रामीणों ने आग का खरोडा जलाकर जश्न भी मनाया।

एनआईओएस में कर्मचारियों ने ली सतर्कता की शपथ

देहरादून। राष्ट्रीय मुक्त विद्यालयी शिक्षा संस्थान (एनआईओएस) के बंगाली कोठी स्थित क्षेत्रीय केन्द्र में सतर्कता जागरुकता सप्ताह के तहत सभी कर्मचारियों को काम के दौरान पूरी सर्तकता बरतने की शपथ दिलाई गई। क्षेत्रीय निदेशक एसके तंवर ने कर्मचारियों को शपथ दिलाते हुए कहा कि इस तरह से सरकारी संस्थानों में अधिकारी-कर्मचारियों को भ्रष्टाचार के प्रति सतर्क करने का अभियान पूरे देश में चल रहा है। इस मौके पर सतीश कुमार, भारत गुसांई, रिचा नेगी, पद्म भूषण, एमपीएस बिष्ट, लोकेश कुमार, लक्ष्मी प्रसाद, आशीष थपलियाल, प्रदीप नैथानी, रविन्द्र सिंह, सचिन कुमार आदि मौजूद थे।

आंगनबाड़ी कार्यकत्री होंगी हाईटेक

विकासनगर। अब आंगनबाड़ी कार्यकर्ता भी हाईटेक होंगे और उनके द्वारा किए जाने वाले सभी कार्यों का रिकार्ड आन लाइन दर्ज होगा। इसके लिए बाल विकास विभाग की ओर से प्रत्येक आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को एक स्मार्ट फोन दिया जा रहा है। सभी कार्यों का रिकार्ड ऑन लाइन रखने की जानकारी देने के लिए विकासनगर ब्लाक के आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का दो दिवसीय प्रशिक्षण शिविर बुधवार से प्राथमिक विद्यालय विकासनगर प्रथम में शुरू हुआ। 

बाल विकास विभाग की सुपरवाइजर किरन वर्मा ने बताया कि मानवीय भूलों से छुटकारा पाने के साथ ही कुपोषण मुक्त भारत बनाने के लिए भारत सरकार की ओर से आईसीडीएस कैश योजना की शुरुआत की गई है। इसके तहत आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को विभिन्न योजनाओं से संबंधित जो ग्यारह रजिस्टर दिए गए हैं, उनके बदले सिर्फ एक मोबाइल मुहैया कराए जाएगा। जिस पर सभी जानकारियां मुहैया होने के साथ ही प्रत्येक कार्यकर्ता द्वारा सभी योजनाओं से संबंधित कार्यों और आंकड़ों को एक पोर्टल पर दर्ज करना होगा। बताया कि इसकी मॉनिटरिंग भारत सरकार के बाल विकास विभाग की ओर से की जाएगी। योजना से प्रत्येक कार्यकर्ता को जोड़ने के लिए उन्हें एक स्मार्ट फोन दिया जाएगा। साथ ही पोर्टल के संचालन की जानकारी के लिए दो दिवसीय प्रशिक्षण शिविर आयोजित किया गया है। प्रशिक्षक संध्या नेगी ने प्रशिक्षण के पहले दिन आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को मोबाइल फोन और केंद्र सरकार के आईसीडीएस कैश योजना की जानकारी मुहैया कराई। जबकि अंतिम दिन पोर्टल पर आंकड़ों व अन्य जानकारी को दर्ज करने की जानकारी दी जाएगी। इस दौरान नंदनी, एंजल मैरी, सुमन, रजनी, पिंकी, शालिनी, सुधा, रुचि डोगरा आदि मौजूद रहे।

नए हाईटेक फेनेस्टा यूपीवीसी दरवाजे एवं खिड़कियां ठंड, हवाओं एवं बारिश से बचाएंगी

देहरादून। सर्दियों के मौसम की दस्तक साल के सबसे खूबसूरत समय में से एक होती है।लेकिन इस मौसम में चलने वाली बर्फीली ठंडी हवाओं के साथ होने वाली भारी बारिश से आम जनजीवन अस्तव्यस्त हो जाता है। लेकिन अब से ऐसा नहीं होगा क्योंकि 1.2 बिलियन अमेरिकी डॉलर वाले डीसीएम श्रीराम ग्रुप के एक हिस्से फेनेस्टा बिल्डिंग सिस्टम ने आपको कड़कड़ाती सर्दियोंकी मार से बचाने का पूरा प्रबंध कर लिया है। कंपनी ने यूपीवीसी खिड़कियों और दरवाजों की नई रेंज लॉन्च की है, जिससे सनसनाती ठंडी हवाओं के साथ मूसलाधार बारिश के मौसम में आपको बेतहाशा सर्दी से बचाया जा सके। इससे भारतीय उपभोक्ताओं की बदलती हुई जरूरतें भी पूरी होंगी।

फेनेस्टा बिल्डिंग सिस्टम की नई रेंज में यूपीवीसी खिड़कियों का बेहतर प्रारूप शामिल है, जोबारिश, हवा, शोर और तापमान से पूरी तरह सुरक्षा प्रदान करता है। यह रेंज शीतलहर, भारी वर्षा और 245 किमी प्रति घंटे तक की रफ्तार से चलने वाली तेज हवाओं का भी बगैर खड़खड़ाहट के सफलतापूर्नक सामना करती है, जो इसे ऊंची-ऊंची बिल्डिंगों और भारी वर्षा के क्षेत्र के लिए एक आदर्श बनाती है। यूपीवीसी (अनप्लास्टिसाइज्ड पॉलीविनाइल क्लोराइड) मटीरियल से बने बने होने के कारण यह ऊर्जा का अच्छा चालक नहीं है। इससे ऊष्मा का संचार नहीं होता। यह खिड़कियां खराब से खराब मौसम में किसी भी बिल्डिंग को कुदरती रूप से सुरक्षा प्रदान करती है।  

फेनेस्टा के बिजनेस हेड श्री साकेत जैनने रेडियो मिर्ची 98.3 पर कंपनी की शोर के खिलाफ नई कैंपेन ''शट द शोर, यूज फेनेस्टा विंडोज एंड डोर” की लॉन्चिंग की पूर्व संध्या पर कहा, “नई रेंज की खिड़कियां अपनी हाई क्वॉलिटी की सील और एयर टाइट ट्रिपल सीलिंग सिस्टम से गैरजरूरी शोर और धूलको बाहर रखती है।इस तरह यह बाहर की हर चीज को बाहर ही रखती है।'' श्री जैन ने कहा,“ध्वनि प्रदूषण अब सिर्फ परेशानी नहीं है, बल्कि यह एक बड़ा सिरदर्द बन गया है। इस बारे में काफी रिसर्च की गई, जिससे यह पता लगता है कि लगातार तेज आवाज के बीच रहने से हमारी शारीरिक और भावनात्मक सेहत पर काफी असर पड़ता है। यह कैंपेन हमारे उपभोक्ताओं का ध्यान इस तरफ आकर्षित करेगा कि किस तरह वह अपनेघरों या ऑफिसों में फेनेस्टा यूपीवीसी खिड़कियां और दरवाजे लगाकर अपनीजिंदगी से ध्वनि एवं वायु प्रदूषण का नामोनिशान मिटा सकते हैं। इससे वह अपने साथ अपने परिवार का पूरा चैन और सुकुन सुनिश्चित कर पाएंगे।“

मां काली की भव्य शोभायात्रा निकाली गई

देहरादून। सर्राफा मंडल दून की ओर से बुधवार को मां श्यामा काली की शोभायात्रा हर्ष और उल्लास के साथ निकाली गई। महिलाओं ने यहां मोती बाजार स्थित श्री लक्ष्मी नारायण मंदिर में सिंदूर खेला की रस्म को उत्साह के साथ निभाया। इस दौरान मां के जयकारों से वातावरण गूंज उठा। श्री श्यामा काली पूजा समिति के तत्वावधान में आयोजित इस शोभायात्रा में भक्तों ने बढ़चढ़ कर भाग लिया। शोभायात्रा के दौरान सुंदर और आकर्षक झांकियों ने कई भक्तों को मंत्रमुग्ध कर दिया।

इससे पहले दोपहर 12 बजे के करीब मंदिर परिसर से शोभायात्रा आरंभ हुई। यात्रा राजा रोड, डिस्पेंसरी रोड, पलटन बाजार होते हुए सर्राफा बाजार धामावाला पहुंची। यहां विभिन्न सर्राफा मंडल संगठनों और व्यापारियों ने फूलों की वर्षा कर मां काली का जयघोष किया। इसके बाद धामावाला से शोभायात्रा राजा रोड दोपहर दो बजे पहुंची। यहां बड़ी संख्या में भक्तगण मौजूद रहे। जो एक जत्था बनाकर हरिद्वार के लिए रवाना हुए। जहां शाम पांच बजे टेड पुल घाट पर मूर्ती का हर्ष ध्वनि के साथ विसर्जन किया गया। श्यामा काली उत्सव के दौरान बुधवार को कार्यक्रम में सर्राफा मंडल अध्यक्ष सुनील मेसोन, काली पूजा समिति के संरक्षक जुगल मायति, अध्यक्ष तपन मन्ना, महासचिव सनथ समंता, कोषाध्यक्ष राम कृष्ण जाना, उत्तराखंड स्वर्णकार संघ के अध्यक्ष हरभजन सोंधी, महासचिव राकेश वर्मा, मीडिया सचिव डा. देवेंद्र ढल्ला आदि।

काली पूजा समिति के कार्यकारिणी सदस्य सुरजीत बग, गौतम सासमल, नीलू दोलाई, समर बारी, प्रसन्नजीत अदक, तपन मयति, बालाराम, उत्तम, प्रशांता, शंतु, भोपाल, मानस, गणेश, महानंदा, अशीम, शैली, बिल्टू, बलाई, गणेश, रघुनाथ, राधानाथ, अजय, तारक, अरुण, लखन, संतोष, अनूप आदि।

राज्य स्थापना दिवस को राज्य गौरव दिवस घोषित करंे सरकार

देहरादून। उत्तराखंड राज्य आंदोलनकारी मंच ने प्रदेश सरकार से नौ नवंबर को आने वाले राज्य स्थापना दिवस को 'राज्य गौरव दिवस घोषित किए जाने की मांग की है। बुधवार को इस आशय का एक ज्ञापन राज्य आंदोलनकारियों ने मुख्यमंत्री को प्रेषित किया। ज्ञापन के माध्यम से मांग करते हुए कहा कि राज्य स्थापना दिवस को राज्य गौरव दिवस घोषित किया जाए। साथ ही इस दिन सभी स्कूलों, महाविद्यालयों और सरकारी कार्यालयों में झंडा रोहण को अनिवार्य बनाया जाए। 

इस मौके पर मंच के प्रदेश अध्यक्ष जगमोहन सिंह नेगी ने कहा कि उत्तराखंड के निर्माण के लिए 42 राज्य आंदोलनकारियों ने अपनी शहादत दी। कई घायल हुए। कई जेल गए और कईयों ने यातनाएं झेली। ऐसे आंदोलनकारियों के ऐतिहासिक बलिदान से ही नौ नवंबर 2000 को उत्तराखंड राज्य का उदय हुआ। नेगी ने कहा कि प्रदेश के सभी राज्य आंदोलनकारी मंच के आह्वान पर नौ नवंबर का दिन राज्य गौरव दिवस के रूप में घोषित किए जाने की मांग करते हैं। मांग करने वालों में मंच के प्रदेश महामंत्री रामलाल खंडूरी, जिला अध्यक्ष प्रदीप कुकरेती, राकेश थपलियाल, यशवंत रावत, मोहन सिंह रावत, जीतपाल बड़थ्वाल, चंद्र किरण राणा, रघुवीर सिंह चैहान आदि शामिल रहे।उत्तराखंड राज्य चिन्हित आंदोलनकारी समिति के बैनर तले बुधवार को राज्य आंदोलनकारियों की समस्या और मांगों को लेकर मालसी में एक बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में सरकार से मांग की गई कि नौ नवंबर को राज्य स्थापना दिवस के मौके पर आंदोलनकारियों को एक समान पेंशन की घोषणा की जाए। दस प्रतिशत क्षैतिज आरक्षण का लाभ दिया जाए। गैरसैंण को स्थाई राजधानी बनाया जाए। शहीदों के नाम पर स्कूल, कालेज और महाविद्यालय खोले जाएं। इस मौके पर जिला महामंत्री चिंतन सकलानी, लोक बहादुर थापा, आशा सकलानी, जबर सिंह पावेल, नर्मदा नेगी, भुवनेश्वरी आदि मौजूद रहे।

घाट का नाम उत्तराखंड के गांधी इंद्रमणि बडोनी के नाम से किए जाने की मांग


हरिद्वार। राज्य आंदोलनकारियों ने चिन्हित राज्य आंदोलनकारी समिति के केंद्रीय अध्यक्ष जेपी पांडे के नेतृत्व में कुंभ मेला अधिकारी दीपक  रावत को एक हस्ताक्षर युक्त ज्ञापन प्रस्तुत कर कुंभ के कोटे से बनाए जा रहे गंगा व नहरों के किनारे किसी भी एक घाट का नाम उत्तराखंड के गांधी स्वर्गीय श्री इंद्रमणि बडोनी के नाम से किए जाने की मांग की है।

 जिला प्रशासन पर जेपी पांडे ने नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि 2007 में तत्कालीन नगर पालिका अध्यक्ष सतपाल ब्रह्मचारी की अध्यक्षता वाली कमेटी में प्रस्ताव संख्या 711 के तहत टिबड़ी  रेलवे फाटक चैराहे का नाम स्वर्गीय इंद्रमणि बडोनी के नाम से प्रस्ताव पारित किया गया था जो आज 12 साल बाद भी नहीं बन पाया। पांडे ने कहा कि इस संबंध में मेयर अनीता शर्मा को ज्ञापन प्रस्तुत किया गया परंतु अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हो पाई। समिति के केंद्रीय अध्यक्ष जेपी पांडे ने कहा कि देहरादून के घंटाघर में स्वर्गीय बडोनी की मूर्ति लगाई गई है और ऋषिकेश के नटराज चैक में भी स्वर्गीय बड़ौनी की मूर्ति लगाकर नटराज चैक का नाम स्वर्गीय इंद्रमणि बडोनी चैक रखा गया है परंतु हरिद्वार जिला प्रशासन इस संबंध में उदासीनता बरत रहा है। समिति के केंद्रीय अध्यक्ष जेपी पांडे, महिला प्रकोष्ठ की केंद्रीय अध्यक्षा सावित्री नेगी समिति के जिलाध्यक्ष सतीश जैन, महामंत्री रामदेव मौर्य, हेमराज सैनी, बाल किशन, दिनेश अभिमान, रश्मि चमोली, मधु नौटियाल, मंजू लोनी, सरिता पुरोहित, राजेश गुप्ता आदि ने ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। 

बीएचईएल रानीपुर में गुलदार की दहशत, वन विभाग ने जारी की एडवाइजरी


 

हरिद्वार। बीएचईएल रानीपुर क्षेत्र में 55 साल के व्यक्ति को शिकार बनाने के बाद गुलदार लगातार बीएचईएल  और आसपास के क्षेत्रों में दस्तक दे रहा है। मंगलवार की रात को गुलदार रानीपुर डीपीएस की दीवार और सुभाष नगर के आसपास देखा गया। जिसको लेकर लोगों में दहशत है, वहीं वन विभाग ने लोगों से रानीपुर और बीएचईएल के दूसरे इलाकों जैसे सुभाष नगर, फाउंड्री गेट के पास, स्टेडियम के पीछे, मेन हॉस्पिटल और टिबड़ी वाले क्षेत्र में भी देखा गया है। वन विभाग ने लोगों से आग्रह किया है कि उक्त क्षेत्रों में जाते समय बहुत ही सतर्कता बरतें। 

आदमखोर तेंदुए ने आसपास के इलाकों के काफी कुत्तों को भी अपना शिकार बनाया है। आपको बता दें कुछ समय पूर्व सेक्टर 4 बी एच ई एल नदी किनारे राजेंद्र ठाकुर जो कि पेशे से नाइ का कार्य करते थे, उन्हें आदमखोर तेंदुए ने अपना शिकार बना लिया था। उसके बाद वन विभाग द्वारा चार अलग-अलग स्थानों पर उसको पकड़ने के लिए पिंजरे लगाए गए हैं पर गुलदार अभी तक वन विभाग की पकड़ से बाहर है। वन विभाग द्वारा लगाए गए पिंजरों में दो पिंजरे रानीपुर के जंगलों में जबकि एक पिंजरा लेबर कॉलोनी के पीछे लगाया गया है और एक पिंजरा पीएसी के आसपास लगाया गया है। वही वन विभाग की ओर से 3 कैमरे भी लगाए गए हैं ताकि हाथी और गुलदार के आने-जाने के बारे में सही जानकारी मिल सके। 

हरिद्वार वन प्रभागीय अधिकारी (डीएफओ ) आकाश वर्मा ने कहा कि गुलदार को पकड़ने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं डीपीएस स्कूल के पास भी उसे देखा गया है हालांकि यह साफ नहीं है कि यह वही गुलदार है या नहीं जिसने राजेंद्र को अपना निवाला बनाया था। दूसरे इलाकों में भी जाने की बात सामने आई है वन विभाग की तरफ से उस क्षेत्र के लोगो से सतर्क रहने को कहा गया है और वन विभाग की टीम लगातार चैबीस घंटे गस्त कर रही है।

निर्मल अखाड़े के संयोजन में आयोजित हुआ नगर कीर्तन


 

-श्रीमहंत देवसिंह महाराज के सानिध्य में गुरुद्वारा सिंह सभा ऐथल से प्रारंभ होकर नगर कीर्तन का हरिद्वार में हुआ समापन 

 

हरिद्वार। गुरु नानक देव जी की 550वीं जयंती के अवसर पर भव्य नगर कीर्तन का आयोजन किया गया। नगर कीर्तन में बड़ा अखाड़ा उदासीन के कोठारी महंत प्रेम दास, कारोबारी महंत निर्मल दास सहित निर्मल अखाड़े के संत महंतजन प्रमुख रूप से उपस्थिति रहे।

गोल गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी एवं आल इंडिया मोटर टांस्पोर्ट कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सरदार डीएस मान की अगुवाई में गुरू नानक देव जी की 550वीं जयंती के अवसर पर नगर कीर्तन में शामिल पंच प्यारो का सरोपा भेंट कर स्वागत किया। गुरु ग्रंथ साहिब को फूल माला प्रदान कर आशीर्वाद प्राप्त किया। इस अवसर पर नगर कीर्तन में शामिल संगत को प्रसाद वितरित कर ऐथल, दीनार पुर, सुभाष गढ आदि ग्रामीण क्षेत्रों से आई सिक्ख संगत का स्वागत किया। गोल गुरुद्वारा कमेटी के अध्यक्ष सरदार टेक सिंह, संयुक्त सचिव सरदार जसपाल सिंह, रविन्द्र सिंह मान, भोला सिंह, रविन्द्र पाल सिंह, पार्षद अनुज सिंह विक्की, भूपेन्द्र सिंह सत्ती, गोपाल सिंह, चैधरी कृपाल सिंह तथा साध संगत ने नगर कीर्तन में शामिल लोगों का स्वागत किया।

एनजीटी के प्रस्ताव पर 10 साल पुराने कमर्शियल वाहन होंगे उत्तराखण्ड में बन्द 


 

हरिद्वार। उत्तराखंड में 3 लाख लोग बेरोजगारी के कगार पर हैं। एनजीटी के प्रस्ताव पर 10 साल पुराने कमर्शियल वाहन अगर बंद कर दिए गए तो प्रदेश में 3 लाख से ज्यादा लोगों की रोजी रोटी पर संकट आना तय है। दरअसल, बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए एनजीटी ने परिवहन विभाग  को 10 साल पुराने कमर्शियल वाहन जैसे बस, टैक्सी, ऑटो और विक्रम को बंद करने पर फैसला लेने को कहा है।

         आगामी 4 नवंबर को देहरादून में आरटीए की बैठक होनी है, जिसमें कमर्शियल वाहनों को बंद करने का फैसला होना तय माना जा रहा है। आरटीओ ऑफिस की तरफ से एनजीटी के प्रपोजल को आरटीए की मीटिंग में रखा जाएगा, लेकिन उससे पहले चार धाम यात्र संचालित करने वाली 13 कंपनियां ने सरकार की मंशा के िखलाफ कमर कस ली है। टैक्सी एसोसिएशन से लेकर सिटी बस एसोसिएशन को अब बेरोजगारी का डर सताने लगा है। आरटीओ अधिकारी का कहना है कि फैसला दोनों पक्षों को सुनने के बाद ही लिया जाएगा। गढ़वाल कमिश्नर और सचिव से भी इस मुद्दे पर बातचीत हो रही है। उन्होंन कहा कि लोगों के हितों का ध्यान रखा जाएगा। इससे पहले स्पीड गर्वनर का फैसला भी उत्तराखंड में लिया गया था। जिसका जमकर विरोध हुआ। अब 10 साल पुराने कमर्शियल वाहनों को बैन करने का फैसला सरकार की मुशकिलें बढ़ा सकता है, लेकिन इन सबके बीच बड़ा सवाल यह भी है कि पर्यटन प्रदेश में आने वाले वाहनों पर नियम क्यों लागू नहीं किए जाते।  

ओंकारेश्वर मंदिर में लगाए गए 19 ताम्रपत्रों को हटाया गया 

रूद्रप्रयाग। केदारनाथ धाम के रावल भीमाशंकर लिंग की चेतावनी के बाद बुधवार देर शाम हरकत में आए प्रशासन ने पंचकेदार गद्दी स्थल ओंकारेश्वर मंदिर में लगाए गए 19 ताम्रपत्रों को हटा दिया है। जांच के लिए इन ताम्रपत्रों को लॉकर में सीलबंद कर दिया गया है। अब बृहस्पतिवार को मंदिर के शुद्धिकरण के बाद भगवान केदारनाथ की डोली मंदिर में प्रवेश करेगी। भगवान केदारनाथ के शीतकालीन गद्दी स्थल ओंकारेश्वर मंदिर में पिछले माह तीन और छह सितंबर को अज्ञात लोगों ने कुछ ताम्रपत्र लगा दिए थे।

मामला संज्ञान में आने पर बीकेटीसी और स्थानीय लोगों ने इसकी जांच की मांग उठाई थी। बुधवार को यह मामला तब खासा गरमा गया, जब केदारनाथ के रावल भीमाशंकर लिंग ने मामले की जांच नहीं किए जाने पर गहरी नाराजगी प्रकट करते हुए एक नवंबर से आमरण अनशन पर बैठने का ऐलान कर दिया। उनका यह भी कहना था कि मंदिर में साजिश के तहत लगाए गए ताम्रपत्रों का खुलासा नहीं होता है, तो वे बृहस्पतिवार को बाबा केदार की डोली मंदिर में प्रवेश नहीं करेगी। मंदिर का शुद्धिकरण होने तक डोली द्वार पर ही रहेगी और वे भी गद्दी पर नहीं बैठेंगे। रावल भीमाशंकर लिंग ने प्रशासन, पुलिस, मंदिर समिति और पंचगाईं के हक-हकूकधारियों के साथ बैठक कर कहा कि अज्ञात लोगों ने मंदिर में ताम्रपत्र लगाकर धार्मिक परंपराओं के साथ छेड़छाड़ की है। धर्म की रक्षा के लिए अगर उन्हें प्राण भी त्यागने पड़े तो वे उसके लिए तैयार हैं। उन्होंने मंदिर के अलग-अलग हिस्सों में लगाए गए ताम्रपत्रों को निकालकर उन सभी स्थानों का शुद्धिकरण करने की बात कही। नगर पंचायत अध्यक्ष विजय राणा ने कहा कि मामले में कार्रवाई नहीं होना खेद का विषय है। मंदिर समिति के कार्याधिकारी एनपी जमलोकी ने कहा कि पुरातत्व विभाग से ताम्रपत्रों की जांच कराई जाएगी। मामले में पूर्व में ऊखीमठ थाने में भी तहरीर दर्ज कराई जा चुकी है। अपर जिलाधिकारी अरविंद पांडे, पुलिस उपाधीक्षक गणेश लाल कोहली, उप जिलाधिकारी वरूण अग्रवाल, तहसीलदार जयवीर राम बधणी ने ओंकारेश्वर मंदिर के उन सभी स्थानों का स्थलीय निरीक्षण किया, जहां ताम्रपत्र लगाए गए थे। 

कार ने मारी टक्कर, सात साल की मासूम समेत दो लोगों की मौत

नैनीताल। नैनीताल के रामनगर में हाईवे पर चालक को आई झपकी सात साल की मासूम समेत दो लोगों की जिंदगी लील गई। कार ने पहले साइकिल सवार युवक को टक्कर मारी और फिर बच्ची को कुचलते हुए सड़क किनारे खड़े ट्रक में जा घुसी। हादसे में दोनों की मौके पर ही मौत हो गई। राहगीरों ने कार में फंसे लोगों को बाहर निकाला। पुलिस ने कार चालक को हिरासत में लिया है। अल्मोड़ा जिले के नेवड़ा द्वाराहाट निवासी रघुवीर सिंह, जीवन सिंह और पंकज राणा दिल्ली से अपने पिता उमराव राणा का शव लेकर द्वाराहाट जा रहे थे। शव एंबुलेंस से जा रहा था और तीनों बेटे कार में सवार थे। चालक मथुरा सिंह कार (यूके-04 सीए-7779) चला रहा था। सुबह करीब पौने आठ बजे पीरूमदारा से तीन किमी चलने पर चालक को झपकी आई तो उसने साइकिल सवार 35 वर्षीय राजेंद्र सिंह पुत्र मुन्ने सिंह को टक्कर मार दी। इसके बाद कार एक मकान के बाहर खड़ी सात वर्षीय तहजीब पुत्री फिरोज को कुचलने के बाद ट्रक में जा घुसी। हादसे के बाद हाईवे पर राहगीरों की भीड़ लग गई। मौके पर पहुंची पुलिस घायल तहजीब और राजेंद्र को रामनगर अस्पताल लेकर पहुंची, जहां डॉक्टरों ने दोनों को मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने दोनों का पोस्टमार्टम कराकर शव परिजनों के सुपुर्द कर दिया। एसएसआई जयपाल सिंह चैहान ने बताया कि अब तक किसी भी पक्ष की ओर से तहरीर नहीं आई है। तहरीर आने पर मुकदमा दर्ज किया जाएगा। हादसे की शिकार सात वर्षीय तहजीब टांडा मल्लू में माउंट कारवेल पब्लिक स्कूल में पहली कक्षा में पढ़ती थी। उसके पिता फिरोज ने बताया कि बेटी स्कूल जाने के लिए घर के बाहर खड़ी थी। तीन भाई बहनों में तहजीब सबसे बड़ी थी। बच्ची की मौत से घर में कोहराम मचा है। मां आशिया का रो-रोकर बुरा हाल है। चिल्किया निवासी मजदूरी करने वाले राजेंद्र की छह नंवबर को शादी होनी थी। भाई सोनू ने बताया कि शादी थारी से तय हुई थी। लड़की पक्ष के लोग बृहस्पतिवार को टीका करने आने वाले थे। हादसे के बाद जिस घर में खुशी की माहौल था, उस घर में मातम पसर गया। मां सुमित्रा देवी का भी रो-रोकर बुरा हाल है। कार सवार लोगों का कहना था कि ड्राइवर को रास्ते से ही नींद आ रही थी। पीरूरमदारा पहुंचने पर उसने इस बात का जिक्र किया और कार रोककर मुंह भी धोया, लेकिन सिर्फ तीन किमी चलने के बाद हादसा हो गया।

गंदे पानी की निकासी को लेकर बनाई जा रही नाली के निर्माण को लेकर हुआ विवाद, 

हरिद्वार। मंगलौर के मोहल्ला लालबाड़ा की कॉलोनी में गंदे पानी की निकासी को लेकर बनाई जा रही नाली का कुछ लोगों ने विरोध करते हुए निर्माण रुकवा दिया। साथ ही पालिका के अवर अभियंता और ठेकेदार के साथ गाली-गलौज करने के साथ उनकी पिटाई भी की। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। 

मंगलौर के मोहल्ला लालबाडा मे राजबाहे के पास पिछले कुछ साल पहले एक कॉलोनी को बनाया गया था। अभी तक कॉलोनी मे रहने वाले लोगों के घरो का पानी आसपास के खेतों ओर पास से जा रहे राजवाहे में डाला जाता था। नगर पालिका बोर्ड में प्रस्ताव पास होने के बाद अब वहां पानी पुराने नाले में डालने के लिए एक नाली का निर्माण कराया जा रहा था। कॉलोनी में नाली का निर्माण होने के बाद बुधवार को आगे की नाली का निर्माण करने के लिए ठेकेदार नौशाद ने काम शुरू कर दिया। इस बात की जानकारी मिलने पर कॉलोनी के ही दो युवक वहां पर पहुंचे और काम रोकने को कहा। इतना ही नहीं उन्होने ठेकेदार के साथ गाली-गलौज करते हुए हाथापाई की। इस बीच अवर अभियंता गुरुदयाल भी मौके पर पहुंच गए। आरोप है कि आरोपित युवकों ने उनके साथ भी अभद्रता करते हुए हाथापाई की। साथ ही जान से मारने की धमकी दी। आरोपित यहीं नहीं रुके और उन्होंने उनका गला दबाने का प्रयास भी किया। बीच-बचाव के लिए आए ठेकेदार नौशाद के सिर पर युवकों ने किसी चीज से प्रहार कर दिया, जिससे नौशाद को गंभीर चोट आई। अवर अभियंता और ठेकेदार को सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया। यहां से दोनों को हायर सेंटर रेफर कर दिया गया। कार्यवाहक अधिशासी अधिकारी आदेश कुमार ने इस संबंध में आरोपित युवकों के खिलाफ मंगलौर कोतवाली में तहरीर दी है। 

छठ पूजा महोत्सव के लिए तैयारियां शुरु

ऋषिकेश। छठ पूजा महोत्सव के लिए तीर्थनगरी ऋषिकेश में व्यापक तैयारियां शुरू हो गई हैं। ऋषिकेश में त्रिवेणी घाट सहित आसपास के गंगा घाटों को छठ पूजन के लिए खूबसूरती से सजाया जा रहा है। गुरुवार 31 अक्टूबर से छठ पूजा महोत्सव शुरू हो रहा है। तीर्थनगरी में बड़ी संख्या में पूर्वांचल के लोग निवास करते हैं। यही वजह है कि यहां छठ पूजा महोत्सव बड़े धूमधाम से मनाया जाता है। 

ऋषिकेश में गंगा के त्रिवेणी घाट के अलावा मुनिकीरेती के शीशमझाड़ी में छठ पूजा घाट हैं। 31 अक्टूबर से शुरू हो रहे छठ पूजा महोत्सव के लिए तीर्थनगरी में व्यापक तैयारियां शुरू हो चुकी हैं। त्रिवेणी घाट पर छठ व्रतियों के लिए पूजा स्थल तैयार किए जा रहे हैं। इसके साथ ही घाट को खूबसूरत ढंग से सजाया जा रहा है। 

त्रिवेणी घाट पर गंगा की छोटी धारा को पार करने के लिए बकायदा अस्थायी पुल तैयार किया गया है। यानी इस बार भी श्रद्धालु गंगा के बीच टापू पर पूजा अर्चना कर पाएंगे। सार्वजनिक छठ पूजन समिति के अध्यक्ष रामकृपाल गौतम ने बताया कि इस बार समिति की ओर से 25वें छठ पूजा महोत्सव में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। जिनमें भजन संध्या और बिरहा मुकाबला भी आयोजित किया जाएगा। 

राज्य के पहले सौ बेड के ईएसआइसी अस्पताल का शुभारंभ


रुद्रपुर। केंद्रीय श्रम एवं रोजगार राज्य मंत्री संतोष गंगवार ने बुधवार को रुद्रपुर में राज्य के पहले सौ बेड के ईएसआइसी (कर्मचारी राज्य बीमा निगम) अस्पताल का शुभारंभ किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि इससे मजदूरों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मिलेंगी। प्रदेश का कोई भी मजदूर अब इलाज से वंचित नहीं रहेगा। केंद्र सरकार ने 2022 तक सभी जिलों में ईएसआइसी अस्पताल खेलने का लक्ष्य निर्धारित किया है।

संतोष गंगवार ने बताया कि देश में संगठित क्षेत्र के आठ करोड़ व असंगठित क्षेत्र के 50 करोड़ मजदूर हैं। इन सभी की चिंता भाजपा कर रही है। देश में ईएसआइसी अस्पताल से चार करोड़ मजदूर जुड़े हैं। स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ करीब 14 करोड़ लोग उठा रहे हैं। देश में मजदूरों की संख्या लगातार बढ़ रही है। उनकी चिंता सरकार कर रही है। इस मौके पर मेयर रुद्रपुर रामपाल सिंह, ईएसआइसी के डीजी राजकुमार, भाजपा जिलाध्यक्ष शिव अरोरा, रामप्रकाश गुप्ता, ईएसआइसी अस्पताल रुद्रपुर एमएस दीपशिखा शर्मा भी मौजूद रहीं। केंद्रीय मंत्री ने बताया कि उत्तराखंड में ईएसआइसी अस्पताल स्थापित करने में 13 साल लग गए। भाजपा सरकार ने तेजी से काम किया गया। हम हर मजदूरों की सेहत को लेकर फिक्रमंद हैं।

राज्य के श्रम एवं वन्य जीव मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत नेे कोटद्वार में 300 बेड वाले ईएसआइसी अस्पताल व किच्छा विधायक राजेश शुक्ला ने 30 बेड के अस्पताल की मांग की। इस पर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि डॉक्टर रावत को शिकायत का मौका नहीं देंगे। गुरुवार को उनका जन्म दिन है, वह इस दिन घोषणा कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि जहां पर 20 हजार से अधिक मजदूर हैं, वहां पर ईएसआइसी अस्पताल खोले जाएंगे। प्रदेश श्रम मंत्री हरक सिंह रावत ने कहा कि ईएसआइसी अस्पताल की योजना सबसे गरीब परिवार के लिए है। 21 हजार से कम वेतन पाने वाले कर्मचारी व मजदूर इसका लाभ उठा सकते हैं। राज्य में सात लाख पंजीकृत मजदूर हैं, जबकि 28 लाख लोग इसका लाभ उठा रहे हैं।

पिथौरागढ़ में हुए ट्रिपल मर्डर केस का खुलासा, आरोपी नेपाली युवक गिरफ्तार


 

देहरादून। पिथौरागढ़ में हुए ट्रिपल मर्डर केस के मामले में पुलिस ने एक नेपाली युवक को गिरफ्तार किया है। तीनों का कातिल उनका परिचित ही था। आरोपी ने खुद अपना जुर्म कबूल किया और बताया कि किस हैवानियत के साथ उसने तीनों परिचितों को मौत के घाट उतार दिया। बुधवार को मामले का खुलासा हुआ तो हत्या की असली वजह सामने आई। 

हत्या की वजह आरोपी हरीश बोरा की पत्नी को लेकर हुआ विवाद था। तीनों की हत्या शराब के नशे और गुस्से के कारण हुई। नेपाल के बैतड़ी जिले से गिरफ्तार हुए आरोपी धन बहादुर के अनुसार, जब वह तीनों मृतकों के घर गया तो वहां शराब पी। तभी हरीश ने अपनी पत्नी का जिक्र किया और बताया कि वह नेपाल गई हुई है, लेकिन उसका फोन नहीं लग रहा। इस पर आरोपी ने धन बहादुर ने हरीश की पत्नी को लेकर कुछ बातें कहीं तो चारों में विवाद हो गया। उसने अपना जुर्म कबूलते हुए बताया कि शराब पीने के बाद उसका विवाद ज्यादा बढ़ गया। विवाद के बाद उसने हरीश बोरा, बीरा बोरा और काशी बोरा तीनों की दरांती और सिल बट्टा से हत्या कर दी। इसके बाद उसने दरांती से ही तीनों के गुप्तांग भी काट दिए। हाथापाई के बाद तीनों के गले और चेहरे पर भी कई बार वार किए गए। हरीश बोरा के गले को काटने के बाद साड़ी से घोंटने का प्रयास भी किया गया था। हत्या करने के बाद उसने पहले अपने खून से सने कपड़े जलाए और इसके बाद मुनस्यारी भाग गया था। वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी ने सबूत मिटाने के लिए घटनास्थल पर ही मोबाइल भी जला दिए।

Wednesday, 30 October 2019

परमार्थ निकेतन में विदेशियों संग मनायी गई भाईदूज


 

-विश्व के अनेक देशों से आयें श्रद्धालुओं को संस्कारों और संस्कृति से कराया परिचित

 

ऋषिकेश, आजखबर। परमार्थ निकेतन में भारत सहित विश्व के अनेक देशों से आये श्रद्धालुओं संग भाईदूज का पर्व मनाया। विश्व के अनेक देश यथा ब्राजील, अमेरिका, जर्मनी, लन्दन, रूस कनाण, अफ्रीका आदि देशों से आयी बहनों और भाईयों ने परमार्थ गुरूकुल के ऋषिकुमार भाईयों को तिलक लगाकर ईश्वर से उनके खुशहाली की कामना की। भाईदूज का पर्व भाई-बहन के प्रति स्नेह की अभिव्यक्ति का पर्व है इसे यम द्वितीया या भ्रातृ द्वितीया भी कहा जाता है।

  वेद मंत्रों के उच्चारण के साथ परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती महाराज को तिलक कर आशीर्वाद लिया और फिर भाईदूज के कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। सभी ऋषिकुमारों को लड्डू खिलाकर रिश्तों की मिठास का महत्व समझाया। भाईदूज के पावन अवसर पर जीवा की अन्तर्राष्ट्रीय महासचिव साध्वी भगवती सरस्वती जी ने आर्गेनिक इण्डिया के प्रमुख श्री भरत मित्रा जी को तिलक लगाकर उनका अभिनन्दन किया।

स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने भाईदूज पर्व के बारे में बताते हुये कहा कि कार्तिक शुल्क द्वितीया को यमुना जी ने भगवान यमराज को तिलक लगाकर अपने घर पर सत्कारपूर्वक भोजन कराया था उस दिन से यह उत्सव मनाया जाता है। पù पुराण में इसका उल्लेख मिलता है। भाईदूज, भाई-बहन के पवित्र प्रेम, स्नेह, और समर्पण का पर्व है। इस पर्व पर बहनंे अपने भाईयों को तिलक लगाकर उनकी खुशहाली की कामना करती है और भाई, बहनों को उनकी रक्षा का आश्वासन देते है वास्तव में अटूट रिश्ता है यह और अद्भुत संदेश देता है यह पर्व। स्वामी जी ने कहा कि हमारे पर्व हमें आपसी प्रेम और समर्पण का अद्भुत संदेश देते है। इसी तरह का प्रेम और समर्पण अपनी प्रकृति और पर्यावरण के साथ हो तो हम उन्हें प्रदूषण से मुक्त रख सकते हंै। उन्होने कहा कि पेड़-पौधे हमें जीवनदायिनी आॅक्सीजन प्रदान करते हैं, उनसे हमें प्रेम का रिश्ता बनायें रखना होगा तभी हम अपना और अपनी आने वाली पीढ़ियों का जीवन सुरक्षित रख सकते हैं। स्वामी जी ने सभी श्रद्धालुओं को एकल उपयोग प्लास्टिक का उपयोग न करने तथा पेड़ों के पहरेदार बनने का संकल्प कराया। स्वामी जी ने कहा कि पर्वों के माध्यम से हम अपने संस्कारों और संस्कृति से जुड़े रहते हंै। भाईदूज, भाई-बहन के रिश्तें में समर्पण के साथ नव ऊर्जा का संचार कराता है। भाईदूज के कार्यक्रम के अवसर पर परमार्थ निकेतन में उत्सव का वातावरण था कई विदेशी श्रद्धालुओं ने भाईदूज पर्व को पहली बार मनाया है। स्वामी जी महाराज से इस पर्व के विषय में जानकर अति प्रसन्नता व्यक्त की और कहा कि भारतीय संस्कृति अद्भुत है।

राज्य के पहले सौ बेड के ईएसआइसी अस्पताल का शुभारंभ


रुद्रपुर। केंद्रीय श्रम एवं रोजगार राज्य मंत्री संतोष गंगवार ने बुधवार को रुद्रपुर में राज्य के पहले सौ बेड के ईएसआइसी (कर्मचारी राज्य बीमा निगम) अस्पताल का शुभारंभ किया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि इससे मजदूरों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मिलेंगी। प्रदेश का कोई भी मजदूर अब इलाज से वंचित नहीं रहेगा। केंद्र सरकार ने 2022 तक सभी जिलों में ईएसआइसी अस्पताल खेलने का लक्ष्य निर्धारित किया है।

संतोष गंगवार ने बताया कि देश में संगठित क्षेत्र के आठ करोड़ व असंगठित क्षेत्र के 50 करोड़ मजदूर हैं। इन सभी की चिंता भाजपा कर रही है। देश में ईएसआइसी अस्पताल से चार करोड़ मजदूर जुड़े हैं। स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ करीब 14 करोड़ लोग उठा रहे हैं। देश में मजदूरों की संख्या लगातार बढ़ रही है। उनकी चिंता सरकार कर रही है। इस मौके पर मेयर रुद्रपुर रामपाल सिंह, ईएसआइसी के डीजी राजकुमार, भाजपा जिलाध्यक्ष शिव अरोरा, रामप्रकाश गुप्ता, ईएसआइसी अस्पताल रुद्रपुर एमएस दीपशिखा शर्मा भी मौजूद रहीं। केंद्रीय मंत्री ने बताया कि उत्तराखंड में ईएसआइसी अस्पताल स्थापित करने में 13 साल लग गए। भाजपा सरकार ने तेजी से काम किया गया। हम हर मजदूरों की सेहत को लेकर फिक्रमंद हैं।

राज्य के श्रम एवं वन्य जीव मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत नेे कोटद्वार में 300 बेड वाले ईएसआइसी अस्पताल व किच्छा विधायक राजेश शुक्ला ने 30 बेड के अस्पताल की मांग की। इस पर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि डॉक्टर रावत को शिकायत का मौका नहीं देंगे। गुरुवार को उनका जन्म दिन है, वह इस दिन घोषणा कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि जहां पर 20 हजार से अधिक मजदूर हैं, वहां पर ईएसआइसी अस्पताल खोले जाएंगे। प्रदेश श्रम मंत्री हरक सिंह रावत ने कहा कि ईएसआइसी अस्पताल की योजना सबसे गरीब परिवार के लिए है। 21 हजार से कम वेतन पाने वाले कर्मचारी व मजदूर इसका लाभ उठा सकते हैं। राज्य में सात लाख पंजीकृत मजदूर हैं, जबकि 28 लाख लोग इसका लाभ उठा रहे हैं।

----------------------------------------------------------

एडीएम बुदियाल प्रभारी अधिकारी शिकायत प्रकोष्ठ नामित 

 


देहरादून। क्षेत्र पंचायतों के प्रमुख, ज्येष्ठ उप प्रमुख, एवं कनिष्ठ उप प्रमुख तथा जिला पंचायत अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष के निर्वाचन को पूर्ण निष्पक्षता एवं पारदर्शिता से सम्पन्न कराये जाने हेतु उच्च न्यायालय द्वारा रिट याचिका संख्या 21ध्2019 एवं 133ध्2019 के क्रम में पारित आदेश के अनुपालन में आगामी क्षेत्र पंचायतों के प्रमुख, ज्येष्ठ उप प्रमुख एवं कनिष्ठ उप प्रमुख तथा जिला पंचायत अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष के निर्वाचन के सम्बन्ध में आने वाली शिकायतों पर त्वरित कार्यवाही किये जाने हेतु जनपद में जिलाधिकारी देहरादून द्वारा अपर जिलाधिकारी (वि/रा) बीर सिंह बुदियाल को प्रभारी अधिकारी शिकायत प्रकोष्ठ नामित किया है। अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व  बीर सिंह बुदियाल ने उप जिलाधिकारी मसूरी, डोईवाला, ऋषिकेश सदर, विकासनगर, कालसी, चकराता, त्यूनी जनपद में क्षेत्र पंचायत के प्रमुख, ज्येष्ठ उप प्रमुख एवं कनिष्ठ उप प्रमुख तथा जिला पंचायतों के अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष के निर्वाचन के सम्बन्ध में प्राप्त होने वाली शिकायतों एवं गोपनीय शिकायतों पर तत्काल अपने स्तर से जांच कराकर आवश्यक कार्यवाही करने तथा कृत कार्यवाही से अवगत कराने के निर्देश दिये हैं।


फूलों की घाटी 31 अक्तूबर को पर्यटकों के लिए बंद हो जाएगी


देहरादून। विश्व प्रसिद्ध फूलों की घाटी 31 अक्तूबर यानी गुरुवार से पर्यटकों के लिए बंद हो जाएगी। हर साल फूलों की घाटी 31 अक्तूबर को शीतकाल के लिए बंद कर दी जाती है। इस साल रिकॉर्ड तोड़ पर्यटक घाटी का दीदार करने पहुंचे। घाटी में 17,424 देसी-विदेशी पर्यटक फूलों की घाटी में पहुंचे। जिसमें 16,904 देसी व 520 विदेशी पर्यटक शामिल हैं। इससे पार्क प्रशासन को 2760825 रुपये की आय प्राप्त हुई है।


एक जून 2020 से फूलों की घाटी फिर से पर्यटकों के लिए खोल दी जाएगी। घाटी में फूलों की 521 प्रजातियां वि़द्यमान हैं।
फूलों की घाटी प्रकृति प्रेमियों के लिए किसी स्वर्ग से कम नहीं है। हिमालय श्रृंखला की यह घाटी फूलों की विभिन्न प्रजातियों से मौसम के अनुकूल गुलजार रहती हैं। कहा जाता है कि लक्ष्मण की रक्षा के लिए हनुमान यहां संजीवनी लेने आए थे। इस घाटी में फूलों की 521 प्रजातियां हैं। यह एक राष्ट्रीय उद्यान है जो कि गढ़वाल क्षेत्र के चमोली जिले में स्थित है। इसे विश्व की धरोहर घोषित किया गया है। फूलों की घाटी 87.50 किमी वर्ग क्षेत्र में फैली है। इसे यूनेस्को ने 1982 में राष्ट्रीय उद्यान घोषित किया था। हिमाच्छादित पर्वतों से घिरी हुई यह घाटी बेहद खूबसूरत है। यह क्षेत्र बागवानी विशेषज्ञों और फूल प्रेमियों के लिए बेहद फेमस है।



जिलापंचायत अध्यक्ष, उपाध्यक्ष और ब्लाॅक प्रमुख व उपप्रमुखों का चुनाव कार्यक्रम जारी




देहरादून। जिला एवं क्षेत्र पंचायत चुनाव को लेकर निर्वाचन कार्यक्रम जारी हो गया है। इसके साथ ही हरिद्वार को छोड़कर बाकी सभी 12 जिलों में आज से आचार संहिता भी लागू हो गई है। राज्य निर्वाचन आयोग ने जिला पंचायत के अध्यक्षों, उपाध्यक्षों, क्षेत्र पंचायत के प्रमुखों, ज्येष्ठ उप प्रमुखों तथा कनिष्क उप प्रमुखों को पदों पर चुनाव कार्यक्रम जारी कर दिया है। आदर्श आचार संहिता आज से लागू हो गई है जो मतगणना समाप्ति तक प्रभावी रहेगी। जिला पंचायत के अध्यक्ष और उपाध्यक्ष के चुनाव कार्यक्रम के तहत 02 नवंबर को नामांकन, इसी दिन नाम निर्देशन पत्रों की जांच, 4 नवंबर को नामांकन वापसी और 7 नवंबर को मतदान और मतगणना होगी। क्षेत्र पंचायत प्रमुखों, ज्येष्ठ उप प्रमुखों तथा कनिष्क उप प्रमुखों को पदों के चुनाव कार्यक्रम के तहत 2 नवंबर को नामांकन, इसी दिन नाम निर्देशन पत्रों की जांच, 4 नवंबर को नामांकन वापसी और 6 नवंबर को मतदान और मतगणना होगी।




 



चंद्रा पंत होंगी पिथौरागढ़ विस उपचुनाव में भाजपा प्रत्याशी


देहरादून। पिथौरागढ़ विधानसभा उपचुनाव में पूर्व वित्तमंत्री स्व. प्रकाश पंत की पत्नी चंद्रा पंत भाजपा की उम्मीदवार होंगी। भाजपा ने चुनाव लड़ने के लिए चंद्रा पंत को मना लिया है। पहले स्व. पंत के भाई भूपेश पंत को टिकट मिलने की चर्चा थी।


चंद्रा पंत ने मीडिया से कहा कि उनके पति स्व. पंत ने पिथौरागढ़ के लिए जो कार्य किए उनको वह आगे बढ़ाएंगी। वह उनकी जगह नहीं ले सकती, लेकिन जिम्मेदारी निभाने की पूरी कोशिश करेंगी। चंद्रा पंत राजकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बजेटी में शिक्षिका हैं और पिछले लंबे समय से जीजीआईसी देहरादून में संबद्ध हैं।



Tuesday, 29 October 2019

उत्तराखण्ड की पहली इकोफ्रैंडली परिवहन की मोबाइल एप सेवा शुरू


 

-इस मोबाइल ऐप का उद्देश्य प्रदूषण को कम करना और अधिक रोजगार उत्पन्न करना 

 

ऋषिकेश, आजखबर। ऋषिकेश में उत्तराखण्ड पहला इको फ्रेंडली परिवहन मोबाइल ऐप ग्रीन रैबिट और ग्रो लॉन्च हुआ। जहां ई-रिक्शा, ई-बाइक, ऑटो रिक्शा, टैक्सी और कैब स्वामियों ने ने ग्रीन रैबिट और ग्रो मोबाइल ऐप के साथ अपने वाहनों का पंजीकरण कराया। यह यूजरफ्रेंडली मोबाइल एप्प कोई भी व्यक्ति गूगल प्ले स्टोर पर मुफ्त डाउनलोड कर सकता है।

ऋषिकेश में उत्तराखण्ड ई-रिक्शा एसोसिएशन के अध्यक्ष श्री अनुज जैन और सौ से अधिक एसोसिएशन के सदस्यों ने एस बी एम् काम्प्लेक्स हरिद्वार रोड , ऋषिकेश में इस मोबाइल एप्प पर पंजीकरण करवाया। कंपनी इस मोबाइल एप्लिकेशन को उत्तराखण्ड के सभी प्रमुख शहरों में लॉन्च करने की योजना बना रही है। मोबाइल एप्लिकेशन का उद्देश्य किफायती मूल्य पर शहर के भीतर जनता के लिए आवागमन आसान बनाना है। उपयोगकर्ता इस मोबाइल ऐप के माध्यम से ई-रिक्शा ई-बाइक टैक्सी टैक्सी या ऑटो रिक्शा पर सवारी करना चुन सकता है। इस लॉन्च पर टिप्पणी करते हुए ई-रिक्शा एसोसिएशन उत्तराखण्ड के अध्यक्ष अनुज जैन ने कहा मुझे  ग्रीन रैबिट और ग्रो मोबाइल ऐप लॉन्च करने की खुशी है। इस लॉन्च के साथ हम साफ सुथरे और हरियाली के वातावरण की ओर एक कदम और करीब हैं। इस त्योहारी सीजन के दौरान उत्तराखण्ड के लोग यह सबसे अच्छा उपहार है। ग्रीन रैबिट ट्रांसपोर्टेशन एलएलपी के सस्थापक मोहम्मद आसिफ, फूल अहमद (डोनिस), सौरभ शर्मा और ई-रिक्शा एसोसिएशन उत्तराखण्ड के अध्यक्ष, अनुज जैन तथा राजीव शर्मा और पंकज शर्मा, प्रमोटर्स मैसर्स सुदर्शन मोटर्स और हरिद्वार और ऋषिकेश के ग्रीन रैबिट और ग्रो फ्रैंचाइजी मालिक के साथ-साथ ई रिक्शा एसोसिएशन ऋषिकेश के सदस्य उपस्थित रहे।

राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी भैयादूज पर बीमार बहन से मिलने पहुंचे



पिथौरागढ़। महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने भैयादूज के दिन धारचूला में अपनी बड़ी बहन पार्वती देवी से मुलाकात की और उनका आशीर्वाद लिया। पार्वती देवी (91) कुछ समय से अस्वस्थ हैं। कोश्यारी हर साल अपनी दीदी से मिलने धारचूला आते रहे हैं। राज्यपाल कोश्यारी मंगलवार को ओल्ड सिनेमा लाइन स्थित अपनी बड़ी बहन पार्वती देवी (परुली दी) के घर पहुंचे। कोश्यारी बीमार दीदी को देखकर भावुक हो गए।  अधिक उम्र होने के कारण परुली दी कम सुन पाती हैं। वह अपने भाई को देखकर हाथ उठाकर आशीर्वाद देने के बाद रो पड़ीं। भगत दा ने दीदी की देखभाल कर रहे भतीजे दलीप सिंह चुफाल और भतीजी कलावती चुफाल से दीदी की अच्छी तरह देखभाल करने को कहा। इस दौरान तमाम लोग वहां मौजूद थे। जवानों ने गार्ड ऑफ ऑनर दिया। राज्यपाल कोश्यारी का सुबह 10 बजे धारचूला पहुंचने का कार्यक्रम था। उनका हेलीकॉप्टर सुबह 10.45 बजे सेना के हेलीपैड पर पहुंचा जहां पुलिस के जवानों ने उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया। हेलीपैड में भाजपा नेता पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष अशोक नबियाल, नगर पालिका अध्यक्ष राजेश्वरी देवी, पूर्व ब्लॉक प्रमुख राधा बिष्ट, पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष धन सिंह धामी, जिला उपाध्यक्ष महेंद्र सिंह बुदियाल, बीडी जोशी, भूपेंद्र थापा, राजू नेगी, जिलाधिकारी डॉ. विजय कुमार जोगदंडे, पुलिस अधीक्षक आरसी राजगुरु, कुमाऊं स्काउट के कमांडेंट कर्नल आरएस बिष्ट, आर्टिलरी के कमांडेंट राहुल राज ने उनका स्वागत किया।

भगत दा के कुमाऊं मंडल विकास निगम के सभागार पहुंचने पर भाजपा नेता हरीश गुंज्याल और अन्य कार्यकर्ताओं ने स्वागत किया। इस दौरान भाजपा नेताओं ने सीमांत की समस्याओं को लेकर ज्ञापन दिया। कोश्यारी 11.30 बजे अपनी दीदी के घर पहुंचे। उन्होंने 21 मिनट तक बहन से वार्ता की। वह 12.30 बजे हेलीपैड से देहरादून रवाना हो गए। राज्यपाल कोश्यारी अपनी दीदी से मिलने के बाद संघ के पुराने मित्र लक्ष्मण सिंह कठायत और मुंहबोली बहन देवकी कठायत से मिलने उनके घर गए। बहन देवकी कठायत ने उन्हें टीका लगाया, च्यूड़े (ओखल में कूटे धान) से सिर पूजन किया और मुंह मीठा करवाया। भगत दा ने मुंहबोली बहन को दो हजार रुपये भेंट किए। बहन देवकी से बीमार दीदी की देखभाल करने और पल-पल की खबर देने को कहा। भगत दा ने जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक के साथ मुंहबोली बहन के घर पर भोजन किया।


केदारनाथ व यमुनोत्री धाम के कपाट शीतकाल के लिए बंद हुए 


रूद्रप्रयाग/उत्तरकाशी। विश्व प्रसिद्ध धाम केदारनाथ व यमुनोत्री मंदिर के कपाट शीतकाल के लिए बंद कर दिए गए। पौराणिक परंपराओं के अनुसार भैयादूज के मौके पर सुबह साढ़े आठ बजे केदारनाथ मंदिर के कपाट शीतकाल के छह महीनो के लिए बंद हुए। अब आने वाले शीतकाल के छह महीनो तक पंचकेदारो की गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ में भक्त भोले बाबा के दर्शन कर सकेंगे। वहीं, यमुनोत्री मंदिर के कपाट दोपहर डेढ़ बजे बंद किए गए। बदरीनाथ धाम के कपाट 17 नवंबर को को बंद होंगे। इसके साथ ही चारधाम यात्रा का समापन हो जाएगा।


केदारनाथ धाम में कपाट बंद होने के मौके पर डेढ़ हजार से अधिक श्रद्धालु इस शुभ अवसर के साक्षी बनें। केदारनाथ मंदिर के कपाट बंद करने की प्रक्रिया गत दिवस से ही शुरू हो गई थी। उत्सव डोली को मंदिर में रखा गया था। मंगलवार सुबह तीन बजे से ही समाधि पूजा शुरू कर दी गई थी। लगभग दो घंटे तक पूजा की गई। मुख्य पुजारी, वेदपाठियों ने पूजाएं संपन्न कराई। इसके बाद भोले बाबा की पंचमुखी मूर्ति को उत्सव डोली को मंदिर के अंदर स्वयं भू लिंग वाले गर्भ गृह से ठीक सुबह 6.30 पर बाहर लाया गया। साथ ही गर्भ गृह के कपाट बंद कर दिए गए। इसके पश्चात उत्सव डोली को भक्तो के दर्शनार्थ गर्भ गृह के बाहर में रखा गया। ठीक आठ बजकर 30 मिनट पर उत्सव डोली को मंदिर से बाहर लाने के बाद केदारनाथ मंदिर के मुख्य कपाट बंद कर दिए गए। इस मौके पर यहां मौजूद भक्तो के जयकारों से पूरी केदारपुरी भक्तमय हो गई। जम्मू-कश्मीर आर्मी की बैंड टीम की धुनों ने भी माहौल को भक्तिमय बना दिया। मंदिर से उत्सव डोली के बाहर आने के बाद मंदिर की परिक्रमा की गई। साथ ही डोली सीधे अपने गद्दीस्थल के लिए रवाना हो गई। इस मौके पर मंदिर समिति के मुख्य पुजारी केदार लिंग, मुख्य कार्याधिकारी बीडी सिंह, कार्याधिकारी एमपी जमलोकी, वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी आरएम नौटियाल भी मौजूद रहे।  पौराणिक रीति रिवाजों, वेदपाठियों, मंदिर समिति के पदाधिकारियों के साथ ही उत्सव डोली रात्रि विश्राम रामपुर में करेगी। 30 अक्टूबर को केदारनाथ की उत्सव डोली रामपुर से प्रस्थान कर फाटा, नारायणकोटी होते हुए रात्रि विश्राम के लिए विश्वनाथ मन्दिर गुप्तकाशी पहुंचेगी। 31 अक्टूबर को केदारनाथ की उत्सव डोली गुप्तकाशी से प्रस्थान कर लगभग सुबह ठीक 11 बजे पंचकेदार गद्दीस्थल श्री ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ में प्रवेश करेगी। जहां डोली का फूल व अक्षतों से जोरदार स्वागत होगा। वहीं, डोली को ओंकारेश्वर मंदिर में विराजमान किया जाएगा। इसके बाद से शीतकाल में बाबा केदारनाथ की पूजा इसी मंदिर में होगी।

विश्व प्रसिद्ध यमुनोत्री धाम के कपाट भैया दूज के पावन पर्व पर दोपहर 1.30 बजे शीतकाल के लिए बंद कर दिए गए हैं। यमुना की डोली के मंदिर से बाहर निकलते ही यमुना के जयकारों से यमुनोत्री धाम का पूरा वातावरण भक्तिमय हो उठा। इसके बाद शनिदेव की अगुआई में पारंपरिक वाद्य यंत्रों के साथ यमुना की डोली शीतकालीन प्रवास खरसाली पहुंची। अब छह माह तक देश-विदेश से आने वाले श्रद्धालु मां यमुना के दर्शन खुशीमठ (खरसाली) में ही कर सकेंगे। मंगलवार को भाई दूज के अवसर पर यमुनोत्री धाम के कपाट बंद होने की प्रक्रिया के तहत सुबह से ही पूजा अर्चना की गई। ठीक आठ बजे खरसाली से अपनी बहन यमुना को लेने के लिए शनि देव की डोली यमुनोत्री के लिए रवाना हुई। जो सुबह साढ़े दस बजे यमुनोत्री पहुँची। यमुनोत्री धाम में सुबह से लेकर दोपहर तक यहां पहुंचे श्रद्धालुओं ने यमुना के दर्शन किए। जिसके बाद वैदिक मंत्रोचार के साथ विधिविधान व पूजा अर्चना की गई। अभिजीत मुहूर्त के शुभ अवसर पर दोपहर 1.30 बजे धाम के कपाट बंद किए गए। इसके बाद पारंपरिक बाध्य यंत्रों के साथ मंदिर से शनिदेव की डोली की अगुआई में यमुना की डोली खरसाली के लिए रवाना हुई। यमुनोत्री धाम में पहुंचे बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने रांसों एवं तांदी नृत्य का भी लुत्फ उठाया तथा इन अविस्मरणी क्षेत्रों के गवाह बने। दोपहर बाद मां यमुना की डोली खरसाली पहुंची जहां ग्रामीणों ने यमुना भव्य स्वागत किया। इसके बाद यमुना की उत्सव मूर्ति मंदिर में प्रतिष्ठित किया गया। इस मौके पर डीएम डा. आशीष चैहान, एसडीएम सोहन सिंह सैनी, एसओ बडकोट डीएस कोहली, यमुनोत्री मंदिर समिति के सचिव कीर्तेश्वर, उपाध्यक्ष जगमोहन उनियाल, पूर्व उपाध्यक्ष पवन उनियाल के अलावा बड़ी संख्या में श्रद्धालु उपस्थित रहे।


Monday, 28 October 2019

गंगोत्री धाम के कपाट शीतकाल के लिए बंद हुए


उत्तरकाशी। विश्व प्रसिद्ध गंगोत्री धाम के कपाट सोमवार दोपहर 11.40 बजे विधि विधान से शीतकाल के लिए बंद कर दिए गए हैं। इसके साथ ही मां गंगा की उत्सव डोली शीतकालीन पड़ाव मुखीमठ (मुखवा) के लिए रवाना हो गई। वहीं, 29 अक्टूबर को भैया दूज के दिन केदारनाथ और यमुनोत्री मंदिर के कपाट बंद हो जाएंगे। 17 नवंबर को बदरीनाथ मंदिर के कपाट बंद होने हैं। इसके साथ ही चारधाम यात्रा का समापन हो जाएगा। 

चारधाम यात्रा अब समापन की ओर है। सोमवार को अन्नकूट पर्व के शुभ मुहूर्त पर गंगोत्री धाम में सुबह 8.30  बजे उदय बेला पर मां गंगा के मुकुट को उतारा गया। इस बीच श्रद्धालुओं ने मां गंगा की भोग मूर्ति के दर्शन किए। इसके बाद अमृत बेला, स्वाती नक्षत्र प्रीतियोग शुभ लग्न पर ठीक दोपहर 11.40 बजे पर कपाट बंद किए गए। इस दौरान तीर्थ पुरोहितों ने विशेष पूजा व गंगा लहरी का पाठ किया। डोली में सवार होकर गंगा की भोगमूर्ति जैसे ही  मंदिर परिसर से बाहर निकली तो पूरा माहौल भक्तिमय हो उठा। वीं बिहार रेजिमेंट के जवानों के बैंड की धुन और परंपरागत ढोल दमाऊं की थाप के साथ तीर्थ पुरोहित गंगा की डोली को लेकर शीतकालीन प्रवास मुखवा गांव के लिए पैदल रवाना हुए। रात्रि विश्राम के लिए गंगा जी की डोली मुखवा से चार किमी पहले चंदोमति के देवी के मंदिर में पहुंची। यह मंदिर एक शिला के ऊपर है। मान्यता है कि चंड और मुंड नाम के दंत्यों का वध कर माता चंदोमति ने इसी शिला के नीचे दबा दिए थे। 29 अक्टूबर की सुबह गंगा जी की डोली चंदोमती माता मंदिर से मुखीमठ स्थित गंगा मंदिर में पहुंचेगी।  गंगोत्री के कपाट बंद होने के बाद अब  देश-विदेश के श्रद्धालु मां गंगा के दर्शन उनके शीतकालीन प्रवास मुखवा में कर सकेंगे। यहीं आगामी छह माह तक मां गंगा की शीतकालीन पूजा होगी। कपाट बंद होने के अवसर पर कुपड़ा गांव से शेषनाग देवता की डोली तथा स्यालना से भगवती की डोली भी गंगोत्री पहुंची। कपाट बंद होने के दौरान गंगोत्री विधायक गोपाल रावत, गंगोत्री मंदिर समिति के अध्यक्ष सुरेश सेमवाल, सचिव दीपक सेमवाल, सह सचिव राजेश सेमवाल, पूर्व जिला पंचायत सदस्य कुलदीप बिष्ट, गंगोत्री व्यापार मंडल के पूर्व अध्यक्ष सतेन्द्र सेमवाल, डीएम डॉ आशीष चैहान आदि मौजूद थे।

मोटोरोला ने सर्वश्रेष्ठ कैमरा अनुभव के साथ ऑल न्यू मोटो जी 8 प्लस लॉन्च किया

देहरादून। मोटोरोला के मोटो जी परिवार ने उन उपभोक्ताओं को सदैव प्रीमियम फीचर्स प्रदान किए हैं, जो क्वालिटी, स्टाईल एवं अनुभव में से किसी भी चीज से समझौता करना नही ंचाहते अपनी विरासत को आगे बढ़ाते हुए ऑल-न्यूमोटो जी 8 प्लस को उपभोक्ताओं को सर्वश्रेष्ठ कैमरा अनुभव, बेहतरीन बैटरी, रोचक साउंड एवं डिस्प्ले तथा स्टॉक एन्ड्रॉयड का अनुभव, 13,999 रु. के किफायती मूल्य में प्रदान करने के लिए डिजाईन किया गया है।

मोटो जी 8 में आपको अपनी पसंद की हर चीज मिलेगी। इसमें श्रेणी का अग्राण्ी क्वाड पिक्सल कैमरा सिस्टम है, जिसमें किसी भी तरह ही रोशनी में ज्यादा साफ फोटो और वीडियो कैप्चर करने के लिए चार गुना ज्यादा लो-लाईट सेंसिटिविटी है। आप नाईट विजन वाले 48 मेगापिक्सल के मुख्य कैमरा सेंसर का उपयोग कर दिन-रात हर वक्त बेहतरीन पिक्चर्स ले सकते हैं या फिर अल्ट्रा-वाईड एक्शन कैमरा द्वारा ज्यादा विस्तृत फोटो ले सकते हैं। इसके अलावा इसमें 25 मेगापिक्सल का सेल्फी कैमरा है। मोटो जी8 प्लस आपको 6.3'' मैक्स विजन डिस्प्ले तथा क्रिस्टल क्लियर मूवीज एवं म्यूजिक के लिए डॉल्बी द्वारा ट्यून किए गए स्टीरियो स्पीकर प्रस्तुत करता है। इसमें 40 घंटे की बैटरी लाईट के साथ आप बिना रुके काम कर सकते हैं या गेम्स खेल सकते हैं। लेजर ऑटोफोकस के साथ इसके 48 मेगापिक्सल के सेंसर द्वारा पलक झपकते ही सब्जैक्ट फोकस में आ जाता है। चाहे कैसी भी स्थिति हो, एफध्1.79 अपर्चर द्वारा ज्यादा प्रकाश इसमें पहुंचता है तथा विशाल 1.6माईक्रोमीटर क्वाड पिक्सल कम रोशनी में चार गुना ज्यादा लो-लाईट सेंसिटिविटी सुनिश्चित करते हैं। इस प्रकार आपको हर बार बेहतरीन पिक्चर्स मिलती हैं। नाईट विजन रात में भी बहुत खूबसूरत नाईटटाईम फोटो प्रदान करता है। टापकी सेल्फी दिन हो या रात, घर के अंदर हों या बाहर, सदैव बहुत अच्छी आएंगी।तेज रोशनी में 25 मेगापिक्सल का सेंसर हर डिटेल को कैप्चर करता है। कम रोशनी में क्वाड पिक्सल टेक्नॉलॉजी 4 गुना ज्यादा लो लाईट सेंसिटिविटी प्रदान करता है, जिस वजह से आपकी फोटो सदैव सर्वश्रेष्ठ आएगी।

दीपावली स्नेह मिलन सत्संग समारोह आयोजित


देहरादून। प्रजापिता ब्रह्मकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के स्थानीय सेवाकेन्द्र सुभाष नगर देहरादून के सभागार में दीपावली स्नेह मिलन सत्संग में राजयोगिनी ब्रह्मकुमारी मन्जू बहन ने उपस्थित जनसमूह को त्यौहार की शुभकामनायें देते हुये दीपावली को व्यवहारिक जीवन में सार्थक बनाने का सुंदर तरीका बताया।

उन्होंने कहा कि दीपमाला तब बनती है जब माचिस की एक तीली जलती है जो अपनी ज्योति एक दिये को देती है और वह दिया अपनी ज्योति दूसरे दिये को देता है। यदि वह अपनी ज्योति अपने पास ही रख ले तो दीपमाला बन ही नहीं सकती। स्थूल धन, साधन, सामान, आदि देने से घटता है। सूक्ष्म धन-ज्ञान, गुण, शक्ति, आदि देने से बढ़ता है। इस पर्व का आधार है-दिया । क्या हमने दिया ? हमने क्या दिया ? आइये इस बार नव वर्ष में कुछ नया करें-दिया करें-प्यार, खुशी, सम्मान। एक नये गुण की ज्योति मन में जगायें । अपने कर्मों से उस गुण का प्रकाश फैलायें । एक नये दीपक को उस गुण की ज्योति दें। उस गुण की दीपमाला बनायें। सच्ची दीपावली मनायें! यकीन कीजिये, राजयोग यानि परमात्मा शिव की याद व साथ से ऐसी दीपमाला बनाना कठिन नहीं है। कार्यक्रम में, पदमा, प्रियंका, पुष्पा, विनय, राकेश, ममता, सुरेन्द्र, उषा, रेणू, विजयलक्ष्मी आदि उपस्थित रहे।

वोडाफोन आइडिया ने की होम क्रेडिट के साथ साझेदारी, 799 रु में 4जी स्मार्टफोन बंडल की पेशकश की

देहरादून। भारत की अग्रणी टेलीकॉम सेवा प्रदाता कंपनी वोडाफोन आइडिया लिमिटेड और भारत में 10,000 रूपये से कम की श्रेणी में सबसे अधिक पहुंच रखने वाली अन्तर्राष्ट्रीय कंज्यूमर फाइनेंस प्रोवाइडर होम क्रेडिट इंडिया ने आज उद्योग में अपनी तरह के पहले रणनीतिक गठबंधन की घोषणा की। यह गठबंधन उपभोक्ता को आसानी से ऋण मुहैया कराने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेगा, इस तरह का प्रयास पहले कभी नहीं हुआ है।  

होम क्रेडिट के साथ हुई भागीदारी यह सुनिश्चित करती है कि वोडाफोन आइडिया के प्रीपेड उपभोक्ता अब मात्र 799ध्- रूपये के डाउनपेमेंट में 180 दिन के वैधता प्लान के साथ आधुनिकतम 4जी स्मार्टफोन खरीदने में सक्षम होंगे। यह प्लांन उपभोक्ता को अनलिमिटेड लोकल और नेशनल कॉल और 1.5 जीबी डेटाध्प्रतिदिन प्रदान करेगा। इस साझेदारी के विषय में वोडाफोन आइडिया लिमिटेड के ऑपरेशंस डायरेक्टर-मार्केटिंग,अवनीश खोसला ने कहा, ''हमारा हमेशा प्रयास रहा है कि हम अपने ग्राहकों को सबसे बेहतरीन ऑफर व और लाभ उपलब्ध कराएं। हमें इस बात की खुशी है कि हम होम क्रेडिट के साथ भागीदारी करके अपने ग्राहकों को आसान वित्तीय लाभ उपलब्ध करा सकेंगे जिससे वह 4जी स्मार्टफोन में अपग्रेड करने के लिए प्रोत्साहित होंगे। इस भागीदारी से देशभर में मोबाइल फोन का इस्तेमाल कर रहे लाखों लोगों को लाभ मिलेगा, इसमें वह लोग भी शामिल हैं जिनके पास पहले ऋण तक पहुंच नहीं थी और वह लोग भी जिन्हें स्मार्ट फोन खरीदने की इच्छा तो थी मगर वह सीधे भुगतान करने में असमर्थ थे। यह बंडल्डं टेलीकॉम ऑफर 4जी का उपयोग नहीं करने वाले यूजर्स को भी अपग्रेड करने में सक्षम बनाएगा और उन्हें मोबाइल इंटरनेट का लाभ के साथ बेहतरीन यूजर अनुभव का आनंद प्रदान करेगा।

इस भागीदारी के विषय में होम क्रेडिट इंडिया के सीईओ ओंडरेज क्यूबिक ने कहा, हमें इस पहल के लिए वोडाफोन आइडिया के साथ साझेदारी कर खुशी हो रही है। यह पहल वित्तीय समावेशन की दिशा में हमारी प्रतिबद्धता को मजबूत करेगी और इसे पहली बार के उधारकर्ताओं और अन्य के लिए क्रेडिट प्रावधान के जरिये सक्षम किया जाएगा। वोडाफोन आइडिया के साथ, होम क्रेडिट इंडिया लोगों को उनके फोन ही नहीं बल्कि उनकी लाइफस्टाइल को भी उन्नत बनाने में मदद करने में समर्थ होगा। एक स्मार्टफोन से ग्राहक अपनी व अपने परिवारों की जिंदगी को अपग्रेड कर सकता है। मुझे इस बात का पूरा विश्वास है कि इससे वोडाफोन आइडिया और होम क्रेडिट के बीच में परस्पर लाभकारी भागीदारी तैयार होगी जिसका लाभ अंतिम रूप से उपभोक्ता को मिलेगा। उपभोक्ता अपनी पसंद के 4जी स्मार्टफोन का चुनाव विस्तृत श्रृंखला के विकल्पों से कर सकता है और लोकप्रिय ब्रांड विभिन्न कीमतों में उपलब्धा है जिसकी शुरुआत 3999 रुपये से हो रही है। खरीदे गए हैंडसेट की कीमत कुछ भी हो, इस ऑफर के लिए डाउनपेमेंट सिर्फ 799 रूपये रहेगा जो प्रचलित हैंडसेट के बाजार में चल रहे  30-40 प्रतिशत डाउनपेमेंट के मूल्य से काफी कम है। यह तालिका बाजार में अन्य हैंडसेट के वित्तीय ऑफर्स की तुलना में नए वीआईएल ऑफर के लाभों को रेखांकित करती है।

टीएचडीसी में सतर्कता जागरूकता सप्ताह का शुभारंभ


 

ऋषिकेश। विद्युत मंत्रालय, भारत सरकार के निर्देशानुसार टीएचडीसी इंडिया लिमिटेड (टीएचडीसीआईएल) के कॉरपोरेट कार्यालय, ऋषिकेश में सतर्कता जागरूकता सप्ताह का शुभारंभ हुआ। अध्यक्ष एवं प्रबन्ध निदेशक डी.वी. सिंह द्वारा गंगाभवन प्रागंण में अधिकारियों एवं कर्मचारियों को सत्यनिष्ठा की शपथ दिलाई गयी। शपथ ग्रहण समारोह में निदेशक (कार्मिक) विजय गोयल, निदेशक (वित्त) जे.बेहेरा व मुख्य सतर्कता अधिकारी बी.पी. गुप्ता उपस्थित रहे।

इस अवसर पर श्री सिंह, श्री गोयल, श्री बेहेरा तथा श्री गुप्ता, द्वारा संयुक्त रूप से सतर्कता विभाग की पुस्तिका का विमोचन भी किया गया। महाप्रबन्धक (सतर्कता) कुमार शरद, अपर महाप्रबन्धक (सतर्कता) डी.एस. गुसाईं, अपर महाप्रबन्धक (कार्मिक एवं प्रशासन) एन.के. प्रसाद तथा उप महाप्रबन्घ्धक (का.नीति कॉरपोरेट संचार), डॉ. ए. एन. त्रिपाठी सहित अन्य अनेक वरिष्ठ व कनिष्ठ अधिकारी तथा कर्मचारी उपस्थित रहे तथा शपथ ली। टीएचडीसीआईएल, ऋषिकेश में सतर्कता जागरूकता सप्ताह का आयोजन किया जायेगा। सतर्कता जागरूकता सप्ताह के दौरान कॉरपोरेशन में जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से कई कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे जिसमें अधिकारियों एवं कर्मचारियों के लिए “ईमानदारी-एक जीवन शैली ” विषय पर निबन्ध प्रतियोगिता, “भ्रष्टाचार-नैतिक पतन की ओर ले जाता है” विषय पर भाषण प्रतियोगिता, पं. ललित मोहन शर्मा राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय, ऋषिकेश के छात्र-छात्राओं के लिए “भ्रष्टाचार मिटाओ, नया भारत बनाओ ” विषय पर निबन्ध प्रतियोगिता तथा भ्रष्टाचार एक अभिशाप है। विषय पर भाषण प्रतियोगिता तथा टी.ई.एस. हाईस्कूल, ऋषिकेश के छात्र-छात्राओं के लिए “भ्रष्टाचार के प्रकार ”पोस्टर कार्टून प्रतियोगिता तथा “भ्रष्टाचार, ईमानदारी ”विषय पर स्लोगन प्रतियोगिता का आयोजन किया जायेगा।

ब्लॉक प्रमुख के पदों के लिए भाजपा ने जारी की उम्मीदवारों की एक और सूची

देहरादून। उत्तराखंड में पंचायत चुनाव को लेकर भाजपा ने अध्यक्ष और ब्लॉक प्रमुख के पदों के लिए उम्मीदवारों की नई सूची जारी कर दी है। अब तक पंचायत अध्यक्ष के नौ और ब्लॉक प्रमुखों के 55 पदों के लिए प्रत्याशी घोषित किए जा चुके हैं। 

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट की अध्यक्षता में बैठकें संपन्न हुई। इसके बाद प्रदेश महामंत्री राजेंद्र भंडारी ने सोमवार को उम्मीदवारों की नई सूची जारी की है। गढ़वाल मंडल के जौनपुर से गीता रावत, कर्णप्रयाग से चंदेश्वरी देवी, जोशीमठ से मीना रावत, चंबा से शिवानी बिष्ट, घनसाली से विमला नेगी, जाखणीधार से सुनीता देवी, थौलदार से काजल पंवार, प्रतापनगर से गुलाब सिंह चैहान, देवप्रयाग से संजय पाठक, कीर्तिनगर से उत्तम सिंह नेगी, नरेंद्र नगर से राजेंद्र भंडारी, भटवाड़ी से विनिता रावत, डुंडा से शैलेंद्र कोली, पुरोला से रीता पंवार, मोरी से बचन सिंह पंवार, गैरसैंण से शशी देवी, थराली से कविता देवी, घाट से भारती देवी और नारायण बगड़ से यशपाल सिंह नेगी को ब्लॉक प्रमुख का उम्मीदवार बनाया गया है। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रमुख डॉ. देवेंद्र भसीन ने बताया कि अब तक जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए नौ और ब्लॉक प्रमुखों के 55 पदों के लिए प्रत्याशी घोषित किए जा चुके हैं। शेष प्रत्याशियों के नाम जल्द घोषित कर दिए जाएंगे। 

भाजपा ने पांच जिला पंचायत अध्यक्ष और 35 ब्लॉक प्रमुख प्रत्याशियों के नाम किए घोषित


देहादून। भाजपा ने जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लॉक प्रमुख प्रत्याशियों के नामों की पहली सूची जारी कर दी। इस में पांच जिला पंचायत अध्यक्ष और 35 ब्लॉक प्रमुख प्रत्याशियों के नाम शामिल हैं। 


प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट की अध्यक्षता में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव समिति की बैठक आयोजित की गई। इसमें पार्टी से अधिकृत प्रत्याशियों के नामों की पहली सूची जारी कर दी  गई। जिला पंचायत अध्यक्ष के उम्मीदवारों में चंपावत जिले से प्रीति पाठक, पिथौरागढ़ जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए नेहा बोरा, पौड़ी जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए शांति देवी, रुद्रप्रयाग जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए अमरदेई शाह, उत्तरकाशी जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए चंदन पंवार के नाम की घोषणा की गई। गढ़वाल मंडल में ब्लॉक प्रमुखों के लिए 14 उम्मीदवारों के नाम घोषित किए गए हैं। इनमें पौड़ी ब्लॉक से मनीषा पटवाल, कोट ब्लॉक से पूर्णीमा नेगी, कल्जीखाल ब्लॉक से वीणा राणा, पाबो ब्लॉक से सुलेखा रावत, एकेश्वर ब्लॉक से नीरज पांथरी, दुगड्डा ब्लॉक से संगीता बिष्ट को प्रमुख उम्मीदवार बनाया गया है। इनके अलावा नैनीडांडा ब्लॉक से प्रशांत कुमार, रिखणीखाल ब्लॉक से मोहन नेगी, द्वारीखाल ब्लॉक से विक्रम बिष्ट, पौखड़ा ब्लॉक से प्रीति, थलीसैंण ब्लॉक से मंजूर रावत, विकासनगर ब्लॉक से जोगिंदर सिंह बिट्टू, ऊखीमठ ब्लॉक से ऊषा देवी भट्ट, जखोली ब्लॉक से भूपेंद्र भंडारी को भाजपा ने प्रमुख उम्मीदवार बनाया है।  कुमाऊं मंडल के लिए जारी की गई 21 नामों की सूची में चंपावत ब्लॉक से मुकेश महाराना, लोहाघाट से नेहा ढेक, बाराकोट से विनीता फर्त्वाल, पाटी से सुमनलता, धौलादेवी से नेहा बिष्ट, द्वाराहाट से कैलाश भट्ट, ताकुला से मीनाक्षी आर्य, कनालीछीनी से सुनीला कन्याल, गंगोलीहाट से अर्चना गंगोला, डीडीहाट से विनीता चुफाल को प्रमुख प्रत्याशी घोषित किया गया है। इनके अलावा धारचूला से धन सिंह धामी, हल्द्वानी से रूपा, धारी से आशा रानी, रामगढ़ से भगवती देवी, रामनगर से रेखा रावत, बाजपुर से अनुराधा, जसपुर से संदीप कौर, काशीपुर से अर्जुन कुमार कश्यप, खटीमा से अजय मौर्य, सितारगंज से कमलजीत कौर, रूद्रपुर से ममता जल्होत्रा को अधिकृत प्रत्याशी बनाया गया है। 


 

 



Saturday, 26 October 2019

दो आईएएस और छह पीसीएस अफसरों के तबादले

देहरादून। शासन ने दो आईएएस और छह पीसीएस अफसरों का तबादला कर दिया है। भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी सविन बंसल से नैनीताल के जिला स्तरीय विकास प्राधिकरण का दायित्व हटा दिया गया है। वे नैनीताल के जिलाधिकारी हैं। जिला विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष का अतिरिक्त प्रभार अब कुमाऊं मंडल विकास निगम के प्रबंध निदेशक रोहित मीणा को दिया गया है।

पीसीएस बीएस चलाल से अपर निदेशक प्रशिक्षण हल्द्वानी का प्रभार वापस ले लिया गया है। वे मंडी परिषद के निदेशक बने रहेंगे। हल्द्वानी में निदेशक सेवायोजन जीवन सिंह नगन्याल को अपर निदेशक प्रशिक्षण निदेशालय हल्द्वानी का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है। शहरी विकास निदेशालय देहरादून में संयुक्त निदेशक पद पर तैनात पीसीएस अफसर अशोक कुमार पांडेय अब अपर निदेशक होंगे। शासन ने संयुक्त निदेशक के पद पर पीसीएस अधिकारी कमलेश मेहता को तैनात किया है। मेहता को डिप्टी कलेक्टर देहरादून के दायित्व से मुक्त किया गया है। सूचना आयोग के प्रभारी सचिव बंशी लाल राणा को अपर आयुक्त (प्रशासन) गढ़वाल मंडल की अतिरिक्त जिम्मेदारी दी गई है। वे हरक सिंह रावत के स्थान पर ये प्रभार संभालेंगे, रावत इन दिनों अवकाश पर चल रहे हैं। हरिद्वार के डिप्टी कलेक्टर शैलेंद्र सिंह नेगी को गेल इंडिया लिमिटेड हरिद्वार के राजस्व अधिकारी का अतिरिक्त प्रभार दिया गया है। वे उप मुख्य निर्वाचन अधिकारी की जिम्मेदारी भी संभाल रहे हैं।

उद्योगपति मुकेश अंबानी ने बदरीनाथ और केदारनाथ के दर्शन किए


 

रूद्रप्रयाग/गोपेश्पर। प्रसिद्ध उद्योगपति व रिलायंस इंडस्ट्रीज के मालिक मुकेश अंबानी ने शनिवार को बदरीनाथ धाम और केदारनाथ के दर्शन किए। शनिवार को सुबह साढ़े आठ बजे उद्योगपति मुकेश अंबानी हेलीकॉप्टर से बदरीनाथ धाम पहुंचे। बीकेटीसी के अधिकारी-कर्मचारियों ने उनका तुलसी माला से स्वागत किया। मुकेश अंबानी ने करीब आधा घंटे तक भगवान बदरीनाथ की महाभिषेक पूजा व अन्य पूजाओं में प्रतिभाग किया। 

बदरीनाथ धाम के दर्शन के बाद सुबह साढ़े दस बजे वे बीकेटीसी के सीईओ बीडी सिंह के साथ हेलीकॉप्टर से केदारनाथ पहुंचे। उन्होंने केदारनाथ में रुद्राभिषेक पूजा कर बाबा केदारनाथ का आशीर्वाद प्राप्त किया। मंदिर समिति ने उन्हें प्रसाद, भगवान बदरीनाथ का अंगवस्त्र और तुलसी माला भेंट की। मुकेश अंबानी ने बदरीनाथ में रावल ईश्वरी प्रसाद नंबूदरी से भी भेंट की। इसी वर्ष मई माह में मुकेश अंबानी ने कर्नाटक के मैसूर में श्री बदरी-केदार चंदन वन स्थापित करने की बात कही थी, ताकि बदरी-केदार मंदिर में पूजा के लिए चंदन बाजार से न खरीदना पड़े। मुकेश अंबानी ने बदरी-केदार की पूजाओं और भोग के लिए एक-एक करोड़ रुपये बीकेटीसी को दिए। दर्शनों के बाद मुकेश अंबानी ने मंदिर के अधिकारियों के साथ मैसूर में चंदन वन स्थापित किए जाने पर चर्चा की। निर्णय लिया गया कि बदरीनाथ धाम के कपाट बंद होने के बाद चंदन वन स्थापित करने के लिए भूमि चयन की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। इस संबंध में मुकेश अंबानी ने बीकेटीसी के अधिकारियों से वार्ता की। निर्णय लिया गया कि 17 नवंबर को बदरीनाथ धाम के कपाट बंद होने पर मुकेश अंबानी के साथ बीकेटीसी के अधिकारी मैसूर का दौरा कर चंदन वन के लिए भूमि चयन प्रक्रिया को आगे बढ़ाएंगे। चंदन वन स्थापित करना मुकेश अंबानी के ड्रीम प्रोजेक्ट में शामिल है। मुकेश अंबानी की भगवान बदरी विशाल में अगाध आस्था है। वे हर साल धाम आकर दर्शन करते हैं। बीते मई में भी वे यहां आए थे और गीता पाठ किया था। यही नहीं बदरी-केदारनाथ में चंदन और केसर के लिए दो करोड़ रुपए बीकेटीसी को भेंट दिए थे। वे हर साल चंदन के लिए रकम भेंट करते हैं। इसके साथ ही उन्होंने बदरी-केदार में चंदन की कमी न हो इसके लिए कर्नाटक में पांच बीघा जमीन पर बदरीश धीरुभाई अंबानी चंदन वाटिका स्थापित करने पर सहमति दी। 

भगवान केदारनाथ के क्षेत्रपाल, भैरवनाथ के कपाट शीतकाल के लिए बंद


 

रुद्रप्रयाग। भगवान केदारनाथ के क्षेत्रपाल भैरवनाथ के कपाट विधि-विधान के साथ शीतकाल के लिए बंद कर दिए गए हैं। इस मौके पर भक्तों ने दर्शन कर भगवान भैरवनाथ का आशीर्वाद लिया। भैरवनाथ के कपाट बंद होने के साथ ही केदारनाथ मंदिर में सायंकालीन आरती भी बंद हो गई है। भगवान केदारनाथ के क्षेत्रपाल भैरवनाथ के कपाट विधि-विधान के साथ शीतकाल के लिए बंद कर दिए गए हैं। इस मौके पर भक्तों ने दर्शन कर भगवान भैरवनाथ का आशीर्वाद लिया। भैरवनाथ के कपाट बंद होने के साथ ही केदारनाथ मंदिर में सायंकालीन आरती भी बंद हो गई है। 29 अक्टूबर को केदारनाथ के कपाट भी बंद हो जाएंगे। पूर्वाह्न 11 बजे केदारनाथ के मुख्य पुजारी केदार लिंग, पश्वा अरविंद शुक्ला व अन्य लोग भैरवनाथ के मंदिर में पहुंचे। यहां पर विधि-विधान के साथ पूजा की गई। मुख्य पुजारी ने भगवान भैरव का श्रृंगार किया।

उत्तराखण्ड राज्य देश में आपराधिक दृष्टि से सबसे कम राज्यों में से एक

देहहरादून। एनसीआरबी द्वारा वर्ष 2017 के क्राइम इन इंडिया राज्यवार अपराध आंकड़े जारी किये गये हैं। उक्त आंकड़े वर्ष 2017 में  पूरे देश में राज्यवार घटित भारतीय दण्ड संहिता से सम्बन्धित हैं। राज्यवार स्थिति में उत्तराखण्ड राज्यों में अपराध में न्यूनतम से चैथे स्थान पर है। वर्ष 2017 में कुल 12889 भारतीय दण्ड संहिता के अभियोग पंजीकृत किये गये, जो 119.3 अपराध प्रतिलाख जनसंख्या पर पंजीकृत है। 

कुल चोरी, लूटी गयी सम्पत्ति का राष्ट्रीय औसत कुल 28.6 प्रतिशत है। जबकि इसी अवधि में उत्तराखण्ड राज्य द्वारा चोरी, लूटी गयी सम्पत्ति का कुल 52.7 प्रतिशत बरामद किया गया है। (कुल चोरी, लूटी गयी सम्पत्ति 15.5 करोड़ थी जबकि कुल बरामद की गयी सम्पत्ति 8.2 करोड़ है।) उक्त शीर्षक में उत्तराखण्ड राज्य सम्पत्ति बरामदगी में देशभर में दूसरे स्थान पर रहा जबकि पडोसी राज्य उत्तर प्रदेश कुल बरामदगी 34.1 प्रतिशत के साथ 12वें स्थान पर रहा। वर्ष 2018 में को बढावा देते हुए 65 प्रतिशत की चोरी, लूटी गयी सम्पत्ति की बरामदगी की गयी है। मात्र तमिलनाडू राज्य ही उक्त शीर्षक में उत्तरखण्ड से आगे है। कतिपय खबरों में उत्तराखण्ड राज्य में अपराध में वृघ्द्ध को इंगित करते हुए कुल 28861 अभयोग घटित होने दिखाये गये हैं। जबकि वास्तविकता में वर्ष 2016 में भादवि के 10867 की तुलना में वर्ष 2017 में 12889 अभियोग ही पंजीकृत हैं, शेष 15972 अभियोग निरोधात्मक कार्यवाही से सम्बन्धित हैं। अवगत कराना है कि वर्ष 2017 में समय-समय पर कानून व्यवस्था व चुनावों के दृष्टिगत आपराधिक व असामाजिक तत्वों के विरूद्ध निरोधात्मक अभियान चलाये गये हैं जिसके दृष्टिगत 15972 अभियोग निरोधात्मक कार्यवाही (जैसे आबकारी अधिनियम, शस्त्र अधिनियम, एन डीपीएस एक्ट, गुण्डा एक्ट आदि) के हैं न कि आपराधिक घटनाओं के हैं।

आईएएस-पीसीएस ने सीएम त्रिवेंद्र से भेंट कर दीपावली की शुभकामनाएं दी



 

देहरादून। दीपावली के अवसर पर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से शनिवार को मुख्यमंत्री आवास में मुख्य सचिव सहित प्रदेश के वरिष्ठ आई.ए.एस, आई.पी.एस, आई.एफ.एस व अन्य सेवा के अधिकारियों ने भेंट कर उन्हें दीपावली की बधाई एवं शुभकामनाएं दी। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने भी सभी को दीपावली की बधाई एवं शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह, अपर मुख्य सचिव ओम प्रकाश एवं राधा रतूड़ी सहित अन्य सभी वरिष्ठ अधिकारीगण उपस्थित थे।


 

Friday, 25 October 2019

मंत्री के आवास पर आयुष छात्रों का हल्ला बोल



देहरादून। परेड ग्राउंड में चल रहे आयुष छात्रों के आंदोलन को पूरे देश के छात्र नेताओं का समर्थन मिल रहा है। आयुष छात्रों के समर्थन में आज एनएसयूआई के छात्र नेताओं ने आयुष मंत्री डा0 हरक सिंह के आवास का घेराव किया। इस दौरान इन छात्र नेताओं की पुलिस के साथ तीखी नोंक-झोंक भी हुई। अपनी मांगों पर अडे़ इन छात्रों को पुलिस हिरासत कर पुलिस लाइन ले गई वहीं कुछ छात्र मंत्री के आवास पर धरने पर डटे रहे।

उल्लेखनीय है कि लंबे समय से अपनी फीस वृद्वि की वापसी की मांग को लेकर आयुष छात्र परेड ग्राउंड में धरने, आमरण अनशन पर डटे हुए हैं। इन छात्रों को न सिर्फ राजनीतिक दलों द्वारा समर्थन दिया जा रहा है अपितु पूरे देश के छात्र यूनियनों से जुडे़ नेता उनका समर्थन कर रहे है। छात्रों के इस आंदोलन को समाप्त करने के लिए कालेज और प्रशासन और पुलिस प्रशासन सभी हथकंडे अपना चुका है। लेकिन छात्र अपनी मांग पर अडे हुए है उनका साफ कहना है कि जब तक कालेज प्रशासन और सरकार फीस वृद्वि वापस नही लेती और उनकी फीस नहीं लौटाई जाती तब तक वे अपना आंदोलन समाप्त नहीं करेंगे। छात्रों के आंदोलन को समर्थन दे रही कांग्रेस और एनएसयूआई ने कल ही घोषणा कर दी थी कि वह आयुष मंत्री हरक सिंह के आवास पर डेरा डालने वाले हैं। एनएसयूआई के प्रदेश अध्यक्ष मोहित उनियाल के आवाह्न पर आज बड़ी संख्या में छात्र नेता आयुष मंत्री डा0 हरक सिंह के आवास पर पहुँचें और वहाँ धरना प्रदर्शन किया। छात्रों की मांग थी कि आयुष मंत्री आये और उनकी बाते सुने। मंत्री के न आने पर छात्रों ने नारेबाजी शुरू कर दी। इस दौरान छात्र नेताओं की पुलिस के साथ नोकझोंक भी हुई बाद में पुलिस छात्र नेताओं को पुलिस लाइन ले गयी। छात्र नेता ललित तिवारी, अजय मौर्य प्रगति जोशी, फैसल सिद्दकी, शिवम शुक्ला, शिवम तिवारी, आदि का कहना है कि सरकार निजी कालेजों से फीस वृद्वि वापस लेने का निर्णय कराने में विफल साबित हो रही है। छात्रों का उत्पीडन किया जा रहा है जिसके खिलाफ उनकी लडाई जारी रहेगी उधर आज भी परेड ग्राउंड में आयुष छात्रों का आमरण अनशन जारी रहा।


पिथौरागढ़ विधानसभा क्षेत्र में उपचुनाव की तिथि घोषित, 25 नवंबर को होगा मतदान, मतगणना 28 नवंबर को 



देहरादून। पिथौरागढ़ विधानसभा क्षेत्र में उपचुनाव की तिथि घोषित कर दी गई है। 25 नवंबर को उपचुनाव होगा। निर्वाचन आयोग ने उपचुनाव का कार्यक्रम जारी कर दिया है। पूर्व कैबिनेट मंत्री प्रकाश पंत के निधन के बाद खाली हुई इस सीट पर मतगणना 28 नवंबर को होगी। इसी दिन चुनाव परिणाम आने की संभावना है। आयोग से चुनाव कार्यक्रम जारी होने के बाद मुख्य निर्वाचन अधिकारी सौजन्या ने भी उपचुनाव का कार्यक्रम जारी कर दिया है।

उपचुनाव की अधिसूचना 30 अक्तूबर तक जारी हो जाएगी। नामांकन पत्र दाखिल करने की अंतिम तिथि छह नवंबर रखी गई है। सात नवंबर को नामांकन पत्रों की जांच होगी। 11 नवंबर तक नाम वापसी होगी। कार्यक्रम के तहत 25 नवंबर को मतदान सुबह आठ बजे से शुरू होगा और शाम पांच बजे तक चलेगा। दो दिन बाद 28 नवंबर को मतगणना होगी। 30 नवंबर तक पूरी चुनाव प्रक्रिया संपन्न हो जाएगी। मुख्य निर्वाचन अधिकारी सौजन्या के मुताबिक, उप चुनाव एक जनवरी 2019 की तिथि पर प्रकाशित फोटोयुक्त मतदाता सूची के आधार पर होगा। उपचुनाव में ईवीएम और वीवीपैट का इस्तेमाल होगा। मतदाता की पहचान के लिए फोटोयुक्त मतदाता पहचान पत्र मुख्य दस्तावेज होगा। इसके अलावा पहचान के अन्य विकल्पों से जुड़े दस्तावेजों के आधार पर भी मतदान किया जा सकेगा।


दीपावली के पर्व पर गति फाउंडेशन ने जारी की ‘दून पाॅल्यूशन टेल्स अभियान’ की रिपोर्ट

देहरादून। गति फाउंडेशन ने दीपावली से पहले शहर में प्रदूषण को लेकर चलाये गये एक अभियान के बाद अपनी रिपोर्ट जारी की है। 'दून पाॅल्यूशन टेल्स अभियान' के दौरान मिले आउटपुट्स के बाद फाउंडेशन ने अपनी रिपोर्ट में शहर में वायु प्रदूषण की स्थिति में चिन्ता जताई है और सलाह दी है कि वायु प्रदूषण की स्थिति सुधारने के लिए सार्वजनिक परिवहन और अपशिष्ट कूड़ा प्रबंधन पर खास ध्यान दिया जाए।

इस अभियान की थीम 'वायु प्रदूषण को हराओ' थी। अभियान के तहत उन लोगों के जीवन को समझने और उनका डॉक्यूमेंटेशन करने की भी कोशिश की गई, जिनका ज्यादातर समय शहर में प्रदूषित वायु के बीच में गुजरता है। इसमें ऑटो चालक, स्ट्रीट वेंडर, ट्रैफिक पुलिस अधिकारी, कैब ड्राइवर, स्ट्रीट स्वीपर और छात्रों को मुख्य रूप से शामिल किया गया। अभियान को सोशल मीडिया पर साझा किया गया। ट्विटर पर यह अभियान तीन दिन में 50 हजार से ज्यादा लोगों तक पहुंचा। अभियान में वायु प्रदूषण के मुद्दे पर सरकारी अधिकारियों और विशेषज्ञों ने भी अपने सुझाव साझा किये। इस दौरान देहरादून में वायु प्रदूषण पर मौजूदा साहित्य और अन्य स्रोतों की समीक्षा भी की गई। रिपोर्ट कहती है कि, दून में खराब सार्वजनिक परिवहन प्रणाली के साथ वाहनों की संख्या में अभूतपूर्व वृद्धि हो रही है। इसके अलावा कचरे को खुले में जलाये जाने, खाली प्लाॅट कचरा फेंकने आदि से भी वायु प्रदूषण बढ़ रहा है। देहरादून ने दिल्ली से आने वाले पुराने वाहनों को भी वायु प्रदूषण के लिए गंभीर समस्या बताया गया है। इस मामले में देहरादून के सहायक क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी अरविंद पांडे के हवाले से कहा गया है कि वाहन मालिकों के लिए पीयूसी को अनिवार्य करने के कानून से वायु प्रदूषण के मामले में काफी राहत मिल सकती है। अभियान में भाग लेने वाली दृष्टि आई केयर अस्पताल के नेत्र विशेषज्ञ डॉ. गौरव लूथरा ने कहा कि 'एलर्जी से संबंधित मामलों में 30 से 40 प्रतिशत तक की वृद्धि आ रही है। यह समस्या न केवल बच्चों, बल्कि वयस्कों में भी देखी जा रही है। डाॅ. लूथरा के अनुसार प्रदूषण के स्तर में वृद्धि के कारण एलर्जी के पारंपरिक पैटर्न में काफी बदलाव आया है।'

रिपोर्ट में अनियंत्रित रूप से बड़े पैमाने पर खुले में जलाये जा रहे कचरे को भी वायु प्रदूषण का बड़ा कारण बताया गया है। अभियान के दौरान शहर के अंदर कई स्थानों पर खुले में कचरा जलता पाया गया। रिपोर्ट ने यह भी कहा गया है कि शहरवासियों द्वारा खुले में कूड़ा जलाना समस्या आम बात होती चली जा रही है।  प्रेमनगर, घंटाघर, ईसी रोड और राजपुर रोड कुछ ऐसे स्थान है, जहां टीम ने खुले में कूड़ा जलते हुए देखा। गति फाउंडेशन के ऋषभ श्रीवास्तव के अनुसार अभियान का उद्देश्य वायु प्रदूषण के मुद्दे पर लोगों को अधिक व्यावहारिक और मानवीय बनाना था। वे कहते हैं कि वायु प्रदूषण का मुद्दा अक्सर दिल्ली या बेंगलुरु जैसे महानगरों तक ही केंद्रित रह जाता है, जबकि देहरादून जैसा छोटा शहर भी खराब वायु गुणवत्ता से जूझ रहा है। ऋषभ के अनुसार जो लोग सड़क पर अधिकतम समय बिता रहे हैं, वे असली पीड़ित हैं। इस अभियान के माध्यम से ऑटो चालकों, सब्जी विक्रेताओं, यातायात पुलिस अधिकारियों आदि के जीवन पर वायु प्रदूषण के प्रभाव को समझने की कोशिश की गई। उनका कहना है कि क्षेत्र के लिए स्वच्छ हवा सुनिश्चित करने में प्रत्येक नागरिक की भूमिका होती है। ऋषभ ने बताया कि पिछले वर्ष फाउंडेशन ने शहर के विभिन्न क्षेत्रों में वायु प्रदूषण टेस्ट किया था। इस दौरान आईएसबीटी, सहारनपुर चैक और दून अस्पताल सबसे प्रदूषित क्षेत्र थे। उन्होंने सार्वजनिक स्थानों, जैसे क्लॉक टॉवर, परेड ग्राउंड, आईएसबीटी आदि पर वास्तविक समय में वायु गुणवत्ता की स्थिति प्रदर्शित करने वाला  डिजिटल बोर्ड स्थापित करने का सुझाव दिया। ऋषभ के अनुसार पीएम 2.5 की निगरानी जल्द से जल्द शुरू किये जाने की जरूरत है। वर्तमान में, राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के पास केवल तीन मैनुअल वायु प्रदूषण मॉनिटर, राजपुर रोड, आईएसबीटी और क्लॉक टॉवर पर हैं और जो केवल पीएम 10, सल्फर और नाइट्रोजन स्तर की निगरानी करने में सक्षम हैं। इस अभियान को गति फाउंडेशन से ऋषभ श्रीवास्तव, अनुष्का मार्तोलिया, हेम साहू, आशुतोष और देविका ने संचालित किया।

मंत्री हरक सिंह रावत व अन्य के खिलाफ सीबीआई की एफ0आई0आर0 मोर्चा की बड़ी जीतः नेगी


 

-वर्ष 2016 में जनहित याचिका में हरक सिंह, उमेश शर्मा आदि के खिलाफ की गयी थी सी0बी0आई0 जाँच की माँग

-स्टिंग जनहित में न होकर किया गया था काली कमाई, ब्लैकमेलिंग व तख्तापलट के उद्देश्य से

-उच्च न्यायालय ने अगस्त 2018 में स्टिंगबाजों को किये थे उक्त मामले में नोटिस जारी

-तत्कालीन सरकार को अस्थिर कर प्रदेश का विकास किया था बाधित

 

विकासनगर। जन संघर्ष मोर्चा अध्यक्ष एवं जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने कहा कि वर्ष 2016 में तत्कालीन हरीश रावत सरकार के खिलाफ मंत्री हरक सिंह रावत, विधायक मदन सिंह बिष्ट व सी0ई0ओ0 उमेश शर्मा द्वारा काली कमाई अर्जित करने, ब्लैकमेलिंग व तख्तापलट के उद्देश्य से किये गये स्टिंग मामले को लेकर मोर्चा अध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने उच्च न्यायालय में जनहित याचिका सं0 114ध्2016 दायर कर उक्त स्टिंगबाजों के खिलाफ भी सी0बी0आई0 जाँच कराने का आग्रह किया था, जिसमें मोर्चा द्वारा माँग की गयी थी कि उक्त स्टिंगबाजों द्वारा सैकड़ो-हजारों करोड़ रूपये के साम्राज्य मात्र 1.5-2 दशक में खड़े कर दिये गये हैं तथा इनका इतिहास फर्जीवाड़े व ब्लैकमेलिंग का रहा है। उक्त मामले पर संज्ञान लेते हुए उच्च न्यायालय के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश आ0 राजीव शर्मा व आ0 मनोज तिवारी की खण्डपीठ द्वारा 28 अगस्त 2018 को मंत्री हरक सिंह रावत, सी0बी0आई0, उमेश शर्मा व मदन सिंह बिष्ट को नोटिस जारी किये गये थे।

मोर्चा कार्यालय में पत्रकारों से वार्ता करते हुए नेगी ने कहा कि मोर्चा द्वारा कई वर्षों से उक्त व्यक्तियों के खिलाफ लड़ाई लड़ी जा रही है तथा स्टिंग मामले में भी मोर्चा द्वारा यह उल्लेख किया गया था कि स्टिंगबाज ही पैसों की पेशकश व षड़यन्त्र रच रहे हैं तो फिर स्टिंग जनहित व प्रदेशहित में कैसे हुआ ! मोर्चा ने इस बात की भी माँग की थी कि अगर हरीश रावत के खिलाफ सी0बी0आई0 जाँच हो रही है तो इनके खिलाफ भी सी0बी0आई0 जाँच होनी चाहिए। सी0बी0आई0 द्वारा पूर्व मुख्यन्त्री हरीश रावत के खिलाफ प्राथमिकी (एफ0आई0आर0) दर्ज करने के साथ-साथ हरक सिंह रावत, उमेश शर्मा आदि के खिलाफ भी जो एफ0आई0आर0 दर्ज करायी गयी है, इससे निश्चित तौर पर सच जनता के सामने आयेगा कि कैसे इन स्टिंगबाजों ने प्रदेश को तबाह करने का काम किया। नेगी ने कहा कि मोर्चा की माँग पर सी0बी0आई0 द्वारा स्टिंगबाजों के खिलाफ भी प्राथमिकी दर्ज होने से मोर्चा को भारी सफलता मिली है। पत्रकार वार्ता में मोर्चा महासचिव आकाश पंवार, दिलबाग सिंह, डाॅ0 ओ0पी0 पंवार, मौ0 असद, प्रवीण शर्मा पीन्नी आदि उपस्थित रहे।

एफएडीए ने यूएम लोहिया और उसके प्रबंधन को भेजा नोटिस

देहरादून। फेडरेशन ऑफ ऑटोमोबाइल डीलर्स एफएडीए ने यूएम मोटरसाइकल्स के डीलरों के मामले को अपने हाथों में लिया है। भारत में इन मोटरसाइकलों का उत्घ्पादन एवं बिक्री यूएम लोहिया टू व्हीलर्स प्राइवेट लिमिटेड (यूएम लोहिया) द्वारा की जाती है। यूएम लोहिया एक अमेरिकी मोटरसाइकल कंपनी यूएम मोटरसाइकल्स और लोहिया ग्रुप के बीच एक संयुक्त उद्यम है। 2016 में इस संयुक्त उद्यम की स्थापना यूएम मोटरसाइकल्स के ब्रांड के तहत भारत में अमेरिकी स्टाइल की मोटरसाइकलें बनाने और बेचने के लिए की गई थी।

डीलर यूएम लोहिया के प्रबंधन और प्रमोटरों की ओर से हुई बेईमानी और धोखाधड़ी से व्यथित हैं, जिनमें संस्थापक श्री आयुष कुमार लोहिया और श्री जोस मिगुएल विलेगास शामिल हैं, जिन्होंने शुरुआत से ही उनके बीच के संबंधों में दिक्कतें दी हैं और डीलरों को भारी नुकसान पहुंचाया है, साथ ही उन्हें यूएम मोटरसाइकल्घ्स के ग्राहकों की ओर से दायर अनापेक्षित मुकदमेबाजी की जद में ला दिया है। यूएम लोहिया के अपनी मोटरसाइकलों के साथ बाजार में प्रवेश करते ही डीलरों का दुर्भाग्य शुरू हो गया था। यह जल्द ही जाहिर हो गया कि तथाकथित अमेरिकी मोटरसाइकलें वास्तव में उत्तर प्रदेश के काशीपुर में यूएम लोहिया के विनिर्माण संयंत्र में चीनी पार्ट्स को असेंबल कर बनाई जा रही थीं। इसके चलते उपभोक्ताओं की दिलचस्पी तत्काल बहुत घट गई, क्योंकि कोई भी अमेरिकी मोटरसाइकलों की घटिया चीनी प्रतिकृतियां नहीं खरीदना चाहता था। ब्रांड ने अपना मूल्य खो दिया, और इसके साथ ही डीलरों के निवेश भी डूब गए, जिनके पास अब ऐसा उत्पाद था, जिसकी चाह बहुत कम लोगों में रह गई थी।

मिस उत्तराखंड का फस्र्ट लुक आयोजित


देहरादून। सिनमिट कम्युनिकेशंस द्वारा आयोजित मिस उत्तराखंड 2019 का फर्स्ट लुक आज होटल मधुबन में आयोजित किया गया। मिस उत्तराखंड 2019 कमल ज्वैलर्स द्वारा प्रस्तुत किया गया है। उत्तराखंड के कई जिलों का प्रतिनिधित्व करने वाली 29 लड़कियों ने फर्स्ट लुक के लिए क्वालिफाई किया। हरिद्वार, देहरादून, पौड़ी, पिथौरागढ़, चंपावत, अल्मोड़ा, टिहरी, पौड़ी और खटीमा जैसे कई जिलों की लड़कियों ने अपनी भागीदारी को चिह्नित किया।  शो को कोरियोग्राफ आकांक्षा गुप्ता द्वारा किया गया और इसका सह निर्देशन प्रतीक लांबा ने किया। इस अवसर पर संस्थापक सिनमिट कम्युनिकेशंस दलीप सिंधी और राजीव मित्तल भी उपस्थित रहे।

इस अवसर पर बोलते हुए, दलीप सिंधी ने कहा, “इस पैजेंट का उद्देश्य राज्य की लड़कियों को एक उचित प्लेटफार्म प्रदान करना है। मिस उत्तराखंड का यह टाइटल उन्हें संवारने और उन्हें निखारने पर काम करता है। हम चाहते हैं कि उन्हें दूसरे राज्यों की लड़कियों की तरह ही सवारने का मौका मिले। इस साल की लड़कियां पिछली बार की तुलना में अधिक जागरूक हैं।”राजीव मित्तल ने यह भी बताया कि फर्स्ट लुक के बाद कई उप प्रतियोगिताओं का भी आयोजन किया जाएगा जहाँ लड़कियों को विभिन्न पहलुओं जैसे कि प्रतिभा, रूप, मुस्कान, त्वचा, फिटनेस आदि के अंतर्गत चुना जाएगा। फर्स्ट लुक के लिए क्वालीफाई करने वाली लड़कियों में आकांक्षा छेत्री, आकांक्षा देवगन, आकांक्षा नेगी, अचल बिष्ट, अनन्या बिष्ट, अपूर्वा डोभाल, आरुशी बलूनी, बबिता बिष्ट, दीपिका पांडे, हीना आर्य, कंचन, कुसुम रावत, मनीषा धीमान, मानसी रावत, मनवी छेत्री, नाजिश खान, नीलम नेगी, प्रीति रावत, रबीना कुमारी, राजेश्वरी पोखरिया, ऋचा बलूनी, समीक्षा सकलानी, सना बिष्ट, संतोषी जेना, शिवानी बिष्ट, स्नेहा पुंडीर, सुमेधा रावत, विशाखा बायल और श्रेया रहीं।

एमडीडीए ने दो वर्षों में सराहनीय कार्य किए, इससे सरकार की भी प्रतिष्ठा बढ़ीः सीएम  


देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने गुरुवार को देहरादून के स्थानीय होटल में मसूरी देहरादून विकास प्राधिकरण (एमडीडीए) के 36वें स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम का दीप प्रज्ज्वलित कर शुभारम्भ किया। प्राधिकरण को 36वें स्थापना दिवस की बधाई एवं शुभकामनाएं देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि प्राधिकरण द्वारा पिछले दो वर्षों में सराहनीय कार्य किया गया है। इससे सरकार की भी प्रतिष्ठा बढ़ी है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में प्रत्येक क्षेत्र का विकास हो सके इसके लिए जिला विकास प्राधिकरणों का गठन किया गया है। 

आम जन को हर प्रकार की सुविधा समय से उपलब्ध करा सकें इसके लिये प्रयास किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि भविष्य की आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए हमने विभिन्न नीतियों में छोटे-छोटे विभिन्न नीतिगत परिवर्तन किए हैं। इससे आमजन को कम से कम समय में ज्यादा से ज्यादा सुविधाएं एवं सेवाएं प्रदान प्राप्त हो सकेंगी। इन नीतिगत परिवर्तनों का प्रभाव आने वाले समय में दिखाई देगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रत्येक राज्य की अपनी अलग पहचान व संस्कृति होती है। पर्यटक भी इससे प्रभावित होते हैं। पर्यटकों को आकृषित करने के लिये उत्तराखण्ड में किये जा रहे निर्माण कार्यों में यहां की कला एवं संस्कृति की झलक दिखनी चाहिए। उन्होंने कहा कि राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए हम सभी को सहयोग देना होगा। राज्य का पर्यटन अधिक से अधिक विदेशी पर्यटकों को आकर्षित कर सके इसके लिए भी प्रयास करने होंगे। मुख्यमंत्री ने स्मार्ट सिटी के क्षेत्र में एमडीडीए द्वारा तेजी से कार्य करने पर बधाई दी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार प्रदेशवासियों को मूलभूत सुविधाएं प्रदान करने के लिये लगातार प्रयास कर रही है। प्रदेश में गुरूत्व आधारित पेयजल की आपूर्ति के लिये विभिन्न योजनाएं शुरू की गयी हैं। सौंग बाँध निर्माण कार्य शुरू होने के 350 दिन में कार्य पूर्ण करने लिये प्रयासरत् हैं। सूर्यधार झील निर्माण कार्य भी शीघ्र पूर्ण हो जाएगा। कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक ने प्राधिकरण को बधाई देते हुए कहा कि देहरादून मसूरी विकास प्राधिकरण राज्य के अन्य प्राधिकरणों के लिये मार्गदर्शक का कार्य करता है। उन्होंने कहा कि समय की जरूरतों के अनुसार एमडीडीए हेतु 10 पाॅलिसीज में नीतिगत परिवर्तन किये हैं। साथ ही, राज्य सरकार व्यवस्थित वैंडिंग जोन विकसित करने के प्रयास कर रही है। वेंडर्स और आमजन को इससे लाभ मिलेगा। कार्यक्रम के दौरान उपाध्यक्ष एमडीडीए आशीष कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि एमडीडीए द्वारा लगातार नई तकनीक का इस्तेमाल किया जा रहा है। इसके लिये एमडीडीए ने नेशनल ई-गवर्नेंस अवार्ड (2018-19) प्राप्त किया है। उन्होंने कहा कि एमडीडीए द्वारा 29 घंटों के अन्दर नक्शे की स्वीकृति दी जा रही है। स्मार्ट सिटी की संकल्पना को ध्यान में रखते हुए विभिन्न प्रोजेक्ट्स पर तेजी से कार्य कर रही है। इस अवसर पर कैबिनेट मंत्री मदन कौशिक, मेयर देहरादून सुनील उनियाल गामा, विधायक हरबंस कपूर सचिव नितेश झा, अध्यक्ष एमडीडीए एवं कमिश्नर गढ़वाल रवि नाथ रमन एवं उपाध्यक्ष एमडीडीए आशीष कुमार श्रीवास्तव सहित विभिन्न अधिकारी उपस्थित थे।

एक्टिवा नंबर 1 बिकने वाले दोपहिया वाहन के रूप में अपनी स्थिति को रखे हुए है बरकरार 

देहरादून। त्योहारों के सीजन में होण्डा के प्रतिष्ठित एक्टिवा ने वित्तीय वर्ष 2019-20 के पहले 6 महीनों में भारत के सबसे ज्यादा बिकने वाले दोपहिया वाहन के रूप में अपनी अग्रणी स्थिति को फिर से बरकरार रखा है।  

बाजार की चुनौतीपूर्ण स्थितियों के बावजूद यह भारत का प्यार ही कि हर मिनट 5 नए उपभोक्ता एक नए एक्टिवा को घर ला रहे है। 2019-20 के पहले अर्द्धवर्ष में होण्डा 2 व्हीलर्स इण्डिया का प्रतिष्ठित आॅटोमेटिक स्कूटर एक्टिवा घरेलू दोपहिया वाहनों में अग्रणी स्थिति पर बना हुआ है। भारत के नंबर 1 बिकने वाले दोपहिया ब्राण्ड की बिक्री अप्रैल से सितम्बर 2019 के दौरान 1.4 मिलियन युनिट्स य1ए393ए256 युनिट्सद्ध दर्ज की गई है।जून 2019 में अपनी शुरूआत के बाद लिमिटेड एडिशन एक्टिवा 5 जी ने उपभोक्ताओं में एक नया रोमांच पैदा किया है, जिसे 10 नए प्रीमियम स्टाइल एडिशन्स और 2 नए शानदार ड्यूल-कलर्स के साथ बाजार में उतारा गया था। होण्डा ने सभी क्षेत्रों से आने वाली जबरदस्त मांग को पूरा करने के लिए अपनी उत्पादन योजनाओं को दोगुना से अधिक करने का लक्ष्य तय किया है।

ओलंपस हाईस्कूल में वार्षिक एथलेटिक्स मीट आयोजित  


 

देहरादून। ओलंपस हाईस्कूल ने अपने स्कूल परिसर के भीतर अपना 20 वां वार्षिक एथलेटिक्स मीट और पीटी डिस्प्ले मनाया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि कार्यकारी निदेशक ओएनजीसी मनोज बर्थवाल थे, जबकि महाप्रबंधक (केडीएमपीआईई-ओएनजीसी) जेएस वराईच जो कि एक प्रसिद्ध अंतर्राष्ट्रीय हैमर थ्रो चैंपियन भी थे, विशिष्ट अतिथि के रूप में मौजूद रहे। टाइनी टोट्स ने  पीटी के माध्यम से अपने अद्भुत नृत्य कौशल का प्रदर्शन किया। पीटी डिस्प्ले द ओशन फन और इंग्लिश विंग्लिशश् के माध्यम से प्रदिर्शित किया गया।

युवा एथलीटों ने जल ही जीवन है, फाइंड द हैप्पीनेस, टनल रेस, पास द बैलून, जेली फिश और से नो तो प्लास्टिक  जैसी दौड़ में भी भाग लिया। योग प्रदर्शन और हॉर्स शो ने दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया। छठी से सातवीं कक्षा की लड़कियों द्वारा शानदार नृत्य शांति का आह्वान 'का भी मंचन किया गया। कक्षा छठी से आठवीं के लड़कों ने प्रिंस अली और जिनी के शाही प्रवेश पर अपने प्रदर्शन से दर्शकों को आकर्षित किया। इस अवसर पर आयोजित अन्य दौड़ जूनियर शटल रिले, रेस्क्यू ऑपरेशन रेस और बिल्डिंग द ब्रिज रेस शामिल रहीं। भगवान शिव को समर्पित शिव तांडव विषय पर सीनियर स्कूल द्वारा एक डांस ड्रिल भी प्रस्तुत की गई। पुरस्कार वितरण समारोह के दौरान, सभी विजेताओं को उनकी कड़ी मेहनत और उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए सम्मानित किया गया।

ओलंपस हाईस्कूल में वार्षिक एथलेटिक्स मीट आयोजित  


 

देहरादून। ओलंपस हाईस्कूल ने अपने स्कूल परिसर के भीतर अपना 20 वां वार्षिक एथलेटिक्स मीट और पीटी डिस्प्ले मनाया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि कार्यकारी निदेशक ओएनजीसी मनोज बर्थवाल थे, जबकि महाप्रबंधक (केडीएमपीआईई-ओएनजीसी) जेएस वराईच जो कि एक प्रसिद्ध अंतर्राष्ट्रीय हैमर थ्रो चैंपियन भी थे, विशिष्ट अतिथि के रूप में मौजूद रहे। टाइनी टोट्स ने  पीटी के माध्यम से अपने अद्भुत नृत्य कौशल का प्रदर्शन किया। पीटी डिस्प्ले द ओशन फन और इंग्लिश विंग्लिशश् के माध्यम से प्रदिर्शित किया गया।

युवा एथलीटों ने जल ही जीवन है, फाइंड द हैप्पीनेस, टनल रेस, पास द बैलून, जेली फिश और से नो तो प्लास्टिक  जैसी दौड़ में भी भाग लिया। योग प्रदर्शन और हॉर्स शो ने दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया। छठी से सातवीं कक्षा की लड़कियों द्वारा शानदार नृत्य शांति का आह्वान 'का भी मंचन किया गया। कक्षा छठी से आठवीं के लड़कों ने प्रिंस अली और जिनी के शाही प्रवेश पर अपने प्रदर्शन से दर्शकों को आकर्षित किया। इस अवसर पर आयोजित अन्य दौड़ जूनियर शटल रिले, रेस्क्यू ऑपरेशन रेस और बिल्डिंग द ब्रिज रेस शामिल रहीं। भगवान शिव को समर्पित शिव तांडव विषय पर सीनियर स्कूल द्वारा एक डांस ड्रिल भी प्रस्तुत की गई। पुरस्कार वितरण समारोह के दौरान, सभी विजेताओं को उनकी कड़ी मेहनत और उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए सम्मानित किया गया।

केन्द्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ने की नागरिक उड्डयन सेवाओं की समीक्षा 

देहरादून। केन्द्रीय नागरिक उड्डयन राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) हरदीप सिंह पुरी द्वारा उत्तर पश्चिम राज्यों के साथ नागरिक उड्डयन संबंधित विभिन्न विषयों पर वीडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम से समीक्षा की गई। मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह द्वारा मंत्री को अवगत कराया कि नागरिक उड्डयन मंत्रालय द्वारा प्रदेश में प्रथम चरण की चयनित वायुयान सेवा देहरादून-पंतनगर (एलायंसएयर) तथा द्वितीय चरण की वायुयान सेवा देहरादून-पिथौरागढ़, पिथौरागढ़-देहरादून, पिथौरागढ़-हिंडन आपरेटर हेरिटेज द्वारा चलाई जा रही है। उन्होंने भारत सरकार नागरिक उड्डयन मंत्रालय का आभार प्रकट किया। इसी क्रम में उन्होंने मंत्रालय द्वारा तृतीय चरण की चयनित वायुयान सेवा पंतनगर-चंडीगढ़, पंतनगर-लखनऊ (हेरीटेज आॅपरेटर) एवं पंतनगर-कानपुर (स्पाईसजेट) सेवाएं तथा द्वितीय चरण की चयनित देहरादून-इलाहाबाद (इंडिगो) एवं पिथौरागढ़ -पंतनगर (हेरिटेज) वायुयान सेवाओं को भी शीघ्र ही संचालित करने का अनुरोध किया।

     मुख्य सचिव ने देहरादून एयरपोर्ट के विस्तारीकरण की ओर मंत्री का ध्यान आकृष्ट किया। उन्होंने बताया कि वर्तमान में देहरादून एयरपोर्ट की रनवे लम्बाई 2140 मीटर है, जिससे अधिकतम 130 से 140 यात्रियों का प्रति विमान आवागमन संभव है। उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा जौलीग्रांट हवाई अड्डे को अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे के रूप में विकसित किये जाने की सैद्धान्तिक सहमति प्रदान की गई है, जिसके क्रम में प्रथम चरण में जौलीग्रांट हवाई अड्डे के विस्तारीकण हेतु भूमि अधिग्रहण का निर्णय लिया गया है। प्रथम चरण में एयरपोर्ट के विस्तारीकरण के बाद एयरपोर्ट के रनवे की लम्बाई 2765 मीटर हो जाएगी जिससे इस एयरपोर्ट से एयरबस ए-321 एवं ए-320 की उड़ान संभव हो पायेगी एवं लगभग 172 से 180 यात्रियों का प्रति वायुयान का आवागमन संभव होगा। उन्होंने अवगत कराया कि द्वितीय चरण में भी जौलीग्रान्ट हवाई अड्डे के विस्तार के लिए 3500 मीटर के रनवे का निर्माण करने का प्रदेश सरकार द्वारा सैद्धान्तिक निर्णय लिया गया है।

मुख्य सचिव ने भारत सरकार की क्षेत्रीय संपर्क योजना के अंतर्गत चयनित स्थलों पर के अंतर्गत संचालन की अनुमति का अनुरोध किया। उन्होंने कहा कि इससे प्रदेश सरकार पर व्यय भार कम पड़ेगा, जिस पर मंत्री द्वारा विचार करने की बात स्वीकार की गई। मुख्य सचिव ने भारत सरकार की क्षेत्रीय संपर्क योजना के अंतर्गत नागरिक उड्डयन मंत्रालय द्वारा केन्द्रीयकृंत स्तर पर उपकरणों के क्रय कर उन्हें संबंधित हैलीपैड एवं हवाई पट्टियों पर शीघ्र स्थापित कराने का अनुरोध किया। मुख्य सचिव द्वारा यह भी अवगत कराया गया कि आर.सी.एस योजना में देहरादून-पिथौरागढ़ एवं पिथौरागढ़-पंतनगर एवं पंतनगर-हिंडन तक हवाई सेवा संचालित है, किन्तु समय-समय पर उक्त सेवा में व्यवधान बना रहता है, जिसे नियमित कराने का अनुरोध किया। उन्होंने उक्त वायुयान मार्गों पर यात्रियों की संख्या अधिक होने की जानकारी देते हुए इन वायुयान मार्गों पर अधिक क्षमता के वायुयान विमान संचालित कराने का अनुरोध किया। मुख्य सचिव ने अवगत कराया कि प्रदेश के लिए चयनित हैली-सेवाओं में आठ हैलीपेड की डी.पी.आर, डी.जी.सी के मानकों के आधार पर बना दी गई है तथा शीघ्र ही कार्यदायी संस्था द्वारा कार्य आरंभ कर दिया जाएगा। यह चयनित हैली सेवाओं के लिये वायुमार्गों का चयन इस प्रकार है। अल्मोड़ा-पंतनगर, अल्मोड़ा-पिथौरागढ़, चिन्लायीसौंड-सहस्त्रधारा, देहरादून-मसूरी, देहरादून-नई टिहरी, देहरादून-रामनगर, धारचूला-हल्द्वानी, गौचर-जोशीमठ, गौचर-सहस्त्रधारा, गौचर-श्रीनगर, हल्द्वानी-धारचूला, हल्द्वानी-हरिद्वार, हरिद्वार-हल्द्वानी, जोशीमठ-गौचर, मसूरी-देहरादून, नैनीताल-पंतनगर, नई टिहरी-देहरादून, नई टिहरी-श्रीनगर, पंतनगर-अल्मोड़ा, पंतनगर-नैनीताल, पंतनगर-रामनगर, पिथौरागढ़-अल्मोड़ा, रामनगर-देहरादून, रामनगर-पंतनगर, सहस्त्रधारा-चिन्यालीसौंड़, सहस्त्रधारा-गौचर, श्रीनगर-गौचर, श्रीनगर-नई टिहरी। मुख्य सचिव के साथ अपर सचिव नागरिक उड्डयन उत्तराखण्ड सोनिका मौजूद थीं।

Featured Post

उत्तराखंड में बारिश से हाल बेहाल, राज्य की 154 सड़कें पड़ी हैं बंद

देहरादून। प्रदेश में मॉनसून लगातार सक्रिय है। भारी बारिश के कारण शुक्रवार 30 जुलाई तक प्रदेश में 154 छोटे-बड़े मार्ग बंद हैं, जिन्हें खोलने...