Monday, 21 September 2020

राज कम्युनिकेशन का स्थापना दिवस, अभूतपूर्व सफलता के 15 वर्ष हुए पूरे


देहरादून। राज कम्युनिकेशन पब्लिक रिलेशन कंपनी ने अपना पंद्रह सालों का लंबा सफर बहुत ही सफलतपूर्वक पूरा कर लिया है। इस अवसर पर एक सेलिब्रेशन कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें वरिष्ठ पत्रकार गिरीश तिवारी व डिजिटल मार्केटिंग से बतौर मुख्य अतिथि मौजूद रहे। इस अवसर पर कंपनी के संस्थापकों की ओर से जरूरतमंद लोगों को फूड पैकेटस भी वितरित किए गए।
राज कम्युनिकेशन पब्लिक रिलेशन कंपनी के कार्यक्रम में वरिष्ठ पत्रकार गिरीश तिवारी व डिजिटल मार्केटिंग से शोभित जैन ने केक काट कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया व कंपनी से संबद्ध सभी को शुभकामनाएं दी। इस अवसर पर राज कम्युनिकेशन के संस्थापक राज छाबड़ा ने कहा कि यह सफर आसान नहीं था। जैसा कि हर काम की सफलता के पीछे बहुत से लोगों का संघर्ष छुपा होता है इसके पीछे भी कंपनी से जुड़े सभी लोगों का संघर्ष है। काम के बारे में जानकारी देते हुए राज छाबड़ा ने बताया कि जब भी कोई व्यक्ति अपना व्यवसाय शुरू करता है तो उसका सबसे बड़ा चैलेंज होता है लोगों तक उस व्यवसाय की जानकारी पहंचाना और वह भी कम खर्च में। इसके लिए उसके बहुत सी बातों का अनुमान लगाना होता है कि जैसे कि वह कौन सा ऐसा तरीका अपनाए जिससे कि वह कम समय से ज्यादा माध्यमों से लोगों तक पहुँच सके और वह तरीका इतना भरोसे मंद हो कि लोग उसे हाथों हाथ ले लें। यहीं नहीं ऐसे समय में जब कि प्रतिस्पर्धा का जमाना है तो लोग आपकी छवि को भी क्षति पहुंचाने की कोशिश कर सकते है वहां पर भी ऐसा क्या माध्यम है जो अपने काम आ सका है। चाहे वह लोगों के बीच अपने व्यवसाय की छवि को बदलना हो या अपने व्यवसाय को हानि से बचाने के लिए तैयार करना हो, जनसंपर्क हमेशा आपके लिए वह माध्यम है जिस पर लोग भरोसा कर सकते है। पीआर के बारे में बात करते हुए राज कम्युनिकेशन पब्लिक रिलेशन कंपनी की सह संस्थापक निशा राज छाबड़ा कहती हैं कि, “पीआर क्षेत्र बहुत विशाल है। कोई भी कंपनी जब एक निश्चित संकट से गुजर रही होती है, तो उसके लिए विशेष रूप से पीआर का समर्थन बहुत आवश्यक हो जाता है। किसी भी कंपनी को सफलता हासिल करने में कई बार कई साल लग जाते हैं, लेकिन एक पल ही इन सालों की मेहनत और नाम को बर्बाद कर देता है। ऐसे समय में पीआर ही है जो किसी कंपनी को उसके नुकसान से बाहर निकालने में मदद करता है। इस अवसर पर शिशिर त्रिपाठी, आशीष कुमार, मनोज बडोनी, निशांत भारती, इंद्रा सिंह, महेश्वर सिंह, पुनीत कुमार आदि मौजूद थे।


Featured Post

एसजेवीएन ने अखिल भारतीय कवि सम्‍मेलन का किया सफल आयोजन

देहरादून, गढ़ संवेदना न्यूज नेटवर्क। आजादी का अम...