Saturday, 31 October 2020

सबसे पहले हेल्थ केयर वर्कर्स को दी जाएगी कोविड-19 की वैक्सीन, तैयार किया जा रहा डाटा बेस

देहरादून। सरकार के निर्देशानुसार प्रदेश में सरकारी और निजी क्षेत्र में कार्यरत सभी स्वास्थ्य सेवा से जुड़े हेल्थ वर्कर्स का डाटा बेस तैयार किया जाना है। डाटा आने के बाद प्रमाण पत्र भी उपलब्ध कराया जाएगा। जिसका उपयोग भविष्य में स्वास्थ्य कर्मियों को कोविड-19 की वैक्सीन के लिए प्रस्तावित किया जाएगा। वहीं, जिलाधिकारी आशीष श्रीवास्तव ने डाटा बेस तैयार करने के लिए कार्य योजना तत्काल बनाने के निर्देश दिए हैं।
जिला स्तर पर गठित समिति में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, मुख्य विकास अधिकारी, मुख्य चिकित्साधिकारी, जिला शिक्षा अधिकारी, जिला परियोजना अधिकारी बाल विकास विभाग, रेडक्रॉस, नगर निगम, सभी नगर पालिका, जिला पंचायत राज अधिकारी, जिला प्रतिरक्षण अधिकारी और गैर सरकारी संस्थाएं (जो टीका करण कार्य करती हैं) टास्कफोर्स का सदस्य नामित किया गया है। पुलिस क्षेत्राधिकारी को बीट कांस्टेबल के माध्यम से थाना क्षेत्र के सभी निजी एवं शासकीय अस्पतालों में कार्यरत कार्मिकों के संबंध में जानकारी जुटाने के निर्देश दिए गए हैं। साथ ही स्वास्थ्य संबंध कार्यों में योगदान देने वाले डॉक्टर, एएनएम, आशा वर्कर्स, आंगनबाड़ी वर्कर्स, जीएनएम, फार्मसिस्ट, लैब टैक्निशियन, वाहन चालक, लिपिक और सफाई कर्मियों, सुरक्षा कर्मिकों का डाटाबेस तत्काल तैयार करने के निर्देश सम्बंधित विभागीय अधिकारियों को दिए हैं। इसके अलावा जिले के निजी क्षेत्र के अस्पतालों जैसे सीएमआई, दून अस्पताल, हिमालयन हॉस्पिटल, मैक्स, सिनर्जी, कैलाश, फोर्टिज, वेलनेस, अरिहंत, महंत इंदिरेश हॉस्पिटल समेत सभी बड़े अस्पतालों के स्वास्थ्य कार्मिकों का डेटाबेस तत्काल अपलोड करने के निर्देश दिए गए हैं। वहीं, डीएम आशीष श्रीवास्तव ने बताया कि सरकारी अस्पताल, निजी अस्पताल, एलोपैथ, होम्योपैथ आयुर्वेद, यूनानी में इलाज की सेवा कर रहे हैं। डॉक्टरों और हेल्थ वर्करों का डाटा मांगा गया है। जिसका डाटा तैयार किया जा रहा है। जिसे तीन दिन के भीतर तैयार कर लिया जाएगा। कोविड-19 को लेकर जो भी वैक्सीन आएगी उसे सबसे पहले हेल्थ केयर को दिया जाएगा।


यात्रा पूरी कर मक्कू गांव में तपस्यारत हुईं मां भगवती नंदा



देहरादून। पर्यटक गांव के नाम से विख्यात सारी गांव से भगवती नंदा भावुक क्षणों के साथ विदा हो गईं। महिलाओं ने पौराणिक जागरों व घियाणियों ने पुष्प, अक्षत से सारी गांव से भगवती नंदा को विदा किया। भगवती नंदा के विदा होते समय धियाणियों की आंखें छलक उठीं। भगवती नंदा के मक्कू गांव पहुंचने पर भगवती नंदा जगत कल्याण के लिए तपस्यारत हो गयीं।
सारी गांव में पुजारी रामचंद्र भट्ट ने ब्रह्म बेला पर भगवती नंदा सहित तैंतीस करोड़ देवी-देवताओं का आह्वान कर आरती उतारी और भगवती नंदा को भोग अर्पित किया। ढोल नगाड़ों की मधुर धुनों पर भगवती नंदा की विदाई का क्षण बहुत ही भावुक रहा। नर्मदा देवी, रामेश्वरी देवी, कुब्जा देवी व शारदा देवी ने पैटिगे नंदा अब तू ससुराल, राजी खुशी रैक फिर बुलोला मैत, नंदा भवानी तेरो च पौदू पल्लाण, मैतियो पूजैली पठेली जैसे मार्मिक जागरों से भगवती नंदा की विदाई की। भगवती नंदा के विदा होते ही ग्रामीणों, धियाणियों सहित नर व नारियों का हुजूम उमड़ पड़ा।पंचायत चैक पहुंचने पर भगवती नंदा नर रूप में अवतरित हुईं और ग्रामीणों व धियाणियों को आशीष दिया। भगवती नंदा के नर रूप में अवतरित होते ही भगवती नंदा के जयकारों से सारी गांव गुंजायमान हो उठा। भगवती नंदा के विदा होते ही महिलाओं व धियाणियों की आंखें छलक उठीं। महिलाओं व धियाणियों ने गांव से दूर खेत खलिहानों तक भगवती नंदा को विदा किया तो भगवती नंदा भी दूर-दूर तक अपने मायके की राह निहारती रहीं। भगवती नंदा के मक्कू गांव पहुंचने पर भगवती नंदा जगत कल्याण के लिए तपस्यारत हो गयीं। गजपाल भट्ट ने बताया कि काण्डा, उषाडा, दैडा व सारी गांव भगवती नंदा के मायके माने जाते हैं। उन्होंने बताया कि प्रतिवर्ष भगवती नंदा शारदीय नवरात्रों में अष्टमी पर्व पर मक्कू गांव से मायके के लिए रवाना होती हैं। विभिन्न गावों का भ्रमण कर ग्रामीणों व धियाणियां को आशीष देती हैं। भगवती नंदा के पश्वा अंकित नेगी ने बताया कि भगवती नंदा मन इच्छा फल देती हैं। ग्रामीण दिलवर सिंह नेगी ने बताया कि भगवती नंदा के आगमन पर धियाणियां अधिक संख्या में शामिल होती हैं। भगवती नंदा व धियाणियों के आगमन से हर घर में रौनक बनी रहती है। भगवती नंदा के विदा होने पर प्रधान मनोरमा देवी, पूर्व क्षेपस जसवीर सिंह नेगी, अनीता देवी, भगत सिंह नेगी, बलवन्त सिंह नेगी, राजेश्वरी देवी, बिक्रम सिंह नेगी, धर्मेंद्र भट्ट, मंजू देवी, भीमराज भट्ट, रामचंद्र भट्ट, जमन सिंह नेगी, गब्बर सिंह नेगी, योगेन्द्र सिंह रावत, इन्द्र सिंह नेगी, बलवीर सिंह नेगी, दरवान सिंह नेगी, तारा भट्ट सहित सैकड़ों महिलाएं व धियाणियां मौजूद थीं।


हरदा बोले, भाजपा की पैदावार कथित स्टिंग मास्टर

-स्टिंग को लेकर उत्तराखण्ड में गर्माई राजनीति

देहरादून। सूबे में भ्रष्टाचार के आरोप-प्रत्यारोप को लेकर सियासत गरमाई हुई है। बीते 27 अक्टूबर को नैनीताल हाईकोर्ट ने सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच सीबीआई को सौंपी थी। हाईकोर्ट ने सीबीआई को सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के खिलाफ केस दर्ज कर करप्शन के आरोपों की जांच करने के आदेश दिए। लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने स्टे लगा दिया। इस पर सीएम त्रिवेंद्र ने स्टिंगबाज को लेकर हरीश रावत पर निशाना साधा था। वहीं, हरदा ने भी पलटवार कर जवाब दिया है। उन्होंने निशाना साधते हुए कहा कि उत्तराखंड में बीजेपी ही कथित स्टिंग मास्टर को लाई थी।
दरअसल, बीजेपी आरोप लगा रही है कि किसी के साथ मिलकर कांग्रेस, सरकार को गिराने की साजिश कर रही है। मामले में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने तंज कसते हुए स्टिंग को लेकर पूर्व सीएम हरीश रावत पर निशाना साधा था। सीएम त्रिवेंद्र ने कहा कि जब हरीश रावत का स्टिंग हुआ था, तब यह शख्स ब्लैकमेलर और स्टिंगबाज था। आज क्या हरीश रावत की उससे दोस्ती हो गई है। सीएम के इस बयान के बाद पूर्व सीएम हरीश रावत ने बीजेपी पर पलटवार किया है। पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस महासचिव हरीश रावत का कहना है कि बीजेपी कह रही है कि उस विशेषज्ञ, जिसके बारे में कहा जा रहा है कि कांग्रेस उससे मिलकर सरकार गिराने की साजिश रच रही है। उस विशेषज्ञ के संबंधों की तलाश करें तो उसके सारे संबंधी, रिश्तेदार और नातेदार बीजेपी के अंदर मौजूद मिलेंगे। इसके अलावा बीजेपी कथित स्टिंग मास्टर को उत्तराखंड लाई थी। उन्होंने कहा कि रमेश पोखरियाल के मुख्यमंत्रित्व काल में यही विशेषज्ञ हुआ करता था। इसी विशेषज्ञ ने हरीश रावत सरकार गिराने में भूमिका अदा की थी। उस समय बीजेपी का केंद्रीय और राज्य नेतृत्व इसी विशेषज्ञ की वंदना करते थे। त्रिवेंद्र सरकार के स्टिंग के पीछे भी यही विशेषज्ञ है।


आदमखोर जानवरों से लोगों को बचा रहा इंटरनेशनल शूटर

पिथौरागढ़। शूटिंग की दुनिया का जाना माना नाम सैयद अली बिन हादी अब आदमखोर जानवरों के लिए खौफ का पर्याय बन गए हैं। यही नहीं हादी को शूटिंग के साथ-साथ हंटिंग यानी शिकार करने की प्रवृत्ति भी विरासत में मिली है। मेरठ के जमींदार परिवार से ताल्लुक रखने वाले हादी के पिता और दादा भी इसी पेशे से जुड़े हैं। पिथौरागढ़ में एक आदमखोर गुलदार का खात्मा करने वाले 27 साल के सैयद बिन हादी शिकारी के साथ जाने-माने शूटर भी हैं। 2013 में हादी ने शूटिंग की दुनिया में वल्र्ड रिकॉर्ड भी बनाया था। अब तक हादी नेशनल और इंटरनेशनल शूटिंग प्रतियोगिताओं में 25 से अधिक मेडल जीत चुके हैं।
    शूटिंग से हंटिंग की तरफ रुख करने वाले सैयद हादी ने 2014 में यूपी के बिजनौर में भी 10 लोगों को निवाला बना चुके गुलदार को मौत के घाट उतारा था। इंटरनेशनल शूटर सैयद अली बिन हादी बताते हैं कि हंटिंग उनका खानदानी शौक है। उनके दादा और पिता भी ये शौक रखते थे। जमींदार परिवार से जुड़ा होने के कारण हंटिंग उन्हें विरासत में मिली है। अली के दादा सैयद इक्तेदार हुसैन भी हटिंग के लिए जाने-जाते थे। उन्होनें 1952 में एक मगरमच्छ को मार गिराया था। यही नहीं इनके पिता सैयद हादी भी नेशनल शूटर रहे हैं। अली के भाई इमाम मुस्तफा ने तो हंटिंग को ही अपना पेशा बनाया है। इमाम हर अभियान में अली के बैकअप के रूप में मोर्चे पर तैनात रहते हैं। सैयद अली बिन हादी को लाइसेंस टू किल मैनइटर हंटर भी मिला हुआ है। ये लाइसेंस भारत में गिने-चुने शिकारियों को दिया जाता है। हादी के कजन शिकारी इमाम मुस्तफा कहते हैं कि हादी ने शूटिंग में ज्यादा नाम कमाया है, जबकि उनका शौक हंटिंग का रहा है। वे हर अभियान में हादी के साथ मौजूद रहते हैं। शूटिंग के साथ हंटिंग का शौक रखने वाला हादी परिवार पर्यावरण प्रेमी भी है। हादी परिवार की मानें तो उन्हें वाइल्ड लाइफ से खासा लगाव है। ऐसे में वे तभी किसी जानवर का शिकार करते हैं, जब वो इंसानी जिंदगी के लिए खतरा साबित हो।


किसान सम्मान निधि योजनाः मृतकों व अपात्रों को बना दिया लाभार्थी, एसडीएम करेंगे जांच

हरिद्वार,। हरिद्वार के लक्सर क्षेत्र में पीएम किसान सम्मान निधि योजना के तहत मृतकों और अपात्रों को इस योजना का लाभ दिए जाने का मामला सामने आया है। जिसके बाद से कृषि विभाग और प्रशासन में हड़कंप मचा हुआ है। वहीं, जिलाधिकारी सी रविशंकर ने इस योजना के तहत किसान सम्मान निधि प्राप्त करने वाले किसानों का सत्यापन करने के आदेश दिए हैं और इसका जिम्मा एसडीएम पूरण सिंह राणा को सौंपा गया है।
दरअसल, कुछ दिनों पहले प्रशासन की ओर से पीएम किसान सम्मान निधि योजना के लिए लाभार्थियों का सत्यापन कराया गया था। इस दौरान लक्सर ब्लॉक के दरगाहपुर, निरंजनपुर और मोहम्मदपुर गांव के बुजुर्गों का सत्यापन किया गया था, जिसमें बड़े पैमाने पर खामियां सामने आईं। सत्यापन के दौरान दो मृतकों के नाम सम्मान निधि के तहत धनराशि जारी किए जाने की बात सामने आई।
उधर, बड़ी संख्या में अपात्रों को भी इस योजना का लाभ दिए जाने का खुलासा हुआ है। योजना के अमल में बड़ी अनियमितताएं सामने आने के बाद प्रशासनिक अधिकारियों का हाथ-पैर फूल गए। मामले का संज्ञान लेते हुए जिलाधिकारी सी रविशंकर ने पूरे तहसील क्षेत्र में इस योजना के लाभार्थियों का सत्यापन कराने के आदेश जारी कर दिए हैं और इसका जिम्मा एसडीएम पूरण सिंह राणा को सौंपा गया है। वहीं, एसडीएम पूरण सिंह राणा ने बताया कि कृषि विभाग ने डाटा एंट्री ऑपरेटरों के माध्यम से लाभार्थियों को चयनित किया था। वहीं से गड़बड़ी हो सकती है। फिलहाल वर्तमान में इस योजना का लाभ ले रहे सभी लाभार्थियों का सत्यापन दोबारा कराया जाएगा। इस मामले में जो भी दोषी होगा, उसके खिलाफ कठोर कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।


खाई में गिरी बोलेरो, डेढ़ साल की बच्ची की मौत

देहरादून। राज्य आपदा परिचालन केन्द्र से प्राप्त जानकारी के अनुसार चंपावत में पाटी से दस किलोमीटर दूर दिवालबैंड के पास एक कार बेकाबू होकर खाई में जा गिरी। कार में आशा कार्यकर्ता तीन गर्भवती महिलाओं को स्वास्थ्य परीक्षण के बाद चंपावत जिला अस्पताल से लौट रही थी। हादसे में डेढ़ साल की बच्ची की मौके पर मौत हो गई और गर्भवती महिलाओं समेत छह लोग हो गए। घायलों में से गर्भवती महिला समेत दो की हालत गंभीर होने पर उन्हें प्राथमिक इलाज के बाद हल्द्वानी रेफर किया गया है। जानकारी के अनुसार चंपावत से घर लौटते समय देर रात बोलेरो कार (यूके 03 टीए 0612) पाटी से दस किमी दूर दिवालबैंड के पास अनियंत्रित होकर करीब 50 मीटर नीचे खाई में गिर गई। कार में चालक सहित कुल सात लोग सवार थे। दुर्घटना में डेढ़ साल की बच्ची सिमरन पुत्री भवान राम की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि सिमरन की मां मनीषा, आशा कार्यकर्ता रेखा, यमुना देवी पत्नी देव सिंह, रेनु देवी पत्नी दया राम, विक्रम सिंह और चालक नीरज कुमार पुत्र छवि राम घायल हो गए। पाटी के थानेदार नारायण सिंह के नेतृत्व में पुलिस की टीम ने ग्रामीणों के सहयोग से घायलों को खाई से निकाला। सभी घायलों को 108 एंबुलेंस से पाटी अस्पताल लाया गया।


ऋषिकेश-देहरादून हाईवे पर आया हाथियों का झुंड, थमे वाहनों के पहिये



ऋषिकेश। हाथियों का झुंड ऋषिकेश-देहरादून स्टेट हाईवे पर निकला तो गाड़ियां जहां की तहां थम गईं। झुंड में कुल 9 हाथी थे। हाथी चंद्रभागा नदी पार करके चोर पानी के जंगल में गए थे। वहां से हाथी ऋषिकेश रेंज में आ गए। अचानक 9 हाथियों का झुंड सौ फुटी के पास स्टेट हाईवे पर आ गया।
हाथियों के झुंड को देखकर स्टेट हाईवे पर दौड़ रहे वाहनों पर तुरंत ब्रेक लग गया। गाड़ियां जहां थीं वहीं रुक गईं। काफी दर तक हाथियों के कारण वाहनों की आवाजाही रुकी रही। मौके पर बीट अधिकारी दीपक कैंतूरा और उनके सहायक राजबहादुर पहुंचे। उन्होंने सूझबूझ दिखाते हुए हाथियों के झुंड को सकुशल जंगल के भीतर की ओर खदेड़ा। सहायक वित्त अधिकारी राजबहादुर ने बताया कि हाथियों का दल जब सड़क पर आ जाता है तो यह मामले काफी गंभीर हो जाते हैं। यही कारण है कि हम लोग सौ फुटी के पास बनाए गए वॉच टावर से लगातार ऐसी गतिविधियों पर नजर बनाए रखते हैं।


नवंबर से शुरू होगा धनगढ़ी नाले पर पुल का निर्माण कार्य शुरु

देहरादून। मुसीबत का सबब बने धनगढ़ी नाले पर जल्द ही पुल बनेगा। आगामी 8 नवंबर से धनगढ़ी नाले पर बहुप्रतीक्षित पुल का निर्माण कार्य शुरू किया जाएगा। इसकी जानकारी राष्ट्रीय राजमार्ग मंत्रालय ने राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी को दी है। वहीं, पुल निर्माण की टेंडर प्रक्रिया संपन्न हो गई है। जिसके बाद विभाग ने कार्य शुरू करने की तिथि भी बता दी है।
राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी ने कहा कि धनगढ़ी नाला गढ़वाल और कुमाऊं के पौड़ी, चमोली, अल्मोड़ा और बागेश्वर को जोड़ता है। बरसात में यह नाला विकराल रूप ले लेता है। इतना ही नहीं नाले पर पुल न होने के कारण हर साल कई लोग वाहन समेत बहकर अपनी जान गंवा देते हैं। इस नाले पर बीते लंबे समय से पुल की मांग की जा रही थी। सांसद बलूनी ने कहा कि केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी के सामने जब इस विषय को रखा गया और इस मार्ग की उपयोगिता बताई तो उन्होंने बहुत संवेदनशीलता के साथ इसे अपनी प्राथमिकता में रखा। साथ ही कार्यालय से उन्हें सूचित किया गया कि उक्त पुल की टेंडर प्रक्रिया संपन्न हो चुकी है और आगामी 8 नवंबर से इस पुल का निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा। सांसद बलूनी ने गडकरी का आभार जताते हुए कहा कि उत्तराखंड में उनके नेतृत्व में ऑल वेदर रोड समेत राष्ट्रीय राजमार्गों पर बेहतर और समयबद्ध कार्य हो रहे हैं, जो कि भविष्य में राज्य के नागरिकों की सुविधा के साथ-साथ पर्यटन और विकास में बहुत सहायक सिद्ध होंगे। बीते साल भी इस नाले में बहने से एक ही परिवार के तीन लोगों ने अपनी जान गंवाई थी। इसी तरह इस नाले में कई गाड़ियां बह चुकी हैं। गाड़ियां बहने से कई लोगों को जान गंवानी पड़ी थी। इस नाले के ऊपर पुल बनने से स्थानीय लोगों को बहुत सुविधा होगी।


हरिद्वार में युवाओं ने ग्रहण की सपा की सदस्यता



हरिद्वार। जिले के जटवाड़ा पुल स्थित सपा कार्यालय पर आयोजित कार्यक्रम के दौरान दर्जनों युवकों ने सपा की सदस्यता ग्रहण की। युवाओं का लोहिया वाहिनी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष चंद्रशेखर यादव और सपा जिला अध्यक्ष साजिद अंसारी ने फूलमाला पहना कर स्वागत किया।
चंद्रशेखर यादव ने कहा कि कार्यकर्ता जनता के बीच जा कर सपा की नीतियों का प्रचार करें। साथ ही उन्होंने युवाओं से जाति-धर्म की राजनीति करने वाली पार्टियों से सावधान रहने की अपील है। उन्होंने कहा कि सपा समाज के सभी वर्गों को साथ लेकर चलने वाली पार्टी है। आने वाले पंचायत चुनाव में सपा जनपद की सभी सीटों पर मजबूती से चुनाव लड़ेगी।
वहीं, चंद्रशेखर यादव ने बसपा सुप्रीमो मायावती पर निशाना साधते हुए कहा कि भाजपा और बसपा की मिलीभगत का पूरी तरह खुलासा हो चुका है। बसपा प्रमुख मायावती हमेशा ही भाजपा का समर्थन करती आई हैं। उधर जिला अध्यक्ष साजिद अंसारी का कहना है कि सपा सभी वर्गों का समान रूप से विकास करने में विश्वास रखती है। जात-पात और धर्म के भेदभाव को दरकिनार कर पार्टी सभी वर्गों का विश्वास अर्जित कर रही है। उन्होंने कहा कि भाजपा की जनविरोधी नीतियों को समाज के समक्ष रखने का दायित्व प्रत्येक कार्यकर्ता को निभाना होगा। युवा वर्ग सपा की नीतियों से प्रभावित है, जिसके चलते एक दर्जन से अधिक युवाओं ने सपा की सदस्यता ग्रहण की है। युवाओं को पार्टी में उचित मान-सम्मान दिया जाएगा। इस मौके पर नदीम सलमानी को प्रवक्ता के तौर पर मनोनीत किया गया।


भाजपा प्रदेश प्रवक्ता मुन्ना सिंह चैहान ने किया उच्च न्यायालय का अपमानः गरिमा दसौनी

देहरादून। कांग्रेस पार्टी ने भारतीय जनता पार्टी के विकासनगर विधायक एवं प्रदेश प्रवक्ता मुन्ना ंिसह चैहान पर उच्च न्यायालय के अपमान का आरोप लगाया है। निवर्तमान प्रदेश प्रवक्ता गरिमा दसौनी ने मुन्ना चैहान के बयान पर अपनी आपत्ति दर्ज करते हुए कहा कि उच्च न्यायालय को मुन्ना सिंह चैहान के उस बयान का संज्ञान लेना चाहिए जिसमें उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री पर लग रहे भ्रष्टाचार के आरोप कांग्रेस पार्टी का अपराधिक षडयंत्र है।
गरिमा दसौनी ने मुन्ना सिंह चैहान से सवाल किया कि उनके इस बयान का यह मतलब निकाला जाय कि क्या उन्हें देश की न्यायिक प्रक्रिया पर विश्वास नहीं रहा और क्या उच्च न्यायालय कांग्रेस के इशारों पर अपना फैसला दे रहा है? उन्होंने मा0 उच्च न्यायालय से अनुरोध किया है कि चूंकि मुन्ना सिंह चैहान एक राष्ट्रीय पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता हैं ऐसे में उनके बयान का मा0 उच्च न्यायालय को स्वतः संज्ञान लेते हुए उनके खिलाफ अवमानना नोटिस भेजा जाना चाहिए। गरिमा दसौनी ने भाजपा पर यह भी आरोप लगाया कि उन्हें देश की संवैधानिक संस्थाओं पर विश्वास नहीं रह गया है। उन्होंने भाजपा प्रवक्ता मुन्ना ंिसह चैहान के बयान का मखौल उडाते हुए कहा कि जिस तरह से भाजपा के लोग प्रदेश के अन्दर मा0 सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के बाद जश्न का माहौल का दिखावा कर यह प्रचारित कर रहे हैं कि मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिह रावत भ्रष्टाचार के सभी आरोपों से बरी हो गये हैं तथा सर्वोच्च न्यायालय से उन्हें राहत मिली है वे सच्चाई से कोसों दूर हैं।
गरिमा दसौनी ने कहा कि दरसल सर्वोच्च न्यायालय ने उच्च न्यायालय नैनीताल द्वारा दिये फैसले पर आंशिक रूप से रोक लगाते हुए सीबीआई तथा पक्षकारों को अपना जवाब दाखिल करने के लिए दो दिन के स्थान पर चार हफ्ते के समय दिया है न कि मुख्यमंत्री पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों से बरी किया है। ऐसे में मुख्यमंत्री पर लगे भ्रष्टाचार के आरोप अपनी जगह जस के तस हैं। दसौनी ने मुन्ना सिंह चैहान पर पलटवार करते हुए कहा कि अब जब जीरो टाॅलिरेंस की कलई खुल चुकी है और यह सिद्ध हो चुका है कि सरकार भ्रष्टाचार में आकंठ डूबी हुई है तो बौखलाहट और खिसियाहट में भाजपा कांग्रेस पर झूठे आरोप मढना चाहती है। दसौनी ने कहा कि लक्सर में किसान सम्मान निधि में फर्जीवाडे से लेकर सिडकुल से गायब हुई फाइलों तक एन.एच.74 और श्रम विभाग में हुए घोटालों तक राज्य सरकार बेनकाब हो चुकी है। इसलिए यह अच्छा होगा कि भाजपा कांग्रेस पर आरोप मढने के बजाय अपने गिरेबान में झांके।


हादसे के शिकार बेटे ने भी तोड़ा दम, पिता की मौके पर ही हो गई थी मौत

डोईवाला। डोईवाला के नुन्नावाला में गत दिवस एक सड़क हादसा हो गया था। हादसे में आईटीबीपी के जवान की मौके पर ही मौत हो गई थी। उनका बेटा गंभीर रूप से घायल हो गया था। बेटे का इलाज हिमालयन हॉस्पिटल में चल रहा था, लेकिन बेटे ने भी दम तोड़ दिया है। इस घटना के बाद इलाके में शोक की लहर दौड़ गई है।
शुक्रवार को एक कार हरिद्वार से आ रही थी। तभी अचानक नुन्नावाला में सतनाम ढाबे के पास कार अनियंत्रित होकर सड़क पर खड़े लोगों के बीच आ गई। हादसे में आईटीबीपी के जवान धीरज शुक्ला की मौके पर ही मौत हो गई थी। उनके बेटे को गंभीर स्थिति में हिमालयन हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। 30 वर्षीय बेटे विपिन ने भी इलाज के दौरान दम तोड़ दिया है। इस घटना के बाद राठौरवाला में शोक की लहर दौड़ गई है। सभासद प्रदीप नेगी ने बताया कि हादसे में बाप-बेटे की मौत से पूरा क्षेत्र शोकाकुल है। इस घटना के बाद मातम छा गया है। क्योंकि, आइटीबीपी के जवान धीरज शुक्ला की अपनी कोई संतान नहीं थी और उन्होंने बचपन से ही विपिन को गोद लिया था।


विधायक ने किया वाल्मिीकि मंदिर का लोकार्पण किया



देहरादून। महर्षि वाल्मिीकि जन्मोत्सव के अवसर पर मसूरी विधायक गणेश जोशी ने देहरादून के वार्ड 11 विजय कालोनी में भगवान वाल्मिीकि मंदिर का लोकार्पण किया।
विधायक जोशी ने कहा कि जल्द ही मंदिर के निकट टिन शेड का निर्माण किया जाऐगा ताकि कालोनी में स्थानीय लोगों के छोटे-छोटे कार्य हो सकें। उन्होनें कहा कि क्षेत्र के विकास के लिए मैं सदैव तत्पर रहता हॅू ताकि जनता को किसी भी प्रकार से समस्या न हो। इस अवसर पर पार्षद सत्येन्द्र नाथ, प्रदीप रावत, भावना, किशोरी लाल, कुशाल गिल, ओम प्रकाश बावड़ी सहित कई अन्य उपस्थित रहे।


थानो के 10,000 पेड़ एयरपोर्ट के नाम पर ना काटने के केंद्र कि राज्य को दी गई नसीहत का मैड ने किया स्वागत



देहरादून। 10,000 पेड़ एवं थानो के जंगल की पूरी जैव विविधता का सर्वनाश करने को आतुर, उत्तराखंड सरकार को मिली केंद्र सरकार की नसीहत का मैड ने स्वागत किया है। गौरतलब है कि भारत सरकार के पर्यावरण एंव वन मंत्रालय के वन संरक्षण खंड द्वारा उत्तराखंड सरकार को एक चिट्ठी प्रेषित कर यह नसीहत दी गई है कि हवाई अड्डे के विस्तार के लिए, थानों के घने जंगल को काटने के बजाय अन्य विकल्प को देखा जाए।
मैड की ओर से एक बयान जारी कर यह कहा गया कि केंद्र सरकार की यह नसीहत उत्तराखंड राज्य का खुद का वन विभाग भी दे सकता था। लेकिन, मैड की वन विभाग के पूर्व विभागाध्यक्ष, जयराज से जब इसी मुद्दे पर भेंट हुई थी, तो उनकी ओर से तो यह कहा गया था के विकास के लिए पर्यावरण की कुर्बानी होती ही है। मैड ने यह भी कहा की केंद्र सरकार की यह नसीहत आदरणीय मुख्यमंत्री के कथन को भी गलत साबित करता है, जहां मुख्यमंत्री जी ने यह कहा था कि हवाई अड्डे का विस्तार राष्ट्रीय महत्व के लिए अनिवार्य है।
मैड ने कहा कि राष्ट्रीय की ही सरकार ने यहां पाया है कि 87 हेक्टेयर में से 47 हेक्टेयर तक का जो क्षेत्र है जो उत्तराखंड सरकार बंजर करने के लिए तत्पर है, उसमें घना जंगल है। राज्य और केंद्र के बीच इस विरोधाभास को उजागर करते हुए, मैड नें कहा की राज्य सरकार को आत्ममंथन करना चाहिए की इस तरीके से उनके द्वारा पर्यावरण का मूल्यांकन गलत तरीके से किया जा रहा है।
गौरतलब है कि केंद्र सरकार की यह नसीहत उस रिपोर्ट को भी झूठा साबित करती है, जिसके आधार पर इस हवाई अड्डे के विस्तार की योजना तैयार की गई थी, जिसमें यह कहा गया था कि ना तो वहां कोई ऐसा वन्य जीवन है जिसको भारत वन्य जीवन अधिनियम के तहत संरक्षण हासिल है और ना ही वहां कोई घना जंगल है। केंद्र सरकार ने स्पष्ट कहा है कि वहां हाथियों का भी आना जाना होता है, इसीलिए राज्य के सभी तंत्र के संरक्षण के प्रति विफल होने का लक्षण इस पूरे प्रकरण से देखने को मिलता है।
गौरतलब है कि मैड पर्यावरण संरक्षण पर लगा छात्रों का वहा संगठन हैं, जिसने थानों में हुए चिपको आंदोलन को आयोजित करने में अन्य संगठनों के साथ काम किया। संस्था की ओर से उत्तराखंड वन विभाग, उत्तराखंड जैव विविधता प्राधिकरण के साथ-साथ, भारत सरकार से भी वार्ता कर यही प्रयास किया गया कि इस भीषण वन संहार को रोका जाए।


जयंती पर सरदार बल्लभ भाई पटेल को याद किया



देहरादून। लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती के अवसर पर मसूरी विधायक गणेश जोशी ने उन्हें पुष्पांजलि अर्पित की। विधायक जोशी ने कहा कि राष्ट्रीय एकता दिवस के रुप में मनाया जाने वाला यह दिन देश की एकता, अखण्डता एवं सुरक्षा का प्रतीक है।
देहरादून के गुनियालगांव में आयोजित श्रद्धांजलि कार्यक्रम में मसूरी विधायक गणेश जोशी ने कहा कि 565 रियारतों का भारत में विलय करने का दृढ़ कार्य लौह पुरुष सरदार पटेल द्वारा ही किया गया था। उन्होनें कहा कि वह हमेशा से ही देश की सुरक्षा के साथ-साथ एकता एवं अखण्डता पर जोर दिया करते थे। इस अवसर पर जिला पंचायत उपाध्यक्ष दीपक पुण्डीर, पार्षद सुन्दर सिंह कोठाल, अनुराग सिंह, लक्ष्मण रावत, नीटू पुण्डीर, प्रेम सिंह पंवार आदि उपस्थित थे।


कांग्रसियों ने किया सरदार पटेल व इंदिरा गांधी को किया याद

देहरादून। उत्तराखण्ड प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के आह्वान पर स्व. इन्दिरा गांधी के शहादत दिवस एवं सरदार बल्लब भाई पटेल के जन्म दिवस को पूरे प्रदेश में ’किसान अधिकार दिवस’ के रूप में मनाया गया। इस कार्यक्रम के तहत सभी जिला मुख्यालयों में कार्यक्रमों का आयोजन किया गया है। इसी कार्यक्रम के तहत आज उत्तराखण्ड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष प्रीतम सिंह  के नेतृत्व में प्रातः 11 बजे से देहरादून के गांधी पार्क में किसान अधिकार दिवस मनाया गया। इससे पूर्व प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम ने इन्दिरा मार्केट में स्व. इन्दिरा गांधी की प्रतिमा तथा घण्टाघर स्थित सरदार पटेल की मूर्ति पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित किये।  
  प्रीतम के नेतृत्व में कांग्रेसजनों ने भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री स्व. इन्दिरा गांधी के शहादत दिवस एवं भारत रत्न स्व. सरदार बल्लभ भाई पटेल की जयंती के अवसर प्रदेश कांग्रेस कमेटी कार्यालय मे दोनों नेताओं के चित्रों पर मल्यापर्ण करते हुये उन्हें अपने श्रद्धा सुमन अर्पित किये तथा उनके द्वारा देश के लिये किये गये बलिदान को याद करते हुये सम्पूर्ण समाज को उनके उनके बाताये मार्ग पर चलने का अवाह्न किया। गांधी पार्क में आयोजित किसान अधिकार दिवस में उपस्थित कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष प्रीतम ने कहा कि आज हम राष्ट्र एवं विश्व की महान जननायिका तथा देश की एकता के लिए अपने प्राणों को न्यौछावर करने वाली त्याग और बलिदान की प्रतिमूर्ति, मात्र शक्ति स्व. इन्दिरा गांधी एवं भारत के लौह पुरूष सरदार बल्लभ भाई पटेल को श्रद्धांजलि देने के लिए एकत्र हुए हैं। जहां स्व. इन्दिरा ने अपनी प्रतिभा कौशल एवं विद्यता से देश को प्रगति के पथ पर लाने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी तथा गरीबी निवारण के साथ-साथ बैंकों का राष्ट्रीयकरण, बीस सूत्रीय कार्यक्रम जैसे विकासोन्मुखी कार्यक्रम शुरू करने के साथ ही सामाजिक समरसता एवं सद्भाव को मजबूत बनाने की दिशा में अनेकों उल्लेखनीय कार्य किये थे। वहीं सरदार बल्लभ भाई पटेल ने देश के विभिन्न प्रान्तों के एकीकरण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हुए मजबूत भारत की नींव रखने का काम किया था। स्व. इन्दिरा ने विश्व ख्याति प्राप्त करते हुए समूचे विश्व का ध्यान भारत की ओर आकर्षित किया और देश के दुश्मनों का सिर झुका कर भारत की सम्प्रभुता मानने को मजबूर किया। उन्होंने शिमला समझौता तरते हुए शांति की दिशा में एक और कदम उठाकर गुट निरपेक्ष आन्दोलन की अध्यक्ष निर्वाचित होकर विश्व में भारत के गौरव को बढ़ाया। कांग्रेस पार्टी ने सदैव साम्प्रदायिक सौहार्द एवं भाईचारे का वातावरण बनाने में सफलता प्राप्त की किन्तु आज कुछ विघटनकारी ताकते फिर से देश को गुलामी की ओर ले जाने का काम कर ही हैं उनका हमें डटकर मुकाबला करना है।
प्रीतम ने लोकसभा एवं राज्यसभा में पारित बिलों को किसान विरोधी बताते हुए कहा कि देश का किसान और खेत मजदूर सड़कों पर है और सत्ता के नशे में मदमस्त मोदी सरकार उनकी रोजी रोटी छीन खेत खलिहान को पूंजीपतियों के हवाले करने का षडयंत्र कर रही है। कृषि विरोधी तीन काले कानूनों ने समूची मोदी सरकार के ‘सबका साथ, सबका विकास’ के मुखौटे को उतार दिया है। असल में मोदी सरकार का मूलमंत्र है- किसानों को मात, पूंजीपतियों का साथ, खेत मजदूरों का शोषण, पूंजीपतियों का पोषण गरीबों का दमन, पूंजीपतियों को नमन। प्रीतम ने कहा कि आत्म निर्भर भारत अभियान की आढ में भारत की आत्मा को किस तरह मारा जा रहा है इसका ताजा उदाहरण है मोदी सरकार द्वारा लाये गये किसानों के तीन अध्यादेश, जिन्हें संसद के दोनों सदनों से किस तरह अलोकतांत्रिक तरीके से पास कराया गया, वो इतिहास के पन्नों में काले अध्याय की तरह लिखा जायेगा। जो तीन विधेयक सदन में परित किये गये हैं उनमें पहला कृषि उत्पादन व्यापार और वाणिज्य (संवर्द्धन और सुविधा विधेयक), दूसरा आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 में संसोधन विधेयक एवं तीसरा मूल्य आश्वासन पर किसान (संरक्षण एवं सषक्तीकरण) समझौता और कृशि सेवा विधेयक। ये तीनों ही विधेयक किसान की कमर तोडने के लिए काफी हैं।
कार्यक्रम में प्रदेश महामंत्री संगठन विजय सारस्वत, हीरा सिंह बिष्ट, मातवर सिंह कण्डारी, शूरवीर सिंह सजवाण, उपाध्यक्ष आर्येन्द्र शर्मा, सूर्यकान्त धस्माना, धीरेन्द्र प्रताप, प्रदेश महामंत्री राजेन्द्र शाह, नवीन जोशी, हरिकृष्ण भट्ट, प्रदीप तिवारी, ताहिर अली, अजय सिंह, पूर्व विधायक राजकुमार, महानगर अध्यक्ष लालचन्द शर्मा, जिलाध्यक्ष संजय किशोर, जिलाध्यक्ष गौरव चैधरी, मथुरादत्त जोशी, जयेन्द्र रमोला, सूरत सिंह नेगी, शिल्पी अरोड़ा, प्रदेश सचिव राजेश शर्मा, राजेश चमोली, प्रदीप जोशी, मंजुला तोमर, संदीप चमोली, शांति रावत, नवीन पयाल, कै. बलवीर सिहं रावत, शोभाराम, गिरीश पुनेड़ा, डाॅ. प्रतिमा सिंह, अकील अहमद, जगदीश धीमान, कमर खान ताबी, संदीप कुमार, कमलेश रमन, महेश जोशी, आनन्द बहुगुणा, अमित भण्डारी, मोहित नेगी, भूपेन्द्र नेगी, हरेन्द्र बेदी, सुलेमान अली, देवेन्द्र सती, मनीष नागपाल, आयुश सेमवाल, पुष्कर सारस्वत, विपुल नौटियाल, सूर्यप्रताप राणा, सत्येन्द्र शर्मा, सुनित राठौर, आदर्श कुमार, अमरजीत सिंह, लाखीराम बिजलवाण, रघुवीर सिह बिष्ट, बाला शर्मा, राॅबिन पंवार, विजय रतूड़ी मोन्टी, विशाल मौर्य, सुधीर राय, कार्तिक चांदना, सुधीर सुनेहरा, सोनू तिवारी, राजेन्द्र थापा, अनिता निराला, रामकुमार थपलियाल, नीरज नेगी, मंजू चैधरी, सावित्री थापा आदि कांग्रेसजन उपस्थित थे।


विकास की ताली दोनों हाथों से बजती हैः महाराज



-पटना की धरती पर केन्द्रीय मंत्री रविशंकर ने सतपाल महाराज का अभिनंदन किया

देहरादून/पटना। देश में विकास के नये-नये आयाम स्थापित किए जा रहे हैं। चार लेन सड़कें बनाई जा रही हैं। मेरा सपना था पहाड़ में रेल पहुंचाई जाए। उस सपने को भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साकार किया है। आज ऋषिकेश से कर्णप्रयाग के लिए रेल लाइन का कार्य बड़ी तेजी के साथ किया जा रहा है। उक्त बात आज यहां पटना स्थित दीघा विधानसभा क्षेत्र से एनडीए के प्रत्याशी डॉक्टर संजीव चैरसिया के समर्थन में आहूत विशाल चुनावी सभा को संबोधित करते हुए बतौर मुख्य अतिथि उत्तराखंड के पर्यटन संस्कृति एवं सिंचाई मंत्री  सतपाल महाराज ने अपने संबोधन में कही।
बिहार में विधानसभा चुनाव के लिए एनडीए का प्रचार अभियान चरम पर है। उसी कड़ी में आज पटना स्थित गार्डेनिया बाग स्टेडियम में दीघा विधानसभा क्षेत्र से एनडीए के प्रत्याशी डॉक्टर संजीव चैरसिया के समर्थन में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए उत्तराखंड के कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में आज देश विकास के नए नए आयाम हासिल कर रहा है। उन्होंने बिहार का जिक्र करते हुए कहा कि पहले जब हम बिहार में आते थे तो सड़कों में बड़े-बड़े गड्ढे दिखाई देते थे पता ही नहीं चलता था कि सड़क में गड्ढे हैं या गड्ढों में सड़क है। आज यहां सड़कों पर सरपट गाड़ियां दौड़ रही हैं। विकास प्रत्यक्ष दिखाई दे रहा है। महाराज ने दीघा विधानसभा क्षेत्र में आयोजित विशाल चुनावी सभा में उपस्थित अपार जनसमूह को संबोधित करते हुए कहा कि हर काम में समय लगता है। विकास के लिए भी समय लगता है। उन्होंने विपक्ष पर तंज कसते हुए कहा कि हम बड़ी आसानी से कह देते हैं कि हम इतनी नौकरियां देंगे, जबकि नौकरी के लिए पहले पद सृजित करनी पड़ते हैं, बजट लाना पड़ता है, जितनी लाख नौकरियां देंगे, उतने लाख का बजट भी चाहिए। अगर बजट नहीं है तो नौकरियां कहां से मिलेगीं। इसलिए बजट के लिए हमें केंद्र सरकार की तरफ देखना होगा। क्योंकि हम जब ताली बजाते हैं तो ताली दोनों हाथों से बजती है और विकास की ताली भी दोनों हाथों से ही बजेगी। जब आपके बिहार में एनडीए की सरकार होगी और केंद्र में एनडीए की सरकार है तो निश्चित रूप में विकास की ताली बजेगी। पटना स्थित दीघा विधानसभा क्षेत्र की इस चुनावी सभा को संबोधित करते हुए विशिष्ट अतिथि केंद्रीय मंत्री एवं पटना के सांसद रविशंकर प्रसाद ने कहा कि सतपाल महाराज पटना में आए हैं, मैं उनका पटना की धरती पर अभिनंदन और स्वागत करता हूं। रविशंकर ने चुनावी व्यस्तता के चलते सभा में आने में हुए विलम्ब के लिए क्षमा मांगते हुए कहा कि देश में सबसे पहले कोरोना होने वालों में सतपाल महाराज भी परेशान हुए। लेकिन जिस संयम का परिचय उन्होंने दिया, पूरे देश के लिए वह एक उदाहरण है।  रविशंकर ने कहा कि महाराज ने अपनी चिंता न करते हुए परिवार की चिंता की और देश के सामने संदेश दिया कि अंदर से हिम्मत हो, संकल्प हो तो कोरोना पर विजय प्राप्त हो सकती है। हमें विश्वास है कि महाराज की प्रेरणा और सभी के सद् प्रयासों से इस बार भी बिहार में एनडीए की ही सरकार बनेगी।


महर्षि वाल्मीकि के जीवन से शिक्षा लें युवाः रविन्द्र सिंह आनन्द


-प्रेम नगर एवं पटेलनगर स्थित वाल्मीकि मंदिर में पहुंच कर उनकी पूजा अर्चना

देहरादून। आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता रविंद्र सिंह आनन्द ने आज वाल्मीकि जयंति के अवसर पर कैंट विधानसभा के प्रेम नगर एवं पटेलनगर स्थित वाल्मीकि मंदिर में पहुंच कर उनकी पूजा अर्चना कर सभी को वाल्मीकि जयंति की शुभकामनाएं दीं।
रविन्द्र सिंह आनन्द ने कहा कि आज 31 अक्टूबर को वाल्मीकि जयंती मनाई जा रही है। हर वर्ष आश्विन माह की पूर्णिमा को महर्षि वाल्मीकि का जन्मदिन मनाया जाता है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, महर्षि वाल्मीकि ने ही रामायण की रचना की थी। भाषा के परम ज्ञानी महर्षि वाल्मीकि का जन्म धूमधाम से मनाया जा रहा है। माना जाता है कि वाल्मीकि पहले एक डाकू थे, उनका नाम रत्नाकर था लेकिन जीवन में एक ऐसा मोड़ आया जब नारद मुनि की बात सुनकर उनका हृदय परिवर्तन हो गया और उन्होंने अनैतिक कार्यों को छोड़ प्रभु का मार्ग चुना। इसके बाद वो महर्षि वाल्मीकि के नाम से विख्यात हुए। श्री आनन्द ने कहा कि व्यक्ति को जब अत्मज्ञान की प्राप्ती हो जाता है तो वह प्रभु भक्ति में लीन हो जाता है, ज्ञानी बन जाता है, महर्षि वाल्मीकि ने हमें यह शिक्षा जिस पर हम सभी को चलना हैै। उन्होंने कहा कि वे आज की नई पीढ़ि से भी यह आग्रह करते है िकवे ऐसे महर्षियों की कथाओं को पढ़ें और उनकी शिक्षाएं आपने जीवन में उतारें।


सरदार पटेल ने देश को एकता के सूत्र में पिरोने का काम कियाः अग्रवाल



देहरादून। हम सरदार पटेल का उनकी जयंती पर अभिवंदन करते हैं। देश सरदार पटेल की महत्वपूर्ण सेवा और उनके स्मरणीय योगदान को कभी नहीं भुला सकता है”। इन शब्दों के साथ उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद अग्रवाल ने भारत के लौह पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल को उनकी 145वीं जयंती पर श्रद्धासुमन अर्पित किए। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष द्वारा राष्ट्रीय एकता एवं अखंडता की शपथ भी दिलायी गई।
विधानसभा भवन देहरादून में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान आज उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष सहित विधानसभा के कार्मिकों द्वारा सरदार बल्लभ भाई पटेल एवं महर्षि बाल्मीकी  की जयंती पर उनके चित्र पर पुष्प चढ़ाकर श्रद्धासुमन अर्पित किए गए।
इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि देश को एकता के सूत्र में पिरोने वाले भारत रत्न, लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल के आदर्शों का अनुसरण करते हुए हमें देशहित के कार्य करना चाहिए। उन्घ्होंने कहा कि हम सभी के दिल में एक भारत श्रेष्ठ भारत के निर्माण की भावना होनी चाहिए। हमारे लिए देश पहले हो यह प्राथमिकता हमें तय करनी है। विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि युवा पीढ़ी को सरदार पटेल के आदर्शो से प्रेरणा लेकर देश के सर्वांगीण विकास के लिए अपना योगदान देना होगा।
इस अवसर पर विधानसभाध्यक्ष ने महर्षि बाल्मीकि की जयंती पर शुभकामनाएं देते हुए कहा कि उनकी महान रचना से हमें महा ग्रन्थ रामायण का सुख मिला. यह एक ऐसा ग्रन्थ हैं जिसने मर्यादा, सत्य, प्रेम, भातृत्व, मित्रत्व एवम सेवक के धर्म की परिभाषा सिहखाई। महर्षि वाल्मीकि को ‘आदि कवि’ के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि वह प्रथम कवि थे जिसने प्रथम श्लोक की खोज की।इस अवसर पर विधानसभा के प्रभारी सचिव मुकेश सिंघल, बृजेश बनकोटी, अंशुल चावला, अभिषेक पांडेय, बृजेश चैबे, अनु सचिव नरेंद्र रावत, उपसचिव चंद्र मोहन गोस्वामी, अनु सचिव हेम पंत, व्यवस्था अधिकारी दीपचंद, हेम गुरानी, प्रवीण जोशी सहित अन्य अधिकारी एवं कर्मचारी गण उपस्थित थे।


हरक-दमयंती के महा घोटालों की सीबीआई जांच कराए सरकारः मोर्चा

 

देहरादून। जन संघर्ष  मोर्चा अध्यक्ष एवं जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने कहा कि इन दो-तीन वर्षों के दौरान भवन निर्माण एवं कर्मकार कल्याण बोर्ड में अध्यक्ष हरक सिंह रावत एवं सचिव दमयंती रावत की जुगलबंदी ने सरकार को करोड़ों रुपए की चपत लगाने का काम किया है तथा इसके साथ साथ श्रमिकों को भी छलने का काम किया है।
नेगी ने कहा कि इनके कार्यकाल के दौरान 70-80 करोड रुपए से अधिक मूल्य की साइकिलें, सिलाई मशीन, सोलर लालटेन, टूलकिट्स, छाते आदि खरीदे गए, उक्त खरीदे गए। सामान की गुणवत्ता इतनी घटिया थी कि श्रमिकों ने उसको इस्तेमाल करने के बजाय मुफ्त का माल समझकर औने-पौने दामों में बाजार में नीलाम कर दिया। इसके साथ-साथ खरीद एवं वितरण में भी भारी धांधली की गई। करोड़ों रुपए का उक्त वर्णित सामान किस वाहन से आया, इसका कोई अता पता विभाग के पास नहीं है यानी सब हवा-हवाई है। नेगी ने कहा कि स्किल (प्रशिक्षण) करने के नाम पर करोड़ों रुपए की बंदरबांट की गई तथा इन्होंने अपनी  तथा अपनी खास कई एनजीओ को भी भारी भरकम लाभ पहुंचाया द्य विगत कई महीनों से इनके भ्रष्टाचार को लेकर मोर्चा मुखर था तथा अभी दो-तीन दिन पहले ही सरकार द्वारा बोर्ड के अध्यक्ष एवं सचिव को बाहर का रास्ता दिखाया गया, जोकि सराहनीय कदम है। नेगी ने कहा कि इनके द्वारा सहसपुर स्थित अपने दून मेडिकल एवं साइंस को हॉस्पिटल्स की सूची में इम्पैनल कर लाभ पहुंचाया गया। मोर्चा सरकार से मांग करता है कि इनके कार्यकाल में की गई खरीद- वितरण, एनजीओ को लाभ पहुंचाने एवं स्किल करने के नाम पर हुए महा घोटालों की सरकार सीबीआई जांच कराए।


जयंती पर सीएम ने सरदार पटेल की प्रतिमा पर किया माल्यार्पण



देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने लौह पुरूष सरदार बल्लभ भाई पटेल की जयंती पर घंटाघर देहरादून स्थित उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि सरदार पटेल ने स्वतंत्रता के लिए देश के संघर्ष में अग्रणी भूमिका निभाई एवं देश की आजादी के बाद प्रथम गृह मंत्री बने। उन्होंने देशी रियासतों के एकीकरण में अहम भूमिका निभाई। इस अवसर पर सांसद माला राज्यलक्ष्मी शाह, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत, मेयर सुनील उनियाल गामा, विधायक खजानदास उपस्थित थे।


सरकार ने बाहरी फर्जी डिग्रीधारियों के लिए खोले नौकरी के द्वार, उक्रांद करेगा हर स्तर पर विरोध

-उत्तराखंड के डीएलएड प्रशिक्षितों की नौकरियों पर बाहरी फर्जी डिग्री धारियों का डाका

देहरादून। उत्तराखंड में डीएलएड प्रशिक्षित बेरोजगार एक महीने से भी लंबे वक्त से शिक्षा निदेशालय पर नियुक्तियों की मांग को लेकर धरने पर बैठे हैं तथा सर्द रातों में खुले आसमान के नीचे रात गुजारने को मजबूर हैं। उत्तराखंड सरकार तथा उनके अधिकारियों की कारगुजारियों के कारण उनके नौकरी के अवसरों पर उत्तराखंड से बाहर के फर्जी डिग्री धारियों का डाका पड़ रहा है। उत्तराखंड क्रांति दल ने आज कुछ अहम दस्तावेजों तथा ऑडियो रिकॉर्डिंग के साथ इस बात का खुलासा किया कि उत्तर प्रदेश से फर्जी ढंग से प्राइवेट कॉलेज डीएलएड का प्रशिक्षण करवा रहे हैं तथा उत्तराखंड सरकार ने ऐसे फर्जी डिग्री धारियों के लिए दरवाजे खोल दिए हैं।
 यूकेडी कार्यालय में आयोजित पत्रकार वार्ता में यूकेडी नेता शिव प्रसाद सेमवाल व केंद्रीय प्रवक्ता सुनील ध्यानी ने कहा कि इन डिग्री धारियों के पास उत्तर प्रदेश तथा उत्तराखंड दोनों जगहों का स्थाई निवास प्रमाण पत्र है इसके साथ ही कुछ ऑडियो रिकॉर्डिंग में प्राइवेट डी एल एड कराने वाले कॉलेजों द्वारा यह साफ-साफ कहा जा रहा है किप्रशिक्षण लेने वालों को वहां पर नियमित रूप से आने की जरूरत नहीं है, सिर्फ फीस जमा कराना ही पर्याप्त है, उन्हें डिग्री दे दी जाएगी। जबकि नियमावली यह कहती है कि प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले व्यक्ति के पास सिर्फ प्रशिक्षण लेने वाले स्थान का ही स्थाई निवास प्रमाण पत्र हो सकता है। इसके अलावा पूरे एक साल के प्रशिक्षण में 12 अवकाश के अतिरिक्त और कोई भी अवकाश नहीं दिया जा सकता।
 इसके अलावा सरकारी डायट में डीएलएड प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले अभ्यर्थियों को 96 दिनों का दुर्गम क्षेत्रों में विद्यालयों में प्रशिक्षण हेतु भेजा जाता है, जबकि उत्तराखंड से बाहर के प्राइवेट डी एल एड कराने वाले कॉलेजों में जॉब ट्रेनिंग की अथवा इस तरह के प्रशिक्षण की कोई व्यवस्था नहीं है जो उत्तराखंड की स्थितियों को समझ सके। उत्तराखंड की डीएलएड प्रशिक्षण नियमावली के अनुसार क्.म्स.म्क सिर्फ जिला स्तर पर ही उत्तराखंड के स्थाई निवासियों को ही कराया जा सकता था लेकिन उत्तराखंड से बाहर कई प्राइवेट प्रशिक्षण संस्थान चलाने वाले एक व्यक्ति ने हाई कोर्ट में जाकर एक केस दायर किया कि दूसरे राज्यों से प्राइवेट कॉलेजों से डीएलएड प्रशिक्षण प्राप्त करने वालों को भी उत्तराखंड में योग्य माना जाए। हाई कोर्ट में सरकार के वकील ने अपनी तरफ से कोई भी अर्गुमेंट नहीं किया। हाईकोर्ट के आदेश में यह साफ लिखा है। आखिर क्या कारण है कि सरकार ने उत्तराखंड में क्.म्स.म्क करने वाले अभ्यर्थियों के हितों को ध्यान में रखकर उनका पक्ष हाईकोर्ट में नहीं रखा ? यह सीधे-सीधे भारतीय जनता पार्टी की उत्तराखंड विरोधी मानसिकता को दर्शाता है। उत्तराखंड क्रांति दल ने साफ-साफ चेतावनी दी है कि फर्जी दस्तावेजों के आधार पर यदि दूसरे राज्यों के अभ्यर्थी फर्जी दस्तावेजों के आधार पर डीएलएड का डिप्लोमा लेकर यहां आवेदन करते हैं तो फिर उत्तराखंड क्रांति दल इसका कड़ा विरोध करेगा। क्योंकि उत्तराखंड में सरकारी संस्थानों में डीएलएड करने वाले अभ्यर्थियों का हित उत्तराखंड क्रांति दल के लिए सर्वोपरि है।


सीएम ने पहाड़ी अनाजों से तैयार मिठाइयों ‘‘देवभोग स्वीट्स’’ का कियार उद्घाटन



देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने मुख्यमंत्री आवास में हिमालय देवभूमि संसाधन ट्रस्ट द्वारा पहाड़ी अनाजों से तैयार मिठाईयों ‘‘देवभोग स्वीट्स’’ का उद्घाटन किया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्रेरणा से एवं मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत के निर्देशों पर वोकल फॉर लोकल को बढ़ावा देने के लिए यह नई पहल शुरू की गई है।
     मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि प्रधानमंत्री जी के वोकल फॉर लोकल एवं आत्मनिर्भर भारत की दिशा में यह एक सराहनीय पहल है। देवभूमि प्रसाद की सफलता के बाद अब देवभोग स्वीट्स की प्रगति की कहानी शुरू हो रही है। उन्होंने कहा कि दीपावली का पर्व आने वाला है। पर्वों में उत्तराखण्ड के अनाजों पर आधारित स्वास्थ्यवर्धक मिठाईयों की डिमांड तेजी से बढ़ेगी। उन्होंने जनता से पर्वों पर स्थानीय उत्पादों का अधिक से अधिक उपयोग करने की अपील भी की। मुख्यमंत्री ने कहा कि देवभूमि स्वीट्स के लिए ऑनलाईन मार्केटिंग की सुविधा भी उपलब्ध कराई जाय।
     हिमालय देवभूमि संसाधन द्वारा उत्तराखण्ड के मन्दिरों के लिए स्थानीय अनाजों पर आधारित प्रसाद बनाया जा रहा है। अब इसको और अधिक विस्तारित करते हुए उत्तराखण्ड के 12 स्वास्थ्य वर्धक अनाजों से मिठाईयां बनाई जा रही है। इस कार्य में हिमालय देवभूमि संसाधन के संस्थापक गोविन्द सिंह मेहर एवं महासचिव बी.एस.रावत एवं अंशुल गुप्ता के साथ महिला स्वयं सहायता समूहों द्वारा ये मिठाईयां और प्रसाद बनाया जा रहा है। देवभोग प्रसाद की डिमांड काफी तेजी से बढ़ी है। उत्तराखण्ड के स्थानीय अनाजों से जो मिठाइयां एवं प्रसाद बनाया जा रहा है, यह अनाज भी स्थानीय स्तर पर लोगों से खरीदा जा रहा है। जिससे स्थानीय उत्पादों को बढ़ावा मिलने के साथ ही उच्च गुणवत्ता युक्त उत्पाद भी लोगों को मिल रहे हैं। इन मिठाइयों में जिन स्थानीय अनाजों का इस्तेमाल किया जा रहा है, उनमें मंडुआ, चैलाई, झंगोरा, कुट्टू का आटा, गहत, सोयाबीन, उड़द की दाल का प्रयोग किया जा रहा है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार रमेश भट्ट, आईटी सलाहकार रविन्द्र दत्त, विशेष सचिव पराग मधुकर धकाते उपस्थित थे।


सीएम ने पुलिसकर्मियों को दिलाई राष्ट्रीय एकता की शपथ



-पोखरी थाना सर्वश्रेष्ठ थाना चयनित, सीएम ने ट्रॉफी एवं एक लाख रु का चेक देकर सम्मानित किया

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द सिंह रावत ने पुलिस लाईन देहरादून में राष्ट्रीय एकता दिवस के अवसर पर आयोजित रैतिक परेड में प्रतिभाग किया। इस अवसर पर उन्होंने परेड का निरीक्षण किया व राष्ट्रीय एकता की शपथ दिलाई। मुख्यमंत्री ने पोखरी थाना को सर्वश्रेष्ठ थाना चयनित होने पर ट्रॉफी एवं एक लाख रूपये का चेक देकर सम्मानित किया। पुलिस के अधिकारियों को अग्निशमन के क्षेत्र में विशिष्ट पदक तथा सेवा पदक, उत्कृष्ट विवेचना एवं उत्कृष्ट अनावरण के पदकों से सम्मानित किया।
     मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि सरदार बल्लभ भाई पटेल ने देश की आजादी के लिए लंबा संघर्ष किया। आजादी के बाद उन्होंने मजबूत इच्छा शक्ति से देश की रियासतों को मुख्यधारा से जोड़ने का कार्य किया। किसी भी देश, राज्य एवं बल की मजबूती के लिए एकता होना सबसे जरूरी है। समाज की शक्ति एकता से ही बढ़ती है। सरदार वल्लभभाई पटेल जी ने समाज के हर वर्ग के समान विकास के लिए प्रयास किये। उन्होंने प्रशासनिक तंत्र और पुलिस को मजबूती देने का कार्य किया।  
     मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रयासों से सरदार वल्लभ भाई पटेल के ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ का सपना साकार हो रहा है। कोविड पर नियंत्रण के लिए प्रधानमंत्री के नेतृत्व में देश ने जो लड़ाई लड़ी, यह दुनिया के लिए एक मिसाल बनी। आज भारत काफी हद तक कोविड पर विजय पाने में सफल हुआ है। कोविड से बचाव के लिए समाज के हर वर्ग ने अपनी ओर से पूरा सहयोग दिया है। सेवा भाव को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाया। जब तक कोविड पूर्ण रूप से समाप्त नहीं होता है, तब तक हमें पूरी सतर्कता के साथ रहना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमें भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने की जरूरत है। माफिया तंत्रों जो अवैध रूप से प्रदेश के अन्दर घुसने का प्रयास करते हैं, चाहे नशा माफिया हो, खनन माफिया हो, वन माफिया हो इनके खिलाफ एक होकर हमें लड़ना है। राज्य सरकार माफिया तंत्र से मुक्ति के लिए संकल्पबद्ध है। सरदार बल्लभ भाई पटेल का जीवन हमें प्रेरणा और बल देगा। पुलिस महानिदेशक अनिल कुमार रतूड़ी ने कहा कि लोह पुरूष सरदार बल्लभ भाई पटेल की स्वतंत्रता संग्राम में अहम भूमिका रही और अनेक रियासतों का विलय कर उन्होंने देश को एकता के सूत्र में पिरोने का कार्य किया। सरदार पटेल की जन्म जयन्ती के उपलक्ष में उत्तराखण्ड पुलिस द्वारा 21 से 31 अक्टूबर तक अनेक कार्यक्रम आयोजित किये। इस अवसर पर सांसद माला राज्यलक्ष्मी शाह, विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचन्द अग्रवाल, विधायक हरबंस कपूर, गणेश जोशी, खजान दास, मुन्ना सिंह चैहान, मेयर सुनील उनियाल गामा, नरेश बंसल, अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी, सचिव गृह नितेश झा, पुलिस महानिदेशक अपराध एवं कानून अशोक कुमार, पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी एवं अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।


Friday, 30 October 2020

सरकार आन्दोलनकारियो की उपेक्षा बंद करें: धीरेन्द्र प्रताप


देहरादून। गांधी पार्क में राज्य आंदोलनकारियों के विशाल सत्याग्रह में पूर्व दर्जाधारी राज्यमन्त्री व राज्य आंदोलनकारी  संयुक्त समिति के केंद्रीय मुख्य संरक्षक धीरेन्द्र प्रताप ने संबोधित करते हुए त्रिवेन्द रावत की सरकार को चंद दिनांे की मेहमान सरकार बताया। उन्होंने कहा सरकार आन्दोलनकारियो की उपेक्षा बंद करें नहीं तो राज्य आन्दोलनकारी 9 नंवबर से मुख्यमन्त्री गद्दी छोड़ो अभियान छेडंेगे। उन्होंने मुख्यमंत्री को धृतराष्ट्र बताया और आंदोलनकारियों के चिन्हिकरण, आरक्षण, मुजफ्फरनगर कांड के दोषियों को सजा देने, पलायन, लोकायुक्त की नियुक्ति ,स्थाई राजधानी गैरसैण जैसे सवालों पर कुंभकरण की नींद सोने का आरोप लगाया।
  इस सत्याग्रह को जिसे धीरेंद्र प्रताप के अलावा आन्दोलनकारी सम्मान परिषद की पूर्व अध्यक्ष सुशीला बलूनी रविंद्र जुगरान, देहरादून शहर कांग्रेस के अध्यक्ष व पूर्व राज्य मंत्री लालचंद शर्मा, चिन्हित राज्य आंदोलनकारी संयुक्त समिति के केंद्रीय अध्यक्ष हरिकिशन भट्ट, उत्तराखंड राज्य आंदोलनकारी मंच के अध्यक्ष जगमोहन सिंह नेगी जिला अध्यक्ष प्रदीप कुकरेती सरक्षक ओमी उनियाल, सावित्री नेगी चिन्हित आंदोलनकारी समिति की महिला प्रकोष्ठ की अध्यक्ष सावित्री नेगी सरक्षक देवी प्रसाद व्यास, समिति के केंद्रीय उपाध्यक्ष रईश आलम नैनीताल जिला अध्यक्ष लीला वोरा प्रवक्ता महेश जोशी पूर्व राज्य मंत्री राजेंद्र शाह मनीष नागपाल सरिता नेगी संदीप चमोली वीरा भंडारी उत्तराखंड क्रांति दल के नेता शिव प्रसाद सेमवाल, वीरेंद्र सिंह बिष्ट अरुणा थपलियाल भूपेंद्र रावत भीमसेन रावत नरेंद्र डंगवाल ईश्वर रावत जबर सिंह पावेल शिव प्रसाद सेमवाल समेत अनेक नेताओं ने संबोधित किया। राज्य सरकार को चेतावनी दी यदि 9 नवंबर तक उसने राज्य आंदोलनकारियों की 8 सूत्री मांगों को लेकर कारवाई ना की तो राज्य आंदोलनकारी सड़कों पर उतर कर इस सरकार का कड़ा विरोध करेंगे। इस मौके पर राज्य के तमाम तेरह जिलों से आंदोलनकारी गांधी पार्क पहुंचे। जिसमें हरिद्वार से विजय भंडारी द्वाराहाट से वीरेंद्र बजेठा का खटीमा से भूपेंद्र भंडारी प्रदीप रावत नैनीताल के रईस आलम जिला चमोली से सुमित्रा भंडारी किच्छा से जानकी गोस्वामी उत्तरकाशी से शोभाराम नौडियाल, वीरेंद्र सिंह मसूरी से प्रदीप भंडारी पौड़ी से  भूमा रावत और अरुणा थपलियाल लक्सर से  अफजल खान  और धर्मपाल भारती, देहरादून से अंबुज नौटियाल, विपुल नौटियाल शोभाराम नवनीत कुकरेती समेत सैकड़ों लोगों ने सत्याग्रह में भाग लिया इस सत्याग्रह में पारित अक्सर समझ प्रस्ताव में पौड़ी में पिछले 2 सप्ताह से आंदोलनरत सत्याग्रह के समर्थन में प्रस्ताव पारित किया गया और कहा गया कि उन्हें जल्दी से जल्दी चिन्हिकृत किया जाना चाहिए ।इस मौके पर एक आठ सूत्री ज्ञापन भी सरकार को एक विचार पत्र के रूप में भेजा गया धीरेन्द्र प्रताप ने कहा कि आंदोलनकारियों की एक 3 सदस्य समिति जिसमें रवीन्द्र जुगरान, सुशीला बलूनी और धीरेंद्र प्रताप शामिल है जल्द ही आंदोलनकारियों का एक डॉक्यूमेंट तैयार करेंगे और इसका ऐलान एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में किया जाएगा।
---------------------------------------------------


तीर्थ पुरोहितों का धरना 40वें दिन भी जारी रहा


हरिद्वार। तीर्थ पुरोहितों के द्वारा स्कैप चैनल के शासनादेश को वापस लेने की माँग को लेकर चल रहा धरना चालीसवें दिन में प्रवेश कर गया है। उपवास पर आकाश पंचोली व अनिल कौशिक रहे। सौरभ सिखौला ने कहा मैं ह्रदय से भाजपा अध्यक्ष बंशीधर भगत का धन्यवाद करता हूँ के उन्होंने माँ गंगा जी में अपनी आस्था श्रद्धा को सबके सामने जाहिर किया और हमारा मनोबल बढ़ाया सही को सही कहना ही सही है माँ गंगा जी आप पर सदा कृपा बनाएँ रहें, हम पुरोहित हैं और पुरोहित जो इस पुर का हित करता है।
 वयं राष्ट्रे जागृयाम.. सत्यम शिवम सुंदरम यह पथ सनातन है। समस्त देवता और मनुष्य इसी मार्ग से पैदा हुए हैं तथा प्रगति की है। हे मनुष्यों आप अपने उत्पन्न होने की आधाररूपा अपनी माता को विनष्ट न करें, ऋग्वेद में कहा गया है। उन्होंने कहा कि सनातन का अर्थ है जो शाश्वत हो, सदा के लिए सत्य हो। जिन बातों का शाश्वत महत्व हो वही सनातन कही गई है। जैसे सत्य सनातन है। ईश्वर ही सत्य है, आत्मा ही सत्य है, मोक्ष ही सत्य है और इस सत्य के मार्ग को बताने वाला धर्म ही सनातन धर्म भी सत्य है। वह सत्य जो अनादि काल से चला आ रहा है और जिसका कभी भी अंत नहीं होगा वह ही सनातन या शाश्वत है। जिनका न प्रारंभ है और जिनका न अंत है उस सत्य को ही सनातन कहते हैं। यही सनातन धर्म का सत्य है इसी सनातन धर्म को सदियों से निभाने को माँ गंगा धरती पर हैं सरकारों का माँ गंगा का नाम परिवर्तन करना सनातन धर्म विरूद्ध है धर्म पर कुठाराघात करने से अपना ही नाश होता है। हमें माँ गंगा का सम्मान वापस चाहिए, ये हमारा गंगा पुत्र होने के नाते ये अधिकार है। धरना स्थल पर अनिल कौशिक,विमल कोशिश पटुवर, प्रदीप निगारे, आकाश पंचोली,पुरुषोत्तम पचभैय्या, उमाशंकर वशिष्ठ,अभिषेक वशिष्ठ, सौरभ सिखौला, सिद्धार्थ त्रिपाठी, आदित्य वशिष्ठ, मनीष शर्मा, निखिल शर्मा, भवेश सिखौला, राकेश विधयाकुल, सुनील चाकलान, मोहित गोस्वामी, अमित झा, सुशील चाकलान, राजीव झा, धीरज पचभैय्या, अविनाश शुक्ला,शिव कान्त सिखौला आदि पुरोहित मौजूद रहे।


लघु व्यापार एसोसिएशन की सदस्यता ग्रहण की



हरिद्वार।  फुटपाथ के रेडी पटरी के (स्ट्रीट वेंडर्स) लघु व्यापारियों के सामूहिक संगठन लघु व्यापार एसो. के प्रांतीय अध्यक्ष संजय चोपड़ा के नेतृत्व में रेलवे रोड स्थित कार्यालय पर हरिद्वार नगर निगम क्षेत्र के लघु व्यापारी संगठनों के प्रतिनिधियों की एक बैठक आहूत की गई। बैठक में युवा लघु व्यापारी नेता राजेंद्र पाल ने अपने साथियों सहित गंगा लघु व्यापार मंडल  फुटपाथ रेडी पटरी संघर्ष समिति, फुटकर फ्रूट सब्जी यूनियन सहित संगठनों का लघु व्यापार एसोसिएशन में विलय कर लघु  व्यापार एसोसिएशन की सदस्यता प्रांतीय अध्यक्ष संजय चोपड़ा द्वारा पटका पहनाकर ग्रहण कराई।
इस अवसर पर लघु व्यापार एसो. ने अपनी आस्था व्यक्त करते हुए युवा लघु व्यापारी नेता राजेंद्र पाल ने कहा पूरे उत्तराखंड में रेडी पटरी के लघु व्यापारियों का मात्र संगठन लघु व्यापार एसोसिएशन फुटपाथ के रेडी पटरी के स्ट्रीट वंडर्स लघु व्यापारियों की न्यायसंगत मंगो के लिए संघर्ष कर रहा है। पुनः रेडी पटरी के (स्ट्रीट वेंडर्स) लघु व्यापारियों की मजबूती के लिए संगठन को और विस्तारिक रूप से शक्ति प्रदान की जाएगी। उन्होंने यह भी कहा उत्तराखंड नगरीय फेरी  नीति नियमावली, राष्ट्रीय आजीविका मिशन को क्रियान्वित कराने के लिए लघु व्यापारियों को और जागरूक कर सभी को साथ लेकर संघर्ष जारी रहंगे।
इस अवसर पर लघु व्यापार एसो. के प्रांतीय अध्यक्ष संजय चोपड़ा ने नये सदस्यों का संगठन में स्वागत करते हुए कहा पूरे उत्तराखंड में रेडी पटरी के लघु व्यापारियों को सामूहिक संगठित कर, उनको उनके  संवैधानिक अधिकारों के बारे में जागरूक करना मेरा लक्ष्य है। उन्होंने यह भी कहा लघु व्यापारियों की समस्या व उनके उत्पीड़न के निदान के लिए प्रयास जारी रहेंगे। इस अवसर पर लघु व्यापार एसो. की सदस्यता ग्रहण बैठक में वीरेंद्र कुमार, रमेश कुमार, अजय सिंह, मनोज कुमार, राजकिशोर, बलवीर सिंह, सत्यपाल, बालकिशन, छोटेलाल, प्रमोद, सोनू रावत, ऋषिपाल शर्मा, अशोक शर्मा, बीट्टी भाई, श्यामजीत, सुमन गुप्ता, आशा देवी, पुष्पा दास, राजकुमार कश्यप, रवि शर्मा आदि शामिल रहे।


अखाड़ा परिषद प्रतिनिधिमण्डल ने रक्षामंत्री से भेंट कर सौंपा ज्ञापन



-प्रयागराज में पौराणिक,प्राचीन धर्मस्थलों को संरक्षित किये जाने की मांग
   
हरिद्वार। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के प्रतिनिधिमण्डल राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमहंत नरेन्द्र गिरि तथा राष्ट्रीय महामंत्री श्रीमहंत हरि गिरि महाराज के नेतृत्व में केन्द्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह से भेंट कर प्रयागराज में बाॅधा के उपर स्थित सभी प्राचीन व पौराणिक धर्मस्थलों को संरक्षित किए जाने की मांग की।
श्रीमहंत हरि गिरि महाराज ने रक्षामंत्री से अनुरोध किया कि संगम स्थित बांध पर कई सौ वर्ष पुराने मठ-मन्दिर है जो कि उचित रख-रखाव के अभाव में जीर्ण-शीर्ण होते जा रहे है। इसके अतिरिक्त सेना द्वारा मन्दिरों को हटाया जा रहा है। उन्होने कहा कि इस पर रोक लगाते हुए प्राचीन मन्दिरों को सरकार द्वारा संरक्षण दिया जाना चाहिए,ताकि हमारी विरासत कायम रहे। श्रीमहंत नरेन्द्र गिरि ने मांग की कि इन मन्दिरों को संरक्षित कर प्रयागराज कुम्भ मेला प्राधिकरण को सौंप दिया जाए तथा इनकी देख-रेख व व्यवस्था के लिए संतो की एक समिति बनायी जाए ताकि सनातन परम्परा के अनुरूप् पौराणिक तीर्थस्थलों की मर्यादा बनायी रखी जाये।  रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने संतो को आश्वासन दिया कि रक्षा मंत्रालय द्वारा इस सन्दर्भ में आवश्यक कार्यवाही की जाएगी तथा सेना द्वारा मन्दिरों को हटाए जाने की कार्यवाही की उच्च न्यायालय के आदेशों के परिपेक्ष्य में समीक्षा कर अगामी कार्यवाही की जायेगी। उन्होने कहा मन्दिरों के संरक्षण के लिए मुख्यमंत्री योग आदित्यनाथ महाराज से भी अनुरोध किया जायेगा। जूना अखाड़ा के राष्ट्रीय प्रवक्ता श्रीमहंत नारायण गिरि महाराज ने बताया कि प्रतिनिधिमण्डल ने रक्षामंत्री राजनाथ सिंह को इस सन्दर्भ में ज्ञापन भी दिया है। शीघ्र ही उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से भी अखाड़ा परिषद का प्रतिनिधिमण्डल मिलेगा तथा पौराणिक मन्दिरों को संरक्षित किये जाने की मांग करेगा। जूना अखाड़े के राष्ट्रीय सभापति श्रीमहंत प्रेमगिरि महाराज ने संत समाज की ओर से रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का अभिनन्दन किया तथा वैश्विक महामारी कोरोना से विश्व तथा राष्ट्र को मुक्ति दिलाए जाने की कामना के साथ आर्शीवाद दिया।


पालघर में संतांे की माॅबलिंिचंग पर आधारित फिल्म के पोस्टर का संत समाज ने किया अनावरण    


हरिद्वार। गत दिनों पालघर महाराष्ट्र में संतो की हत्या से पूरा देश तथा संत समाज उद्वेलित हो उठा था। इस विभत्स हत्याकाण्ड ने मानवीय संवदेना को झकझोर कर रख दिया था। पालघर की इस घटना व संतो की हत्या माॅब लिचिंग तथा गौहत्या जैसे संवेदनशील विषय पर प्रख्यात सिने अभिनेता पुनीत इस्सर तथा उनके पुत्र सिद्वान्त इस्सर एक फिल्म संहार-द-नरसंहार बनाने की घोषणा की है।
इस फिल्म का शीर्षक गीत तथा पोस्टर गत दिवस दिल्ली में रिलीज किया गया। इस विमोचन समारोह की विशेष बात यह रही कि इसमें संभवतः पहली बार साधु-संतो की उपस्थिति दर्ज की गयी। इस कार्यक्रम में जूना अखाड़े के आचार्य महामण्डलेश्वर अवधेशानंद महाराज,अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष श्रीमहंत नरेन्द्र गिरि,राष्ट्रीय महामंत्री श्रीमहंत हरिगिरि महाराज,श्रीमहंत परमानंद सरस्वती,जूना अखाड़े के राष्ट्रीय सभापति श्रीमहंत प्रेमगिरि,राष्ट्रीय प्रवक्ता श्रीमहंत नारायण गिरि,श्रीमहंत महेश गिरि महाराज पूर्व सांसद ने संयुक्त रूप से फिल्म के पोस्टर का अनावरण किया तथा शीर्षक गीत रिलीज किया।
फिल्म के लेखक तथा निर्देशक सिंद्वांत इस्सर ने बताया इस फिल्म के माध्यम से संतो की माॅबलिचिंग तथा गौहत्या जैसे संवदेनशील मुदद्ों के सत्य को उजागर करने का प्रयास किया गया है। श्रीमहंत नारायण गिरि ने कहा कि इस फिल्म से पालघर की नृशंस घटना से परदा हट जायेगा और सत्यता सामने आएगी। उन्होने कहा पूरे देश में माॅवलिचिंग की घटनाएं मानव संवदेनाओं को झकझोर रही है। इन घटनाओं के पीछे की सत्यता समाज के सामने आनी चाहिए। श्रीमहंत हरिगिरि महाराज ने फिल्म निर्माता पुनीत इस्सर,उनके पुत्र सिंद्वात इस्सर तथा पूरी टीम को शुभकामनाएं देते हुए कहा ऐसे संवेदनशील विषय पर फिल्म बनाना अत्यन्त साहस और दृढ निश्चय का परिचायक है। उन्होने फिल्म के सफल होने की कामना करते हुए कहा कि निश्चय ही यह फिल्म माॅव लिचिंग नरसंहार जैसी विभत्स घटनाओं की सत्यता समाज के सामने आएगी।


रंगदारी व मारपीट के मामले में पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष पति पोखरी समेत दो को जेल

पोखरी। लोक निर्माण विभाग के एक ठेकेदार से रंगदारी व मारपीट के मामले में पोखरी के पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष पति व एक अन्य को पुलिस ने रिमांड पर जेल भेज दिया है। आरोपी वर्तमान में टैक्सी यूनियन के अध्यक्ष भी है। दरअसल पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष पति पोखरी व वर्तमान में टैक्सी यूनियन पोखरी के अध्यक्ष विजय पाल सिंह रावत व संग्राम सिंह को रंगदारी वसूली को लेकर की गई मारपीट के आरोप में पुलिस ने दोनों लोगों को गिरफ्तार कर मजिस्ट्रेट की अदालत में पेश किया, मजिस्ट्रेट ने दोनों आरोपित लोगों को रिमाण्ड पर पुरस्वाड़ी जेल भेज दिया।
सब इंस्पेक्टर डाॅ. वैभव गुप्ता ने बताया कि बिजनौर निवासी साहुबदीन लोक निर्माण विभाग पोखरी का ठेकेदार पोखरी क्षेत्र में पेटिंग का काम कर रहा है। जिन्होनें थाना पोखरी में शिकायत की है कि विजयपाल सिंह रावत पुत्र फकीर सिंह ग्राम गुनियाला व संग्राम सिंह पुत्र वीर सिंह ग्राम थालाबैड ने उनसे रंगदारी की मोटी रकम मांग रहे थे, ठेकेदार उनकी मांग पूरी नहीं कर पाया तो 28 अक्तूबर को देर शायं दोनों लोगों ने ठेकेदार से मारपीट की। ठेकेदार ने मारपीट की रिपोर्ट थाने में दर्ज की। तहरीर के आधार पर एसआई डाॅ. वैभव गुप्ता ने दोनो लोगों को गिरफ्तार कर सीजीएम कोर्ट पोखरी में पेश किया, मजिस्ट्रेट ने दोनों आरोपियों के विरुद्ध कई धाराओं में मुकदमा पंजीकृत कर रिमाण्ड पर पुरस्वाड़ी जेल भेज दिया है। बताया जा रहा है कि मजिस्ट्रेट ने पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष पति विजयपाल सिंह रावत की हिस्ट्री भी मांगी है। उधर पोखरी पुलिस पूरे मामले की तफ्तीश में जुट गई है।


उत्तराखंड में बदलेगा मौसम का मिजाज, कई जिलों में बारिश और बर्फबारी का अलर्ट

देहरादून। उत्तराखंड में मौसम का मिजाज बदलने लगा है। सुबह-शाम हल्की ठंड महसूस की जा रही है हालांकि, दिन के समय चटख धूप गर्मी का भी अहसास करा रही है। मौसम विभाग के अनुसार, 31 अक्तूबर से मौसम में बदलाव हो सकता है।
मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार उत्तराखंड में अगले तीन दिन उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग, बागेश्वर, चमोली और पिथौरागढ़ में हल्की बारिश या बर्फबारी हो सकती है इसके साथ ही मैदानी इलाकों में कोहरे का असर भी बढ़ेगा। जबकि प्रदेश के अन्य जिलों में मौसम शुष्क रहेगा।


पुलिस ने 48 घंटे में कर दिया लैपटॉप चोरी का खुलासा, 2 गिरफ्तार

रुड़की। दो दिन पहले एक डिस्ट्रीब्यूटर के यहां रुड़की माल सप्लाई करने आये एक मिनी ट्रक से कन्डक्टर को चकमा देकर 42 लैपटॉप चोरी कर लिए गए थे। घटना में मिनी ट्रक के ड्राइवर सहित 4 अन्य लोग भी शामिल थे। सभी चोरों का दिल्ली के ओखला में भी पुराना आपराधिक इतिहास रहा था। फिलहाल एसओजी और पुलिस की संयुक्त टीम ने 2 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। 3 आरोपी अभी भी फरार हैं। पुलिस का दावा की जल्द ही बाकी आरोपी भी गिरफ्तार कर लिए जाएंगे। एसएसपी हरिद्वार ने कोतवाली सिविल लाइन में इसका खुलासा किया।


अनियंत्रित ट्रैक्टर पेट्रोल पंप में घुसा, लाखों का नुकसान

काशीपुर। सुल्तानपुर पट्टी के ग्राम पिपलिया के पास एक अनियंत्रित ट्रैक्टर एक पेट्रोल पंप में जा घुसा। ट्रैक्टर की टक्कर से पेट्रोल और डीजल की मशीनें क्षतिग्रस्त हो गईं। गनीमत रही कि किसी भी प्रकार की कोई जनहानि नहीं हुई।
सुल्तानपुर पट्टी के पास पिपलिया गांव में पूरन प्रसाद एंड कंपनी के नाम से इंडियन ऑयल का पेट्रोल पंप है। तेज गति से आ रहा ट्रैक्टर पेट्रोल पंप में जा घुसा जिससे पंप में लगी पेट्रोल और डीजल की मशीनें क्षतिग्रस्त हो गईं। गनीमत रही कि इंडियन ऑयल पेट्रोल पंप पर काम कर रहे कर्मचारियों को कोई नुकसान नहीं हुआ। पेट्रोल पंप पर कार्यरत प्रत्यक्षदर्शी कर्मचारियों के मुताबिक पेट्रोल पंप पर अचानक तेजी से आ रहे ट्रैक्टर को देखकर वह घबरा गए। देखते ही देखते ट्रैक्टर पेट्रोल और डीजल की मशीनों के फाउंडेशन पर चढ़ गया।


मंदिर की चारदीवारी निर्माण के दौरान विवाद, चले लाठी-डंडे



लक्सर। कोतवाली क्षेत्र के बाडी टिप गांव में मंदिर की चारदीवारी बनाने को लेकर दो समुदायों के बीच विवाद हो गया। इस दौरान दोनों पक्षों के बीच जमकर लाठी-डंडे चले। घटना में आधा दर्जन लोग घायल हो गए। स्थानीय लोगों ने घटना की सूचना पुलिस को दी। सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने घायलों को नजदीकी चिकित्सालय में भर्ती करवाया, जहां डॉक्टरों की टीम द्वारा घायलों का इलाज किया जा रहा है। हालांकि मौके पर स्थानीय प्रशासन ने पुलिस फोर्स तैनात कर दी है। लक्सर कोतवाली के बाडी टिप गांव में एक काली मंदिर स्थित है। इस मंदिर की चारदीवारी का निर्माण कराया जा रहा था। मंदिर की चारदीवारी निर्माण के दौरान विशेष समुदाय के कुछ युवक आए और चारदीवारी निर्माण पर आपत्ति जताने लगे। इसी बीच विवाद बढ़ता गया। विवाद इतना बढ़ गया कि दोनों पक्षों में जमकर पथराव हुआ व लाठी-डंडे चले। घटना में करीब आधा दर्जन लोग घायल हो गए। घटना के बाद स्थानीय प्रशासन ने घटनास्थल पर भारी पुलिस बल तैनात कर दी है।
वही, घायलों को पुलिस द्वारा इलाज के लिए जिला अस्पताल भिजवाया गया है। वहीं, पुलिस ने घटना में शामिल कुछ शरारती तत्वों को हिरासत में भी ले लिया है। बजरंग दल के सह संयोजक ने बताया के बॉडी टिप गांव में काली मंदिर की चारदीवारी का काम चल रहा था। गांव के ही कुछ दबंगों ने मंदिर निर्माण का कार्य कर रहे लोगों पर हमला कर दिया। हमले में घायल लोगों को जिला चिकित्सालय हरिद्वार भेजा गया है। उन्होंने बताया कि जब तक मंदिर का निर्माण कार्य पूरा नहीं होता बजरंग दल यहीं पर मौजूद रहेगा। हरिद्वार ग्रामीण सीट के विधायक स्वामी यदिस्वरानंद ने बताया कि मंदिर के जीर्णोद्धार का काम चल रहा था। जिसको क्षेत्र के एक हिस्ट्रीशीटर व खनन माफिया ने कुछ गुंडों ने साथ मिलकर रुकवा दिया और यहां काम कर रहे लोगों के साथ मारपीट की। स्वामी यदिस्वरानंद ने इन गुंडों के खिलाफ पुलिस से उचित कार्रवाई करने को कहा है। एसपी राजन सिंह ने बताया कि गांव के एक पुराने मंदिर की चारदीवारी बनाने का काम चल रहा था। तभी कुछ लोगों ने अनावश्यक रूप से काम में बाधा पहुंचायी। इस दौरान कुछ लोगों ने मारपीट की है। सूचना मिलते ही पुलिस टीम मौके पर पहुंची। शांति व्यवस्था बनाए जाने के बाद मंदिर निर्माण का कार्य चल रहा है। उन्होंने कहा कि घटना में शामिल लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।


गोदा गांव को पर्यटन हब बनाने की कवायद शुरू, पीएम ने की थी सराहना



देहरादून। खिर्सू के पास गोदा गांव को होम स्टे हब बनाने के लिए जिला प्रशासन ने कवायद शुरू कर दी है। गोदा गांव के सुरेश चंद्र ने पीएम नरेंद्र मोदी से सीधा संवाद किया था। इस दौरान पीएम मोदी ने गांव की प्राकृतिक सुंदरता को भी सराहा था। कार्यक्रम में मौजूद रहे उच्च शिक्षा मंत्री को गांव में पर्यटन संभावनाओं को देखते हुए पर्यटन हब विकसित करने के निर्देश दिए थे। निर्देशों के तरह जिला प्रशासन की एक टीम ने पैटर्न की संभावनाओं को तलाशने के लिए गांव का भ्रमण किया। जहां हिमालय का सुंदर दृश्य और प्राकृतिक नजारे देखे गए।
उन्होंने कहा कि गांव पर्यटन के लिए काफी सुंदर है। पैटर्न स्थल खिरसू से नजदीक होने के चलते यहां पर पर ट्रकों की आवाजाही भी बढ़ सकती है। जिससे गांव के लोगों को घर पर ही अच्छा रोजगार मिल सकता है। जिसके लिए अब जिला प्रशासन की ओर से इन्हें होमस्टे बनाने के लिए सहायता भी की जाएगी। बीते कुछ दिन पूर्व स्वामित्व योजना कार्ड वितरण कार्यक्रम के दौरान खिर्सू के गोदा गांव के सुरेश चंद्र ने पीएम नरेंद्र मोदी से सीधा संवाद किया था। संवाद के दौरान सुरेश ने गांव के बारे में पीएम को बताया था। पीएम ने गोदा गांव की प्राकृतिक सुंदरता की सराहना करते हुए गांव को पर्यटन के लिए बेहतर संभावनाओं से भरा बताया था। साथ ही कार्यक्रम में मौजूद उच्च शिक्षा राज्य मंत्री डॉ. धन सिंह रावत को निर्देशित किया था कि क्षेत्र में पर्यटन की अपार संभावनाएं हैं। यहां होम स्टे के क्षेत्र में कार्य कर पूरा विवरण वेबसाइट में अपलोड किया जाए। एडीएम पौड़ी डॉ. एसके बर्नवाल ने बताया कि उनकी एक टीम गोदा गांव पहुंची। जहां उन्होंने ग्रामीणों से होमस्टे और पर्यटन की संभावनाओं पर बातचीत करते हुए पांच ग्रामीणों ने होमस्टे योजना के तहत अपने घरों को विकसित किए जाने के लिए हामी भरी। उन्होंने कहा कि गोदा, नौगांव, चोपड़ा, खंडखिल और नयानगढ़ गांवों को क्लस्टर में शामिल किया गया है। पर्यटन विभाग को क्षेत्र के प्राकृतिक और धार्मिक स्थलों का विवरण तैयार कर वेबसाइट में अपलोड करने के भी निर्देश दिए गए हैं, ताकि क्षेत्र को पर्यटन हब के रूप में विकसित किया जा सके।


पर्यावरण डिटर्जेंट प्रदूषक का पता लगाने को पहला विशिष्ट जीवाणु बायोसेंसर विकसित किया

रुड़की। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) रुड़की के शोधकर्ताओं की एक पांच सदस्यीय टीम ने सामान्य पर्यावरण प्रदूषक-सोडियम डोडेसिल सल्फेट सोडियम लॉरिल सल्फेट (एसडीएस) की उपस्थिति का पता लगाने के लिए दुनिया का पहला एवं विश्वसनीय बैक्टीरिया बायोसेंसर विकसित किया है। एसडीएस का उपयोग मुख्य रूप से साबुन, टूथपेस्ट, क्रीम, शैंपू, घरों में कपड़े धोने वाले डिटर्जेंट, कृषि कार्यों, प्रयोगशालाओं और उद्योगों में किया जाता है। बाद में विभिन्न जलाशयों तथा जल-श्रोतों में इसके प्रवाह से जलीय जीवों, पर्यावरणीय सूक्ष्मजीवों और संबंधित जीवों पर हानिकारक प्रभाव पड़ता है। साथ ही इससे पीने के पानी की गुणवत्ता खराब होती है। इस शोध का उद्देश्य सोडियम डोडेसिल सल्फेट ध् सोडियम लॉरिल सल्फेट (एसडीएस) की पहचान के लिए एक उपयुक्त बायोसेंसर विकसित करना था।
 अभी तक एसडीएस की स्पष्ट उपस्थिति का पता लगाने के लिए कोई विशिष्ट बायोसेंसर विकसित नहीं हुआ था। आईआईटी रुड़की की टीम ने स्यूडोमोनस एरुगिनोसा पीएओ1 स्ट्रेन को एक फ्रेमवर्क के रूप में उपयोग करते हुए एक होल-सेल बायोसेंसर विकसित किया है। इस सिस्टम में एक विशिष्ट रेगुलेटर के साथ एक फ्लोरोसेंट प्रोटीन शामिल है, जिसका उत्पादन केवल तब होता है जब नमूने में एसडीएस मौजूद हो। सिस्टम जलीय नमूनों में एसडीएस के 0.1 पीपीएम की उपस्थिति का भी पता लगाने में सक्षम है। यह बायोसेंसर विशिष्ट रूप से एसडीएस के लिए है और इसमें पर्यावरण में मौजूद अन्य डिटर्जेंट, धातुओं और अकार्बनिक आयनों का हस्तक्षेप न्यूनतम है। पारंपरिक तरीकों के विपरीत, यह नजदीकी रूप से जुड़े डिटर्जेंट- एसडीएस और एसडीबीएस (सोडियम डोडिसाइल बेंजीन सल्फोनेट) के बीच आसानी से अंतर कर सकता है। “स्यूडोमोनॉड्स में सिंथेटिक जीवविज्ञान अनुप्रयोगों के लिए एक ऑप्टीमल डेस्टिनेशन फ्रेमवर्क के रूप में उपयोग किये जाने की अंतर्निहित क्षमता है। स्यूडोमोनास की चयनित प्रजातियों को विभिन्न रसायनों का पता लगाने के लिए इंजीनियर किया जा सकता है, क्योंकि उनमें विपरीत पर्यावरणीय परिस्थितियों में भी जीवित रहने क्षमता होती है। इस शोध का मुख्य आकर्षण एसडीएस के प्रत्यक्ष, विशिष्ट और स्पष्ट पहचान के लिए दुनिया के पहले होल-सेल बैक्टीरिया बायोसेंसर का विकास है, जिसमें पहचान नमूने की तैयारी, विषैले रसायन, परिष्कृत पॉलिमर और सेंसर विकास के चरण को शामिल किए बिना किया जाता है,” सॉरिक डे, आईआईटी रुड़की में एमएससी के अंतिम वर्ष के छात्र, ने कहा।
अगर एसडीएस का समुचित उपचार नहीं किया जाता है, तो यह समुद्री जैव विविधता को नुकसान पहुंचा सकता है और भूमि तथा जल-निकायों के प्रदूषण का कारण बन सकता है। इस बायोसेंसर की मुख्य विशेषता पर्यावरण में एसडीएस की न्यूनतम मात्रा में उपस्थिति को लेकर भी संवेदनशील होना और एसडीएस तथा एसडीबीएस के बीच अंतर करने की सक्षम होना है।


देहरादून में 78 लोगोें की रिपोर्ट कोरोना पाॅजीटिव निकली

देहरादून। जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव ने कोविड-19 संक्रमण से बचाव के दृष्टिगत जनमानस से सतर्कता बरतने तथा संक्रमण से बचाव हेतु अपनाये जाने वाले उपायों यथा सामाजिक दूरी का पालन एवं अनिवार्यतः मास्क का उपयोग करने की अपील की है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 से घबराने की आवश्यकता नही है, किन्तु संक्रमण से बचाव हेतु जागरूक रहते हुए इसके बचाव के लिए अपनाए जाने वाले उपायों को अपने जीवन में आत्मसात करने की आवश्यकता है।
उन्होनंे जनमानस से बाजारों, मण्डियों, सार्वजनिक स्थानों एवं विभिन्न आयोजनों, वैवाहिक समारोह में मास्क का उपयोग एवं सामाजिक दूरी के नियम का पालन करते हुए कोविड-19 संक्रमण के प्रसार की रोकथाम हेतु योगदान देने की अपील की। उन्होंने कहा कोविड-19 संक्रमण की जब तक कोई दवा नही आ जाती तब तक संक्रमण से सावधान रहते हुए मुख्यमंत्री के आह्वान ‘‘ जब-तक दवाई नहीं, तब-तक ढिलाई नहीं’’ के सन्देश के प्रति जागरूक रहकर अपना व्यवहार बदलकर कोरोना से लड़ना है और इस वैश्विक महामारी को हराना है। जिलाधिकारी डाॅं0 आशीष कुमार श्रीवास्तव ने बताया है कि जनपद में कोरोना वायरस संक्रमण के दृष्टिगत प्राप्त हुई रिपोर्ट में 78 व्यक्तियों की रिपोर्ट पाॅजिटिव प्राप्त होने के फलस्वरूप जनपद में आतिथि तक कोरोना से संक्रमित व्यक्तियों की संख्या 17154 हो गयी है, जिनमें कुल 15645 व्यक्ति उपचार के उपरान्त स्वस्थ हो गये हैं। वर्तमान में जनपद में  767 व्यक्ति उपचाररत हैं। इसके अतिरिक्त जनपद में आज जांच हेतु कुल 1564 सैम्पल भेजे गये। कोविड-19 संक्रमण के दृष्टिगत बचाव एवं रोकथाम हेतु जनपद अन्तर्गत विभिन्न चिकित्सालयों में वर्तमान में 201 आईसीयू बैड रिक्त हैं। जनपद में सार्वजनिक स्थानों पर मास्क का उपयोग न करने पर 153 व्यक्तियों के चालान किये गये।


सीएम ने जयंती की पूर्व संध्या पर सरदार पटेल को याद किया

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने देश के प्रथम उप प्रधानमंत्री व गृह मंत्री लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयन्ती पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की है। पूर्व संध्या पर जारी अपने संदेश में मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि आधुनिक भारत के निर्माता सरदार पटेल ने राष्ट्र की एकता व अखण्डता को अक्षुण्ण बनाये रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। हम आज जो विस्तृत, एकीकृत व सुनहरा भारत देख रहे हैं, उसमें सरदार पटेल की कूटनीति व दूरदर्शिता का महत्वपूर्ण योगदान है। हमें उनके जीवन से प्रेरणा लेकर आगे बढ़ना होगा। युवा पीढ़ी को सरदार पटेल के आदर्शो से प्रेरणा लेकर देश के सर्वांगीण विकास के लिए अपना योगदान देना होगा।


सहकारी बैंक को डुबोने में लगे नेताओं और अफसरों के खिलाफ मुखर हुआ उक्रांद



-कार्रवाई न होने पर आंदोलन की चेतावनी 

देहरादून। उत्तराखंड क्रांति दल ने उत्तराखंड के सहकारी बैंकों को डुबोने में लगे हुए नेताओं और अफसरों के खिलाफ हुंकार भरी है। उत्तराखंड क्रांति दल ने सहकारी बैंकों द्वारा विवादास्पद जमीनों को लोन देने तथा नियुक्तियों में रिश्वत लेने के साथ ही ऋण वितरण करने के लिए मोटी रकम लिए जाने पर नेताओं और अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही करने की मांग की है।
उत्तराखंड क्रांति दल ने कहा कि लंबे समय से भ्रष्ट अधिकारियों के खिलाफ जांचें फाइलों में ही दब कर रह गई है तथा अधिकारी कर्मचारी या तो रिटायर हो गए हैं अथवा रिटायर होने की कगार पर हैं।
यहां आयोजित पत्रकार वार्ता में यूकेडी के केंद्रीय प्रवक्ता सुनील ध्यानी व शिव प्रसाद सेमवाल ने कहा कि जिला सहकारी बैंक देहरादून पर बंजारावाला में एक सहकारी संघ द्वारा खरीदी गई विवादास्पद जमीन को लोन देने की तैयारी का मामला उठाते हुए कहा कि 5-6 करोड़ रुपए की इस जमीन का न तो लेआउट पास है और ना ही इस भूमि पर जाने का कोई रास्ता है, इसके बावजूद जिला सहकारी बैंक देहरादून पर इस भूमि के लिए लोन देने का दबाव डाला जा रहा है। इसके कारण  लोन फंस रहा है। इसके अलावा उत्तराखंड क्रांति दल ने सेटिंग गेटिंग तथा पहुंच के आधार पर बिना भौतिक सत्यापन के ऋण वितरण पर सवाल उठाते हुए कहा कि मोटा कमीशन लेकर अधिकारी कर्मचारी चहेतों को बिना सत्यापन के लोन दे रहे हैं, जिसके कारण अकेले देहरादून में ही 5-6 करोड़ रुपए का लोन एनपीए हो गया है तथा इसकी वसूली संभव नहीं है।
अधिकारी-कर्मचारी फर्जी दस्तावेजों के आधार पर लोन दे रहे हैं। किंतु ऐसे अधिकारी कर्मचारियों पर कोई कार्यवाही नहीं हो रही है।
फर्जी ऋण वितरण के बाद यह अधिकारी कर्मचारी अपना ट्रांसफर दूसरी शाखाओं में करा लेते हैं जिसके कारण मामला फिर वहीं दब जाता है। उत्तराखंड क्रांति दल ने जिला सहकारी बैंकों में होने वाली नियुक्तियों में भारी लेन-देन की बात कही है। उत्तराखंड क्रांति दल ने कहा कि सहकारी बैंकों में तैनात अधिकारी और बोर्ड के विभिन्न नेता अपने चहेतों को बैक डोर से नियुक्तियां दे रहे हैं तथा भारी भरकम रकम लेकर संविदा पर नौकरियां दे रहे हैं। इसके साथ ही 1 साल बाद उनको निकाल बाहर किया जा रहा है। तथा नई भर्तियों के नाम पर फिर से मोटी रकम का लेनदेन हो रहा है। उत्तराखंड क्रांति दल ने तत्काल इस पर रोक लगाने की मांग की है तथा जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही करने के लिए कहा है। ऐसा न करने पर उत्तराखंड क्रांति दल ने चेतावनी दी है कि सहकारी बैंकों के अधिकारियों और नेताओं के खिलाफ उत्तराखंड क्रांति दल सड़कों पर उतरेगा।


कल्याण समिति ने वाल्मीकि जयंती पर निकाली रैली



देहरादून। उत्तराखंड बाल्मीकि समाज कल्याण समिति द्वारा भगवान महा ऋषि बाल्मीकि की जयंती से पूर्व डीएल रोड चैक से करणपुर बाल्मीकि मंदिर तक रैली निकालकर शिक्षा को अपनाने नशे को दूर भगाने का संदेश दिया। रैली को मसूरी विधायक गणेश जोशी जी द्वारा झंडी दिखाकर रवाना किया गया इस अवसर पर बड़ी संख्या में महिलाओं ने अपने हाथों में शक्तियां पकड़ी हुई थी जिसमें बड़े सुंदर सुंदर संदेश लिखें थे बेटियों को पढ़ाना है झांसी की रानी बनाना है नशे को दूर भगाना है। परिवार को बचाना है गुरुदेव महर्षि बाल्मीकि जीने की श्री रामायण की रचना जिस पर चल रही है देश की संरचना क्यों हो मजबूर नशे से रहो दूर शिक्षा को अपनाओ नशे को दूर भगाओ आदि बहुत सुंदर सुंदर संदेश लिखे हुए थे ढोल के साथ नारेबाजी करते हुए लोग करणपुर बाल्मीकि मंदिर में पहुंचे समिति की प्रदेश अध्यक्ष डॉक्टर बबीता सहोत्रा राजपुर विधायक श्री खजान दास जी पार्षद योगी ने महा ऋषि वाल्मीकि जी की मूर्ति पर माला पहनाकर आशीर्वाद लिया इस अवसर पर बोलते हुए कहां की इस करो ना कालमें बाल्मीकि समाज के लोगों ने अपनी परंपरा निभाई है देहरादून शहर में बाल्मीकि जयंती पर बड़ी-बड़ी शोभायात्रा निकलती थी परंत ुआपके द्वारा शिक्षा को अपनाने नशे नशे से दूर रहने का जो संदेश दिया गया है बहुत ही सराहनीय कदम है इस अवसर पर बोलते हुए प्रदेश अध्यक्ष डॉ बबीता सहोत्रा ने कहा कि आज टेक्नोलॉजी का समय है और शिक्षा के बिना टेक्नोलॉजी को हम नहीं अपना सकते परंतु बड़े दुख की बात है कि हमारे समाज में आज भी कई कुरीतियां हैं नशा हो गया दहेज प्रथा हो गई हमें इन्हें दूर करना है अपने बच्चों को शिक्षित करना है जब हम शिक्षित होंगे तभी हमारा विकास होगा नशे से हमारे परिवार टूट रहे हैं स्वास्थ्य की भी हानि होती है नशे से भी हमें दूर रहना है आज के दिन हमें महा ऋषि वाल्मीकि की शपथ लेनी है कि हम अपने बच्चों को शिक्षित करेंगे और नशे से दूर रहेंगे इस अवसर पर पार्षद योगी योगेश महामंत्री राजीव गोदियाल सचिव जॉनी जतिन गोदियाल राकेश अड्डा अजय सतपाल रेशमा सोनिया कुसुम कांता देवी मीनू चड्ढा यशोदा देवी सरोज देवी तारा देवी राजीव आकाश आदि लोग उपस्थित थे।


स्पीकर अग्रवाल ने 145 जरूरतमंद लोगों को राशन किट वितरित की



ऋषिकेश। उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद अग्रवाल ने आज गुमानीवाला क्षेत्र के अंतर्गत लौह पुरुष सरदार बल्लभ भाई पटेल की 145वीं जयंती के अवसर पर 145 जरूरतमंद लोगों को राशन किट वितरित की। इस अवसर पर श्री अग्रवाल ने कहा कि कोरोना महामारी का खतरा अभी तक टला नहीं है, इसलिए जरूरी है कि इससे बचने के सभी नियमों के अनुसार ही कार्य करें। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने भी नारा दिया है कि जब तक दवाई नहीं तब तक कोरोना से बचाव में ढिलाई नहीं बरतनी है।
इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने लोगों से मास्क पहनने, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने समेत तमाम एहतियात बरतने का अनुरोध किया है। श्री अग्रवाल ने कहा कि अगले हफ्ते से  धनतेरस, दीवाली, लक्ष्मी पूजा समेत कई त्योहार शुरू हो रहे हैं। त्योहारों के मौसम में कोरोना का खतरा निश्चित रूप से अधिक है ऐसे में उन्होंने लोगों से उचित दूरी बनाए रखने और साफ-सफाई का विशेष ख्याल रखने को कहा। विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि अगर हम सब अपने इन त्योहारों पर मेक इन इंडिया वस्तुओं पर जोर दे सकें तो निश्चित रूप से अपने प्रधानमंत्री के आत्म निर्भर भारत के सपने को आगे बढ़ाने का काम करेंगे.ष् उन्होंने लोगों से कहा कि कोशिश करें पाश्चात्य परंपराओं से हटकर भारतीय परंपरा का अनुसरण करें। इस अवसर पर बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान की प्रदेश संयोजक हनी पाठक, नगर निगम पार्षद वीरेंद्र रमोला,विपिन पंत, प्रमोद सेमवाल, वीरेंद्र नेगी, कैप्टन चंद्र मोहन सेमवाल, राम सिंह बिष्ट, परशुराम गौड, विनोद सेमवाल, अवतार सैनी,  मोर सिंह रावत, गोपाल बिजलवान, राजेंद्र भट्ट, रुपा रमोला, भारती डंगवाल, पुष्पा रावत, मुन्नी देवी सहित अन्य लोग उपस्थित थे।


भारत माता के अनमोल रत्न थे सरदार पटेल

देहरादून। उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद अग्रवाल ने देश के प्रथम उप प्रधानमंत्री और प्रथम गृहमंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती पर प्रदेश वासियों  को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं दी हैं।
विधानसभा अध्यक्ष ने सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयन्ती की पूर्व संध्या पर यहां जारी शुभकामना संदेश में कहा कि अपनी दृढ़ संकल्प शक्ति की वजह से सरदार पटेल देश-विदेश में ’लौह पुरूष’ के नाम से लोकप्रिय हुए। वह भारत माता के अनमोल रत्न थे। उनकी संकल्प शक्ति ने ही उन्हें लौह पुरूष बनाया। उन्हांेने कहा कि स्वतंत्रता के बाद साढ़े पांच सौ से ज्यादा देशी रियासतों को भारत संघ में शामिल करने में सरदार वल्लभ भाई पटेल ने अपनी ऐतिहासिक भूमिका निभाई।राष्ट्रीय एकता के लिए उनके इस महत्वपूर्ण योगदान को हमेशा याद रखा जाएगा।


वाल्मीकि जयंती पर शुभकामनाएं दी

देहरादून। उत्तराखण्ड विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद अग्रवाल ने प्रदेशवासियों को वाल्मीकि जयंती पर शुभकामनाएं दी है। वाल्मीकि जयंती की पूर्व संध्या पर जारी अपने संदेश में उन्होंने कहा कि महर्षि वाल्मीकि द्वारा दी गई त्याग, समरसता, सद्भाव तथा मानवता जैसे नैतिक मूल्यों की शिक्षा आज पहले से कहीं अधिक प्रासंगिक है।
विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि हमें समाज के कमजोर वर्ग की सेवा व सहायता के लिए सदैव तत्पर रहना चाहिए।रामायण जैसे महान कालजयी ग्रंथ की रचना कर उन्होंने विश्व को मर्यादा पुरुषोत्तम राम के चरित्र से परिचित कराया। श्री अग्रवाल ने कहा कि हम सभी को महर्षि वाल्मीकि के महान दृष्टिकोण और उनके द्वारा दी गई शिक्षा को अपने व्यवहार में अपनाने का संकल्प लेना होगा, यही उनके प्रति सच्ची श्रद्धा व सम्मान की अभिव्यक्ति होगी।


सुप्रीम कोर्ट से राहत मिलते ही आक्रामक हुए सीएम त्रिवेंद्र

-स्टिंग प्रकरण पर हरदा को घेरा, कहा हरीश रावत बताएं स्टिंग मामले की सच्चाईः मुख्यमंत्री

देहरादून। सीबीआई जांच मामले में सुप्रीम कोर्ट से राहत मिलने के बाद सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अपनी चुप्पी तोड़ी है। हाईकोर्ट के आदेशों पर स्टे मिलने के बाद अब मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भी फ्रंट फुट पर आकर खेलना शुरू कर दिया है। उन्होंने आक्रामक रुख अपनाते हुए विपक्षी नेता और पूर्व सीएम हरीश रावत पर हमला बोला है।
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि उनके 3 साल के कार्यकाल में कई षड़यंत्र उनके खिलाफ किए गए हैं। कई माफियाओं और भ्रष्टाचारियों ने मिलकर सरकार पर हमला करने का प्रयास किया, लेकिन सरकार पहले दिन से जिस नीति पर चल रही है 5 साल तक उसी नीति पर बनी रहेगी। त्रिवेंद्र सिंह रावत ने हरीश रावत पर हमला बोलते हुए कहा कि आज हरीश रावत इस मामले में खूब बयानबाजी कर रहे हैं, लेकिन हरीश रावत बताएं कि उनके स्टिंग मामले की क्या सच्चाई है। अब हरीश रावत को इस बात का खुलासा करना चाहिए कि उनकी इस शख्स से क्या साठगांठ हुई है ? नहीं तो जनता इसका खुलासा करेगी।
मार्च 2016 में विधानसभा में वित्त विधेयक पर वोटिंग के बाद 9 कांग्रेस विधायकों ने बगावत कर दी थी। जिसके बाद एक निजी न्यूज चैनल ने विधायकों की कथित खरीद फरोख्त का स्टिंग जारी किया गया था। स्टिंग के आधार पर तत्कालीन राज्यपाल कृष्णकांत पॉल ने केंद्र सरकार को स्टिंग मामले की सीबीआई जांच की संस्तुति कर भेज दी थी। केंद्र ने संविधान के अनुच्छेद 356 का उपयोग करते हुए रावत सरकार को बर्खास्त कर दिया था। बाद में हाईकोर्ट और फिर सुप्रीम कोर्ट से हरीश रावत की सरकार बहाल हो गई थी। उसके बाद कैबिनेट बैठक में स्टिंग प्रकरण की जांच सीबीआई से हटाकर एसआईटी से कराने का निर्णय लिया गया था। तत्कालीन बागी विधायक और वर्तमान में कैबिनेट मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत ने कैबिनेट के इस निर्णय को हाईकोर्ट में याचिका दायर कर चुनौती दी थी।


दमयंती रावत को लेकर हरक सिंह की मुख्यमंत्री को चुनौती

-बोले खुद सीएम भी नहीं हटा सकते, दमयंती सचिव है और बनी रहेंगी

देहरादून। उत्तराखंड में कर्मकार कल्याण बोर्ड को लेकर शुरू हुआ सियासी संग्राम थमने का नाम नहीं ले रहा है। 20 अक्टूबर को पहले बोर्ड के अध्यक्ष पद से श्रम मंत्री हरक सिंह रावत को हटाया गया और फिर 28 अक्टूबर को सचिव और मंत्री हरक सिंह रावत की करीबी दमयंती रावत को भी हटा दिया गया। इससे माहौल और गरमा गया है। हरक सिंह रावत इस मामले पर 20 अक्टूबर से चुप्पी साधे हुए थे और कह रहे थे कि मुख्यमंत्री से बात करने के बाद ही कुछ कहेंगे। मुख्यमंत्री से उनकी बात 29 अक्टूबर को हो तो गई लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। इसके बाद शुक्रवार, 30 अक्टूबर को चुप्पी तोड़ते हुए हरक सिंह रावत ने दमयंती रावत को हटाए जाने को चुनौती दे डाली। हरक सिंह ने कहा कि भले ही बोर्ड से अध्यक्ष के रूप में मुझे  हटा दिया गया है लेकिन मनोनीत सदस्य तो अब भी चार साल तक काम कर सकते हैं। मनोनीत सदस्यों की जगह अभी किसी को नहीं रखा गया है। लिहाजा बोर्ड के छह मनोनीत सदस्य अपनी जगह बने रहेंगे और उनका वोट महत्वपूर्ण होगा। श्रम मंत्री ने कहा कि उन्होंने पूरे मुख्यमंत्री को भी यह बात दस्तावेजों के साथ बता दी है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री स्वयं भी चाहें तो किसी सचिव को नहीं हटा सकते। मुख्यमंत्री अनुमोदन करेंगे लेकिन आदेश तो कार्मिक विभाग ही जारी करेगा। उन्होंने कहा कि ऐसे ही कोई दायित्वधारी अपनी मर्जी से आदेश करने लगे तो व्यवस्था का प्रश्न खड़ा हो जाएगा। कैबिनेट मंत्री ने कहा कि दमयंती रावत बोर्ड की सचिव थीं और बनी रहेंगी। हरक सिंह रावत ने कहा कि शमशेर सिंह सत्याल द्वारा किया गया आदेश अज्ञानतावश दिया गया आदेश है। दमयंती रावत अब भी बोर्ड की सचिव बनी रहेंगी। श्रम मंत्री ने कहा कि कानून में, संविधान में ऐसा कोई प्रावधान नहीं है कि कोई दायित्वधारी अपने हस्ताक्षर से जिम्मेदार पद पर बैठे किसी अफसर को हटा दे। उन्होंने कहा कि इसकी पावर बोर्ड को है लेकिन, बोर्ड की अभी मीटिंग तक नहीं हुई है।


व्यापारी एवं जनता के हितार्थ नहीं बल्कि अपने स्वार्थ के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंची त्रिवेंद्र सरकारः आनंद



देहरादून। देहरादून आज आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता रविन्द्र सिंह आनन्द ने एक बयान जारी कर कहा की जब उच्च न्यायालय के आदेश दुकानों एवं मंदिरों को ध्वस्त करने के लिए आए तो राज्य सरकार द्वारा ने असमर्थता दिखाते हुए व्यापारियों के हित में कोई निर्णय ना लिया और ना ही सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा ही खटखटाया वहीं दूसरी ओर जब उच्च न्यायालय द्वारा त्रिवेंद्र सिंह रावत पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों के लिए सीबीआई जांच के आदेश हुए  और त्रिवेंद्र सिंह रावत की कुर्सी हिलने लगी तब वह तत्काल सुप्रीम कोर्ट की शरण में पहुंच गए इससे यह साबित होता है की त्रिवेंद्र सरकार  व्यापारी हितों के लिए संवेदनशील नहीं है जब व्यापारियों की दुकानों को तोड़ा जा रहा था उस वक्त राज्य सरकार ने उच्च न्यायालय का हवाला देते हुए यह कहा कि यह हाईकोर्ट का आदेश है परंतु राज्य सरकार द्वारा अपना पक्ष सुप्रीम कोर्ट में नहीं रखा गया लेकिन जब अपनी सरकार पर आन पड़ी तब वे दौड़े-दौड़े सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए इससे यह साफ होता है कि यह सरकार स्वार्थी है और पद की लालसा रखने वाली है इसको व्यापारियों एवं आम जनता की परेशानी मुसीबतों से कुछ लेना देना नहीं है श्री आनंद ने आगे कहा कि जिस प्रकार से त्रिवेंद्र सरकार के आए दिन घोटालों खुल रहे हैं उससे यह साबित होता है कि जीरो टॉलरेंस की बात करने वाली सरकार सिर्फ जुमलेबाजी ही कर सकती है।


झारखंड दलाली प्रकरण में विरोधियों को ब्रह्मास्त्र थमा बैठे त्रिवेंद्रः मोर्चा



-सीबीआई चाबुक से सहमे त्रिवेंद्र क्यों पहुंचे सर्वोच्च न्यायालय की शरण में
               
विकासनगर। जन संघर्ष मोर्चा अध्यक्ष एवं जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने कहा कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत एवं कुटुंब के झारखंड दलाली प्रकरण, जिसमेें एक भाजपा नेता को गौ सेवा आयोग का अध्यक्ष बनाने के एवज में दलाली किए जाने का मामला था जिसमें उच्च न्यायालय द्वारा सीबीआई जांच एवं एफआईआर के निर्देश से घबराकर रातों-रात सर्वोच्च न्यायालय की शरण में जाने से स्पष्ट हो गया है कि त्रिवेंद्र एवं कुटुंब को अपने गुनाह सता रहे हैं, जिसके कारण सीबीआई के नाम से ही ये भाग खड़े हुए।
यहां आयोजित एक पत्रकार वार्ता में नेगी ने हैरानी जताते हुए कहा कि अगर त्रिवेंद्र दलाली प्रकरण में पाक साफ हैं तथा पैसों का  कोई लेन-देन खातों में नहीं हुआ है तो सीबीआई से क्यों डर रहे हैं तथा क्यों सुप्रीम कोर्ट जाने की जरूरत आन पड़ी। नेगी ने कहा कि यह दुनिया का पहला मामला है, जिसमें एक तरफ तो सीएम के इशारे पर उनके रिश्तेदार द्वारा मीडिया कर्मियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई गई, जिसमें बड़ी-बड़ी बातों का उल्लेख किया गया तथा जांच की मांग की गई, अब जबकि न्यायालय ने सीबीआई जांच के आदेश दे दिए थे तो त्रिवेंद्र उल्टे पांव क्यों भाग खड़े हुए। एक तरह से त्रिवेंद्र ने अपने विरोधियों को घर बैठे-बैठाए ब्रह्मास्त्र थमा दिया यानी खुद ही अपनी जांच करवा बैठे।  नेगी ने कहा कि भले ही सर्वोच्च न्यायालय ने सीबीआई जांच एवं एफआईआर मामले मे कुछ दिनों के लिए राहत दी है, लेकिन नोटिस जारी कर मामले को जारी रखा है यानी जांच तो होगी ही।


केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये

देहरादून। ओ.पी. जिंदल ग्लोबल यूनिवर्सिटी (जेजीयू) ने भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय के साथ एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए हैं और उसे इंस्टीट्यूशन ऑफ एमिनेंस (आईओई) का दर्जा दिया गया है। यह जेजीयू के लिए एक ऐतिहासिक उपलब्धि है। इस संदर्भ में आईओई नियमों के तहत सभी वैधानिक, विनियामक और प्रक्रियात्मक आवश्यकताओं को विधिवत रूप से पूरा किया गया है और जेजीयू को ष्इंस्टीट्यूशन ऑफ एमिनेंसष् के रूप में कार्य करने की स्वीकृति दी गयी है। आईओई नीति विश्वस्तरीय शिक्षण और अनुसंधान संस्थानों को विश्व स्तरीय शिक्षण और अनुसंधान संस्थान बनने में मदद करने के लिए भारत सरकार की प्रतिबद्धता को लागू करने के लिए शुरू की गई थी। ष्इंस्टीट्यूशन ऑफ एमिनेंसष् के चयन और सिफारिश की जिम्मेदारी एक सशक्त विशेषज्ञ समिति को सौंपी गई थी जिसे भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा नियुक्त किया गया था।
ष्इंस्टीट्यूशन ऑफ एमिनेंसष् के रूप में दर्जा दिये जाने के साथ, जेजीयू देश के शीर्ष 10 निजी संस्थानों के एक प्रतिष्ठित समूह में शामिल हो गया है, जिसे विनियामक नियंत्रणों से हटाकर पूर्ण स्वायत्तता दी गई है। ष्इंस्टीट्यूशन ऑफ एमिनेंसष् की तलाश वर्ष 2017 में निजी संस्थानों के लिए ष्यूजीसी (इंस्टीट्यूशंस ऑफ एमिनेंस डीम्ड टू बी यूनिवर्सिटीज) रेगुलेशन, 2017ष् और सार्वजनिक संस्थानों के लिए यूजीसी (इंस्टीट्यूशंस ऑफ एमिनेंस के रूप में सरकारी शिक्षण संस्थानों की घोषणा), दिशानिर्देश 2017ष् के साथ शुरू हुई। इस ऐतिहासिक अवसर पर, ओपी जिंदल ग्लोबल यूनिवर्सिटी के संस्थापक चांसलर और संरक्षक, नवीन जिंदल ने कहा, ष्मुझे इस बात की बेहद खुशी है कि जेजीयू को ष्इंस्टीट्यूशन ऑफ एमिनेंसष् के दर्जा से सम्मानित किया गया है। यह जेजीयू के लिए एक अविश्वसनीय मान्यता है और विश्वविद्यालय की असाधारण उपलब्धियों के लिए एक महान सम्मान है। जेजीयू मेरे पिता श्री ओपी जिंदल की याद में स्थापित किया गया था, जो शिक्षा, उद्यमिता, परोपकार और राष्ट्र-निर्माण में विश्वास करते थे।


कांग्रेस 31 अक्टूबर को ’किसान अधिकार दिवस’ के रूप में मनाएगी

देहरादून। उत्तराखण्ड प्रदेश कांग्रेस कमेटी द्वारा अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के आह्वान पर 31 अक्टूबर को स्व0 इन्दिरा गांधी के शहादत दिवस एवं सरदार बल्लब भाई पटेल के जन्म दिवस को पूरे प्रदेश में ’किसान अधिकार दिवस’ के रूप में मनाने का निर्णय लिया गया है।
इस कार्यक्रम के तहत सभी जिला मुख्यालयों में कार्यक्रमों का आयोजन किया गया है। इसी कार्यक्रम के तहत 31 अक्टूबर को उत्तराखण्ड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष प्रीतम सिंह के नेतृत्व में प्रातः 1100 बजे देहरादून के गांधी पार्क में किसान अधिकार दिवस मनाया जायेगा। उपरोक्त जानकारी देते हुए प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष सूर्यकान्त धस्माना ने बताया कि कांग्रेस पार्टी देश की इन महान विभूतियों के स्मरण दिवस को किसानों को समर्पित करते हुए 31 अक्टूबर को पूरे प्रदेश में ’किसान अधिकार दिवस’ के रूप में मनायेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश मुख्यालय में प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह के नेतृत्व में प्रातः 1030 बजे स्व0 इन्दिरा जी एवं स्व0 सरदार पटेल को श्रद्धांजलि के उपरान्त गांधी पार्क में कार्यक्रम का आयोजन किया गया है जिसमें पार्टी के वरिष्ठ नेतागण, पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता प्रतिभाग करेंगे।


सीएम ने निशानेबाज अमित कुमार को सम्मानित किया



देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने मुख्यमंत्री आवास में निशानेबाज अमित कुमार को सम्मानित किया। भानियावाला के अमित ने दिसम्बर 2019 में भोपाल, मध्य प्रदेश में राष्ट्रीय शूटिंग चैंपियनशिप में 02 रजत एवं एक कांस्य पदक हासिल किया। मुख्यमंत्री ने अमित के उज्ज्वल भविष्य की कामना की है।
     निशानेबाज अमित ने भोपाल में आयोजित राष्ट्रीय चैंपियनशिप में 25 मी.पिस्टल जूनियर मैन सिविलियन टीम चैंपियनशिप एवं 25 मी. सेंटर फायर पिस्टल मैन सिविलियन टीम चैंपियनशिप में रजत पदक एवं 25 मी0 पिस्टल जूनियर मैन सिविलियन चैंपियनशिप व्यक्तिगत में कांस्य पदक हांसिल किया। इससे पूर्व उन्होंने 2018 में नार्थ जोन शूटिंग चैंपियनशिप 2018 में स्वर्ण पदक जीता था।


लिवप्योर ने आरओ वॉटर प्यूरीफायर लॉन्च कर नया इनोवेशन पेश किया

देहरादून। एक स्वस्थ और स्थायी जीवन देने में फ्रंटरनर, लिवप्योर नेअब  तक एक और भविष्य रेंज को  लॉन्च किया है, जो आरओ (रिवर्स ऑस्मोसिस) आधारित वाटर प्यूरीफायर है एक बड़ी सफलता प्राप्त की है। एशियन डेवलपमेंट बैंक के पूर्वानुमान के अनुसार 2030 तक भारत में 50 प्रतिशत पानी की कमी होगी। लिवप्योर ने जल संरक्षण के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए अतीत में कटिंगपानी और रिवर्सइनअबोतल जैसे कई कैम्पेन चलाए हैं। यह आरओ मौजूदा आरओ  मेंउपलब्ध 25 प्रतिशत से 30 प्रतिशत रिकवरी के मुकाबले 70 प्रतिशत पानी रिकवर करेगा। इससे प्रति वर्ष लगभग 20,000 लीटर पानी की बचत होगी, जिससे भारत और दुनिया के कई देशों में पानी के संरक्षण में एक बड़ा योगदान है।
 लिवप्योर ने जिंगर और प्लैटिनो प्लस कॉपर लॉन्च किया है, जो 70 प्रतिशत पानी रिकवर करता है और कंज्यूमर्स के लिए पैसे के लिए ग्रेट वैल्यू देता है। प्रीमियम मॉडल मैग्ना चुनिंदा बाजारों और चैनलों में 80 प्रतिशत रिकवरी के साथ उपलब्ध है। इसे जल्द ही राष्ट्रीय स्तर पर लॉन्च किया जाएगा। उच्च स्तर पर पानी की रिकवरी देने वाले इस आविष्कार के लिए पेटेंट का आवेदन किया गया है। यह  उत्पाद पैन इंडिया में उपलब्ध होगा जिंगर रु. 18990 पर उपलब्ध है तथा प्लेटिनो घ् तांबा रु. 22000 की कीमतपर
लॉन्च पर बोलते हुए लिवप्योर के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर, नवनीत कपूर ने कहा, “पानी की कमी दुनिया भर में आई खास तौर पर भारत की सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक है। हमने 4 साल पहले आरओ-बेस्ड वॉटर प्यूरीफायर से जुड़े कम रिकवरी के मुद्दे को हल करने के लिए निवेश करना शुरू किया था। लिवप्योर 2017 से दोनों सरकारों से समर्थित इंडिया इजरायल इनोवेशन ब्रिज के माध्यम से इजराइल में कई इनोवेशन प्रोजेक्ट्स को प्रायोजित कर रहा है।


नये कृषि बिल से एमएसपी और मंडिया खत्म नहीं होंगी



-कृषि बिल में कांग्रेस ने किसानों को गुमराह करने का किया कामः विधायक जोशी

देहरादून। किसानों की आमदनी 2022 तक दोगुनी करने के लक्ष्य को लेकर चल रही मोदी सरकार ने कृषक उत्पादों की बिक्री के लिए राज्यों के कृषि उपज विपणन समिति कानून के तहत संचालित मंडियों के अलावा एक वैकल्पिक चैनल मुहैया करने के लिए नया कानून बनाया है। इसके तहत अब कोई भी किसान अपने उत्पाद को देश के किसी भी हिस्से में बेच सकता है, यह कहना है मसूरी विधायक गणेश जोशी का।
शुक्रवार को मसूरी के एक होटल में आयोजित पत्रकार वार्ता में मसूरी विधायक गणेश जोशी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के नेतृत्व में केन्द्र सरकार ने किसानों को उनके उत्पाद की बेहतर कीमत दिलाने और उनके जीवन स्तर को उठाने के लिए अनेक कदम उठाए हैं। उन्होनें कहा कि मैं कृषि बिल का समर्थन करता हॅू। इस कानून को बनाने का उद्देश्य किसानों को मजबूत करने को लेकर है। इससे न्यूनतम समर्थन मूल्य और मंडिया खत्म नहीं होंगी। उन्होनें कहा कि इस संबंध में स्वयं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देशवासियों को भरोसा दिलाया है कि उनके द्वारा इन विधेयकों में किसानों की सम्पूर्ण सुरक्षा सुनिश्चित की गई है।
       विधायक जोशी ने कहा कि किसानों को अपने उत्पाद के लिए कोई उपकर नहीं देना होगा और उन्हें माल ढुलाई का खर्च भी वहन नहीं करना होगा। इस कानून के तहत किसानों को ई-ट्रेडिंग मंच उपलब्ध कराएगा, जिससे इलेक्ट्रोनिक माध्यम से निर्बाध व्यापार सुनिश्चित किया जा सके। मंडियों के अतिरिक्त व्यापार क्षेत्र में फॉर्मगेट, कोल्ड स्टोरेज, वेयर हाउस, प्रसंस्करण यूनिटों पर भी व्यापार की स्वतंत्रता होगी तथा किसान खरीददार से सीधे जुड़ सकेंगे। इस प्रक्रिया से बिचैलियों को मिलने वाले लाभ के बजाए किसानों को उनके उत्पाद की पूरी कीमत मिल सकेगी। विधायक जोशी ने कहा कि कांग्रेस एवं अन्य विपक्षी पार्टियों ने किसानों को गुमराह करने का काम किया है। कांग्रेस द्वारा किए जा रहे कृषि बिल का विरोध उनके दोगली राजनीति का चरित्र है। इस कानून को बनने के बाद अकाली दल द्वारा एनडीए गठबंधन से मुह मोड़ लेना उनकी व्यक्तिगत इच्छा है। विधायक ने कहा कि सभी पार्टियों को अपना भविष्य भी देखना होता है चॅूकि आगामी वर्षो में पंजाब में चुनाव होने हैं अतः अकाली दल ने अपने व्यक्तिगत लालच के लिए ऐसा कृत्य किया। इस अवसर पर भाजपा के मण्डल अध्यक्ष मोहन पेटवाल, महामंत्री कुशाल राणा, ओपी उनियाल, नगर पालिका के नामित सभासद मदन मोहन शर्मा, अरविन्द सेमवाल, मुकेश धनाई, अमित भट्ट, सपना, अभिनाष, सुमित भण्डारी आदि उपस्थित रहे।


गोरखा समाज के लोगों ने सीएम को टीका लगाकर बनाया दशहरा



देहरादून। शरद पूर्णिमा के अवसर पर गोरखा समाज के सदस्यों ने मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र को जौ, दही एवं चावल का टीका लगाकर उनके साथ दशहरा पर्व मनाया। दशहरा पर्व गोरखा समाज द्वारा पांच दिन तक मनाया जाता है। मुख्यमंत्री ने गोरखा समाज के लोगों को दशहरे के पर्व एवं शरद पूर्णिमा की शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि त्योहार सभी के जीवन में उमंग और खुशियां लेकर आये। त्योहार हमारे जीवन में सौहार्द एवं भाईचारे के प्रतीक होते हैं। इस अवसर पर गोरखा कल्याण परिषद् के अध्यक्ष टी.डी. भूटिया, गोरखा डेमोक्रेटिक फ्रंट के अध्यक्ष सूर्य विक्रम शाही, गोरखा सुधार सभा के अध्यक्ष पदम थापा, टेकू थापा, मीनू क्षेत्री, ज्योति कोटिया, प्रभा शाह, आदि उपस्थित थे।


महिलाओं को आर्थिक रूप से स्वावलम्बी बनाने में स्वयं सहायता समूहों का विशेष योगदानः डीएम

नैनीताल। ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं को आर्थिक रूप से स्वावलम्बी बनाने मे स्वयं सहायता समूहों का विशेष योगदान है। जिलाधिकारी सविन बंसल का भी उददेश्य है कि ग्रामीण महिलाओं को विकास की धारा मे जोडते हुये उनके आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाया जाए ताकि वे अपने परिवार के भरण पोषण में मदद कर सके। प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिह रावत की प्राथमिकता मे भी स्वयं सहायता समूहों के जरिये महिलाओ को स्वरोजगार के अवसर दिया जाए।
गौरतलब है कि प्रकृति मे जहां उत्तराखण्ड को प्राकृतिक खुबसूरती की नेमत दी है वही प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में हस्तशिल्प, कुटीर उद्योगों के अलावा लजीज पहाडी व्यंजनों, हस्तकला, समृद्ध संस्कृति एवं परम्परागत पहनावा यहां के तीज त्यौहार भी पर्यटकों के बीच मे काफी लोकप्रिय है। देश विदेश के सैलानी उत्तराखण्ड की संस्कृति तथा यहां के लजीज व्यंजनों को काफी पसन्द करते है। जनपद नैनीताल में अब पर्यटक मौसम वर्ष भर रहता है जिसके कारण बडी संख्या मे देशी विदेशी सैलानियों का आगमन जनपद नैनीताल मे होता है। आने वाले पर्यटको को उनके भ्रमण स्थलों पर पहाडी उत्पाद व व्यंजन उपलब्ध हों इसके लिए जिलाधिकारी श्री सविन बंसल ने एक नई पहल की है। जिसके अन्तर्गत महिला स्वयं सहायता समूहों को बडे पैमाने पर आधुनिक लुक वाले वुडन आउटलैट उपलब्ध कराये जा रहे है। इस प्रकार नैनीताल प्रदेश का पहला जिला होगा जहां महिला स्वयं सहायता समूहों को जिला प्रशासन द्वारा हिलांस वुडन आउटलैट बनाकर दिये जा रहे है। जिनमे महिलायें अपने उत्पादों की ब्रिकी के साथ ही सैलानियों को लजीज व्यंजन भी परोस सकेंगी। राज्य मे पहली बार है कि इतने बडे पैमाने पर महिला स्वयं सहायता समूहों को स्वरोजगार एवं आजीविका से जोडने के लिए प्रशंसनीय कार्यवाही की जा रही हैै। जिलाधिकारी श्री बंसल की इस सकारात्मक कार्यवाही से ग्रामीण महिलाओं मे प्रशन्ता है तथा वे जिलाधिकारी की इस पहल का मुक्त कंठ से तारीफ भी कर रही है।
जिलाधिकारी के निर्देशों के क्रम मे जनपद में दीनदयाल अन्त्योदय योजना- राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत 12 पर्यटक स्थलों पर हिलांस वुडन आउटलैट तैयार कर लिये गये है। इन हिलांस वुडन आउटलैट को बनाने के लिए जिलाधिकारी द्वारा 35 लाख की धनराशि जिला योजना तथा अनटाइड फंड से उपलब्ध कराई गयी है। जनपद में 12 हिलांस वुडन आउटलैट बनकर तैयार हो चुके है। जिलाधिकारी द्वारा चयनित स्थल सातताल, स्नोव्यू, मुक्तेश्वर,नौकुचियाताल, टी गार्डन श्यामखेत, सरस मार्केट हल्द्वानी, तहसील परिसर कालाढूगी, केव गार्डन, हनुमानगढी तथा सडिया ताल में यह हिलांस वुडन आउटलेट बनकर तैयार हो गये हैै। इन वुडन आउटलैट का निर्माण कुमाऊ मण्डल विकास निगम द्वारा किया गया है। प्रत्येक आउटलेट के निर्माण 3.46 लाख की धनराशि व्यय हुई है। गौरतलब है कि इन हिलांस वुडन आउटलैट मे स्वयं सहायता समूह की महिलायें अपने विभिन्न प्रकार के उत्पाद जैसे अचार, मुरब्बा, दालें, मसाले, बडियां, हर्बल उत्पाद, रिंगालध्रामबांस से हस्त निर्मित टोकरियां एवं बैग, ऐपण व अन्य सामानों की ब्रिकी करेंगी। जिलाधिकारी की इस पहल से जहां महिलाओ को रोजगार मिलेगा वही जनपद के स्थानीय उत्पादों को पहचान एवं बाजार मिलेगा। इस प्रकार पर्यटकों के जरिये जनपद के ग्रामीण उत्पाद राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय स्तर तक पहुचेंगे। ग्रामीण एवं महिला विकास में जिलाधिकारी की यह पहल निश्चय ही प्रशंसनीय है।  


14 दिनों के लिए भारी वाहनों का आवागमन प्रतिबंधित रहेगा    

अल्मोड़ा। जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया ने बताया कि अल्मोड़ा शहर के अन्तर्गत अल्मोड़ा-बागेश्वर मोटर मार्ग के किमी0 204 (4-8) बाल्मिकी बस्ती के निकट धार की तूनी में क्षतिग्रस्त सी0सी0 रोड का निर्माण कार्य किया जा रहा है। इस मोटर मार्ग के एक भाग में कार्य पूर्ण हो चुका है तथा दूसरे भाग में कार्य करना अवशेष है। उन्होंने बताया कि मार्ग की चैड़ाई कम होने एवं यातायात का अधिक घनत्व होने के कारण कार्य में व्यवधान उत्पन्न होने के साथ दुर्घटना की सम्भावना है। उक्त के दृष्टिगत इस मार्ग को दिनाॅंक 30 अक्टूबर, 2020 से दिनाॅंक 12 नवम्बर, 2020 तक (कुल 14 दिनों) हेतु भारी वाहनों के आवागमन पूर्णतः प्रतिबन्धित रहेगा।


कार्यालयों, वाहनों में कोविड से जागरूकता को स्टीकर लगाये जायं

अल्मोड़ा। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने आज विडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से सभी जिलाधिकारियों, मुख्य चिकित्सा अधिकारियों व संबंधित अधिकारियों के साथ कोरोना वायरस संक्रमण कोविड-19 के रोकथाम एवं बेहतर उपचार हेतु जनपदों में किये जा रहें कार्यो की समीक्षा की। उन्होने कहा कि जिलाधिकारी एवं उनकी टीम द्वारा कोरोना संक्रमण के नियंत्रण एवं रोकथाम के लिए बेहतर ढंग से कार्य किया जा रहा हैं। उन्होंने कहा कि जल्दी ही कोरोना वैक्सीन आने वाली है इसलिए सभी जनपद वैक्सीन हेतु कोल्ड चैन व्यवस्था सहित अन्य व्यवस्थायें सुनिश्चित कर लें।
    मुख्यमंत्री ने कहा कि त्यौहारों का सीजन आ रहा है। इसलिए सभी जनपदों में और अधिक सर्तकता एवं सावधानी बरतने की आवश्यकता हैं। कोविड-19 पर प्रभावी नियंत्रण के लिए जन जागरूकता अभियान में और तेजी लाई जाय, इसके लिए उन्होने कहा कि घरों, धार्मिक एवं पर्यटन स्थलों, कार्यालयों, वाहनों में कोविड से जागरूकता हेतु स्टीकर लगाये जाय, इस कार्य में जन प्रतिनिधियों, सामाजिक संगठनों एवं एनजीओ से सहयोग लिया जाय। उन्होने कहा कि जनजागरूकता हेतु पुलिस फोर्स के साथ होमगार्ड, पीआरडी, वन विभाग डेªस में की सोशल डिस्टेसिंग के साथ रैलियां निकाली जायें।  प्रदेश में पर्यटन की गतिविधियों में तेजी आ रही है एवं त्योहारों का सीजन भी शुरू होने वाला है, इसके दृष्टिगत मास्क के उपयोग, सोशल डिस्टेंसिंग एवं स्वास्थ्य विभाग की गाइडलाईन के अनुसार सभी व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाय। इसके लिए बड़े स्तर पर जागरूकता अभियान चलाया जाय। जो लोगों के मास्क के उपयोग नहीं कर रहे है उनके चालान किये जाय साथ ही निःशुल्क मास्क भी वितरण किये जाये। मुख्यमंत्री ने कहा कि त्योहारों के सीजन में पुलिस की भूमिका और अधिक बढ़ जायेगी, इसके लिए पुलिस फोर्स के साथ ही होमगार्ड, पीआरडी आदि को भी लगाया जाय।


प्रेस मान्यता नवीनीकरण आवेदन 05 दिसम्बर तक जमा करवाएं

देहरादून। जनपद के समस्त मान्यता प्राप्त पत्रकारों को सूचित करना है कि वर्ष 2021 हेतु प्रेस मान्यता नवीनीकरण की कार्यवाही गतिमान है। समस्त जनपद स्तरीय मान्यता प्राप्त पत्रकार यथा सम्पादक, संवाददाताओं, स्वतंत्र पत्रकारों से अनुरोध है कि कृपया अपने से सम्बन्धित प्रेस मान्यता नवीनीकरण हेतु आवेदन 05 दिसम्बर 2020 तक अनिवार्यतः जिला सूचना कार्यालय देहरादून में जमा करवा दें। निर्धारित तिथि के पश्चात प्राप्त होने वाले आवेदनों पर विचार नही किया जाएगा जिसकी समस्त जिम्मेदारी सम्बन्धित की होगी।


स्पेशल ई-लोक अदालत का आयोजन 7 नवंबर को

देहरादून। सचिव व सिविल जज (सी0डि0) जिला विधिक सेवा प्राधिकरण देहरादून नेहा कुशवाहा ने अवगत कराया है कि उत्तराखण्ड राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, नैनीताल के निर्देशानुसार जनपद के समस्त न्यायालयों विकासनगर, ऋषिकेश, डोईवाला में लंबित मुकदमों का सुलह-समझौते के आधार पर निस्तारण किये जाने हेतु 07 नवम्बर 2020 को स्पेशल ई-लोक अदालत का आयोजन किया जाना सुनिश्चित किया गया है, जिसमें 138 एन0आई0एक्ट के वादों को निस्तारित कर पक्षकारों को लाभान्वित किया जाएगा। उन्होंने बताया कि जो पक्षकार अपने वादों को स्पेशल ई-लोक अदालत के माध्यम से निस्तारित करवाना चाहते हैं, वह सम्बन्धित न्यायालय जहां  उनका मुकदमा लम्बित है में ई-मेल के माध्यम से, अपने अधिवक्ता  के माध्यम से या न्यायालय के ड्रोप बाॅक्स में प्रार्थना पत्र डालकर अपने वाद स्पेशल ई-लोक अदालत के लिए नियत करवा सकते हैं।


पर्यावरण योजना की तैयारी पर परामर्शी कार्यशाला आयोजित

देहरादून। कलेक्टेªट सभागार में गोविन्द बल्लभ पंत राष्ट्रीय हिमालयी पर्यावरण संस्थान कोसी-कटारमल, अल्मोड़ा के तत्वाधान में जिला व राज्य पर्यावरण योजना की तैयारी पर परामर्शी कार्यशाला का आयोजन किया गया। उत्तराखण्ड प्रदूषण नियन्त्रण बोर्ड द्वारा वित्त पोषित पर्यावरण परामर्शी कार्यशाला में जनपद के विभिन्न विभागीय अधिकारियों द्वारा प्रशिक्षण में प्रतिभाग किया गया। पर्यावरण कार्यशाला में प्रधानाचार्यध्इन्वेस्टिगेटर डाॅ जे.सी कुनियाल तथा उनके सहयोगी डाॅ सुमित राय व कपिल केसरवानी, हिमालय पर्यावरण संस्थान के वैज्ञानिकों ने कार्यशाला में प्रजेन्टेशन के माध्यम से जनपद स्तर पर विभिन्न विभागों द्वारा पर्यावरण की सुरक्षा के लिए विभिन्न प्रकार के वेस्ट के उचित निस्तारण उसके रिसाईकलिंग, पुनः उपयोग व विभिन्न तरीकों से उपयोग में लाने के तौर तरीकों से अवगत कराते हुए सम्बन्धित विभागों को ई-वेस्ट, साॅलिड वेस्ट, प्लास्टिक, बायो वेस्ट, सीवरेज ट्रीटमेंट, वायु प्रदूषण, ध्वनि प्रदूषण, ग्राउण्ड वाटर निदान व रिचार्ज के निस्तारण के प्रबन्धन के लिए विभागों के स्तर पर बेहतर प्लान बनाने को कहा जिससे पर्यावरण की चुनौतियों को कम किया जा सके। संस्थान के वैज्ञानिकों ने कहा कि सम्बन्धित विभाग अपने-अपने स्तर पर प्रदूषण को कम करने के लिए उपराचात्मक प्रयासों को धरातल के वास्तविक आंकड़ों को प्राप्त करते हुए बेहतर प्लान बनाएंगे साथ ही एनजीटी (नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूल) के दिशा-निर्देशों के अनुरूप प्रयासों को अमल में लाएंगे। कहा कि पर्यावरण संस्थान उनको हर संभव तकनीकि सहायता व परामर्श देगा, जिससे विभिन्न विभाग अपने यहां पैदा होने वाले विभिन्न प्रकार के वेस्ट का उचित निराकरण कर सकेंगे। इसके लिए विभागों को अपने-अपने स्तर पर फिल्ड से बेहतर आंकड़े इकट्ठा करने होंगे, संसाधनों को बढाना होगा तथा जहां नियमावली में सुधार की अपेक्षा होगी उसमें भी संसोधन करेंगे। विशेषकर नगर निकाय (नगर निगम, नगर पालिका व नगर पंचायत, पंचायतों), पेयजल निगम, जल संस्थान, स्वास्थ्य विभाग, वन विभाग, खनन विभाग, प्रदूषण नियंन्त्रण बोर्ड, परिवहन विभाग, उद्योग विभाग आदि अपने-अपने विभागीय स्तर पर बेहतर प्लान बनाकर उनके यहां जनरेट होने वाले वेस्ट के उचित निस्तारण तथा प्रदूषण के नियन्त्रण के लिए व्यापक प्रयास कर सकते हैं। परामर्शी कार्यशाला में विभिन्न विभागों से फिडबैक व परामर्श भी आमंत्रित किए गए तथा बहुमूल्य सुझाव के आधार पर आगे प्लान बनाने की बात भी की गई। इस दौरान प्रशिक्षण में अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व वीर सिंह बुदियाल, उप जिलाधिकारी ऋषिकेश वरूण चैधरी सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी कार्यशाल में उपस्थित थे।


हर महीने पहाड़ों पर जाकर सैकड़ों लोगों का मुफ्त इलाज करते हैं ड. एसडी जोशी



पौड़ी गढ़वाल। आज एक ओर जहाँ बुद्धिजीवी और खुद को सामाजिक कार्यकर्ता कहने वाले लोग बैठकर सिर्फ सरकार की कमियों पर बहस करते हैं, तो वहीं कुछ ऐसे लोग भी हैं जो आगे बढ़कर बदलाव के लिए ठोस कदम उठाने में यकीन रखते हैं। आज बात ऐसे ही एक व्यक्ति की जिन्होंने पहाड़ में स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार के लिये चलो गांव की ओर अभियान शुरू किया हुआ है। चमोली जनपद के मूल निवासी और वर्तमान में देहरादून में रह रहे डॉ. एसडी जोशी हर महीने पहाड़ के गांवों में जाकर मुफ्त मेडिकल कैंप लगाते हैं।
जाने माने फिजिशियन डॉ एसडी जोशी की प्रदेश के अंतिम व्यक्ति तक निःशुल्क स्वास्थ्य सेवा पहुंचाने की चलो गांव की ओर मुहिम जारी है। डाॅ एसडी जोशी द्वारा आज पौडी के कल्जीखाल विकास खण्ड के घण्डियाल में लगाये गए निःशुल्क स्वास्थ्य परामर्श शिविर में 160 से अधिक मरीजों की जांच की गई। शिविर में 75 से अधिक लोगों की निःशुल्क ईसीजी व पैथोलोजी जांच भी हुई। पलायन एक चिंतन समूह, डीआर फार्मा व चैखम्बा मेडिकॉज ग्रुप के संयुक्त तत्वावधान में घण्डियाल के साधन सहकारी भवन में आयोजित निशुल्क स्वास्थ्य सलाह शिविर में आज मरीजों का सैलाब उमड़ पड़ा। इस मौके पर डॉ एसडी जोशी द्वारा 167 मरीजों की स्वास्थ्य जांच की गई, साथ ही 76 मरीजों की ईसीजी व पैथोलॉजी जांच भी निशुल्क की गई। इससे पूर्व क्षेत्र में आयोजित होने वाले स्वास्थ्य जांच शिविरों में सहयोग करने हेतु साधन सहकारी समिति घण्डियाल के अध्यक्ष व ग्रामीण पत्रकार जगमोहन डाँगी को विचार एक नई सोच परिवार की ओर से डॉ एसडी जोशी द्वारा सम्मान पत्र भेंट कर सम्मानित भी किया गया।
कैम्प के सफल आयोजन के पश्चात डॉ जोशी ने कहा कि विचार एक नई सोच, पलायन एक चिंतन, डी आर फार्मा व चैखम्बा मेडिकॉज की सराहना करते हुए कहा ऐसे आयोजन में सहयोग से यह सभी संस्थाएं पहाड़ की बेहतरी में खामोशी से अपना योगदान दे रही हैं। डाॅ जोशी ने कहा कि निशुल्क स्वास्थ्य कैंप के लिये उनकी प्राथमिकता पर्वतीय क्षेत्रों के ग्रामीण इलाके हैं। राज्य के जिस भी पर्वतीय जनपद से मुझे स्यंमसेवी संस्थाओं के माध्यम से निशुल्क स्वास्थ्य शिविर का बुलावा आता है में जाने की हर संभव कोशिश करता हूं। मेरा प्रयास है हर व्यक्ति को ईलाज मिलना चाहिए। सरकार अपनी तरफ से स्वास्थ्य सेवाओं के सुधार के लिये प्रयासरत है लेकिन एक डाॅक्टर होने के नाते हमारा भी फर्ज है कि हम भी अपनी तरफ से प्रयास करें। इस मौके पर राकेश बिजल्वाण, अजय रावत अजेय, दीपक जुगरान, नरेश भारद्वाज, सुशील कुमार, कंन्चन आदि द्वारा डॉ एसडी जोशी व जगमोहन डाँगी का सम्मान किया गया।


देहरादून जनपद में कोरोना संक्रमितों की संख्या 17076 पहुंची

देहरादून। जनपद में कोरोना वायरस संक्रमण के दृष्टिगत प्राप्त हुई रिपोर्ट में 78 व्यक्तियों की रिपोर्ट पाॅजिटिव प्राप्त होने के फलस्वरूप जनपद में आतिथि तक कोरोना से संक्रमित व्यक्तियों की संख्या 17076 हो गयी है, जिनमें कुल 15570 व्यक्ति उपचार के उपरान्त स्वस्थ हो गये हैं। वर्तमान में जनपद में कुल 773 व्यक्ति उपचाररत हैं।
इसके अतिरिक्त जनपद में आज जांच हेतु कुल 1549 सैम्पल भेजे गये। जनपद में सार्वजनिक स्थानों पर मास्क का उपयोग न करने पर 127 व्यक्तियों के चालान किये गये। जिला वेक्टर जनित रोग नियंत्रण टीम द्वारा वाणी विहार रायपुर क्षेत्र में भ्रमण एवं निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान  टीम द्वारा इस दौरान 36 घरों का सर्वे किया गया, निरीक्षण के दौरान किसी भी घर में  मच्छर का लार्वा नही पाया गया। अभियान के दौरान लोगों को जागरूक करने के लिए डेंगू, मलेरिया एवं कोरोना वायरस के पंपलेट वितरित किए गए तथा सभी को डेंगू नियंत्रण हेतु सहयोग करने के लिए कहा गया। विगत वर्ष जनपद देहरादून में 29 अक्टूबर 2019 तक 4800 डेंगू एलाइजा धनात्मक रोगी पाए गए थे। क्षेत्रीय आशा एवं स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के द्वारा निरन्तर अपने क्षेत्रों में निगरानी रखी जा रही है तथा मच्छर का लार्वा पाए जाने पर उसे नष्ट किया जा रहा है तथा डेंगू नियंत्रण हेतु लगातार लोगों को जागरूक किया जा रहा है।


सामाजिक दूरी और मास्क का अनिवार्य रूप से उपयोग करवायेंः डीएम

देहरादून। जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि विभिन्न माध्यमों से जानकारी प्राप्त हो रही है कि सार्वजनिक स्थानों, बाजारों खासकर सब्जी मण्डियों में कई व्यसायियों, फल-सब्जी विक्रेताओं द्वारा मास्क का उपयोग नहीं किया जा रहा तथा जिनके द्वारा मास्क लगाया भी जा रहा है वह केवल नाम मात्र का है। इसको गम्भीरता से लेते हुए जिलाधिकारी द्वारा समस्त उप जिलाधिकारियों को अपने-अपने क्षेत्रान्तर्गत पुलिस को साथ में लेकर समय-समय पर औचक निरीक्षण करने तथा मास्क का उपयोग ना करने तथा सामाजिक दूरी के मानकों का पालन न करने वालो के विरूद्ध कार्यवाही करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि अगले 3 दिन लागातार अवकाश होने के फलस्वरूप बाजारो, पर्यटन स्थलों, माॅल्स आदि स्थानों पर भीड़ बढने की सम्भावना है। उन्होंने समस्त उप जिलाधिकारियों सहित सम्बन्धित अधिकारियों को  कोविड-19 संक्रमण के प्रसार की रोकथाम हेतु बाजारों, पर्यटन स्थलों, सार्वजनिक स्थानों पर सामाजिक दूरी का पालन तथा अनिवार्यतः मास्क का उपयोग करवायें इस कार्य में व्यापारियों, होटल व्ययायियों का भी सहयोग प्राप्त करने को कहा। उन्होंने जनमानस से अपील करते हुए कहा कि घर से बाहर निकलने पर मास्क, फेशकवर का अनिवार्य रूप से इस्तेमाल करें साथ ही समय-समय पर हाथ धोने, सेनिटाइजर समेत सामाजिक दूरी का पालन भी सुनिश्चित करें तथा लक्षण महसूस होने पर तुरन्त चिकित्सकीय परामर्श लें।


गंगा के आसपास के क्षेत्र को साफ-सुथरा रखने को जरूरी कदम उठाने के दिए निर्देश


देहरादून। मुख्य विकास अधिकारी नितिका खण्डेलवाल द्वारा वीडियो कान्फ्रसिंग के माध्यम से जिला गंगा सुरक्षा समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए सम्बन्धित विभागों व एजेंसियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। मुख्य विकास अधिकारी ने सम्बन्धित विभागों को गंगा सुरक्षा से जुड़े विभिन्न कार्यों की प्रगति बढाने के लिए तीव्र गति से प्रयास करने व गंगा के आसपास के क्षेत्र को साफ-सुथरा रखने के लिए सभी संभव प्रयासों को अमल में लाने के निर्देश दिए।
उन्होंने नगर निगम ऋषिकेश को गंगा और उत्तराखण्ड की अध्यात्मिकता से जुड़े चित्रों को त्रिवेणी घाट ऋषिकेश में अवलोकनार्थ तैयार करने के लिए विशेषज्ञ आर्टिटैक्ट की सहायता लेते हुए कार्य करने  तथा पेन्टिंग के लिए स्थल का चयन करने के निर्देश दिए। उन्होंने नगर निगम ऋषिकेश को कार्यदायी संस्था पेयजल निगम और सिंचाई विभाग द्वारा गंगा से सटे क्षेत्रों में सीवर संयोजन, बाढ नियंत्रण इत्यादि के लिए किए जाने वाले कार्यों को व्यवस्थित रूप से संपादित करने के लिए गंगा क्षेत्र को किसी भी प्रकार के अतिक्रमण से मुक्त करने के निर्देश दिए तथा इसके लिए स्थानीय विधायक व ग्राम स्तर के जनप्रतिनिधियों से भी जरूरी सहयोग प्राप्त करने को कहा।
 मुख्य विकास अधिकारी ने प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे नियमित रूप से होटलों और रेस्टोरेंट-प्रिमाइजेज में निरीक्षण करते रहें तथा नेशनल ग्रीन ट्रिब्युनल के दिशा-निर्देशों के अनुरूप पर्यावरण से सम्बन्धित किसी भी उल्लंघन पर सख्त कार्यवाही करते हुए कृत कार्यवाही से प्रत्येक बैठक में विवरण प्रस्तुत करने को कहा। उन्होंने उत्तराखण्ड पेयजल निगम को 26 एमएलडी एसटीपी से जुडेघ् कार्यों की प्रगति को तेजी से बढाने तथा जल संस्थान को रखरखाव हेतु हस्तांतरण किए जाने वाले मामलों को तेजी से हस्तांतरित करते रहने के निर्देश दिए। इसी तरह उन्होंने सिंचाई विभाग, जल संस्थान, लोक निर्माण विभाग, वन विभाग को भी उनके स्तर पर गंगा सुरक्षा से जुडेघ् कार्यों और दायित्वों को कुशलता से और तेजी से पूरा करने के निर्देश दिए। साथ ही उप जिलाधिकारी ऋषिकेश्ज्ञ को गंगा सुरक्षा समिति से जुड़े कार्यों की नियमित निगरानी करते रहने तथ प्रगति विवरण से भी अवगत कराते रहने को कहा। बैठक में वीडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम से उप जिलाधिकारी ऋषिकेश वरूण चैधरी, जिला विकास अधिकारी सुशील मोहन डोभाल, अधिशासी अभियन्ता सिंचाई विभाग पेयजल निगम व जल संस्थान सहित नगर निगम ऋषिकेश, प्रदूषण नियन्त्रण बोर्ड, लोक निर्माण विभाग के विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।


Featured Post

जवानों की शहादत का कोई मोल नहीं है केंद्र सरकार की नजरों मेंः मोर्चा

-देश की एजेंसियों को विरोधियों को कमजोर करने व चुनावी षड्यंत्र के काम से हटाए सरकार -उत्तराखंड के जवानों की दिनों-दिन हो रही शहादत पर...