समिति के पंजीकरण की कार्यवाही तेजी से चलाने के दिए निर्देश

देहरादून। जनपद में स्वास्थ्य, शिक्षा, पुलिस, स्नानघाट, नारी निकेतन, वृद्ध आश्रमों, आपदा क्षति एवं मेधावी गरीब बच्चों की शुल्क व्यवस्था जैसे मुख्यमंत्री के मेरा सामाजिक उत्तरदायित्व थीम को मूर्त रूप देने के लिए आदर्श विकास एवं कल्याण समिति के गठन को लेकर जिलाधिकारी सी रविशंकर की अध्यक्षता में बैठक का आयेाजन किया गया।
बैठक में जिलाधिकारी ने जिला कार्यक्रम अधिकारी को समिति के कार्यकारिणी सदस्यों के आधार कार्ड, पदनाम, नाम का तत्काल संग्रहण कर जनपद स्तर पर समिति का पंजीकरण की कार्यवाही तेजी से चलाने के निर्देश। उन्होंने जनकल्याण के कार्यों में सीएसआर फण्ड में अधिकाधिक रूप से धन प्राप्त किया जाय इसके लिए व्यवसायिक, चिकित्सा, शिक्षण समेत अन्य केन्द्रीय संस्थानों के साथ ही सरकारी संस्थाओं को भी जोड़ने के निर्देश दिये। जानकारी देते हुए जिलाधिकारी ने बताया कि समिति में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, मुख्य विकास अधिकारी, मुख्य चिकित्साधिकारी, मुख्य कोषाधिकारी, महाप्रबन्धक उद्योग को सदस्य, जिलाधिकारी को अध्यक्ष बनाया गया है। इन अधिकारियों के आधार कार्ड, पदनाम आदि प्रपत्रों को जमा कर आॅनलाइन डाटा तैयार कर निबन्धक चिटफण्ड के पास पंजीकरण हेतु शुल्क जामा किया जाना हैं ताकि समिति का पंजीयन के साथ ही आवश्यक गतिविधियों को तेजी से चलाया जा सके। उन्होंने बताया कि इसके लिए माननीय मुख्यमंत्री जी  के 'मेरा सामाजिक उत्तरदायित्व' के तहत अधिकाधिक फण्ड  जमा कर वांछित संस्थाओं को लाभान्वित किये जाने का प्रयास है। उन्होंने बताया कि इस प्रकार की समिति में अन्य व्यवसायिक प्रतिनिधियों को भी शामिल किया जायेगा। इसके लिए लोगों को सामजिक उत्तरदायित्व के निर्वहन में दान आदि देने के लिए प्रोत्साहित किया जाय। समिति द्वारा संरचना, मानव संसाधन, साज सज्जा, उपकरण आदि व्यवस्थाओं कराये जाने पर बल दिया। बैठक में पुलिस क्षेत्राधिकारी लोकजीत, महाप्रबन्धक जिला उद्योग केन्द्र शिखर सक्सेना, उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ एन के त्यागी समेत अन्य अधिकारी उपस्थित थे।  


Popular posts from this blog

नेशनल एचीवर रिकॉग्नेशन फोरम ने विशिष्ट प्रतिभाओं को किया सम्मानित

व्यंजन प्रतियोगिता में पूजा, टाई एंड डाई में सोनाक्षी और रंगोली में काजल रहीं विजेता

शिक्षा अधिकारियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने को एसएसपी को भेजा पत्र, DG शिक्षा से की विभागीय कार्रवाई की मांग