बसंत पंचमी पर विष्णु सहस्त्रनाम व गायत्री यज्ञ का आयोजन

देहरादून। बसंत पंचमी के शुभ अवसर पर प्रातः 7.30 बजे मंदिर के पुजारी चंद्र प्रकाश ममगई द्वारा विष्णु सहस्रनाम व गायत्री यज्ञ कराया गया। परम पूज्य महाराज के साधना कक्ष में विराजमान राधा कृष्ण व शालिग्राम भगवान का विशेष अभिषेक परम पूज्य महाराज की सद प्रेरणा द्वारा मंदिर के ट्रस्टीयों द्वारा किया गया। जिसमें दूध, दही, घी, बूरा, शहद, व वृन्दावन से लाया गया यमुना जल से अभिषेक किया गया। अपार भक्त समूह द्वारा श्री कृष्ण स्रोत, विष्णु सहस्रनाम का पाठ किया गया व समुचित भक्त समाज को लड्डू गोपाल जी व राधा कृष्ण के विग्रहो  का अभिषेक होते हुए दर्शन का सौभाग्य प्राप्त हुआ।

महाराज की सदप्रेणा  द्वारा सभी भक्तों को पीले रंग के रुमाल वितरण किये गए। प्रमोद श्रीवास्तव व साथियों द्वारा भजन कीर्तन का कार्यक्रम हुआ जिसमें अनेकों भजन गाकर सभी भक्त विभोर हो गए। तत्पश्चात प्रातः 10.00 बजे ठाकुर जी की आरती हुई व पीले चावल व हलवा खीर भक्तों को प्रसाद रूप में वितरण किया गया। 10.30 बजे मां कालिका धर्मार्थ औषधालय का 49वां वार्षिकोत्सव मनाया गया जिसमें मंदिर के समस्त डॉक्टर व स्टाफ मेंबर को उपहार भेंट व प्रसाद वितरण किया गया। विदुर  क्षेत्रों से पधारे संतो द्वारा प्रातः मां कालीका सत्संग भवन में सत्संग का कार्यक्रम हुआ जिसमे भक्तों के कल्याण व सामाजिक कार्य, सतमार्ग पर चलने का मार्ग बताया। दोपहर 1.30 पर मंदिर समिति द्वारा एक विशाल भंडारे का आयोजन किया गया जिसमें संतों, ब्राह्मणों, भिक्षकों को भोजन के साथ  जरूरत का सामान व दक्षिणा भी दी गई अपार भक्तों ने भंडारा ग्रहण किया। साय  बसंत पंचमी के उपलक्ष में एक विशेष भजन संध्या कार्यक्रम हुआ जिसमें मंदिर समिति की ही मण्डली  प्रमोद श्रीवास्तव द्वारा भजन गाए गये। इस अवसर पर ट्रस्टी गगन सेठी, दयाल धवन, जितेंदर  अरोरा,  एलडी भाटिया, एनके दत्ता, प्रधान  उमेश मिनोचा, सतीश कक्कर, अनिरुद्ध गुप्ता, संजय आनंद, विजय अरोरा,  सतीश मेहता सहित कई लोग मौजूद रहे।

Popular posts from this blog

नेशनल एचीवर रिकॉग्नेशन फोरम ने विशिष्ट प्रतिभाओं को किया सम्मानित

व्यंजन प्रतियोगिता में पूजा, टाई एंड डाई में सोनाक्षी और रंगोली में काजल रहीं विजेता

घरों के आस-पास चहचहाने वाली गौरैया विलुप्ति के कगार पर