सामूहिक खेती और पशुपालन को दें बढ़ावाः रावत

विकासनगर। उत्तराखंड विकेंद्रीकृत जलागम परियोजना के तहत शुक्रवार को विद्यापीठ मार्ग स्थित जलागम परियोजना कार्यालय में चकराता और कालसी ब्लाक के नवनिर्वाचित पंचायत प्रतिनिधियों को प्रशिक्षण दिया गया। शिविर के दूसरे दिन सामूहिक खेती और पशुपालन को गांवों में बढ़ावा देने पर जोर दिया गया। मुख्य प्रशिक्षक मनोज रावत ने बताया कि गांवों में जोतों का आकार छोटा होने के कारण मेहनत के अनुरूप उत्पादन नहीं हो पाता है। लिहाजा सामूहिक तौर पर कृषि करके ग्रामीण अपनी आर्थिकी को सुधार सकते हैं।उन्होंने बताया कि गांवों में कृषि के साथ ही पशुपालन को भी बतौर सहायक व्यावसाय बढ़ावा दिया जाना जरूरी है। बकरी और भेड़ पालन के माध्यम से ऊन से संबंधित कुटीर उद्योगों की स्थापना की जा सकती है। प्रतिनिधियों को टमाटर की तकनीकी खेती, पॉली हाउस में लीलियन की खेती को गांवों में बढ़ावा देने के लिए प्रेरित किया गया। साथ ही गांवों में जल संरक्षण, वानिकी, सिंचाई, बाढ़ सुरक्षा, भूमि संरक्षण, कृषि विकास से संबंधित कार्यों की जानकारी भी मुहैया कराई गई। इस दौरान यूनिट अधिकारी एमपी थपलियाल, सहायक वन संरक्षक विनोद कुमार, कृषि उद्यान अधिकारी डा. सीएमएस नेगी, प्रभागीय समन्वयक आशा नेगी, ग्राम प्रधान लक्ष्मी देवी, सिमरन जोशी, सविता, दिनेश, मुकेश, कलम सिंह, जयवीर सिंह चैहान, विनोद जोशी, हृदय सिंह नेगी, मनोज, कृपा राम, विक्रम सिंह आदि मौजूद रहे।

Popular posts from this blog

नेशनल एचीवर रिकॉग्नेशन फोरम ने विशिष्ट प्रतिभाओं को किया सम्मानित

व्यंजन प्रतियोगिता में पूजा, टाई एंड डाई में सोनाक्षी और रंगोली में काजल रहीं विजेता

घरों के आस-पास चहचहाने वाली गौरैया विलुप्ति के कगार पर