सीएस ने प्रशिक्षणार्थी अधिकारियों को दायित्वों का निष्ठापूर्वक निर्वहन करने का मंत्र दिया


 

देहरादून। सचिवालय सभागार में मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह से सम्मिलित सेवा परीक्षा-2016 के अंतर्गत चयनित 48 प्रशिक्षणार्थी अधिकारियों ने मुलाकात की। इस अवसर पर मुख्य सचिव ने प्रशिक्षणार्थी अधिकारियों को शुभकामना देते हुए अपने दायित्वों का निष्ठापूर्वक निर्वहन करने का मंत्र दिया। उन्होंने कहा कि आप सब युवा अधिकारी हैं और आप को लम्बी यात्रा करनी है, उन्होंने युवा प्रशिक्षणार्थियों से अपनी सेवा की यात्रा के प्रत्येक पल को प्रसन्नता पूर्वक निभाने को कहा। उन्होंने प्रशिक्षुओं के साथ अपने अनुभवों को बांटते हुए बताया कि उत्तराखण्ड के लोग काफी सहयोगी हैं। 

उन्होंने कहा कि आप की सेवाओं की प्रकृति का सम्बन्ध खुशियों के व्यवसाय से जुड़ा है जिसको देखते हुए अपने दायित्वों को खुशी पूर्वक क्रियान्वित करें, इससे आपको स्वयं खुशी महसूस होगी और समाज को भी आप की सेवाओं का लाभ मिलेगा। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड राज्य प्राकृतिक रूप से सुन्दर है, उन्होंने राज्य की नैसर्गिक सुंदरता का आनन्द उठाते हुए अपने कर्तव्यों का निर्वहन करने की अपेक्षा की। डा. आर. एस. टोलिया उत्तराखण्ड प्रशासनिक अकादमी के निदेशक श्री राजीव रौतेला ने अवगत कराया कि उत्तराखण्ड राज्य सम्मिलित सेवा परीक्षा 2016 की 7 विभिन्न सेवाओं के 48 अधिकारी इस 14 वें आधारभूत प्रशिक्षण कार्यक्रम में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं। उन्होंने अकादमी द्वारा संचालित प्रशिक्षण पर विस्तार से जानकारी दी, उन्होंने बताया कि इस 14 वें आधारभूत प्रशिक्षण कार्यक्रम में 7 विभिन्न सेवाओं के ऑफिसर प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे हैं जिनमें 6 प्रशासनिक, 17 पुलिस, 12 वित्त, 2 टैक्स, 8 म्युनिसपल, 2 सिविल डिफेंस तथा 1 जेल अधीक्षक सेवा के अधिकारी हैं।

उन्होंने बताया कि इन अधिकारियों को व्यावहारिक ज्ञान दिलाने के लिए विधानसभा तथा देश की उच्च विशेषज्ञ संस्थानों यथा एफ.आर.आई, आई.एम.ए, ओ.एन.जी.सी आदि का भ्रमण कराया गया है। विगत 28 दिसम्बर को माननीय मुख्यमंत्री के साथ डा. आर.एस.टोलिया उत्तराखण्ड प्रशासनिक अकादमी प्रशिक्षणार्थी अधिकारियों का संवाद हुआ तथा कल (आज) महामहिम राज्यपाल उत्तराखण्ड से संवाद हेतु समय लिया गया है। उन्होंने बताया कि अकादमी में उच्च गुणवत्तापूर्ण प्रशिक्षण दिया जाता है जिससे अधिकारी क्षेत्रों में जाकर अपनी जिम्मेदारियों का अच्छी तरह से निर्वहन कर सकें। उन्होंने बताया कि प्रशिक्षणार्थियों को खेल गतिविधियों में भी प्रतिभा दिखाने हेतु खेल सुविधायें उपलब्ध हैं। उन्होंने जानकारी दी कि अकादमी में लगभग 96 हजार पुस्तकों व 35 सामसामयिक जरनल्स पत्रिकाओं से युक्त पुस्तकालय, सुसज्जित कंप्यूटर लैब आदि सुविधाये उपलब्ध हैं। मुख्य सचिव द्वारा प्रशिक्षणार्थी अधिकारियों से भी उनके प्रशिक्षण के दौरान हुए अनुभवों एवं विचारों को सुना गया। इस अवसर पर सचिव परिवहन एवं शहरी विकास शैलेश बगोली, वित्त सचिव सौजन्या, सचिव ऊर्जा राधिका झा, प्रभारी सचिव कार्मिक बी.एस. मनराल द्वारा प्रशिक्षणार्थी अधिकारियों से संवाद स्थापित किया गया। इस अवसर पर अकादमी के संयुक्त निदेशक नवनीत पाण्डेय, अकादमी के सहायक प्रवक्ता डॉ मंजू पाण्डेय तथा डॉ ओम प्रकाश भी उपस्थित थे।

Popular posts from this blog

नेशनल एचीवर रिकॉग्नेशन फोरम ने विशिष्ट प्रतिभाओं को किया सम्मानित

व्यंजन प्रतियोगिता में पूजा, टाई एंड डाई में सोनाक्षी और रंगोली में काजल रहीं विजेता

घरों के आस-पास चहचहाने वाली गौरैया विलुप्ति के कगार पर