टेलीमेडिसन सेवा का लाभ दुर्गम इलाके के लोगों को मिलने लगा

नैनीताल, आजखबर। जिलाधिकारी सविन बंसल की पहल पर जिले के दुर्गम बेतालघाट ईलाके में स्थापित प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में लगभग एक माह पहले शुरू हुई टेलीमेडिसन सेवा का लाभ दुर्गम ईलाके के लोगों को तेजी से मिलने लगा है। गौरतलब है कि जिलाधिकारी श्री बसंल के प्रयासों से बेतालघाट में शुरू हुई टेलीमेडिसन सेवा का उद्घाटन बीती एक दिसम्बर को प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत द्वारा आयोजित समारोह में किया गया था। सेवा प्रारंभ होने के लगभग एक माह के भीतर इस सेवा का फायदा बेतालघाट क्षेत्र के 42 लोगों द्वारा लिया जा चुका है। टेलीमेडिसन सेवा वर्तमान में राजकीय मेडिकल काॅलेज तथा सुशीला तिवारी चिकित्सालय से सम्बद्ध कार्यरत है। आॅनलाईन ईलाज तथा डाॅक्टरों से रूबरू होते हुए मरीजों में विशेष उत्साह एवं विश्वास कायम हुआ है। टेलीमेडिसन सेवा शुरू होने से दुर्गम ईलाके के लोगों के धन व समय की बचत भी हो रही है और उन्हें तुरन्त ईलाज तथा डाॅक्टरों का परामर्श मिल रहा है।

जानकारी देते हुए टेलीमेडिसन सेवा प्रभारी एवं एसीएमओ डाॅ.रश्मि पन्त ने बताया कि अब तक टेलीमेडिसन सेवा के अन्र्तगत 6 मरीजों को फिजिशियन से आॅनलाईन बात कराकर दवाईयाॅ दी गयी, 8 आॅर्थो (हड्डी), 13 त्वचा रोगियो, 8 जच्चा-बच्चा एवं गर्भवती महिलाओं, सर्जरी (शल्य चिकित्सा) के दो रोगियों तथा 13 वर्ष की उम्र तक के 13 बच्चों को टेली मेडिसन सेवा का लाभ दिया गया है। उन्होंने बताया कि ये सेवा क्षेत्र में काफी लोकप्रिय होती जा रही है, जिससे मरीजों की संख्या में वृद्धि भी होती जा रही है। जानकारी देते हुए मुख्य चिकित्साधिकारी डाॅ.भारती राणा ने बताया कि प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र बेतालघाट में काफी मात्रा में औषधियाॅ रखी गयी हैं। टेलीमेडिसन सेवा के जरिये जो दवाईयाॅ हल्द्वानी चिकित्सालयों से डाॅक्टरों द्वारा रिकमण्ड की जा रही हैं, उन दवाईयों को तत्काल मरीजों को निःशुल्क उपलब्ध कराया जा रहा है। इस सेवा का निरन्तर अनुश्रवण किया जा रहा है। सभी चिकित्सक व अन्य पैरा मेडिकल स्टाफ इस सेवा का लाभ देने के लिए तत्परता से कार्य कर रहे हैं।

Popular posts from this blog

नेशनल एचीवर रिकॉग्नेशन फोरम ने विशिष्ट प्रतिभाओं को किया सम्मानित

व्यंजन प्रतियोगिता में पूजा, टाई एंड डाई में सोनाक्षी और रंगोली में काजल रहीं विजेता

घरों के आस-पास चहचहाने वाली गौरैया विलुप्ति के कगार पर