एडीबी कन्सलटेशन मिशन के सदस्यों ने जमरानी बांध के सम्बन्ध में सीएम से की भेंट 


 

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से बुधवार को विधानसभा में जमरानी पेयजल बहुउद्देशीय परियोजना का क्रियान्वयन करने वाले ए0डी0बी0 कन्सलटेशन मिशन के सदस्यों ने भेंट की। मिशन के सदस्य आजकल परियोजना स्थल, परियोजना के तकनीकि पहलुओं एवं परियोजना के क्रियान्वयन एवं पुनर्वास से संबंधित विषयों पर अध्ययन हेतु प्रदेश के भ्रमण पर आये हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस परियोजना के लिये सभी वांछित स्वीकृतियां प्राप्त हो चुकी है। 2584 करोड़ लागत की यह परियोजना भाबर क्षेत्र की लाइफलाइन होगी। इसमें ऊधमसिंहनगर व नैनीताल जिले को ग्रेविटी आधारित पेयजल की आपूर्ति हो सकेगी। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि ए0डी0बी0 कन्सलटेशन मिशन के सहयोग से शीघ्र यह परियोजना साकार रूप लेगी। ए0डी0बी0 कन्सल्टेशन मिशन के प्रिंसीपल वाटर रिसोर्सेस स्पेस्लिस्ट अर्नाड कॉचोइस ने मुख्यमंत्री को बताया कि उनके दल द्वारा परियोजना स्थल का भ्रमण एवं अधिकारियों से वार्ता करने के साथ ही ए0डी0बी0 मिशन द्वारा परियोजना के डूब क्षेत्र के एक गांव मुरकुडिया का भ्रमण किया गया तथा परियोजना से प्रभावित कुछ परिवारों से वार्ता की। परियोजना के तकनीकी पहलुओं पर विस्तार से सभी संबंधित विभागों के अधिकारियों के साथ तथा परियोजना के क्रियान्वयन एवं पुनर्वास के संबंध में जिलाधिकारी, नैनीताल से भी चर्चा की गई। उन्होंने बताया कि ए0डी0बी0 मिशन द्वारा गोला बैराज, बांध कार्यस्थल, कैचमेन्ट एरिया का भी भ्रमण किया गया तथा आयुक्त, कुमांऊ तथा जिलाधिकारी, नैनीताल एवं ऊधमसिंहनगर के साथ भी इस सम्बन्ध में विस्तृत विचार विमर्श किया गया। इस अवसर पर विधायक खजान दास, सचिव सिंचाई भूपिन्दर कौर औलख के साथ ही अर्नाड कॉचोइस, प्रिंसीपल वाटर रिसोर्सेस स्पेस्लिस्ट, बारण्डो एंजिल्स, एसोसियेट इनवायरमेंट ऑफिसर, मैरी एल. होस्टिस, वाटर रिसोर्स स्पेस्लिस्ट, फ्रांसेस्को रिकियार्डी, इनवायरमेंट स्पेस्लिस्ट, राजेश यादव, सीनियर प्रोजेक्ट ऑफिसर (नेचरल रिसोर्स एण्ड एर्गीकल्चरल) आईएनआरएम, कृष्ण एस रोतेला, ऐसोसियेट प्रोजेक्ट ऑफिसर (इंफ्रास्ट्रक्चर) आईएनआरएम आदि उपस्थित रहे।

Popular posts from this blog

नेशनल एचीवर रिकॉग्नेशन फोरम ने विशिष्ट प्रतिभाओं को किया सम्मानित

व्यंजन प्रतियोगिता में पूजा, टाई एंड डाई में सोनाक्षी और रंगोली में काजल रहीं विजेता

घरों के आस-पास चहचहाने वाली गौरैया विलुप्ति के कगार पर