शहरी विकास मंत्री पर झूठे आरोप लगाकर अपनी विफलता को छिपाने में लगे हुए कांग्रेसीः विकास तिवारी 

हरिद्वार। भारतीय जनता पार्टी के जिला महामंत्री विकास तिवारी ने कहा कि कांग्रेस के नेता सच्चाई से बौखला गए हैं और शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक पर झूठे आरोप लगाकर अपनी विफलता को छिपाने में लगे हुए हैं।  उन्होंने कहा कि आज कांग्रेस ने जो पत्रकार वार्ता कर जो कुछ कहा है वह तथ्यहीन तर्क है।  कांग्रेस के सभी स्थानीय नेता जिन्हें जनता पिछले कई विधानसभा और लोकसभा चुनाव में नकार चुकी है,वे केवल इतना बता दें कि कांग्रेस ने अपने सरकार के 10 साल के कार्यकाल में हरिद्वार के लिए क्या कार्य किया है ? जबकि 8 साल के भाजपा के मुख्यमंत्री काल में जो काम हुए हैं वह सभी के सामने हैं बजाय अपने किसी भी काम को गिनवाने  के कांग्रेस के नेताओं ने आज शहरी विकास मंत्री पर व्यक्तिगत हमले किए जिससे उनकी पोल खुल गई है। 

शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक के लगातार बढ़ते हुए जनाधार से कांग्रेसी बौखला गए हैं और यही कारण है कि आज कांग्रेस मुद्दा विहीन,विषय विहीन हो गई है।  महापौर ने जिस प्रकार कहा किसी सीवर गंगा में गिर रहा है जबकि उन्हें जानकारी होनी चाहिए कि केंद्र में भाजपा की सरकार आने के बाद हर की पौड़ी से लेकर पुलजटवाड़ा तक के सभी नाले टेप कर दिए गए हैं और जगजीतपुर और सराय में बड़ी क्षमता के एसटीपी बना दिए गए हैं और जिस प्रकार मेयर पति ने भूमिगत विद्युत लाइनों के प्रति रोष जताया तो वह यह बताएं कि शहर में वे अगर कोई विकास कार्य नहीं होने देना चाहते तो खुलकर जनता में इसका ऐलान कर दें।  अगर विकास कार्य होंगे तो शहर में  लोगों को असुविधा का भी सामना करना पड़ेगा लेकिन उन्हें यह भी बताना पड़ेगा कि 1 साल के उनके महापौर के कार्यकाल में महापौर ने नगर निगम के हित में और शहर में क्या किया है। शपथ लेने से लेकर आज तक केवल आरोप लगाती हैं इससे उलट उन्होंने नगर निगम के लिए आज तक कुछ भी नहीं किया है। तिवारी ने कहा कि  कांग्रेस को अपने 10 सालों में किए गए कार्य को बताना ही पड़ेगा नहीं तो जनता आने वाले 2022 के चुनाव में कांग्रेसी को उसकी औकात बताने का काम करेगी। 

Popular posts from this blog

नेशनल एचीवर रिकॉग्नेशन फोरम ने विशिष्ट प्रतिभाओं को किया सम्मानित

व्यंजन प्रतियोगिता में पूजा, टाई एंड डाई में सोनाक्षी और रंगोली में काजल रहीं विजेता

घरों के आस-पास चहचहाने वाली गौरैया विलुप्ति के कगार पर