यूथ फॉर सेवा एवं गिव पेपर बैक का उत्तराखण्ड में हुआ उ्दघाटन

देहरादून। बीते दिनो देहरादून स्थित सामाजिक संस्था प्ंडित दीन दयाल उपाध्याय एक्शन एंड रिसर्च सोसाइटी व देश की जानी मानी सामाजिक संस्था यूथ फाॅर सेवा ने साथ मिलकर कागज के पुनः इस्तेमाल का एक कार्यक्रम शुरू किया है जिसमें कि देहरादून के लगभग 100 प्राइवेट विद्यालयों के शिक्षक एवं शिक्षार्थीयों को कागज के पुनः उपयोग पर जागरूक किये जाने की योजना है। जिसमें अभी तक देहरादून स्थित कुछ चर्चित स्कूल जैसे कारमन स्कूल , सैलाकुई वल्ड स्कूल, ओलंपस हाई स्कूल, हिल्टन व आर्यन इत्यादि स्कूल इस कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिये आगे आए हैं।

 इस कार्यक्रम के बारे में संस्था की अध्यक्ष नेहा जोशी जी द्वारा बताया गया कि इस मिशन को गीव पेपर बैक नाम दिया गया है जिसमें देहरादून के विद्यालयों में छात्रों से शैक्षणिक वर्ष के अंत में पुरानी व इस्तमाल की हुई काॅपियां, कागज ,व किताबें जो कि प्रायः रद्दी में दी जाती हैं या फिर किसी काम की नहीं होती उन्हें इकट्ठा कर संस्था द्वारा पुनः उपयोग लायक बनाया जाएगा। नेहा जोशी द्वारा यह भी बताया गया कि इस कार्यक्रम के माध्यम से वे युवा वर्ग में स्वयंसेवी की भावना को बढ़ावा देना चाहते हैं । इस कार्यक्रम से अभी केवल देहरादून के विद्यालयों से ही इस साल लगभग दस लाख कागज बचाने व पुनः उपयोग लायक बनाने का लक्ष्य रखा गया है जिससे कि पर्यावरण में पेड व जल बचाने में काफी सहायता मिलेगी। बताते चलें कि यूथ फाॅर सेवा बैंगलौर स्थित भारत देश की एक प्रचलित व पुरस्कृत संस्था है जो कि देश के 11 राज्यों में काम कर रही है व देहरादून से ,उत्तरखण्ड के लिए अभी शुरूआत कर रही है। वहीं पंडित दीन दयाल उपाध्याय एक्शन एंड रिसर्च सोसाइटी , देहरादून की एक रजिस्टर्ड संस्था है जो  विगत वर्षों से देहरादून जनपद के ग्रामीण क्षेत्रों व शहर में समाज कल्याण के कार्य करती आ रही है ।

Popular posts from this blog

नेशनल एचीवर रिकॉग्नेशन फोरम ने विशिष्ट प्रतिभाओं को किया सम्मानित

व्यंजन प्रतियोगिता में पूजा, टाई एंड डाई में सोनाक्षी और रंगोली में काजल रहीं विजेता

घरों के आस-पास चहचहाने वाली गौरैया विलुप्ति के कगार पर