Monday, 16 March 2020

भालू ने पांच महिलाओं पर हमला कर किया घायल, दो की हालत गंभीर-ऋषिकेश एम्स में भर्ती


देहरादून। गढ़वाल वन प्रभाग की पौड़ी रेंज के कोट ब्लाक के कोटा गांव के पास भालू ने सोमवार को पांच महिलाओं को हमला कर घायल कर दिया। घायलों को उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया। जिसमें से दो महिलाएं गंभीर रूप से घायल हो गई। स्थानीय ग्रामीणों की मांग पर पौड़ी के डीएम धीरज सिंह गब्र्याल ने घायलों को हायर सेंटर भेजने के लिए एयर लिफ्ट की व्यवस्था की। दोनों गंभीर घायल महिलाओं को हैली की मदद से ऋषिकेश एम्स के लिए रेफर किया जा सका। यह हमला तब हुआ जबकि महिलाएं गांवों के ही पास जंगल में बकरी चुगाने और घास लेने गई थी। भालू के हमले के बाद स्थानीय ग्रामीणों में दहशत है।  ग्रामीणों ने वन विभाग से जल्द भालू के आतंक से निजात दिलाने व घायलों को मुआवजा देने की मांग की है। वहीं, वन विभाग का कहना है कि मौके पर टीम भेजी जा रही है। मेडिकल रिपोर्ट आने पर नियमानुसार मुआवजे की प्रक्रिया की जाएगी। गढ़वाल वन प्रभाग में वन्य जीवों के हमले थमने का नाम नहीं ले रहे है।

सोमवार को पौड़ी मुख्यालय से सटे कोट ब्लाक के कोटा गांव निवासी दुर्गी देवी 36 साल, किशोरी देवी 38 साल, नौगांव निवासी मीना देवी 35 साल, सुम्मी देवी 37 साल, पित्तू गांव निवासी तामेश्वरी देवी 42 साल को भालू ने हमला कर घायल कर दिया। बताया गया कि ये सभी महिलाएं गांवों के पास ही जमरी भैलतोक में बकरी चुगाने व घास लेने गई थी। हमले की सूचना मिलते ही ग्रामीणों ने शोर मचाया तब जाकर भालू से महिलाओं की जान बच सकी। पौड़ी के डीएम धीराज सिंह गब्र्याल ने बताया कि स्थानीय ग्रामीणों व जनप्रतिनिधियों ने गंभीर घायलों को हायर सेंटर भेजने के लिए हैली सेवी की मांग की थी जिस पर त्वरित उपचार के लिए यह सुविधा मुहैया करवा दी गई। जिला अस्पताल के पीएमएस डा. आरएस राणा ने बताया कि भालू के हमले में गंभीर घायल दुर्गी देवी व मीना देवी को हैली सेवा की मदद से ऋषिकेश एम्स के लिए रेफर किया गया है। हमले की सूचना पर वन विभाग की टीम भी जिला अस्पताल पहुंची। वन विभाग की टीम के अस्पताल पहुंचने पर महाकाल सेना, स्थानीय ग्रामीणों व जनप्रतिनिधियों ने रेंजर पौड़ी अनिल भट्ट से घायलों को उचित मुआवजा देने व क्षेत्र में भालू के आतंक से निजात दिलाने की मांग उठाई। रेंजर ने जनप्रतिनिधियों की बात डीएफओ गढ़वाल से भी करवाई। रेंजर ने बताया कि क्षेत्र में टीम भेजी जा रही है। घायलों को नियमानुसार मुआवजा दिया जाएगा।

Featured Post

जवानों की शहादत का कोई मोल नहीं है केंद्र सरकार की नजरों मेंः मोर्चा

-देश की एजेंसियों को विरोधियों को कमजोर करने व चुनावी षड्यंत्र के काम से हटाए सरकार -उत्तराखंड के जवानों की दिनों-दिन हो रही शहादत पर...