Tuesday, 25 August 2020

272 पंजीकृत निर्माण श्रमिकों को राशन किट व छातों का वितरण किया गया



ऋषिकेश। उत्तराखंड भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड के अंतर्गत आज 272 पंजीकृत निर्माण श्रमिकों को विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल के माध्यम से राशन किट एवं छातों का वितरण किया गया। बैराज रोड स्थित कैंप कार्यालय पर कृष्णा नगर क्षेत्र के श्रमिकों को आज श्रम विभाग के अंतर्गत पंजीकृत श्रमिकों को राशन किट एवं छाते वितरित करते हुए विधानसभा अध्यक्ष श्री प्रेमचंद अग्रवाल ने कहा है कि किसी भी पंजीकृत श्रमिकों को राशन किट से वंचित नहीं रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रत्येक पंजीकृत श्रमिक को राशन किट एवं सरकार द्वारा प्रदत प्रत्येक योजना का लाभ दिया जाएगा।
      श्री अग्रवाल ने कहा है कि ऋषिकेश विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत कुल 7500 पंजीकृत श्रमिक है स जिसमें से 3600 श्रमिकों को पूर्व में राशन किट का वितरण किया जा चुका है शेष 3900 पंजीकृत श्रमिकों को राशन किट वितरित किया जाना है। इस अवसर पर श्री अग्रवाल ने कहा है कि कौशल विकास के अंतर्गत 1246  पंजीकृत श्रमिकों ने प्रशिक्षण प्राप्त किया था, जिनको प्रशिक्षण की धनराशि दे दी गयी है। वहीं कोविड-19 के अंतर्गत बोर्ड द्वारा 5647 पंजीकृत श्रमिकों को दो चरणों में एक-एक हजार रु की आर्थिक सहायता श्रमिकों के बैंक खातों में ट्रांसफर कर दी गई है। श्री अग्रवाल ने श्रम विभाग के अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा है कि  पंजीकृत किसी भी श्रमिकों को  बोर्ड द्वारा संचालित योजनाओं से वंचित ना रखा जाए। प्रत्येक पंजीकृत श्रमिकों को  सरकार द्वारा संचालित योजना का लाभ सुनिश्चित किया जाए। इस अवसर पर  सहायक श्रम आयुक्त केके गुप्ता ने कहा है कि पंजीकृत श्रमिकों के लिए सरकार द्वारा संचालित प्रत्येक योजना का लाभ दिया जाएगा। कार्यक्रम के वीरभद्र मंडल के अध्यक्ष अरविंद चैधरी ने विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल का आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर श्रम प्रवर्तन अधिकारी, राम छटटू, पूर्व पार्षद कविता शाह, अनीता प्रधान, सुरेंद्र सिंह, सुभाष बाल्मीकि, रमेश चंद शर्मा के अलावा कृष्णा देवी, राम अवतारी, उमा देवी, बच्चन सिंह, रुकमणी, पुष्पा देवी आदि लाभार्थी उपस्थित थे।


Featured Post

स्वाध्याय भवन में धूमधाम से मनाई गई श्रुत पंचमी

देहरादून, (गढ़ संवेदना)। जैन समाज द्वारा श्रुत पंचमी धूमधाम से मनाई गई। इस दिन भगवान महावीर के दर्शन को पहली बार लिखित ग्रंथ के रूप में प्रस...