जे.ई.ई. एवं एनईईटी की परीक्षा का कांग्रेस करेगी विरोध

-केन्द्र सरकार के संस्थानों के सामने प्रदेशभर में किया जायेगा प्रदर्शनः प्रीतम सिंह

देहरादून। पूरे देश में कोरोना महामारी (कोविड-19) अपने चरम पर है तथा हर रोज हजारों की संख्या में संक्रमितों की संख्या बढ़ती जा रही है। परन्तु केन्द्र की भाजपा सरकार बिना जनता की जान की परवाह किये जे.ई.ई. एवं एनईईटी की परीक्षा कराने पर आमादा है। प्रीतम सिंह ने को कोरोना काल में जे.ई.ई. एवं एनईईटी की परीक्षा आयोजित कराये जाने के निर्णय को अव्यवहारिक बताते हुए इसे नौजवानों के जीवन के साथ खिलवाड बताया है।
  प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने कहा कि कांग्रेस पार्टी वर्तमान परिस्थितियों में जे.ई.ई. एवं एनईईटी की परीक्षा का पुरजोर विरोध करती है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी परीक्षा निरस्त कराये जाने की मांग को लेकर 28 अगस्त को प्रदेशभर में जिला मुख्यालयों में केन्द्र सरकार के संस्थानांे के सामने प्रदर्शन कर अपना विरोध दर्ज किया जायेगा तथा इसी कार्यक्रम के तहत प्रदेश मुख्यालय देहरादून में केन्द्र सरकार के संस्थान सी.बी.एस.ई. कार्यालय राजेन्द्र नगर में प्रातः 1030 बजे विशाल प्रदर्शन किया जायेगा। उन्होंने कहा कि जहां एक ओर कोरोना महामारी में केन्द्र की भाजपा सरकार अपनी नाकामी को छुपाने के लिए विपक्षी दल के नेताओं के खिलाफ राजनैति षडयंत्र के तहत फर्जी मुकदमें दर्ज कर उनका उत्पीड़न कर रही है वहीं जे.ई.ई. एवं एनईईटी जैसी परीक्षा का आयोजन कर युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड कर रही है। प्रीतम सिंह ने यह भी कहा कि एक ओर जहां कोरोना महामारी अपने चरम पर है वहीं भारी बरसात और बढ़ से देश के कई शहरों के हालात नाजुक हैं तथा कई षहर जलमग्न हो रखे हैं, ऐसे समय में केन्द्र सरकार द्वारा जे.ई.ई. एवं एनईईटी परीक्षा का आयोजन किसी भी स्थिति में उचित नहीं ठहराया जा सकता है। उन्होनें कहा कि कांग्रेस पार्टी केन्द्र सरकार के इस फैसले का विरोध करते हुए मांग करती है कि जे.ई.ई. एवं एनईईटी की परीक्षा स्थगित की जाय तथा कोरोना एवं बाढ के हालात सुधरने पर ही परीक्षा आयोजित की जाय।


Popular posts from this blog

नेशनल एचीवर रिकॉग्नेशन फोरम ने विशिष्ट प्रतिभाओं को किया सम्मानित

व्यंजन प्रतियोगिता में पूजा, टाई एंड डाई में सोनाक्षी और रंगोली में काजल रहीं विजेता

शिक्षा अधिकारियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने को एसएसपी को भेजा पत्र, DG शिक्षा से की विभागीय कार्रवाई की मांग