पीएम आवास योजना में स्वीकृत 17,227 लाभार्थियों में से अपात्र 4175 के नाम हटाने का अनुमोदन

देहरादून। प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के अन्तर्गत गठित राज्य स्तरीय अनुमोदन एवं अनुश्रवण समिति (एस.एल.एस.एम.सी) के अध्यक्ष/मुख्य सचिव ओम प्रकाश की अध्यक्षता में बैठक हुई। बैठक में भारत सरकार से वर्ष 2015 से 2019 तक प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) में स्वीकृत 17,227 लाभार्थियों में से पाये गये अपात्र 4175 लाभार्थियों के नाम हटाने का अनुमोदन किया गया।
मुख्य सचिव द्वारा हटाये गये लाभार्थियों की सूची पर चर्चा करते हुए इनमें शामिल 36 पट्टाधारक लाभार्थियों के प्रकरणों को दुबारा रिव्यु करने के निर्देश दिये जिनमें  सचिव शहरी विकास द्वारा बताया गया कि इनमें शामिल लाभार्थियों में 161 नजूल भूमि, 480 आबादी क्षेत्र, 36 पट्टाधारक, 225 भूमि अनुपलब्धता, 1295 पक्का मकान वाले तथा 1932 निरस्त किये जाने वाले प्रकरण में अधिक आय, अन्य आवास योजना से लाभान्वित होने अथवा नगरीय क्षेत्र से बाहर होने या अनुसूचित जनजाति वर्ग की भूमि के कारण हटाये गये हैं। मुख्य सचिव ने सचिव शहरी विकास को निरस्त पट्टाधारको को कम किराये वाले आवासीय परिसरों मे भवन दिलाने की संभावना पर भी विचार करने के निर्देश दिये।
एसएलएसएमसी द्वारा 14 नगर निकायों में 211 आवासों के विस्तारीकरण के प्रस्ताव को भी अनुमोदन प्रदान किया गया। प्रधानमंत्री आवास योजना में स्वीकृत की जाने वाली कार्ययोजना में विभिन्न शासकीय निकायों की 14 कार्ययोजना को अनुमोदन किया गया। पूर्व में इस योजना में स्वीकृत 59 कार्ययोजना में कार्य गतिमान है। मुख्य सचिव ने चर्चा के दौरान प्रधानमंत्री आवास योजना अर्बन में कम किराये वाले आवासीय परिसर निर्माण योजना के लिए मॉडल 1 में शहरी विकास तथा मॉडल 2 में आवास विभाग को नामित किया गया तथा इस योजना में शासकीय विभागों से निर्माणकार्य न कराने की एसएलएसएमसी में सहमति बनी। बैठक में सचिव शहरी विकास श्री शैलेश बगोली, सचिव राजस्व सुशील कुमार, निदेशक शहरी विकास वीके सुमन सहित सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित थे।


Featured Post

कोरोना महामारी के कारण दिवंगत हुए व्यापारियों के परिजनों को आर्थिक सहायता प्रदान करें सरकार, दून वैली महानगर उधोग व्यापार मंडल ने सीएम को भेजा ज्ञापन

देहरादून। दून वैली महानगर उधोग व्यापार मंडल ने कोरोना महामारी के कारण दिवंगत हुए व्यापारियों के परिजनों को तुरन्त आर्थिक सहायता प्रदान किए ज...