पुलिस ने दो चेन स्नेचर दबोचे



देहरादून। ऋषिकेश कोतवाली पुलिस ने महिला से चेन लूट के मामले में दो शातिरों को गिरफ्तार किया है। साथ ही चेन भी बरामद कर ली है। आरोपितों के कब्जे से एक तमंचा 315 बोर, एक जिंदा कारतूस और डिस्कवर मोटरसाइकिल बरामद हुई है। गिरफ्तार अभियुक्त पवन उर्फ पम्मा थाना डोईवाला से चार बार और थाना रानीपोखरी से दो बार लूट व चोरी की घटना में जेल जा चुका है। कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक रितेश शाह ने बताया कि 27 अगस्त को कोतवाली ऋषिकेश में शिकायतकर्ता ऋषिका महेर पुत्री सुनील महेर निवासी गुमानीवाला ने एक शिकायती प्रार्थना पत्र दिया। इसमें उन्होंने कहा कि बीते गुरुवार को पांच बजे वो स्कूटी से गुमानीवाला से आइडीएल ग्राउंड में जा रही थी। रास्ते में मनसा देवी रेलवे फाटक के पास दो अज्ञात बाइक सवारों ने उनके गले से सोने की चेन खींच ली। युवती ने उनका पीछा भी किया, लेकिन वो निकल गए। उनकी गाड़ी की नंबर प्लेट मुड़ी हुई थी। इससे उन्हें पूरा नंबर भी नहीं दिखाई दिया। शिकायत पर अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत किया गया।
गुरुवार शाम मुखबिर की सूचना पर परशुराम चैक पर चेकिंग के दौरान संदिग्ध मोटरसाइकिल और उसमें सवार दो व्यक्तियों को रोककर पूछताछ की गई, तो मोटरसाइकिल का मेक (मैन्युफ्केचरिंग), मॉडल और रंग सीसीटीवी से प्राप्त फोटो से मिलता हुआ पाया गया। इसपर दोनों अभियुक्तों की तलाशी लेने पर इनके पास से सोने की चेन, एक तमंचा 315 बोर और एक जिंदा कारतूस बरामद हुआ। गिरफ्तार आरोपितों में पवन उर्फ सुखबीर उर्फ पम्मा पुत्र दिनेश सिंह निवासी बालाजी पेट्रोल पंप के पीछे जीवन वाला थाना डोईवाला देहरादून, बलविंदर पुत्र सुमेर चंद निवासी नूनूवाला थाना डोईवाला देहरादून शामिल है।
पूछताछ करने पर अभियुक्त सुरवीर उर्फ सुखविंदर उर्फ पवन उर्फ पम्मा ने बताया था कि वो नशे करने का आदी है और इसकी पूर्ति के लिए चोरी के साथ ही छीना-झपटी भी करते थे। पहले भी वो थाना डोईवाला और रानीपोखरी से चार पांच बार मोबाइल, चेन छीनना और अवैध चाकू रखने के आरोप में अपने साथी विजय तोपवाल उर्फ वीरू निवासी डोईवाला के साथ जेल जा चुका है।


Featured Post

चौबट्टाखाल के लोगों को मदद करने के लिए उत्तराखंड प्रगतिशील पार्टी ने शुरू की अनोखी पहल

सतपुली/देहरादून। उत्तराखंड प्रगतिशील पार्टी के चैबट्टाखाल संयोजक चंद्रशेखर नेगी ने लोगों को मदद करने के लिए अनोखी पहल की शुरुआत की। पूर्व ...