Saturday, 19 September 2020

दून उद्योग व्यापार मंडल के पूर्ण बंदी के ऐलान का नहीं दिखा असर, खुले रहे बाजार

देहरादून। बढ़ते कोरोना के कारण दून उद्योग व्यापार मंडल के शनिवार को पूर्ण बंदी के ऐलान को व्यापारियों ने खारिज कर दिया। कुछ दुकानों को छोड़ सभी बाजार पूरी तरह से खुले रहे। शुरू से ही इसका विरोध कर रहे दून वैली व्यापार मंडल, कांग्रेस व्यापार मंडल व प्रांतीय उद्योग व्यापार मंडल ने इसके लिए व्यापारियों का आभार प्रकट किया है। कहा कि जब तक प्रशासन या सरकार इस प्रकार का कोई आदेश नहीं देती है, कुछ लोगों के ऐलान पर बाजारों को बंद नहीं होने दिया जाएगा। 
विदित, है कि दून में कोरोना का संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है, रोज बड़ी संख्या में नए मरीज सामने आ रहे हैं और कोरोना संक्रमितों की मौत हो रही है। जिसको देखते हुए दून उद्योग व्यापार मंडल ने सीएम, जिलाप्रशासन और मेयर से मुलाकात कर दून में दो दिन शनिवार और रविवार को पूर्ण बंदी की मांग की थी। व्यापार मंडल का दावा था कि मुख्यमंत्री, जिलाप्रशासन और मेयर ने उनका समर्थन किया है। साथ ही शनिवार को बाजारों में सैनिटाइज करने का भरोसा दिया है। शुक्रवार को बाकायदा दून उद्योग व्यापार मंडल ने शनिवार को पूर्ण बंदी का ऐलान भी कर दिया था। लेकिन पूर्ण बंदी का लगातार विरोध कर रहे दून वैली महानगर व्यापार मंडल और प्रांतीय उद्योग व्यापार मंडल के साथ ही कांग्रेस व्यापार मंडल ने व्यापारियों ने अपील की थी कि वह अपने दुकानों को खोले रखें।
जब तक सरकार या प्रशासन इस प्रकार का कोई आदेश नहीं देता ,तब तक कोई भी बाजार बंद न करें। उनका कहना था कि लंबे समय से बाजार बंद होने से व्यापारियों के सामने आर्थिक संकट उत्पन्न हो गया है। अब जाकर कुछ राहत मिली है। ऐसे में सप्ताह में दो दिन बाजार बंद होने से व्यापारियों के आगे फिर से संकट पैदा हो जाएगा। व्यापारी संगठनों के अलग-अलग सुर के कारण व्यापारियों में बाजार को खुला या बंद रहने को लेकर असंमसज की स्थिति बन गई थी, लेकिन व्यापारियों ने दून उद्योग व्यापार मंडल के पूर्ण बंदी के ऐलान को नकार दिया। शनिववार को बाजारों में कुछ दुकानों को छोड़कर सभी दुकानें खुली रही।
पूर्व की भांति बाजारों में रौनक देखने को मिली। जिसके लिए दून वैली महानगर व्यापार मंडल के अध्यक्ष पंकज मैसौन ने व्यापारियों का आभार प्रकट किया। उन्होंने कहा कि कुछ लोग संगठन की आड लेकर व्यापारियों को गुमराह कर रहे हैं। यह वह लोग है, जिनके बड़े बिजनेस है। उन्हें छोटे व्यापारियों की कोई चिंता नहीं है। कहा कि भविष्य में भी व्यापारी ऐसे लोगों के झांसे में न आएं और जब तक प्रशासन की ओर से कोई आदेश नहीं आता है, तब तक बाजार बंद न करें।


Featured Post

तकिये से दबाकर बेटे की हत्या करने के बाद खुद फंदे से लटक गई मां

रुद्रपुर। रुद्रपुर में दो मौतों का सनसनीखेज मामला सामने आया है। चचिया ससुर के घर खेड़ा आई ट्रांजिट कैम्प निवासी महिला ने बीती देर रात पहले ...