Friday, 18 September 2020

जबरदस्ती बंद नहीं होगा दून

देहरादून। दून में दो दिन के लॉकडाउन को लेकर व्यापारियों का विवाद अब भाजपा वर्सेज कांग्रेस हो गया है। भाजपा से जुड़े व्यापारी जबरन दो दिन का लॉकडाउन करने पर अड़े हैं तो वहीं कांग्रेस से जुड़े व्यापारी अब किसी भी हालत में लॉकडाउन के पक्ष में नहीं हैं। जबकि जिलाधिकारी डा. आशीष श्रीवास्तव ने जबरन बाजार बंद करवाये जाने वालों पर सख्त कार्रवाई करने की चेतावनी दी है।
देहरादून में बाजार दो दिन के लिए पूर्णतः बंद रखने के लिए भाजपा का एक व्यापारी गुट इन दिनों पूरी कोशिश में लगा हुआ हैं। ये व्यापारी जबरन दो दिन के लॉकडाउन के लिए अड़े हुए हैं। जबकि भाजपा से ही जुड़े कई व्यापारी अब लॉकडाउन के पक्ष में नहीं हैं। क्योंकि उन्हें तो रोज दुकान खोलने पर ही कमाई करनी होती है और उनका परिवार पलता है। दून में वैसे भी रविवार को साप्ताहिक बंदी के कारण बाजार बंद रहता है। इसके बावजूद अगर एक दिन का और पूर्ण बंद कर दिया गया तो इन लोगों के समक्ष परेशानी खड़ी हो जाएगी।
हालांकि भाजपा से जुड़े होने के चलते ये लोग खुलकर सामने भी नहीं आ सकते हैं। बडी दुकाने व शॉपिंग मॉल आदि चलाने वाले व्यापारियों को दो दिन के लॉकडाउन से कोई फर्क नहीं पड़ेगा क्योंकि इनके द्वारा उपभोक्ताओं को होम डिलीवरी की सुविधा दी जाती है लेकिन जो छोटे व्यापारी या दुकानदार हैं उनके लिए बड़ी समस्या हो जाएगी। रोज कमा कर घर चलाने वाले दुकानदार अभी तो साप्ताहिक बंदी में ही दिक्कत में आ जाते हैं तो ऐसे में दो दिन का लॉकडाउन उनके लिए जानलेवा साबित होगा।
भाजपा गुट के इन व्यापारियों ने मेयर, डीएम और सीएम से इस बारे में मुलाकात की लेकिन लॉकडाउन पर सहमति नहीं मिलने पर इन व्यापारियों ने स्वयं ही दुकानें बंद रखने का निर्णय ले लिया। जिसका अन्य व्यापारियों द्वारा विरोध किया जा रहा है।
उधर कांग्रेस से जुड़े व्यापारी गुट ने लॉकडाउन की मांग को अनुचित करार दिया है। कांग्रेसियों ने इस संबंध में साफ किया है कि जब तक सरकार द्वारा लॉकडाउन पर फैसला नहीं लिया जाता है तो तब वे अपने दुकान या प्रतिष्ठान बंद नहीं करेंगे। कांग्रेसियों का कहना है कि कुछ चुनिंदा व्यापारी छोटे व्यापारियों की कमर तोड़ना चाहते हैं। ताकि वे बाजार पर अपना अधिकार जमा सकें। इसीलिए इनके द्वारा बाजार बंद करवाने को लेकर भ्रांतियां फैलाई जा रही हैं। लॉकडाउन का समर्थन वे व्यापारी कर रहे हैं जिनके बड़े शॉपिंग कांप्लेक्स और मॉल हैं। ऐसे में छोटे और मंझोले व्यापारियों के समक्ष रोजीकृरोटी का संकट खड़ा हो जाएगा।


Featured Post

तकिये से दबाकर बेटे की हत्या करने के बाद खुद फंदे से लटक गई मां

रुद्रपुर। रुद्रपुर में दो मौतों का सनसनीखेज मामला सामने आया है। चचिया ससुर के घर खेड़ा आई ट्रांजिट कैम्प निवासी महिला ने बीती देर रात पहले ...