Friday, 25 September 2020

केंद्रीय संयुक्त सचिव निधि मणि त्रिपाठी ने कोविड-19 के कार्यों की समीक्षा की



रुद्रपुर। कलेक्ट्रेट सभागार में वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय भारत सरकार की संयुक्त सचिव निधि मणि त्रिपाठी ने कोविड-19 के कार्यों की समीक्षा की उन्होंने होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों के बारे में विस्तृत चर्चा की। इस दौरान जिलाधिकारी रंजना राजगुरु ने कोविड-19  के संक्रमण से जनपद के बचाव के लिए किये जा रहे कार्यों से अवगत कराया एवं विन्दुवार सभी आंकड़ों पर विस्तृत जानकारी दी।
उन्होंने कहा कि अभी तक जनपद में आरटीपीसीआर से 78158, एन्टीजन टेस्ट से 221996 एवं ट्रू नेट के माध्यम से 4036 टेस्ट किये जा चुके हैं। और जनपद में रिकवरी रेट 80.7 प्रतिशत  है। जनपद में एम्बुलेंस, ऑक्सीजन आदि की कोई समस्या नहीं है एवं आशा और ए एन एम द्वारा 4 बार सर्वे किया जा चुका है और 5 वी बार क्षेत्र में सर्वे का कार्य किया जा रहा है। पूरे जनपद में अब खटीमा में मात्र 17 कंटेन्मेंट जोन ही बचे हैं। जनपद में 68 प्रतिशत मरीज होम आइसोलेशन में रह रहे हैं, होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों की देखभाल के लिए आशाओं की समिति गठित की गई है जो कम से कम दिन में 3 बार उनके जांच के लिए जाती हैं। उन्होंने बताया कि जनपद के अधिकांश क्षेत्रों में आम जनता के अंदर सैम्पलिंग लेने को लेकर कई प्रकार की भ्रांतियां थी जिसे संयुक्त मजिस्ट्रेट एवं अन्य अधिकारियों द्वारा मौके पर जाकर जनता को समझाने का प्रयास किया गया जिसके बाद अब सैम्पलिंग आसानी से हो रही है। जनपद में एक कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है जो 24Û7  की सेवा दे रहा है। जिससे पूरे जनपद की स्थिति की जानकारी रखी जा रही है और कंट्रोल रूम का नम्बर समय समय जनहित में जारी किया जाता है जिससे मरीजों व उनके परिजनों को किसी भी प्रकार की समस्या हो तो वह तुरन्त कन्ट्रोल रूम में सम्पर्क कर सकते हैं।मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने अवगत कराया कि स्वस्थ विभाग के पास दवाईयां, मास्क, पीपीई किट आदि सभी प्रकार के इक्यूपमेंट प्रयाप्त मात्रा में उपलब्ध हैं। ऋषिकेश में स्थित एम्स के आर एम डॉ गिरीश सिन्धवानी ने कहा कि मधुमेह रोगियों पर विशेष रूप से ध्यान देने की आवश्यकता है, इन रोगियों को ही सबसे ज्यादा कोविड-19 का खतरा बना रहता है। इस दौरान संयुक्त सचिव निधि मणि त्रिपाठी ने निर्देश दिए कि होम आइसोलेशन में रह रहे लोगों को कोविड-19 संक्रमण से बचाव के लिए मास्क डिस्पोजल, शोसल डिस्टनसिंग आदि की पूरी जानकारी दे। इस मौके पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डी एस कुँवर, मुख्य विकास अधिकारी हिमांशु खुराना, अपर जिलाधिकारी जगदीश चंद्र काण्डपाल, अपर जिलाधिकारी उत्तम सिंह चैहान, कुमाऊँ स्वस्थ निदेशक डॉ शैलजा भट्ट, संयुक्त मजिस्ट्रेट विशाल मिश्रा, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डी एस पंचपाल, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ अविनाश खन्ना, अपर पुलिस अधीक्षक प्रमोद कुमार, जिला विकास प्राधिकरण के सचिव पंकज उपाध्याय डॉ मनु खन्ना आदि लोग मौजूद थे।


Featured Post

कोरोना काल के पश्चात राफ्टिंग का प्रारंभ होना बेहद सुखदः महाराज

ऋषिकेश। पर्यटन व्यवसाय से जुड़े 15 हजार लोगों को पर्यटन विभाग की ओर से अब तक 7 करोड़ की धनराशि वितरित की जा चुकी है। उक्त बात गंगा नदी राफ...