Tuesday, 8 September 2020

विधायक महेश नेगी की विधानसभा सदस्यता रद्द की जायेः उमा सिसोदिया



देहरादून। आम आदमी की पूर्व प्रदेश संगठन मंत्री व रायपुर विधानसभा प्रभारी उमा सिसोदिया ने भाजपा पर दुष्कर्म व शारीरिक शोषण के आरोपी अपने विधायक को बचाने का आरोप लगाते हुये विधायक महेश सिंह नेगी की विधानसभा सदस्यता रद्द कर पार्टी से निलंबित करने की मांग की है।
मीडिया को जारी एक बयान में उमा सिसोदिया ने कहा कि प्रदेश की त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार अपने दुष्कर्मी विधायक को बचाने की कोशिश करती रही है।  महेश नेगी प्रकरण में यह स्पष्ट नजर आ रहा था कि पुलिस आरोपी विधायक को बचाने के लिये सरकार के दबाव में काम कर रही थी और पीड़िता के पक्ष में किसी भी प्रकार की कार्यवाही पुविस द्वारा नहीं की जा रही थी। पीड़िता की एफआईआर दर्ज ना कर उल्टे पीड़िता के ऊपर ही राजनैतिक दबाव में एफआईआर दर्ज कर दी गई। पीड़िता व उसके परिजनों द्वारा विधायक के डीएनए टेस्ट किये जाने की मांग पर भी कोई सुनवाई नहीं ्की गई। उमा सिसोदिया ने कहा कि बहुत ही शर्मनाक है कि जीरो टालरेंस का झूठा दावा करने वाली त्रिवेंद्र रावत सरकार को माननीय न्यायालय के आदेश व फटकार के बाद आरोपी विधायक पर दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज करना पड़ा है। भाजपा का चाल-चरित्र और चेहरा हमेशा से ही महिला विरोधी रहा है। अपने दुष्कर्मी नेताओं को बचाने के लिये भाजपा हमेशा आगे बढ़कर सामने आती रही है। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी विधायक महेश नेगी की विधानसभा सदस्यता रद्द कर उन्हें भाजपा से निलंबित करने की माँग करती है। मातृशक्ति के बलिदान से बने उत्तराखण्ड में महिलाओं का अपमान व शोषण किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। यदि त्रिवेंद्र रावत सरकार द्वारा राजनैतिक दबाव का इस्तेमाल कर दुष्कर्मी विधायक को बचाने की कोशिश की गई तो आम आदमी पार्टी उत्तराखंड की महिला शक्ति की अस्मिता की रक्षा के लिये सड़क से सदन तक संघर्ष जारी रखेगी और महिला विरोधी भाजपा सरकार का चेहरा जनता के सामने बेनकाब करेगी।


Featured Post

मन की बात में पीएम ने हैंडलूम एवं अन्य स्थानीय उत्पादों की खरीद पर दिया बल

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मन की बात कार्यक्रम को सुना। उन्होंने कहा कि मन की बात कार्यक्रम ...