Thursday, 1 October 2020

26 जनवरी 2021 तक पूरे जनपद को साक्षर बनायें

देहरादून। ‘‘भारत साक्षरता अभियान के अन्तर्गत 26 जनवरी 2021 तक पूरे जनपद को साक्षर बनायें ’’यह निर्देश जिलाधिकारी ने मुख्य शिक्षा अधिकारी को वीडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम आयोजित बैठक में दिये। उन्होंने शिक्षा विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि जनपद को शत् प्रतिशत् साक्षर बनाने के अभियान को प्राथमिकता से लें और पूरी ईमानदारी से इस कार्य को सम्पादित करें, इस कार्य में किसी भी तरह की ढिलाई बर्दाश्त नही की जायेगी। उन्होंने मुख्य शिक्षा अधिकारी को कहा विभिन्न क्षेत्रों के खण्ड शिक्षा अधिकारियों को कार्य की प्रगति बढाने के लिए इन्टिमेट कर दें ताकि जनपद में चयनित सभी निरक्षर लोगों को तय समय में साक्षर बनाया जा सके। उन्होंने जिला कार्यक्रम अधिकारी बाल विकास को आंगनबाड़ी के माध्यम से साक्षरता अभियान की वस्तुस्थिति की रिपोर्ट प्रस्तुत करने को कहा ताकि इसमे ंपूरी  पारदर्शिता बनी रहे।
जिलाधिकारी ने शिक्षा विभाग को यह भी निर्देश दिये कि बाल विकास विभाग और शिक्षा के सर्वे में जनपद के निरक्षर लोगों की संख्या में जो थोड़ा सा गैप आया है उसको 1 सप्ताह के भीतर ठीक करें। साथ ही साक्षर किये जाने वाले लोगों  को शिक्षण सहायक सामग्री उपलब्ध करवायें तथा साक्षरता अभियान को अंजाम देने वाले स्टाॅफ की आवश्यकता के अनुसार व्यवस्था करें।
जिलाधिकारी ने मुख्य विकास अधिकारी और मुख्य शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिये कि जनपद के सभी ग्राम प्रधानों को उनकी ग्रामसभा के चिन्हित निरक्षर लोगोें की नामवार सूचना उपलब्ध करवायें, साथ ही ग्राम प्रधान से इस बात की भी जानकारी लें कि यदि उनके गांव में कोई अन्य ऐसा निरक्षर व्यक्ति है जिसका सर्वे सूची में नाम नही हैं तो ग्राम प्रधान से उनका नाम भी सूची में जुड़वाते हुए उन्हें भी साक्षरता अभियान के साथ जोड़े।
इसके अतिरिक्त जिलाधिकारी ने  मुख्य विकास अधिकारी और मुख्य शिक्षाधिकारी से यह भी कहा कि प्रत्येक ब्लाॅक के 10 ऐसे गांव जो सबसे पहले शत-प्रतिशत् साक्षर होंगे उनको पुरस्कृत किया जायेगा। साथ ही जो ब्लाॅक सबसे पहले पूरी तरह से साक्षर होगा उस ब्लाॅक के ब्लाॅक प्रमुख को भी पुरस्कृत किया जायेगा। इसी तरह पूरे जनपद के साक्षर होने पर जिला पंचायत को भी पुरस्कृत किया जायेगा।  ग्रामीण क्षेत्रों में गांव के पूर्ण साक्षर होने का  प्रमाण पत्र ग्राम प्रधान तथा शहरी क्षेत्रों मंे सम्बन्धित पार्षद प्रमाण पत्र देंगे कि उनके क्षेत्र में सभी लोग शत्-प्रतिशत् साक्षर हो गये हैं।
जनपद में 06 वर्ष से उपर के कुल 25293 लोग निरक्षर चयनित किये गये हैं, जिनमें से 9755 लोगों को साक्षर बनाने की प्रक्रिया अन्तिम चरण में है।  इसके अतिरिक्त जिलाधिकारी ने कहा कि राज्य स्थापना दिवस 9 नवम्बर तक जितने गांव पूर्णतः साक्षर  हो सकते हैं उनका भी विवरण दें तथा अगली  बैठक में इस अभियान की जब समीक्षा की जायेगी तो उसमें तीव्र प्रगति दिखनी चाहिए।
इस दौरान बैठक में मुख्य विकास अधिकारी नीतिका खण्डेलवाल, मुख्य शिक्षाधिकारी आशा पैन्युली, जिला माध्यमिक शिक्षा अधिकारी  वाई.एस चैधरी, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी राजेन्द्र रावत उपिस्थत थे।


Featured Post

कोरोना काल के पश्चात राफ्टिंग का प्रारंभ होना बेहद सुखदः महाराज

ऋषिकेश। पर्यटन व्यवसाय से जुड़े 15 हजार लोगों को पर्यटन विभाग की ओर से अब तक 7 करोड़ की धनराशि वितरित की जा चुकी है। उक्त बात गंगा नदी राफ...