महिलाओं को आर्थिक रूप से स्वावलम्बी बनाने में स्वयं सहायता समूहों का विशेष योगदानः डीएम

नैनीताल। ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं को आर्थिक रूप से स्वावलम्बी बनाने मे स्वयं सहायता समूहों का विशेष योगदान है। जिलाधिकारी सविन बंसल का भी उददेश्य है कि ग्रामीण महिलाओं को विकास की धारा मे जोडते हुये उनके आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाया जाए ताकि वे अपने परिवार के भरण पोषण में मदद कर सके। प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिह रावत की प्राथमिकता मे भी स्वयं सहायता समूहों के जरिये महिलाओ को स्वरोजगार के अवसर दिया जाए।
गौरतलब है कि प्रकृति मे जहां उत्तराखण्ड को प्राकृतिक खुबसूरती की नेमत दी है वही प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में हस्तशिल्प, कुटीर उद्योगों के अलावा लजीज पहाडी व्यंजनों, हस्तकला, समृद्ध संस्कृति एवं परम्परागत पहनावा यहां के तीज त्यौहार भी पर्यटकों के बीच मे काफी लोकप्रिय है। देश विदेश के सैलानी उत्तराखण्ड की संस्कृति तथा यहां के लजीज व्यंजनों को काफी पसन्द करते है। जनपद नैनीताल में अब पर्यटक मौसम वर्ष भर रहता है जिसके कारण बडी संख्या मे देशी विदेशी सैलानियों का आगमन जनपद नैनीताल मे होता है। आने वाले पर्यटको को उनके भ्रमण स्थलों पर पहाडी उत्पाद व व्यंजन उपलब्ध हों इसके लिए जिलाधिकारी श्री सविन बंसल ने एक नई पहल की है। जिसके अन्तर्गत महिला स्वयं सहायता समूहों को बडे पैमाने पर आधुनिक लुक वाले वुडन आउटलैट उपलब्ध कराये जा रहे है। इस प्रकार नैनीताल प्रदेश का पहला जिला होगा जहां महिला स्वयं सहायता समूहों को जिला प्रशासन द्वारा हिलांस वुडन आउटलैट बनाकर दिये जा रहे है। जिनमे महिलायें अपने उत्पादों की ब्रिकी के साथ ही सैलानियों को लजीज व्यंजन भी परोस सकेंगी। राज्य मे पहली बार है कि इतने बडे पैमाने पर महिला स्वयं सहायता समूहों को स्वरोजगार एवं आजीविका से जोडने के लिए प्रशंसनीय कार्यवाही की जा रही हैै। जिलाधिकारी श्री बंसल की इस सकारात्मक कार्यवाही से ग्रामीण महिलाओं मे प्रशन्ता है तथा वे जिलाधिकारी की इस पहल का मुक्त कंठ से तारीफ भी कर रही है।
जिलाधिकारी के निर्देशों के क्रम मे जनपद में दीनदयाल अन्त्योदय योजना- राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत 12 पर्यटक स्थलों पर हिलांस वुडन आउटलैट तैयार कर लिये गये है। इन हिलांस वुडन आउटलैट को बनाने के लिए जिलाधिकारी द्वारा 35 लाख की धनराशि जिला योजना तथा अनटाइड फंड से उपलब्ध कराई गयी है। जनपद में 12 हिलांस वुडन आउटलैट बनकर तैयार हो चुके है। जिलाधिकारी द्वारा चयनित स्थल सातताल, स्नोव्यू, मुक्तेश्वर,नौकुचियाताल, टी गार्डन श्यामखेत, सरस मार्केट हल्द्वानी, तहसील परिसर कालाढूगी, केव गार्डन, हनुमानगढी तथा सडिया ताल में यह हिलांस वुडन आउटलेट बनकर तैयार हो गये हैै। इन वुडन आउटलैट का निर्माण कुमाऊ मण्डल विकास निगम द्वारा किया गया है। प्रत्येक आउटलेट के निर्माण 3.46 लाख की धनराशि व्यय हुई है। गौरतलब है कि इन हिलांस वुडन आउटलैट मे स्वयं सहायता समूह की महिलायें अपने विभिन्न प्रकार के उत्पाद जैसे अचार, मुरब्बा, दालें, मसाले, बडियां, हर्बल उत्पाद, रिंगालध्रामबांस से हस्त निर्मित टोकरियां एवं बैग, ऐपण व अन्य सामानों की ब्रिकी करेंगी। जिलाधिकारी की इस पहल से जहां महिलाओ को रोजगार मिलेगा वही जनपद के स्थानीय उत्पादों को पहचान एवं बाजार मिलेगा। इस प्रकार पर्यटकों के जरिये जनपद के ग्रामीण उत्पाद राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय स्तर तक पहुचेंगे। ग्रामीण एवं महिला विकास में जिलाधिकारी की यह पहल निश्चय ही प्रशंसनीय है।  


Featured Post

खाई में गिरी कार, दंपति की मौत

पौड़ी। पौड़ी देवप्रयाग मार्ग पर कुंडाधार के समीप मंगलवार सुबह एक कार अनियंत्रित होकर गहरी खाई में जा गिरी। इस हादसे में पति-पत्नी की दर्दनाक...