स्कैप चैनल के शासनादेश को वापस लेने की माँग को लेकर धरना जारी



हरिद्वार। तीर्थ पुरोहितों के द्वारा स्कैप चैनल के शासनादेश को वापस लेने की माँग को लेकर चल रहा धरना आज उनतालीसवें दिन में प्रवेश कर गया है। उपवास पर सिद्धार्थ त्रिपाठी जी व सौरभ सिखौला रहे। सिद्धार्थ त्रिपाठी ने कहा के माँ गंगा का जो स्थान व वर्णन स्कंद पुराण व अन्य धार्मिक ग्रंथों में दिया गया है।
उसके विपरीत जाकर क्यों माँ गंगा का नाम परिवर्तन किया गया। यदि तब पूर्व मुख्यमंत्री ने ऐसा किया था तो आज वर्तमान सरकार बार बार वादा करने के बाद भी क्यों वो काला शासनादेश निरस्त नहीं कर रही है। सौरभ सिखौला ने कहा के यह हरिद्वार से चार बार विधायक व दूसरी बार के कैबिनेट मंत्री की जिम्मेदारी नहीं बनती। वे अपने क्षेत्र में माँ गंगा का सम्मान वापस दिलाएँ क्योंकि ये माँ गंगा का अपमान मात्र उन्हीं के क्षेत्र में प्रवाहित हो रही माँ गंगा की अविरल धारा को स्कैप चैनल घोषित कर किया हुआ है। बड़ा दुर्भाग्यपूर्ण है जिस तीर्थ नगरी में महामना के नेतृत्व में तीर्थ पुरोहितों ने अंग्रेजी हुकूमत को झुकाया था। आज १०४ वर्ष बाद उसी तीर्थ नगरी में ही माँ गंगा को अपमानित किया जा रहा है। मंत्री से हम सभी सही जवाब की अपेक्षा करते हैं। मंत्री चुप क्यों हैं? इस चुप्पी का क्या अर्थ समझा जाए। आज धरना स्थल पर उमाशंकर वशिष्ठ, सौरभ गौतम, अनिल कौशिक, सिद्धार्थ त्रिपाठी, सुनील चाकलान, सौरभ सिखौला, प्रदीप निगारे, पुरुषोत्तम पचभैय्या, राकेश चाकलान, भवेश सिखौला, अभिषेक पुरोहित, आदित्य वशिष्ठ, अनमोल कौशिक, सुशील चाकलान, पवन पचभैय्या, हिमांशु वशिष्ठ, बादल वशिष्ठ, मनीष शर्मा आदि पुरोहित मौजूद रहे।


Featured Post

चौबट्टाखाल के लोगों को मदद करने के लिए उत्तराखंड प्रगतिशील पार्टी ने शुरू की अनोखी पहल

सतपुली/देहरादून। उत्तराखंड प्रगतिशील पार्टी के चैबट्टाखाल संयोजक चंद्रशेखर नेगी ने लोगों को मदद करने के लिए अनोखी पहल की शुरुआत की। पूर्व ...