Wednesday, 18 November 2020

बर्फवारी के बाद पर्यटकों से गुलजार हुई औली

देहरादून। विश्व प्रसिद्ध हिमक्रीड़ा स्थली औली बर्फवारी के बाद मौसम खुशगवार हो गया है। जिसके बाद औली पर्यटकों से गुलजार हो गयी है। लगभग आधा फीट बर्फ में पर्यटक खूब लुत्फ उठा रहे हैं।
स्कीइंग के लिए सबसे मुफीद माने जाने वाली औली इन दिनों पर्यटकों से गुलजार है। उत्तराखण्ड की खूबसूरत शीतकालीन पर्यटन स्थली औली में जहां तहां पर्यटक बर्फ से खेलते हुए दिखाई देते हैं। पिछले दिनों पहाड़ों में काफी बारिश और बर्फबारी हुई थी जिसके बाद मौसम में काफी बदलाव आ गया है। हालांकि इन दिनों मौसम साफ है। औली और गौरसो बुग्याल में करीब 8 इंच से लेकर आधा फिट बर्फ की मोटी चादर बिछ गई है। वही औली टॉप से ऊपर गोरसों बुग्याल तक आधा से एक फीट बर्फ की चादर बिछी हुई है।
बर्फबारी की खबर मिलते ही बदरीनाथ और जोशीमठ आये हुए पर्यटकों ने औली का रूख किया। अब तक सूनी पड़ी औली दोपहर तक रोप वे और चीयर कार में पर्यटकों की आवाजाही से गुलजार हो गई। काफी टूरिस्ट औली की बर्फीली वादियों का दीदार करने औली पहुुंचे। बर्फवारी के बाद क्षेत्र के पर्यटन कारोबारियों में भी खुशी लौट आई है। एडवेंचर टूर ऑपरेटर संघ जोशीमठ के सचिव संतोष कुंवर कहते हैं क िऔली गोरसों बुग्याल में हुई बर्फवारी से फिलहाल पर्यटक लुत्फ उठा सकते है। धार्मिक पर्यटन का सीजन लगभग समाप्त हो चुका है और अब शीतकालीन पर्यटन का समय शुरू हो रहा है। आगे और बर्फवारी होने पर इन पर्यटकों की संख्या में और भी वृद्धि हो सकती है। यहां पहुंचे पर्यटकों का कहना है कि वे कई शीतकालीन स्थलों पर घूम चुके हैं लेकिन औली जैसा स्थान उन्हें नहीं मिला। यहां आने पर महसूस हुआ है कि उत्तराखण्ड के प्राकृतिक सौंदर्य को कहीं कोई सानी नहीं है और औैली किसी जन्नत से कम नहीं है। हालांकि स्नो स्कीइंग प्रेमियों को अभी इंतजार करना होगा लेकिन कोरोना काल से ठप पड़े व्यवसाय और शांत औली को ऑक्सीजन मिल गई है।


Featured Post

देहरादून और विकासनगर के चाय बागानों की 5500 बीघा जमीन सीलिंग एक्ट के तहत सरकारी

देहरादून। चाय बागान की जमीन को लेकर अब एक नया मोड़ आ गया है। इस मामले में खुलासा हुआ है कि देहरादून ही नहीं विकासनगर तक सीलिंग की 5500 ...