पेट्रोलियम संस्थान में भारतीय अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव पर आभासी सम्मेलन आयोजित

देहरादून। सीएसआईआर भारतीय पेट्रोलियम संस्थान देहरादून में भारतीय अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव के परिचयात्मक सम्मेलन का आभासी आयोजन किया गया। पद्मभूषण डॉ अनिल प्रकाश जोशी अध्यक्ष हिमालयन पर्यावरण अध्ययन तथा संरक्षण संगठन इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि थे। डॉक्टर अं जन रे निदेशक सीएसआईआर भारतीय पेट्रोलियम संस्थान ने मुख्य अतिथि तथा इस कार्यक्रम के सभी प्रतिभागियों का स्वागत किया और मुख्य अतिथि का परिचय देते हुए उन्होंने कहा कि यह हमारा सौभाग्य है क्या आज हमारे इस कार्यक्रम मैं भारत के एक हरित क्रांतिकारी समाजसेवी तथा वनस्पति विज्ञानी मुख्य अतिथि के रुप में उपस्थित रहे। उन्होंने ग्रामीण विकास में उनके महत्वपूर्ण योगदान संबंधी जानकारी भी दी। मुख्य अतिथि डॉ जोशी ने इस अवसर पर अपने भाषण में भारत के प्रधानमंत्री की सराहना करते हुए कहा कि यह एक आत्मनिर्भर भारत तथा भारत की आर्थिक प्रगति के लिए अत्यावश्यक है उन्होंने यह भी कहा कि आत्मनिर्भरता गांवों में पहले से पाई जाती है क्योंकि वे पहले से ही आत्मनिर्भर रहे हैं गांव में कृषि इसका सबसे बड़ा उदाहरण है जिसके लिए वे स्वयं उत्पादक भी थे और बीज रखने या देने वाले भी परंतु अब दरिया बदल गए हैं तथा मैं यह मानता हूं कि भावी भारतीय अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव इन बिंदुओं पर चर्चाएं आयोजित करेगा तथा खाद्यान्न जल तथा बेहतर पर्यावरण पर ध्यान दिया जाएगा इसके साथ साथ विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी की सहायता से हरित पर्यावरण के विकास पर भी चर्चा की जाएगी उन्होंने यह भी कहा कि कोविड वैश्विक महामारी के दौरान लॉकडाउन के कारण हमारी अर्थव्यवस्था प्रभावित हुई है परंतु दूसरी और हम स्वच्छ गगन स्वच्छ जल तथा बेहतर पर्यावरण भी देख पा रहे हैं। डा. डीसी पांडे अध्यक्ष समारोह समिति आईआई पी ने भारतीय अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव 2020 की संक्षिप्त रूपरेखा बताई उन्होंने कहा कि वर्तमान वैश्विक महामारी के कारण तथा संबंधी आदेशों का पालन करते हुए भारतीय अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव 2020 की आयोजन समिति ने यह निर्णय लिया है कि इस वर्ष यह कार्यक्रम आभासी प्रारूप में आयोजित किया जाएगा उन्होंने बताया कि इस वर्ष के विज्ञान महोत्सव का विषय आप निर्धारित कथा विश्व कल्याण के लिए विज्ञान है। डॉ मनोज श्रीवास्तव प्रधान समन्वयक औद्योगिक शैक्षिक कांक्लेव ने भारतीय अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव 2020 को छात्रों अनुसंधानकर्ताओं शिक्षकों अन्वेषक को कलाकारों व्यवसायियों तथा आम जनता के लिए उपलब्ध होने वाला एक सबसे बड़ा मंच बताया जिसका मुख्य उद्देश्य युवाओं को विज्ञान की ओर प्रेरित करना भी है। भारतीय अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव का आयोजन प्रत्येक वर्ष सीएसआईआर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग जैव प्रौद्योगिकी विभाग पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय तथा विज्ञान भारती के द्वारा संयुक्त रूप से किया जाता है डॉक्टर श्रीवास्तव नहीं इस महोत्सव के विजन तथा उद्देश्य पर एक प्रस्तुति भीगी और वर्ष 2015 से प्रारंभ इस भारतीय अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव के पूर्व कार्यक्रमों की कुछ झलकियां भी प्रस्तुत की उन्होंने बताया कि इस महोत्सव के अंतर्गत एक औद्योगिक शैक्षिक सम्मेलन भी आयोजित की जा रही है जिसका समन्वयक सीएसआईआर भारतीय पेट्रोलियम संस्थान देहरादून है। डॉ ज्यति त्रिवेदी वरिष्ठ वैज्ञानिक सीएसआईआर भारतीय पेट्रोलियम संस्थान द्वारा धन्यवाद प्रस्ताव के साथ यह कार्यक्रम संपन्न हुआ।

Featured Post

उत्तराखंड में मुख्यमंत्री का चेहरा बदलने से भाजपा के पाप धुलने वाले नहींः पायलट

रुड़की। राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कहा कि उत्तराखंड में मुख्यमंत्री का चेहरा बदलने से भाजपा के पाप धुलने वाले नहीं हैं। ...