Sunday, 1 November 2020

हुजुरे पाक का अपमान इस्लाम का अपमानः हुसैन

देहरादून। तंजीम ए रहनुमा ए मिलत के केंद्रीय अध्यक्ष लताफत हुसैन ने कहा हैकि फ्रांस के राष्ट्रपति द्वारा हुजुरे पाक सल्लाह आले ही वस्सलम की शान में गुस्तानखाना शब्द कहे जाने और उनका आपत्तिजनक कार्टून (चित्र) जो दुनिया मंे उपलब्ध ही नहीं है। छापा जाना घोर अपमानजनक कृत्य है। हुजुरे पाक का अपमान इस्लाम का अपमान है और इसे किसी भी दशा में बर्दाश्त नही किया जा सकता है।ये वही राष्ट्रपति है जिसने पूर्व में भी इस्लामिक पर्दा प्रथा पर जबबर्दस्ती अपने देश मे रोक लगाकर मुसलमानों विशेषकर महिलाओं को बेनकाब अपर अपमानित करने का अपराध किया था।विश्व का मुस्लिम समुदाय जिसमे तंजीम भी शामिल है इसका शक्त जबाब देने को तैयार है और संगठन राज्य के मुस्लिम अवाम से अपील करती है कि राज्य में फ्रांस देश के जितने भी उत्पादन बाजार में उपलब्ध है कि खरीददारी को आज से ही गल्फ देशों की तरह पूर्ण बहिष्कार करे।इस संबंध में अपना विरोध प्रकट करने के लिये जिलाधकारी के माध्यम से यू एन ओ के सचिव को ज्ञापन भी दिनाँक 5 नवम्बर 2020 को प्रातः 11.30 जिलाधकारी देहरादून को उनके मुख्यालय पर दिया जायेगा।


Featured Post

मन की बात में पीएम ने हैंडलूम एवं अन्य स्थानीय उत्पादों की खरीद पर दिया बल

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मन की बात कार्यक्रम को सुना। उन्होंने कहा कि मन की बात कार्यक्रम ...