Monday, 7 December 2020

एसबीआई लाइफ ने ‘स्मार्ट फ्यूचर चॉइसेज’ सेविंग्स प्रोडक्ट लॉन्च किया

देहरादून। एसबीआई लाईफ इंश्योरेंस, जो देश का एक सबसे विश्विसनीय प्राइवेट जीवन बीमाकर्ता है, ने दमदार एसबीआई लाईफ-स्मासर्ट फ्यूचर चॉइसेज सेविंग्स प्रोडक्टो को लॉन्च किया। बीमा की आवश्यकता के बारे में ग्राहकों की बढ़ती जागरूकता के बीच लॉन्च किया गया, यह व्याक्तिगत, नॉन-लिंक्ड, पार्टिसिपैटिंग जीवन बीमा बचत प्लान ग्राहकों को पूरी पॉलिसी अवधि के दौरान समय-समय पर उनकी बदलती आवश्यकताओं के अनुसार विभिन्न विकल्पों के चुनाव की ताकत (पावर टू चूज) प्रदान करता है। एसबीआई लाईफ के स्मापर्ट फ्यूचर चॉइसेज का उद्देश्य ग्राहकों को प्रीमियम राशि, पॉलिसी अवधि या प्रीमियम भुगतान अवधि के चुनाव के साथ-साथ उनकी बदलती जरूरतों एवं आवश्यकताओं के अनुसार जीवन बीमा प्लान के फीचर्स की समीक्षा करने की शक्ति प्रदान करना है। यह प्लान, एकमुश्त या लचीले तरीके से लाभ भुगतानों के चुनाव का विशिष्ट अवसर प्रदान करता है। आप अपनी बदलती आवश्य्ाकताओं के अनुसार नियमित कैश बोनस और भुगतान का लाभ भी प्राप्त कर सकते हैं। चूंकि यह उत्पाक डीआईवाई (डू ईट योरसेल्फ)विशेषता वाला है, अतः यह मिलेनियल्स की विशिष्टि आवश्यकताएं पूरी करने के लिए उपयुक्त है, जो पूर्व में चुने गये उत्पाद लाभों तक बंधा रहना नहीं चाहते, बल्कि पॉलिसी अवधि के दौरान या मैच्योारिटी पर मिलने वाले लाभों के चुनाव की आजादी चाहते हैं। और इस प्रकार, इस उत्पाद के जरिए जीवन बीमा बाजार में मौजूद इस निहित आवश्यकता को पूरा किया गया है। एसबीआई लाईफ-स्मार्ट फ्यूचर चॉइसेज के लॉन्च पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए, एसबीआई लाईफ इंश्योरेंस के प्रेसिडेंट जोन 1,रवि कृष्णंमूर्ति ने कहा, एसबीआई लाईफ के हाल के अंडरस्टैंडिंग कंज्यूंमर ऐटिट्यूडटुआर्ड्स फाइनेंशियल इम्यूतनिटी (वित्तीय प्रतिरोधकता के प्रति ग्राहकों की प्रवृत्ति को समझना) सर्वेक्षण से वित्तीेय सुरक्षाओं हेतु व्यक्ति की आवश्यकता का पता चलता है। हम व्यक्तिगत रूप से जीवन के विकल्पों अर्थात पसंद-नापसंदों को लेकर एक हद तक नियंत्रण चाहते हैं, यह हममें सशक्तिकरण की भावना पैदा करता है।

Featured Post

देहरादून और विकासनगर के चाय बागानों की 5500 बीघा जमीन सीलिंग एक्ट के तहत सरकारी

देहरादून। चाय बागान की जमीन को लेकर अब एक नया मोड़ आ गया है। इस मामले में खुलासा हुआ है कि देहरादून ही नहीं विकासनगर तक सीलिंग की 5500 ...