Saturday, 30 January 2021

प्रोफेसर डी.डी. चैनियाल भारतीय भू-आकृतिक वैज्ञानिक संस्थान के अध्यक्ष मनोनीत

देहरादून
। दून विश्वविद्यालय देहरादून के नित्यानन्द हिमालय शोध एवं अध्ययन केन्द्र में भूगोल विभाग के विजिंटिंग प्रोफेसर डा0 डी0डी0 चैनियाल भारतीय भू-आकृतिक वैज्ञानिक संस्थान के सर्वसम्मति अध्यक्ष से मनोनीत किये गये है। इससे पूर्व प्रो0 चैनियाल इस संस्था के पांच बार उपाध्यक्ष मनोनीन होते रहे है। यह दून विश्वविद्यालय के लिये गौरव की बात है। आई0जी0आई0 का 32वाॅ राष्ट्रीय सम्मेलन दिनांक 21.01.2021 से 23.01.2021 तक पश्चिम बंगाल राज्य विश्वविद्यालय के भूगोल विभाग में सम्पन्न हुआ। इस संस्था के महासचिव इलाहाबाद विश्वविद्यालय के प्रो0ए0आर0 सिद्धीकी मनोनीत हुये है। प्रो0 चैनियाल का इस पद पर चुना जाना दूनविवि ही नहीं गढ़वाल विश्वविद्यालय के लिये भी बहुत गौरव एवं सम्मान की बात है क्योंकि इन्होनं 35 वर्ष गढ़वाल विश्वविद्यालय के भूगोल विभाग में शोध एवं अघ्यापन कार्य किया है। उत्तराखण्ड हिमालय में इस पद पर सुशोभित होने का एक मात्र सम्मान पहली बार प्रो0 चैनियाल जी को है ंजो आई0जी0आई0 संस्था के वर्ष 1987 जो आई0जी0आई0 संस्था के वर्ष 1987 से जीवन पर्यन्त सदस्य रहे है तथा राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय भूआकृतिक सम्मेलनों में भाग लेते आये है। एच0एन0बी0 गढ़वाल विश्वविद्यालय में 35 वर्ष प्रोफेसर के पद पर कार्य करते हुये इन्होने 25 शोधार्थियों को भूआकृतिक विषय पर शोध कार्य सम्पन्ना किये हैं। आज उनके द्वारा पढ़ाये गये छात्र उत्तराखण्ड के विभिन्न महाविद्यालयों तथा विश्वविद्यालयों में कार्यरत है। डा0 चैनियाल अन्तर्राष्ट्रीय भूआकृतिक सम्मेलनों में भी अपने शोध पत्र पढ़ चुके हैं। अब उनका प्रमुख उद्देश्य दून विश्वविद्यालय में डा0 नित्यानन्द हिमालयन शोध संस्थान को स्थापित करना तथा उसके अन्तर्गत हिमालय के विभिन्न पहलूओं पर शोध, प्रकाशन एवं अध्ययन करना तथा नये पाठ्यक्रम स्थापित करना है। प्रथम अवस्था में जी0आई0एस0 एवं मानचित्र कला पर एक डिप्लोम स्थापित करने का है। प्रो0 चैनियाल दून विश्वविद्यालय के भूगोल विभाग के स्वरूप को सम्र्पूण उत्तरी भारत में श्रेष्ठ बनाने के लिये कृत संकल्प है।

Featured Post

A viable alternative to joint replacement: Dr. Gaurav Sanjay

Dehradun. India and International book records holder Dr. Gaurav Sanjay is well known young orthopaedic surgeon has presented a clinical s...