Saturday, 27 February 2021

विशेषज्ञों ने क्वांटम मैटीरियल्स और डिवाइसेज के लिए हेट्रोस्ट्रक्चर इंजीनियरिंग पर किया मंथन

रुड़की। क्वांटम मामलों के क्षेत्र से अग्रणी अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय विशेषज्ञों ने क्वांटम मैटर हेटोस्ट्रक्चर (क्यूएमएच-2) में राष्ट्रीय सम्मेलन मेंडिजाइनर थिन फिल्मों, हेट्रोस्ट्रक्चर और क्वांटम मैटीरियल्स के उभरते इलेक्ट्रोमेग्नेटिक फिनोमना (विद्युतचुंबकीय घटनाओं) की भूमिका पर चर्चा की। इस दौरान प्रो. अमितवापात्रा, निदेशक, इंस्टीट्यूट ऑफ नैनो साइंस एंड टेक्नोलॉजी (आईएनएसटी), मोहाली ने उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि “क्वांटम मैटीरियल्स विज्ञान और प्रौद्योगिकी के लिए आकर्षक है, और तकनीकी अनुप्रयोगों (एप्लीकेशंस) के लिए नए प्रकार के क्वांटम उपकरणों को संश्लेषित करने के लिए अत्याधुनिक सुविधाओं के साथ गतिविधियां शुरू की जा रही हैं। क्वांटम मैटीरियल्स (सामग्रियों) के सामूहिक और उभरते गुणों के साथ हेट्रोस्ट्रक्चर इंजीनियरिंग की शक्ति और संभावनाओं को जोड़ते हुए, क्वांटम-मैटर हेटोस्ट्रक्चर्स सॉलिड-स्टेट भौतिकी का एक नया क्षेत्र खोलते हैं।“ प्रो. अजीत कुमार चतुर्वेदी, निदेशक, आईआईटी रुड़की, ने क्वांटम मैटीरियल्स, विशेषकर इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के महत्व पर जोर देते हुए कहा कि “हम मूल पी-एन जंक्शन से शुरू होने वाली सामग्री द्वारा निर्धारित नींव के बिना किसी भी इलेक्ट्रॉनिक उपकरण की कल्पना नहीं कर सकते हैं। हेट्रोस्ट्रक्चर का उपयोग करके जिस तरह के उपकरणों का एहसास किया जा सकता है, वह विशेषज्ञों की कल्पना और नवाचार पर निर्भर करेगा।” उन्होंने अपने ये विचार 18 से 20 फरवरी, 2021 तक को नैनो विज्ञान और प्रौद्योगिकी संस्थान (आईएनएसटी), मोहाली और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रुड़की द्वारा आयोजित सम्मेलन में व्यक्त किए। इस मौके पर क्वांटम मैटर हेट्रोस्ट्रक्चर (क्यूएमएच-2) में राष्ट्रीय सम्मेलन की आयोजन समिति के सदस्य डॉ.सुवनकर चक्रवर्ती ने बताया कि “2018 में, पीएसए ऑफिस ने क्वांटम प्रौद्योगिकियों की आवश्यकता को पूरा करने के लिए विशेष जोर देने के साथ भारत में भौतिक संसाधनों को बढ़ाने के लिए गहरी रुचि दिखाई। यह सम्मेलन एक मंच के रूप में काम करेगा, जो क्वांटम मामलों में उभरती प्रवृत्तियों और आपसी हित के विषय पर सहयोग को बढ़ावा देने के लिए भावी रणनीतियों और योजनाओं पर चर्चा करेगा।“

Featured Post

कोरोना काल के पश्चात राफ्टिंग का प्रारंभ होना बेहद सुखदः महाराज

ऋषिकेश। पर्यटन व्यवसाय से जुड़े 15 हजार लोगों को पर्यटन विभाग की ओर से अब तक 7 करोड़ की धनराशि वितरित की जा चुकी है। उक्त बात गंगा नदी राफ...