सामूहिक भागीदारी से उचित प्रबन्धन के साथ अपशिष्ट को कम करना’ विषय पर कार्यशाला आयोजित

देहरादून। उत्तराखंड राज्य विज्ञान एवं प्रौद्यौगिकी परिषद (यूकाॅस्ट) एवं अभिव्यक्ति सोसाइटी की संयुक्त पहल से आयोजित कार्यशाला में स्वयं सहायता समूहों से जुड़ी महिलाओं को ‘सामूहिक भागीदारी के माध्यम से उचित प्रबन्धन के साथ अपशिष्ट को कम करना’ विषय पर चर्चा एवं जानकारियां साझा की गईं। रायपुर विकासखण्ड के सभागार में आयोजित कार्यशाला में कचरे को उचित प्रबन्धन के साथ कम करने को लेकर प्रतिभागियों को अभिव्यक्ति सोसाइटी, स्पेक्स, वेस्ट वाॅरियर एवं ईको ग्रुप के प्रतिनिधियों ने जागरूक किया। कार्यशाला में अभिव्यक्ति सोसाइटी की अध्यक्षा दामिनी ममगाईं ने संस्था द्वारा ठोस अपशिष्ट प्रबन्धन को लेकर किये जा रहे कार्यों के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने कहा कि हमें अपनी मानसिकता में बदलाव लाकर सही तरीके से कचरा निस्तारण करने को अपनी जिम्मेदारी समझना होगा। कार्यशाला में बतौर मुख्य अतिथि रायपुर विकासखण्ड के मुख्य विकास अधिकारी धीरज सिंह रावत ने अपनी बात रखते हुए कहा कि हमें कचरे के सही प्रबन्धन के लिए हमें अपने घर से ही शुरूआत करनी होगी। उन्होंने कहा कि आज अधिकतर बीमारियां कूड़ा कचरे से होने वाली गंदगी की देन बन गईं हैं। पर्यावरण और अपने परिवेश को बचाने के लिए हमें आज से ही शुरूआत करनी होगी। कचरा प्रबन्धन की दिशा में दून की स्पेक्स संस्था के डाॅ ब्रिज मोहन ने बताया कि स्पेक्स सामुहिक सहभागिता के माध्यम से चयनित प्रतिभागियों को ई कचरे का वैज्ञानिक तरीके से इस्तेमाल करने के लिए प्रशिक्षित कर आयसर्जन के साधनों के लिए प्रयासरत है। संस्था द्वारा ई कचरे को दोबारा इस्तेमाल योग्य बनाने के साथ ही एलईडी बल्ब एवं ट्यूबलाइट रिपेयरिंग, डेकोरिटिव झालर आदि बनाने का प्रशिक्षण भी प्रदान किया जाता है। वेस्ट वाॅरियर संस्था के नवीन थडाना ने संस्था के माध्यम से किए जा रहे कार्यों के बारे में जानकारी देते हुए कूड़ेकचरे के प्रति लापरवाह रवैये को भविष्य के लिए बेहद खौफनाक बताया। उन्होंने कहा कि हमें अपनी आदतों को समय रहते सुधारना होगा वर्ना दुष्परिणाम भुगतने के लिए तैयार रहना होगा। ईको ग्रुप के अध्यक्ष आशीष ग्रुप ने प्रभिागियों को प्लास्टिक से होने वाले नुकसानों के सम्बंध मंे जागरूक किया। उन्होंने प्लास्टिक के कचरे से ईको ब्रिक बनाने के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि कचरा प्रबन्धन केवल सफाईकर्मियों की जिम्मेदारी नहीं है, हम सभी लोगों को मिलकर पर्यावरण संरक्षण के लिए कदम बढ़ाना होगा। इस मौके पर टीम अभिव्यक्ति की लक्ष्मी मिश्रा, गीतांजलि ढौंढियाल, शालिनी सुरीरा, बसन्त शर्मा, ईको गु्रप के संजय भार्गव, एके मेहता आदि ने भी अपने विचार रखे। कार्यशाला का संचालन टीम अभिव्यक्ति की डाॅ प्रिया जाडू ने किया। नगर निगम कर्मियों को किया सम्मानितः कार्यशाला में टीम अभिव्यक्ति की दामिनी ममगाई ने घरों से कचरा उठाने वाले सफाई कर्मियों का विशेष आभार जताया। उन्होंने कहा कि सफाईकर्मी बेहद कम संसाधनों के साथ विषम परिस्थितियों में हमें सांस खुलकर सांस लेने का अवसर उपलब्ध करा रहे हैं। इस मौके पर ब्लाॅक कार्यालय परिसर से कचरा एकत्र करने वाली नगर निगम की गाड़ी के कर्मियों को सम्मानित भी किया गया।

Featured Post

चौबट्टाखाल के लोगों को मदद करने के लिए उत्तराखंड प्रगतिशील पार्टी ने शुरू की अनोखी पहल

सतपुली/देहरादून। उत्तराखंड प्रगतिशील पार्टी के चैबट्टाखाल संयोजक चंद्रशेखर नेगी ने लोगों को मदद करने के लिए अनोखी पहल की शुरुआत की। पूर्व ...