Sunday, 13 June 2021

स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने चिकित्सा प्रमुख लक्ष्मण झूला को पल्मोहील हर्बल हैल्थ, सप्लीमेंट भेंट किया

-यमकेश्वर ब्लाक के अनेक परिवारों को प्रदान की जायेगी पल्मोहील हर्बल हैल्थ सप्लीमेंट ऋषिकेश। परमार्थ निकेतन और द चोपड़ा फाउंडेशन के संयुक्त तत्वाधान में पल्मोहील हर्बल हैल्थ सप्लीमेंट की उपयोगिता हेतु ऑनलाइन सेमिनार का आयोजन किया। आयुर्वेदिक हीलिगं इंक के निदेशक प्रसिद्ध आयुर्वेदिक चिकित्सक डाॅ क्षीरसागर सुहास के नेतृत्व में इस ऑनलाइन सेमिनार का आयोजन किया गया। जिसमें विशेषज्ञों और वैज्ञानिकों ने पल्मोहील की उपयोगिता और शरीर पर पड़ने वाले प्रभावों के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान दी। निडर योद्धा, एक कुशल रणनीतिकार, सम्राट शिरोमणि मातृभूमि के रक्षक और स्वाभिमान योद्धा महाराणा प्रताप जी की 481वीं जयंती पर श्रद्धासुमन अर्पित करते हुये स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने कहा कि वीर महाराणा प्रताप का पराक्रम मातृभूमि के प्रति उनकी अगाध श्रद्धा आने वाली पीढ़ियों के लिये प्रेरणास्रोत बने रहेंगे।परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने अपर मुख्य चिकित्साधिकारी पौड़ी श्री राजीव कुमार जी को पल्मोहील हर्बल हैल्थ, सप्लीमेंट के किट दिये जो कि यमकेश्वर ब्लाक में रहने वाले 200 परिवारों को वितरित किये जायेंगे। स्वामी जी ने बताया कि पल्मोहील हर्बल हैल्थ, सप्लीमेंट की पहली खेप में कई परिवारों को हैल्थ सप्लीमेंट दिया जायेगा। दूसरी खेप में उत्तराखंड और उतरप्रदेश के अन्य जिलों और ब्लाक में पल्मोहील हर्बल हैल्थ, सप्लीमेंट वितरित किया जायेगा। स्वामी जी ने कहा कि इस समय उत्तराखंड सहित पूरे भारत में कोविड-19 से संक्रमित रोगियों की संख्या में धीरे-धीरे कम हो रही है। उत्तराखंड पहाड़ी राज्य होने के कारण गांवों में रहने वाले गामीणों को कई समस्याओं को सामना करना पड़ता है। इस मुश्किल दौर में स्वास्थ्य पर ध्यान रखना बहुत जरूरी है। ऐसे में परमार्थ निकेतन, डिवाइन शक्ति फाउंडेशन, द दीपक चोपड़ा फाउंडेशन और द हार्ट केयर फाउंडेशन ऑफ इंडिया के संयुक्त तत्वाधान में मानवता की सेवा हेतु निःशुल्क ‘‘पल्मोहील हर्बल हैल्थ सप्लीमेंट’’ कोविड-19 से प्रभावित रोगियों को सप्लीमेंट के रूप में वितरित की जा रही हैं। डा सुहास ने बताया कि ‘पल्मोहील हर्बल सप्लीमैंट’ इंडो-यूएस टीम द्वारा चिकित्सकीय परीक्षण की हुई है। तथ्यों और अनुभवों के आधार पर चिकित्सकों ने बताया कि इस हर्बल सप्लीमैंट से अनेक कोरोना पीड़ित रोगी कम समय में ही ठीक हुये हैं। इस सप्लीमैंट को दुनिया के अनेक चिकित्सकीय अध्ययनों का समर्थन प्राप्त है। यह टीजीएफ-बीटा के मार्ग को अवरूद्ध करता है। कोविड-19 रोगियों को पल्मोहील हर्बल सप्लीमैंट, सप्लीमेंट के रूप में प्रदान की जा रही हैं। पल्मोहील हर्बल हैल्थ सप्लीमेंट, पल्मोहील एक्सलरेट्स रिकवरी फाॅर माइल्ड एंड माॅडरेट कोविड शीर्षक के साथ कुछ प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में उल्लेख है। इस किट की विशेषता यह है कि यह किट एक मोबाइल एप के साथ संबंधित है जिसमें रोगी घर पर रहकर भी उस एप को अपने फोन में डाउनलोड कर उस पर ही खांसी करता है तो एआई स्कोर उसी समय में खांसी के विश्लेषण के आधार पर रोगी के स्वास्थ्य की गंभीरता का आकलन करता है। गंभीरता संबंधी स्कोर का आकलन रोगी के संबंधी और चिकित्सक उससे दूर रहकर भी कर सकते है। रोगी स्वयं भी घर आराम से बीमारी की प्रगति की निगरानी के लिये स्व-मूल्यांकन के रूप में किया जा सकता है रहकर अपने स्वास्थ्य की निगरानी कर सकता है तथा उसे रिकार्ड कर सकता है इसलिये यह हर्बल सप्लीमेंट पहाड़ी गांवों और दूरदराज में रहने वालों के लिये अत्यंत लाभकारी है।

Featured Post

उत्तराखंड में बारिश से हाल बेहाल, राज्य की 154 सड़कें पड़ी हैं बंद

देहरादून। प्रदेश में मॉनसून लगातार सक्रिय है। भारी बारिश के कारण शुक्रवार 30 जुलाई तक प्रदेश में 154 छोटे-बड़े मार्ग बंद हैं, जिन्हें खोलने...