Wednesday, 16 June 2021

परमार्थ निकेतन ने राशन, दैनिक जरूरत का सामान, स्वच्छता किट व मास्क वितरित किये

ऋषिकेश। परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती की प्रेरणा और आशीर्वाद से परमार्थ निकेतन आश्रम, ऋषिकेश द्वारा गुमानीवाला, गंगानगर, सर्वहारा नगर, कुंजापुरी और आईडीपीएल काॅलोनी में निराश्रितों और जरूरतमंद परिवारों को राशन, दैनिक उपयोग में आने वाली वस्तुओं के किट, स्वच्छता किट एवं मास्क, हैंड सैनेटाइजर, आदि वितरित किये गये। 16 जून वर्ष 2013 को केदारनाथ आपदा की आठवीं बरसी को याद करते हुये स्वामी जी ने कहा कि हम सभी ने आठ वर्ष पूर्व आज के दिन प्रकृति का रौद्र रूप देखा था। अत्यंत हृदयविदारक दृश्य था जिसमें हमने अनेकों को खोया आज उसकी आठवीं बरसी पर भावभीनी श्रद्धाजंलि। केदारनाथ आपदा को हम प्रकृति के प्रतिकूल व्यवहार का दुःखद परिणाम ही कह सकते हैं। जब तक धरती पर प्रकृति व संस्कृति का सामंजस्य था तब तक सब कुछ ठीक चल रहा था। जब से हम प्रकृति और संस्कृति को विलग करने लगे तब से मानव के सहचर्य व सोच में भी अन्तर आया। जब-जब प्रकृति व संस्कृति की उपेक्षा की गयी तब-तब केदारनाथ आपदा जैसा प्रलय हमें देखने को मिला। हमें प्रकृति एवं संस्कृति के संयोजन के साथ विकास करना होगा ताकि ऐसी प्रलयकारी घटनाआंे को कम किया जा सके। हमें पारंपरिक आध्यात्मिक ज्ञान के माध्यम से प्रकृति के संरक्षण के साथ ही हमारी प्राचीन संस्कृति को भी समृद्ध करना होगा। हमें प्राकृतिक परिवेश के हिसाब से रहना होगा। आज जो चारों ओर हम कांक्रीट के जंगल देख रहे हैं ये कंक्रीट के जंगल हमारी संस्कृति का आधार नहीं है क्योंकि जब प्रकृति अपना रौद्र रूप दिखाती है तो महलनुमा घर भी धराशायी हो जाते हैं इसलिये हमारे विकास का आधार प्रकृति-संस्कृति का समन्वय है तथा हमें ग्रीन कल्चर की अवधारणा के साथ आगे बढ़ना होगा। केदारनाथ आपदा से हजारों लोग प्रभावित हुये थे जिसमें कई तो आज तक भी उबर नहीं पाये हैं आईये हम अपने सभी संसाधनों का उपयोग करते हुये उनके परिवारों के चेहरों पर भी थोड़ी सी खुशी लाने की कोशिश करें, यही सच्ची श्रद्धाजंलि होगी। स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने कहा कि कोविड-19 के कारण जो स्थितियां उत्पन्न हुयी है इससे अनेक परिवारों के सामने दो वक्त के भोजन की व्यवस्था करना एक बड़ी समस्या बनकर खड़ी है। जो लोग मजदूरी करके अपने परिवार का भरण-पोषण करते थे उनके लिये अब दो वक्त का भोजन भी मुश्किल हो गया है। इस समय भारत सरकार एवं उत्तराखंड सरकार हर सम्भव मदद कर रही है और राहत पैकेज भी प्रदान कर रही है परन्तु समाज और सरकार दोनों मिलकर कार्य करें तो उन परिवारों को संबल प्राप्त होगा और राहत भी मिलगी।

Featured Post

मन की बात में पीएम ने हैंडलूम एवं अन्य स्थानीय उत्पादों की खरीद पर दिया बल

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मन की बात कार्यक्रम को सुना। उन्होंने कहा कि मन की बात कार्यक्रम ...