Saturday, 10 July 2021

फर्जी चाइनीज एप ‘99 लॉटरी’ का खुलासा, 5 दिन में ट्रांसफर हुए 1 करोड़ रु

देहरादून। उत्तराखंड एसटीएफ और साइबर क्राइम पुलिस को एक और चाइनीज एप की जानकारी मिली है, जो लोगों से करोड़ों की धोखाधड़ी करता है। इस चाइनीज एप का नाम ‘99 लॉटरी’ है। चाइनीज एप के जरिए धोधाधड़ी का खुलासा हरिद्वार निवासी ऋषभ सक्सेना की शिकायत के बाद हुआ है। दरअसल, हरिद्वार निवासी ऋषभ सक्सेना एक ट्रैवेल एजेंसी चलाते हैं। उन्होंने साइबर क्राइम पुलिस को बताया कि उनके एक खाते में पिछले 4-5 दिन में करीब एक करोड़ रुपये ट्रांसफर हुए हैं। उन्होंने बताया कि ‘99 लॉटरी’ एप को विभिन्न सोशल मीडिया पर प्रचार किया जाता है। इस फर्जी एप में उनके बैंक अकाउंट का प्रयोग हुआ, जो ट्रैवल एजेंसी चलाते हैं। ऋषभ सक्सेना के अकाउंट में देश-विदेश से टूरिस्ट का बुकिंग का पैसा आता है। इसी अकाउंट को साइबर अपराधियों ने अपना अड्डा बना कर फर्जी एप लॉटरी का पैसा ट्रांसफर कराया। ऐसे में जब एसटीएफ द्वारा उसके अकाउंट की जानकारी खंगाली गई तो पता चला कि संदिग्ध एप के माध्यम से 4 से 5 दिन में ही 1 करोड़ रुपये की धनराशि जमा हुई है। उत्तराखंड एसटीएफ और साइबर क्राइम पुलिस ने ऋषभ सक्सेना के खाते को तुरंत फ्रीज करा दिया है। उधर, अकाउंट फ्रीज की जानकारी मिलते ही साइबर अपराधियों ने इस अकाउंट को एप से हटाते हुए दूसरे बैंक खातों से जोड़ दिया है। ऐसे में एसटीएफ को उस अकाउंट के जरिये देशभर से फ्रॉड का पैसा ट्रांसफर होने की संभावना है। ऐसे में अन्य खातों की जानकारी एकत्र कर उन्हें फ्रीज करने की तैयारी है।वहीं, जांच में आगे पता चला कि इस फर्जी लॉटरी एप के बैंक खाते अलग-अलग बैंकों में खोले गए हैं, जिनका इस्तेमाल ऑनलाइन रुपए जमा करने और निकालने के लिए होता है। एसटीएफ व साइबर क्राइम पुलिस ने इस फर्जी लॉटरी एप के माध्यम से पिछले 4 से 5 दिनों में देशभर से बैंक खाते में जमा होने वाले 1 करोड़ से अधिक की धनराशि को फिलहाल फ्रीज करा दिया है। उत्तराखंड एसटीएफ के मुताबिक इस 99 लॉटरी एप की जांच में पता चला है कि इसको संचालित करने में कई बैंकों के खातों का उपयोग कर नकली ई-कॉमर्स एप वेबसाइट के इस्तेमाल से पैसे निकाले जाते हैं। ऐसे में जब सभी वॉलेट ई-कॉमर्स एप से पत्राचार किया गया, तो पता चला कि संबंधित लॉटरी की धनराशि जालंधर और कुछ अन्य स्थानों के ई-वॉलेट में ट्रांसफर की गई है। वहीं, इस फर्जी लॉटरी मामले में चैंकाने वाला तथ्य यह भी सामने आया कि जो धनराशि लॉटरी के नाम लोगों के अकाउंट से निकल रही है, वह मोबाइल नंबर चीन से संचालित हो रहा है। ऐसे में कई सबूतों के आधार पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है और इस जानकारी को देश के कई राज्यों की साइबर क्राइम और एसटीएफ के साथ साझा किया जा रहा है।

Featured Post

A viable alternative to joint replacement: Dr. Gaurav Sanjay

Dehradun. India and International book records holder Dr. Gaurav Sanjay is well known young orthopaedic surgeon has presented a clinical s...