Saturday, 10 July 2021

बीज बम अभियान सप्ताह का हुआ शुभारम्भ

देहरादून। बीज बम अभियान सप्ताह का शुभारम्भ वर्चुअल माध्यम से मुख्य अतिथि कासा के कार्यक्रम प्रमुख डा0 जयंत कुमार ने किया। शुभारम्भ कार्यक्रम के अवसर पर देश के 12 राज्यांे के 95 प्रतिनिधियों ने भाग लिया। इस अवसर पर डा0 जयंत कुमार ने कहा कि चार वर्षो से जाड़ी संस्थान के द्वारा चलाये जा रहे बीज बम अभियान की स्वीकार्यता आज पुरे देश मे हो गई है। इस अभियान मे न केवल स्थानीय लोग ब्लकि स्कूली बच्चों को जोड़ना एक महत्वपूर्ण कार्य हुआ है। बीज बम अभियान पारिस्थितकी तंत्र की पुनर्बहाली व मानव एवं वन्यजीवों के बीच बढे संघर्ष को कम करने के लिये मील का पत्थर साबित होगा। कार्यक्रम मे डा0 कपिल जोशी अपर प्रमुख वन संरक्षक उत्तराखण्ड ने अभियान की सराहना की। उन्हांेने कहा कि पर्यावरण संरक्षण के लिये बीज बम अभियान बहुत सुन्दर अभियान है। इस अभियान के द्वारा हम वहां वनस्पतियों को उगा सकते हंै जहा कोई मानव नहीं जा सकता है। वन्यजीव व मानव के बीच बढे़ संघर्ष को कम करने व खेल खेल मे पर्यावरण संरक्षण की दिशा मे अभियान का कार्य सराहनीय है। छत्तीसगढ़ से जुड़े रजत चोधरी ने बताया की बीज बम अभियान के माध्यम से बच्चों को पर्यावरण के महत्व को समझने मे आसानी हुई। उत्तराखण्ड और हिमाचल में कार्य कर रहे कासा के सुरेश शतपती ने कहा कि प्रकृति मे सन्तुलन बनाये रखने के लिये बीज बम अभियान एक उम्दा तरीका है। कार्यक्रम के दौरान शिक्षक प्रमोद कैन्तूरा, नरेश बिजल्वाण, बुरांश परियोजना के जीत बहादुर, बिना बिष्ट ने विगत वर्षों मे बीज बम अभियान के अनुभव साझा किये। डा0 अरविन्द दरमोडा ने बीज बम अभियान पर लिखी पुस्तक व विश्वविद्यालय उन 80 शोधार्थी छात्रों के बारे मे जानकारी साझा की जो बीज बम अभियान पर कार्य कर रहे है। रिलायंस फाऊंडेसन के कमलेश गुरुरानी ने बीज बम अभियान को और अधिक सफल बनाने के लिये समुदाय को जोड़ने की बात कही। हिमाचल प्रदेश से जुड़ी रेवरेन ने कहा की यहा अभियान मानव व वन्यजीवों को बचाने का प्रयास है। बीज बम अभियान के प्रणेता द्वारिका प्रसाद सेमवाल ने कहा कि सप्ताह भर चलने वाले अभियान से देश को जोड़ने व मानव और वन्यजीवों के बीच बढे संघर्ष को कम करना है। कार्यक्रम मे हिमाचल प्रदेश, छतीसगढ़, झारखण्ड, उत्तरप्रदेश, दिल्ही, चंडीगढ़, पंजाब, राजस्थान, मध्यप्रदेश, मिजोरम, हरियाणा व उत्तराखंड के लोगो ने प्रतिभाग किया। इस दौरान सुरक्षा रावत, दिप्ंकर, स्वास्ति, कृष्णा बहुगुणा, माधवेन्द्र रावत, संजय सेमवाल, आशा चैहान, संजय बिष्ट, रोशन विश्वाक्रमा, विपिन चैहान, अभिषेक भट्ट, इन्द्र भूषण नरेश विज्लवाण आदि लोगो ने भाग लिया।

Featured Post

A viable alternative to joint replacement: Dr. Gaurav Sanjay

Dehradun. India and International book records holder Dr. Gaurav Sanjay is well known young orthopaedic surgeon has presented a clinical s...