Monday, 12 July 2021

संस्कृति मंत्री सतपाल महाराज ने शहीद सैनिकों के सम्मान में चंदन का पौधा रोपित कर किया हरेला पर्व का शुभारंभ

देहरादून, गढ़ संवेदना न्यूज। प्रदेश के पर्यटन, लोक निर्माण, संस्कृति, सिंचाई एवं धर्मस्व मंत्री सतपाल महाराज ने रविवार को उत्तराखंड युद्ध स्मारक शौर्य स्थल पर शहीद सैनिकों के सम्मान में चंदन वृक्ष रोपित कर हरेला पर्व का शुभारंभ किया। पर्यटन, लोक निर्माण, संस्कृति, सिंचाई एवं धर्मस्व मंत्री सतपाल महाराज ने रविवार को चीड़ बाग, राजभवन के समीप स्थित उत्तराखंड युद्ध स्मारक शौर्य स्थल पर चंदन का पौधा रोपित कर शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए हरेला पर्व का शुभारंभ करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की प्रेरणा और उनके आशीर्वाद से यहां पर शौर्य स्थल का निर्माण हुआ और तत्कालीन रक्षा मंत्री मनोहर पारिकर ने इसका भूमि पूजन किया था। श्री महाराज ने कहा कि यह हमारा पांचवा तीर्थ है और पूरे उत्तराखंड के लिए एक गौरव का स्थान है। श्री महाराज ने शहीद सैनिकों को नमन करते हुए कहा कि शहीद वीरों की स्मृति चंदन के समान समाज को प्रेरित और सुगंधित करती रहे यही इस चंदन वृक्षारोपण की भावना है। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार चंदन अपनी खुशबू से पूरे वातावरण को सुगंधित कर देता है उसी प्रकार हमारे सैनिकों का शौर्य और सम्मान भी पूरे देश को सुगंधित करते हुए हमें आदर्श प्रदान करें। इस अवसर पर पूर्व सांसद व शौर्य स्थल अध्यक्ष तरुण विजय ने कहा कि हमारा सौभाग्य है कि आज प्रदेश के कैबिनेट मंत्री श्री सतपाल महाराज जी शौर्य स्थल पर आए और उन्होंने शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित करने के साथ-साथ हरेला महोत्सव का चंदन वृक्ष रोहित कर उद्घाटन किया। तरुण विजय ने कहा कि शहीदों की स्मृति ही उत्तराखंड का प्राण है। उन्होंने बताया कि श्री सतपाल महाराज ने शौर्य स्थल पर लाइट व्यवस्था करने का आश्वासन दिया है इसके लिए वह उनका आभार व्यक्त करते हैं। इस मौके पर एयर मार्शल बी डी जयाल, तनु जैन मुख्य कार्यकारी देहरादून कैंटोन्मेंट बोर्ड, छावनी परिषद के अनेक पार्षद और पूर्व सैनिकों सहित भारतीय जनता युवा मोर्चा के शंकर रावत और अनिल आदि उपस्थित थे।

Featured Post

उत्तराखंड में बारिश से हाल बेहाल, राज्य की 154 सड़कें पड़ी हैं बंद

देहरादून। प्रदेश में मॉनसून लगातार सक्रिय है। भारी बारिश के कारण शुक्रवार 30 जुलाई तक प्रदेश में 154 छोटे-बड़े मार्ग बंद हैं, जिन्हें खोलने...