Tuesday, 13 July 2021

मुफ्त बिजली मामले में राजनीतिक दलों से शपथ पत्र ले जनताः मोर्चा

विकासनगरा। जन संघर्ष मोर्चा अध्यक्ष एवं जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने कहा कि कुछ दिनों से तमाम राजनैतिक दल आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए 100-200-300 यूनिट मुफ्त बिजली देने की बात कर रहे हैं, जिससे जनता को अत्याधिक सचेत रहने की जरूरत है। नेगी ने कहा कि प्रदेश की जनता को सबसे पहले यह समझना होगा कि विभाग द्वारा प्रतिमाह प्रति 100 यूनिट पर विद्युत दर एवं फिक्स्ड चार्जेस निर्धारित किए हुए हैं, जिसके तहत वर्तमान में विभाग द्वारा प्रतिमाह 100 यूनिट तक विद्युत मूल्य 2.80 रु, 200 यूनिट तक 4.00 रु, 400 यूनिट तक 5.50 रु तथा 400 यूनिट से अधिक पर 6.25 रु निर्धारित किया हुआ है तथा इसी प्रकार फिक्स्ड चार्जेस प्रतिमाह 100 यूनिट तक 60 रु, 200 यूनिट तक 120 रु, 400 यूनिट तक रु 200 तथा 401 यूनिट से अधिक पर 300 निर्धारित किया हुआ है द्य अगर गत वर्ष 2020- 21 की बात की जाए तो विद्युत दर रु 2.80- 3.75-5.15 -5.90 निर्धारित थी तथा फिक्स चार्जेस रुपए 60-95-165- 260 निर्धारित था। नेगी ने कहा कि वहीं दूसरी ओर वितरण हानियां वर्ष 2018-19 में 14.32 फीसदी तथा 2919-20 में 13.40 फीसदी थी एवं इसी प्रकार ए टी एंड सी हानियां वर्ष 2018-19 में 16.52 तथा 2019-20 में 20.44 फीसदी थी द्य अगर बात विद्युत खरीद की करें तो विभाग ने वर्ष 2018-19 में 14083.69 एमयू तथा 2019-20 में 14139.31 एमयू खरीद की। नेगी ने कहा कि विद्युत स्लैब, फिक्स्ड चार्जेस व विद्युत हानियां मिलकर बिजली की दरों में बढ़ोतरी कर रही हैं, जिस पर होमवर्क किए जाने की आवश्यक है। आज जरूरत फिक्स्ड चार्जेस समाप्त करने तथा विद्युत स्लैब 100 की जगह 200 यूनिट करने की है। मोर्चा ने जनता को आगाह किया कि इन राजनीतिक दलों के केंद्रीय आकाओं से शपथ पत्र लें कि सत्ता पाते ही 100-200 यूनिट बिजली मुफ्त देने के एवज में फिक्स्ड चार्जेस विद्युत कीमतें बढ़ाकर व अन्य टैक्स लगाकर जनता को ठगने का काम नहीं करेंगे।

Featured Post

उत्तराखंड में बारिश से हाल बेहाल, राज्य की 154 सड़कें पड़ी हैं बंद

देहरादून। प्रदेश में मॉनसून लगातार सक्रिय है। भारी बारिश के कारण शुक्रवार 30 जुलाई तक प्रदेश में 154 छोटे-बड़े मार्ग बंद हैं, जिन्हें खोलने...