Saturday, 17 July 2021

हृदय रोग के बिगड़ने से बचने के लिए मरीजों को समय पर उपचार लेना चाहिए

देहरादून। देश में इस अभूतपूर्व स्वास्थ्य संकट में, डॉ इरफान याकूब, सीनियर कंसल्टेंट, कैथलैब निदेशक, फोर्टिस एस्कॉर्ट्स अस्पताल, देहरादून ने भारत में हृदय रोगियों को उनके स्वास्थ्य को बिगड़ने से रोकने में मदद करने के लिए, अपने हृदय स्वास्थ्य की बारीकी से निगरानी करने, देश में उपलब्ध विभिन्न परिष्कृत तकनीकों से अवगत होने और कोई चिंताजनक हृदय संबंधी लक्षण की उपेक्षा न करने का आग्रह किया है हृदय रोगियों में कोविड-19 वायरस संक्रमण के अधिक गंभीर लक्षण और परिणाम देखे गए हैं। जिन मरीजों की धमनियां अवरुद्ध हो गई हैं या दिल की धड़कन अनियमित है, उन्हें अपनी कोविड पॉजिटिव अवधि के दौरान अतिरिक्त सावधानी बरतने की जरूरत है। उन्हें अपनी हृदय संबंधी प्रक्रियाओं की उपेक्षा या देरी नहीं करनी चाहिए क्योंकि यह घातक साबित हो सकता है। यह देखा गया है कि विश्व स्तर पर रोगियों ने समय पर निदान में देरी की है जिससे जटिलताएं हो सकती हैं। इस खतरनाक प्रवृत्ति का उल्लेख करते हुए डॉ इरफान याकूब, ने कहा है कि, “महामारी के दौरान हृदय रोगी अत्यधिक कमजोर होते हैं और उन्हें अपनी हृदय संबंधी बीमारी, जिसके लिए निगरानी की आवश्यकता है और हार्ट अटैक आने के किसी भी लक्षण के मामले में सुनिश्तचित होना चाहिए, उन्हें उचित जांच और उपचार के लिए तुरंत नजदीकी अस्पताल में जाना चाहिए। अगर स्थिति में किसी सर्जरी करवाने की जरूरत होती है, तो उन्हें प्रक्रिया में देरी नहीं करनी चाहिए क्योंकि यह जीवन के लिए खतरा हो सकता है। जिन हृदय रोगियों का कोविड पॉजिटिव परीक्षण किया गया है, उन्हें अपने हृदय की सुरक्षा में मदद करने के लिए वायरस के संक्रमण से होने वाले किसी भी दुष्प्रभाव का पता लगाने या उसका इलाज करने के लिए रिकवरी के बाद दिल की जांच करानी चाहिए। चूंकि भारत में हृदय रोग विशेषज्ञ ऐसी प्रौद्योगिकियों और तकनीकों को अपनाते हैं जो वैश्विक स्वास्थ्य देखभाल के स्तर के बराबर हैं, इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि हृदय रोगियों को देश में उपलब्ध चिकित्सा प्रगति जैसे कि रोटेशनल एथेरेक्टॉमी के बारे में पता होना चाहिए। कोरोनरी धमनी की बीमारी से पीड़ित कई रोगियों के कोरोनरी धमनी में कैल्शियम ब्लॉकेज बहुत ज्यादा सख्त होता है जो उन्हें बहुत ज्यादा खतरे में डालता है। खराब सामान्य स्वास्थ्य स्थिति, कमजोर हड्डियों, बुढ़ापे और अन्य सह-रुग्णताओं जैसे खराब फेफड़े के कारण अधिकांश रोगी अक्सर सर्जरी के लिए उपयुक्त नहीं होते हैं। ऐसे रोगियों के लिए रोटेब्लेशन एथेरेक्टॉमी या इसे सरल भाषा में जमा हुए कैल्शियम को हटाना’ कहा जा सकता है, के लिए फायदेमंद है।

Featured Post

डीएम ने मोटरमार्ग की स्थिति पर असंतोष जताया

देहरादून। जिलाधिकारी डाॅ आर राजेश कुमार ने अपने स्थलीय निरीक्षण के दौरान आज सर्वे चैक से चूना भट्टा रायपुर तक के मोटरमार्ग की स्थिति पर अस...