Wednesday, 11 August 2021

एड-टेक स्टार्टअप, कॉलेज देखो ने पूरे भारत में 20 हज़ार छात्रों के नामांकन में मदद की

देहरादूना। भारत में उच्च शिक्षा हेतु सर्वश्रेष्ठ परामर्श-नामांकन सेवा प्रदाता, कॉलेजदेखो ने आज घोषणा की कि इसने पूरे भारत के 600 कॉलेजों में 20 हज़ार से ज्यादा छात्रों के नामांकन में मदद की है। इस प्रकार यह छात्रों को उपयुक्त शिक्षा प्राप्त करने में सक्षम बनाकर अपने उद्देश्य की ओर आगे बढ़ रहा है। ऐसे देश में, जहां उच्च शिक्षा का चयन करना मुख्य रूप से लोगों के मन में बसी धारणाओं पर निर्भर है, वहां कॉलेजदेखो पुरानी सोच के बंधनों को तोड़ रहा है। कॉलेजदेखो एक छात्र/ छात्रा की शैक्षणिक पृष्ठभूमि को उसके करियर की आकांक्षाओं के साथ जोड़ता है, और यह अपनी खुद की तकनीक पर आधारित परामर्श सेवाओं के जरिए भारत में उच्च शिक्षा के संदर्भ में छात्रों की पसंद में क्रांतिकारी बदलाव ला रहा है। कॉलेजदेखो ने अपनी स्थापना के केवल 6 सालों के भीतर उन्नत डेटा साइंस एवं टेक्नोलॉजी का उपयोग करके चार मिलियन से ज्यादा छात्रों को परामर्श सेवाएं प्रदान की हैं, तथा छात्रों को उनके आदर्श कैरियर के लक्ष्य को हासिल करने में मदद की है। भारत सरकार के अनुमानों के अनुसार, वर्ष 2030 तक भारत का एड-टेक व्यय 10 ट्रिलियन डॉलर तक पहुंचने की उम्मीद है, और इस प्रकार कॉलेजदेखो की सेवाएं पूरी तरह से सामयिक हैं। छात्रों के बीच अपने लिए सबसे उपयुक्त कॉलेज के चयन से जुड़ी दुविधाओं को दूर करने के लिए, कॉलेजदेखो प्रत्येक छात्र के अकादमिक रिकॉर्ड, करियर की आकांक्षाओं और बजट के आधार पर उसके अनुकूल परामर्श एवं नामांकन में सहायता प्रदान करता है। कॉलेजदेखो का एआई (।प्) से संचालित चौटबॉट छात्रों को अपने लिए उपयुक्त पाठ्यक्रम और करियर के बारे में सोच-समझकर निर्णय लेने में मदद करता है, और इसने वर्ष 2020 तक छात्रों के दो मिलियन से ज्यादा सवालों के उपयुक्त जवाब दिए हैं। कॉलेजदेखो के पास भारत का सबसे बड़ा कॉमन एडमिशन फॉर्म प्लेटफॉर्म (अब तक आधे मिलियन आवेदकों की मदद कर चुका है) भी उपलब्ध है, जो छात्रों को एक क्लिक के जरिए एक-साथ कई कॉलेजों में आवेदन करने की सुविधा प्रदान करता है। कॉलेजदेखो विदेशों में पढ़ाई के लिए भी नामांकन में शुरू से अंत तक सहायता प्रदान करता है, जिसमें परीक्षा के लिए कोचिंग, आवेदन की प्रक्रिया में मार्गदर्शन एवं प्रीमियम नामांकन सेवाएं तथा यात्रा एवं वीज़ा में सहायता शामिल है। विदेशों में अध्ययन सेवा ने पहले ही हज़ारों छात्रों को यूएसए, यूके, कनाडा, यूरोप आदि के शीर्ष विश्वविद्यालयों में नामांकन में मदद की है।

Featured Post

सीएम धामी ने पौध उपहार व जन्मदिन पर पौधे लगाने की सीख दीः वृक्षमित्र डॉ सोनी

देहरादून। पौधों को भावनाओं से जोड़कर कार्य कर रहे वृक्षमित्र डॉ त्रिलोक चंद्र सोनी ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को बहुत-बहुत बधाई दी। कह...