Monday, 30 August 2021

दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान ने मनाया श्रीकृष्ण जन्माष्टमी महोत्सव

देहरादून। उत्तराखंड कोविड वैश्विक महामारी के इस संघर्ष पूर्ण दौर मे, जहां हर ओर लोग आर्थिक तंगी, स्वास्थ्य समस्याओं, मानसिक तनाव अथवा पारिवारिक समस्याओं का सामना कर रहे हैं, वहां आध्यतामिकता ही मानवता को संतोष व धीरज प्रदान करने का एक मात्र उपाय है। अध्यात्म के द्वारा ही एक व्यक्ति किसी भी प्रकार की प्रतिकूल परिस्थितियों से सहजता से बाहर निकल सकता है। यह एक ऐसा सार्वभौमिक सत्य है जिसे समय-समय पर हमारे संतों महापुरुषों ने मानव जाती को याद कराया है। आज भी, दिव्य गुरु श्री आशुतोष महाराज जी, दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान के संस्थापक एवं संचालक, लोगों को न केवल अध्यात्म के महत्व से परिचित करवा रहे हैं अपितु इसके सार को मानव के आंतरिक जगत में ‘ब्रह्मज्ञान‘- आत्म साक्षात्कार का सनातन विज्ञान के द्वारा प्रयोगात्मक ढ़ंग से प्रकट भी कर रहे हैं। विश्व भर के असंख्य लोगों की आध्यात्मिक तृप्ति हेतु, डी.जे.जे.एस. ने श्री कृष्ण जन्माष्टमी 2021 के शुभ अवसर पर ‘संभावमी युगे युगे’ विषय पर आधारित एक विशेष सामाजिक-सांस्कृतिक- आध्यात्मिक वर्चुअल कार्यक्रम का आयोजन किया। उक्त विषय श्रीमद् भगवत गीता मे बताए गए भगवान श्रीकृष्ण के सार्वभौमिक उद्घोष- ‘पवित्र आत्माओं के कल्याण व अधर्मियों के विनाश हेतु मैं धरती पर अवतार लूँगा’ पर आधारित था।

Featured Post

कोरोना काल के पश्चात राफ्टिंग का प्रारंभ होना बेहद सुखदः महाराज

ऋषिकेश। पर्यटन व्यवसाय से जुड़े 15 हजार लोगों को पर्यटन विभाग की ओर से अब तक 7 करोड़ की धनराशि वितरित की जा चुकी है। उक्त बात गंगा नदी राफ...