Sunday, 15 August 2021

शहीदों के सपनांे के अनुरूप आगे बढ़ रहा राष्ट्रः कौशिक

देहरादून। भारतीय जनता पार्टी प्रदेश मुख्यालय में आयोजित ध्वजारोहण समारोह में प्रदेश अध्यक्ष श्री मदन कौशिक ने कहा कि 75 साल पहले वर्ष 1947 में इसी शुभ दिन की पावन बेला में स्वतंत्रता सेनानियों के साथ-साथ हर भारतवासी का स्वतंत्रता पाने का सपना साकार हुआ था और यह सुखद है कि राष्ट्र शहीदों के सपनो के अनुरूप आगे बढ़ रहा है। यह दिन प्रत्येक भारतवासियों के लिए बड़े गर्व और गौरव का दिन है। इसी दिन के लिए कितने ही देशभक्तों ने ब्रिटिश हुकूमत के हाथों अनेक यातनाएं सहीं। उन्होंने कहा कि आज हम आजादी की लड़ाई में जान न्यौछावर करने वाले सब ज्ञात-अज्ञात शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित कर रहे हैं। उन सब स्वतंत्रता सेनानियों को भी नमन करें जिन्होंने हमें स्वतंत्रता का उपहार देने के लिए निरंकुश विदेशी शासकों के हाथों कठोर यातनाएं सहीं। हम उनके सदैव ऋणी रहेंगे। उन्होंने कहा कि हम उनके जैसी देशभक्ति, देशप्रेम, साहस व कर्तव्यनिष्ठा का प्रण लें। श्री कौशिक ने कहा कि इतिहास के पन्नों में स्वतंत्रता आंदोलन एक युगान्तकारी घटना है। स्वतंत्रता के बाद महान दूरदर्शी नेता डॉ0 राजेन्द्र प्रसाद, सरदार पटेल, डॉ0 भीमराव अंबेडकर जैसे नेताओं ने लोगों की रचनात्मक क्षमताओं का उपयोग राष्ट्रीय एकता और राष्ट्र निर्माण के कार्य में किया। उन्होंने कहा कि हम उन राष्ट्र निर्माताओं, सीमा प्रहरी सैनिकों, प्रतिभाशाली वैज्ञानिकों, अन्नदाता किसानों, मेहनतकश कामगारों के प्रति भी गहन कृतज्ञता व्यक्त करते हैं जिन्होंने अपनी प्रतिभा, साहस और मेहनत के बल पर भारत को दुनिया की बड़ी शक्ति के रूप में खड़ा कर दिया है। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड वासियों को गर्व है कि देश के स्वतंत्रता आंदोलन में अग्रणी भूमिका निभाई। श्री कौशिक ने कहा कि स्वतंत्रता के आंदोलन का उदेश्य केवल अंग्रेजी सत्ता को उखाड़ फेंकना नहीं था। खुद को सदियों के कुशासन से मुक्ति दिलाने, गरीबी, अज्ञानता को मिटाने, साम्प्रदायिकता, जातिगत पूर्वाग्रहों और साम्प्रदायिकता से मुक्ति पाने के लिए ही स्वतंत्रता की कामना की थी। उन्होंने कहा कि पिछले 74 सालों से इन विसंगतियों से लड़ाई लड़ रहे हैं। इस दौरान भारत अपने बलबूते पर न केवल अपने पैरों पर खड़ा हुआ है बल्कि विश्व की सैन्य व आर्थिक महाशक्तियों में शुमार हो गया है। उन्होंने कहा कि भारत की इस गौरवपूर्ण विकास यात्रा में हर कदम पर हर भारतीय का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। लेकिन उत्तराखंड के लोग विशेष बधाई के पात्र हैं जिन्होंने अपनी मेहनत से क्षेत्र की दृष्टि से इस छोटे से राज्य को देश के सर्वाधिक विकसित राज्यों की श्रेणी में ला खड़ा किया है। उन्होंने कहा कि प्रगतिशील सोच, प्रतिभा और मेहनत के बलबूते विभिन्न क्षेत्रों में बड़ी उपलब्धियां हासिल की हैं। उत्तराखंड अब कैरोसिन मुक्त व खुले में शौचमुक्त राज्य बन चुका है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि उत्तराखंड के वीरों ने आजादी के बाद भी देश की सीमाओं की सुरक्षा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। गर्व का विषय है कि आज देश की सेना में हर दसवां सैनिक उत्तराखंड की सैन्य भूमि से है। यहां के सैनिकों ने 1962, 1965, 1971 के विदेशी आक्रमणों व आप्रेशन कारगिल युद्ध के दौरान वीरता की नई मिसाल पेश की थी। प्रदेश के वीर कभी भी राष्ट्रीय एकता और अखण्डता की रक्षा के लिए अपने अमूल्य प्राणों की आहूति देने से पीछे नहीं हटे। उन्होंने कहा कि हम सबका परम कर्तव्य है कि मातृभूमि के लिए जान न्यौछावर करने वाले शहीदों और सेवारत सैनिकों के परिवारों और उनके आश्रितों की देखभाल करें। इसीलिए सरकार ने अनेक लाभकारी योजनाएं चला रखी है। मुख्यमंत्री ने कहा कहा कि प्रदेश में नहरों, सडक़ों व रेलमार्गों का मजबूत जाल बिछा है। आज राज्य निरंतर प्रगति के पथ पर अग्रसर है और शहीदों के सपनो को साकार करने की दिशा में तेजी से आगे बढ़ रहा है। इस अवसर पर भारतीय जनता पार्टी के संगठन महामंत्री अजेय, राज्यसभा सांसद नरेश बंसल, लोकसभा सांसद राजालक्ष्मी शाह, विधायक खजान दास, अनिल गोयल, विनय गोयल, विनोद सुयाल, विपिन कैंथोला, प्रदेश मंत्री मधु भट्ट, बलजीत सोनी, संजीव वर्मा आदि गणमान्य लोग उपस्थित रहे।

Featured Post

तकिये से दबाकर बेटे की हत्या करने के बाद खुद फंदे से लटक गई मां

रुद्रपुर। रुद्रपुर में दो मौतों का सनसनीखेज मामला सामने आया है। चचिया ससुर के घर खेड़ा आई ट्रांजिट कैम्प निवासी महिला ने बीती देर रात पहले ...