Friday, 24 December 2021

एथेरोस्क्लेरोसिस दिल के दौरे के लिए एक प्रमुख जोखिम कारकः डा. प्रीति शर्मा

देहरादूना। अध्ययनों के अनुसार कोरोनरी धमनी का कैल्सीफिकेशन उम्र के साथ बढ़ता है और महिलाओं की तुलना में यह पुरुषों में काफी आम है जो लोग मेटाबोलिक सिंड्रोम डिस्लिपिडेमिया तंबाकू का उपयोग उच्च रक्तचाप क्रोनिक किडनी रोग और उच्च बेसलाइन सी-रिएक्टिव प्रोटीन स्तर से जूझ रहें हैं उनमे कोरोनरी धमनी विकसित होने का खतरा बढ़ जाता है। इस स्थिति, इसके लक्षणों और उपलब्ध उपचार के बारे में जागरूकता बढ़ाने की आवश्यकता है। धमनियों में कैल्शियम का जमाव सामान्य रक्त प्रवाह को तभी ख़तरे में डाल सकता है जब यह संबंधित धमनी को आंशिक रूप से या पूरी तरह से अवरुद्ध कर दे दिखाई देने वाले लक्षण इस बात पर निर्भर करते हैं कि शरीर की कौन सी धमनी अवरुद्ध है यदि कोरोनरी धमनी अवरुद्ध हो जाती है, तो थोड़े से भी मेहनत करने पर छाती में दर्द, सांस में तकलीफ, छाती में भारीपन और दिल की धड़कन तेज़ या धीमी होने जैसे लक्षण दिखाई देते हैं. इस बारे में जानकारी देते हुए हुए डॉ प्रीति शर्मा एसोसिएट निदेशक और प्रमुख कार्डियक साइंसेज विभाग मैक्स अस्पताल देहरादून ने कहा कि जब अतिरिक्त कैल्शियम रक्त में जमा हो जाता है और कोलेस्ट्रॉल के साथ मिल जाता है, तो यह मानव स्वास्थ्य पर विनाशकारी प्रभाव डाल सकता है। यह प्लाक बनाता है जो कि धमनियों की दीवारों से चिपक जाता है और आंशिक या पूर्ण रुकावट का कारण बन सकता है। यह धमनी की दीवारों को भी सख्त करता है। चिकित्सा शब्दावली में, धमनियों में कैल्शियम और वसायुक्त पदार्थ के ऐसे जमा होने को एथेरोस्क्लेरोसिस कहा जाता है। धमनियों में कैल्शियम जमा होने से कोरोनरी धमनी की बीमारी का खतरा बढ़ जाता है। जिन लोगों के रक्त में कैल्शियम का स्तर ऊंचा होता है, उन्हें दिल का दौरा और स्ट्रोक होने की आशंका अधिक होती है। डॉ. प्रीति शर्मा इस बारे में अधिक जानकारी देते हुए कहा, हालांकि पहले, कोरोनरी धमनी कैल्सीफिकेशन को लेकर माना जाता था कि इससे कोई हानिकारक प्रभाव नहीं होते, लेकिन अब यह पता चला है कि यह समस्या आगे बढ़कर भविष्य में हृदय संबंधी समस्याओं जैसे दिल का दौरा पड़ने का कारण बन सकती है. कोरोनरी हृदय रोग (सीएचडी) के रोगियों में सीएसी का उच्च प्रसार परक्यूटेनियस कोरोनरी इंटरवेंशन (पीसीआई) को करना मुश्किल बना देता है। वर्तमान में कोरोनरी धमनी कैल्सीफिकेशन के लिए कोई ज्ञात विशिष्ट उपचार नहीं है। इसके लिए उच्च रक्तचाप, डिस्लिपिडेमिया, मधुमेह मेलिटस का इलाज करने और उन्नत गुर्दे की बीमारी के विकास को रोकने जैसे जोखिम कारकों को संशोधित करना महत्वपूर्ण है। ऐसे मामलों में जहां जटिलताएं उत्पन्न होती हैं, वहां एंजियोप्लास्टी की जाती है। यह एथेरोस्क्लेरोसिस के कारण अवरुद्ध धमनियों में रक्त प्रवाह की बहाली और सुधार में मदद करता है। इस प्रक्रिया में सर्जन/इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट धमनी के संकुचित हिस्से में एक लंबी, पतली ट्यूब (कैथेटर) डालते हैं। एक पतले तार की जाली (स्टेंट) को डिफ्लेटेड बैलून पर लगाया जाता है और फिर कैथेटर के माध्यम से संकुचित क्षेत्र में भेजा जाता है। इसके बाद गुब्बारा फुलाया जाता है, धमनी की दीवारों पर जमा कैल्शियम को संकुचित करता है, और धमनी में एम्बेडेड विस्तारित स्टेंट को छोड़ देता है। ड्रग कोटेड स्टेंट हैं जो यूएसएफडीए द्वारा अच्छी तरह से अध्ययन और अनुमोदित हैं और मधुमेह, उच्च रक्तस्राव जोखिम आदि जैसी अन्य जटिलताओं वाले रोगियों में भी यह सुरक्षित हैं।

Featured Post

टिकट न मिलेन पर भाजपा नेताओं पर लगाया दगाबाजी का आरोप

देहरादून। उत्तराखंड विधानसभा चुनाव के लिए टिकट बंटवारे में भाजपा ने 10 नेताओं के टिकट काटे हैं। उनमें से कुछ ने बगावत कर दी है। कर्णप्रयाग व...