चौधरी चरण सिंह की जयंती पर पूर्व जनप्रतिनिधियों को सम्मानित किया

ऋषिकेश। बैराज रोड स्थित कैंप कार्यालय पर विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने देश के पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह की जयंती के अवसर पर उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए ऋषिकेश विधानसभा क्षेत्र के विभिन्न पूर्व जनप्रतिनिधियों को सम्मानित किया। इस अवसर पर श्री अग्रवाल ने कहा है कि जिन लोगों ने विभिन्न पदों पर रहकर क्षेत्र के जनप्रतिनिधि के रूप में अपना कार्यकाल पूर्ण कर क्षेत्र के विकास व समाज सेवा मे महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है सही मायने वह सभी लोग हर दृष्टि से सम्मान के पात्र है, उनका योगदान कभी भी भुलाया नहीं जा सकता। उन्होंने कहा है कि जनप्रतिनिधि भले ही एक निश्चित समय के लिए निर्वाचित होते हैं परंतु समाज सेवा उनके जीवन के साथ जुड़ी हुई रहती है वह सामाजिक कार्य से विमुख नहीं हो सकते हैंद्य श्री अग्रवाल ने कहा है कि उन्होंने भी हमेशा अपनी ओर से प्रयास किया है कि जिन लोगों ने समाज के लिए अपना योगदान दिया है ऐसे लोगों को प्रोत्साहित एवं सम्मानित किया जाना चाहिए। जनप्रतिनिधि जनता की भावनाओं से नजदीक से जुड़े हुए रहते हैं इसलिए उनके अनुभवों का लाभ लेते हुए समाज हित में कार्य करने की आवश्यकता है। इस अवसर पर श्री अग्रवाल ने पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह के विचारों को आत्मसात करने की बात भी कही उन्होंने कहा कि वह किसान पुत्र थे और उन्होंने जीवन पर्यंत इस देश के किसानों के लिए संघर्ष कियाद्य श्री अग्रवाल ने कहा कि चौधरी चरण सिंह जी के विचार आज भी उतने ही प्रसांगिक है। इस अवसर पर पूर्व पार्षद हरीशानंद जी, पूर्व पार्षद अनिता बहल, पूर्व पार्षद सीमा रानी, पूर्व पार्षद सुलेखा, पूर्व पार्षद दीपक धमीजा, पूर्व पार्षद हरीकृष्ण प्रजापति, पूर्व पार्षद रामकृपाल गौतम, पूर्व प्रधान सत्येंद्र धमांदा, पूर्व प्रधान सुरेंद्र उनियाल, सरोज सिंह पुंडीर, रविंद्र कश्यप, जयप्रकाश, हरीश कक्कड़, पूर्व क्षेत्र पंचायत सदस्य सुमित थपलियाल, उदीना देवी, कविता शाह सहित अनेक पूर्व जनप्रतिनिधियों को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में अनेक गणमान्य लोग उपस्थित थेद्य संचालन पूर्व पार्षद कविता शाह ने किया।

Popular posts from this blog

नेशनल एचीवर रिकॉग्नेशन फोरम ने विशिष्ट प्रतिभाओं को किया सम्मानित

व्यंजन प्रतियोगिता में पूजा, टाई एंड डाई में सोनाक्षी और रंगोली में काजल रहीं विजेता

घरों के आस-पास चहचहाने वाली गौरैया विलुप्ति के कगार पर