Tuesday, 3 January 2023

आईआईटी जोधपुर ने ऋषभ स्वच्छ ऊर्जा अनुसंधान एवं नवाचार केंद्र की स्थापना की

ोधपुर। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान जोधपुर ने हाल में ऋषभ इंस्ट्रूमेंट्स लिमिटेड और इवान फाउंडेशन के साथ एक सहयोग करार (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए जिसके तहत ऋषभ स्वच्छ ऊर्जा अनुसंधान एवं नवाचार केंद्र की स्थापना की जाएगी। सहयोग करार पर आईआईटी जोधपुर के निदेशक प्रोफेसर शांतनु चौधरी और ऋषभ इंस्ट्रूमेंट्स लिमिटेड और इवान फाउंडेशन के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक नरेंद्र गोलिया ने हस्ताक्षर किए। इस केंद्र का मुख्य उद्देश्य आईआईटी जोधपुर के शिक्षकों और शोधकर्ताओं की ज्ञान संपदा का उपयोग कर मौलिक और अनुप्रयुक्त अनुसंधान की सुविधा प्रदान करना है। यह केंद्र पूरे देश के अन्य शैक्षणिक संस्थानों, प्रौद्योगिकी केंद्रों, स्टार्टअप्स और उद्योगों के साथ जुड़ने का प्रयास करेगा। इस केंद्र का अनुसंधान और प्रौद्योगिकी रोडमैप उपयुक्त प्रोग्रामों के माध्यम से सहयोग के आधार पर अनुसंधान की सक्षमता बढ़ाएगा और भविष्य में अत्याधुनिक उपयोगों के लिए नई और अत्याधुनिक तकनीकों का विकास करेगा। यह केंद्र संबंधित उद्योगों के साथ जुड़ा रहेगा और आईआईटी जोधपुर में नवाचार के दमदार इकोसिस्टम का लाभ लेकर प्रौद्योगिकी हस्तांतरण और उत्पादों का विकास करेगा। इवान फाउंडेशन ने इस केंद्र में आवश्यक बुनियादी ढांचा और विभिन्न अनुसंधान प्रयोगशालाओं की स्थापना के लिए अगले 3-5 वर्षों में संस्थान को लगभग 70 करोड़ रुपयों की वित्तीय सहायता देने की प्रतिबद्धता की है। आईआईटी जोधपुर के निदेशक डॉ. शांतनु चौधरी ने नरेंद्र गोलिया की खास पहल और समर्थन की सराहना की जिसके तहत आईआईटी जोधपुर में स्वच्छ ऊर्जा के व्यापक क्षेत्र में इनोवेशन का इकोसिस्टम बनेगा जो ऊर्जा स्थिरता की प्रौद्योगिकियों के साथ उत्पादन की सुविधा प्रदान करेगा। सहयोग करार पर हस्ताक्षर के दौरान ऋषभ इंस्ट्रूमेंट्स लिमिटेड और इवान फाउंडेशन के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक श्री नरेंद्र गोलिया ने कहा, ‘‘हम स्वच्छ ऊर्जा अनुसंधान और नवाचार केंद्र की स्थापना कर रहे हैं जिसकी घोषणा करते हुए मुझे बहुत खुशी हो रही है। केंद्र का उद्देश्य नई टेक्नोलॉजी का विकास करना है जो भारत में ही नहीं अपितु पूरी दुनिया से स्वच्छ भविष्य देने का वादा करे। आईआईटी जोधपुर के रूप में हमें एक बहुत ही सक्षम भागीदार मिला है। हमारे उद्देश्य एक समान हैं। केंद्र अगले तीन वर्षों में आईआईटी जोधपुर परिसर में बन कर तैयार होगा और यहीं से संचालित होगा।’’

Featured Post

कर्तव्य पथ पर गणतंत्र दिवस परेड में शामिल उत्तराखंड की झांकी ने पहली बार प्रथम स्थान पाकर बनाया इतिहास

देहरादून, गढ़ संवेदना न्यूज। गणतंत्र दिवस परेड को अभी तक राजपथ के नाम से जाना जाता था, किंतु इस वर्ष उसका नाम बदलकर कर्तव्य पथ रखा गया है। ...