कई लोगों ने थामा उत्तराखंड क्रांति दल का दामन

देहरादून। उत्तराखंड की कई जानी-मानी हस्तियों ने आज उत्तराखंड क्रांति दल केंद्र के केंद्रीय अध्यक्ष काशी सिंह ऐरी की मौजूदगी में उक्रांद का दामन थामा। कई सोशल एक्टिविस्ट, ह्यूमन राइट एक्टिविस्ट और आरटीआई एक्टिविस्ट ने यूकेडी की सदस्यता लेते हुए क्षेत्रीय दल को मजबूत करने और क्षेत्रीय मुद्दों पर संघर्ष को तेज करने का संकल्प जताया। यूकेडी के केंद्रीय अध्यक्ष काशी सिंह ऐरी ने कई वरिष्ठ पदाधिकारियों की मौजूदगी में उन्हें माल्यार्पण और बुके देकर पार्टी की सदस्यता दिलाई। उत्तराखंड क्रांति दल के केंद्रीय अध्यक्ष काशी सिंह ऐरी ने कहा कि दिल्ली वाले दलों के छल को अब सभी गंभीरता से समझ रहे हैं, यही कारण है कि विभिन्न सामाजिक क्षेत्रों में सक्रिय भूमिका निभाने वाले दिग्गज लोग राज्य को मजबूत करने के लिए यूकेडी ज्वाइन कर रहे हैं। उत्तराखंड क्रांति दल के केंद्रीय मीडिया प्रभारी शिव प्रसाद सेमवाल ने कहा कि जल्दी ही इन सभी सोशल एक्टिविस्ट के साथ मिलकर उत्तराखंड के इंसाफ की लड़ाई को तेज किया जाएगा और स्थानीय मुद्दों को लेकर व्यापक जन अभियान छेड़ा जाएगा। उक्रांद की सदस्यता लेने वालों में ह्यूमन राईट एक्टिविस्ट और पत्रकार भूपेंद्र कुमार के साथ ही आरटीआई एक्टिविस्ट प्रमोद कुमार डोभाल, सामाजिक कार्यकर्ता सत्यवीर सिंह, आर्यन क्रिकेट एकेडमी के संस्थापक राकेश धूलिया, गोदियाल कोचिंग इंस्टिट्यूट के अध्यक्ष सौरभ गोदियाल, रावत कंस्ट्रक्शन कंपनी के डायरेक्टर सूरत सिंह रावत, बृजेश जोशी, रोहित शर्मा, राजेश थापा, उम्मेद रावत आदि ने उत्तराखंड क्रांति दल का दामन थामा। इस अवसर पर उत्तराखंड क्रांति दल के कार्यकारी अध्यक्ष एपी जुयाल, केंद्रीय मीडिया प्रभारी शिव प्रसाद सेमवाल, केंद्रीय प्रवक्ता अनुपम खत्री, केंद्रीय महिला मोर्चा की अध्यक्ष सुलोचना ईष्टवाल, उपाध्यक्ष उत्तरा पंत बहुगुणा, चुनाव संयोजक एडवोकेट अभिषेक बहुगुणा, गुलिस्ता खानम, मधु सेमवाल, सरोज रावत, महानगर अध्यक्ष विजेंद्र रावत, लताफत हुसैन, कार्यालय प्रभारी दीपक गैरोला, राजेंद्र पंत, संजय तितोरिया, राजेन्द्र गुसाईं, राजेश्वरी रावत आदि शामिल थे।

Popular posts from this blog

नेशनल एचीवर रिकॉग्नेशन फोरम ने विशिष्ट प्रतिभाओं को किया सम्मानित

व्यंजन प्रतियोगिता में पूजा, टाई एंड डाई में सोनाक्षी और रंगोली में काजल रहीं विजेता

घरों के आस-पास चहचहाने वाली गौरैया विलुप्ति के कगार पर