पार्षद और निगमकर्मी खा गये 9 करोड़, नगर निगम दून की जांच में 100 कर्मचारी नदारद मिले

देहरादून: नगर निगम की जांच में वार्डों में गठित स्वच्छता समिति के 100 कर्मचारी नदारद मिले हैं। हालांकि यह पूरी तरह से जांच के मामले में लीपा-पोती है। इसके बावजूद चलो, इस जांच को ही सही मान लें तो 100 कर्मचारियों को पिछले पांच साल से हर महीने 15 हजार रुपये के हिसाब से दिया जा रहा था तो एक साल का एक करोड़ 80 लाख और पाच साल का 9 करोड़ रुपये का घोटाला हुआ है। डीएम सोनिका ने भी इसे स्वीकार किया है। क्या घोटाला करने वाले पार्षदों के खिलाफ एफआईआर होगी और रिकवरी की जाएगी? देहरादून नगर निगम के घोटालों की उच्चस्तरीय जांच किये जाने की जरूरत है।

Popular posts from this blog

नेशनल एचीवर रिकॉग्नेशन फोरम ने विशिष्ट प्रतिभाओं को किया सम्मानित

व्यंजन प्रतियोगिता में पूजा, टाई एंड डाई में सोनाक्षी और रंगोली में काजल रहीं विजेता

घरों के आस-पास चहचहाने वाली गौरैया विलुप्ति के कगार पर