Tuesday, 27 April 2021

चौबट्टाखाल के लोगों को मदद करने के लिए उत्तराखंड प्रगतिशील पार्टी ने शुरू की अनोखी पहल

सतपुली/देहरादून। उत्तराखंड प्रगतिशील पार्टी के चैबट्टाखाल संयोजक चंद्रशेखर नेगी ने लोगों को मदद करने के लिए अनोखी पहल की शुरुआत की। पूर्व सैनिक चंद्रशेखर नेगी ने कहा कि अभी हमारी टीम सतपुली बाजार के आसपास स्थित दुधारू खाल, डोर बहेली, थल्दा एवं गवाणा गांवों में अपनी मदद से हम लोगों की सेवा कर रहे हैं। हमारा लक्ष्य है कि इन गांव में बसे हुए लोगों को कोरोना महामारी कि वजह से अगर किसी तरह की बुनियादी समस्या है तो उन्हें हम अपनी मदद दे सकते हैं। हमारे इस मुहिम में हमारी टीम आस-पास के गांव में अगर पेयजल की व्यवस्था उचित नहीं है और कहीं भी किसी पाइपलाइन में समस्या है तो उन पाइप लाइनों को अपने तरफ से ठीक करना एवं लोगों के घर तक पेयजल की व्यवस्था पहुंचाना है एवं जिन गांव में पेयजल की व्यवस्था नहीं है तो हम जरूरत के हिसाब से उनको पानी की टंकी घर तक छोड़ आते हैं ताकि गांव वाले इसका इस्तेमाल अपने जरूरत के अनुसार करें। जरूरतमंद लोगों को निशुल्क अपनी टैक्सी सुविधा मुहैया कराते हैं जिससे प्रवासी लोग जो लाॅकडाउन से प्रदेश लौट रहे हंै उन्हें बाजार तक पहुंचाना, डॉक्टर और संबंधित अन्य कार्यों के लिए सतपुली बाजार तक ले जाना और वापस घर छोड़ देना शामिल है। अगर कोई व्यक्ति को अपने घर तक राशन और खाने-पीने की वस्तु लाना चाहता है तो हम यह सुविधा भी उनके लिए उपलब्ध कराते हैं। इन सब कामों में हम सरकार के सभी नियम एवं कायदों को ध्यान में रखते हुए सोशल डिस्टेंसिगं का पालन करते है और प्राॅपर सैनिटाइजेशन की भी व्यवस्था करते है। हमारी टीम आगजनी वाले क्षेत्रों में अपने टैक्सी से पानी टंकी लेकर इलाके में आग बुझाने का प्रयास करते रहे हैं और इसमें हम गांव के लोगों का भी मदद लेते हैं। हमारे इस मुहिम में उत्तराखंड प्रगतिशील पार्टी के संयोजक जंगवीर सिंह नेगी एवं अजय और विजय इन सभी लोगों द्वारा गांव गांव तक मदद पहुंचाई जा रही है। आधुनिक ग्लू थेरेपी वैरिकाज वेन्स के इलाज के लिए सुरक्षित और प्रभावी प्रक्रिया है।

Monday, 26 April 2021

हाईटेक बेड (फाओलर) की सूचना क्यों छुपाई स्वास्थ्य महानिदेशालय नेः मोर्चा, -1000 बेड की खरीद की गई थी विभाग ने !

-1000 बेड की खरीद की गई थी विभाग द्वारा -रुक्या गोदाम की शोभा बढ़ाने के लिए खरीदे गए थे बेड -प्रदेश में मरीजों को बेड न मिलने से मचा हुआ है हाहाकार -लापरवाह अधिकारियों को बर्खास्त करे सरकार विकासनगर। जन संघर्ष मोर्चा अध्यक्ष एवं जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने पत्रकारों से वार्ता करते हुए कहा कि स्वास्थ्य महानिदेशालय द्वारा पांच- सात माह पहले हाईटेक बेड की खरीद कर उनको गोदामों की शोभा बढ़ाने के लिए छोड़ दिया गया। नेगी ने कहा कि विश्वस्त सूत्रों से ज्ञात हुआ है कि महानिदेशालय द्वारा 1000 हाईटेक बेड खरीदे गई थे। मोर्चा के जिला मीडिया प्रभारी प्रवीण शर्मा पिन्नी द्वारा द्वारा दिसंबर 2020 को कोविड-19 के प्रारंभ से लेकर सूचना उपलब्ध कराने की तिथि तक खरीदे गए समस्त सामान यथा वेंटिलेटर, मास्क, सैनिटाइजर, पीपीई किट इत्यादि (यानी समस्त) की खरीद के बारे में सूचना मांगी गई थी, जिस के क्रम में महानिदेशालय द्वारा 27 फरवरी 2021 को अन्य खरीदे गए सामान की सूची तो उपलब्ध करा दी गई, लेकिन इन हाइटेक बेड की सूचना का कोई उल्लेख नहीं किया गया। यानी इनको डर था कि कहीं हाईटेक बेड की सूचना लीक हो गई तो जनता हिसाब मांगेगी। प्रदेश की जनता इस महामारी के दौर में एक-एक बेड के लिए मारी-मारी फिर रही है। इन लापरवाह अधिकारियों ने मरीजों को तड़पने के लिए छोड़ दिया। नेगी ने कहा कि सरकार के एक मंत्री अपने भांजे के इलाज को लेकर अस्पताल में हंगामा काट रहे हैं। काश! प्रदेश के मंत्रियों विधायकों ने भी इस मामले को गंभीरता से लिया होता तो आज ये परिणाम न होते। मोर्चा सरकार से मांग करता है कि इन निकम्मे एवं लापरवाह अधिकारियों को बर्खास्त कर जनता को एक-एक बेड का हिसाब दे। पत्रकार वार्ता में मोर्चा उपाध्यक्ष विजय राम शर्मा व नारायण सिंह चैहान उपस्थित रहे। -------------------------------------

Sunday, 25 April 2021

महावीर जयंती पर जैन भवन प्रांगण में सूक्ष्म रूप से निकाली गई पालकी यात्रा

देहरादून, गढ़ संवेदना न्यूज। महावीर जयंती के अवसर पर मधु जैन ने प्रदेश वासियों को बधाई देते हुए जानकारी देते हुए बताया कि वर्तमान शासननायक 24 वें तीर्थंकर श्री 1008 महावीर स्वामी के 2620 वां जन्मकल्याणक गांधी रोड स्थित जैन धर्मशाला में कोरोना महामारी के बढ़ते प्रकोप के कारण सूक्ष्म रूप से मनाया गया। इस अवसर पर गिरनार गौरव आचार्य श्री 108 निर्मल सागर जी महाराज के परम शिष्य गिरनार पीठाधीश्  क्षुल्लकरत्न 105 श्री समर्पण सागर जी महाराज के मंगल सानिध्य में प्रातः कालीन बेला में श्रीजी का अभिषेक और सभी संसार जगत के जीवों के लिए कोरोना संक्रमण महामारी से निवारण हेतु शांति धारा कराई गई। सभी को सुरक्षित रहने के लिए, दूरी बनाकर रहने के लिए, स्वस्थ रहने के लिए ,मंगल कामना की गई और जो भी संसार में कोरोना से लोग परेशान है जो जो मृत्यु को प्राप्त हो रहे हैं या जो हो चुके हैं उनके लिए भी श्रद्धांजलि अर्पित की गई और शुभकामनाएं प्रेषित की गई। यह भावना भाई गई सभी लोग स्वस्थ रहें और उसका निवारण इस तरह की मंगल कामना की गई। तत्पश्चात श्री जी की पालकी यात्रा सूक्ष्म रूप से जैन भवन प्रांगण में निकाली गई। इस अवसर पर क्षुल्लक रत्न श्री 105 श्री समर्पण सागर जी ने अपने आशीर्वचन में कहा कि महावीर जयंती जैन धर्म का सबसे बड़ा पर्व है इसी दिन जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर भगवान महावीर का जन्म हुआ था भगवान महावीर का जन्म करीब ढाई हजार साल पहले (ईसा से 599 वर्ष पूर्व), वैशाली के गणतंत्र राज्य क्षत्रिय कुण्डलपुर में हुआ था तीस वर्ष की आयु में महावीर ने संसार से विरक्त होकर राज वैभव त्याग दिया और संन्यास धारण कर आत्मकल्याण के पथ पर निकल गए इस बार महावीर जयंती 25 अप्रैल को मनाई जा रही है। इस अवसर जैन भवन मंत्री संदीप जैन ने महावीर जयंती की बधाई देते हुए कहा कि विश्व वंदनीय, शासन-नायक, देवाधिदेव भगवान महावीर के 2620वें जन्म-कल्याणक  महोत्सव के पावन अवसर पर आपको अनन्त मंगलकामना एवं हार्दिक बधाई। भगवान महावीर के सत्य, अहिंसा, अचैर्य, ब्रह्मचर्य  एवं अपरिग्रह के अत्यंत प्रासंगिक सिद्धान्तों को आज प्रत्येक मानव को सुख, शांति प्राप्त करने के लिए अंगीकार करने की आवश्यकता है। वैश्विक कोरोना महामारी से संपूर्ण विश्व को मुक्ति प्राप्त हो एवं प्रभु का जन्म-कल्याणक महोत्सव, प्रत्येक जीव के लिए मंगलमय एवँ कल्याणकारी हो, शांतिधारा में जैन समाज के लोगो ने बढ़चढ़ का प्रतिभाग किया जिसमे सुखमाल चंद जैन तनिष्क जैन, मधु जैन, चंद्र बाला जैन जनेश्वर दास जैन, संदीप जैन (बड़ा गांव वाले) सुरेंद्र जैन, मनीष जैन, प्रदीप जैन, प्रवीण जैन, सुमेर चन्द जैन, जेवेलर्स अनिल जैन, हर्ष जैन, विनय जैन, मिथलेश जैन, प्रतीक जैन, अशोक कुमार जैन, राजीव जैन, अजय जैन, गौरव जैन, अजय जैन, राजीव जैन, तुषार जैन, अमित जैन, अमित जैन, सनत जैन, अमित जैन, अभिषेक जैन, अमित जैन, सचिन जैन, सार्थक जैन, सचिन जैन, पारस, अजित जैन सोनम जैन नीरू जैन, संजीव जैन, राजीव जैन, प्रवीण जैन, गौरव जैन, संजय जैन, अजीत जैन, सनत जैन, प्रवीण जैन, वीणा जैन, उमा जैन, मोनिका जैन, सुदेश जैन, सौरभ जैन, पंकज जैन, विपिन जैन, इंदिरा जैन आदि लोग मौजूद रहे।

Saturday, 24 April 2021

कोरोना वैक्सीन लगायें और एक स्वस्थ भविष्य की ओर बढ़ेंः स्वामी चिदानन्द सरस्वती

ऋषिकेश। ‘विश्व टीकाकरण सप्ताह’ प्रतिवर्ष अप्रैल के अंतिम सप्ताह में मनाया जाता है। इसका उद्देश्य है कि सभी उम्र के लोगों को बीमारियों से सुरक्षा के लिए वैक्सीन के उपयोग को बढ़ावा देना है। खतरनाक बीमारियों से सुरक्षा प्रदान करने के लिये टीकाकरण कर लाखों लोगों की जान बचायी जा सकती है। ऐसी कई बीमारियां है, जिनके टीके बनाकर उस पर नियत्रंण किया गया। परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने कहा कि हम सभी के जीवन में कोरोना महामारी के कारण जो भयाावह स्थितियों का निर्माण हुआ उससे वैक्सीन का महत्व और भी बढ़ गया है। वैक्सीन लगायेगें और कोरोना भगायेगें यह सूत्र विश्व टीकाकरण सप्ताह 2021 के माध्यम से हम सभी के लिये है। सभी के जीवन को सुरक्षित रखने के लिये तथा दुनिया भर में टीकाकरण के महत्व को बढ़ावा देने के लिये जरूरी है कि हम सभी वैक्सीन लगायें और दूसरों से भी इसके लिये आग्रह करें। स्वामी जी ने कहा कि भारत में बनी कोरोना की वैक्सीन पर विश्वास करेंय अफवाहों पर ध्यान न दें तथा वैक्सीन के प्रति अपनी स्वीकृति को बनाए रखें। आज समाज को विचारों के वैक्सीन की भी जरूरत है ताकि लोग नकारात्मकता से बचे रहें, सकारात्मक बने रहें और दूसरों को भी इसके लिये प्रेरित करें। भारत सरकार 45 वर्ष तक की आयु वर्ग के लोगों को निःशुल्क कोरोना वैक्सीन लगा रही है और 1 मई से 18 वर्ष तक के सभी लोगों को कोरोना की वैक्सीन लगायी जायेगी जो कि वास्तव में सराहनीय प्रयास है, इसका सभी लाभ उठायें। दुनिया में कोविड-19 वैश्विक महामारी के दौरान कई बच्चों का टीकाकरण नहीं हुआ, जिससे उन्हें खसरा और पोलियो जैसी गंभीर बीमारियों का खतरा है इसलिये टीकाकरण के विषय में जनमानस को जागरूक करें, गलत सूचना प्रसारित न करें तथा कोरोना की रोकथाम के लिये टीकाकरण अवश्य करें। हम सभी मिलकर सार्वजनिक भलाई के लिये टीकाकरण हेतु एकजुटता प्रकट करें तथा समाज में विश्वास का निर्माण करें, जिससे सभी के जीवन की रक्षा हो सके। कोरोना हमारे और हमारे परिवार वालों के जीवन के लिए खतरा है उसके कारण हमारा विकास रूका हुआ है तथा लाखों लोगों की जान जा रही हैं इसलिये आईये हम सभी कोरोना वैक्सीन लगाकर एक स्वस्थ भविष्य की ओर बढ़ें।

कोरोना को देखते हुए कमलेश्वर मंदिर के कपाट श्रद्धालुओं के लिए बंद

श्रीनगर गढ़वाल। उत्तराखंड में कोरोना का कहर जारी है। हर दिन प्रदेश में कोरोना के मामलों में बढ़ोत्तरी हो रही है। श्रीनगर में पिछले तीन दिन में कोरोना संक्रमण के 84 मामले सामने आए हैं। इसको लेकर अब मंदिरों में भी श्रद्धालुओं के आने पर रोक लगा दी गई है। इसी कड़ी में श्रीनगर के प्रसिद्ध कमलेश्वर मंदिर प्रशासन ने श्रद्धालुओं के लिए मंदिर के कपाट बंद कर दिए गए हैं। कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए मंदिर प्रशासन ने यह कदम उठाया है। कमलेश्वर मंदिर में आम दिनों में भी श्रद्धालु मंदिर में आते हैं। मंदिर में होने वाली सुबह और शाम की आरती में श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है। मंदिर के महंत आशुतोष पुरी ने बताया कि मंदिर के कपाट को कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए बंद किया गया है। अगर कोरोना के मामले प्रदेश में कम होते हैं तो फिर से श्रद्धालुओं के लिए कमलेश्वर मंदिर के कपाट खोल दिए जाएंगे।

आउटसोर्स कर्मियों की दुर्घटना में मौत के मामले में अनुग्रह राशि बढ़ाई जाएः मोर्चा

विकासनगर। जन संघर्ष मोर्चा अध्यक्ष एवं जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने कहा कि यूपीसीएल में उपनल, पीआरडी एवं स्वयं सहायता समूह के माध्यम से कार्योजित कर्मचारियों की विद्युत दुर्घटना में मौत होने पर विभाग द्वारा मात्र चार लाख रुपए की राशि बतौर मुआवजा अनुमन्य की गई है, जोकि बहुत कम है। पूर्व में विभाग द्वारा मात्र दो लाख का प्रावधान था। नेगी ने कहा कि यूपीसीएल में आउट सोर्स के माध्यम से कार्योजित कर्मचारी अपनी जान जोखिम में डालकर कार्य करते हैं तथा दुर्घटना में मौत हो जाने पर इनके परिवार को ताउम्र कष्टकारी जीवन व्यतीत करना पड़ता है। इन कर्मियों को मिलने वाले मुआवजा के अतिरिक्त जीवन सुरक्षा कवर की भी व्यवस्था करनी चाहिए। नेगी ने कहा कि इससे कष्टकारी और क्या हो सकता है कि विभाग समान कार्य समान वेतन देना तो दूर, ऐसे संवेदनशील मामलों में भी कर्मचारियों के शोषण से बाज नहीं आया। मोर्चा कर्मियों की दुर्घटना में मौत मामले में अनुग्रह राशि बढ़ाने एवं जीवन सुरक्षा कवर की व्यवस्था करने को लेकर शासन में दस्तक देगा।

कालाबाजारी की शिकायतों पर हो कङी कार्रवाईः सीएम तीरथ

-बैठकों में लिये गये निर्णयों की तुरंत अनुपालना सुनिश्चित करें -मई से कोविड प्रोटोकॉल का ध्यान रखते हुए कैम्प एप्रोच पर कोविड टीकाकरण बङे पैमाने पर हो देहरादून। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने सचिवालय में आयोजित बैठक में प्रदेश में कोविड की स्थिति की समीक्षा करते हुए निर्देश दिये कि कालाबाजारी की शिकायतों पर दोषी लोगों पर सख्त कार्रवाई की जाए। इसमें किसी तरह की शिथिलता बर्दाश्त नहीं की जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि बैठकों में जो निर्णय एक बार ले लिया जाता है, उसकी अनुपालना सुनिश्चित की जानी चाहिए। मई से राज्यव्यापी टीकाकरण अभियान संचालित किया जाना है। इसकी पुख्ता तैयारियों कर ली जाएं। कोविड प्रोटोकॉल का ध्यान रखते हुए कैम्प एप्रोच पर टीकाकरण की व्यवस्था की जाए। औद्योगिक संस्थानों, कालेजों, सहित ग्राम स्तर तक करना है। नगर निकायों की भांति ही पंचायतों में भी सेनेटाइजेशन कराया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के बोर्डर पर बाहर से आने वालों की सख्त चैकिंग हो। बिना आरटीपीसीआर नेगेटिव रिपोर्ट के न आने दिया जाए। राज्य के प्रवासी लोगों के लिए रजिस्ट्रेशन जरूरी हो। उन्हें सीधे उनके घर भेजकर होम आइसोलेशन में रखा जाए। ये लोग होम आइसोलेशन का पालन करें इसके लिए ग्राम प्रधानों का सहयोग लिया जाए। इसके लिए ग्राम प्रधानों को समुचित धनराशि उपलब्ध करानी होगी। पुलिस का प्रधानों को सहयोग दिया जाए। मुख्यमंत्री ने अस्पतालों को उपलब्ध कराई गई रेमडेसिवर की मात्रा और तय दर सार्वजनिक करने के निर्देश दिये। आगे के 15 दिनों के अनुसार कोविड को लेकर प्लान हो। उसी के अनुरूप आक्सीजन, आईसीयू, जरूरी दवाएं आदि की व्यवस्था सुनिश्चित हो। आक्सीजन सप्लाई चेन मैनेजमेंट पर सर्वाधिक ध्यान देना होगे। जनजागरूकता के लिए व्यापक प्रचार प्रसार किया जाए। होम आइसोलेशन में किन किन बातों का ध्यान रखा जाना है, लोगों को इसकी जानकारी दी जाए। एक प्रभावी सेंट्रल कंट्रोल रूम हो, जहां लोगों को विभिन्न अस्पतालों में उपलब्ध बेड की जानकारी मिल सके और जरूरी होने पर व्यक्ति को किस अस्पताल जाना चाहिए, इसके बारे में बताया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि दून अस्पताल की व्यवस्था पर खास ध्यान दिया जाए। टेस्ट के लिये सेम्पल लेते ही दवाई भी उपलब्ध करा दी जाए। अस्पतालों में पुलिस व्यवस्था भी सुनिश्चित कर ली जाए। वीडियो कांफ्रेंसिग में आपदा प्रबंधन राज्य मंत्री डॉ धन सिंह रावत, अपर मुख्य सचिव राधा रतूङी, डीजीपी अशोक कुमार, सचिव अमित नेगी, नितेश झा, शैलेश बगोली, डॉ पंकज कुमार पाण्डेय सहित शासन के वरिष्ठ अधिकारी और जिलाधिकारी उपस्थित थे।

पंचायत दिवस पर उत्तराखंड की 10 पंचायतों को मिला राष्ट्रीय पुरस्कार

-प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वर्चुअल माध्यम से देहरादून, उत्तरकाशी की रुद्रप्रयाग, पौड़ी और पिथौरागढ़ की पंचायतों को दिया पुरस्कार देहरादून। राष्ट्रीय पंचायती राज दिवस के मौके पर प्रदेश की 10 पंचायतों को आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा राष्ट्रीय पंचायत पुरस्कार से सम्मानित किया गया. पूरे देश भर से कुल अलग-अलग श्रेणियों में 224 पंचायतों को “दीन दयाल उपाध्याय पंचायत सशक्तिकरण पुरस्कार” से पुरस्कृत किया गया. इसमें उत्तराखंड की देहरादून जिले की 4, उत्तरकाशी की 3 और रुद्रप्रयाग, पौड़ी और पिथोरागढ़ एक-एक पंचायत शामिल है. इस बार कोरोना संक्रमण की वजह से प्रधानमंत्री द्वारा इन पुरस्कारों को वर्चुअल तरीके से वितरित किए गए. इतना ही नहीं पुरस्कार पाने वाले इन पंचायतों को 5 लाख से 50 लाख तक की पुरस्कार राशि भी हस्तांतरित की गई। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने पुरस्कार पाने वाले सभी पंचायत प्रतिनिधियों को शुभकामना दी है, मुख्यमंत्री के कहा कि पंचायतों के विकास लिए राज्य सरकार लगातार प्रयासरत है। सचिव पंचायती राज हरीश सेमवाल ने बताया कि “दीन दयाल उपाध्याय पंचायत सशक्तिकरण पुरस्कार” के तहत जिला पंचायत पिथौरागढ़, क्षेत्र पंचायत जखोली-रुद्रप्रयाग, क्षेत्र पंचायत द्वारीखाल-पौड़ी, ग्राम पंचायत सिमलास ग्रांट -डोईवाला देहरादून, ग्राम पंचायत मथ,पुरोला उत्तरकाशी, ग्राम पंचायत देवजनि मोरी उत्तरकाशी एवं ग्राम पंचायत पुरोहित वाला सहसपुर देहरादून को पुरस्कृत किया जाएगा. जबकि नानाजी देशमुख राष्ट्रीय गौरव ग्राम सभा का पुरस्कार ग्राम पंचायत दिवाडी नौगांव उत्तरकाशी, ग्राम पंचायत विकास योजना का पुरस्कार ग्राम पंचायत अटक फॉर्म सहसपुर देहरादून एवं बाल हितैषी ग्राम पंचायत पुरस्कार बादाम वाला सहसपुर देहरादून को दिया गया है।

सुमना हादसे में 391 लेबर सेना व आईटीबीपी कैंपो में सुरक्षित, सीएम ने किया प्रभावित इलाके का हवाई सर्वेक्षण

-सेना, आईटीबीपी समेत एसडीआरएफ, एनडीआरएफ व जिला प्रशासन राहत बचाव में जुटा देहरादून। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने आज जोशीमठ के सुमना में ग्लेशियर टूटने वाले क्षेत्र का हवाई सर्वेक्षण कर स्थिति का जायजा लिया। हवाई सर्वेक्षण व सेना के अधिकारियों से जानकारी लेने के बाद मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत जी ने चमोली में मीडियाकर्मियों से बातचीत में कहा कि सुमना में जहां पर ग्लेशियर टूटा वहां पर बीआरओ के लगभग 400 लेबर काम कर रहे थे। मुख्यमंत्री जी ने बताया कि इनमें से कुल 391 लोग सेना व आईटीबीपी के कैम्पों तक पहुँच गए हैं और पूरी तरह से सुरक्षित हैं। मुख्यमंत्री ने बताया कि इस हादसे में छह मजदूरों के मारे जाने की जानकारी मिली है जबकि 4 लोग घायल हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि मौके पर सेना, आईटीबीपी की टीमें राहत बचाव कार्य में जुटी हैं। एसडीआरएफ वहां पर आगे बढ़ी है और एनडीआरएफ की कुछ टीमें भी आगे बढ़ रही हैं। जिला प्रशासन भी शुक्रवार से ही पूरी मुस्तैदी से राहत-बचाव में जुट है। गाजियाबाद में भी एनडीआरएफ की टीमें अलर्ट मोड पर हैं।

कोरोना गाइडलाइन का सख्ती से करवाया जा रहा पालन

खटीमा। राज्य सरकार की ओर से जारी नई कोरोना गाइडलाइन को लेकर प्रशासन सख्त नजर आ रहा है। खटीमा के नेपाल से लगी सीमा पर पुलिस टीम द्वारा लगातार चेकिंग अभियान चलाया जा रहा है। पुलिस द्वारा कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ लगातार कार्रवाई की जा रही है। इसके साथ ही उत्तराखंड प्रवासियों को 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन किया जा रहा है। कोरोना महामारी की दूसरी लहर जानलेवा साबित हो रही है। कोरोना को लेकर प्रशासन सख्त है। चंपावत जनपद के टनकपुर में प्रशासन लगातार कोरोना नियमों का पालन कराने और कोरोना रोकथाम के लिए अलर्ट मोड में है। प्रवासियों को देखने के अलावा सड़क पर चलने वाले लोगों और वाहनों पर भी विशेष ध्यान रखा जा रहा है। टनकपुर एसडीएम हिमांशु कफल्टिया ने बताया कि दूसरे राज्यों से उत्तराखंड और उनके जिले में जो लोग आ रहे हैं। उनके लिए शासन की गाइडलाइन के मुताबिक देहरादून स्मार्ट सिटी पर उपलब्ध फॉर्म को भरना होगा। साथ ही 72 घंटे पहले की कोविड-19 की निगेटिव रिपोर्ट लानी होगी। उनके द्वारा जगबूड़ा बॉर्डर और नेपाल बॉर्डर पर चेकिंग की जा रही है। साथ ही दूसरे राज्यों से आने वाले प्रवासियों को 14 दिन तक होम क्वारंटाइन किया जा रहा है।

संक्रमितों के लिए पुलिस लाइन में कोविड केयर सेन्टर स्थापित

देहरादून। कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के दौरान बढ़ते संक्रमण के बीच पुलिस कर्मियों द्वारा संक्रमण से बचाव हेतु बनाई गई एसओपी का पूर्ण रूप से पालन किया जा रहा है इसके बावजूद पुलिसकर्मियों के उत्तफ संक्रमण की चपेट में आने की प्रबल संभावना बनी हुई है, जिसके दृष्टिगत पुलिस लाइन देहरादून में 16 बेड का कोविड केयर सेंटर स्थापित किया गया है, जिसमे 05 बेड का आइसोलेशन वार्ड बनाते हुए ऑक्सीजन की सुविधा दी गयी है। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डा. योगेन्द्र सिंह रावत द्वारा आज पुलिस लाइन स्थित कोविड-19 कंट्रोल रूम का निरीक्षण किया गया। इस दौरान उन्होने उपस्थित अधिकारियों से जनपद में नियुत्तफ पुलिसकर्मियों को कोरोना संक्रमण से बचाव हेतु लगाई गयी वैक्सीन के संबंध में जानकारी ली। तथा ऐसे पुलिस कर्मी जिनका अभी तक वैक्सीनेशन नहीं हुआ है उन्हें आज ही वैक्सीन लगाने के निर्देश दिए गए। उन्होने कोविड-19 कंट्रोल रूम में स्थापित हेल्प डेस्क में आने वाली कॉलो के संबंध में जानकारी ली। साथ ही उपस्थित अधिकारियों को निर्देशित किया कि कन्ट्रोल रूम में आने वाली प्रत्येक कॉल को गंभीरता से लिया जाए तथा उनके निराकरण तक नियमित रूप से उनकी मोनिटरिंग की जाए। इसके अतिरित्तफ नोडल अधिकारी कोविड कंट्रोल रूम पुलिस अधीक्षक अपराध को सभी थाना प्रभारियों को कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के दौरान बढ़ते मामलों के दृष्टिगत किसी भी अपरिहार्य स्थिति से निपटने के लिए समय से अपनी तैयारियां दुरुस्त करने तथा प्रत्येक कर्मी को ड्यूटी के दौरान मास्क व फेस शिल्ड का अनिवार्य रूप से इस्तेमाल करने हेतु आदेशित करने के निर्देश दिए गए।

भारी मात्रा में स्मैक के साथ तस्कर गिरफ्तार

हरिद्वार। नशे के खिलाफ चलाये जा रहे अभियान के तहत पुलिस को बीती देर रात खासी सफलता हाथ लगी है। पुलिस ने एक नशा तस्कर को दबोच कर उसके पास से भारी मात्रा में स्मैक व लाखों रूपये की नगदी बरामद की है। जानकारी के अनुसार बीती देर रात थाना भगवानपुर पुलिस को सूचना मिली कि क्षेत्र में एक नशा तस्कर नशे की डिलीवरी हेतू आने वाला है। सूचना पर कार्यवाही करते हुए पुलिस ने बताये गये स्थान कस्बा भगवानपुर ईदगाह के पास तालाब के किनारे से जुल्फकार पुत्र जफर निवासी ईदगाह कालोनी थाना भगवानपुर जनपद हरिद्वार को 40.60 ग्राम अवैध स्मैक मय इलेक्ट्रानिक तराजू व अवैध स्मैक को बेचकर मिले पैसे कुल 106,000 (एक लाख छः हजार रूपये) के साथ गिरफ्तार किया गया। आरोपी ने पूछताछ में बताया कि मैने स्मैक आजाद पुत्र शाहदत निवासी ईदगाह भगवानपुर से खरीदी थी। जिसमें से कुछ स्मैक मैने बेच दी है। पुलिस ने उसे एनडीपीएस एक्ट के तहत गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया गया, जहां से उसे जेल भेज दिया गया।

कर्फ्यू में बेवजह घूमने वालों के काटे चालान

देहरादून शनिवार को कर्फ्यू का राजधानी में मिलाजुला असर दिखाई दिया। एक तरफ जहां बाजार पूरी तरह से बंद रहा वहीं सड़कों पर वाहनों की आवाजाही में अन्य दिनों की अपेक्षा कम ही अंतर दिखाई दिया। वहीं आवश्यक सेवाओं के साथ ही दून में शराब की दुकानें भी पूरे दिन खुली रहीं। उत्तराखण्ड में बढ़ते कोरोना के मामलों को देखते हुए प्रदेश सरकार ने नाइट कर्फ्यू लगाया हुआ है। वहीं दो बजे से बाजार बंदी का समय तय किया गया है तो दून में वीकेंड कोविड कर्फ्यू भी लगाया जा रहा है। आज शनिवार को कोविड कर्फ्यू के दौरान दून के बाजार पूरी तरह से बंद रहे लेकिन सड़कों पर वाहनों की आवाजाही पूरी तरह से दिखाई दी। कोविड कर्फ्यू के चलते आज शहरभर में आवश्यक सेवाओं के अलावा कोई दुकान नहीं खुली। वहीं बेवजह सड़कों पर घूमने वालों के खिलाफ पुलिस ने चालानी कार्यवाही की। हालांकि फिर भी लोगों को इससे कोई फर्क नहीं पड़ा और पूरा दिन सड़क पर लोगों की आवाजाही रही। इनमें से कई लोग तो अस्पताल जाने, दवाई लेने आदि के लिए निकले थे जिन्हें पुलिस ने जाने दिया लेकिन कई ऐसे भी थे तमाम तरह के बहाने बनाते हुए नजर आए। वहीं आवश्यक सेवाओं के साथ ही शराब की दुकानें भी पूरा दिन खुली रही। जबकि प्रशासन की ओर से जारी आवश्यक सेवाओं की सूची में शराब की दुकानों को खोले रखने का कोई जिक्र नहीं है। आशारोड़ी चेकपोस्ट पर अन्य राज्यों से आने वाले लोगों का कोरोना टेस्ट किया गया। इस दौरान कोविड जांच के लिए आने वाले लोगों की संख्या कम ही दिखाई दी।

शराब की दुकानें अन्य दुकानों के साथ ही दोपहर 2 बजे बंद करने का निर्णय

-राजस्व से अधिक मुझे प्रदेश की जनता की चिंता हैः मुख्यमंत्री तीरथ -कोविड संक्रमण के फैलाव को कम करने के लिए सरकार ने लिया निर्णय देहरादून। कोविड संक्रमण के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए प्रदेश सरकार ने एक बड़ा निर्णय लिया है। उसके तहत अब शराब की दुकानें भी बाजार की अन्य दुकानों की तरह ही 2ः00 बजे दोपहर में बंद हो जायेंगी। आज मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि उन्हें राजस्व से कहीं अधिक राज्य के वासियों के स्वास्थ्य की चिंता है। संक्रमण को रोकने के लिए जो भी जरूरी कदम होंगे वह उठाए जायेंगे। जब से प्रदेश में कोरोना का संक्रमण में तेजी आई है सरकार ने भी रोकथाम के प्रयास तेज कर दिए हैं। इसमें खासतौर कोविड की चेन तोड़ने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। महामारी के खिलाफ चल रही लड़ाई के क्रम में बाजार के प्रतिष्ठनों को दोपहर 2 बजे ही बंद करने के निर्देश दिए। आज मुख्यमंत्री ने यह निर्णय लिया कि प्रदेश में संचालित शराब की दुकानें भी बाजार के अन्य प्रतिष्ठानों के साथ ही दोपहर दो बजे में बंद हो जायेंगी।मुख्यमंत्री ने कहा कि शराब की दुकानें जल्दी बंद किए जाने से राजस्व का नुकसान होना तो स्वाभाविक है। लेकिन मुझे अपने प्रदेश की जनता की चिंता है। हर हाल में प्रदेश को संक्रमण के प्रभाव से बचाना है। इसके लिए जो भी कदम उठाने जरूरी होंगे वह उठाए जायेंगे।

उत्तराखंड में 5084 नए कोरोना संक्रमित मिले, 81 मरीजों की मौत

देहरादून। उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। बीते 24 घंटों में 81 कोरोना मरीजों की मौत हुई है। जबकि 5084 नए कोरोना संक्रमित मिले हैं। प्रदेश में एक दिन में मरने वालों की यह संख्या अब तक की सर्वाधिक है, इसी के साथ प्रदेश में अब तक कोरोना संक्रमितों की मौत का आंकड़ा 2102 हो गया है। वहीं, 1466 मरीजों को इलाज के बाद घर भेजा गया है। इन्हें मिलाकर 108916 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। उत्तराखंड में एक्टिव केस 33 हजार 330 हो गए हैं। अभी तक कुल 1,47,433 संक्रमित मिले हैं। वहीं कुल 1,08,916 लोग ठीक हुए हैं। राजकीय नर्सिंग कॉलेज सुरसिंगधार के छात्रावास में निवासरत 95 छात्र-छात्राएं कोरोना संक्रमित मिले हैं। छात्रावास में छात्र-छात्राओं के कोरोना संक्रमित मिलने से कॉलेज प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया। संक्रमित सभी छात्र-छात्राओं को छात्रावास में ही आइसोलेट कर दिया गया। छात्र-छात्राओं की निगरानी के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से एक टीम गठित की गई है। कॉलेज में कार्यरत अन्य अधिकारियों और कर्मचारियों के भी सैंपल लिए जा रहे हैं। छात्रावास के जिन छात्र-छात्राओं की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई है कॉलेज प्रशासन अभिभावकों से संपर्क कर उन्हें घर भेजने की तैयारी में जुट गया है। सुरसिंगधार नर्सिंग कॉलेज के छात्रावास में 200 छात्र-छात्राएं निवासरत हैं। चार दिन पहले एक छात्रा में कोरोना संक्रमण की पुष्टि होने पर कॉलेज प्रशासन ने वहां रह रहे सभी छात्र-छात्राओं की आरटीपीसीआर टेस्ट कराया था। प्रधानाचार्य सविता अहमद नाज ने बताया कि आरटीपीसीआर की रिपोर्ट आने पर 95 छात्र-छात्राओं में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। संक्रमितों को उनकी सुविधानुसार छात्रावास में आइसोलेट कर दिया गया है। कई अन्य छात्रों की रिपोर्ट आनी अभी बाकी है। कार्यरत सभी अधिकारियों और कर्मचारियों का सैंपल लेकर जांच कराई जा रही है। जिन छात्रों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। उनके अभिभावकों से संपर्क कर उन्हें घर भेजने की व्यवस्था बनाई जा रही है। डीएम इवा आशीष श्रीवास्तव ने बताया कि नर्सिंग कॉलेज के छात्र-छात्राओं के स्वास्थ्य की निगरानी करने के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से एक टीम गठित की गई है।

सनी दयाल द्वारा गाए गये गीत ‘ओ गोरी तेरा गांव’ 25 अप्रैल को होगा लांच

देहरादून। उत्तराखंड के मशहूर गायक सनी दयाल द्वारा गाए गये गीत ओ गोरी तेरा गांव 25 अप्रैल को लांच हो रहा है। इस गीत को सुर लहर यूट्यूब चैनल पर प्रसारित किया जा रहा है। गीत के बोल डॉक्टर संगीता द्वारा लिखे गए, जिसकी धुन तुषार जोशी द्वारा दी गई है। इस गीत में संदीप शर्मा, सपना रावत द्वारा अभिनय किया गया है। यह गाना हिमाचल जौनसार के मीठे बोलो मैं मधुर प्रेम गीत से जुड़ा है, जिसे सनी दयाल के निर्देशन में बिश्नोई गांव चकराता मैं फिल्माया गया है। बिश्नोई गांव में महासू देवता का बहुत ही भव्य मंदिर है, इस गीत में सह कलाकार अरविंद जोशी, लोकेंद्र पंवार, दीक्षा एवं अनुराधा है। यह गीत आप सभी को बहुत ही रोमांचित करने वाला है। सुर लहर द्वारा समय-समय पर अपनी प्रतिभा और नई पेशकश के साथ सभी का मनोरंजन करने का प्रयास करता रहा है। सुर लहर को इसी तरह अपना प्यार और स्नेह देते रहें एवं चैनल को सब्सक्राइब और शेयर जरूर करें।

आॅक्सीजन डीलर एवं हाॅस्पिटल की आपूर्ति एवं खपत का विवरण एडीएम को प्रेषित करेंगे सभी एसडीएम

देहरादून। कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम एवं प्रभावी नियंत्रण हेतु जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव ने वीडियोकान्फ्रेसिंग के माध्यम से सम्बन्धित अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने समस्त उप जिलाधिकारियों को निर्देशित किया अपने-अपने क्षेत्रों में आक्सीजन डीलर की नियमित चैंकिग करने तथा आक्सीजन डीलरों एवं चिकित्सालयों में अमीन एवं लेखपालों की ड्यूटी लगाते हुए प्राॅपर रजिस्टर बनाते हुए आक्सीजन खपत के साथ ही व्यक्तिगत रूप से घर पर उपचाररत मरीजों के लिए आक्सीजन ले जाने वालों का नाम एवं पूर्ण पता अंकित किया जाए एवं आक्सीजन सिलेंडर की निर्धारित समय समय पर वापसी भी सुनिश्चित की जाए। उन्होने समस्त उप जिलाधिकारियों को निर्देश दिए कि अपने-अपने क्षेत्रान्तर्गत आक्सीजन डीलर एवं हाॅस्पिटल की आपूर्ति एवं खपत का विवरण अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व को प्रेषित करेंगे। उन्हांेने स्पष्ट निर्देश दिए कि किसी भी दशा में आक्सीजन, दवाईयों की जमाखोरी और कालाबाजारी ना हो पाए यदि कोई ऐसा करता पाया जाता है तो सम्बन्धित के विरूद्ध सुसंगत धाराओं में मुकदमा दर्ज किया जाए। उन्होंने मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देश दिए कि आक्सीजन डीलर के यहां आक्सीजन सिलेन्डर की कीमत चस्पा की जाएं तथा प्रत्येक चिकित्सालय में दवाईयों एवं विभिन्न सुविधाओं की कीमत सम्बन्धित चिकित्सालय के कैश काउन्टर पर चस्पा हों। जिलाधिकारी ने स्पष्ट किया कि हाॅस्पिटल कोविड हो या नान कोविड हो सभी को खपतध्मांग के अनुसार सप्लाई की जाए। उन्होंने समस्त उप जिलाधिकारियों को अपने-अपने क्षेत्रों में आईवरमैक्टिन दवाओं का वितरण करवाने तथा मांग जिला आपदा प्रबन्धन अधिकारी को प्रेषित करने के निर्देश दिए। उन्होंने मुख्य चिकित्साधिकारी को आरटीपीसीआर टैस्टिंग बढाने और टीकाकरण कार्यों में और अधिक तेजी लाने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी द्वारा आक्सीजन की कालाबाजारी रोकने हेतु दिए गऐ निर्देशों के अनुपालन में जिला प्रशासन तथा पूर्ति विभाग की संयुक्त टीम द्वारा ऑक्सीजन डीलर्स के गोदाम पर छापेमारी की गई जिसमें स्टोर मालिकों को निर्देशित किया गया की ऑक्सीजन की आपूर्ति केवल अस्पतालों को ही की जाए इंडस्ट्रीज को दिए समस्त ऑक्सीजन सिलेंडर फौरन से वापस प्राप्त करते हुए अस्पतालों को आपूर्ति की जाए अन्यथा की दशा में सम्बन्धित डीलर के विरुद्ध मुकदमा दायर किया जाएगा। जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव ने आज महाराणा प्रताप स्पोर्टस कालेज रायपुर में स्थापित कोविड केयर सेन्टर का निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने उपस्थित चिकित्सको, स्टाॅप को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। इसके उपरान्त सांय जिलाधिकारी ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून के साथ आशारोड़ी चैकपोस्ट का निरीक्षण किया निरीक्षण के दौरान उन्होंने बाहरी राज्यों एवं जनपदों से आने वाले व्यक्तियों की थर्मल स्क्रीनिंग, को-मोर्बिडिटी अवस्था वाले तथा कोविड-19 संक्रमण प्रतीत होने वाले व्यक्तियों की सैम्पल लिए जाने के साथ ही राज्य में आने वाले व्यक्तियों का पूर्ण पता एवं यात्रा विवरण भी प्राप्त करने के निर्देश दिए। उन्होनंे राज्य में प्रवेश करने वाले व्यक्तियों को अनावश्यक परेशान न करते हुए गाईडलाईन का पालन करते हुए कार्य करने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने अवगत कराया कि नगर निगम देहरादून क्षेत्रान्तर्गत स्थित 389 ईस्ट पटेलनगर निकट सैडलवुड स्कूल एवं आवास मनोज डिंगरा, निकट 108 कार्यालय चन्दर नगर देहरादून, जनपद क्षेत्रान्तर्गत स्थित आशारोड़ी दुर्गा मन्दिर गली, नई बस्ती आशारोड़ी क्लेमेन्टाउन, तहसील कालसी क्षेत्रान्तर्गत स्थित व्यास नहरी, कालसी, तहसील विकासनगर क्षेत्रान्तर्गत स्थित ग्राम कण्डोली में कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्ति चिन्हित होने के फलस्वरूप 06 क्षेत्रों को कन्टेंनमेंट जोन घोषित किया गया है। जिलाधिकारी डाॅं0 आशीष कुमार श्रीवास्तव ने बताया है कि जनपद में कोरोना वायरस संक्रमण के दृष्टिगत प्राप्त हुई रिपोर्ट में 1736 व्यक्तियों की रिपोर्ट पाॅजिटिव प्राप्त होने के फलस्वरूप जनपद में आतिथि तक कोरोना से संक्रमित व्यक्तियों की संख्या 49683 हो गयी है, जिनमें कुल 36501 व्यक्ति उपचार के उपरान्त स्वस्थ हो गये हैं। वर्तमान में जनपद में 11536 व्यक्ति उपचाररत हैं। आज जांच हेतु कुल 12203 सैम्पल भेजे गए। जनपद में आज 48773 व्यक्तियों का कम्यूनिटी सर्विलांस किया गया जिसमें 64 व्यक्तियों में कोविड-19 संक्रमण सम्बन्धी लक्षण पाए जाने पर स्वास्थ्य विभाग को सैम्पलिंग लेने के निर्देश दिए गए। आज जनपद में मास्क का उपयोग ना करने एवं सामाजिक दूरी के मानकों का उल्लंघन करने पर 2992 व्यक्तियों के चालान किए गए। आज नगर निगम देहरादून द्वारा नगर निगम क्षेत्रान्तर्गत वार्डो में सेनिटाइजेशन किया गया इस दौरान कचहरी एवं तहसील परिसर अवस्थित कार्यालयों में सेनिटाइजेशन का कार्य किया गया।

देहरादून जनपद की चार ग्रामपंचायातों के प्रधानों को कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी ने प्रदान किए सर्टिफिकेट

देहरादून। राष्ट्रीय पंचायतीराज दिवस के अवसर पर जनपद की चार ग्राम सभाओं को कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी द्वारा ग्राम प्रधानों को सर्टिफिकेट पुरस्कार प्रधान किया गया। साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा वीडीयो कॉन्फ्रेन्स के माध्यम एक सिंगल क्लिक द्वारा पुरस्कार की धनराशि सीधे पुरस्कृत ग्राम पंचायतो के खाते में हस्तांतरित की गयी। पंचायतीराज दिवस के अवसर पर जनपद की ग्राम पंचायत विकास योजना के तहत् पुरस्कार सुनिता देवी,अटकफार्म, दीनदयाल उपाध्याय पंचायत सशक्तिकरण पुरस्कार मीनु क्षेत्री, नानाजीदेशमुख राष्ट्रीय गौरव पुरस्कार पूजा पाल, सिमलास ग्रान्ट तथा बाल हितैषी पंचायत पुरस्कार नरेन्द्र तोमर , बादामवाला को प्रदान किए गए। कार्यक्रम भारत सरकार पंचायतीराज मंत्रालय के सौजन्य से संचालित किया गया, जिसमें पंचायतीराज मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर द्वारा देश के विभिन्न ग्राम पंचायतों को उक्त पुरस्कारों से सम्मानित किया गया। वीडियोकान्फ्रेसिंग के माध्यम से माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश के ग्राम पंचायत प्रतिनिधियों के साथ ही राज्य एवं केन्द्र सरकार के पंचायतीराज विभाग के अधिकारियों को वर्चुअलरूप से सम्बोधित किया। इसके अतिरिक्त प्रधानमंत्री द्वारा सम्पूर्ण देश में स्वामित्व योजना का भी बटन दबाकर शुरूआत की। कार्यक्रम में जिलाधिकारी आशीष श्रीवास्तव, मुख्य विकास अधिकारी नीतिका खंडेलवाल, जिला पंचायत राज अधिकारी जितेंद्र कुमार एवं अन्य पंचायत प्रतिनिधि एवं अधिकारी कर्मचारी उपस्थित रहे।

Friday, 23 April 2021

मर रहे हैं उत्तराखंड के लोग और सरकार इमरजेंसी किट के कवर बदलने में लगीः गिरीश डालाकोटी

-उत्तराखंड में लोगों के जान से ज्यादा जरूरी है सरकार के चेहरे का प्रचार देहरादून। उत्तराखंड प्रगतिशील पार्टी के प्रदेश संयोजक गिरीश डालाकोटी ने कहां ’सरकार द्वारा होम कोरेंटिन मरीजों का आइसोलेशन किट समय से ना पहुंचाने एवं आइसोलेशन किट पैकेट पर प्रचार सामग्री चिपकाने के कारण देर होने की घटना बहुत ही निंदनीय है एवं सरकार का यह फैसला प्रदेश के जनता के लिए एवं उनकी जान के लिए बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है। इस कोरोना महामारी के समय हर होम कोरेंटिन आइसोलेशन कीट बहुत ही ज्यादा जरूरी है ताकि मरीज अपने निवास स्थान पर ही कोरोना से मुक्ति पा सके एवं उपयुक्त समय पर उससे अपना इलाज ले सकें। उत्तराखंड कि हमारी सरकार मानवता की हर सीमा को लांघ कर प्रचार प्रसार की सामग्री की वस्तु इस किट को समझ रही है। अनेकों आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को इस किट के कवर पेज को बदलने में लगाया गया है। मरीज जो अपने घर पर हैं वह बेहाल हो रखे हैं सरकार की यह नीति बस यही दिखाती है कि यह कितनी बेशर्म और निंदनीय घटना है जो सरकार अपने प्रदेश वासियों के लिए कर रही है। जहां कोरोना प्रदेश मे तेजी से अपने पेर पसार रहा है, इस स्थिति में सरकार ने आइसोलेशन कीट को प्रचार प्रसार की सामग्री की वस्तु समझकर इसे वितरित नहीं कर पा रही है। अब हमारे प्रदेश में क्रोना महामारी से प्रभावित लोगों की संख्या हर रोज 4000 की तरफ आ चुकी है परंतु ऐसे विषम परिस्थितियों में सरकार का यह हरकत प्रदेश वासियों के लिए निराशाजनक एवं अमानवीय हरकत है। जिसे उत्तराखंड प्रगतिशील पार्टी घोर निंदा करती है एवं इस मामले में अन्य समाजसेवी संस्थाओं को हस्तक्षेप करने के लिए आमंत्रण करती है ताकि इस तरह की हरकतें जल्द से जल्द सरकार खत्म करें और जो भी आवश्यक चीजें दवाइयां और किट सरकार के पास उपलब्ध है वह वितरित किया जा सके ताकि लोग अपना इलाज घर में रहकर कर सके एवं होम क्वॉरेंटाइन नियमों का पालन करें, लोगों के बीच में कोई अफरा-तफरी एवं भगदड़ ना होनी चाहिए इसके लिए यह जरूरी है कि आवश्यक इलाज की जो सामग्री है वह लोगों तक तुरंत ही पहुंचाया जाए। —————————————————-

Friday, 16 April 2021

आईसीएफआरई में “टिम्बर कूलिंग टावर्सः ​रिसर्च, बाधाओं और अवसरों” पर वेबिनार आयोजित

देहरादून, गढ़ संवेदना न्यूज। वन उत्पाद प्रभाग, वन अनुसंधान संस्थान, देहरादून ने “टिम्बर कूलिंग टावर्सः रिसर्च, बाधाओं और अवसरों” पर वेबिनार का आयोजन किया गया। ए.एस. रावत, महानिदेशक, आईसीएफआरई देहरादून ने कूलिंग टावरों के महत्व पर जोर देते हुए वेबिनार का उद्घाटन किया। भारत भर के विभिन्न संस्थानों, संगठन और उद्योगों के आठ प्रतिष्ठित वक्ताओं ने लकड़ी के कूलिंग टॉवर के विभिन्न पहलुओं पर प्रस्तुति दी। डॉ एन.के. उप्रेती, विज्ञान-जी और प्रमुख, वन उत्पाद प्रभाग, वन अनुसंधान संस्थान, ने प्रतिभागियों का स्वागत किया। मोहन राजाराम अंतूरकर, एम स्क्वायर इंजीनियर, पुणे के संस्थापक ने “उपलब्ध लकड़ी का उपयोग करके संरचनात्मक विश्वसनीयता में सुधार” पर प्रस्तुत किया। मनीष कुमार, प्रमुख, नागरिक विश्वसनीयता-एसईजेड रिफाइनरी जामनगर “कूलिंग टॉवर निरीक्षण और रखरखाव” पर प्रस्तुत किया गया। संदीप परमार, सीनियर मैनेजर, नायरा एनर्जी लिमिटेड, जामनगर ने “कूलिंग टॉवर लकड़ी की समस्याओं और रखरखाव” पर प्रस्तुत किया। संजय पंत, हेड, सिविल इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड्स, नई दिल्ली ने “कूलिंग टॉवर के लिए लकड़ी का मानकीकरण परिप्रेक्ष्य” प्रस्तुत किया। निदेशक प्रदीप भार्गव ने “कूलिंग टॉवर के लिए संरचनात्मक सामग्री की पसंद लकड़ी के बारे में जानकारी दी। राकेश कुमार, सीनियर मैनेजर-एचपीसीएल, विशाखापट्टनम में पेट्रोलियम रिफाइनरी में स्थैतिक यांत्रिक उपकरणों का निरीक्षण “उद्योग हस्तक्षेप और आवश्यकताओं” पर प्रस्तुत किया गया। वहीं अजमल समानी, वैज्ञानिक, वन अनुसंधान संस्थान, देहरादून ने “प्रोटोटाइप कूलिंग टॉवर में आयातित लकड़ी के प्रदर्शन” और एस.डी. शर्मा सी टी ओ, वन अनुसंधान संस्थान, देहरादून ने “कूलिंग टॉवर लकड़ी की ताकत विशेषताओं और गुणवत्ता नियंत्रण” पर प्रस्तुत किया। वेबिनार में सौ से अधिक प्रतिभागियों ने भाग लिया। वेबिनार डॉ साधना त्रिपाठी, विज्ञान-जी, वन उत्पाद प्रभाग, वन अनुसंधान संस्थान और श्री द्वारा समन्वित किया गया था। अजमल समानी, विज्ञान-एफ, वन उत्पाद प्रभाग, वन अनुसंधान संस्थान और वेबिनार की मेजबानी डॉ अक्षतो सुमी, तकनीकी अधिकारी, वन उत्पाद प्रभाग, वन अनुसंधान संस्थान द्वारा की गई।

‘एक स्वस्थ जीवन शैली को अपनाने और सावधानी बरतने को लेकर लोगों में जागरुकता बढ़ाने की आवश्यकता

-अत्यधिक मोटापे से पीड़ित लोग बैरियाट्रिक सर्जरी के साथ जी सकते हैं अच्छी जिंदगी देहरादून, गढ़ संवेदना न्यूज नेटवर्क। अध्ययनों से पता चलता है कि भारत में मोटापे की समस्या तेजी से बढ़ रही है, हर दूसरा व्यक्ति वजन बढ़ने के कारण परेशान है। जिसके कारण बैरियाट्रिक सर्जरी कराने वालों की संख्या में भी तेजी से वृद्धि हुई है। ओबेसिटी सर्जरी सोसायटी ऑफ इंडिया के अनुसार भारत में पिछले 15 सालों में वजन घटाने के लिए की जाने वाली सर्जरी में 100 गुना तक की बढ़ोतरी हुई है। समय के साथ-साथ बैरियाट्रिक सर्जरी और उसके सकारात्मक स्वास्थ्य परिणामों के प्रति लोगों को जागरूक करने की आवश्यकता है। बता दें कि अत्यधिक मोटापे से ग्रसित लोगों में बैरियाट्रिक सर्जरी की जाती है। इससे मोटापे से जुड़ी सह-रुग्ण स्थितियों में सुधार करने में भी मदद मिलती है। इसके कारण टाइप 2 मधुमेह, उच्च रक्तचाप, जोड़ों में दर्द, नींद की बीमारी, हृदय रोग और बांझपन आदि बीमारियों के खतरे से बचा जा सकता है। आमतौर पर जिन व्यक्तियों का बॉडी मास इंडेक्स 35 से 40 होता है प्रायः उन्हें यह सर्जरी कराने की सलाह दी जाती है। इस बारे में बात करते हुए, अरिहंत हॉस्पिटल के जनरल सर्जन, डॉक्टर अभिषेक जैन ने बताया, “बैरियाट्रिक सर्जरी, किसी व्यक्ति के भोजन के सेवन को सीमित करने और पेट व आंतों में भोजन के अवशोषण को कम करने का काम करती है। यह शरीर में अवशोषित होने वाले पोषक तत्वों और कैलोरी की मात्रा को भी कम करती है, जिससे वजन कम करने में सहायता मिलती है। डॉक्टर जैन ने आगे बताया कि, ‘एक बार वजन घटाने की सर्जरी हो जाने के बाद, रोगी को एक या दो दिन तक खाने की अनुमति नहीं होती है। ऐसा, पेट और पाचन तंत्र को ठीक करने के लिए किया जाता है। सर्जरी के बाद व्यक्ति को विशिष्ट आहार लेने की सलाह दी जाती है। विशिष्ट आहार में व्यक्ति तरल और बिल्कुल नरम पदार्थों का सेवन कर सकता है।” इन तरीकों से आप भी घटा सकते हैं अपना मोटापा-जटिल कार्बोहाइड्रेट के सेवन को सीमित करें क्योंकि वे रक्त शर्करा के स्तर और इंसुलिन के उत्पादन को बढ़ाते हैं। प्रतिदिन व्यायाम करें, सप्ताह में पांच बार, हर दिन लगभग 30 से 45 मिनट की शारीरिक गतिविधि करने का लक्ष्य रखें। किसी भी रूप में रिफाइंड चीनी का सेवन न करें। ध्यान और योग जैसी गतिविधियों के माध्यम से तनाव को कम करें।

मैक्स हॉस्पिटल के कैंसर रोग विशेषज्ञों ने ’वर्ल्ड हेड एंड नेक कैंसर सप्ताह’ के तहत लोगों को कैंसर के प्रति किया जागरूक

देहरादून, संवेदना न्यूज नेटवर्क। भारत में ओरल कैंसर के बढ़ते मामलों को देखते हुए मैक्स सुपर स्पेशियल्टी हॉस्पिटल देहरादून के कैंसर रोग विशेषज्ञ डॉक्टरों ने लोगों को जागरूक करने का बीड़ा उठाया और ’सिर और गर्दन के कैंसर का विश्व सप्ताह 2021’ मनाया। मैक्स सुपर स्पेशियल्टी हॉस्पिटल, देहरादून में सर्जिकल आॅन्कोलॉजी की प्रमुख कंसल्टेंट डॉ. मनीषा पटनायक ने कहा, ’वैश्विक स्तर पर होने वाले ओरल कैंसर के सर्वाधिक 75 हजार से 80 हजार मामले हर साल भारत में ही सामने आते हैं। वहीं, विश्व में सिर और गर्दन के कैंसर के 57.5 फीसदी मामले एशिया और खासकर भारत में ही हैं। ये आंकड़े न सिर्फ स्वास्थ्य की बदतर स्थिति बयां करते हैं, बल्कि इनसे अर्थव्यवस्था और विकास भी पर बुरा असर पड़ता है। भारत में मुंह के छाले या जख्म होने की सबसे बड़ी वजह सुपारी के साथ तंबाकू के सेवन को माना जाता है जिस कारण 25 फीसदी मुंह के कैंसर और फिर सिर और गर्दन के सबसे ज्यादा मामले सामने आते हैं। सिगरेट पीने वालों को हतोत्साहित करने के लिए सरकार ने भारीकृभरकम कर लगाने के साथ ही सार्वजनिक स्थानों पर सिगरेट पीने पर प्रतिबंध लगा दिया है लेकिन गुटखा जैसे अन्य तंबाकू उत्पादों पर रोक के लिए ऐसा कोई प्रयास नहीं किया गया है।'
डॉ. मनीषा पटनायक ने बताया, भारत युवाओं की आबादी वाला देश है और यहां लंबे समय से तंबाकू का सेवन किया जा रहा है। देश में सभी तरह के कैंसर मामलों में पुरुष मरीजों की संख्या 30 फीसदी और महिला मरीजों की संख्या 11 से 16 फीसदी होने का यही मुख्य कारण है। धूम्रपान करने वालों या तंबाकू का सेवन करने वालों में कैंसर का खतरा 20 वर्ष के बाद स्पष्ट होता है। पुरुषों में 30-60 फीसदी और महिलाओं में 10-30 फीसदी कैंसर के मामले तंबाकू से ही जुड़े होते हैं यानी भारत में 17 में से एक पुरुष और 50 में से एक महिला में तंबाकू सेवन से जुड़े कैंसर का आजीवन खतरा बना रहता है। साथ ही अल्कोहल के सेवन का भी असर होता है। उत्तराखंड, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और हिमाचल प्रदेश में स्वास्थ्यकर्मियों और बुनियादी सुविधाओं के अभाव के कारण इन क्षेत्रों के बहुत सारे मरीजों को दिल्ली जाना पड़ता है। देहरादून स्थित मैक्स सुपर स्पेशियल्टी हास्पिटल में मरीज ओरल कैंसर के इलाज के लिए माइक्रोवैस्कुलर रिकंस्ट्रक्शन सर्जरी और कमांडो सर्जरी करा सकते हैं क्योंकि यह सुविधा सिर्फ इसी अस्पताल में ही उपलब्ध है। लोग अन्य मेट्रोपोलिटन शहरों के मुकाबले 30 फीसदी कम खर्च पर यह इलाज सुविधा प्राप्त कर सकते हैं। इस मौके पर मैक्स सुपर स्पेशियल्टी हॉस्पिटल, देहरादून में मेडिकल आॅन्कोलॉजी विभाग की एसोसिएट कंसल्टेंट डॉ. रेणु शर्मा ने कहा, श्हर साल भारत में ओरल कैंसर के लगभग दो तिहाई मामले गिनिवोकृबकल सल्कस में होता है और इसे श्इंडियन ओरल कैंसरश् के नाम से जाना जाता है और इस वजह से सालाना 5,56,400 मरीजों की मौत हो जाती है। सिर और गर्दन के कैंसर से हालांकि पूरी तरह मुक्ति नहीं मिल पाती है लेकिन लोग नियंत्रित रहते हुए इससे जुड़े जोखिमों को कम कर सकते हैं। धूम्रपान, अल्कोहल का सेवन त्याग दें, संतुलित आहार लें, सूर्य की रोशनी में रहें और नियमित रूप से लिप बाम लगाएं, सुरक्षित यौन संबंध बनाएं और मुंह की अच्छी तरह साफकृसफाई रखें।श् कोई व्यक्ति यदि वर्षों से धूम्रपान कर रहा है या तंबाकू का सेवन कर रहा है तो भी इनका सेवन त्यागने से सिर और गर्दन के कैंसर का खतरा कम हो जाता है। मैक्स सुपर स्पेशियल्टी हॉस्पिटल देहरादून में कई विभागों के क्लिनिक के साथ ही कैंसर ट्यूमर बोर्ड भी है। इस बोर्ड में सर्जिकल आॅन्कोलॉजिस्ट, मेडिकल आॅन्कोलॉजिस्ट, पैथोलॉजिस्ट और रेडियोलॉजिस्ट हैं जो मरीजों को अधिकतम संतुष्टि देने के लिए विभिन्न प्रकार के अपकृटुकृडेट और पक्षपात रहित सलाह देते हैं। अस्पताल के कैंसररोग विभाग में कैंसर केयर क्षेत्र की अत्याधुनिक टेक्नोलॉजी और उपकरण हैं। यहां कैंसर मरीजों को विभिन्न प्रकार की चिकित्सा ओर सर्जिकल उपचार पद्धतियां और इलाज दिए जाते हैं। 15 बिस्तरों वाले इस विभाग में कैंसर चिकित्सा के लिए दो आॅपरेशन थियेटर हैं। इस अस्पताल में टर्शियरी केयर की सुविधा के अलावा प्लास्टिक, माइक्रो वैस्कुलर और रिकंस्ट्रक्टिव सर्जरी की सुविधा भी है। विशेषज्ञों की टीम मरीजों को विश्व में उपलब्ध आधुनिक उपचार प्रोटोकॉल के तहत उपचार देते हैं जिनमें अत्याधुनिक सर्जरी से लेकर कीमोथेरापी शामिल हैं। अस्पताल में कैंसर के मरीज रिहैबिलिटेशन सुविधाएं भी प्राप्त कर सकते हैं।

Thursday, 15 April 2021

अत्यधिक मोटापे से पीड़ित लोग बैरियाट्रिक सर्जरी के साथ जी सकते हैं अच्छी जिंदगी

-‘एक स्वस्थ जीवन शैली को अपनाने और सावधानी बरतने को लेकर लोगों में जागरुकता बढ़ाने की आवश्यकता देहरादून। अध्ययनों से पता चलता है कि भारत में मोटापे की समस्या तेजी से बढ़ रही है, हर दूसरा व्यक्ति वजन बढ़ने के कारण परेशान है। जिसके कारण बैरियाट्रिक सर्जरी कराने वालों की संख्या में भी तेजी से वृद्धि हुई है। ओबेसिटी सर्जरी सोसायटी ऑफ इंडिया के अनुसार भारत में पिछले 15 सालों में वजन घटाने के लिए की जाने वाली सर्जरी में 100 गुना तक की बढ़ोतरी हुई है। समय के साथ-साथ बैरियाट्रिक सर्जरी और उसके सकारात्मक स्वास्थ्य परिणामों के प्रति लोगों को जागरूक करने की आवश्यकता है। बता दें कि अत्यधिक मोटापे से ग्रसित लोगों में बैरियाट्रिक सर्जरी की जाती है। इससे मोटापे से जुड़ी सह-रुग्ण स्थितियों में सुधार करने में भी मदद मिलती है। इसके कारण टाइप 2 मधुमेह, उच्च रक्तचाप, जोड़ों में दर्द, नींद की बीमारी, हृदय रोग और बांझपन आदि बीमारियों के खतरे से बचा जा सकता है। आमतौर पर जिन व्यक्तियों का बॉडी मास इंडेक्स 35 से 40 होता है प्रायः उन्हें यह सर्जरी कराने की सलाह दी जाती है। इस बारे में बात करते हुए, अरिहंत हॉस्पिटल के जनरल सर्जन, डॉक्टर अभिषेक जैन ने बताया, “बैरियाट्रिक सर्जरी, किसी व्यक्ति के भोजन के सेवन को सीमित करने और पेट व आंतों में भोजन के अवशोषण को कम करने का काम करती है। यह शरीर में अवशोषित होने वाले पोषक तत्वों और कैलोरी की मात्रा को भी कम करती है, जिससे वजन कम करने में सहायता मिलती है। डॉक्टर जैन ने आगे बताया कि, ‘एक बार वजन घटाने की सर्जरी हो जाने के बाद, रोगी को एक या दो दिन तक खाने की अनुमति नहीं होती है। ऐसा, पेट और पाचन तंत्र को ठीक करने के लिए किया जाता है। सर्जरी के बाद व्यक्ति को विशिष्ट आहार लेने की सलाह दी जाती है। विशिष्ट आहार में व्यक्ति तरल और बिल्कुल नरम पदार्थों का सेवन कर सकता है।” इन तरीकों से आप भी घटा सकते हैं अपना मोटापा-जटिल कार्बोहाइड्रेट के सेवन को सीमित करें क्योंकि वे रक्त शर्करा के स्तर और इंसुलिन के उत्पादन को बढ़ाते हैं। प्रतिदिन व्यायाम करें, सप्ताह में पांच बार, हर दिन लगभग 30 से 45 मिनट की शारीरिक गतिविधि करने का लक्ष्य रखें। किसी भी रूप में रिफाइंड चीनी का सेवन न करें। ध्यान और योग जैसी गतिविधियों के माध्यम से तनाव को कम करें।

स्क्रीन लैपटॉप के सबसे नये एडिशन के साथ आने वाले कल के लैपटॉप का अनुभव लें

देहरादून। ताइवान की प्रमुख टेक कंपनी, आसुस ने एक ऑनलाइन लॉन्च इवेंट में अपने पहले से ही बढ़ते जा रहे जेनबुक रेंज में, नवीनतम एडिशन - जेनबुक डुओ 14 और जेनबुक प्रो डुओ 15 ओएलईडी को लॉन्च किया। “आने वाले कल के लैपटॉप” जेनबुक प्रो डुओ 15 ओएलईडी और जेनबुक डुओ 14 में एक डुअल डिस्प्ले के साथ चैतरफा फ्रेमलेस नैनोएज डिस्प्ले है, जो अल्ट्रा स्लिम बेजल्स के साथ-साथ अविश्वसनीय रूप से शानदार है और जो संपूर्ण गहरा अनुभव प्रदान करता है। आसुस की नवीनतम ऑफरिंग्स अपने उपयोगकर्ताओं को अपनी सीमाओं से आगे बढ़ने के लिए और दायरे की जकड़ से बाहर निकल कर जिन्दगी का अनुभव करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं, जैसा कि आसुस अपने डुअल स्क्रीन्ड लेपटॉप के साथ करता है। आसुस की थीम है -बोल्ड बनें, क्रेजी बनें और अनबायस्ड रहें”, और इस थीम पर चलते हुए नए लॉन्च किए गए लैपटॉप को लैपटॉप पोर्टेबिलिटी छोड़े बिना, सबसे अच्छी कार्यक्षमता प्रदान करने के लिए डिजाइन किया गया है, जो इसे उन क्रिएटर्स और लोगों के लिए आदर्श बनाता है जो कई डिस्प्ले पर काम करना पसंद करते हैं। जेनबुक 14 (यूएक्स482ईए) इंटेल इवो से प्रमाणित है और इसमें इंटेल आयरिस एक्सई ग्राफिक्स के साथ 11वीं जेनेरेशन के इंटेल कोर आई7 प्रोसेसर तक उपलब्ध है। इसमें एनवीडिया जीफोर्स एमएक्स450 जीपीयू भी शामिल है। जेनबुक डुओ 100 प्रतिशत एसआरजीबी कवरेज के साथ एक 14 इंच एलईडी-बैकलिट फुल एचडी 1080पी डिस्प्ले देने का दावा करता है।

टीकाकरण कार्य का किया निरीक्षण

देहरादून, आजखबर। गांधीग्राम के स्वास्थ्य केंद्र में क्षेत्रीय पार्षद रजनी देवी के नेतृत्व में चल रहे टीकाकरण उत्सव का भारतीय जनता पार्टी महानगर के कोषाध्यक्ष लच्छू गुप्ता ने निरीक्षण किया। टीकाकरण के लिए आए हुए लोगों का मनोबल और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में वहां के स्टाफ का और हौसला बढ़ाया। इस मौके पर क्षेत्रीय पार्षद रजनी देवी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी संकट की इस घड़ी में अपनी जनता के साथ खड़ी है जिसके लिए आज गांधीग्राम में पहुंच कर वहां के लोगों का से कहा कि टीका लगवाने में कोई परेशानी या भ्रम न करें। इस मौके पर भारतीय जनता युवा मोर्चा के पूर्व महानगर अध्यक्ष राजकुमार तिवारी, सोनू, बाबू राम, डा. वसीम दानिश, डॉक्टर मोहम्मद मुस्ताक, हेल्थ मैनेजर शबीना खान, सोनिया, पूजा, मनविंदर पटवाल, चंद्रावत, गुंजन, रेशमा थपलियाल, निहारिका आर्य आदि उपस्थित रहे।

डीएम की अध्यक्षता में आयोजित हुआ जनसुनवाई कार्यक्रम, 10 फरयादियों ने रखीं अपनी शिकायतें

देहरादून। आम जनता की समस्याओं शिकायतों के निराकरण हेतु जिला कार्यालय में जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव की अध्यक्षता में जनसुनवाई कार्यक्रम आयेाजित किया गया। इस अवसर पर 10 फरियादियों द्वारा अपनी समस्याएं शिकायतें प्रस्तुत की गई, जिनमें भूमि का सीमांकन करने, मोबाईल टावर हटाने, शस्त्र लाईसेंस निर्गत करने, पुस्ता निर्माण कराए जाने, सूखे पेड़ को काटने, अवैध कब्जा हटाए जाने, 33ध्11 केवीए विद्युत सबस्टेशन निर्माण हेतु भूमि उपलब्ध कराने तथा पेरोल पर छोड़े जाने की मांग प्रमुखता से उठाई गई। जनसुनवाई में बुजुर्ग बृजलाल ने भूमि के सीमांकन चिन्हांकन सम्बन्धी मामला उठाया इस पर जिलाधिकारी ने उप जिलाधिकारी विकासनगर, कालसी को विगत वर्षों से लम्बित मामले का निस्तारण करने के निर्देश दिए। नत्थनपुर विकास समिति की ओर से मोबाईल टावर हटाए जाने की मांग की इस पर उप जिलाधिकारी सदर को आवश्यक कार्यवाही के निर्देश दिए गए। इस दौरान सेना के रविन्द्र सिंह, अभि ठाकुर, विमल कोठारी द्वारा शस्त्रलाईसेंस निर्गत करने की मांग की इस पर जिलाधिकारी ने शस्त्र अनुभाग को आवश्यक कार्यवाही के निर्देश दिए। जनसुनवाई में हुकुम सिंह गढिया द्वारा वाणी विहार में क्षतिग्रस्त पुस्तों के निर्माण हेतु आवेदन दिया, जिस पर जिलाधिकारी ने मुख्य विकास अधिकारी को जिला योजना के तहत् निर्माण कार्य कराए जाने को कहा। पथरिया पीर की माया देवी द्वारा भवन के उपर आए सूखे पेड़ को काटने की मांग की, जिस पर जिला आपदा प्रबन्धन विभाग को आवश्यक कार्यवाही के निर्देश दिए गए। इस दौरान टीएचडीसी कालोनी ऊर्जा पार्क के बांध प्रभावित संजय सिंह द्वारा भूमि पर अवैध कब्जे की शिकायत की जिस पर जिलाधिकारी ने उप जिलाधिकारी सदर को आवश्यक कार्यवाही के निर्देश दिए। इसके अतिरिक्त डूंगा के दीपक कुमार द्वारा 33/11केवीए विद्युत सब स्टेशन निर्माण हेतु भूमि के उपलब्ध कराए जाने का मामला उठाया, जिस पर जिलाधिकारी ने अपर जिलाधिकारी प्रोटोकाॅल को आवश्यक कार्यवाही के निर्देश दिए। इसके अलावा सरस्वती देवी द्वारा अपनी सास के स्वास्थ्य परीक्षण हेतु जेल में बंद पति को पेरोल पर छोडेघ् जाने का अनुरोध किया इस पर जिलाधिकारी ने न्याय अधिष्ठान को आवश्यक कार्यवाही के निर्देश दिए।

उत्तराखंड प्रगतिशील पार्टी ने फूंका पुतला

विकासनगर। उत्तराखंड प्रगतिशील पार्टी के प्रदेश संयोजक गिरीश डालाकोटी ने कहा कि ’विकासनगर क्षेत्र में स्थित ग्राम जीवनगढ़ में सोहेल पाशा द्वारा संप्रदायिक तनाव भड़काने एवं सनातन धर्म के खिलाफ दिए गए बयान जैसे ’मैंने जीवनगढ़ को पंडित मुक्त कर दिया है’, ’मैं पीठ बाजार में बोर्ड लगवा कर नमाज पढ़वाऊंगा’ इन सब मुद्दे पर विकासनगर कोतवाली थाना में एक ज्ञापन भी बीते रात दिया गया था। परंतु स्थानीय प्रशासन द्वारा कोई भी एक्शन नहीं लिया गया और इससे सनातन धर्म से जुड़े हुए लोगों को बहुत कष्ट है। इसके विरोध में आज डाकपत्थर में पुतला फूंका गया एवं विरोध प्रदर्शन किया गया। गिरीश डालाकोटी ने कहा कि ’मैं उत्तराखंड प्रगतिशील पार्टी के माध्यम से यह अवगत कराना चाहता हूं कि उत्तराखंड के अंदर अगर कोई भी हमारे सनातन धर्म का अपमान करता है तो उसे बख्शा नहीं जाएगा एवं जो भी राजनीतिक दल इन्हें संरक्षण दे रहे हैं अब उनका भी पतन का समय आ गया है। उत्तराखंड के 20 सालों का इतिहास गवाह है कि राष्ट्रीय राजनीतिक दल हमेशा से उत्तराखंड के लोगों के बीच फूट पैदा कर सिर्फ वोट बटोरना चाहते हैं लेकिन अब यह ज्यादा चलने वाला नहीं है। 2022 के चुनाव में इन राजनीतिक दलों का बहिष्कार करना यहां की जनता ने तय कर लिया है। इस रिमोट कंट्रोल से चलने वाली सरकार की बस की नहीं है कि वह प्रदेश के लोगों में सद्भाव और समान भाव का भाव पैदा करें।’ इस विरोध प्रदर्शन में उत्तराखंड प्रगतिशील पार्टी एवं सनातन धर्म के तरफ से गिरीश डालाकोटी, संदीप सिंह, हर्षदीप गुप्ता, रमेश ढौंडियाल, शेखर बंसल, पंकज बिष्ट, प्रदीप कुमार, आंचल बहुगुणा एवं डॉ प्रवीण शर्मा आदि मौजूद रहे।

सतत् विकास लक्ष्य और एमपीआई पर दो दिवसीय कार्यशाला का हुआ शुभारंभ

देहरादून। मुख्य सचिव ओमप्रकाश ने गुरूवार को सचिवालय में सतत् विकास लक्ष्य इंडेक्स 2020-21 तथा मल्टीडायमेंशनल पॉवर्टी इंडेक्स (एमपीआई) पर दो दिवसीय कार्यशाला का शुभारम्भ किया। सलाहकार नीति आयोग संयुक्ता समद्दार और उनकी टीम का स्वागत करते हुए मुख्य सचिव ओमप्रकाश ने कहा कि इस कार्यशाला के आयोजन से उत्तराखण्ड को भावी योजनाओं के लिए बहुमूल्य मार्गदर्शन प्राप्त होगा। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड इसके निर्धारित लक्ष्य वर्ष 2030 से पहले, लक्ष्य प्राप्त करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। राज्य के समावेशी विकास के लिए एक रोडमैप के रूप में उत्तराखण्ड सतत् विकास लक्ष्य (एसडीजी) विजन दस्तावेज जारी किया गया है। मुख्य सचिव ने कहा कि कोविड-19 महामारी के परिणामस्वरूप समावेशी विकास दर को बनाए रखना चुनौतीपूर्ण रहेगा, परन्तु नीति आयोग उत्तराखण्ड द्वारा प्रकाशित दो एसडीजी इंडिया इंडेक्स के अनुसार 2018 में राज्य ने 11वीं रैंक के सापेक्ष वर्ष 2019 में 10वीं रैंक हासिल की है। उन्होंने कहा कि एसडीजी के स्थानीयकरण और एकीकरण के लिए वर्ष 2017 के बाद से सभी जिलों में विभिन्न कार्यशालाएं आयोजित की गई हैं। स्थानीयकरण के प्रयासों के अनुसार, राज्य ने सतत् विकास लक्ष्य को ग्राम पंचायत विकास योजनाओं के साथ एकीकृत करने के लिए लगातार कार्यशालाएं आयोजित की हैं, साथ ही, ब्लॉक और जिला पंचायत स्तर पर भी इसे लागू किया गया है। सतत् विकास लक्ष्य (एसडीजी) के प्रभावी कार्यान्वयन एवं मार्गदर्शन के लिए वरिष्ठ प्रशासनिक सचिवों के तहत छह कार्य समूह का गठन किया गया है। इसके साथ ही, जिला स्तर पर प्रभावी योजना और निगरानी के लिए एक एसडीजी टास्क फोर्स भी गठित की गयी है। उन्होंने कहा कि एसडीजी सेल का गठन किया गया है, और मुख्य विकास अधिकारियों को एसडीजी नोडल अधिकारी के रूप में नामित किया गया है। मुख्य सचिव ने कहा कि राज्य शहरी निकायों को साथ रखते हुए व्यापक ग्राम पंचायत विकास योजनाओं पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है, ताकि सभी स्थानीय स्तर के मुद्दों पर ध्यान दिया जा सके। इसमें मुख्य विकास अधिकारियों की महत्वपूर्ण भूमिका है। उन्होंने कहा कि यह कार्यशाला एक उपयोगी मंच प्रदान साबित होगी एवं कार्यशाला में उपस्थित सभी प्रतिभागियों को इस कार्यशाला से अधिकतम लाभ लेना चाहिए। सलाहकार नीति आयोग संयुक्ता समद्दार ने विस्तृत प्रस्तुतिकरण के माध्यम से सतत् विकास लक्ष्य एवं मल्टीडिमेंशनल पावर्टी इंडेक्स के संबंध में जानकारी दी। इस अवसर पर सभी विभागों से उच्चाधिकारी उपस्थित थे।

प्रदेश में 2220 नए कोरोना संक्रमित मरीज मिले, 9 मरीजों की मौत

देहरादून। प्रदेश में बीते 24 घंटे में 2220 नए कोरोना संक्रमित मरीज सामने आए हैं। प्रदेश में यह अब तक का सबसे ज्यादा आंकड़ा है। वहीं, सक्रिय मरीजों की संख्या 12 हजार पार हो गई है। आज प्रदेश में नौ मरीजों की मौत हुई, जबकि 397 मरीजों को ठीक होने के बाद डिस्चार्ज किया गया है। प्रदेश में अब तक कुल 116244 संक्रमित मरीज आ चुके हैं, जिसमें से 99777 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। देहरादून और हरिद्वार में सबसे अधिक मामले सामने आए हैं। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक गुरुवार को 36391 सैंपलों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। जबकि देहरादून जिले में सबसे अधिक 914 कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं। वहीं, हरिद्वार जिले में 613, नैनीताल में 156, ऊधमसिंह नगर में 131 , पौड़ी में 105, टिहरी में 79, रुद्रप्रयाग में 49, पिथौरागढ़ में 29, उत्तरकाशी में 23 , अल्मोड़ा में 55, चमोली में 25, बागेश्वर में 15 और चंपावत में 26 संक्रमित मिले। वहीं, कंटेंमेंट जोन की संख्या 67 पहुंच गई है। प्रदेश में अब तक 1802 मरीजों की मौत हो चुकी है। संक्रमितों की तुलना में ठीक होने वालों की संख्या कम होने से सक्रिय मामले बढ़ रहे हैं। वर्तमान में 12484 सक्रिय मरीजों का उपचार किया जा रहा है।

Tuesday, 13 April 2021

स्पीकर अग्रवाल ने किया 3 करोड़ 66 लाख 23 हजार रु की पेयजल योजना का शिलान्यास

ऋषिकेश। ऋषिकेश विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत कृष्णानगर कॉलोनी में लंबे समय से पेयजल की समस्या का अब निदान हो गया है, उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने आज कृष्णनगर कॉलोनी में 3 करोड़ 66 लाख 23 हजार रुपये की लागत से कृष्णा नगर पेयजल योजना का शिलान्यास विधिवत पूजा अर्चना के संग किया। उत्तराखंड पेयजल संसाधन विकास एवं निर्माण निगम कार्यक्रम के अंतर्गत कृष्णनगर पेयजल योजना के शिलान्यास का कार्यक्रम कृष्णनगर कॉलोनी के अंतर्गत रखा गया, इस अवसर पर बतौर मुख्य अतिथि उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष ने नारियल फोड़कर निर्माण कार्य का शुभारंभ किया। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि कृष्णनगर कॉलोनी में विगत कई समय से पानी की समस्या बनी हुई थी जिसके लिए वह कृष्णनगर में पेयजल आपूर्ति के लिए योजना के संबंध में प्रयासरत थे।विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि कृष्णनगर कॉलोनी में वर्तमान समय में बिजली, सड़क एवं अब पानी की समस्या का समाधान कर दिया गया है।विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि इस योजना से हजारों की संख्या में कॉलोनी के परिवार लाभान्वित होंगे एवं हर घर नल लगाकर पानी की आपूर्ति पूरी की जाएगी। उन्होंने कहा है कि इस योजना से कृष्णानगर कॉलोनी क्षेत्र के आसपास के हजारों लोगों को लाभ होगा योजना के अंतर्गत 3 करोड 66 लाख रुपए की लागत से ट्यूबवेल, उच्च जलाशय (विशाल टैंक), पंप हाउस, स्टाफ क्वार्टर्स, राइजिंग मेन के कार्य किए जाएंगे। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने उपस्थित अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि मानक एवं गुणवत्ता के क्रम में निर्माण कार्यों को पूरा किया जाए। श्री अग्रवाल ने कहा कि तय समय में कार्य को पूर्ण कर क्षेत्रवासियों को जल्द से जल्द पेयजल आपूर्ति से लाभान्वित किया जाए। कार्यक्रम के दौरान वीर भद्र मंडल के मंडल अध्यक्ष अरविंद चैधरी, पेयजल निगम के अधीक्षण अभियंता अनुज कौशिक, अधिशासी अभियंता हेमचंद जोशी, रमेश चंद शर्मा, सदानंद यादव, आरती दुबे, मनोरमा देवी, पुरुषोत्तम, निर्मला उनियाल, करण सिंह, तिलक चैहान, जोगेंद्र सैनी, सुनील यादव, राजकुमार भारती, चंद्रदेव पांडे सहित अन्य लोग उपस्थित थे।कार्यक्रम का संचालन नगर निगम पार्षद सुंदरी कंडवाल ने किया।

नवरात्रि प्रकृति और शक्ति की उपासना का पर्वः प्रेमचंद अग्रवाल

ऋषिकेश। हिंदू नव वर्ष एवं चैत्र नवरात्रि के शुभारंभ अवसर पर बैराज स्थित कैंप कार्यालय में उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने मिष्ठान वितरित कर शुभकामनाएं प्रेषित की। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि नवरात्रि प्रकृति और शक्ति की उपासना का पर्व है और शक्ति का अनुष्ठान रचनात्मक एवं सृजनात्मक कार्यों के प्रति हो, नवरात्रि के अवसर पर हम सभी को यह संकल्प लेना चाहिए। श्री अग्रवाल ने वर्तमान समय की परिस्थितियों को देखते हुए लोगों से अनुरोध किया है कि कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए नवरात्रि के दौरान अपने घर में ही रहकर धार्मिक अनुष्ठान करें। इससे इस संक्रामक बीमारी के प्रसार को रोकने में मदद मिलेगी। इस अवसर पर नगर निगम पार्षद विकास तेवतिया, नगर निगम पार्षद तनु तेवतिया, प्रीति राठी, नवनीत, कुलदीप सिंह, अवनीश रावत, विरेंद्र रमोला पार्षद, गौतम राणा सहित अन्य लोग उपस्थित थे। ऋषिकेश 13 अप्रैल। ऋषिकेश विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत कृष्णानगर कॉलोनी में लंबे समय से पेयजल की समस्या का अब निदान हो गया है, उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने आज कृष्णनगर कॉलोनी में 3 करोड़ 66 लाख 23 हजार रुपये की लागत से कृष्णा नगर पेयजल योजना का शिलान्यास विधिवत पूजा अर्चना के संग किया। उत्तराखंड पेयजल संसाधन विकास एवं निर्माण निगम कार्यक्रम के अंतर्गत कृष्णनगर पेयजल योजना के शिलान्यास का कार्यक्रम कृष्णनगर कॉलोनी के अंतर्गत रखा गया, इस अवसर पर बतौर मुख्य अतिथि उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष ने नारियल फोड़कर निर्माण कार्य का शुभारंभ किया। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि कृष्णनगर कॉलोनी में विगत कई समय से पानी की समस्या बनी हुई थी जिसके लिए वह कृष्णनगर में पेयजल आपूर्ति के लिए योजना के संबंध में प्रयासरत थे।विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि कृष्णनगर कॉलोनी में वर्तमान समय में बिजली, सड़क एवं अब पानी की समस्या का समाधान कर दिया गया है।विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि इस योजना से हजारों की संख्या में कॉलोनी के परिवार लाभान्वित होंगे एवं हर घर नल लगाकर पानी की आपूर्ति पूरी की जाएगी। उन्होंने कहा है कि इस योजना से कृष्णानगर कॉलोनी क्षेत्र के आसपास के हजारों लोगों को लाभ होगा योजना के अंतर्गत 3 करोड 66 लाख रुपए की लागत से ट्यूबवेल, उच्च जलाशय (विशाल टैंक), पंप हाउस, स्टाफ क्वार्टर्स, राइजिंग मेन के कार्य किए जाएंगे। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने उपस्थित अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि मानक एवं गुणवत्ता के क्रम में निर्माण कार्यों को पूरा किया जाए। श्री अग्रवाल ने कहा कि तय समय में कार्य को पूर्ण कर क्षेत्रवासियों को जल्द से जल्द पेयजल आपूर्ति से लाभान्वित किया जाए। कार्यक्रम के दौरान वीर भद्र मंडल के मंडल अध्यक्ष अरविंद चैधरी, पेयजल निगम के अधीक्षण अभियंता अनुज कौशिक, अधिशासी अभियंता हेमचंद जोशी, रमेश चंद शर्मा, सदानंद यादव, आरती दुबे, मनोरमा देवी, पुरुषोत्तम, निर्मला उनियाल, करण सिंह, तिलक चैहान, जोगेंद्र सैनी, सुनील यादव, राजकुमार भारती, चंद्रदेव पांडे सहित अन्य लोग उपस्थित थे।कार्यक्रम का संचालन नगर निगम पार्षद सुंदरी कंडवाल ने किया।

उत्तराखंड विधानसभा की अर्धवार्षिक पत्रिका “उदभव” का राज्यपाल ने किया विमोचन

देहरादून। चैत्र शुक्ल प्रतिपदा के पावन अवसर पर उत्तराखंड विधानसभा की अर्धवार्षिक पत्रिका “उदभव” का विमोचन आज बेबी रानी मौर्य, उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल, विधायक खजान दास एवं विधायक उमेश शर्मा काऊ ने विधिवत रूप से किया। विमोचन से पूर्व उपस्थित अतिथियों द्वारा दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। विधानसभा की अर्धवार्षिक पत्रिका “उदभव” में विधानसभा परिसर की संचालित गतिविधियों के संबंध में इस अंक में उल्लेख किया गया है। पत्रिका इससे पूर्व तीन बार विधानसभा द्वारा प्रकाशित की गई है वहीं चैथी बार पत्रिका का पुनर्जीवन किया गया है।पत्रिका में संसदीय आलेखों, अध्यक्ष की भूमिका विषय पर विधानसभा अध्यक्ष द्वारा लिखे गए आलेख, विगत वर्ष उत्तराखंड विधानसभा के संपन्न कराए गए सत्रों का विस्तृत सारांश, उत्तराखंड के लोक खाद्यान्न एवं संस्कृति के बारे में वैज्ञानिक लेख सहित लोक पर्व पर आधारित लेखों का समावेश किया गया है। इस अवसर पर राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने पत्रिका के पुनर्जीवन पर विधानसभा के कर्मीकों को बधाई दी।राज्यपाल ने कहा कि विधानसभा अध्यक्ष के रूप में निर्वाचित होने के बाद प्रेमचंद अग्रवाल जी ने विधानसभा परिसर में नवीन पहल की एक लंबी श्रृंखला स्थापित की है।उन्होंने कहा कि विधानसभा अध्यक्ष के नेतृत्व में कई नवीन कार्य किए गए हैं साथ ही सत्र के दौरान सदन में कुशलता पूर्वक संचालन किया जाता है।इस अवसर पर राज्यपाल ने सत्र के दौरान सदन में विधायकों द्वारा अपने क्षेत्र से संबंधित विषयों को पटल पर उठाए जाने एवं उनके समाधान के के विषय पर भी चर्चा की। वहीं राज्यपाल ने उत्तराखंड में महिलाओं की स्थिति को और अधिक सुदृढ़ करने के लिए सभी से आह्वान किया। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि उदभव पत्रिका के माध्यम से विधानसभा में संचालित होने वाली प्रक्रियाओं एवं गतिविधियों के संबंध में आम जनमानस को जानकारी प्राप्त होगी।श्री अग्रवाल ने इसके लिए संपादन मंडल को अपनी बधाई व शुभकामनाएं दी। विधायक खजान दास ने कहा कि विधानसभा अध्यक्ष नए-नए कार्यों के माध्यम से सभी को प्रेरित करते आ रहे हैं।वहीं विधायक उमेश शर्मा काऊ ने कहा कि पत्रिका को पुनर्जीवित कर विधानसभा अध्यक्ष ने साहित्य के प्रति अपने प्रेम को प्रदर्शित किया है। कार्यक्रम के दौरान उपस्थित कई साहित्यकारों द्वारा अपने विचार रखे गए। इस अवसर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के चंद्रगुप्त विक्रम, विभाग संपर्क प्रमुख विशाल जिंदलन मनीष चंद्र, महानगर संपर्क प्रमुख मयंक, कवि श्रीकांत श्री, अरविंद चैहान, चमन पोखरियाल, बिना बेंजवाल, विधानसभा के प्रभारी सचिव मुकेश सिंघल, अनुसचिव नरेंद्र रावत, उपसचिव चंद्र मोहन गोस्वामी, सुरक्षा अधिकारी प्रदीप कुमार गुणवंत, अनु सचिव हेम पंत, हेम गुरानी सहित अन्य लोग उपस्थित थे।कार्यक्रम का संचालन भारत चैहान द्वारा किया गया।

उपनल कर्मियों के मामले में मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत से मिले सूर्यकांत धस्माना

देहरादून। उपनल कर्मियों के मामले में कांग्रेस नेता सूर्यकांत धस्माना मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत से मिले। धस्माना ने मुख्यमंत्री से हस्तक्षेप कर हड़ताल समाप्त करवाने की मांग की। उन्होंने कर्मचारियों की मांगों पर सकारात्मक फैसला करने का आग्रह किया। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में दायर एसएलपी वापस ले कर कर्मचारियों को राहत देने की मांग की। उन्होंने इस संबंध में मुख्यमंत्री को एक ज्ञापन भी सौंपा। मुख्यमंत्री ने शीघ्र फैसला करने का आश्वासन दिया।

सीएम ने हरिद्वार कुंभ के तृतीय शाही स्नान पर श्रद्धालुओं को दी शुभकामनाएं

-कुंभ मेले में तृतीय शाही स्नान के दौरान भारत सरकार द्वारा तय गाइडलाइन का पालन अवश्य करने की अपील देहरादून। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने हरिद्वार कुंभ में तृतीय शाही स्नान श्मेष संक्रांतिश् के अवसर पर सभी श्रद्धालुओं को शुभकामनाएं दी हैं। उन्होंने कहा कि हरिद्वार महाकुंभ 2021 के प्रथम और द्वितीय शाही स्नान का आयोजन सुरक्षित और सफलतापूर्वक संपन्न हो गया है। हरिद्वार कुंभ 2021 में आयोजित शाही स्नान में संत समाज से लेकर श्रद्धालुओं ने डुबकी लगाकर पुण्य लाभ अर्जित किया और सभी राज्य सरकार द्वारा की गई व्यवस्थाओं से संतुष्ट नजर आए। भगवान बदरी विशाल, बाबा केदार और गंगा मैया के आशीर्वाद से शाही स्नान भी सफलतापूर्वक संपन्न होगा, मुझे इसका पूर्ण विश्वास है। कुंभ मेले में तृतीय शाही स्नान के दौरान साधु-संतों और श्रद्धालुओं को किसी भी प्रकार की असुविधा का सामना न करना पड़े, इसके लिए राज्य सरकार ने चाक-चैबंद व्यवस्था कर रखी है। कुंभ में व्यवस्थाएं सुचारू रूप से संचालित करने के लिए हर अखाड़े के स्नान का समय पहले से निर्धारित कर दिया गया है। इसके साथ ही अन्य श्रद्धालुओं के लिए भी अलग से स्नान की व्यवस्था की गई है। सभी सुरक्षा कर्मी, सफाई कर्मी, मेडिकल स्टाफ आदि अपना कार्य पूरी मुस्तैदी से कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने तृतीय शाही स्नान के लिए आने वाले सभी श्रद्धालुओं से अनुरोध किया कि कोविड को लेकर भारत सरकार द्वारा तय की गई गाइडलाइन का पालन अवश्य करें। सभी श्रद्धालु मास्क पहनें, सामाजिक दूरी बनाए रखें और समय-समय पर हाथों को सैनिटाइज भी करते रहें।

आरएसएस स्वयंसेवक एकत्रीकरण कार्यक्रम आयोजित

देहरादून। नव संवत्सर चैत्र शुक्ल प्रतिपदा विक्रमी संवत 2078 के शुभ आगमन अवसर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की महाराणा प्रताप नगर इकाई द्वारा स्वयंसेवक एकत्रीकरण कार्यक्रम का आयोजन उत्तरांचल पैरामेडिकल कॉलेज परिसर में किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता पंडित अमरदेव गौड़ द्वारा की गई। संघ के क्षेत्र कार्यवाह शशिकांत दीक्षित मुख्य वक्ता के रूप में उपस्थित रहे। मुख्य वक्ता ने नव संवत्सर के विषय में संक्षेप से जानकारी दी एवं अपनी संस्कृति एवं सभ्यता से जुड़े रहने के लिए स्वयंसेवकों को आह्वान किया। इस अवसर पर नगर कार्यवाह संजय तोमर, तरुण, शिव कुमार सैनी, विष्णु आनंद, नितिन कुमार, निखिल, अनिल, संजय ठाकुर,आयुष, विनय चैहान,प्रदीप सिंह, यशपाल कंडारी, राकेश भट्ट, भगत सिंह, अमित सिंह, नवीन, सुमित,वीरेंद्र, सुधीर,रतन चैहान,पुष्कर,राकेश कुकरेती, लक्ष्मी प्रसाद, बादर सिंह, कलम सिंह टोलिया आदि स्वयंसेवक उपस्थित रहे।

भारतीय संस्कृति सनातन, इसका अंत नहीं हो सकताः त्रिवेंद्र सिंह रावत

देहरादून। अनादि काल से चली आ रही भारतीय संस्कृति सनातन है, अनंत है सैकड़ों वर्षो के आक्रमण और अपने विरुद्ध हुए षड्यंत्र के बावजूद यह समाप्त नहीं हुई। भाजपा महानगर कार्यालय में आज नव संवत्सर एवं राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के संस्थापक डॉ. केशवराव हेगड़ेवार जयंती के अवसर पर हुए कार्यक्रम में बोलते हुए उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री एवं डोईवाला विधायक त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा की जिस समय देश में केवल पांच मेडिकल कॉलेज हुआ करते थे उस समय डॉ.साहब म्यामार पढ़ने गए छात्र जीवन में ही उनके मन में भावना उठती थी कि देश आजाद तो हो जाएगा पर यह आजादी सनातन कैसे रहे, क्यों इस देश पर बार बार आक्रमण हुए, हम बार-बार क्यों गुलाम बने ऐसे प्रश्न उन्हें उद्वेलित करते थे, वह छात्र जीवन से ही बंगाल में आजादी के लिए प्रयासरत व्यक्तियों के संपर्क में आए और उन्होंने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की स्थापना कीद्य जिसके लिए उन्होंने भारतीय सनातन व पुरातन सांस्कृतिक मूल्यों को आधार बनाया। आज उसी स्वयंसेवक संघ के समाज हेतु किए गए सेवा कार्यों के कारण हमारी सनातन संस्कृति पुनर्स्थापित हुई है, पूर्व में ऐसे अनेकों प्रयास किए गए जिससे इस संस्कृति को मानने वाले हीन भावना महसूस करें ,पर आज संघ के प्रयास से इस संस्कृति की उपेक्षा कोई नहीं कर सकता। रोम, यमन, हुण आदि संस्कृति का उदाहरण देते हुए कहा कि जिन क्षेत्रों में यह संस्कृतियां थी वह क्षेत्र आज भी है पर संस्कृति समाप्त हो चुकी है उन्होंने कंबोडिया का उदाहरण देते हुए कहा कि वहां के विभिन्न स्थानों पर भगवान गणेश की मूर्तियों का सुशोभित होना ही दर्शाता है कि हमारी संस्कृति विचार की है और विचार की हत्या नहीं की जा सकती यह अनंत काल तक चलता है धर्म को बढ़ाने के लिए लिए हमारे पूर्वजों ने कभी हिंसा का सहारा नहीं लिया यह विचार रूप में ही पूरे संसार में फैला। रावत ने कहा कि हमारी संस्कृति में ना सिर्फ मनुष्य बल्कि प्रकृति के लिए भी श्रद्धा भाव रहा है प्रकृति प्रेम इसका अटूट हिस्सा है। रावत ने हिंदू कैलेंडर एवं हिंदू काल गणना को वैज्ञानिक बताते हुए कहा कि आज यह लोगों को आकर्षित भी करती है और अचंभित भी कि कैसे हमारे पूर्वज हमें बता गए कि हजारों वर्ष बाद सूर्य किस समय उदय होगा और किस समय अस्त। कार्यक्रम में पंडित सुभाष जोशी ने भी हिंदू नव वर्ष बारे में विस्तार से बताया। कार्यक्रम में वरिष्ठ भाजपा नेता विश्वास डावर ,रविंद्र कटारिया, भगवत प्रसाद मकवाना , राजेश शर्मा, भाजपा महानगर महामंत्री सत्येंद्र सिंह नेगी, रतन चैहान, मीडिया प्रभारी राजीव उनियाल ,सोशल मीडिया प्रभारी अनुराग भाटिया, लच्छू गुप्ता मंडल अध्यक्ष विशाल गुप्ता , जीवन सिंह, विजय भट्ट, सुभाष यादव , अशोक राज पवार, मनीष बिष्ट पार्षद आलोक कुमार ,शुभम नेगी, विशाल कुमार ,धर्मपाल घाघट, सरदार सोनू सिंह,सुभाष बालियान महिला मोर्चा की श्रीमती बृजलेश गुप्ता , मुनिया पाल ,निधि राणा सहित दर्जनों भाजपा पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

Friday, 9 April 2021

कोरोनेशन अस्पताल में 100 शैय्याओं के चिकित्सालय का किया लोकार्पण

देहरादून। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने पं. दीनदयाल उपाध्याय जिला चिकित्सालय, देहरादून के परिसर में 100 शैय्याओं के चिकित्सालय का लोकार्पण किया। उन्होंने कहा कि जन सेवा हेतु यह हास्पिटल तेजी से कार्य करेगा, जिस तरह दून हास्पिटल के साथ दून मेडिकल कॉलेज के बनने से सुविधाएं और बेहतर हुई हैं। इसी तरह इस चिकित्सालय के विस्तार से इसमें लोगों को और बेहतर सुविधाएं उपलब्ध होंगी। अस्पताल में जो भी कमियां आगे सामने आयेंगी, उनको पूरा किया जायेगा। उन्होंने कहा कि चिकित्सालय में डॉक्टरों की पर्याप्त उपलब्धता रहेगी।

कुम्भ की आस्था से कोई समझौता नहीं, मुनीकीरेती व ढालवाला के शराब ठेके होंगे बंदः सीएम

-देवस्थानम बोर्ड पर होगा पुनर्विचार, 51 मंदिर होंगे देवस्थानम बोर्ड से मुक्त देहरादून। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि देवस्थानम बोर्ड में शामिल किए गए 51 मंदिरों पर पुनर्विचार किया जायेगा। जल्द ही तीर्थ पुरोहितों की बैठक बुलाई जायेगी। सबके हक-हकूकों का पूरा ध्यान रखा जायेगा। उन्होंने कहा कि चार धामों के बारे में शंकराचार्यों द्वारा प्राचीन काल से जो व्यवस्था की गई है उसका पूरी तरह पालन किया जाएगा, उसमें कोई छेड़छाड़ नहीं होगी। देवस्थानम बोर्ड का गठन पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के मुख्यमंत्रीत्व कार्यकाल में हुआ था। बोर्ड में चारों धाम समेत 51 मंदिर शामिल हैं। हरिद्वार से लेकर प्रदेशभर में तीर्थ पुरोहितों ने इसका पुरजोर विरोध किया था। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने संतों की मांग पर कुंभ क्षेत्र को शराब मुक्त करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि कुंभ क्षेत्र में जहां कहीं भी शराब की दुकानें खुली हैं उनको तत्काल बंद कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि वह संतों को निराश नहीं करेंगे। जो उनके हाथ में होगा वह करेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि अखाड़ों के संतों को किसी तरह की परेशानी नहीं होने दी जाएगी। अखाड़ों की मांग पर सभी को कुंभ छावनी के लिए भूमि आवंटित हो गई है। सरकार प्रयास करेगी कि अगले महाकुंभ के लिए भी अखाड़ों के संतों के लिए अभी से भूमि चिन्हित कर दी जाए, ताकि संतों को किसी तरह की परेशानी न झेलनी पड़े। सप्तसरोवर, हरिद्वार में विश्व हिंदू परिषद के केन्द्रीय मार्गदर्शक मंडल उपवेशन में प्रतिभाग किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि कुंभ की आस्था से कोई समझौता नहीं किया जायेगा। कुंभ क्षेत्र में शराब की दुकानें पूरी तरह बंद रहेंगी। संतों की मांग पर उन्होंने कहा कि मुनीकीरेती व ढालवाला के शराब के ठेके बंद किये जायेंगे। मुख्यमंत्री तीरथ ने कहा कि हरिद्वार में होने वाले अगले कुंभ के लिए 2010 एवं 2021 कुंभ के अनुसार चिन्हित भूमि के अनुरूप अखाड़ों, शंकराचार्यों, महामंडलेश्वर और संत समाज के लिए अभी से भूमि चिन्हित की जाएगी। इसके लिए डिजिटल प्रक्रिया अपनाई जाएगी। उन्होंने कहा कि शपथ लेने के बाद मैंने सबसे पहले हरिद्वार कुंभ की बैठक ली। शिवरात्रि के स्नान पर्व पर हरिद्वार कुंभ में संतो का आशीर्वाद प्राप्त करने का सौभाग्य मिला।

शौर्य दीवार पर पुष्पांजलि अर्पित कर सीएम ने शहीद जवानों को किया नमन

देहरादून। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने शुक्रवार को एसएमजेएनपीजी कालेज में शौर्य दीवार पर पुष्पांजलि अर्पित कर जवानों को नमन किया। इसके बाद मुख्यमंत्री ने कालेज में डेढ़ करोड़ रुपए की लागत से और बारह हजार वर्गफीट में नवनिर्मित भवन एच ब्लॉक (स्मार्ट क्लास रूम) का लोकार्पण किया। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि संत पूरे समाज को दिशा देने का काम करते हैं। महाकुंभ में अखाड़ा परिषद् की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। आगामी स्नान पर्वों पर भी हेलीकॉप्टर से पुष्प वर्षा कराई जाएगी। उन्होंने कहा कि कोविड से प्रभावित होने के दौरान भी मैं कुंभ के कार्यों की समीक्षा वर्चुअल रूप से लेता रहा। कोविड संक्रमण से स्वस्थ होते ही 06 अप्रैल को गंगा सभा और अखाड़ा परिषद की ओर सै आयोजित गंगा पूजन करके महाकुंभ का विधिवत शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि अखाड़ों और साधु संतों की मांग पर आगामी कुंभ के लिए जमीन चिह्नित की जाएगी। निरंजन पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी श्री कैलाशानंद गिरि महाराज ने अपने संबोधन में कहा कि साधु संतों के लिए कुंभ से बड़ा कोई धार्मिक आयोजन नहीं होता। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत को शाही स्नान के दिन गंगा तट पर आने और हेलीकॉप्टर से पुष्प वर्षा के लिए साधुवाद दिया। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि ने धन्यवाद ज्ञापित कर उनके दीर्घायु और यशस्वी जीवन का आशीर्वाद दिया। महंत रविंद्र पुरी जी महाराज, अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री महंत नरेंद्र गिरि, कालेज प्रबंध समिति के अध्यक्ष श्री महंत लखन गिरि, निरंजन पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी कैलाशानंद, आनंद पीठाधीश्वर महामंडलेश्वर बालकानंद गिरि ने मुख्यमंत्री को तिलक लगाकर पुष्प गुच्छ, रूद्राक्ष की माला पहनाकर और शॉल ओढ़ाकर जन्मदिन की शुभकामनाएं दी। संतों ने उनके सुखमय जीवन एवं दीर्घायु की कामना की। इस दौरान भाजपा जिलाध्यक्ष डॉ. जयपाल सिंह चैहान, सांसद प्रतिनिधि ओमप्रकाश जमदग्नि, मेलाधिकारी दीपक रावत, जिलाधिकारी सी रविशंकर, आईजी कुंभ संजय गुंज्याल, पूर्व महापौर मनोज गर्ग, कालेज के प्राचार्य डॉ. सुनील कुमार बत्रा, मुख्य छात्र कल्याण अधिष्ठाता डॉ. संजय माहेश्वरी, छात्र कल्याण अधिष्ठाता डॉ. सरस्वती पाठक सहित अन्य लोग मौजूद थे।

प्रदेश प्रमुख 51 मन्दिरों को श्राइन बोर्ड के साथ नहीं जोड़ा जायेगा

ऋषिकेश। विश्व हिन्दू परिषद् द्वारा आयोजित केन्द्रीय मार्गदर्शक मण्डल के कार्यक्रम में पूरे देश के संत-महापुरूषों का महासंगम आज परमानन्द आश्रम, हरिद्वार मेें हुआ। इसमें मुख्यमंत्री उत्तराखंड तीरथ सिंह रावत और कई पूज्य संतों, आचार्यों-महामण्डलेश्वरों, महंतों और विश्व हिन्दू परिषद् के पदाधिकारियों ने सहभाग कर अपने प्रेरणादायी एवं ओजस्वी विचार व्यक्त किये। परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने सुझाव दिया कि आज आप अपने जन्म दिवस के अवसर पर पूज्य संतों के श्रीचरणों में एक भेंट समर्पित करें कि उत्तराखंड में चारों धाम क्षेत्र के 51 प्रमुख मन्दिरों को श्राइन बोर्ड के अधीन किये जाने वाले फैसले पर पुनः विचार किया जाये। मुख्यमंत्री ने इसे तुरंत संज्ञान में लेते हुये इस पर अपनी सहमति व्यक्त करते हुये कहा कि उत्तराखंड के प्रमुख 51 मन्दिरों को श्राइन बोर्ड के साथ नहीं जोड़ा जायेगा तथा श्राइन बोर्ड पर भी विचार किया जायेगा। साथ ही मन्दिरों के आचार्यो व पुरोहितों के हक और अधिकारों पर भी ध्यान दिया जायेगा। मुख्यमंत्री के इस निर्णय का सभी पूज्य संतों ने स्वागत किया। स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने माँ गंगा के घटते जलस्तर और कम होते प्रवाह पर चिंता व्यक्त करते हुये कहा कि हम सभी को मिलकर इस पर चिंतन करने की जरूरत है ताकि हमारी गंगा हमेशा सदानीरा बनी रहे। गंगा जी को स्वच्छ, सदानीरा और प्रदूषण मुक्त रखने के लिये सरकारी प्रयासों के साथ सभी के समन्वित प्रयासों की जरूरत है। विश्व हिन्दू परिषद् के सभी पदाधिकारी गण जिसमें विशेष रूप से आलोक कुमार, दिनेश, मिलिन्द परान्दे, विनायक राव, राम जन्म भूमि तीर्थ श्रेत्र ट्रष्ट के महासचिव चंपतराय आदि कई महापुरूषों ने समाज को जागृत करने एवं सकारात्मक दिशा देने वाले उद्बोधन दिये तथा अनेक महत्वपूर्ण सूचनायें प्रदान की। इस अवसर पर आचार्य महामण्डलेश्वर, महामण्डलेश्वर गण, अखाड़ों के सचिव गण, भारत के विभिन्न राज्यों से आये पूज्य संतगण, विश्व हिन्दू परिषद के कर्मठ कार्यकर्ता अशोक तिवारी, जीवेश्वर मिश्र आदि अनेक विशिष्ट अतिथियों ने सहभाग कर अपने प्रेरणादायी एवं ओजस्वी विचार व्यक्त किये। आज का कार्यक्रम सफलतापूर्वक समपन्न हुआ। पूज्य संतों ने विश्व हिन्दू परिषद् के सभी कार्यक्रर्ता और पदाधिकारियों को धन्यवाद दिया।

उत्तराखंड प्रगतिशील पार्टी ने लोहाघाट के खराही में हुई फसलों की बर्बादी पर लोगों से की मुलाकात

देहरादून/लोहाघाट। उत्तराखंड प्रगतिशील पार्टी के लोहाघाट, खराही -धूनाघाट संयोजक नवीन नाथ गोस्वामी ने अपने विधानसभा क्षेत्र में विभिन्न लोगों से बात की एवं उन्होंने यह पाया कि पूरा यह खराही क्षेत्र आधुनिक युग में बहुत ही पीछे हो चुका है। हर तरफ आपको बर्बादी का मंजर दिखाई देगा। गांव के लोग बहुत ही परेशान हैं, ना उन्हें पेयजल की उचित व्यवस्था है और ना ही उनके खेतों में सिंचाई के लिए पर्याप्त पानी हैं। खेतों में जो भी फसल उगते हैं जंगली जानवरों द्वारा नष्ट कर दिए जाते हैं एवं पूर्ण फसल को बर्बाद होते हुए देख क्षेत्र के सभी किसान बहुत ही कष्ट में हैं। इस पूरे क्षेत्र में रोजगार का कोई अतिरिक्त साधन भी नहीं है। क्षेत्र में बारिश ना होने से भी फसल बहुत ही कम हो रही है। लोग अपने खेतों में सिंचाई का अन्य साधन तलाशते फिरते हैं। बड़ी कोशिश के बाद अगर कोई किसान थोड़ा बहुत फसल बचाता भी है तो उसे जंगली जानवर जैसे सूअर, काखड़ और बंदरों द्वारा नष्ट कर दिए जा रहे हैं। इस साल गेहूं की फसल के साथ भी यही हुआ पूरे क्षेत्र में आप गई गेहूं की खेत की बर्बादी देख सकते हैं। बारिश हो ना होने की वजह से दलहन की कोई पैदावार इस साल इस क्षेत्र में नहीं होगीं। सरकार की बेरुखी यहीं से दिखाई दे रही है कि किसानों के सिंचाई के लिए पानी की बिल्कुल भी व्यवस्था नहीं है। सरकार ने इस क्षेत्र में कभी भी जंगली जानवरों से फसल बचाने के लिए कोई भी अतिरिक्त कोशिश नहीं की है। यहां तक कि लोगों के लिए उचित पेयजल की व्यवस्था भी नहीं हो पा रही है। रोजगार के कोई साधन तो सरकार ने उपलब्ध नहीं कराए उल्टे पूरे क्षेत्र में दारू के कई ठेके खोल दिए हैं जिससे महिलाओं को बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। आसपास के लोग जो कुछ बचा रखे हैं वह दारू और अन्य नशाखोरी में लुटाए रहे हैं। क्षेत्र में अनेकों ऐसे परिवार हैं जहां शराब को लेकर घरेलू हिंसा का सामना करना पड़ रहा है। छोटे-छोटे बच्चों के संस्कार पर इस नशाखोरी, शराब के ठेके एवं अन्य समस्याओं के कारण बहुत बुरा असर हो रहा है। नवीन नाथ गोस्वामी ने लोगों से बात करते हुए कहा कि उत्तराखंड प्रगतिशील पार्टी आपके राज्य की क्षेत्रीय पार्टी है और यह आपके राज्य के विकास के लिए हर तरह से प्रतिबंध है एवं राज्य के विकास के लिए इन्हें इनके पास पर्याप्त योजना और रोडमैप तैयार है। हम आप सभी से निवेदन करते हैं कि आप उत्तराखंड प्रगतिशील पार्टी से जुड़े एवं अपने भविष्य को अपने हाथों से लिखे एवं अपना भविष्य खुद ही तय करें। यह दिल्ली से चलने वाली रिमोट कंट्रोल सरकार की बस की बात नहीं है कि यह उत्तराखंड के समग्र विकास पर ध्यान दें एवं सभी लोगों की समस्याओं को दूर करें। अतः आप सबसे निवेदन है कि उत्तराखंड प्रगतिशील पार्टी से जुड़े एवं 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव में पूर्ण बहुमत से उत्तराखंड प्रगतिशील पार्टी की सरकार बनाएं।

मुख्यमंत्री सलाहकार समूह की बैठक में मेडिकल टूरिज्म को बढ़ावा देने समेत विभन्न मुददों पर हुई चर्चा

देहरादून। मुख्य सचिव ओमप्रकाश की अध्यक्षता में शुक्रवार को सचिवालय में सीएम एडवाईजरी ग्रुप की समीक्षा बैठक आयोजित की गयी। गौरतलब है कि, राज्य के विकास में नवाचार और उद्यमिता की भूमिका और कोविड-19 के कारण आने वाली चुनौतियों का सामना करने के साथ ही, रणनीति बनाकर इन चुनौतियों को अवसरों में बदलने के लिए एक मुख्यमंत्री सलाहकार समूह गठित किया गया है। मुख्यमंत्री सलाहकार समूह में सरकारी के साथ ही गैर-सरकारी सदस्यों को भी रखा गया है। मुख्यमंत्री सलाहकार समूह की प्रथम बैठक में प्राप्त मुख्य सुझावों में उत्तराखण्ड के उत्पादों की ब्राण्ड आईडेंटिटी विकसित किए जाने, मेडिकल टूरिज्म को बढ़ावा दिए जाने, उत्तराखण्ड की अद्वितीय जैव विविधता का लाभ लेने, छोटे उद्यमों में आने वाली वास्तविक समस्याओं का पता लगाने एवं उनका व्यवस्थित समाधान करने जैसे विभिन्न सुझाव प्राप्त हुए थे। सभी सुझावों में से चयनित 06 मुख्य सुझावों के लिए अधिकारियों की अध्यक्षता में 06 उपसमूह भी बनाए गए हैं। बैठक की अध्यक्षता करते हुए मुख्य सचिव ने कहा कि प्रदेश में मेडिकल टूरिज्म की बहुत अधिक सम्भावनाएं हैं। इस क्षेत्र के लिए योजनाएं तैयार की जानी चाहिए, इसके साथ ही आयुर्वेद प्रशामक देखभाल के क्षेत्र में भी योजनाएं तैयार की जा सकती हैं। उन्होंने कहा कि टीबी रोग का घर बैठे इलाज होने के कारण टीबी सैनेटोरियम का महत्त्व कम होता जा रहा है, इनको मेडिकल टूरिज्म के क्षेत्र में प्रयोग किया जा सकता है। मुख्य सचिव ने कहा कि उत्तराखण्ड के पास जैव विविधता के रूप में बहुमूल्य धरोहर है। इस जैव विविधता के माध्यम से प्रदेश में स्थानीय लघु उद्यमों एवं रोजगार के सृजन हेतु विशेषज्ञों से सुझाव लिए जाएं ताकि योजनाओं को धरातल पर उतारा जा सके और प्रदेश की आर्थिकी को बेहतर बनाया जा सके। उन्होंने कहा कि ब्राण्ड आईडेंटिटी के लिए एक खुली लोगो प्रतियोगिता आयोजित की जाए ताकि राज्य एवं देश भर से ब्राण्ड लोगो के लिए सुझाव आ सकें। उन्होंने कहा कि इसके लिए अच्छी पुरस्कार राशि भी प्रदान की जानी चाहिए। मुख्य सचिव ने कहा कि सभी सम्बन्धित विभाग प्लानिंग डिपार्टमेंट के संयोजन में कार्य करेंगे और इसके लिए मई माह में एक वर्कशॉप आयोजित की जाए, जिसमें सलाहकार समूह द्वारा प्राप्त प्रत्येक सुझाव के लिए कम से कम एक सेशन जरूर रखा जाए। इस अवसर पर सचिव डॉ. पंकज कुमार पाण्डेय, सचिव एस.ए. मुरूगेशन एवं अपर सचिव वन नेहा वर्मा सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के जन्मदिन को सेवा दिवस के रूप में मनाया

देहरादून। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के जन्मदिन को सेवा दिवस के रूप में मनाते हुए संयुक्त चिकित्सालय प्रेमनगर देहरादून में भारतीय जनता पार्टी के जुझारू लोकप्रिय नेता जोगेंद्र सिंह पुंडीर (प्रदेश उपाध्यक्ष किसान मोर्चा) द्वारा सभी मरीजों को फल, मास्क आदि वितरण कर सभी के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की गई। इस अवसर पर वार्ड नंबर 3 के सम्मानित सभासद कमल राज, प्रेमनगर कवाली मंडल की महिला मोर्चा अध्यक्ष हमारी बड़ी बहन अनीता मल्होत्रा, केंद्रीय जन कल्याणकारी योजना के जिलाध्यक्ष अमित भाटिया (मोनू), उत्तरांचल पंजाबी महासभा के वरिष्ठ उपाध्यक्ष पूजा दत्ता, विकास शर्मा, अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश पदाधिकारी नाजिम राठी, रईस, पूनम मट्ठा, ऋषभ कंडवाल, राधिका भाटिया आदि उपस्थित रहे।

मंत्री ने परियोजनाओं के प्रस्ताव व डीपीआर को तेजी से बनाने के दिए निर्देश

देहरादून। प्रदेश के विधायी एवं संसदीय कार्य, शहरी विकास, आवास खाद्य नागरिक आपूर्ति व उपभोक्ता मामले एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री बंशीधर भगत की अध्यक्षता में विधानसभा स्थित सभाकक्ष में आवास विभाग तथा शहरी विकास विभाग से सम्बन्धित विभागीय समीक्षा बैठक आयोजित की गई। मंत्री ने शहरी विकास, आवास, एमडीडीए, एडीबी, हुडा, मेट्रो रेल काॅरपोरेशन, आदि विभागों व एजेन्सियों के अधिकारियों से उनके अन्तर्गत गतिमान तथा प्रस्तावित परियोजनाओं व कार्यो की वस्तुस्थिति का विवरण प्राप्त करते हुए अधिकारियों को निर्देश दिये कि आवासीय, सौन्दर्यीकरण, हाईटेक शौचालय, प्रधानमंत्री आवास योजना, गरीबों के लिए वहनीय आवास प्रोजेक्ट, पेयजल, सीवरेज, ठोस एवं तरल वेस्ट मैनेजमेन्ट, सार्वजानिक पार्किंग, रैन बसेरों, श्वान बन्ध्याकरण, वेंडर जोन निर्माण, जल जीवन मिशन, स्मार्ट सिटी इत्यादि सभी निर्माणाधीन परियोजनाओं के लिए कार्यो को बेहतर गुणवत्ता अपनाते हुए तेजी से पूरा करने तथा प्रस्तावित परियोजनाओं के प्रस्ताव व डीपीआर इत्यादि को भी तेजी से बनाने के निर्देश दिये। उन्होने विभिन्न विकास कार्यो को पूरा करने के लिए विभिन्न परियोजना एवं कार्यो की धनराशि को शीध्रता से जारी करने तथा विभिन्न क्षेत्रों में स्थानीय विधायकों के समन्वय से विकास कार्यो को अमलीजाम पहनाने को कहा। मंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि जिन नगर निकायो (नगर निगम, नगर पालिका व नगर पंचायत) में हाईटेक शौचालय, वेंडिंग जोन निर्माण, रैन बसेरों, सार्वजनिक पार्किंग, श्वान पशु बान्ध्याकरण इत्यादि की आवश्यकता हो तो सम्बन्धित नगर निकाय से प्रस्ताव प्राप्त कर लिया जाय। स्मार्ट सिटी के कार्यो की समीक्षा के दौरान मा0 मंत्री ने जिलाधिकारी देहरादूनध्मुख्य कार्यकारी अधिकारी स्मार्ट सिटी को निर्देशित किया कि स्मार्ट सिटी के कार्यो के दौरान शहर में जहाॅ पर भी सडक खोदी जा रही है उसको तत्काल कार्य समाप्ति पश्चात साथ-साथ ठीक भी किया जाय, जिससे जनता को आवागमन में किसी तरह की बाधा उत्पन्न ना हो। मंत्री ने उत्तराखण्ड के देहरादून, ऋषिकेश और हरिद्वार में मेट्रों परियोजना से सम्बन्धित प्रगति का विवरण प्राप्त करते हुए इस सम्बन्ध में की जाने वाली विभिन्न औपचारिकताओं को तेजी से पूरा करने के निर्देश दिये तथा सम्बन्धित एजेन्सी को विभिन्न पक्षो से समन्वय करने में भी गम्भीरता दिखाने को कहा ताकि मेट्रो परियोजना से सम्बन्धित कार्य भी समय से प्रारम्भ किये जा सके। मेट्रो काॅरपोरेशन के उपस्थित अधिकारियों ने अवगत कराया कि मेट्रो परियोजना के कार्यो का मेट्रोपोलिटन एरिया तय किया जा चुका है, कम्प्रिहेन्सिव मोविलिटी (विस्तृत आवागमन) पालन तैयार किया जा चुका है तथा इसकी डीपीआर भी तैयार की जा चुकी है। जिसका आगामी समय में मुख्य सचिव की अध्यक्षता वाले बोर्ड बैठक में अनुमोदन किया जाना है। तत्पश्चात शासन से डीपीआर को अनुमोदित करते हुए भारत सरकार को प्रेषित किया जायेगा। उन्होने अवगत कराया कि भारत सरकार द्वारा मध्यम शहरों के लिए नियो मेट्रो रेल का कन्सेप्ट अनुमोदित किया गया है तथा उत्तराखण्ड में भी प्रस्तावित मेट्रो परियोजना नियो मेट्रो की परिधि में आती है। इस दौरान बैठक में सचिव शहरी विकास व आवास शैलेश बगोली, मेयर नगर निगम हल्द्वानी जोगेन्द्र रौतेला, प्रभारी सचिव आवास सुरेन्द्र नारायण पाण्डेय, निदेशक शहरी विकास विनोद कुमार सुमन, आयुक्त शहरी विकास विनय शंकर पाण्डेय, जिलाधिकारी देहरादून आशीष कुमार श्रीवास्तव, उपाध्यक्ष एमडीडीए रणवीर सिंह चैहान सहित अन्य सम्बन्धित अधिकारी मौजूद थे।

चुनावी वर्ष में भाजपा को फिर याद आई बस्तियांः आप

देहरादून। आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता रविंद्र सिंह आनंद ने कहा कि चुनावी वर्ष आने के साथ ही भाजपा को एक बार फिर मलिन बस्तियों की याद आ गई है। राज्य की 582 मलिन बस्तियों को एक बार फिर मालिकाना हक देने का झुनझुना जनता को थमाए जाने की बात कही जा रही है। आम आदमी पार्टी मांग करती है कि मात्र चिंहित नहीं प्रदेश की सभी मलिन बस्तियों को मलिकाना हक दिया जाना चाहिए। रविंद्र सिंह आनंद ने कहा कि 2010 के सर्वे के अनुसार प्रदेश में 582 मलिन बस्तियां है और इनमें से मात्र एक सौ दो मलिन बस्तियां ही मनाकों पर खरी उतर रही है। जिन्हें अब मलिकाना हक दिए जाने की बात हो रही है। श्री आनंद ने कि यहां पर सवाल यह उठता है कि यदि 2010 मंे सर्वे हो चुका था तो जो बस्तियां मनकों के अनुरूप नहीं है उन पर कार्य क्यों नहीं किया गया और जो मानकांे पर पूरी है उनको अभी तक इतने सालों में नियमित क्यों नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि चाहे वो कांग्रेस की सरकार हो या भाजपा की इनको चुनाव के वक्त ही बस्तियों की याद क्यों आती है। अब जब भाजपा ने एक बार फिर मलिन बस्तियांे का राग आलापना आरम्भ कर दिया है तो आम आदमी पार्टी मांग करती है मात्र चिंहित नहीं सभी मलिन बस्तियों को मालिकाना हक दिया अन्यथा आम आदमी पार्टी इसके खिलाफ आंदोलन करने को बाध्य होगी।

कुम्भ के अन्तर्गत निर्मित पुलिस सर्विलांस सिस्टम के कमाण्ड कण्ट्रोल सेण्टर का किया लोकार्पण

हरिद्वार/देहरादून। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने मेला नियंत्रण भवन (सी0सी0आर0) में शुक्रवार को आपदा राहत दल, 40वीं वाहिनी पी0ए0सी0 के आदर्श बैरक, कुम्भ मेला-2021 के अन्तर्गत निर्मित पुलिस सर्विलांस सिस्टम के कमाण्ड कण्ट्रोल सेण्टर का लोकार्पण किया। इस मौके पर मेला नियंत्रण भवन के सभागार में आयोजित कार्यक्रम में बोलते हुये मुख्यमंत्री ने कहा कि पुलिस सर्विलांस सिस्टम के कमाण्ड कण्ट्रोल सेण्टर को अल्प समय में ही जो आधुनिक रूप दिया है, वह सराहनीय है। इसके लिये उन्होंने सभी अधिकारियों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि स्मार्ट कण्ट्रोल रूम समय की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि इसका डिजीटलीकरण प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी की मंशा के अनुरूप किया गया है। पुलिस स्मार्ट, आधुनिक तथा संवेदनशील होनी चाहिये। मुख्यमंत्री ने आपदा राहत दल, 40वीं वाहिनी पी0ए0सी0 के 70 बेड वाले आदर्श बैरक में दी गयी सुविधाओं और व्यवस्थाओं, साफ-सफाई आदि की प्रशंसा करते हुये कहा कि अच्छा वातावरण व अच्छी सुविधायें मिलने से जवानों का मनोबल भी बढ़ता है। उन्होंने कहा कि पुलिस के आधुनिकीकरण पर कोई कोर-कसर नहीं रखी जायेगी। हम सभी अपनी-अपनी जिम्मेदारी निभाते हुये महाकुम्भ को सफल बनायेंगे। उन्होंने कहा कि हमें ऐसे प्रयास करने हैं कि उत्तराखण्ड की पुलिस का नाम देश में ही नहीं, बल्कि पूरे विश्व में गर्व के साथ लिया जायेगा, क्योंकि महाकुम्भ में पूरे विश्व से श्रद्धालु आते हैं। उन्होंने कोविड के नियमों का पालन सुनिश्चित करने को कहा। पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने कहा कि हमने उत्तराखण्ड पुलिस को स्मार्ट बनाया है। यह कण्ट्रोल रूम इसका उदाहरण है। उन्होंने कहा कि हम महाकुम्भ में ऐसी व्यवस्था बना रहे हैं कि स्थानीय लोगों को कम से कम दिक्कतों का सामना करना पड़े। इससे पूर्व मुख्यमंत्री ने देवभूमि रक्षक पत्रिका, दो प्रमुख गीतों-’’ये व्योम कुम्भ, धर्म ध्वजा का एवं गायक कैलाश खेर द्वारा गाया गया ’’ये धर्म कुम्भ, ये कर्म कुम्भ ये मानवता का कुम्भ तथा कौन सा स्नान घाट आपके नजदीक है आदि की जानकारी देने वाले एप का विमोचन किया। मेलाधिकारी दीपक रावत ने इस एप के सम्बन्ध में विस्तृत जानकारी मुख्यमंत्री को दी। इस अवसर पर जिलाधिकारी सी0 रविशंकर, पुलिस महानिरीक्षक संजय गुंज्याल, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कुम्भ मेला जनमेजय खण्डूरी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक हरिद्वार सेंथिल अबुदई कृष्णराज एस, सहित मेला प्रशासन,पुलिस प्रशासन एवं जिला प्रशासन के अधिकारीगण उपस्थित थे।

Thursday, 8 April 2021

निःशुल्क स्वास्थ्य परामर्श शिविर एवं बेबीनार का आयोजन

देहरादून। विश्व स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर संजय आॅर्थोपीडिक, स्पाइन एवं मैटरनिटी सेन्टर व सेवा सोसाइटी द्वारा निःशुल्क पोलियो, सी.पी. एवं स्त्री रोग स्वास्थ्य परामर्श शिविर एवं बेबीनार का आयोजन किया गया। विकलंगता व्यक्ति की हर क्षमता को हर ढंग से क्षमता को कम करती है। दिव्यांगजन की क्षमता किसी भी सक्षम व्यक्ति की क्षमता से हर ढंग से कम होती है। हमारे देश में आॅर्थोपीडिक विकलंगता के मुख्य कारण है पोलियो, सी.पी. तथा सड़क दुघटनाऐं। भारत सरकार की अद्वितीय पल्स पोलियो पहल से जनवरी 2011 के बाद अब तक एक भी पोलियो का नया केस नहीं मिला है लेकिन इसके बावजूद भी देष में पुराने पोलियो के लाखों-करोड़ों मरीजों का जीवन दयनीय स्थिति में है। इन्हीं व्यक्तियों के लिए सेंटर द्वारा विश्व स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर निःशुल्क स्वास्थ्य परामर्श शिविर का आयोजन किया गया। जिसमें मरीजों का स्वास्थ्य परीक्षण एवं स्वास्थ्य रहने की सलाह दी गई। तथा जिन मरीजों को आॅपरेशन की आवश्यकता है उन मरीजों के लिए सेंटर द्वारा 25 से 50 प्रतिषत की छूट दी गई है। निःषुल्क स्वास्थ्य परामर्ष शिविर के दौरान आॅर्थोपीडिक एवं स्पाइन सर्जन डाॅ. गौरव संजय ने सेंटर में इलाज हुए पुराने मरीजों के परिणामों को आये हुए मरीजों को दिखाया तथा उन्होंने बताया कि पोलियो मरीजों में आॅपरेशन के बाद अपेक्षित परिणाम आते है। अधिकांशतः मरीज आॅपरेशन के बाद पहले की स्थिति से बेहतर हो जाते है। पद्मश्री से सम्मानित वरिष्ठ आॅर्थोपीडिक एवं स्पाइन सर्जन डाॅ. बी. के. एस. संजय ने बताया कि पोलियो और सी.पी. के मरीजों में आॅपरेषन जल्दी से जल्दी कराना चाहिए क्योंकि उनका मानना है कि पौंधें सीधे किये जा सकते है पेड़ नहीं। इस स्वास्थ्य शिविर के दौरान राष्ट्रपति द्वारा सम्मानित स्त्री एवं प्रसूति रोग विषेषज्ञ डाॅ. सुजाता संजय ने महिला मरीजों का स्वास्थ्य परीक्षण किया तथा आये हुई महिला मरीजों को सम्बोधित करते हुए कहा कि परिवार की रीढ़ एक मातृशक्ति होती है और हम महिलाओं को अपने स्वास्थ्य का पूरा ध्यान रखना चाहिऐ क्योंकि उनका मानना है कि एक स्वस्थ महिला ही एक स्वस्थ परिवार का निर्माण करती है जिससे कि एक स्वस्थ समाज का निर्माण हो सकें।

पेटीएम ने डीटीएच रिचार्जेज पर ‘2 पे 200 कैशबैक’ऑफर लॉन्च किया, प्रत्येक रिचार्ज पर गारंटीड कैशबैक और डिस्काउंट वाउचर्स की पेशकश की

-नए यूजर्स को लगातार रिचार्ज कराने पर 100 रुपये का निश्चित कैशबैक मिलेगा -मौजूदा यूजर्स को शीर्ष ब्रांड्स की तरफ से मिलेंगे गारंटीड डिस्काउंट वाउचर्स देहरादून। देश के प्रमुख डिजिटल फाइनेंशियल सर्विसेज प्लेटफॉर्म पेटीएम ने आज आगामी क्रिकेट सीजन के दौरान डीटीएच रिचार्जेज पर आकर्षक कैशबैक और अन्य रिवार्ड्स की घोषणा की है। नए यूजर्स जहां ‘2 पे 200 कैशबैक ऑफर’ का लाभ उठा पाएंगे जिसमें उन्हें लगातार दो महीने के दौरान रिचार्ज पर निश्चित रूप से 100 रुपये तक का कैशबैक मिलेगा। वहीं मौजूदा यूजर प्रत्येक रिचार्ज पर शीर्ष ब्रांड्स की तरफ से डिस्काउंट वाउचर्स और पेटीएम फर्स्ट प्वाइंट्स जीत सकते हैं। ये ऑफर्स एयरटेल डिजिटल टीवी, टाटा स्काई, डिश टीवी, वीडियोकॉन डी2एच और सन डायरेक्ट के सभी प्रीपेड सब्सक्रिप्शन प्लांस के लिए रिचार्ज पर लागू होगा। अपने यूजर्स को और अधिक सुविधा मुहैया कराने के लिए, पेटीएम ने हाल ही में 2-स्टेप इंस्टैंट रिचार्ज और समय पर मिलने वाले रिमाइंडर समेत अन्य फीचर्स के जरिए डी2एच रिचार्ज के भुगतान अनुभव को और बेहतर बनाया है। यूजर्स को बस अपने सर्विस प्रोवाइडर को चुनना है और उन्हें भुगतान के लिए राशि डालनी है। अन्य प्लेटफॉर्म जहां उपभोक्ताओं को यूपीआई भुगतान की सुविधा नहीं मिलती है, के बजाय पेटीएम अपने ग्राहकों को पेटीएम यूपीआई, पेटीएम वॉलेट, डेबिट और क्रेडिट कार्ड या नेट बैंकिंग के जरिए अपना पसंदीदा पेमेंट मोड चुनने की लचीलता देता है। यूजर्स इसके अलावा पोस्ट पेड फीचर का भी लाभ उठा सकते हैं, जिसके जरिए वह अभी रिचार्ज कर बाद में उसका भुगतान कर सकते हैं। पेटीएम ने अब उपभोक्ताओं को उनके रिचार्ज प्लान के बारे में रिमाइंडर्स भी देना शुरू कर दिया है ताकि वह हमेशा कनेक्टेड रह सकें। पेटीएम के प्रवक्ता ने कहा, “हमारा बेहतरीन तकनीकी ढांचा यूजर्स को सभी सेवा प्रदाताओं पर रिचार्ज का शानदार अनुभव मुहैया कराता है। इसकी मदद से हमारा कस्टमर रिपीट रेट करीब 90 फीसदी अधिक है।

Featured Post

जवानों की शहादत का कोई मोल नहीं है केंद्र सरकार की नजरों मेंः मोर्चा

-देश की एजेंसियों को विरोधियों को कमजोर करने व चुनावी षड्यंत्र के काम से हटाए सरकार -उत्तराखंड के जवानों की दिनों-दिन हो रही शहादत पर...