Wednesday, 31 March 2021

बच्चों से भिक्षावृत्ति करवाने, सड़क पर सामान विक्रय करने पर सख्ती से रोक लगाएंः डीएम

देहरादून ‘बच्चों से भिक्षावृत्ति करवाने, सड़क पर सामान विक्रय करने व किसी के द्वारा उनसे काम करवाने पर सख्ती से रोकथाम लगाएं।’’ यह निर्देश जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव ने जिला कार्यालय स्थित ऋषिपर्णा सभागार में श्रम विभाग के समन्वय से आयोजित की गई जिला टास्कफोर्स समिति की बैठक में श्रम विभाग, पुलिस विभाग और समिति के सदस्यों को दिए। जिलाधिकारी ने कुछ स्थानों पर बच्चों से करवाई जा रही भिक्षावृत्ति, विभिन्न तरह के सामान का विक्रय करने और कुछ स्थानों पर काम करवाए जाने की सूचना पर चिन्ता व्यक्त करते हुए श्रम विभाग, पुलिस विभाग और बच्चों के कल्याण से जुड़े समाज कल्याण, शिक्षा विभाग, स्वास्थ्य विभाग और इससे जुड़ी चाईल्ड हेल्पलाईन, जिला बाल कल्याण समिति, बचपन बचाओ आन्दोलन जैसे संगठनों को सख्ती से निर्देश दिए कि जनपद में कहीं पर भी कोई भी बच्चा भिक्षावृत्ति मांगता, विभिन्न वस्तुओं को बेचता और किसी के यहां काम करता हुआ ना पाया जाए। इसके लिए सभी विभाग और समिति से जुड़े सदस्य आपसी समन्वय से विभिन्न स्थानों पर समय-समय पर विशेष अभियान चलाकर ऐसे बच्चों को रेस्क्यू करें तथा रेस्क्यू किए गए बच्चों के अभिभावकों अथवा जिसकी निगरानी में ऐसा कर रहें हैं उन तक पंहुचें। यदि किसी बच्चे के अभिभावक मजबूरीवश ऐसा कर रहे हैं तो उनकी कांउसिलिंग करवाकर सेवायोजन विभाग के सहयोग से उनके अभिभावक ध्माता-पिता को स्किल्ड प्रशिक्षण देकर स्वरोजगार से जोड़ें तथा जो लोग बच्चों की मजबूरी अथवा अन्य प्रलोभन के चलते भिक्षावृत्ति करवा रहे हैं व बच्चों से सामान बेचने अथवा कोई ऐसा काम करवा रहे हैं जो बच्चों को नहीं करना चाहिए उन पर प्राथमिकी दर्ज करते हुए सख्त वैधानिक कार्यवाही करें, ताकि बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ करने वालों को बड़ा सबक मिल सके। यदि रेस्क्ूय किए गए बच्चों के सम्बन्ध में कोई नियोजक उनके 18 वर्ष होने का दावा करता है अथवा बच्चे का फर्जी आधार कार्ड अथवा परिचय पत्र बनवाकर उनसे काम लेता है तो वास्तविक नियमों के अधीन कार्यवाही करें। जिलाधिकारी ने गोद में बच्चे को लेकर भिक्षावृत्ति करने वाली महिलाओं पर पैनी नजर रखते हुए ऐसी महिलाओं और बच्चे का डीएनए टेस्ट करवाए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि रेस्क्यू किए गए ऐसे बच्चों जिनके कोई भी वैधानिक माता-पिता अथवा अभिभावक नहीं हैं तो उनको समाज कल्याण विभाग के समन्वय से बालगृहों में भिजवाएं जहां पर उनका मानकों के तहत् उचित पालन पोषण करवाएं साथ ही ऐसे बच्चों की स्कुलिंग, मनोरंजन और स्किल्ड पर भी ध्यान दें। जिलाधिकारी ने टास्क्फोर्स समिति द्वारा रेस्क्यू अभियान के दौरान पुलिस का सहयोग लेते हुए कार्यवाही करने को कहा साथ ही किसी गोपनीय सूचना अथवा स्वयं के औचक निरीक्षण पर बाल अत्याचार से सम्बन्धित बातों के संज्ञान में आने पर भी रेस्क्यू अभियान चलाने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने सहायक श्रम आयुक्त को बालश्रम को लेकर निश्चित अवधि में बैठक न कराने तथा कार्यों में लापरवाही बरतने पर स्पष्टीकरण प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। संतोषजनक स्पष्टीकरण प्राप्त न होने की दशा में प्रतिकूल प्रविष्टि दर्ज की जाएगी। उन्होंने श्रम विभाग को निर्देशित किया कि टास्कफोर्स समिति से जुड़े विभिन्न विभागों व एजेसिंयों से बेहतर तालमेल बनाने और आपसी सूचनाओं के अद्यतन में अग्रिम भूमिका निभाते हुए बच्चों से सम्बन्धित अत्याचारों व अपराधों पर लगाम लगाएं। इस दौरान बैठक में पुलिस अधीक्षक प्रकाश चन्द्र, सहायक श्रम आयुक्त एस.सी आर्य, मुख्य चिकित्साधिकारी डाॅ अनूप कुमार डिमरी, बेसिक जिला शिक्षाअधिकारी राजेन्द्र रावत, जिला समाज कल्याण अधिकारी हेमलता पाण्डेय, जिला प्रोबेशन अधिकारी मीना बिष्ट सहित सीडब्लूसी चाइल्ड हैल्पलाईन सहित समिति के सदस्य उपस्थित थे।

द्वाराहाट विधानसभा क्षेत्र के चैड़ा घुघती, दूनागिरी क्षेत्र एवं बग्वालीपोखर तक लगभग 150 गांव जल संकट की चपेट में

द्वाराहाट। उत्तराखंड प्रगतिशील पार्टी के द्वाराहाट संयोजक शंकर दत जोशी ने ’गधेरा बचाओ गगास बचाओ’ अभियान के लिए किया जन समर्थन का अपिल। उन्होंने कहा ’जल संकट अब पूरे द्वाराहाट विकासखंड में दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है। वर्तमान में पूरे विकासखंड के जालली ईड़ा क्षेत्र से मल्ली मिरई एवं भिकियासेन ब्लॉक के द्वाराहाट विधानसभा के चैड़ा घुघती से दूनागिरी क्षेत्र एवं बग्वालीपोखर तक लगभग 150 गांव जो पूर्णतया जल संकट की चपेट आ चुका है और यहां भारी पेयजल समस्या पुरे क्षेत्र में आया हुआ है। वर्तमान में राज्य सरकार द्वारा जो भी पेयजल योजना चलाए जा रहे हैं वह सब क्षेत्रवासियों के लिए अपर्याप्त है और बिल्कुल दयनीय स्थिति में है एवं रखरखाव ठीक ढंग से ना करने की वजह से क्षेत्र के सभी पेयजल योजना जर्जर स्थिति में पहुंच चुकी है। कई जगह लगाए गए नल वर्षों से सूखे पड़े हैं तो कई जगह लंबी-लंबी कतार में लोग पानी भरते हैं। पूर्व में जितने भी सरकार उत्तराखंड में आई है वह सभी ने इन क्षेत्रों को नजरअंदाज किया एवं कोई भी पर्याप्त विकास की योजनाओं को क्षेत्रवासियों के लिए अभी तक लाया नहीं गया है। पर्यावरण की दृष्टि से भी यह क्षेत्र अब काफी कुछ खो चुका है। वन माफियाओं ने क्षेत्र में लगे वाज के वृक्ष, बुरास के वृक्ष एवं चैड़ी पत्तियों वाले बड़े-बड़े वृक्षों को अवैध रूप से काट दिए है। बरसों से वन माफियाओं ने पूरे क्षेत्र के पहाड़ियों पर कब्जा कर रखा है और उपयोग होने वाले सभी लकड़ियों का यही से व्यापार करके अवैध कटान करते रहते हैं। इस पर स्थानीय प्रशासन ने भी अभी तक मौन धारण किए हुए हैं जिससे कि पर्यावरण का दोहन दिन-ब-दिन बढ़ता ही जा रहा है और पहाड़ियों में मौजूद जल स्रोत भी समाप्त हो रहे है। आने वाले कुछ वर्षों में यह पूरा क्षेत्र सूखाग्रस्त हो जाएगा एवं पेयजल की समस्या अपने चरम पर होगी। पूरे 150 गांव हेतु जो भी पेयजल योजनाएं बनी है वह गगास नदी से बनी है या फिर छोटे-छोटे गधेरो से मिलकर। वर्तमान में राज्य सरकार द्वारा जो भी पेयजल योजना चलाई जा रही है वह सब गजराज नदी के टोडरा पेयजल योजना एवं खीरोंघाटी पंपिंग पेयजल योजना सभी गगास नदी पर बनी है। वही देवास नदी का उद्गम जो कि दूनागिरी व पांडवखोली के पहाड़ी से है और इसके सहायक गधेरे हैं जिनसे क्षेत्र के लोगो को पानी मिला करता है वह सब धिरे धिरे सुखते जा रहे है।

Friday, 26 March 2021

कार्यकर्ता व पदाधिकारी मिशन 2022 को लक्ष्य मानकर गंभीरता से तैयारियों में जुटेंः दुष्यंत गौतम

देहरादून। भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री एवं प्रदेश प्रभारी दुष्यंत कुमार गौतम ने कहा कि पार्टी पदाधिकारी और मीडिया टीम मिशन 2022 को लक्ष्य मानकर गंभीरता से जुट जाए। भाजपा मीडिया विभाग की बैठक में उन्होंने कहा कि 4 साल में किये गए विकास कार्य और वर्तमान में चल रही निरंतर विकास की गतिविधियों को आम लोगों तक पंहुचाना प्राथमिकता में होना चाहिए। इसके अलावा केंद्र के राज्य को सहयोग के फलस्वरुप मिल रही जनकल्याणकारी योजनाओं के बारे में भी आम जन को अवगत कराना होगा। इस अवसर पर प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने कहा कि मीडिया व सोशल मीडिया टीम की जिम्मेदारी सबसे महत्त्वपूर्ण है उन्हें विपक्ष के दुष्प्रचार का मुंह तोड़ जवाब देने के लिए अध्ययन करना चाहिए और तथ्यों के आधार पर उनका जवाब देना है। उन्होंने कहा कि सल्ट उपचुनाव् में पार्टी को बड़ी जीत हासिल करनी है, लेकिन बेहतर समन्वय के साथ कार्य करना होगा और यह 2022 में भी दोहराना है। उन्होंने कहा कि सरकार और संगठन में बेहतर तालमेल से यह अच्छी तरह हाशिल होगा। उन्होंने मीडिया टीम को अच्छे और ऐतिहासिक कार्यों को बेहतरीन प्रस्तुति देने को कहा। इस मौके पर कैबिनेट मंत्री बंशीधर भगत, यशपाल आर्य, डॉ हरक सिंह रावत, सुबोध उनियाल, अरविंद पांडे, गणेश जोशी, डॉ धन सिंह रावत, रेखा आर्य, स्वामी यतिस्वरानंद प्रदेश महामंत्री व सल्ट चुनाव प्रभारी सुरेश भट्ट, कुलदीप कुमार, प्रदेश मीडिया प्रभारी मानवीर सिंह चैहान, प्रदेश प्रवक्ता खजान दास, विनय गोयल, विनोद सुयाल, विपिन कैंथोला, सुनील सैनी , कमलेश उनियाल, उमेश शर्मा, सोशल मीडिया प्रभारी शेखर वर्मा आदि लोग उपस्थित रहे।

आईआईटी रुड़की ने राष्ट्रीय जलविज्ञान संस्थान के सहयोग से आयोजित किया विश्व जल दिवस

रुड़की। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) रुड़की ने राष्ट्रीय जलविज्ञान संस्थान (एनआईएच) के सहयोग से विश्व जल दिवस मनाया, जिसमें प्रतिनिधियों की उत्साहपूर्ण भागीदारी देखी गई। इस कार्यक्रम का आयोजन आईआईटी रुड़की के हाइड्रो एंड रिन्यूएबल एनर्जी (एचआरईडी) विभाग ने हाइब्रिड मोड में किया, जिसमें संस्थान के फैकल्टी और एनआईएच के वैज्ञानिक समेत 40 ऑफलाइन प्रतिभागियों और 60 से अधिक ऑनलाइन प्रतिभागियों की मौजूदगी रही। श्वैल्यूइंग वाटरश् थीम पर आयोजित इस कार्यक्रम में, एचआरईडी विभाग के सुश्री कीर्ति गोयल और प्रोफेसर अरुण कुमार द्वारा लिखित श्वॉटर रियूजरू ए वाइटल स्टेप टूवार्ड्स वॉटर वैल्यूश् नामक एचआरईडी पब्लिकेशन का भी विमोचन हुआ। 60 मिनट तक चले इस कार्यक्रम से आईआईटी रुड़की और एनआईएच के निदेशकों के साथ-साथ आईआईटी और एनआईएच के विभिन्न विभागों के कई फैकल्टी, वैज्ञानिक, कर्मचारी और छात्र जुड़े रहे। कार्यक्रम का एक और मुख्य आकर्षण, पानी के उचित उपयोग को सुनिश्चित करने के लिए सस्टेनेबल कैचमेंट मैनेजमेंट (एससीएम) पर यूके सेंटर फॉर इकोलॉजी एंड हाइड्रोलॉजी के वॉटर रिसोर्स हेड डॉ. ग्वेन रीस द्वारा दिया गया संबोधन था। सत्र में स्वछ जल संसाधन के संरक्षण के लिए एससीएम के विभिन्न तरीकों पर चर्चा हुई। अपने संबोधन में यूके सेंटर फॉर इकोलॉजी एंड हाइड्रोलॉजी के वॉटर रिसोर्स हेड डॉ. ग्वेन रीस ने कहा, “सस्टेनेबल वॉटर ट्रीटमेंट सार्वजनिक जल आपूर्ति के लिए वॉटर ट्रीटमंट कॉस्ट को कम करने, प्रदूषण को कम करने, पानी की उपयोगिता बढ़ाने और जैव विविधता की रक्षा में कई गुना प्रभाव डालता है। इन सभी परिणामों का प्रकृति के साथ सामंजस्यपूर्ण संतुलन बनाए रखने और नेचुरल कैपिटल अकाउंटिंग में आर्थिक और सामाजिक लाभ हैं।“ डॉ. ग्वेन रीस एक सीनियर रिसर्च मैनेजर हैं, जिनके पास कम जल प्रवाह, सूखा, जल संसाधन और जलवायु परिवर्तन प्रभावों में विशेषज्ञता के साथ आप्लाइड हाइड्रोलॉजी में 30 वर्षों से अधिक का अनुभव है। एनआईएच और आईआईटी-रुड़की के साथ उनका कलैबरेशन वर्ष 1995 से शुरू हुआ। विभिन्न जिम्मेदारियां निभाने के साथ-साथ, डॉ. ग्वेन वॉटर रिसोर्स पैनल के मेंबर और इंटीग्रेटेड ड्राउट मैनेजमेंट प्रोग्राम के एडवाइजरी कमिटी मेंबर भी हैं। इस अवसर पर आईआईटी रुड़की के निदेशक प्रो. अजीत के चतुर्वेदी ने कहा, “पानी हमारे ग्रह के लिए एक अनिवार्य संसाधन है। स्वच्छ जल तक पहुंच का अभाव भारत के लिए एक विकट चुनौती है। पानी का समुचित प्रबंधन पर्यावरणीय स्थिरता के लिए अत्यावश्यक है। इस ग्रह को आने वाली पीढ़ियों के लिए रहने योग्य बनाने के लिए एकेडमिक और रिसर्च इंस्टीट्यूशन को गहन शोध करना चाहिए।“ डॉ. सुधीर कुमार ने जलविज्ञान और जल के क्षेत्रों में एनआईएच के योगदान को विस्तार से बताया। इसके बाद आईआईटी रुड़की के जलविज्ञान विभाग के प्रमुख प्रो. एमके जैन, जल संसाधन विकास और प्रबंधन (डबल्यूडीएम) के प्रमुख प्रो. आशीष पांडे, आईआईटी रुड़की के सिविल इंजीनियरिंग विभाग के प्रो. जेड. अहमद, आईआईटी रुड़की के डिजाइन इनोवेशन सेंटर के प्रो. एसके. मौर्या और एचआरईडी के प्रमुख प्रो. एसके सिंगल ने जल से संबंधित अनुसंधान और विकास गतिविधियां और संबंधित विभागों की पहल के बारे में बताया। कार्यक्रम का संचालन प्रो. एसके सिंगल के दिशा-निर्देशन में एचआरईडी की प्रो. सोनल के. थेंगाने ने किया।

Monday, 8 March 2021

नारी सशक्तिकरण से ही समाज को उन्नत दिशा प्रदान होगी

हरिद्वार, गढ़़ संवेदना । प्रेस क्लब भवन हरिद्वार में भारतीय संस्कृति फाउंडेशन,स्वास्तिक संकल्प संस्था व अखिल भारतीय ब्राह्मण एकता परिषद उत्तराखंड के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित किया। कार्यक्रम का शुभारम्भ भारतीय संस्कृति फाउंडेशन के कलाकारों द्वारा मां सरस्वती की वन्दना एवं दीप प्रज्ज्वलन के साथ हुआ। इस मौके पर अतिथियों द्वारा सामाजिक सेवा, योग, शिक्षा, सहित विभिन्न क्षेत्रों में विशेष संघर्षशील महिलाओं को प्रशस्ति पत्र एवं उपहार देकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सुनील पाराशर क्रियेटिव फिल्म डायरेक्टर/सीनियर जर्नलिस्ट दिल्ली ने महिला सशक्तिकरण पर जोर देते हुए कहा कि आज अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के दिन महिलाओं के नेतृत्व को एक पहचान और सम्मान देने का वक्त है, महिलाओं नें वैश्विक पटल तक अपना वर्चस्व स्थापित कर लिया है, जो आज संपूर्ण समाज के लिए आदर्श स्थापित करता है। शिक्षा के क्षेत्र में निरंतर कार्यरत लीना सुमित सचदेवा ने कहा कि महिलाएं ही समाज का दर्पण है, महिलाओं से ही घर परिवार में संस्कार व शिक्षा का आरंभ होता है, इसीलिए माता को मनुष्य का प्रथम गुरु कहा गया है। स्वास्तिक संकल्प संस्था के अध्यक्ष चेतन चौबे ने कहा की नारी शक्ति का वर्णन शास्त्रों में भी देवी स्वरूप में किया गया है, वर्तमान युग में भी नारी सशक्तिकरण से ही समाज को उन्नत दिशा प्रदान होगी। सिडकुल एसोसियेशन के अध्यक्ष अरूण सारस्वत ने कहा कि बीते वर्ष वैश्विक संक्रामक महामारी कोविड-19 के कहर से पूरी दुनिया प्रभावित हुई है। इस महामारी के दौर में महिलाओं ने भी कोरोना योद्धा के रूप में अग्रिम पंक्ति में खड़े रहकर मानवीय सेवा की मिसाल भी पेश की है। अनीता वशिष्ट,डॉ. सोनू राउत, श्रीमती अंशु गौतम, मुक्ता मुखर्जी, प्रकाश राठौर ने भी सम्बोधित किया। कार्यक्रम आयोजक मानवी वशिष्ठ, पं. मनोज गौतम, पं. बालकृष्ण शास्त्री ने उपस्थित सभी अतिथियों का सम्मान पत्र एंव गंगाजल भेंट कर अभिनन्दन किया लाइफ केरी ऑन कि जनरल सेकेट्री मुमताज, चन्द्रशेखर जोशी, योगी रजनीश सहित नगर के गणमान्य जन उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन भारतीय संस्कृति फाउण्डेशन की अध्यक्षा मानवी वशिष्ट, परिषद के प्रदेश संयोजक पंडित बालकृष्ण शास्त्री एवं संयुक्त रूप से किया।

महिला दिवस पर पारंपरिक उत्तराखंडी परिधान प्रतियोगिता ‘उत्तराखंडी परिधान म्यर पहचाण’ आयोजित

देहरादून, गढ़ संवेदना न्यूज। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास विभाग द्वारा पारंपरिक उत्तराखंडी परिधान प्रतियोगिता उत्तराखंडी परिधान म्यर पहचाण का भव्य आयोजन होटल वाइसरॉय ग्रैंड जी0एम0एस0 रोड देहरादून में किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में मा0 विभागीय मंत्री जी द्वारा प्रतिभाग किया गया। सांस्कृतिक परिधानों एवं आभूषणों को समर्पित इस अनूठी प्रतियोगिता की तीन श्रेणियों क्रमशः नौनीध्चेली, सैणी तथा आमा में प्रदेश भर से 79 बालिकाओं एवं महिलाओं ने प्रतिभाग किया। कार्यक्रम की विशिष्टता यह रही कि मुख्य अतिथि महोदया द्वारा भी पारंपरिक कुमाउँनी परिधानों एवं आभूषणों को धारण कर कार्यक्रम में प्रतिभाग किया गया। बकौल मा0 मंत्री जी उत्तराखंडी परिधान की पहचान को बनाये रखने तथा उसकी विशिष्टता को अगली पीढ़ी तक पहुँचाने के लिए महिला दिवस पर विशेष रूप से इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया क्योंकि किसी भी समाज में महिलाएं संस्कृति की धुरी होती हैं जो खानपान, वेशभूषा, भाषा, लोककला आदि सांस्कृतिक तत्वों की मुख्य रक्षक, संवाहक एवं स्वयं प्रतिबिम्ब होती हैं। मा0 मंत्री जी ने कहा कि बीते कुछ दशकों में पारंपरिक परिधानों की उपेक्षा के कारण इनका उपयोग सांस्कृतिक मंचों तक सिमट कर रह गया था। किंतु पर्वतीय एवम मैदानी ग्रामीण अंचलों में महिलाओं द्वारा पहना जाने वाला परिधान एवं आभूषण आज भी उत्तराखंड के इतिहास एवं सांस्कृतिक वैविध्य को जीवित रखे हुए हैं। अतः हमारा कर्तव्य है कि उत्तराखंड के पारंपरिक गौरव एवं सांस्कृतिक विशिष्टता की पहचान इन परिधानों को पहनावे के रूप में न सिर्फ प्रोत्साहित किया जाना चाहिए बल्कि इनके संरक्षण के हर संभव प्रयास किये जाने चाहिए। कार्यक्रम में पदमश्री सम्मानित लोकध्जागर गायिका श्रीमती बसंती बिष्ट जी द्वारा जागर प्रस्तुति की गई। श्रीमती बसंती बिष्ट जी ने इस कार्यक्रम को महिलाओं के प्रति समर्पित यज्ञ की संज्ञा दी। नौनी, सैणी तथा आमा वर्ग की महिलाओं ने कुमाऊँनी, गढ़वाली, जौनसारी, उच्च पर्वतीय जनजातियों के परिधानों के अतिरिक्त उत्तराखंड में रहने वाले विभिन्न समुदायों द्वारा पहने जाने वाले परिधानों के साथ शिरकत की। रंगयाली पिछौड़ा, घाघरा, दगेली, रोंगपा परिधान, गढ़वाली गांति धोती, जौनसारी कोटि-घाघरे के अतिरिक्त बंगा, जिको, धागुली, पौंजी, गलोबन्द आदि विभिन्न आभूषणों में महिलाओं ने उत्तराखंड की पारंपरिक परिधानों को मंच पर जीवन्त किया। इस अवसर पर सचिव महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास श्री हरि चंद्र सेमवाल ने समस्त समाज को महिला दिवस की शुभकामनाएं देते हुए विभिन्न योजनाओं के माध्यम से महिला सशक्तिकरण के प्रति विभाग की प्रतिबद्धता का परिचय कराया। इस अवसर पर उपनिदेशक सतीश कुमार सिंह, कार्यक्रम अधिकारी भारती तिवारी, अखिलेश कुमार मिश्र, विक्रम सिंह, एस0के0 त्रिपाठी, मुकुल चैधरी एवं अन्य उपस्थित रहे। कार्यक्रम के संचालन में द वाइसरॉय ग्रैंड के मालिक अनिल गर्ग एवं वैभव गर्ग ने सहयोग प्रदान किया। प्रतियोगिता के विजेताओं की सूची संलग्न है।

महिला दिवस पर मोथरोवाला में महिलाओं ने अवैध गौशाला को बंद करने की मांग को लेकर दिया धरना

देहरादून। नगरनिगम देहरादून के वार्ड 85 मोथरोवाला में विष्णुपुरम लेन नंबर 1 के सी ब्लाॅक में अवैध रूप से संचालित की जा रही गौशाला/डेयरी के विरोध में प्रभावित महिलाओं ने महिला दिवस पर नगरनिगम के मोथरोवाला स्थित क्षेत्रीय कार्यालय में धरना-प्रदर्शन किया। प्रभावित महिलाओं का कहना था कि आवासीय कालोनी के बीच में संचालित हो रही इस अवैध गौशाला को शीघ्र बंद किया जाए या यहां से अन्यत्र शिफ्ट किया जाए। अवैध गौशाला को बंद किए जाने को लेकर नगरनिगम द्वारा की जा रही हीलाहवाली पर महिलाओं ने नगरनिगम के प्रति रोष व्यक्त किया। महिलाओं का कहना था कि कालोनी के बीच में अवैध रूप से संचालित हो रही गौशाला से निकलने वाली दुर्गंध के चलते उनको खासा दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। गर्मियों में यहां काफी मच्छर पैदा हो जाते हैं जिस कारण संक्रामक बीमारी फैलने का खतरा बना रहता है। सोमवार को प्रभावित लोग अवैध रूप से संचालित हो रही गौशाला के गेट पर एकत्रित हुए और वहां से जुलूस की शक्ल में प्रदर्शन करते हुए मोथरोवाला स्थित नगरनिगम के उपनगर आयुक्त कार्यालय पहुंचे। वहां पर प्रदर्शनकारी महिलाओं ने नारेबाजी करते हुए धरना दिया। इस दौरान एक ज्ञापन नगरनिगम के क्षेत्रीय अधिकारी को सौंपा गया। महिलाओं ने अवैध रूप से संचालित की जा रही गौशाला को शीघ्र बंद किए जाने की मांग को लेकर धरना स्थल पर जमकर नारेबाजी की। उनका कहना था कि गौशाला स्वामी द्वारा आवासीय कालोनी में अवैध रूप से गौशाला/डेयरी संचालन की शिकायत कई बार लिखित रूप में नगरनिगम के अधिकारियों से की जा चुकी है लेकिन नगरनिगम के अधिकारियों द्वारा अभी तक इस गौशाला को बंद करवाने की दिशा में कोई कार्रवाई नहीं की गई है, जिस कारण लोगों में रोष बढ़ता जा रहा है। प्रदर्शनकारी महिलाओं का कहना था कि गौशाला से निकलने वाली दुर्गंध के चलते वे अपनी घरों की खिड़कियां भी खुली नहीं रख सकती। गौशाला संचालक द्वारा उनके घरों की खिड़कियों के बाहर गोबर के ढेर लगा दिए जाते हैं और गौशाला से निकलने वाला पानी भी वहीं पर गड्ढे में जमा किया जाता है। प्रदर्शनकारियों का कहना था कि नगरनिगम को उनके स्वास्थ्य की कोई चिंता नहीं है। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि अवैध गौशाला से प्रभावित परिवारों का एक शिष्टमंडल गत 12 फरवरी को विष्णुपुरम जनकल्याण समिति के अध्यक्ष एस.एस. भिलंगवाल व सचिव सतीश चंद्र बौड़ाई के नेतृत्व में नगर आयुक्त से मिला था और उन्हें लोगों की पीड़ा से अवगत कराया था, इस दौरान नगर आयुक्त विनय शंकर पांडे ने अवैध रूप से संचालित हो रही गौशाला को तत्काल बंद करवाने का आश्वासन दिया था। उसके पश्चात नगरनिगम के वरिष्ठ पशु चिकित्सा अधिकारी द्वारा गौशाला स्वामी को एक नोटिस जारी किया गया था। इस नोटिस से ऐसा प्रतीत होता है कि नगरनिगम जनभावनाओं के विपरीत इस गौशाला को नगरनिगम में पंजीकृत करना चाहता है, जिस कारण उन्हें आंदोलन को बाध्य होना पड़ा है। धरना-प्रदर्शन सुंदर लाल लेखवार के नेतृत्व में किया गया। धरने में कुशलानंद उनियाल, प्रीति, मनोरमा, मधु, अंजना, सुमित्रा, बीना, अंजू, उमा, जुप्पा देवी समेत दर्जनों महिलाएं शामिल रहीं।

Sunday, 7 March 2021

ऋषिकेश में आयोजित 29वें अंतरराष्ट्रीय योग सप्ताह का हुआ समापन

-योग हमारी प्राचीन संस्कृति, जोकि हमें योग के माध्यम से ऊर्जा देने का कार्य करतीः बेबी रानी मौर्य देहरादून्/ऋषिकेश। उत्तराखण्ड पर्यटन विकास परिषद व गढ़वाल मण्डल विकास निगम के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित 29वें अंतरराष्ट्रीय योग महोत्सव के समापन कार्यक्रम में राज्यपाल बेबी रानी मौर्य, विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल, पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज, आयुष मंत्री डॉ हरक सिंह रावत, ऋषिकेश नगर निगम महापौर अनीता ममगांई ने शिरकत की। एक मार्च से आयोजित अंतरराष्ट्रीय योग सप्ताह के दौरान देश के जाने-माने योगचार्य द्वारा प्रशिक्षकों को योगासन सहित आश्रम से संबंधित प्रशिक्षण दिया गया। जिसमें 450 सौ से अधिक प्रशिक्षकों ने प्रतिभाग किया। योग सप्ताह के अंतिम दिन हरिद्वार संस्कृति विश्वविद्यालय के छात्रों द्वारा योग का प्रदर्शन भी किया। इस अवसर पर राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने कहा कि जिस प्रकार मां गंगा अपनी अभियंता को बहाकर शांति का संदेश दे रही है। उसी प्रकार इस योग नगरी से योग का प्रशिक्षण लेकर देश दुनिया में जाने वाले प्रशिक्षक योग की गंगा को योगी गंगा को बहाने का काम करेंगे। उन्होंने कहा कि योग हमारी प्राचीन संस्कृति है। जोकि हमें योग के माध्यम से ऊर्जा देने का कार्य करती है। उन्होंने पर्यटन विभाग व गढ़वाल मण्डल विकास निगम द्वारा आयोजित योग महोत्सव को सफलतापूर्वक पूरा करने पर बधाई दी। उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने इस अवसर पर कहा कि योग के प्रति प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूरी दुनिया को जागरूक किया है उसी प्रकार उत्तराखंड सरकार ने भी 21 जून को विधानसभा में सभी विधायकों से आग्रह किया कि वह नियमित रूप से योग करें। उन्होंने कहा करो योग रहो निरोग का संदेश आज पूरी दुनिया में फैला है। पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने कहा कि योग की शक्ति से हम देश को शक्तिशाली बना सकते हंै। मन की शक्ति से हम शरीर को शक्तिशाली बना सकते है। लोक शक्ति के कारण ही आज पूरे विश्व में योग को किया जा रहा है। जिस से प्रभावित होकर योग शक्ति को विदेशों में माना गया है। वन एवं आयुष मंत्री हरक सिंह रावत ने कहा कि 30 वर्ष पूर्व लगाए गए अंतरराष्ट्रीय योग सप्ताह का पौधा प्रफुल्लित हो रहा है। जिसे देख कर हम अपने आपको गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं। उत्तराखण्ड पर्यटन विकास परिषद के अपर निदेशक विवेक चैहान ने कहा कि पर्यटन विभाग द्वारा उत्तर प्रदेश के शासन काल से ही इस योग सप्ताह को मनाया जा रहा है। कोविड महामारी के दिशा निर्देशों का पालन करते हुए सभी प्रतिभागियों ने इस योग सप्ताह में भाग ले कर हमारा उत्साह बढाया है। इस अवसर पर गढ़वाल मण्डल विकास निगम के प्रबन्ध निदेशक, डाॅ0 आशीष चैहान, महाप्रबन्धक पर्यटन जितेन्द्र कुमार, महाप्रबन्धक प्रशासन अवधेष कुमार सिंह, महाप्रबन्धक वित अभिषेक कुमार आनन्द सहित अनेक अधिकारी कर्मचारी मौजूद रहे।

कोई भी विद्यालय शपथ पत्र के आधार पर प्रवेश नहीं लेगा

रुद्रपुर। मान्यता प्राप्त विद्यालय प्रबंधक संघ नगर इकाई रुद्रपुर की विजडम पब्लिक स्कूल में एक बैठक हुई जिस बैठक में निम्न बिंदुओं पर विचार विमर्श करते करते हुए सहमति बनी। वार्षिक परीक्षा का आयोजन सभी विद्यालयों में एक तिथि एक समय पर सम्पन होगा। कोई भी विद्यालय शपथ पत्र के आधार पर प्रवेश नहीं लेगा प्रवेश के समय छात्र-छात्राओं की टी.सी. अनिवार्य होगी। सभी छात्र छात्राओं को वर्तमान सत्र एवं वर्तमान कक्षा की फीस जमा करनी होगी फीस जमा नहीं होने पर छात्र छात्राओं को परीक्षा में बैठने का मौका नहीं दिया जाएगा। राम प्रकाश गुप्ता ने कहा नया सत्र 1 जुलाई 2021 से प्रारंभ होगा एवं प्रत्येक छात्र छात्राओं को फीस जमा करनी पड़ेगी।उसके पश्चात नगर इकाई के सदस्यों को सदस्यता प्रमाण पत्र वितरित किया गया। बैठक में जिला महामंत्री सत्य प्रकाश चैहान जिला कोषाध्यक्ष गोपाल सिंह पटवाल जिला मीडिया प्रभारी अक्षय गहलोत जिला मंत्री हेमलाल अधिकारी नगर अध्यक्ष देवाशीष मंडल नगर महामंत्री संजय कुमार पाल सेक्टर इंचार्ज भूपेंद्र चैहान सुमित राय अनंत रामपाल मुकेश चंद दिनेश दीपक दिलीप अधिकारी इंद्रजीत पाल शमा परवीन, संदीपनी सरकार परिमल राय भीष्म देव जयसवाल इत्यादि लोग उपस्थित थे।

स्पीकर ने महिला विधायकों को सम्मानित किया

देहरादून। विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद अग्रवाल ने अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की पूर्व संध्या के अवसर पर यम्केश्वर विधायक ऋतु खंडूडी भूषण, भगवानपुर विधायक ममता राकेश, गंगोलीहाट विधायक मीना गंगोला को महिला दिवस की शुभकामनाएं देते हुए पुष्प गुच्छ भेंट किया। इस अवसर पर श्री अग्रवाल ने कहा है कि महिलाओं ने समाज में अपने प्रतिभा के बल पर मुकाम हासिल किया है। शिष्टाचार भेंट के दौरान विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद अग्रवाल ने कहा महिला और पुरुष समाज के दो पहिए हैं और समानांतर गति में आगे बढ़ते हैं। उन्होंने कहा है कि किसी भी परिवार, समाज व देश का विकास महिलाओं के सहयोग के बिना पूर्ण नहीं हो सकता। श्री अग्रवाल ने कहा है कि उत्तराखंड राज्य के निर्माण में महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका रही है और अब इस राज्य को सवारने में भी उत्तराखंड प्रदेश की महिलाएं अपनी महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन कर रही है । श्री अग्रवाल ने कहा है कि जिस प्रकार से विभिन्न विधानसभा क्षेत्रो से चुनकर आई महिलाएं सदन के अंदर प्रदेश के विकास के लिए अपना पक्ष रखती है वह काबिले तारीफ है उन्होंने तीनों ही महिला विधायकों को सदन मे महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए शुभकामनाएं दी। अंत में भेंटवार्ता के दौरान श्री अग्रवाल ने अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर सक्षम महिला व निर्भर महिला के आधार पर समाज को सक्षम बनाने की बात कही।

देहरादून में महिला बाइकर्स ने निकाली रैली

-बाइकरस ग्रुप रिबेल ने महिला राइडर्स का किया सम्मान देहरादून। पटेलनगर स्थित एक वेडिंग प्वाइंट में रिबेल ग्रुप द्वारा रॉयल इनफील्ड चलाकर देशभर में भ्रमण करने वाली अपनी मेंबर्स अनामिका वर्मा, शैली बालियान, ऋषिका शर्मा, आभा मेसी आदि का स्मृति चिन्ह देकर अभिनंदन किया गया ग्रुप अध्यक्ष ऋतुराज चतुर्वेदी के अनुसार यह महिलाएं समाज में महिलाओं में आत्मविश्वास जगाने के साथ ही महिला सशक्तिकरण हेतु लगातार प्रयासरत रहती हैं और रक्तदान जैसे सामाजिक कार्यों मैं भी अपनी भागीदारी सुनिश्चित कर सभी चुनौतियों का सामना करती है। कार्यक्रम मैं सामाजिक, राजनीतिक एवं पत्रकारिता क्षेत्र से जुड़े राजीव उनियाल ,नेहा शर्मा, प्रगति पंचोली, रेनू सकलानी, एडवोकेट लता राणा, डॉक्टर विमल पैन्यूली ,भूपेंद्र ठाकुर, नीता बालियान, कोमल आहूजा ने भी महिला सशक्तिकरण को लेकर अपने विचार रखे एवं रिबेल ग्रुप द्वारा कोरोना काल में किए गए गंभीर रोगियों को रक्तदान, मास्क, सैनिटाइजर, खाद्यान्न एवं भोजन वितरण जैसे सेवा कार्यों के लिए ग्रुप का साधुवाद व धन्यवाद किया। कार्यक्रम से पूर्व महिला राइडर्स ने बल्लूपुर चैक से घंटाघर, दिलाराम चैक, प्रिंस चैक, सहारनपुर चैक, निरंजनपुर होते हुए मनभावन वेडिंग प्वाइंट पटेल नगर तक बाइक रैली निकाली द्यरैली को सिद्धार्थ आहूजा झंडी दिखाकर रवाना किया। अभिनंदन कार्यक्रम में हर्षित चैहान, निशांत शर्मा, डॉ श्रीकांत विक्रांत राणा, शुभम सेनवाल, विक्रमजीत मान सहित दर्जनों रिबेल ग्रुप सदस्य उपस्थित रहे।

सीएम त्रिवेंद्र ने जिलाध्यक्षों के साथ की बैठक

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भराड़ीसैंण गैरसैंण में प्रदेश के सभी जिलाध्यक्षों के साथ बैठक की। उन्होंने कहा कि 18 मार्च को राज्य सरकार के 4 साल पूर्ण हो रहे हैं। प्रदेश का राज्य स्तरीय कार्यक्रम विधानसभा क्षेत्र डोईवाला के लच्छीवाला में आयोजित होगा। केंद्रीय राष्ट्रीय राजमार्ग व भू तल परिवहन मंत्री श्री नितिन गडकरी जी कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि शामिल होंगे। सभी विधानसभाओं में भी एक साथ यह कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा अनेक महत्वपूर्ण जनकल्याणकारी योजनाएं चलाई जा रही हैं। प्रचार-प्रसार हेतु जिला स्तर पर पार्टी कार्यकर्ताओं का सहयोग लिया जाए। इस बार के बजट में महिला एवं युवक मंगल दलों, नई पंचायत, स्कूली बच्चों को बैग एवं जूते देने के लिए बजट का प्राविधान किया गया है। राज्य सरकार द्वारा अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना, ग्रामीण क्षेत्रों में मात्र घ्1 में पानी का कनेक्शन देने, आंगनबाड़ी केंद्रों में बच्चों को हफ्ते में 4 दिन दूध व एक एक दिन अंडा एवं केला दिया जा रहा है। रिवर्स पलायन पर राज्य सरकार का विशेष प्रयास है। ग्रामीण आर्थिकी को कैसे बढ़ाया जा सकता है इस पर सबको मिलकर ध्यान देना होगा। राज्य की महिलाओं को पति की संपत्ति में सह खातेदारी का अधिकार दिया गया है। इसके आने वाले समय में काफी सकारात्मक परिणाम आएंगे। महिलाओं के सिर से घास का बोझ हटाने के लिए राज्य में मुख्यमंत्री घस्यारी योजना लाई जा रही है। इस योजना के सफल क्रियान्वयन के लिए मिलकर प्रयास करने होंगे। बैठक में पार्टी एवं संगठन की आगे की रणनीति पर चर्चा की गई। पार्टी व संगठन को मजबूती से आगे ले जाने के लिए बूथ लेबल से मजबूती बनाने के लिए योजना बनाई गई। जिला अध्यक्षों द्वारा बताया गया कि कुछ पार्टी कार्यकर्ताओं द्वारा व्हाट्सएप ग्रुप पर निराधार बातें लिखी जा रही है। बैठक में कहा गया कि निराधार बातें लिखने वालों पर सख्त रवैया अपनाया जाए। इस अवसर पर उच्च शिक्षा मंत्री डॉक्टर धन सिंह रावत, प्रदेश महामंत्री भाजपा कुलदीप कुमार, देहरादून के महानगर अध्यक्ष सीताराम भट्ट, देहरादून जिला अध्यक्ष शमशेर सिंह पुंडीर, हरिद्वार से डॉक्टर जयपाल सिंह, उधम सिंह नगर से शिव अरोड़ा, अल्मोड़ा से रवि रौतेला, पिथौरागढ़ से वीरेंद्र वल्दिया, चंपावत से दीप चंद्र पाठक, बागेश्वर से शिव सिंह विष्ट, पौडी से संपत सिंह रावत, उत्तरकाशी से रमेश चैहान, चमोली से रघुवीर सिंह बिष्ट, रुद्रप्रयाग से दिनेश उनियाल तथा टिहरी से विनोद रतूड़ी मौजूद रहे।

महिलाओं को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया

देहरादून। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर असहाय जन कल्याण समिति के तत्वाधान में रीठा मंडी, देहरादून में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने दीप प्रज्वलित कर किया। महिला वित्तीय सशक्तिकरण पर आधारित कार्यक्रम के दौरान उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने विभिन्न क्षेत्रों में अपना महत्वपूर्ण योगदान देने वाली महिलाओं को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने कोरोना काल में समाज के लिए अपनी सेवाएं देने वाले कोरोना योद्धाओं को भी सम्मानित किया। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि हमारे प्रदेश एवं देश की महिलाएं आज हर क्षेत्र में पुरूषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम कर अपनी ताकत का अहसास करवा रही है। वर्तमान दौर में महिलाओं ने अपनी ताकत को पहचान लिया है और काफी हद तक अपने अधिकारों के लिए लड़ना भी सीख लिया है।आजादी के आंदोलन से लेकर उत्तराखंड राज्य के आंदोलन में इस प्रदेश की महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका रही है।महिला शक्ति के बिना मानव जाति की कल्पना करना असंभव है। विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि महिलाओं का वास्तविक सशक्तिकरण तभी होगा जबकि वे उन्हें प्राप्त अधिकारों का लाभ उठा पाएं और साथ ही आर्थिक रूप से सशक्त हों।महिला सशक्तिकरण के लिये केंद्र एवं प्रदेश सरकार द्वारा अनेकों व्यवसायिक एवं घरेलू उद्योग के माध्यम से महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाए जाने की दिशा में योजनाएं लागू की गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा महिला सशक्तिकरण एवं महिलाओं को आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाए जाने पर विशेष रुप से जोर दिया जाता रहा है। इस अवसर पर समिति के अध्यक्ष बलवीर नौटियाल, कोषाध्यक्ष उर्मिला शर्मा, सूर्यकांत शर्मा, महासचिव राखी अग्रवाल, भाजपा के प्रदेश समिति के सदस्य सचिन गुप्ता, सेवा सिंह माठर, संजय अग्रवाल, अखिलेश अग्रवाल, मनोज खंडेलवाल, राजकुमारी चैहान, डॉ ओपी गुप्ता, पानो देवी सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

देहरादून में आयोजित-उत्तराखंड शो के लिए ट्रैवलएक्सप लॉन्च इवेंट

देहरादून। ट्रैवलएक्सप एक भारतीय ग्लोबल ट्रैवल टीवी चैनल ने नवीनतम यात्रा शो, “ट्रैवल डायरीज-हीलर और रोहन के साथ” 2-दिवसीय कार्यक्रम आयोजित किया। इस सन्दर्भ में पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री द्वारा देहरादून में ट्रैवलएक्सप के साथ एक प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया गया, जिसकी अध्यक्षता नरेश बंसल राज्यसभा सांसद ने की। इस शो को महामारी के बाद शूट किया गया जो अब 50 से भी अधिक देशों में, 16 से अधिक भाषाओं में, 120घ् $ मिलियन घरों में प्रसारित किया जा रहा है। ये शो भारत का पहला ऐसा ट्रैवल शो है जिसके प्रमुख भूमिका में एक प्यारा समझदार कुत्ता है। शो के बारे में बात करते हुए, शो के निर्देशक रोहन पटोले ने उत्तराखंड में हुए शूटिंग के बारे में अपने कुछ अनुभव साझा किए। उन्होंने कहा उत्तराखंड केवल अपने पर्यटक स्थल और प्राकृतिक सुंदरता की वजह से नहीं जाना जाता, बल्कि यहाँ के लोगों की खातिरदारी की वजह से जाना जाता है। हमने इस शो में उत्तराखंड के 10 से अधिक जिलों को शामिल किया है और लोगों का अपनापन, प्यार और समर्थन की वजह से ही ये शो सफल हो पाया है। रोहन ने आगे बताया कि पहली बार एक पालतू जानवर के साथ शूटिंग करना एक अनूठा अनुभव था, और यह निश्चित रूप से यह लोगों के लिए भी अलग होगा और उनको हमरे को खूबसूरत अनुभवों से रूबरू करा कर उत्तराखंड को और भी खास बनाएगा। ट्रेवलएक्सप के डिजिटल एंड स्पेशल प्रोजेक्ट्स के निदेशक तनय चैठानी ने कहा कि महामारी के बाद उत्तराखंड के पुनर्निर्माण में ट्रैवलएक्सप अपनी भूमिका निभाएगा। अब ट्रैवलएक्सप दुनिया में 50घ् से भी अधिक देशों में देखा जा सकता है जिससे उत्तराखंड पर्यटन को कोविड के बाद बड़ा बढ़ावा मिलेगा।उन्होंने आगे कहा हम 2025 तक पर्यटकों के लिए उत्तराखंड को भारत के शीर्ष 3 स्थलों में से एक बनाने का लक्ष्य रख रहे हैं और हम उत्तराखंड पर्यटन के सतत विकास के लिए प्रतिबद्ध हैं। ” इस समारोह में अपनी विशेष उपस्थिति के साथ नरेश बंसल, राज्यसभा सांसद मौजूद थे। उन्होंने कहा “यह शो उत्तराखंड सरकार के 13 जिलों,13 स्थलों के 2030 के लक्ष्य को बढ़ावा देने और प्राप्त करने में बहुत मदद करेगा। सरकार की प्रो टूरिज्म नीतियां, ट्रैवलएक्सप जैसे निजी साझेदारों और पीएचडी जैसे संघों के साथ-साथ यह सुनिश्चित करेंगी कि उत्तराखंड पर्यटन हमारे लक्ष्य के प्रति निरंतर और तेजी से बढ़ रहा है। प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन भारत के सबसे पुराने और प्रमुख शीर्ष उद्योग निकाय में से एक पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री की साझेदारी में किया गया था। कालरा, अध्यक्ष-पीएचडी उत्तराखंड ने कहा ट्रैवल एक्सपी जैसे निजी भागीदारों ने सरकारी प्रयासों को बढ़ाने और उत्तराखंड को वैश्विक सुर्खियों में लाने के लिए एक बहुत महत्वपूर्ण काम किया है। तनेजा, पीएचडीसीसीआई उत्तराखंड के क्षेत्रीय निदेशक ने राज्य पर्यटन संवर्धन में ट्रैवलएक्सप के साथ लंबे जुड़ाव के बारे में बात की, जिसमें हिमालयन टूरिज्म सम्मान, राज्य के पर्यटन नीति में प्रावधान के अनुसार अनुसंधान आधारित इनाम और मान्यता कार्यक्रम शामिल है, जो वार्षिक कार्यक्रम है, 2018 में पीएचडीसीसीआई द्वारा स्थापित किया गया था। दूसरे दिन के कार्यक्रम पर, ट्रैवलएक्सप ने उत्तराखंड के सभी पर्यटन और यात्रा उद्योग के गणमान्य व्यक्तियों के लिए एक कार्यक्रम आयोजित किया। आयोजित कार्यक्रम में प्रवीण जोशी, पूर्व उत्तराखंड सीएम के ओएसडी, हेमंत कोचर अध्यक्ष पीएचडी टूरिज्म एसोसिएशन और कुछ अन्य गणमान्य व्यक्ति भी शामिल थे। यह शो शुक्रवार-रविवार से 19ः30 पीएम आईएसटी पर प्रसारित किया जाएगा, और सभी प्रमुख अग्रणी केबल और डीटीएच ऑपरेटरों पर देखा जा सकता है।

सर्व महिला शक्ति समिति ने करवाई जरूरतमंद की शादी

देहरादून। सर्व महिला शक्ति समिति की ओर से एक जरूरतमंद कन्या का विवाह संपन्न करवाया गया। संस्था की अध्यक्ष शिवानी कौशिक द्वारा कन्यादान करवाया गया। सर्व महिला शक्ति की ओर से आज एक निर्धन कन्या का विवाह गडी डाकरा में सम्पन्न करवाया गया। इस मौके पर अध्यक्ष शिवानी कौशिक ने कहा कि संस्था हर वर्ष दो निर्धन कन्याओं का विवाह करवाती हैं। इस मौके पर रश्मि रौतेला, ममता गर्ग, नीलम बिष्ट, गरिमा जोशी, निर्मल मल्ल, सुमन उपाध्याय, नीलू जोशी, अर्चना, आरती शर्मा, प्रिया गुलाटी आदि मौजूद थे।

महिला दिवस की पूर्व संध्या पर मातृशक्ति को सम्मानित किया गया

देहरादून। भारतीय जनता पार्टी अमर शहीद दुर्गामल्ल मण्डल की महिला मोर्चा पदाधिकारियों द्वारा अर्न्तराष्ट्रीय महिला दिवस के एक दिवस पूर्व जोहड़ी गांव में सम्मान समारोह कार्यक्रम का आयोजन किया गया, जिसमें मुख्य अतिथि के तौर पर राज्यमंत्री रजनी कुकरेती एवं विशिष्ट अतिथि नेहा जोशी उपस्थित रहीं। रविवार को अर्न्तराष्ट्रीय महिला दिवस की एक दिवस पूर्व देहरादून के जोहड़ी गांव में आयोजित सम्मान समारोह में कार्यक्रम की शुरुआत दीप प्रज्वलन से हुई, जिसके बाद महिलाओं द्वारा महिला सशक्तिकरण पर सुंदर समूह गान प्रस्तुत किया। उत्तराखण्ड भाषा संस्थान की उपाध्यक्ष राज्यमंत्री रजनी कुकरेती ने कहा कि महिला सम्मान का यह पर्व अपने आप में एक शक्ति पर्व है। विशिष्ट अतिथि एवं भाजयुमो की राष्ट्रीय सह मीडिया प्रभारी नेहा जोशी ने भी कार्यक्रम को सम्बोधित किया और महिलाओं के उत्थान की बात रखी। सामाजिक संस्था हिमवैली फाउंडेशन की अध्यक्ष अनीता नौटियाल ने महिलाओं को पर्सनल हाइजीन के विषय में जानकारी एवं रिवर्सिबल सैनिटरी नैपकिंस के विषय में बताया। कार्यक्रम में 26 आशा कार्यकत्रियों सहित ग्राम प्रधान मीनू क्षेत्री, अनिता नौटियाल, डा0 मंजूसा चैरखिया, राधा देवी, राजेन्द्र कौर सौंधी, विमला देवी, विनीता शर्मा सहित कई अन्य मातृशक्ति को सम्मानित किया गया। इस अवसर पर मसूरी विधायक गणेश जोशी, महिला मोर्चा मण्डल अध्यक्ष ज्योति कोटिया, महामंत्री संध्या क्षेत्री, भाजपा मण्डल अध्यक्ष राजीव गुरुंग, कार्यक्रम संयोजक अनिता शास्त्री, जिला मंत्री संध्या थापा सहित सैकड़ों की संख्या में महिलाएं उपस्थित रही।

कैग रिपोर्ट का संज्ञान ले खनन राजस्व वसूली की कार्रवाई करें सरकारः मोर्चा

विकासनगर। जन संघर्ष मोर्चा अध्यक्ष एवं जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने कहा कि कैग (नियंत्रक एवं महालेखा परीक्ष की रिपोर्ट ने जिस तरह से प्रदेश के विभिन्न विभागों में काम करने वाले ठेकेदारों द्वारा खनिज चोरी यानि विभागों में बिना रवन्ना जमा कराए सरकार को लगभग 237 करोड रुपए का चूना लगाने का खुलासा किया है, ये कृत्य अधिकारियों, ठेकेदारों, माफियाओं की सांठगांठ का जीता जागता उदाहरण है, जिसकी रिकवरी के लिए सरकार को अधिकारियों की नकेल कसनी चाहिए। नेगी ने कहा कि पूर्ववर्ती सरकारों के समय एक ऐसे ही लगभग 4000 करोड के उप खनिज चोरी के मामले में मोर्चा के जिला मीडिया प्रभारी प्रवीण शर्मा पिन्नी द्वारा मा. सूचना आयोग से कई बार इन माफियाओं के खिलाफ कार्रवाई कराने को लेकर लड़ाई लड़ी, जिस पर कार्रवाई करते हुए वर्ष 2017 एवं 2019 में मा. सूचना आयुक्त ने शासन को निर्देश दिए थे तथा एक बार स्वयं मोर्चा अध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी की मांग पर मा .सूचना आयोग ने वर्ष 2015 में भी कार्रवाई के निर्देश दिए थे ,लेकिन आज तक कोई कार्रवाई नहीं हो पाई। शासन प्रशासन की धींगा मस्ती मिलीभगत के कारण सरकार को उक्त घोटाले से मिलने वाले लगभग घ्500 करोड़ राजस्व की रिकवरी मामले में कार्रवाई नहीं हो पाई द्य नेगी ने दुख जताते हुए कहा कि सरकार चाहे कोई भी रही हो, खनन माफियाओं पर कार्रवाई के मामले में उनको सांप सूंघ जाता है, जिस कारण सरकार को करोड़ों रुपए राजस्व की हानि होती हैै। मोर्चा सरकार से मांग करता है कि कैग रिपोर्ट के आधार पर शीघ्र राजस्व वसूली एवं 4000 करोड रुपए के खनन घोटाले की शीघ्र जांच कराएं। पत्रकार वार्ता में दिलबाग सिंह, सुशील भारद्वाज आदि थे।

अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस की शुभकामनायें दीं

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस की शुभकामनायें देते हुए कहा कि महिला शक्ति राष्ट्र शक्ति है, अनादिकाल से महिलाओं की शक्ति के रूप में पूजा व अर्चना की जाती रही है, महिला समाज की मार्ग दर्शक के साथ ही प्रेरणा का स्त्रोत भी है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि 8 मार्च दुनिया का इतिहास मे बेहद खास दिन है। यह दिन दुनिया की आधी आबादी के नाम समर्पित है। यह दिन समाज के उस बडे हिस्से के लिए महत्वपूर्ण है जिसके बिना संसार की कल्पना अधूरी रह जाती है। उन्होने कहा कि नारी को हमारे शास्त्रों मे देवतुल्य स्थान मिला है। इसलिए कहा गया है कि यत्र नार्यस्तु पूज्यंते, रमंते तत्र देवता यानि जहां नारियों की पूजा होती है वहां देवताओ का वास होता है। उन्होने कहा कि महिला उत्थान के लिए हमें भी कुछ रूढियों असमानताओं और अन्ध विश्वासों का विनाश करना होगा। हमें महिलाओ के बेहतर भविष्य के लिए उनका वर्तमान संवारना होगा, इसलिए बेटियों की सुरक्षा, शिक्षा, समृद्वि और सशक्तिकरण के लिए हमें अभी से कदम उठाने होगे। उन्होंने कहा कि हमारा प्रदेश तीलू रौतेली, रामी बौराणी, गौरा देवी का प्रदेश है। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि हमारी सरकार महिला सशक्तिकरण के लिए कृत संकल्प है। उन्होंने कहा कि हाल ही में सरकार ने महिलाओं को पति की पैतृक संपत्ति में सहखातेदार का अधिकार दिया है। इससे महिलाओं को स्वरोजगार के लिए बैंक से लोन मिल सकेगा और वे स्वावलंबी बन सकेंगी। उन्होंने कहा कि महिला सशक्तिकरण के लिए हमें महिलाओं को समान अधिकार और समान अवसर देने होंगे। हमारी सरकार द्वारा महिलाओं को आर्थिक, मानसिक के साथ ही शारीरिक दृष्टि से भी सशक्त बनाया जा रहा है। उनके सम्मान में कोई कसर बाकी नहीं रखी जायेगी। बहनों को सशक्त करने के लिये हम महिला स्वयं सहायता समूहों को 5 लाख रूपये तक का ऋण बिना ब्याज के दे रहे हैं। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि महिलाओं के कल्याण हेतु मुख्यमंत्री घस्यारी योजना लाई जा रही है। जिसमें महिलाओं को अब जंगल से सिर पर गठरी लाने से छुटकारा मिल जायेगा। उन्होंने कहा कि इस योजना से महिलाओं के आर्थिक व सामजिक स्तर में सुधार आयेगा। घस्यारी योजना न सिर्फ मातृशक्ति के सिर से घास का बोझ हटाने में कामयाब होगी बल्कि इससे जंगल जाते वक्त महिलाओं के साथ होने वाली दुर्घटनाओं में भी कमी आएगी। इस तरह से ये योजना महिला सुरक्षा की दृष्टि से भी अहम साबित होगी। उत्तराखण्ड के पर्वतीय क्षेत्रों में महिलाओ का जीवन काफी कठिन एवं सघर्षशील है। जो वक्त घास लाने में लगता था, महिलाएं उस वक्त का सदुपयोग अपनी आय बढ़ाने के अन्य कार्यों में लगा सकती हैं। इस तरह घस्यारी कल्याण योजना महिला सुरक्षा के साथ-साथ महिला सशक्तीकरण की राह भी प्रशस्त करेगी।

मात्र नेतृत्व परिवर्तन से भाजपा के किये हुए कुकृत्य या पाप धुलने वाले नहींः प्रीतम सिंह

देहरादून। भराड़ीसैंण बजट सत्र से लौटने के उपरान्त रविवार को उत्तराखण्ड प्रदेश कंाग्रेस मुख्यालय में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने प्रेस से मुखतिब होते हुए कहा कि विपक्ष ने सदन के भीतर जनहित के सभी मुद्दों को बहुत मजबूती के साथ उठाया। फिर चाहे महंगाई का मुद्दा हो, बेरोजगारी का, किसानों का, घाट पर मातृशक्ति पर लाठी चार्ज का, आपदा प्रबन्धन का या फिर गन्ना किसानों का सभी मुद्दों पर विपक्ष ने सरकार को घेरने का प्रयास किया। प्रीतम सिंह ने कहा कि सरकार का सदन के अन्दर प्रदर्शन देखकर इस बात का अंदाजा हो गया था कि सरकार में सबकुछ ठीक-ठाक नहीं चल रहा है और उसकी पुष्टि शनिवार को देहरादून में सियासी भूचाल से हो गई। सदन में कोई भी मंत्री प्रश्नकाल के दौरान विपक्ष के सवालों का जवाब नहीं दे पाया तथा हर मुद्दे पर या तो हास्यास्पद जवाब देते हुए नजर आये या घिरते हुए। प्रीतम सिंह ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि बजट जैसे गम्भीर मुद्दे पर भी जिस तरह से त्रिवेन्द्र रावत और उनके ज्यादातर विधायक भराड़ीसैंण के सत्र को बीच में छोडकर आनन-फानन में हैलीकाॅप्टर से देहरादून तलब किये गये वह भाजपा में आये बडे तूफान की ओर इशारा करता है। प्रीतम ंिसह ने पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि अब तक सिर्फ विपक्ष इनके चार साल के कार्यकाल को निष्क्रिय एवं पूर्ण रूप से असफल बता रहा था लेकिन आज उस बात पर सत्ताधारी दल के विधायकों ने भी मुहर लगा दी। नेतृत्व परिवर्तन के सवाल पर प्रीतम सिंह ने कहा कि यह भाजपा का अंदरूनी मामला है लेकिन मात्र नेतृत्व परिवर्तन से भाजपा के किये हुए कुकृत्य या पाप धुलने वाले नहीं हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा ने उत्तराखण्ड की जनता का अपमान किया है। जिस भोली-भाली जनता ने भाजपा को प्रचण्ड बहुमत एवं डबल इंजन वाली सरकार दी भाजपा ने कदम-कदम पर उस जनता को निराश किया। आज बेरोजगारी के चलते चाहे प्रदेश का हताश व निराश युवा वर्ग हो, चाहे महिलाओं के प्रति बढते हुए अपराध हों, चाहे किसानों की आत्महत्या हो, जन विरोधी जिला विकास प्राधिकरणों का गठन हो, भू-कानून में बदलाव कर भू माफियाओं को संरक्षण का मामला हो, जनभावनाओं के विरूद्ध देवस्थानम बार्ड का गठन हो, बढती हुई मंहगाई हो या कोरोना काल में सरकार की निष्क्रियता व लचर स्वास्थ्य सेवायें हो या फिर आबकारी में घर-घर तक शराब पहुंचाने का मामला हो अथवा कुम्भ जैसे महापर्व में भ्रष्टाचार व अपमान का मामला हो। यह सारे वे छाले हैं जो उत्तराखण्ड की जनता के मन में गहरे घाव किये हुए हैं जिन्हें भाजपा मात्र नेतृत्व परिवर्तन से नहीं भर पायेगी। प्रीतम सिंह ने सरकार द्वारा गैरसैण में आयोजित 10 दिन के बजट सत्र को मात्र 6 दिन में निपटाकर आ गये इससे एक बात साफ हो गई है कि भाजपा सरकार का मन गैरसैण में नहीं लगता तथा सरकार के पास विधायकों के क्षेत्र की समस्यायें सुनने का वक्त नहीं है और वह आपसी कलह निपटाने में पूरे चार साल व्यतीत कर गई। प्रीतम सिंह ने सरकार पर तंज कसते हुए यह भी कहा कि भाजपा का ध्येय मात्र सत्ता प्राप्ति ही रहता है और इसकी पुष्टि इस बात से हो जाती है कि सरकार का बजट सत्र को आधे में छोडकर देहरादून में केन्द्रीय पर्यवेक्षक के समक्ष शक्ति प्रदर्शन किया जाना है। प्रीतम सिंह ने यह भी कहा कि कांग्रेस पार्टी भाजपा सरकार की जन विरोधी नीतियों के खिलाफ दिनांक 14 मार्च, 2021 को श्रीनगर से जनाक्रोश रैली का आगाज करेगी तद्दोपरान्त 25 मार्च को हल्द्वानी, उत्तरकाशी, पिथौरागढ़, तथा इसी तरह चरणबद्ध तरीके से सरकार के खिलाफ मंहगाई, बेरोजगारी, किसानों की दुर्दशा, महिलाओं का उत्पीड़न तथा विभिन्न जनपदों के स्थानीय मुद्दों को लेकर हल्ला बोल करेगी।

Monday, 1 March 2021

दून हाट में आप कर सकते हैं मनपसंद चीजों की खरीददारी

देहरादून, गढ़ संवेदना न्यूज। उत्तराखंड हथकरघा हस्तशिल्प विकास परिषद द्वारा प्रदेशवासियों को कोरोना काल के बाद एक बहुत ही अहम खुशखबरी दी जा रही है जिसके तहत आज से आईटी पार्क में दून हाट शुरु हुआ। दून हाट में अब आप एक ही जगह पर अपनी मनपसंद चीजों की खरीददारी कर सकेंगे। देहरादून के आईटी पार्क में आज से शुरू हुए इस हाट में उत्तराखंड के विभिन्न क्षेत्रों से आए उत्तराखंड के शिल्पी संस्थाओं एवं बुनकरों का सामान आपको बहुत ही उचित दर पर खरीदने को मिलेगा। इस हाट में शॉल, पंखी, रिंगाल के उत्पाद, मुंज घास के उत्पाद, ऊनी सामान, कालीन, जूट का सामान, ताम्र उत्पाद, घरेलू सामान तो आपको मिलेगा ही, इसके साथ ही अन्य राज्यों से आए शिल्पियों, बुनकरों एवं संस्थाओं के द्वारा भी प्रतिभाग किया जा रहा है, जिसमें उनकी खास कारीगरी की हुई साड़ियां, चादरें, दरियां, कालीन इत्यादि आप उचित दाम पर सकते हैं। इसके अलावा हाट में हैंडलूम, हैंडीक्राफ्ट के बने विशेष उत्पाद आपको अपनी और खींचने में मजबूर तो करंगे ही साथ ही हैदराबादी स्पेशल सूट साड़ी बागेश्वर के थुलमा, चुटका, कोटद्वार की मशहूर पेंटिंग, देहरादून की हिमाद्रि इम्पोरियमठ की मुंज घास एवं रिंगाल से बने उत्पाद ऐपण की पेंटिंग बनारस की साड़ियां नारी निकेतन और जेलों से बने कालीन सहित खाने पीने के सामानों की आप खरीददारी कर सकते हैं। मास्क, सैनिटाइजर और सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखा जा रहा है।

Featured Post

एसजेवीएन अध्यक्ष नंदलाल शर्मा ने सीएम धामी से की भेंट, उत्तराखंड में जल विद्युत परियोजनाओं के क्षेत्र में निवेश की इच्छा जताई

देहरादून, गढ़ संवेदना न्यूज। एसजेवीएन के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक नन्द लाल शर्मा ने उत्तराखंड में जल विद्युत परियोजनाओं के क्षेत्र में निवे...