Thursday, 20 January 2022

टिकट न मिलेन पर भाजपा नेताओं पर लगाया दगाबाजी का आरोप

देहरादून। उत्तराखंड विधानसभा चुनाव के लिए टिकट बंटवारे में भाजपा ने 10 नेताओं के टिकट काटे हैं। उनमें से कुछ ने बगावत कर दी है। कर्णप्रयाग विधानसभा से टिकट न मिलने पर भाजपा के वरिष्ठ नेता टीका प्रसाद मैखुरी ने पार्टी के विरोध में चुनाव लड़ने का ऐलान किया है। टिकटों के एलान के बाद उन्होंने सोशल मीडिया पर पोस्ट शेयर कर बगावत कर दी है। उन्होंने पार्टी पर दगाबाजी का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा है कि मेरे साथ पार्टी ने लगातार धोखा और अन्याय किया है। जिसका प्रतिशोध जनता और मेरे मन में है। मैंने हमेशा पार्टी को अपनी मां के समान समझकर काम किया है। कभी पार्टी से दगाबाजी नहीं की है, लेकिन जिन लोगों ने पार्टी के साथ दगाबाजी की और पार्टी का विरोध किया, उन्हें पार्टी ने आगे किया। वहीं भाजपा के वरिष्ठ नेता पूर्व दर्जाधारी जगवीर सिह भंडारी ने यमुनोत्री विधान सभा क्षेत्र से भाजपा के अधिकृत प्रत्याशी के खिलाफ चुनाव लड़ने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा है कि भाजपा में निष्ठावान और जमीन से जुडे़ हुए कार्याकर्ताओं की पहचान की कमी है। मेरे साथ हर बार धोखा किया जाता है। वह यमुनोत्री विधान सभा क्षेत्र से चुनाव लडे़ंगे। जगवीर भंडारी ने 2012 में यमुनोत्री विधान सभा क्षेत्र से भाजपा पार्टी से चुनाव लड़ा था, जिसमें इन्हें 12680 वोट मिले थे।

नशीले कैप्सूल के साथ एक गिरफ्तार

ऋषिकेश। रायवाला पुलिस ने एक युवक को 232 नशीले कैप्सूल के साथ गिरफ्तार किया है। उसके पास से बरामद बाइक सीज कर संबंधित धारा में केस दर्ज कर लिया है। पुलिस के मुताबिक पुलिस फ्लाईओवर छिद्दरवाला के पास गश्त पर थी। इसी बीच नेपाली फार्म की तरफ से आ रहे बाइक सवार युवक को चेकिंग के लिए रोका गया। लेकिन वह पुलिस देख बाइक पीछे मोड़कर वापस जाने लगा। युवक को बाइक सहित धर लिया गया। तलाशी लेने पर नशीले कैप्सूल बरामद हुए हैं। आरोपी की पहचान पवन कश्यप पुत्र रमेश कश्यप निवासी हनुमान मंदिर, छिद्दरवाला चौक के रूप में हुई है। थानाध्यक्ष भुवनचंद्र पुजारी ने बताया कि आरोपी को गिरफ्तार कर एनडीपीएस ऐक्ट में केस दर्ज किया गया है। पुलिस के मुताबिक पूछताछ में आरोपी युवक ने बताया कि वह कैप्सूल खरीद कर लाता है और नशे के आदी लोगों को बेचता है। पुलिस टीम में उपनिरीक्षक कुशाल सिंह रावत, ज्योति प्रसाद उनियाल, कांस्टेबल दिनेश महर, कुलदीप, मुकेश धस्माना, अमित रावत शामिल रहे।

चकराता सीट पर भाजपा ने प्रसिद्ध गायक जुबिन के पिता राजशरण नौटियाल को बनाया प्रत्याशी

देहरादून। भाजपा ने चकराता विधानसभा सीट से प्रसिद्ध गायक कलाकार जुबिन नौटियाल के पिता रामशरण नौटियाल को चुनाव मैदान में उतारा है। रामशरण नौटियाल पूर्व में देहरादून के जिलापंचायत अध्यक्ष रहे हैं। माना जा रहा है कि वह जीत दर्ज कर सदन में प्रवेश कर सकते हैं। हालांकि, रामशरण नौटियाल का चुनावी सफर आसान नहीं होगा। उनका सीधा मुकाबला, कांग्रेस के प्रीतम सिंह के साथ होगा। चकराता विधानसभा क्षेत्र में लोकप्रिय नेता होने के साथ ही प्रीतम सिंह नेता प्रतिपक्ष भी हैं। उनकी गिनती सभी कार्यकर्ताओं को साथ लेकर चलने वाली नेताओं में होती है। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी संभाल चुके प्रीतम सिंह की चकराता विधानसभा सीट में अच्छी पकड़ है। जुबिन नौटियाल के पिता रामशरण नौटियाल पिछले काफी समय से राजनीति में सक्रिय है। बेटे जुबिन के प्रशांसकों और वोट बैंक को आकर्षित करने में जुबिन अहम भूमिका निभा सकते हैं। ऐसा माना जा रहा है कि रामशरण नौटियाल कांग्रेस के प्रीतम सिंह को कांटे की टक्कर दे सकते हैं।

लैंसडौन विधानसभा सीट पर कांग्रेस के एक दर्जन दावेदारों ने किया हरक सिंह रावत को पार्टी में शामिल करने का विरोध

देहरादून। कांग्रेस नेता धीरेंद्र प्रताप, रघुवीर बिष्ट समेत लैंसडौन विधानसभा से टिकट के सभी 12 दावेदारों ने भाजपा से निष्कासित पूर्व वन मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत को पार्टी में शामिल करने का पुरजोर विरोध किया है। दावेदारों ने उन्हीं में से एक को पार्टी प्रत्याशी बनाने की मांग की। साथ ही डॉ. हरक सिंह के कांग्रेस में शामिल होने पर उन्होंने लोकल फॉर वोकल के नारे के साथ अपने बीच के एक प्रत्याशी को निर्दलीय मैदान में उतारने की चेतावनी भी दी। एक होटल में आयोजित पत्रकार वार्ता में जयहरीखाल के ब्लाक प्रमुख दीपक भंडारी, महिला कांग्रेस की प्रदेश महामंत्री रंजना रावत, मनीष सुंद्रियाल, गोपाल रावत ने डॉ. हरक सिंह रावत को कांग्रेस में शामिल करने का पुरजोर विरोध किया। कहा कि डॉ. हरक सिंह रावत अभी तक राजनीतिक दलों की लहर के चलते ही जीतते आए हैं। हरक सिंह रावत ने वर्ष 2016 में कांग्रेस की सरकार गिराई और अब वह अपनी पुत्रवधू के लिए टिकट मांगने की शर्त पर कांग्रेस में शामिल होने की बात कर रहे हैं। कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत और प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने रिखणीखाल में हुई सभा में सभी दावेदारों में से एक के नाम पर सहमति बना उसे पार्टी प्रत्याशी बनाने का आश्वासन दिया था। जिस पर सभी दावेदार गांव-गांव जाकर कांग्रेस के पक्ष में माहौल बना चुके हैं। ऐसे में उन्हें या उनकी पुत्रवधू को टिकट देना गलत होगा। डॉ. हरक सिंह को कांग्रेस प्रत्याशी बनाए जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि यदि ऐसा हुआ तो सभी दावेदार अपने बीच से एक नाम पर सहमति बनाते हुए उसे निर्दलीय मैदान में उतारेंगे और उसकी जीत सुनिश्चित कराने के लिए कार्य करेंगे। इस मौके पर ब्लाक अध्यक्ष होशियार सिंह (जयहरीखाल), प्रमोद रावत (रिखणीखाल), जंग बहादुर नेगी (नैनीडांडा), प्रधान संघ नैनीडांडा के अध्यक्ष देवेंद्र रावत, जिला महामंत्री पृथ्वीपाल पर्णवाल, क्षेत्र पंचायत सदस्य सूरजपाल सिंह, कांग्रेस के प्रदेश सचिव मनोज रावत, सोशल मीडिया सेल के प्रदेश सचिव आदित्य द्विवेदी, पूर्व प्रधानाचार्य वीरेंद्र सिंह, पूर्व प्रधान घनश्याम सिंह, यूथ कांग्रेस के जिला सचिव सनोज सिंह, किसान संगठन के जिलाध्यक्ष सुरेंद्र सिंह नेगी, राज्य आंदोलनकारी चंद्रमोहन सिंह रावत, उप प्रधान संघ के अध्यक्ष पिंटू असवाल आदि मौजूद रहे।

स्पीकर अग्रवाल को चौथी बार टिकट फाइनल होने पर कार्यकर्ताओं ने की आतिशबाजी, मिठाई बांटी

ऋषिकेश। विधानसभा अध्यक्ष एवं विधायक प्रेमचंद अग्रवाल का ऋषिकेश विधानसभा क्षेत्र से चौथी बार टिकट फाइनल होने पर आज ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र में अनेकों जगह जमकर आतिशबाजी हुई एवं मिठाई बांटकर खुशी का इजहार किया गयाद्य इस अवसर पर कार्यकर्ताओं ने ऋषिकेश स्थित विधानसभा अध्यक्ष के निजी आवास पर पहुंचकर उन्हें माल्यार्पण कर चौथी बार जीत को लेकर अग्रिम शुभकामनाएं दीद्य इस अवसर पर प्रेमचंद अग्रवाल ने केंद्रीय नेतृत्व का आभार जताते हुए स्थानीय कार्यकर्ताओं का धन्यवाद व्यक्त कियाद्य उन्होंने कहा है कि जिस प्रकार से केंद्रीय नेतृत्व ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान प्रत्याशियों की लिस्ट जारी करते हुए उन्हें सहज व सरल कहकर संबोधित किया वह मेरी अनमोल निधि है। श्री अग्रवाल ने कार्यकर्ताओं का आह्वान करते हुए कहा है कि अब मतदान तिथि तक कमर कसने की जरूरत है ताकि हम जीत निश्चित कर सकें। श्री अग्रवाल ने कहा कि उनके द्वारा इन 5 वर्षों में विकास के अभूतपूर्व कार्य समान रूप से किए गए हैं उन्होंने जातिवाद एवं क्षेत्रवाद से ऊपर उठकर ऋषिकेश विधानसभा क्षेत्र को आदर्श रूप से स्थापित करने के लिए भरपूर मेहनत की थी जिसका परिणाम है कि केंद्रीय नेतृत्व ने एक बार उन पर फिर से भरोसा जताया हैद्य श्री अग्रवाल ने कहा कि इन चुनावों में वह क्षेत्र में किए गए काम के आधार पर ही वोट मांगेंगे। वहीं ऋषिकेश के ग्रामीण क्षेत्रों के लगभग सभी ग्राम पंचायतों में श्री अग्रवाल का टिकट फाइनल होने पर अनेक स्थानों पर खुशी का इजहार करते हुए मिठाई बांटी गई एवं पटाखे फोड़े गएद्य जबकि शहर के भी अनेक स्थानों पर कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करते हुए कार्यकर्ताओं ने खुशी का इजहार किया। इस अवसर पर ऋषिकेश के मंडल अध्यक्ष दिनेश सती, श्यामपुर के मंडल अध्यक्ष गणेश रावत, वीरभद्र के मंडल अध्यक्ष अरविंद चौधरी, वरिष्ठ पार्षद शिव कुमार गौतम, प्रदीप कोहली, जयंत किशोर शर्मा, सुमित पवार, सुमित सेठी, मनोज ध्यानी, गोपाल सती, हरिशंकर प्रजापति, सुंदरी कंडवाल, शिव कुमार पाल, नरेश शर्मा आदि कार्यकर्ताओं ने विधानसभा अध्यक्ष के कोयल घाटी स्थित आवास पर अलग-अलग शुभकामनाएं दी।

पारंपरिक तरीके से ग्रामीण कर रहे कर्नल कोठियाल का स्वागत, टीका लगाने के साथ दे रहे शगुन

देहरादून/उत्तरकाशी। आप सीएम उम्मीदवार कर्नल कोठियाल ने गंगोत्री विधानसभा के कई सुदूरवर्ती गांवों में अपना डोर टू डोर जनसंपर्क अभियान को जारी रखा। बेहद ठंड और बारिश के बावजूद कर्नल कोठियाल के जोश में कोई कमी नहीं है वो अपने अभियान की शुरुवात तड़के शुरू करते हुए देर रात तक डोर टू डोर जनसंपर्क कर रहे हैं।आज भी उन्होंने बारिश और ठंड के बावजूद कई गांवों में जनसंपर्क किया जिसमें कोटियाल ग्राम सभा,बोंगा ग्राम सभा और भेलुडा ग्राम सभा,क्यान,एडाल गांव और कोटि गांव हैं । जहां उनका स्थानीय लोगों ने पारंपरिक तरीके से स्वागत करते हुए उन्हें तिलक लगाकर शगुन भी दिया। इसके बाद उन्होंने कई घरों में जाकर डोर टू डोर प्रचार भी किया और लोगों से बातचीत करते हुए जहां उनकी समस्याएं सुनी वहीं उनके समाधान के लिए जनता को आश्वस्त भी किया। इस दौरान लोगों से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में लोकतंत्र का सबसे बड़ा त्यौहार 2022 का पर्व 14 फरवरी को मनाया जाएगा। आप पार्टी किस तरीके से जनता के लिए सोचती है और जनता के लिए किन मुद्दों पर काम करेगी आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता डोर टू डोर हर घर जाकर लोगों से मिलकर उनको आप की नीतियां समझा रहे हैं। उन्होंने कहा कि हम गंगोत्री विधानसभा के कई गांव का दौरा कर चुके हैं और आज हमने इन गांवों का दौरा करते हुए मां राज राजेश्वरी और मां जगदंबा का आश्रीवाद लिया। उन्होंने बताया कि अपने गंगोत्री विधानसभा प्रवास के दौरान हमको क्षेत्र में बहुत ही अच्छा रिस्पांस मिल रहा है । हम जहां जहां जा रहे हैं वहां वहां लोग हमारा फूल मालाओं से स्वागत कर रहे हैं और हमें पिटाई लगा कर हमारा स्वागत कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि यहां के लोग टीका लगातार उन्हें शगुन में पैसे भी दे रहे हैं जो लोग राज्य के नवनिर्माण के लिए इसे अपने योगदान के रुप में हमें दे रहे हैं। उन्होंने आगे बताया कि हम जहां भी जा रहे हैं वहां के कई गांव में हमें यूथ फाउंडेशन से जुड़े युवा भी मिल रहे हैं ,जिनमें से कई बच्चे सेना में जा चुके हैं जबकि कई बच्चे आज समाज सेवा से जुड़कर समाज के लिए कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि एक युवा मनीष ने अपने सारे मुख्य कार्य छोड़कर आज हमको अपने रिश्तेदारों के साथ-साथ ग्रामीण लोगों से भी मिलवाया यह युवा यूथ फाउंडेशन का सदस्य रह चुका है। मनीष पढ़ाई में बहुत ही ज्यादा होनहार है लेकिन अफसोस कि सरकारी स्कूलों में अच्छी शिक्षा व्यवस्था ना होने के चलते वह सेना में भर्ती नहीं हो पाया क्योंकि उसके थोड़े से अंक कम थे जिस कारण उसे सेना में नहीं लिया गया जबकि वह सभी अन्य टेस्ट पास कर चुका था। इसके अलावा मनीष ने खुद सरकारी स्कूल और सरकारी बदहाल अस्पतालों के बारे में कर्नल कोठियाल को जानकारी साझा की। कर्नल कोठियाल ने आगे कहा कि जनता हमको अपनी अपनी समस्याओं से रूबरू करवा रही है और उन समस्याओं का निदान कैसे होगा यह भी हम जनता को बता रहे हैं। उन्हेांने कहा कि यहां के लोग बहुत जोशीले हैं जिन्होंने इस बारिश में भी आकर हमारा मान बढाया है। आज भीलवाड़ा गांव में 65 महिलाओं ने आम आदमी पार्टी की सदस्यता भी ग्रहण की है जो राज्य नवर्निर्माण में अपना सहयोग आम आदमी पार्टी को देना चाहते हैं।

आप ने अपने प्रदेश कार्यालय के बाहर लगाई बीजेपी-कांग्रेस की विदाई की काउंटडाइन घड़ी

देहरादून। उत्तराखंड में 14 फरवरी को चुनाव होने हैं जिसका काउंटडाउन शुरू हो चुका है और प्रदेश की जनता नए विकल्प के लिए पूरी तरीके से तैयार है। आम आदमी पार्टी ने भी प्रदेश कार्यालय के बाहर में कांग्रेस बीजेपी की विदाई के लिए अब काउंटडाउन की घड़ी लगा दी है। प्रदेश कार्यालय के बाहर बड़ी क्लॉक आप ने लगाई है जिसमें समय के साथ विदाई दिखाया जा रहा है। आप मीडिया सह प्रभारी उमा सिसोदिया ने बताया कि यह काउंटडाउन घड़ी उन दोनों ही पार्टियों के लिए एक सबक है जिन्होंने 21 साल रहते हुए इस राज्य को सिर्फ बर्बाद करने का काम किया है। इस घड़ी में जहां चुनाव की तारीख दिखाई दे रही है वही यह घड़ी काउंट डाउन का समय भी बता रही है। उमा ने बताया कि जो भी लोग प्रदेश कार्यालय से बाहर गुजर रहे हैं उनकी नजर इस घड़ी पर जरूर पड़ रही है और वह जरूर इस घड़ी को देखने के बाद यह विचार कर रहे होंगे कि अब इस प्रदेश को बदलाव की जरूरत है क्योंकि 21 सालों में कांग्रेस और बीजेपी ने राज्य को सिर्फ छलावा किया है और जैसे-जैसे एक घड़ी में समय कम होता जा रहा है वैसे वैसे कांग्रेस और बीजेपी की धड़कनें बढ़ रही हैं लेकिन आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं में बेहद ज्यादा उत्साह नजर आ रहा है क्योंकि आम आदमी पार्टी काम की राजनीति करते हुए नीतियों की बात करती है और अब की बार जनता काम और नीति पर ही अपना वोट देगी उन्होंने कहा कि अब समय आ गया है दोनों ही दलों का प्रदेश से सफाया होने का और आने वाले समय में आम आदमी पार्टी की सरकार प्रदेश में बनेगी।

प्रत्याशी के लिए निर्वाचन व्यय की सीमा 40 लाख निर्धारित

देहरादून। जिलाधिकारी व जिला निर्वाचन अधिकारी डॉ0 आर राजेश कुमार ने अवगत कराया है कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा निर्वाचन व्यय की सीमा 40 लाख निर्धारित की गई है। निर्वाचन में प्रतिभाग करने वाले प्रत्यिाशियों को समस्त व्ययों का अंकन लेखा विवरण पंजिका में करना होगा तथा यह लेखा नामंाकन की तिथि से परिणाम घोषित होन की तिथि के मध्य (दो तिथियों को सम्मिलित करते हुए ) किए जाने वाला व्यय होगा। निर्वाचन व्यय पंजिका में नामाकंन फॉर्म शुल्क, जमानत की धनराशि शपथ-पत्र एवं नामाकंन से ंसंबंधित विविध व्यय भी सम्मिलित किए जाएगें। निर्वाचन लड़ने वाले अभ्यर्थियों की निर्वाचन व्यय पंजिका का निरीक्षण माननीय प्रेक्षक द्वारा निर्धारित सारणी अनुसार 3 बार किया जाएगा तथा व्यय पंजिका का मय स्वप्रमाणित बाउचर का निरीक्षण प्रत्याशी द्वारा अथवा अधिकृत प्रतिनिधि द्वारा कराया जाना अनिर्वाय होगा। प्रचार-प्रसार हेतु समस्त सामग्री/वस्तुओं को जिला निर्वाचन अधिकारी/जिलाधिकारी कार्यालय द्वारा निर्धारित की गई दरों के अनुसार व्यय पंजिका में अंकन किया जाएगा। निर्वाचन के दौरान कार्यकताओं से संबंधित समस्त व्यय एवं उनके चाय, नाश्ता, सूक्ष्म जलपान/भोजन आदि व्यय, समाचार पत्रों/इलेक्ट्रानिक मीडिया में किए गए प्रचार-प्रसार का व्यय, चुनाव प्रचार में लगाए गए वाहनों के किराये एवं प्रयुक्त डीजल/पेट्रोल व्यय एवं वाहन चालक की दैनिक मजदूरी का अंकन अनिवार्य रूप से किया जाएगा। निर्वाचन के दौरान दूरभाष/मोबाईल/ब्रॉड बैंड /इंटरनेट/सोशल मीडिया पर हुए व्यय तथा अन्य विविध व्यय जो सामान्य रूप से प्रक्रिया के दौरान होते हैं का भी अंकन व्यय पंजिका में किया जाएगा। निर्वाचन व्यय लेखा प्रस्तुत करते समय निर्वाचन व्यय हेतु खोले गए खाते की पासबुक अथवा लेन-देन का विवरण पत्र की स्वप्रमाणित छायाप्रति प्रस्तुत करने अनिवार्य है। भारत निर्वाचन आयोग के निदेशानुसार निर्वाचन के दौरान सभी राजनैतिक दलों एवं निर्वाचन लड़ने वाले अभ्यर्थियों को निर्वाचन प्रचार-प्रसार की सामग्री (पोस्टर बैनर इत्यादि) में मानव स्वास्थ्य एवं पर्यावरण के हित में प्लास्टिक को एकल उपयोग न करने एवं पर्यावरण के अनुकूल प्रचार सामग्री का उपयोग करने हेतु निर्देशित किया गया है। उन्होंने निर्वाचन लड़ने वाले अभ्यर्थियों को निर्वाचनों के परिणाम घोषित होने के 30 दिन के अन्दर जिला निर्वाचन अधिकारी के सक्षम अपने निर्वाचन व्यय का लेखा दाखिल करना होगा। उन्होंने अवगत कराया कि नियत तिथि/स्थान/समय पर व्यय पंजिका प्रस्तुत न किए जाने की स्थिति को गम्भीरता को पूर्वक लिया जाएगा एवं लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की सुसंग्त धाराओं के अन्तर्गत बिना किसी पूर्वाग्रह के दण्डनीय कार्यवाही प्रारम्भ कर दी जाएगी। जिसका पूर्ण उत्तरदायित्व संबंधित का होगा। जिला निर्वाचन अधिकारी/जिलाधिकारी ने अवगत कराया कि निर्वाचन लड़ने वाले प्रत्याशियों को निर्वाचन कार्यों में प्रयुक्त दूरभाष/मोबाईल/ब्रॉड बैंड़/इंटरनेट नंबर तथा वह किस किस नाम से आवटित है, विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र में स्थापित चुनाव कार्यालयों के पते एवं वहां पर नियुक्त प्रभारी एवं सहायक प्रभारियों का नाम पता एवं दूरभाष संख्या, निर्वाचन कार्यों में प्रयुक्त कुल वाहनों की संख्या वाहनों के प्रकार एवं उनके नंबर/लाउडस्पीकर का उल्लेख, प्रत्याशी के सूक्ष्म एवं पूर्ण नमूने के हस्ताक्षर, अधिकृत व्यक्ति/मुख्य निर्वाचन अभिकर्ता का नाम पता मोबाईल नंबर दूरभाष नंबर तथा प्रमाणित हस्ताक्षर जिसके द्वारा व्यय विवरण प्रस्तुत किया जाना है। अभ्यर्थी का पूर्ण पता (आवासीय एवं मुख्य कार्यालय दोनों) एवं दूरभाष तथा मोबाईल नंबर आदि विवरण अनिवार्यत प्रस्तुत किया जाना है।

डीएम ने निर्वाचन के संबंध में रिटर्निंग अधिकारियों को दिए जरूरी दिशा-निर्देश

देहरादून। जिला निर्वाचन अधिकारी व जिलाधिकारी डा. आर राजेश कुमार की अध्यक्षता में विधानसभा सामान्य निर्वाचन 2022, के सफल सम्पादन हेतु की गई आवश्यक तैयारियों संबंध में एन आई सी सभागार में आयोजित बैठक में रिटर्निंग अधिकारियों एवं संबंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए। बैठक में उन्होंने सभी रिटर्निंग अधिकारियों एवं नोडल अधिकारियों को अवगत कराया कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा आवश्यक सेवा पर अनुपस्थित मतदाताओं के रूप में डाक मतपत्र के माध्यम से मतदान की सुविधा के प्रयोजन के लिए संबंधित विभाग अपने राज्य मुख्यालय जनपद हेतु एक-एक नोडल अधिकारी नामित करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि नोडल अधिकारी विभाग के संबंधित कर्मचारियों को डाक मतपत्र की सुविधा एवं जिम्मेदारियों से अवगत कराते हुए उनके फॉर्म-डी की प्रतियां प्राप्त कर संबंधित जनपद/विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र के नोडल अधिकारियों को आयोग द्वारा निर्धारित समय सीमा के भीतर उपलब्ध कराएंगे। उन्होंने बताया कि संबंधित विभागों/संस्थानों के कार्मिकों हेतु डाक-मतपत्र से मतदान 8, 9 व 10 फरवरी 2022 को प्रातः 9 बजे से सांय 05 बजे तक नियत है। उन्होंने सभी रिटर्निंग अधिकारियों को आयोग द्वारा आवश्यक सेवा वाले मतदाताओं हेतु मतदान करने के लिए मतदान केन्द्रों में आवश्यक व्यवस्थाएं करने के निर्देश दिए। इस दौरान जिलाधिकारी ने डाक-मतपत्र हेतु लगी टीम का रेण्डमाईजेशन, माइक्रो ऑब्जर्वर की नियुक्ति तथा मतपत्रों हेतु तहसील स्तर पर स्ट्रांग रूम की व्यवस्था, डाक मतपत्र व नाम-निर्देशन हेतु नामित किये गये सहायक रिटर्निंग आफिसरों का विवरण, फॉर्म-12डी नोटिस की प्राप्ति तथा सभी रिटर्निंग अधिकारियों को उनकी विधानसभा में स्थापित मॉडल बूथ का एवं सखी बूथ का विवरण प्राप्त करते हुए भारत निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देशों अनुसार संबंधित बूथ पर व्यवस्थाएं बनाने के निर्देश दिए तथा बनाए गए बूथों का निरीक्षण कर आवश्यक व्यवस्थाएं बनाने के निर्देश दिए। उन्होंने बताया कि जनपद में 943 मतदान केन्द्रों में वेबकास्टिंग की जानी है इसके लिए आवश्यक तैयारियों पूर्ण करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि 21 जनवरी से स्थैतिक निगरानी टीमों को एक्टिवेट करते हुए उन्हें ऑब्जर्वर दायित्वों का भली-भांति निर्वहन करने हेतु निर्देशित किया जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि सभी निगरानी टीमों को चौकिंग के दौरान सरलता से व्यवहार करने तथा महिलाओं की जांच के दौरान महिलाकर्मी भी साथ रखें। किसी भी अभद्र व्यवहार की शिकायत को गम्भीरता से लिया जायगा। इसके लिए उन्होंने नोडल अधिकारी व्यय को सभी टीमों से वर्चुअल माध्यम से किसी व्यक्ति पर संदेह होने पर गहनता से जांच करते हुए इस दौरान व्यवहार में नम्रता बनाए रखने हेतु निर्देशित करने को कहा। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी नितिका खण्डेलवाल (वर्चुअल माध्यम से) अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व के.के. मिश्रा, अपर जिलाधिकारी प्रशासन डॉ0 शिव कुमार बरनवाल, उपजिलाधिकारी सदर मनीष कुमार, मसूरी नरेश दुर्गापाल, ऋषिकेश अपूर्वा पाण्डेय, डोईवाला युक्ता मिश्रा सहित संबंधित रिटर्निंग अधिकारी उपस्थित रहे तथा उपजिलाधिकारी चकराता सहित अन्य अधिकारी वर्चुअच माध्यम से जुड़े रहे।

21 जनवरी से शुरु होगी नामांकन प्रक्रिया

देहरादून। जिला निर्वाचन अधिकारी व जिलाधिकारी डॉ0 आर राजेश कुमार ने अवगत कराया है कि विधानसभा सामान्य निर्वाचन हेतु 21 जनवरी से नाम निर्देशन करने की कार्यवाही प्रारम्भ होगी। जनपद देहरादून में स्थित विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों से निर्वाचन लड़ने वाले उम्मीदवारों के नाम निर्देशन पत्र दाखिल करने हेतु स्थान एवं कक्ष निर्धारित किये गए है। जनपद में नामांकन हेतु सभी व्यवस्थाएं एवं तैयारी पूर्ण कर ली गई है तथा नाम निर्देशन से सम्बन्धित समस्त कार्यवाही आंवटित विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रवार कक्षों में सम्पन्न की जाएंगी। विधानसभा 15-चकराता (अजजा) के लिए तहसीलदार न्यायालय कक्ष कालसी, 16- विकासनगर के लिए उप जिला मजिस्टेªट न्यायालय कक्ष विकासनगर, 17- सहसपुर के लिए तहसीलदार न्यायालय कक्ष विकासनगर, 18-धर्मपुर के लिए नगर मजिस्टेªट न्यायालय कक्ष देहरादून, 19-रायपुर के लिए उप जिला मजिस्टेªट न्यायालय कक्ष सदर देहरादून, 20- राजपुर (अजा) सहायक अभिलेख अधिकारी न्यायालय कक्ष देहरादून, 21- देहरादून कैन्टोमेंट के लिए जिला मजिस्टेªट न्यायालय कक्ष कलेक्टेªट परिसर देहरादून, 22-मसूरी के लिए उप जिला मजिस्टेªट कैम्प न्यायालय कक्ष कलेक्टेªट परिसर देहरादून, 23-डोईवाला के लिए उप जिला मजिस्टेªट न्यायालय कक्ष डोईवाला, 24- ऋषिकेश के लिए उप जिला मजिस्टेªट न्यायालय कक्ष ऋषिकेश निर्धारित किया गया है।

प्रदेश में कोरोना संक्रमण के 4818 नए मामले सामने आए, चार लोगों की मौत

देहरादून। उत्तराखंड में गुरुवार को कोरोना संक्रमण के 4818 नए मामले सामने आए हैं, चार लोगों की मौत भी हुई है। पिछले 24 घंटे में 3422 मरीज स्वस्थ हुए हैं। इन्हें मिलाकर 347175 मरीजों ने संक्रमण को मात दी है। वर्तमान में 24255 सक्रिय मरीजों का इलाज चल रहा है। प्रदेश की रिकवरी दर 89.72 प्रतिशत और सैंपल जांच के आधार पर संक्रमण दर 14.23 प्रतिशत पहुंच गई है। राज्य में अब तक कुल 386951 संक्रमण के मामले सामने आ चुके हैं। देहरादून जिले में सबसे ज्यादा 1601 संक्रमित मिले हैं। नैनीताल में 692, हरिद्वार में 706, ऊधमसिंह नगर में 590, चंपावत में 62, पौड़ी में 181, अल्मोड़ा में 291, टिहरी में 161, पिथौरागढ़ में 106, बागेश्वर में 106, चमोली में 158, रुद्रप्रयाग में 101 और उत्तरकाशी जिले में 63 संक्रमित मिले हैं। नगर निगम क्षेत्र कोटद्वार और निकटवर्ती, कालागढ़, दुगड्डा, द्वारीखाल ब्लाक, एकेश्वर, जयहरीखाल और रिखणीखाल ब्लॉक में गुरुवार को कई संक्रमित मिले। एक बच्चे सहित 79 लोगों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई। स्वास्थ्य विभाग ने सभी संक्रमितों को कोरोना मेडिकल किट उपलब्ध कराकर उन्हें होम आइसोलेट कर दिया है। सीएमओ डॉ. प्रवीन कुमार ने बताया कि बदरीनाथ मार्ग निवासी तीन बुजुर्ग और एक व्यक्ति, पदमपुर में एक छह साल का बच्चा, हरिद्वार से कोटद्वार आने वाले 11 लोग, ऋषिकेश से कोटद्वार आने वाले तीन लोग, देहरादून से कोटद्वार आने वाली चार महिलाएं, दो युवती और तीन व्यक्ति, दिल्ली से कोटद्वार आने वाली एक महिला, चंडीगढ़ से कोटद्वार आने वाला एक व्यक्ति, लखनऊ से कोटद्वार आने वाले समेत कई लोगों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है।

तुलाज इंस्टीट्यूट ने आयोजित किया नॉर्थ ईस्ट फ्रेशर्स मीट

देहरादून। तुलाज इंस्टीट्यूट ने नॉर्थ ईस्ट के छात्रों के लिए वार्षिक फ्रेशर्स मीट का आयोजन किया। इस सम्मेलन का हिस्सा बनने के लिए असम, अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड, मणिपुर, त्रिपुरा, शिलांग और मिजोरम के कुल 120 छात्रों को आमंत्रित किया गया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि तुलाज़ इंस्ट्यूट की कार्यकारी निदेशक सिल्की जैन मारवाह रहीं, जबकि विशिष्ट अतिथि तुलाज़ इंस्टिट्यूट के उपाध्यक्ष रौनक जैन मौजूद रहे। इस अवसर पर कई सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। छात्रों ने पारंपरिक नृत्य और संगीत प्रस्तुति, रैंप वॉक और कई गतिविधियों के माध्यम से अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया। दिन के दौरान मिस्टर एंड मिस फ्रेशर्स के लिए कई प्रतियोगिताएं और राउंड भी आयोजित किए गए। बी.टेक ईईई शाखा से नागालैंड के एनजेनथुंग सोपो को मिस्टर फ्रेशर के खिताब से नवाजा गया, जबकि एमबीए शाखा से असम की प्रियंका मेहता ने मिस फ्रेशर का खिताब जीता। इस अवसर पर बोलते हुए, तुलाज़ इंस्टिट्यूट के उपाध्यक्ष रौनक जैन ने कहा, हर साल, तुलाज़ इंस्टिट्यूट नॉर्थ ईस्ट के छात्रों का प्रोत्साहन करने और अपने समुदाय की मजबूत भावना बनाये रखने के लिए एक वार्षिक फ्रेशर मीट आयोजित करता है। आवास, परिवहन और अन्य संवेदनशील मुद्दों पर छात्रों का मार्गदर्शन करने के लिए हमने एक परिषद भी नियुक्त की है। बैठक के दौरान, नॉर्थ ईस्ट स्टूडेंट अफेयर के प्रबंधक, दीपक बहुगुणा ने कहा, “फ्रेशर्स मीट हमें यह सुनिश्चित करने का मौका देती है कि जूनियर्स अपने सीनियर्स को जान सकें और किसी भी समस्या के दौरान उनसे संपर्क कर सकें। हमारा एकमात्र उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि फ्रेशर्स सहज महसूस कर सकें।

प्रेमनगर में सड़कों की हालत से अंदाजा लगा लीजिए विकास काः रविंद्र सिंह आनंद

देहरादून। आम आदमी पार्टी के कैंट विधानसभा प्रत्याशी रविंद्र सिंह आनंद ने कहा कि प्रेमनगर क्षेत्र में जनसंपर्क के दौरान लोगों ने क्षेत्र में हुए तथाकथित विकास की पोल खोली। क्षेत्रवासी फिलहाल क्षेत्र में टूटी सड़कों से बहुत परेशान हैं। रविंद्र आनंद ने बताया कि क्षेत्रवासियों को बारिश के दिनों से टूटी सड़कों से दो-चार होना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि इस वक्त जब लोग सर्दी-जुकाम बुखार की बीमारी से जूझ रहे है और कोविड का प्रकोप भी दिन प्रतिदिन बढ़ रहा है तो ऐसे में क्षेत्र में किसी बड़े अस्पताल का न होना भी बहुत बड़ी समस्या है जिससे क्षेत्रवासियों को जूझना पड़ रहा है। लोगों को या तो प्रइवेट डाक्टारों को मोटी मोटी फीस भरनी पड़ रही है या फिर उन्हें दून अस्पताल तक जाना पड़ रहा है। रविंद्र सिंह आनंद ने कहा कि यह बहुत ही दुख की बात है कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार होने के बाद भी इस क्षेत्र में लोगों को आज भी मूलभूत सुविधाओ ंके लिए जूझना पड़ रहा है। जनसंपर्क करने वालों में मीनू सिंह, कमला देवी, हार्दिक, संगीता, ओमप्रकाश, सपना, जसवंत, आषा लूथरा, पूजा, नवीन चौहान, सलमा, अफरोज, नजमा, राजदा, नूरजहां, शहजादी, कौसर, अरमान, जाहिदा, सपना, ऊषा, जितेंद्र बहल, विशाल बंसल आदि मौजूद रहे।

भाजपा में टिकट वितरण के साथ ही बगावत भी शुरु

देहरादून। भारतीय जनता पार्टी की प्रत्याशियों की पहली लिस्ट जारी होते ही कई विधानसभा क्षेत्रों में बगावत के सुर भी दिखाई देने लगे हैं। पार्टी ने अधिकांश सिटिंग विधायकों पर ही दांव खेला है। ऐसे में कई विधानसभा क्षेत्रों में भाजपा में बगावत की सुगबुगाहट देखने को मिल रही है नरेंद्रनगर से ओम गोपाल रावत, धनोल्टी से महावीर सिंह रांगड़ और धर्मपुर में लंबे समय से जनता के बीच में काम कर रहे बीर सिंह पंवार ने निर्दलीय चुनाव लड़ने का फैसला लिया है। बीर सिंह पंवार के समर्थकों की बैठक हुई, जिसमें सर्वसम्मति से चुनाव लड़ने का ऐलान किया गया। भाजपा के कई बड़े कार्यकर्ता इस बैठक में मौजूद थे। मातृशक्ति भी उनके साथ खड़ी दिखाई दी। उन्होंने विधायक विनोद चमोली पर गंभीर आरोप लगाए। कहा कि 5 साल में उन्होंने विकास के नाम पर कोई काम नहीं किया। यहां तक की राज्य सरकार और केंद्र सरकार की योजनाओं को भी इस धर्मपुर विधानसभा क्षेत्र में लागू नहीं कर पाए। भाजपा कार्यकर्ताओं ने कहा कि चुनाव में हम एक नारे के साथ उतरेंगे भाजपा से बैर नहीं, विनोद चमोली की खैर नहीं। कल 11 बजे फिर से विधानसभा क्षेत्र के कई प्रमुख लोग और जनप्रतिनिधि बैठक करेंगे। गौरतलब है कि पहाड़ी प्रजा मंडल के अध्यक्ष और भाजपा नेता बीर सिंह पंवार पिछले 10 सालों से लगातार क्षेत्र में सक्रिय हैं। कोरोना काल में उन्होंने मोदी कीचन के माध्यम से जिस तरह गरीब असहाय लोगों के लिए देवदूत बनकर आए उनकी मदद की। यही नहीं बीर सिंह पंवार ने पांच अनाथ लड़कियों को भी गोद लिया हुआ है। जिनकी पढ़ाई लिखाई का खर्चा वे स्वयं उठाते हैं। राजेंद्र बिहार में उन्होंने मंदिर के लिए जमीन दान कर उस पर भव्य मंदिर का निर्माण खुद करवा रहे हैं। अभी पिथौरागढ़ की एक डेढ़ साल की बच्ची का ऑपरेशन उन्होंने दिल्ली में अपने खर्चे पर करवाया। इस तरह के कई सामाजिक कार्यों में उनका विशेष योगदान रहता है। विधायक विनोद चमोली से कार्यकर्ताओं की नाराजगी चरम पर है।

आईआईटी रूड़की को नागरिक प्रधान सेवाओं पर उत्कृष्ट अनुसंधान में ई-गवर्नेंस के लिए राष्ट्रीय स्वर्ण पुरस्कार

रूड़की। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रुड़की के शोधकर्ताओं की टीम ने प्रो. धर्मेंद्र सिंह के नेतृत्व में शैक्षिक / अनुसंधान संस्थानों द्वारा नागरिक-केंद्रित सेवाओं पर उत्कृष्ट अनुसंधान के लिए ई-गवर्नेंस हेतु राष्ट्रीय ‘स्वर्ण’ पुरस्कार प्राप्त किया है। टीम को यह पुरस्कार इलेक्ट्रोमैग्नेटिक शील्डिंग और खुफिया उपयोगों के उद्देश्य से ई-वेस्ट-आधारित माइक्रोवेव एब्जॉर्बिंग मैटेरियल के विकास के लिए प्रदान किया गया है। ईएम प्रदूषण रोकने और खुफिया सैन्य कार्यों में आधुनिक इंजीनियरिंग के लिए रडार अवशोषित सामग्री (रैम) अनिवार्य रूप से आवश्यक है। लोक कार्य और रक्षा क्षेत्र में आरएएम के विभिन्न उपयोगों को ध्यान में रखते हुए यह इनोवेशन कम लागत पर सस्ते कच्चे माल और कम जटिल तकनीकियों से प्रभावी माइक्रोवेव अवशोषक के संश्लेषण और निर्माण की अहम् आवश्यकता पूरी करने में मदद करेगा। इससे अंतिम रूप से उपयोग के लिए तैयार खुफिया समाधान और उत्पाद विकसित करने में मदद मिलेगी जैसे कि ईएमआई और हानिकारक मोबाइल फोन विकिरण से बचाव के लिए ई-कचरे और रडार अवशोषित सामग्री और पेंट्स से कैमोफ्लाज़ नेट तैयार करना। हैदराबाद (तेलंगाना) में 7-8 जनवरी 2022 को ई-गवर्नेंस पर आयोजित 24 वें राष्ट्रीय सम्मेलन में ये पुस्कार विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय, पृथ्वी विज्ञान, प्रधान मंत्री कार्यालय में राज्य मंत्री, कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन मंत्रालय के माननीय राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ. जीतेंद्र सिंह ने प्रदान किए। शोध टीम की सराहना में प्रोफेसर अजीत कुमार चतुर्वेदी, निदेशक आईआईटी रूड़की ने कहा, “इस शोध विकास के उपयोग नागरिक और सैन्य दोनों क्षेत्रों में हैं। आशा है यह रक्षा प्रौद्योगिकी में आत्मानिर्भर भारत बनाने का लक्ष्य पूरा करने में योगदान देगा।’’ इस सामग्री की तकनीक और उपयोग के बारे में प्रो. धर्मेंद्र सिंह ने कहा, “नागरिक और रक्षा दोनों क्षेत्र में माइक्रोवेव अवशोषित सामग्री (एमएएम) के विभिन्न उपयोग देखते हुए सस्ते कच्चे माल और कम जटिल निर्माण तकनीकों से कम लागत पर प्रभावी माइक्रोवेव अवशोषकों का संश्लेषण और निर्माण ज़रूरी है। इसलिए प्रस्तावित समाधान का लक्ष्य ई-कचरे से वाइडबैंड (फ्रीक्वेंसीरू 1-18 गीगाहर्ट्ज़) एमएएम विकसित करने का विकल्प देना है जिसमें उपयोगकर्ताओं के परिभाषित गुण विद्यमान हों। इस तकनीक से संसाधनों जैसे सामग्री, समय, मानव संसाधन, लागत आदि की काफी बचत होगी।’’

भाजपा ने घोषित की 59 उम्मीदवारों की पहली सूची

देहरादून। उत्तराखंड विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा ने प्रत्याशियों की पहली सूची जारी कर दी है। इस सूची में 59 सीटों पर उम्मीदवारों के नाम घोषित किए गए हैं। शेष सीटों पर मंथन के बाद प्रत्याशियों की दूसरी सूची जारी की जाएगी। प्रदेश चुनाव प्रभारी प्रह्लाद जोशी ने गुरुवार को पत्रकार वार्ता में 59 सीटों पर उम्मीदवारों के नामों की घोषणा की। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी खटीमा सीट से चुनाव लड़ेंगे। पांच महिलाओं को इस बार टिकट दिया गया है। 10 विधायकों के टिकट कटे हैं। इस बार कुंवर प्रणव चौंपियन का टिकट काट दिया गया है, उनकी पत्नी को टिकट दिया गया है। भाजपा ने जिन्हें टिकट दिया है उनमें पुष्कर सिंह धामी-खटीमा, मदन कौशिक-हरिद्वार शहर, केदार सिंह रावत-यमुनोत्री, भरत सिंह चौधरी -रुद्रप्रयाग, शक्ति लाल शाह-घनसाली, विनोद कंडारी-देवप्रयाग, सुबोध उनियाल-नरेंद्रनगर, प्रीतम पंवार-धनोल्टी, सतपाल महाराज-चौबट्टाखाल, राम चरण नौटियाल-चकराता, मुन्ना सिंह चौहान-विकासनगर, शैलेंद्र मोहन सिंघल-जसपुर, उमेश शर्मा-रायपुर, खजान दास-राजपुर रोड, सविता कपूर-देहरादून कैंट, गणेश जोशी-मसूरी, सुरेश राठौर-ज्वालापुर, प्रदीप बत्रा-रुड़की, देवयानी कुंवर प्रणव चौंपियन-खानपुर, संजय गुप्ता-लक्सर, स्वामी यतिश्वरानंद-हरिद्वार ग्रामीण, डा. धन सिंह रावत-श्रीनगर, राजकुमार-पौड़ी, धन सिंह धामी-धारचूला, बिशन सिंह चुफाल-डीडीहाट, आदेश चौहान-बीएचईएल हरिद्वार, चंद्रा पंत-पिथौरागढ,़ चंदन राम दास-बागेश्वर, दिलीप सिंह रावत-लैंसडौन, महेश जीना-सल्ट, पूरण सिंह फर्त्याल-लोहाघाट बंशीधर भगत-कालाढूंगी, दीवान सिंह बिष्ट-रामनगर, त्रिलोक सिंह चीमा-काशीपुर, अरविंद पांडे-गदरपुर, सौरभ बहुगुणा-सितारगंज, फकीरा राम-गंगोलीहाट, सुरेश गाड़िया-कपकोट, महेश शर्मा-अल्मोड़ा, सत्यपाल-भगवानपुर, कैलाश गहतोड़ी-चंपावत से प्रत्याशी होंगे। अनिल नौटियाल-कर्णप्रयाग, रेणू बिष्ट-यमकेश्वर, प्रेमसिंह राणा-नानकमत्ता, राजेश कुमार-बाजपुर, दुर्गेश्वर लाल-पुरोला, सुरेश चौहान -गंगोत्री, महेंद्र भट्ट-बदरीनाथ, भोपाल राम टम्टा-थराली, विजय सिंह पंवार उर्फ गुड्डू-प्रतापनगर, सहदेव सिंह पुंडीर-सहसपुर, विनोद चमोली-धर्मपुर प्रेमचंद अग्रवाल-ऋषिकेश, दिनेश पंवार-मंगलौर, अनिल शाही-द्वाराहाट, रेखा आर्य-सोमेश्वर, राम सिंह कैड़ा-भीमताल, सरिता आर्य-नैनीताल, किच्छा-राजेश शुक्ला को उम्मीदवार बनाया गया है।

घनसाली तहसील क्षेत्र अंतर्गत द्वारी गांव में घंटाकर्ण देवता की लोक जात का भव्य आयोजन

घनसाली/देहरादून, गढ़ संवेदना। उत्तराखंड के टिहरी जिले में घनसाली तहसील क्षेत्र अंतर्गत द्वारी गांव में घंडियाल (घंटाकर्ण) देवता की लोकजात का भव्य आयोजन किया गया। घंटाकर्ण देवता की लोक जात में प्रवासी और आस-पास के क्षेत्रों के लोग बड़ी तादात में शामिल हुए। लोगों ने घंटाकर्ण देवता व नागरजा देवता के दर्शन किए और मनौती मांगी। देवता ने सभी लोगों को आशीर्वाद प्रदान किया। जिन लोगों की पिछली लोकजात में मांगी गई मनौती पूर्ण हुई उन्होंने घंटाकर्ण देवता को साड़े, चांदी के छत्र व घंटियां भेंट की। रात्रि को मोलखा में जागरण व मेले का आयोजन हुआ। घंटाकर्ण देवता की इस द्विवार्षिक लोकजात में मुंबई, दिल्ली, गुजरात, चंडीगढ़, देहरादून, उत्तरकाशी, श्रीनगर आदि क्षेत्रों में रहने वाले प्रवासी बड़ी संख्या में गांव पहुंचे और लोक जात में शामिल होकर अपने इष्ट और ग्राम देवता के दर्शन कर आशीर्वाद लिया। मान्यता है कि इस मंदिर में जो भी श्रद्धालू सच्चे मन से कोई मन्नत मांगता है वह मन्नत अवश्य पूरी होती है। विदेशों में रहने वाली प्रवासी भी लोकजात में शामिल होने को गांव पहुंचे। घंटाकर्ण देवता की लोकजात में द्वारी, चुखड़ी, बुड़कोट, थापला, पिलखी, घनसाली, बौंसला, बंचुरी, डागर, घोंटी, दोणी, पडागली, चमियाला समेत कोटी फैगुल और नैलचामी पट्टी के विभिन्न गांवों के लोग बड़ी संख्या में शामिल हुए। सुबह गांव में निशान स्थल पर घंटाकर्ण देवता व नागरजा देवता के निशाणों की पूजा-अर्चना हुई। सायं को घंटाकर्ण देवता और नागरजा देवता के पश्वा ग्रामवासियों के साथ देवता के निशाणों को लेकर मोलखा जो कि गांव में सबसे ऊंचाई पर स्थित स्थल है वहां पहुंचे। वहीं, नैलचामी से गुरु माणिक देवता भक्तों के साथ वहां पहुंचे। दोनों देवताओं का मिलन हुआ, तो जयकारे गूंजने लगे।। रात्रि जागरण के दौरान मोलखा में मंडाण का आयोजन किया गया। जिसमें रात्रिभर श्रद्धालू ढोल-दमाऊ की थाप पर जमकर थिरके। घंटाकरण मंदिर समिति द्वारी की ओर से श्रद्धालुओं के लिए सभी जरूरी व्यवस्थाएं की गई थीं। नमस्कार देव भूमि सेवा संघ दिल्ली की ओर से श्रद्धालुओं के लिए भंडारे का आयोजन किया गया।

Wednesday, 19 January 2022

श्रीलंका वन विभाग के अधिकारियों के लिए हाई-टेक वन नर्सरी पर आभासी प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन

देहरादूना। भारतीय वानिकी अनुसंधान और शिक्षा परिषद, देहरादून के तहत वन अनुसंधान संस्थान 18 से 21 जनवरी तक श्रीलंका वन विभाग के अधिकारियों के लिए हाई-टेक वन नर्सरी पर एक आभासी प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन कर रहा है। विदेश मंत्रालय और पर्यावरण एवं वन मंत्रालय के माध्यम से श्रीलंका वन विभाग के अनुरोध पर पाठ्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। आरपी सिंह प्रमुख सिल्विकल्चर डिवीजन एफआरआई ने गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत किया और पाठ्यक्रम की रूपरेखा दी जिसमें हाई-टेक नर्सरी और विभिन्न विषयोंरू साइट चयन, स्थापना, डिजाइन और लेआउट, आधुनिक बुनियादी ढांचा और सुविधाएं, नर्सरी संचालन और गुणवत्ता का उत्पादन उच्च तकनीक वाली नर्सरी में वानिकी प्रजातियों का रोपण स्टॉक, वन बीज प्रौद्योगिकी, गुणवत्ता रोपण सामग्री के उत्पादन के लिए वनस्पति प्रसार और ऊतक संवर्धन तकनीक, मिट्टी और पोषक तत्व प्रबंधन तकनीक, नर्सरी में जल प्रबंधन तकनीक, रोग और कीट प्रबंधन, उत्पादन की आधुनिक तकनीकें श्रीलंका की प्रमुख वृक्षारोपण प्रजातियों की गुणवत्ता रोपण सामग्री (क्यूपीएम), देशी मैंग्रोव प्रजातियों की बहाली और संरक्षण, औषधीय पौधों की गुणवत्ता रोपण सामग्री का उत्पादन को भी शामिल किया जाएगा। प्रशिक्षण कार्यक्रम के उद्घाटन समारोह के मुख्य अतिथि अरुण सिंह रावत, महानिदेशक, आईसीएफआरई ने उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए वानिकी और पर्यावरण के क्षेत्र में क्षमता विकास कार्यक्रमों के माध्यम से भारत और उसके पड़ोसी देशों के बीच घनिष्ठ सहयोग और ज्ञान साझा करने का आह्वान किया। उन्होंने वनरोपण/वनरोपण कार्यक्रमों के लिए गुणवत्तापूर्ण रोपण सामग्री के बड़े पैमाने पर उत्पादन के लिए हाई-टेक वन नर्सरी की स्थापना की भूमिका पर भी प्रकाश डाला। कोलंबो के उच्चायोग में भारत के उप उच्चायुक्त विनोद के जैकब ने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के दावोस संदेश, विशेष रूप से स्वच्छ, हरित, दीर्घकालिक और विश्वसनीय विकास के 25 साल की अवधि की ओर ध्यांकेंद्रित किया। उन्होंने भारत सरकार की नीतियों पर जोर दिया, जिसका उद्देश्य ज्ञान के द्विपक्षीय आदान-प्रदान, न केवल रणनीतिक, आर्थिक बल्कि जीआईएस और रिमोट सेंसिंग, वानिकी और पर्यावरण अनुसंधान के क्षेत्र में भी सहयोग करना है। इस अवसर पर श्रीलंका वन विभाग के वन संरक्षक जनरल डॉ. केएमए बंडारा ने भी बात की। उन्होंने श्रीलंका वन विभाग के लिए पाठ्यक्रम आयोजित करने के लिए भारत सरकार और आईसीएफआरई को धन्यवाद दिया और कहा कि वह विभिन्न अन्य क्षेत्रों में विभाग के लिए अधिक व्यावहारिक रूप से उन्मुख प्रशिक्षण की आशा करते हैं। कार्यक्रम में संरक्षक, डीएफओ, रेंज अधिकारी, बीट वन अधिकारी, वन विस्तार अधिकारी रैंक के 53 अधिकारी शामिल हुए। प्रशिक्षण समन्वयक डॉ मनीषा थपलियाल ने वर्चुअल सभा को धन्यवाद प्रस्ताव दिया।

मानवाधिकार संगठन ने मेडिकल किट व बच्चों के बैठने के लिए दरी वितरित की

देहरादूना। मानवाधिकार एवं सामाजिक न्याय संगठन द्वारा विजय पार्क स्थित सेवा भारती महानगर देहरादून के वीर सावरकर बाल संस्कार केंद्र में शिक्षा ग्रहण कर रहे बालक एवं बालिकाओं को ठंड से बचने के लिए जुराब बैठने के लिए दरी और कोरोना वैश्विक महामारी से बचाव हेतु महिलाओं एवं अभिभावकों को 50 मेडिकल किट वितरित की गई। इस अवसर पर संगठन के चेयरमैन सचिन जैन ने विचार रखते हुए कहा कि मौजूदा समय को देखते हुए हर किसी को अपना पूरा ध्यान रखने की आवश्यकता है जिससे हमारा परिवार और हम सुरक्षित रहे। इस अवसर पर संगठन की प्रदेश अध्यक्ष मधु जैन कहा कि हम सब आपसी सहयोग से ही एक-दूसरे के जीवन की रक्षा करने में सार्थक सिद्ध होंगे। कोरोना को देखते हुए दो गज की दूरी, मास्क है जरूरी, खुद लगाए और दूसरों के भी लगवायें। इस मौके पर संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष लच्छू गुप्ता ने कहा संगठन के द्वारा निरंतर इस तरह की सेवा कार्य और सहायता कार्य किए जाते रहे हैं और किए जाते रहेंगे। इस अवसर पर संस्कार केंद्र की शिक्षिका रेखा रावत, संचालक हरि शंकर अग्रवाल एवं स्थानीय लोग मौजूद रहे।

नवपरिवर्तन संवाद का दूसरा फेज 21 जनवरी से, कर्नल कोठियाल सभी वर्गों से वर्चुअली करेंगे संवाद

देहरादूना। आम आदमी पार्टी की प्रदेश प्रवक्ता उमा सिसोदिया ने आप कार्यालय में एक प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए बताया कि आम आदमी पार्टी द्वारा 10 जनवरी से 17 जनवरी तक वर्चुअल नवपरिवर्तन संवाद का आयोजन किया गया जिसकी सफलता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता कि अलग अलग प्लेटफॉर्म से इस संवाद से प्रदेश के 40 लाख लोग इसमें वर्चुअली जुड़े। आप पार्टी के नेताओं की बातों और उत्तराखंड के लिए विजन को सबने सुना और समझा। इस वर्चुअल रैली की शुरुआत आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल जी द्वारा 3 जनवरी को देहरादून से शुरू किया गया था। उन्होंने आगे कहा कि चुनाव आयोग के दिशा निर्देशों के मुताबिक थी आम आदमी पार्टी ने रैलियां छोड़ते हुए वर्चुअल रिलीज के माध्यम से लाखों लोगों तक अपनी आवाज और नीतियां पहुंचाई। उन्होंने कहा कि अब आम आदमी पार्टी के मुख्यमंत्री उम्मीदवार कर्नल कोठियाल 21 जनवरी से लेकर 27 जनवरी तक वर्चुअल नवपरिवर्तन संवाद में दूसरे फेज में इसकी शुरुवात करेंगे। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी को उम्मीद है जिन 40 लाख लोगों को आम आदमी पार्टी ने अपने पहले फेज में अपने नाम परिवर्तन संवाद से जोड़ने का काम किया है उससे भी ज्यादा लोगों को आम आदमी पार्टी अपने इस दूसरे फेस में जोड़ने का काम करेगी। उन्होंने आगे बताया कि 21 तारीख से लेकर 27 तारीख तक सभी वर्गों के लिए यह वर्चुअल रैली की शुरुआत की जाएगी। 21 जनवरी को कर्नल कोठियाल पहली बार वोट देने जा रहे 18 वर्ष के युवाओं को वर्चुअल संबोधित करेंगे। 22 जनवरी को कर्नल अजय कोठियाल उत्तराखंड की महिलाओं से संवाद करेंगे, इसके लिए आम आदमी पार्टी दूरस्थ गांव की महिलाओं को भी इस वर्चुअल संवाद से जोड़ने का काम करेगी। 23 जनवरी को आंदोलनकारी और उनके परिजनों से कर्नल कोठियाल वर्चुअल संवाद करेंगे। 24 जनवरी को टैक्सी यूनियन बस यूनियन और अन्य चालकों के साथ कर्नल कोठियाल का नवपरिवर्तन संवाद रहेगा, 25 तारीख को प्रदेश के सरकारी कर्मचारी और उपनल के माध्यम से लगे कर्मचारियों से संवाद करेंगे, 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस पर कर्नल कोठियाल पूर्व फौजियों से नव परिवर्तन संवाद करेंगे और 27 जनवरी को युवाओं के साथ कर्नल कोठियाल नवपरिवर्तन संवाद कर दूसरे फेज की समाप्ति करेंगे। इसकी पूरी तैयारी आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा कर ली गई है और आप के नव परिवर्तन संवाद को जनता का भरपूर समर्थन मिल रहा है बड़ी तादाद में लोग आपके नव परिवर्तन संवाद से लगातार जुड़ रहे हैं।

पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत नहीं लड़ना चाहते विधानसभा चुनाव

देहरादूना। उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने विधानसभा चुनाव नहीं लड़ना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि पार्टी में रहकर वह भाजपा के लिए कार्य करना चाहते हैं। इस संबंध में उन्होंने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को पत्र लिखा है। पत्र में पूर्व सीएम त्रिवेंद्र ने कहा कि वह भाजपा और जनता के लिए कार्य करना चाहते हैं, इसलिए उन्हें आगामी चुनाव नहीं लड़ाया जाए। त्रिवेंद्र ने कहा कि उत्तराखंड में भाजपा की दोबारा सरकार बनाने के लिए वह कोई भी जिम्मेदारी लेने को तैयार हैं। त्रिवेंद्र सिंह रावत के चुनाव नहीं लड़ने के साथ ही एक बड़ा सवाल उठ रहा है कि क्या उन्हें हार का डर सता रहा है? दूसरी ओर, राजनैतिक सूत्रों की माने, तो त्रिवेंद्र सिंह रावत को केंद्र में कोई बड़ी जिम्मेदारी भी दी जा सकती है। त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पार्टी हाईकमान के निर्देश के बाद पिछले साल 09 मार्च को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। बताया जा रहा था कि केंद्रीय नेतृत्व ने त्रिवेंद्र सिंह रावत को मुख्यमंत्री पद से हटाने का फैसला पर्यवेक्षकों की रिपोर्ट के आधार पर लिया है। पर्यवेक्षकों ने कोर ग्रुप और प्रमुख विधायकों-सांसदों की राय के आधार पर केंद्रीय नेतृत्व को बताया है कि राज्य में अगले साल होने वाले चुनाव को लेकर स्थिति बहुत अच्छी नहीं है। भाजपा विधायकों ने उत्तराखंड पहुंच पर्यवेक्षकों के सामने यह आशंका जताई थी कि यदि त्रिवेंद्र सिंह रावत मुख्यमंत्री रहे तो पार्टी अगला चुनाव हार सकती है। दिल्ली से विशेषतौर से भेजे गए पर्यवेक्षक रमन सिंह की अध्यक्षता में हुई कोर कमेटी की बैठक के बाद सिंह ने अपनी रिपोर्ट पार्टी राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को सौंपी थी। इस समय त्रिवेंद्र सिंह रावत देहरादून जिले की डोईवाला विधानसभा सीट से विधायक हैं।

यमुनोत्री क्षेत्र भाजपाइयों ने विधायक केदार रावत का किया विरोध, कहा-युवा चेहरे को देें टिकट

देहरादूना। उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव के लिए जैसे-जैसे टिकट बंटवारे की तारीख नजदीक आ रही है, वैसे-वैसे ही पार्टी कार्यकर्ताओं का विरोध भी तेज हो रहा है। बुधवार को भारी संख्या में भाजपा मुख्यालय पहुंचे कार्यकर्ताओं ने यमुनोत्री विधायक केदार सिंह रावत का जमकर विरोध किया। आक्रोशित कार्यकर्ताओं का कहना था कि भाजपा को बचाना है तो केदार सिंह रावत को हटाना होगा। प्रदर्शनकारियों ने कहा कि यमुनोत्री विधानसभा सीट में विकास के नाम पर कुछ भी नहीं किया गया है। कार्यकर्ताओं ने कहा कि यमुनोत्री विधानसभा क्षेत्र में युवा और नए चेरहे को चुनावी मैदान में उताना चाहिए। चूंकि, बीजेपी का नारा है ‘अबकी बार 60 के पार’ और यह तभी सफल हो सकता है, जब यमुनोत्री विधानसभा क्षेत्र से केदार सिंह रावत का टिकट काटते हुए युवा चेहरे को मौका दिया जाए। इससे पहले भी कार्यकर्ता केदार सिंह रावत को टिकट देने का विरोध कर चुके हैं। प्रदर्शनकारियों का कहना था कि यमुनोत्री विधानसभा सीट में कई युवा दावेदार हैं, जो जनता के बीच काफी समय से लोकप्रिय होने के साथ ही पिछले कई सालों से राजनीति में सक्रिय हैं। इससे पहले भी कार्यकर्ताओं ने विधायकों के खिलाफ विरोध दर्ज करा चुके हैं। गत दिवस हरिद्वार ग्रामीण से विधायक व कैबिनेट मंत्री स्वामी यतीश्वरानंद के खिलाफ वहां के कार्यकर्ताओं ने विरोध कर टिकट काटने की मांग की थी।

एसजेवीएन ने अपने जलविद्युत स्‍टेशनों से इनसेंटिव के रूप में 34.40 करोड़ रु. अर्जित किए

देहरादून। एसजेवीएन के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक नन्‍द लाल शर्मा ने बताया कि कंपनी ने वित्तीय वर्ष 2021-22 की तीन तिमाहियों में 1500 मेगावाट नाथपा झाकड़ी जलविद्युत स्‍टेशन और 412 मेगावाट रामपुर जलविद्युत स्‍टेशन से डेविएशन सेटलमेंट मैकेनिज्‍म के तहत इनसेंटिव के रूप में 34.40 करोड़ रुपए अर्जित किए हैं। डेविएशन सेटलमेंट मैकेनिज्‍म एक फ्रीक्वेंसी लिंक्ड रेगुलेटरी मैकेनिज्‍म है, जो ग्रिड की स्थिरता सुनिश्चित करता है जो ग्रिड को सपोर्ट करने तथा स्थिर करने के लिए विद्युत उत्‍पादकों को पुरस्कृत करता है। यह इनसेंटिव आय विद्युत उत्पादन से अर्जित राजस्व के अतिरिक्त है। श्री शर्मा ने अवगत कराया कि एसजेवीएन मेगा हाइड्रो पावर स्टेशनों का सफलतापूर्वक संचालन कर रहा है और ग्रिड की स्थिरता को सुनिश्चित कर रहा है। ऊर्जा की अनिरंतर प्रकृति के कारण, ग्रिड की स्थिरता और सुरक्षा को बनाए रखने के लिए विद्युत का पूर्वानुमान और शेड्यू‍लिंग आवश्यक है। विद्युत उत्‍पादक को प्रत्येक विद्युत स्टेशन के लिए विद्युत उत्पादन कार्यक्रम का पूर्वानुमान और घोषणा करना आवश्‍यक होता है। इसके अतिरिक्‍त, श्री शर्मा ने अपने मुख्‍य पावर स्‍टेशनों यथा नाथपा झाकड़ी तथा रामपुर द्वारा एक दिन, एक महिने तथा एक तिमाही में विद्युत उत्‍पादन के लिए बनाए गए विभिन्‍न रिकार्डों की भी प्रशंसा की। श्री शर्मा ने बताया कि वर्तमान वित्तीय वर्ष की तीन तिमाहियों में 34.40 करोड़ रुपए की इनसेंटिव आय के साथ, एसजेवीएन ने गत दो वित्तीय वर्षों की इसी अवधि में अर्जित इनसेंटिव से अधिक इनसेंटिव प्राप्‍त किया है। एसजेवीएन ने इसी अवधि के लिए वित्‍तीय वर्ष 2019-20 में 12.10 करोड़ रुपए तथा वित्‍तीय वर्ष 2020-21 में इसी अवधि के लिए 21.86 करोड़ रुपए का इनसेंटिव अर्जित किया था। एसजेवीएन अपने विद्युत उत्पादन को ग्रिड स्थिरता और सुरक्षा के साथ जोड़कर लगातार ग्रिड की सहायता कर रहा है। वर्तमान में, एसजेवीएन के पास 16432 मेगावाट की 41 परियोजनाओं का एक मजबूत पोर्टफोलियो है और इसने भारत के नौ राज्यों तथा पड़ोसी देशों नेपाल एवं भूटान में अपनी उपस्थिति दर्ज की है। कंपनी वर्ष 2023 तक 5000 मेगावाट, 2030 तक 12000 मेगावाट तथा 2040 तक 25000 मेगावाट की स्थापित क्षमता के साझा विजन को साकार करने की दिशा में अग्रसर है।

बिपिन रावत के छोटे भाई कर्नल विजय रावत ने सीएम से की भेंट, भाजपा में हो सकते हैं शामिल

देहरादूना। दिवंगत सीडीएस बिपिन रावत के छोटे भाई कर्नल विजय रावत ने सीएम पुष्कर सिंह धामी से दिल्ली में बुधवार को मुलाकात की। कर्नल विजय बीजेपी में शामिल हो सकते हैं। पार्टी सूत्रों ने पहले ही साफ कर दिया था कि बीजेपी आगामी विधानसभा चुनाव में सीटिंग विधायकों का टिकट काट सकती है। ऐसे में कर्नल विजय रावत के भाजपा ज्वाइन करने के बाद चुनाव लड़ने की अटकलें भी तेज हो गईं हैं। उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव-2022 के लिए 14 फरवरी को मतदान होगा। कर्नल रावत का कहना है कि उनके परिवर और भाजपा की विचारधारा बहुत मिलती है। ऐसे में वह बीजेपी ज्वाइन कर जनता की सेवा करना चाहते हैं। अगर पार्टी की मंजूरी मिलती है तो वह आगामी विधानसभा चुनाव लड़ने के लिए तैयार हैं। दिवंगत सीडीएस रावत उत्तराखंड में काफी एक्टिव थे। गत दो वर्ष पूर्व जब वह केदारनाथ व गंगोत्री धाम के दर्शन करने के बाद 19 सितंबर 2019 को पत्नी संग बतौर सीडीएस उत्तरकाशी के डुंडा ब्लॉक के स्थित अपने ननिहाल थाती गांव पहुंचे और गांव के हर ग्रामीण से बड़ी आत्मीयता मिले, तो गांव का हर व्यक्ति उन्हें अपने बीच में पाकर गौरवान्वित महसूस किया था। इस दौरान, ग्रामीणों की परेशानियों को सुन व देखकर उनके मन में भी यहां के लोगों के लिए कुछ करने टीस भी दिखाई दे रही थी। उन्होंने कहा था कि वे यहां के लिए कुछ करना चाहते हैं। उन्होंने ग्रामीणों को संबोधित करते हुए कहा था कि पहाड़ो से पलायन सबसे बड़ी चिंता है। जिसके लिए वह समय-समय पर केन्द्र व राज्य सरकार से उच्च शिक्षा को बढ़ावा देने की बात करते रहते हैं। उन्होंने कहा था कि पहाड़ांे में जब मेडिकल कालेज, इंजीनियरिंग कालेज खुलेंगे तो यहां के युवा पलायन नही करेंगे। जिसके लिए उन्होंने वादा किया था कि रिटायरमेंट के बाद वे दोबारा यहां आयेंगे और पलायन के दंश से बेहाल पहाड़ के गांवों को फिर से आबाद करने की पहल करेंगे। उत्तराखंड दौरे के दौरान, हमेशा से ही दिवंगत सीडीएस रावत पहाड़ की समस्याओं को दूर करने की बात कहते थे।

लोजपा के प्रमुख चिराग पासवान ने उत्तराखंड के 10 विधानसभा सीटों की पहली सूची जारी की

देहरादूना। लोक जनशक्ति पार्टी के उत्तराखंड अध्यक्ष केदारनाथ पंडित ने पार्टी प्रमुख चिराग पासवान से दिल्ली में मुलाकात की एवं उत्तराखंड के विधानसभा चुनाव पर गहन चिंतन मंथन किया। उन्होंने कहा कि लोक जनशक्ति पार्टी उत्तराखंड के 70 के 70 सीटों पर चुनाव लड़ने जा रही है एवं पहले चरण में 10 सीटों पर हम अपने प्रत्याशियों के नाम की घोषणा जल्द करेंगे। उन्होंने कहा कि पहले चरण में हम राजपुर, धर्मपुर, कोटद्वार, किच्छा, लक्सर, कलियर, मैंगलोर, गढ़ी कैंट, मसूरी एवं खानपुर से प्रत्याशियों के नाम घोषित करेंगे। केदारनाथ पंडित ने उत्तराखंड के वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य पर चिराग पासवान से चर्चा की एवं अपने पार्टी की जो भी गतिविधियां उत्तराखंड में चल रही है उस पर उन्होंने उनको अवगत कराया। केदारनाथ पंडित ने कहा कि चिराग पासवान ने उत्तराखंड के सभी कार्यकर्ताओं को शुभकामनाएं दी हैं। चिराग पासवान जल्द ही उत्तराखंड के दौरे पर आने वाले हैं और जल्द ही अपने सभी उम्मीदवारों एवं कार्यकर्ता को संबोधित भी करेंगे। लोक जनशक्ति पार्टी उत्तराखंड के प्रदेश कार्यालय, कारगी चौक, बंजारावाला, देहरादून में आज पार्टी के तरफ से एक बैठक का आयोजन किया गया एवं सभी कार्यकर्ताओं को दिल्ली में हुए मुलाकात के सभी जानकारी विस्तारपूर्वक दिया गया। कार्यक्रम में लोक जनशक्ति पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष बैलिस्टर पंडित, भरत सिंह नेगी, राष्ट्रीय महासचिव जय गोविंद, प्रदेश सचिव काशीनाथ एवं प्रदेश प्रधान सचिव उमेश कुमार आदि मौजूद रहे।

कुल्हड़ की चाय का मजा ले सकेंगे

हरिद्वारा। चाय सुट्टा बार ने उत्तराखंड के हरिद्वार शहर में अपनी नई शाखा की शुरुआत की है। देवताओं के प्रवेश द्वार वह स्थान है जहां से गंगा भारत में प्रवेश करती है-गंगा के मैदान। इसकी जड़ें प्राचीन वैदिक काल की संस्कृति और परंपराओं में गहरी हैं। क्रिस्टल वर्ल्ड वाटर पार्क पिन 249405 के पास, हरिद्वार रोड में एक पर्व उत्सव की तरह ब्रांड-नए स्टोर की शुरुआत की है। यह क्षेत्र रणनीतिक है क्योंकि यह प्रमुख रोडवेज से जुड़ा हुआ है और शहर के वाणिज्यिक केंद्र के रूप में एक प्रसिद्ध कैटेजिक है। चाई सुट्टा बार के सह-संस्थापक अनुभव दुबे ने लॉन्चिंग के दौरान कहा कि भगवान की अद्भुत आशीर्वाद ने उनके दिलों में चाय सुट्टा बार ने लोगो के दिलो में एक प्यारी सी जगह छोड़ दी है। जिन्होंने अपनी गर्मजोशी और चमचमाती मुस्कराहट के साथ स्टोर का स्वागत किया। लोगों के प्यार और दीवानगी से हाल ही में एचआर गबरू, जिसमें कुछ स्थानीय सितारों को दिखाया गया था, ने चाई सुट्टा बार का गान जारी किया। कंपनी प्रतिदिन 3 लाख से अधिक कुल्हड़ का उपयोग करती है और 1500 से अधिक कुम्हार परिवारों का समर्थन करती है। यह कमजोर वर्गों पर विशेष जोर देने के साथ समाज के विविध वर्ग के 500 से अधिक लोगों को भी रोजगार देता है। ब्रांड की भावपूर्ण चाय को पूरे भारत में 225़ आउटलेट के साथ 110 से अधिक शहरों में वितरित किया गया है और कुछ नाम दुबई और ओमान सहित देशों में भी हैं। हम अपने कुल्हड़ चाय के बारे में प्रचार करने के मिशन पर हैं और लोगों को इसे विश्व स्तर पर आजमाने के लिए और कुल्हड़ के माध्यम से भारत की मिट्टी की सुगंध को अपने हर घूंट में चखें। कार्यक्रम में चाय सुट्टा बार के संस्थापक अनुभव दुबे ने कहा। सीएसबी का सिद्धांत उत्कृष्ट ग्राहक सेवा और एक उत्कृष्ट अनुभव देना है। हमारा लक्ष्य सीएसबी को लोगों की खेती के लिए समर्पित एक वैश्विक ब्रांड के रूप में विकसित करना है। खुशी, दोनों व्यक्तियों और समग्र रूप से समाज को लाभान्वित करना। हम हरिद्वार में अपनी नई लोकेशन के साथ बहुत आगे बढ़ने की उम्मीद करते हैं और चाई और चुस्की के साथ चाय का जश्न मनाते हैं।

डीएम के समक्ष ईवीएम एवं वीवीपेट मशीनों का प्रथम रेंडमाइजेशन किया गया

देहरादूना। विधानसभा सामान्य निर्वाचन-2022 को शांतिपूर्वक, निष्पक्ष ढंग से संपादित करने हेतु जिला निर्वाचन अधिकारी/जिलाधिकारी डॉ आर राजेश कुमार के सम्मुख राजनीतिक पार्टियों के प्रतिनिधियों की उपस्थिति में जनपद की समस्त विधानसभा हेतु ईवीएम एवं वीवीपेट मशीनों का प्रथम रेंडमाइजेशन किया गया। जनपद की समस्त 10 विधानसभाओं हेतु ईवीएम एवं वीवीपैट के प्रथम रेण्डमाइजेशन में 2370 ईवीएम (2370 बीयू(बैलेट यूनिट), 2370 सीयू(कन्ट्रोल यूनिट) एवं 2714 वीवीपैट मशीनों का रेण्डमाइजेशन किया गया। जिला निर्वाचन अधिकारी/जिलाधिकारी के सम्मुख राजनैतिक पदाधिकारियों की उपस्थित में हुए प्रथम ईवीएम एवं वीवीपैट रेण्डमाइजेशन में विधानसभा चकराता हेतु 341 ईवीएम एवं 414 वीवीपैट, विकासनगर हेतु 171 ईवीएम एवं 192 वीवीपैट, सहसपुर हेतु 253 ईवीएम एवं 285 वीवीपैट, धर्मपुर हेतु 292 ईवीएम एवं 333 वीवीपैट, रायपुर हेतु 270 ईवीएम व 312 वीवीपैट, राजपुर हेतु 178 ईवीएम व 206 वीवीपैट, देहरादून कैंट हेतु 190 ईवीएम एवं 213 वीवीपैट, मसूरी हेतु 221 ईवीएम एवं 244 वीवीपैट, डोईवाला हेतु 239 ईवीएम व 272 वीवीपैट तथा ऋषिकेश हेतु 215 ईवीएम एवं 243 वीवीपैट प्रथम रेण्डमाइजेशन किया गया। जिला निर्वाचन अधिकारी/जिलाधिकारी ने बताया कि ईवीएम रैण्डमाईजेशन कार्य को राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों के की उपस्थिति में भारत निर्वाचन आयोग द्वारा तैयार किए गए ईएमएस साफ्टवेयर से रेण्डमाईजेशन किया गया, जिसकी एक-एक प्रति सभी राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों को दी जाएगी। उनहोंने बताया कि 22 एवं 23 जनवरी 2022 को सम्बन्धित रिर्टनिंग अधिकारियों को ईवीएम प्राप्त कराई जाएंगी। उन्हांेने सभी विधानसभावार नियुक्त किए गए रिटर्निंग अधिकारियों को पूर्ण सावधानी बरतने तथा ईवीएम प्राप्त करने हेतु कार्मिक नामित करें तथा इस कार्य में स्वंय पैनीनजर रखते हुए पूर्ण सावधानी के साथ सम्पादित करें। बैठक में अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व के.के मिश्रा, अपर जिलाधिकारी प्रशासन डॉ0 शिव कुमार बरनवाल, उप जिलाधिकारी सदर मनीष कुमार सहित समस्त विधानसभाओं के रिटर्निंग अधिकारियों सहित राजनैतिक दलों से भाजपा से अरविन्द जैन, भारतीय राष्ट्रीय काग्रेंस से अरूण कुमार शर्मा, सीपीआई (एम) से अन्नत आकाश, सीपीआई से एस.एस राजवर, यूकेडी से अभिषेक बहुगुणा, आम आदमी पार्टी रविन्द्र पुण्डीर, बसपा से सत्यपाल उपस्थित थे।

फर्जी पावर ऑफ अटॉर्नी के जरिए भूमि हड़पने वाले महाभ्रष्टाचारी हरक को पार्टी में लेगी क्या कांग्रेसः मोर्चा

विकासनगरा। जन संघर्ष मोर्चा अध्यक्ष एवं जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने पत्रकारों से वार्ता करते हुए कहा कि हरक सिंह रावत जैसे महाभ्रष्टाचारी को पार्टी में लेने से पहले इनके भ्रष्टाचार एवं गुनाहों पर राजनीतिक दलों को गौर फरमाना चाहिए द्य इनके गुनाहों एवं भ्रष्टाचार की कांग्रेस-भाजपा सरकार ने समय रहते अगर सीबीआई/विजिलेंस जांच करा ली होती तो ये महाशय प्रदेश को न लूट पाते। नेगी ने कहा कि राजस्व मंत्री रहते हुए हरक सिंह ने सहसपुर विकासखंड के शंकरपुर में 107 बीघा जमीन फर्जी पावर ऑफ अटॉर्नी के जरिए अपने करीबी के नाम करा अपनी पत्नी व एक करीबी के नाम रजिस्ट्री करवाई, जिस पर जिला शासकीय अधिवक्ता (राजस्व) ने भूमि को सरकार में निहित कर इनके खिलाफ एफआई आर दर्ज करने का सुझाव दिया था तथा मोर्चा ने भी लगातार इनके द्वारा भूमि हड़पने मामले को जोर-शोर से उठाया था, लेकिन अपने घड़ीयाली आंसुओं के जरिए इनको तत्कालीन निशंक सरकार एवं हरीश रावत सरकार ने एक तरह से अभय दान दे दिया था। नेगी ने कहा कि तत्कालीन हरीश रावत सरकार के समय स्टिंग के साजिशकर्ता हरक सिंह के खिलाफ न्यायालय ने इनकी भी सीबीआई जांच के मामले में नोटिस जारी किया हुआ है। नेगी ने कहा कि श्रम मंत्री रहते हुए हरक सिंह ने अपनी करीबी दमयंती रावत को असंवैधानिक प्रतिनियुक्ति के माध्यम से कर्मकार कल्याण बोर्ड का सचिव बनाकर करोड़ों रुपए की लूट की तथा श्रमिकों को घटिया सामान थमाकर लूट डाला तथा इनकी वजह से ही निजी आयुष महा विद्यालयों में अध्ययनरत छात्रों की फीस वृद्धि मामले में मा. उच्च न्यायालय के आदेश के बावजूद भी कई वर्षों तक कोई कार्रवाई नहीं हुई, जिसका कष्ट छात्रों के परिजनों ने झेला ! नेगी ने कहा कि इनके परिजनों के एनजीओ के जरिए भी काफी लूट हुई। नेगी ने सभी राजनीतिक दलों को चेताया कि इनको पार्टी में लेने से पहले इनके भ्रष्टाचार पर भी नजर डालें, जिससे प्रदेश को लूटने से बचाया जा सके। पत्रकार वार्ता में विजय राम शर्मा, मो. असद, भीम सिंह बिष्ट व सुशील भारद्वाज मौजूद थे।

Saturday, 8 January 2022

महाराज ने अपने विधानसभा क्षेत्र को दी 93 करोड़ 10 लाख 55 हजार की योजनाओं की सौगात

पौडीा। प्रदेश के पर्यटन, लोक निर्माण, सिंचाई, धर्मस्व, संस्कृति मंत्री एवं चौबट्टाखाल विधायक सतपाल महाराज ने शनिवार को अपने विधानसभा क्षेत्र के लोगों को करोडों रूपये की विभिन्न योजनाओं की सौगात दी। प्रदेश के पर्यटन, लोक निर्माण, सिंचाई, धर्मस्व, संस्कृति मंत्री एवं चौबट्टाखाल विधायक सतपाल महाराज ने शनिवार को अपने शविधानसभा क्षेत्र में पेयजल, लोक निर्माण एवं सिंचाई विभाग की 93 करोड़ 10 लाख 55 हजार की अनेक योजनाओं का वर्चुअल लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। कैबिनेट मंत्री एवं चौबट्टाखाल विधायक सतपाल महाराज ने तीन विकासखंडों को 8095.78 लाख की धनराशि की चार बडी पेयजल योजनाओं के साथ-साथ 285.72 लाख की धनराशि की 11 सड़कों का वर्चुअल शिलान्यास करने के अलावा 8381.5 लाख की सिंचाई योजनाओं का लोकार्पण कर अपने विधान सभा क्षेत्र को फिर से एक बडी़ सौगात दी है। श्री महाराज ने विकासखंड बीरोंखाल की 10 करोड़ 88 लाख 61 हजार की धनराशि से निर्मित होने वाली ललितपुर रसिया महादेव (जी.वो.वी.) पंपिंग पेयजल योजना, 2284.84 लाख की वेदीखाल (जीओवी) पंपिंग पेयजल योजना, विकासखंड जहरीखाल की 22 करोड़ 21 लाख 1 हजार की लागत की गुजरखंड ग्राम समूह पंपिंग पेयजल योजना और विकासखंड एकेश्वर की 25 करोड़ 1 लाख 32 हजार की लागत से बनने वाली भूमिया डांडा किनगोडीधार पंपिंग पेयजल योजना के साथ साथ कैबिनेट मंत्री और स्थानीय विधायक श्री महाराज ने विकासखंड पाबौ के अंतर्गत 9.10 लाख के किर्खू-पांग-पिनानी मोटर मार्ग से मरखोला तक अवशेष मोटर मार्ग के निर्माण कार्य, 21.78 लाख के विकासखंड एकेश्वर के अंतर्गत मरचूला, सराईखेत बैंजरों पोखडा सतपुली पौड़ी मोटर मार्ग के निर्माण कार्य, 55.68 लाख के डीब बैण्ड से किमोली मोटर मार्ग के स्कपर एवं दीवार निर्माण कार्य, विकासखंड बीरोंखाल के अंतर्गत 3.63 लाख के ग्राम भैसौडा को भैसौडा-बयेडा मिसिंग लिंक मोटर मार्ग जोड़ने हेतु मोटर मार्ग के विस्तारीकरण, 17.46 लाख के ग्राम भिड़कोट से भैसौडा-बयेडा मिसिंग लिंक मोटर मार्ग जोड़ने हेतु मोटर मार्ग के विस्तारीकरण, 13.97 लाख के ग्राम रगडीगाड तक मोटर मार्ग का निर्माण कार्य, 13.08 लाख के टोटाबांज सैन्धार मोटर मार्ग से गांव गेहुलाड तक मोटर मार्ग के नवीनीकरण का कार्य, 56.82 लाख के गैणी छीडा से नानस्यू टण्डोला पजियाणा ग्राम तक मोटर मार्ग के नव निर्माण का कार्य, विकास खंड 21 वर्ग के अंतर्गत 21.78 लाख के सतपुली-एकेश्वर मोटर मार्ग के बडा छामा तक नव निर्माण कार्य, 48.90 लाख के दुन्दराकोटी से ढ़गसोली गजेरासैण मोटर मार्ग पर सेतु नव निर्माण कार्य और 19.23 लाख की लागत से घेरुवा से श्यालनी देवलदेव महादेव पंख नव निर्माण कार्याे का शिलान्यास किया। उन्होंने अपने विधानसभा क्षेत्र मैं नाबार्ड योजना के अंतर्गत विकासखंड बीरोंखाल के अंतर्गत सिसई तथा कंडा तल्ला ग्राम में 176.76 लाख की लिफ्ट सिंचाई योजना, रतकोट-बांगर स्प्रिंकलर प्रणाली पर आधारित 110.58 लाख की लिफ्ट निर्माण योजना, ग्राम जिवई एवं सुखई में स्प्रिंकलर प्रणाली पर आधारित 296.82 लाख की लिफ्ट निर्माण योजना और ग्राम कुण्ड तोल्यूं में 103.16 लाख की लिफ्ट निर्माण योजना के साथ साथ प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के तहत 241.73 लाख की लागत से निर्मित सिमार से ग्वाड़ तल्ला मोटर मार्ग का लोकार्पण भी किया। अपने विधानसभा क्षेत्र में विकास योजनाओं की बड़ी सौगात देते हुए कैबिनेट मंत्री एवं चौबट्टाखाल विधायक सतपाल महाराज ने इसके लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का आभार व्यक्त करते हुए कहा है कि इन योजनाओं के माध्म से पूरे क्षेत्र का सम्पूर्ण विकास होगा। उन्होंने कहा कि वह क्षेत्र की सम्मानित जनता के आशीर्वाद और मुख्यमंत्री के सहयोग के परिणाम स्वरूप निरंतर चौबट्टाखाल विधानसभा क्षेत्र में सभी प्रकार के विकास कार्यों को धरातल पर उतारने का प्रयास कर रहे हैं।

आप के वरिष्ठ नेता रविंद्र जुगरान भाजपा में हुए शामिल

देहरादूना। भाजपा के बढ़ते कुनबे में एक और बड़ा नाम, आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता रविन्द्र जुगरान का शामिल हो गया। पार्टी के हरिद्वार रोड स्थित मीडिया सेंटर में प्रदेशाध्यक्ष मदन कौशिक ने रविन्द्र जुगरान को एक सादे कार्यक्रम में उन्हें शामिल कराया। इस मौके पर अध्यक्ष ने कहा कि जुगरान के अनुभवों और क्षमताओं का लाभ पार्टी के आगामी चुनावों में अवश्य मिलेगा। इस पूर्व पार्टी की तरफ से स्वागत करते हुए मदन कौशिक ने बताया कि जुगरान पार्टी के बहुत ही जुझारू और कर्मठ कार्यकर्ता रहे हैं। वह राज्य आन्दोलन के उन गिने चुने चेहरों में शामिल रहे है जिन्हें आज भी लोग आन्दोलनकारी के रूप में पहचानने हैं। छात्र राजनीति के शीर्ष नेता होने से लेकर पूर्ववृति भाजपा सरकार में दर्जाधारी राज्य मंत्री के तौर पर भी सफलतापूर्वक दायित्व निर्वहन किया है। वहीं पार्टी में शामिल होते हुए जुगरान ने पार्टी में शामिल होने को अपनी घर वापिसी की तरह बताते हुए स्पष्ट किया कि उन्होंने पूर्व में 25 वर्ष भाजपा संघटन में कार्य किया है। कुछ समय के लिए जरुर वह पार्टी से बाहर थे लेकिन जब प्रदेश के विकास और लोक कल्याण के लिए पार्टी का विकल्ल्प चुनने का मौका आया तो उन्होंने पाया कि आज भी उनके जेहन में भाजपा के सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के विचारों के अतिरिक्त कुछ नहीं ठहरता है। लिहाज़ा भाजपा में आना मेरी सिर्फ इच्छा ही नहीं मेरे विचारों अन्तिम संकल्प भी है। इस अवसर पर प्रदेश महामंत्री संगठन मंत्री अजेय, राज्यसभा सांसद नरेश बंसल पार्टी के वरिष्ठ नेता प्रकाश सुमन ध्यानी, ऋषिराज डबराल, राजीव तलवार, अजीत नेगी आदि पार्टी पदाधिकारी शामिल थे।

यूपी से उत्तराखंड हस्तांतरित विकास प्राधिकरणों के कार्मिकों को पेंशन लाभ दे सरकारः मोर्चा

विकासनगरा। जन संघर्ष मोर्चा अध्यक्ष एवं जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने कहा कि हाल ही में सरकार द्वारा उत्तर प्रदेश की नियमावली के तहत भर्ती हुए कार्मिकों को पेंशन आदि लाभ देने की बात कैबिनेट में रखी, जोकि सराहनीय कदम है, लेकिन इसके साथ सरकार को उत्तर प्रदेश के विकास प्राधिकरणों में अपनी वर्षों की सेवा देने के उपरांत उत्तराखंड राज्य में हस्तांतरित हुए कार्मिकों को भी पेंशन सुविधा अनुमन्य करनी चाहिए, जैसा कि इस मामले में कई बार पत्रावली उच्च स्तर पर गतिमान रही, लेकिन कार्मिकों को कोई लाभ नहीं मिल पाया। नेगी ने कहा कि राज्य/ विकास प्राधिकरणों के मामले में उच्च न्यायालय, उत्तर प्रदेश ने वर्ष 20/11/10 में प्राधिकरणों के समस्त कार्मिकों को पेंशन आदि लाभ दिए जाने के निर्देश दिए थे, जिसके क्रम में उत्तर प्रदेश सरकार शासनादेश दिनांक22/12/11 के द्वारा सभी कार्मिकों को पेंशन सुविधा दी जा रही है, लेकिन उत्तराखंड राज्य में इन कार्मिकों को कोई सुविधा नहीं है द्य जहां तक वित्तीय बोझ का सवाल है ये प्राधिकरण लाभ कमाने वाले संस्थान हैं तथा सरकार पर कोई अतिरिक्त वित्तीय भार भी नहीं पड़ेगा तथा इसके साथ-साथ इन कार्मिकों की संख्या भी मुट्ठी भर है। नेगी ने कहा कि दुर्भाग्य की बात है कि विधायकों/सांसदों को पद की शपथ लेते ही मृत्यु होने/त्यागपत्र देने पर आजीवन पेंशन दिए जाने की व्यवस्था है, लेकिन कार्मिकों की 30- 35 साल की सेवा के उपरांत भी पेंशन न मिलना बहुत कष्टकारी ही है। मोर्चा सरकार से मांग करता है कि उत्तर प्रदेश राज्य/ विकास प्राधिकरणों की भांति उत्तराखंड राज्य में हस्तांतरित होकर आए प्राधिकरणों के कार्मिकों को सेवानिवृत्ति उपरांत पेंशन आदि लाभ प्रदान करें।

डीएम ने स्पोर्ट्स कालेज रायपुर में बनाये गए कोविड केयर सेन्टर का निरीक्षण किया

देहरादून। जिलाधिकारी डॉ आर राजेश कुमार ने महाराणा प्रताप स्पोर्ट्स कालेज रायपुर में बनाये गए कोविड केयर सेन्टर का औचक निरीक्षण कर कोविड संक्रमण के बढते मामलों को दृष्टिगत रखते हुए विभिन्न तैयारियों एवं व्यवस्थाओं का जायजा लिया। निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने कोविड केयर सेन्टर में, स्टॉफ, आक्सीजन बैड, आक्सीजन की व्यवस्था सहित कोविड केयर सेन्टर में अवस्थित सुविधाओं के बारे में जानकारी प्राप्त की। इस दौरान जिलाधिकारी ने वहां कार्यरत चिकित्सकों एवं अन्य नर्सिंग स्टॉफ से वार्ता कर कोविड केयर सेन्टर की सुविधाओं एवं अन्य आवश्यक जानकारियां प्राप्त की। जिलाधिकारी ने निर्देश दिए कि सेन्टर में सभी तैयारियां एवं उपकरण सक्रिय रखे जाएं यदि किसी उपकरण एवं सामग्री की आवश्यकता हो तो पूर्व में ही व्यवस्था कर ली जाए ताकि यदि कोविड के मामले बढते हैं तो लोगों को समय से उपचार किया जाए। निरीक्षण के दौरान संयुक्त मजिस्टेªट/उप जिलाधिकारी सदर मनीष कुमार भी उपस्थित रहे। जिलाधिकारी ने कोविड संक्रमण की रोकथाम एवं जागरूकता में जुटे सम्बन्धित विभागों के अधिकारियों को जिला प्रशासन की ओर से बनाये गए कोविड संक्रमण जागरूकता एवं चेतावनी स्टीकर ‘मास्क नहीं तो एन्ट्री नहीं’, ‘मास्क अवश्य और सही तरह से पहने’, ‘आपसी सम्पर्क में दो गज की दूरी है जरूरी’, ‘नियमित रूप से हाटा हाथ सेनिटाइज करें’, ‘कोविड अनुरूप व्यवहार का पालन न करने पर भारी जुर्माना लागया जाएगा’ आदि जागरूकता स्लोगन एवं चेतावनी वाले स्टीकर जनपद के समस्त बाजारों के एन्ट्री गेट एवं सार्वजनिक स्थानों पर लगाने तथा दिए गए निर्देशों का कड़ाई से अनुपालन कराने एवं बाजारों एवं सार्वजनिक स्थानों पर नियमित रूप में छापेमारी अभियान चलाते हुए मास्क का प्रयोग नहीं करने वालों के विरूद्ध चालान की कार्यवाही में तेजी लाने के निर्देश दिए।

तुलाज इंटरनेशनल स्कूल ने मनाया छठा एनुअल स्पोर्ट्स डे

देहरादूना। तुलाज़ इंटरनेशनल स्कूल द्वारा आज स्कूल परिसर में छठे एनुअल स्पोर्ट्स डे मीट का आयोजन किया गया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में प्रसिद्ध भारतीय फ्रीस्टाइल रेसलर साक्षी मलिक मौजूद रहीं, जबकि विशिष्ट अतिथि के रूप में भारतीय फ्रीस्टाइल रेसलर सत्यव्रत कादियान और सेवानिवृत्त भारतीय एथलीट भीम सिंह उपस्थित रहे। कार्यक्रम के दौरान ओवरऑल चौंपियनशिप ट्रॉफी ट्रोजन हाउस को प्रदान की गई जबकि उपविजेता ट्रॉफी ओलंपियन हाउस को प्रदान की गई। स्पार्टन हाउस को बेस्ट मार्च पास्ट हाउस घोषित किया गया और टाइटन हाउस को बेस्ट डिसिप्लिन हाउस का पुरस्कार दिया गया। खेल प्रतियोगिता का शुभारंभ मुख्य अतिथि के स्वागत के साथ हुआ, जिसके बाद रिबन कटाई और ध्वजारोहण हुआ। इस अवसर पर तुलाज़ इंस्टिट्यूट की बीजेएमसी लैब का भी उद्घाटन भी किया गया। बाद में तुलाज़ इंटरनेशनल स्कूल के निदेशक रौनक जैन ने छठे एनुअल स्पोर्ट्स डे मीट के उद्घाटन की घोषणा की। छात्रों को संबोधित करते हुए, मुख्य अतिथि साक्षी मलिक ने कहा, मैं यहाँ मौजूद सभी छात्रों के खेल प्रदर्शन को देखकर बेहद खुश हूँ और गर्व महसूस कर रही हूँ। स्कूल स्तर पर आयोजित खेल गतिविधियां छात्रों को अपनी छिपी प्रतिभा दिखाने के लिए एक अच्छा मंच प्रदान करती हैं।ष् साक्षी एक प्रसिद्ध भारतीय फ्रीस्टाइल रेसलर हैं और ओलंपिक 2016 में कांस्य पदक विजेता, राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार 2016 और पद्म श्री पुरस्कार विजेता 2017 रह चुकी हैं। साक्षी ने छात्रों को सदैव फिट रहने, खेल भावना को बनाए रखने और जीवन भर खेल गतिविधियों को बढ़ावा के लिए प्रेरित किया। विशेष अतिथि भारतीय फ्रीस्टाइल रेसलर, सिल्वर मेडलिस्ट कॉमनवेल्थ गेम्स 2014 और अर्जुन अवार्डी 2017, सत्यव्रत कादियान ने खेलों में शामिल होने के महत्व पर जोर दिया और छात्रों को फिट रहने और समग्र जीवन जीने के जुनून के साथ खेलों को अपनाने के लिए प्रेरित किया। इस कार्यक्रम में कई खेल गतिविधियां देखी गईं, जैसे की हॉर्स राइडिंग शो, जूनियर बॉयज एंड गर्ल्स 100 मीटर रेस, सीनियर बॉयज एंड गर्ल्स 200 मीटर रेस, ताइक्वांडो स्पेशल शो, योगा, सीनियर बॉयज 4×100 मीटर रिले रेस, एरोबिक्स, लड़कों द्वारा पिरामिड का निर्माण और हाउस-वाइज रस्साकशी। सेवानिवृत्त भारतीय एथलीट, अर्जुन अवार्डी 1967 और 5वें एशियाई खेलों 1966 में स्वर्ण पदक विजेता, भीम सिंह ने मौजूद प्रत्येक छात्र रुपी स्पोर्ट्स स्टार की बहुत सराहना की और तुलाज़ इंटरनेशनल स्कूल के दूरदर्शी तत्व की तारीफ़ भी करि, जो खेल क्षेत्र में छात्रों की क्षमता का पोषण और विकास करता है। बाद में कार्यक्रम के दौरान पुरस्कार वितरण समारोह भी आयोजित किया गया, जिसमें विजेताओं को मुख्य अतिथि द्वारा ट्रॉफी और प्रमाण पत्र प्रदान किया गए। कार्यक्रम का समापन तुलाज़ ग्रुप के अध्यक्ष सुनील कुमार जैन के समापन भाषण के साथ हुआ, जिन्होंने खेल प्रतियोगिता को सफलतापूर्वक अंजाम देने के लिए छात्रों और शिक्षकों को बधाई दी। विजय शोभानी द्वारा धन्यवाद ज्ञापित किया गया। इस अवसर पर प्रिंसिपल शालीन शर्मा, संगीता जैन, वाइस प्रिंसिपल रमन कौशल सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

आप के मसूरी विधानसभा कार्यालय गढ़ी कैंट में वर्चुअल संवाद के लिए पोर्टेबल स्टूडियो स्थापित

देहरादून। उत्तराखंड में कोरोना महामारी के बढ़ते हुए आंकड़ों को देखते हुए आम आदमी पार्टी के मसूरी विधानसभा कार्यालय डाकरा (गढ़ी कैंट) में वर्चुअल संवाद के लिए पोर्टेबल स्टूडियो स्थापित किया गया है। इस स्टूडियो के माध्यम से मसूरी विधानसभा क्षेत्र में प्रचार प्रसार का कार्य किया जाएगा। आप पार्टी के मसूरी विधानसभा क्षेत्र प्रभारी श्याम बोहरा ने बताया कि उत्तराखंड में कोरोना महामारी के बढ़ते हुए आंकड़ों को देखते हुए हमने यह निर्णय लिया हैं। मसूरी विधानसभा क्षेत्र में अब जो भी प्रचार-प्रसार का कार्य किया जाएगा वह वर्चुअल माध्यम से किया जाएगा। अपने इस स्टूडियो में हम कुछ मोबाइल एप्लीकेशन के माध्यम से जनसंवाद करेंगे। वहीं हमने मसूरी विधानसभा क्षेत्र के सभी कार्यकर्ताओं को यह बता दिया है कि आगे से आप जनसंवाद के लिए वर्चुअल माध्यम को अपनाएं एवं अपनी बात पूरी स्पष्टता से लोगों के सामने रखें साथ ही साथ कोरोना महामारी के बारे में भी लोगों को अलर्ट करें। श्याम बोहरा कहते हैं कि यह चुनाव का वक्त है और हमें अपने मसूरी विधानसभा क्षेत्र के सभी लोगो तक अपनी बात भी रखनी है परंतु हमारी पहली प्राथमिकता यह है कि हम अपने प्रदेश के लोगों एवं कार्यकर्ताओं को सुरक्षित रखें। इसलिए महामारी के सभी प्रोटोकॉल को ध्यान में रखते हुए जनसंवाद करना है और लोगों तक पहुंचना है। हमने अपने सभी कार्यकर्ताओं को सूचित कर दिया हैं कि वे सब अपने-अपने क्षेत्रों में लोगों को व्हाट्सएप वीडियो कॉल, जूम मीटिंग एवं गूगल मीट जैसे एप्लीकेशन के मदद से जनता के बीच संवाद करें एवं अपनी बात रखें, वही हमारे गढ़ी कैंट डाकरा कार्यालय में भी ऐसी व्यवस्था किया जा रहा है जहां पर 10 से 15 लोगों एक साथ स्टूडियो में बैठकर अपने-अपने गांव एवं क्षेत्र में प्रचार प्रसार कर सकते हैं और लोगों से जुड़ सकते हैं।

आचार संहिता लागू होने से चंद घंटे पूर्व पुलिसकर्मियों को बड़ी सौगात

देहरादूना। चुनाव आचार संहिता लागू होने से चंद घंटे पूर्व उत्तराखण्ड सरकार द्वारा 2001 के पुलिसकर्मियों को 2-2 लाख रूपये देने के आदेश जारी कर दिये गये हैं। बता दें कि ग्रेड पे बढ़ाने की मांग को लेकर बीते लम्बे समय से पुलिसकर्मियों के परिजनों द्वारा आंदोलन किया जा रहा था। हालांकि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी द्वारा स्मृति दिवस परेड के दौरान खुले मंच से घोषणा की गयी थी कि 2001 में भर्ती हुए सिपाहियों को सितम्बर माह से ग्रेड पे दे दिया जायेगा। साथ ही उन्होंने इसका शासनादेश जल्द लागू किये जाने की बात कही थी। लेकिन जब सीएम की घोषणा के दो माह बाद भी जब शासनादेश जारी नहीं किया गया तो पुलिस परिजनों का धैर्य समाप्त हो गया और पुलिस परिजनों का धैर्य समाप्त हो गया और उनके द्वारा मुख्यमंत्री आवास व सचिवालय कूच किया गया था। पुलिस कर्मियों की नाराजगी को देखते हुए आज सरकार द्वारा 2001 बैच के पुलिसकर्मियों को एकमुश्त 2-2 लाख रूपये देने के शासनादेश जारी कर दिये गये है।

उत्तराखंड में 14 फरवरी को होगा विधानसभा चुनाव का मतदान, आचार संहिता लागू

देहरादूना। उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव की रणभेरी शनिवार को बज गई। चुनाव आयोग ने विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया है। राज्य में 14 फरवरी को विधानसभा चुनाव का मतदान होगा। विधानसभा चुनाव की तिथि घोषित होने के साथ ही प्रदेश में आदर्श आचार संहिता प्रभावी हो गई है। नई दिल्ली में केंद्रीय मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील च्रंदा ने चुनाव की तारीखों की घोषणा करते हुए बताया कि उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव-2022 के लिए 14 फरवरी को मतदान होगा। कहा कि कोरोना के बढ़ते केसों के बीच 15 जनवरी तक राजनैतिक रैलियों पर रोक लगाई गई है। कोविड केसों के कम होने पर ही रैली करने की अनुमति दी जाएगी। उत्तराखंड में दूसरे चरण में चुनाव होगा। 21 जनवरी से उम्मीदवार नामांकन कर सकते हैं, जिसकी आखिरी तारीख 28 जनवरी होगी। नाम वापसी 31 जनवरी तक हो सकेगी। चंद्रा ने बताया कि 10 मार्च 2022 को मतगणना होगी। चुनाव प्रचार पर बोलते हुए चंद्रा ने कहा कि चुनावी रैली, रोड शो, बाइक रैली, नुक्कड़ सभाओं पर रोक लगा दी गई है। सिर्फ वर्चुअल कैंपेन की ही अनुमति होगी। चुनाव की समाप्ति के बाद किसी भी तरह के विजय जुलूस पर रोक होगी। चुनाव आयोग ने कहा कि इलेक्शन के दौरान अवैध पैसे और शराब पर कड़ी निगरानी रखी जाएगी। इसके अलावा कोरोना संकट को देखते हुए उम्मीदवारों को ऑनलाइन नामांकन की भी सुविधा दी जाएगी। चुनाव आचार संहित इलेक्शन शेड्यूल जारी होने के बाद ही लागू हो जाएगी। चुनाव की अधिसूचना तत्काल प्रभाव से लागू हो गई है और इसके चलते अब किसी भी राज्य में कोई सरकार जनता को लुभाने की घोषणाओं का ऐलान नहीं कर सकेगी। मुख्य चुनाव आयुक्त ने बताया कि वोटर अब प्रत्याशियों के बारे में सारी जानकारी मोबाइल ऐप से जुटा सकेगा। कहा कि ऐप से वोटरों को उम्मीदवारों की सभी जानकारी मिल सकेगी। कहा कि यदि कोई राजनीतिक दल आपराधिक छवि वाले कैंडिडेट को चुनता है तो उसके बारे में अखबारों में जानकारी देनी होगी। इसके अलावा यह भी बताना होगा कि उन्हें क्यों चुना गया है। उम्मीदवारों को भी अपने ऊपर दर्ज आपराधिक मुकदमों के बारे में जानकारी होगी।

Thursday, 6 January 2022

हमें हर हाल में प्रदेश की जनता एवं अपने कार्यकर्ताओं को कोरोना से सुरक्षित रखना है: श्याम बोहरा

देहरादून। आम आदमी पार्टी के मसूरी विधानसभा क्षेत्र प्रभारी श्याम बोहरा ने राज्य में बढ़ते हुए कोरोना महामारी को देखते हुए कहा है कि सरकार और चुनाव आयोग एक सर्वव्यापी गाइडलाइंस तय करें और वह गाइडलाइन सभी दलों के लिए मान्य हो। जिसमें सभी राजनैतिक दल एवं उनके कार्यकर्ता और जनता सब सुरक्षित रहे। कहा मैं अपने मसूरी विधानसभा क्षेत्र में सरकार द्वारा तय किए गए सभी गाइडलाइंस का पालन करूंगा एवं अपने कार्यकर्ताओं को अनुशासन में रहकर प्रचार-प्रसार करने के लिए निवेदन करूंगा। साथ ही साथ अगर जरूरत पड़े तो हम डिजिटल जनसभा का भी आयोजन कर सकते हैं। हमें हर हाल में प्रदेश की जनता एवं अपने कार्यकर्ताओं को सुरक्षित रखना है।

Featured Post

हेरिटेज स्कूल के युवराज ने जीता एयर पिस्टल प्रतियोगिता में काँस्य पदक

देहरादून। हेरिटेज स्कूल के कक्षा नौवीं के छात्र चैधरी युवराज सिंह ने 10 मीटर एयर पिस्टल शूटिंग अंडर-17 वर्ग में काँस्य पदक जीत कर स्क...