Sunday, 29 November 2020

देशी शराब के साथ दो गिरफ्तार

हरिद्वार। नगर कोतवाली पुलिस ने अवैध शराब की बिक्री के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान के तहत दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार एसआई खेमेंद्र सिंह गंगवार व कांस्टेबल बलवंत सिंह व सुनील ने चरण सिंह व सर्वेश निवासी भूपतवाला को भृगु आश्रम के सामने से देशी शराब के साथ गिरफ्तार किया है। दोनों के कब्जे से क्रमशः 25 व 22 पव्वे बरामद हुए हैं। दोनों के खिलाफ आबकारी अधिनियम के तहत मुकद्मा दर्ज किया गया है।

स्मैक व इलेक्ट्रोनिक तराजू सहित दो पकड़े

हरिद्वार। कनखल थाना पुलिस ने चेकिंग के दौरान दो लोगों को स्मैक व इलेक्ट्रोनिक तराजू के साथ गिरफ्तार किया है। आरोपियों में एक मूल रूप से उ.प्र. के सहारनपुर तथा दूसरा जगजीतपुर का निवासी है। पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार जगजीतपुर चैकी इंचार्ज राजेंद्र सिंह रावत व कांस्टेबल पंकजी देवली व जयपाल सिंह ने चेकिंग के दौरान खोखरा तिराहे के पास संदिग्ध अवस्था में खड़े दो लोगों को हिरासत में लेकर तलाशी तो उनके कब्जे से 11.33 ग्राम स्मैक व इलेक्ट्रोनिक तराजू बरामद हुई। पूछताछ में उन्होंने अपने नाम शाहनवाज मूल निवासी माई कोटा थाना नागल सहारनुर हाल निवासी गणपति धाम फेस-3 जगजीतपुर व गौरव शर्मा निवासी रामलीला ग्राउण्ड जगजीतपुर बताए। दोनों के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट में मुकद्मा दर्ज किया गया है।

सीएम ने गुरू नानक जयंती की शुभकामनाएं दीं

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने गुरू नानक जयंती की प्रदेशवासियों को शुभकामनाएं दी हैं। उन्होंने कहा कि गुरूनानक ने समाज की बुराईयों को दूर करने के लिए उपदेशों एवं शिक्षा के माध्यम से लोगों को जागरूक किया। गुरूनानक देव ने जनता को समानता एवं भाईचारे का भी संदेश दिया। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि गुरू नानक देव जी ने हमें प्रेम, सामाजिक समरसता व शांति के मार्ग पर चलने का संदेश दिया है। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर प्रदेशवासियों के जीवन में खुशहाली और समृद्धि की कामना की है।

राज्यसभा सांसद नरेश बंसल 30 नवंबर को लेंगे शपथराज्यसभा सांसद नरेश बंसल 30 नवंबर को लेंगे शपथ

देहरादून। उत्तराखंड से नवनिर्वाचित राज्य सभा सांसद नरेश बंसल 30 नवम्बर को नई दिल्ली में राज्य सभा प्रांगण में शपथ लेंगे। श्री बंसल आज दिल्ली के लिए रवाना हो गए है। रवाना होने से पहले राज्य सभा सांसद नरेश बंसल ने कल देहरादून में राष्ट्रीय महामंत्री प्रदेश प्रभारी व सासंद दुष्यन्त गौतम, सह प्रभारी, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सासंद रेखा वर्मा, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत व अन्य पदाधिकारियों, मंत्रीगणों से भेट की। श्री बंसल राज्य के विभिन्न हिस्सों से आए कार्यकर्ताओं से मिले व उनकीं शुभकामनाएं ली तथा उनकी समस्याओं को सुना। नव निर्वाचित राज्य सभा सांसद नरेश बंसल कल नई दिल्ली में राज्य सभा के मुख्य प्रांगण में अन्य नव निर्वाचित संसद सदस्यों के साथ शपथ लेगें। उपराष्ट्रपति व सभापति राज्य सभा वैंकया नायडू द्वारा सभी को शपथ दिलाई जाएगी। कोरोना संकट काल मे यह कार्यक्रम बहुत सूक्ष्म रखा गया है तथा कोवीड-19 के सभी सरकारी नियमो का पालन करते हुए यह कार्यक्रम होगा। इसमे नेता सदन राज्य सभा,नेता विपक्ष राज्य सभा, उपनेता सदन, उत्तराखंड व अन्य प्रदेश के सांसदों के उपस्थित रहने की संभावना है।

अनियंत्रित होकर पलटा ट्रक

हरिद्वारा। रामपुर चुंगी पर नेशनल हाईवे-73 पर आज एक बड़ा हादसा होने से बच गया। तड़के तीन बजे पानीपत से आ रहा एक ट्रक अचानक अनियंत्रित होकर पलट गया। गनीमत रही कि हादसे में कोई हताहत नहीं हुआ. घटना के दौरान ड्राइवर को हल्की चोटें आईं हैं। ट्रक में प्लास्टिक के दाने के बड़े-बड़े बोरे भरे हुए थे। ट्रक के पलटने के दौरान बोरे नेशनल हाईवे पर फैल गए। जिस कारण हाईवे पर जाम लग गया।स्थानीय लोगों ने घटना की सूचना पुलिस को दी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने आसपास के लोगों की मदद से बोरों को सड़क से हटाया, जिसके बाद यातायात सुचारू हुआ।

कार खाई में गिरी, तीन घायल

रुड़कीा। मंगलौर कोतवाली क्षेत्र के मोहम्मदपुर पावर हाउस के पास एक कार अनियंत्रित होकर खाई में गिर गई। घटना में कार सवार एक महिला सहित दो लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। स्थानीय लोगों ने कड़ी मशक्कत के बाद घायलों को कार से बाहर निकालकर एक निजी क्लीनिक में उपचार कराया। बताया जा रहा है कि कार दिल्ली से हरिद्वार जा रही थी। रुड़की के मोहम्मदपुर पावर हाऊस के पास गंगनहर पटरी पर अंधा मोड़ होने से आए दिन हादसे होते रहते हैं। मोड़ के समीप सावधानी का कोई भी बोर्ड नहीं लगाया गया है। वहीं आज सुबह एक कार दिल्ली से हरिद्वार की तरफ जा रही थी, जैसे ही कार पावर हाउस के पास मोड़ पर पहुंची, अनियंत्रित होकर खाई में गिर गई। हादसे में तीन लोग घायल हो गए. जिन्हें राहगीरों ने कार से बाहर निकालकर पास के एक निजी क्लीनिक में ले गए। जहां घायलों का उपचार किया गया।

पुलिस ने किया नशा तस्कर गिरफ्तार

हरिद्वारा। रानीपुर कोतवाली पुलिस ने एक चरस तस्कर को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने बताया कि तस्कर के पास से करीब 200 ग्राम चरस बरामद किया गया है। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट में मुकदमा दर्ज कर लिया है। गौर हो कि पुलिस नशे के खिलाफ अभियान चलाए हुए है। इसी कड़ी में पुलिस ने एक नशा तस्कर को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने बताया कि तस्कर के पास से करीब 200 ग्राम चरस, इलेक्ट्रॉनिक तराजू और ढाई हजार रुपए नकदी बरामद किया गया है। रानीपुर कोतवाली प्रभारी योगेश देव सिंह ने बताया कि हरिद्वार एसएसपी के निर्देशन में नशे के खिलाफ अभियान चलाया गया है। इस के तहत लक्ष्मीपुराम अशोक वाटिका मार्ग के पास कच्चे रास्ते से इस तस्कर को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि आरोपी शौकीन इससे पूर्व में भी एनडीपीएस एक्ट में जेल जा चुका है। उन्होंने बताया कि आरोपी के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट में मुकदमा दर्ज कर लिया है। जिसके बाद आरोपी को कोर्ट में पेश किया गया।

30 नवंबर को लगेगा इस साल का अंतिम चंद्र ग्रहण

हरिद्वारा। 2020 का अंतिम चंद्र ग्रहण 30 नवंबर यानी सोमवार को लगेगा। इस चंद्र ग्रहण को उपच्छाया चंद्र ग्रहण कहते हैं। इसलिए इस बार सूतक नहीं लगेगा और ना ही मूर्ति स्पर्श की मनाई होगी। यह चंद्र ग्रहण किसी भी राशि पर अपना प्रभाव नहीं डालेगा। भारत में यह चंद्र ग्रहण नहीं दिखाई देगा। ईरान, इराक सहित कई मुस्लिम देशों पर इस चंद्र ग्रहण का प्रभाव देखने को मिलेगा। चंद्र ग्रहण के बारे में चंद्र और सूर्य ग्रहण, इसका पुराण और ग्रंथों में वर्णन मिलता है। इसकी एक कहानी है कि जब समुद्र मंथन के दौरान देवों और दानवों में समुद्र से निकले अमृत कलश को लेकर विवाद हुआ था। तो भगवान विष्णु ने मोहिनी का रूप धारण करके देवता और असुरों को अलग-अलग बैठा दिया था। भगवान विष्णु देवताओं को अमृत पान कराने लगे, लेकिन धोखे से राहु ने अमृत चख लिया। तब चंद्रमा और सूर्य ने ये बात विष्णु को बताई और विष्णु ने सुदर्शन चक्र से राहु का सिर धड़ से अलग कर दिया था, लेकिन अमृत चखने की वजह से वह मरा नहीं और उसका सिर वाला भाग राहु और धड़ वाला भाग केतु के नाम से जाना गया। इसी वजह से राहु और केतु सूर्य और चंद्रमा को अपना शत्रु मानते हैं और पूर्णिमा के दिन चंद्रमा को ढक लेते हैं। तो चंद्र ग्रहण लगता है। सूर्य और चंद्र ग्रहण एक खगोलीय घटना है। वैज्ञानिक और ज्योतिषीय नजरिए से इसका विशेष महत्व है। वैज्ञानिक रूप से ग्रहण एक अनोखी खगोलीय घटना है, जबकि धार्मिक और ज्योतिष नजरिए से ग्रहण की घटना व्यक्ति के जीवन पर विशेष प्रभाव डालती है। ज्योतिष मान्यताओं के अनुसार ग्रहण को अशुभ माना गया है। इस बार 30 नवंबर को पड़ने वाला चंद्र ग्रहण उपच्छाया है। यह किसी भी राशि पर अपना प्रभाव नहीं दिखाएगा। ज्योतिषाचार्य प्रतीक मिश्र पूरी का कहना है कि उपच्छाया ग्रहण का कोई वर्णन नहीं है। इस ग्रहण में मूर्ति स्पर्श की मनाही नहीं है और ना ही सूतक का प्रभाव होता है। किसी भी राशि पर यह ग्रहण असर नहीं डालता है। इस चंद्र ग्रहण का पृथ्वी पर कोई प्रभाव देखने को नहीं मिलेगा। भारत में यह चंद्र ग्रहण देखने को नहीं मिलेगा, लेकिन ईरान और इराक सहित कई मुस्लिम देशों में इसका प्रभाव देखने को मिलेगा। इस वर्ष तीन बार उपच्छाया ग्रहण लगा है और यह 3 से 4 महीने में लगता रहता है।

सूर्याधार क्षेत्र में जियो का टावर लगाया जायेगाः सीएम, किया विभिन्न योजनाओं का शिलान्यास

देहरादूना। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने सूर्यधार झील के लोकार्पण अवसर पर विभिन्न योजनाओं का शिलान्यास किया। उन्होंने विकासखण्ड डोईवाला में सुसवा नदी के दायें किनारे पर लाल माटी खाले से बडकली पुल तक सुरक्षात्मक कार्य के लिए 2.63 करोड़ की सुरक्षात्मक कार्ययोजना, विकासखण्ड रायपुर के बांदल नदी पर सरखेत ग्राम की 1.85 करोड़ रूपये की लागत की बाढ़ सुरक्षा योजना एवं डोईवाला विकासखण्ड के अन्तर्गत सिमलासग्रान्ट नहर के विस्तारीकरण सुरक्षा एवं नवीनीकरण की 2.31 करोड़ की योजनाओं का शिलान्यास किया। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि सूर्याधार क्षेत्र में लोगों को संचार सुविधाओं हेतु जियो का टावर लगाया जायेगा। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि आज उत्तराखण्ड को एक ऐसा प्रोजेक्ट समर्पित किया जा रहा है, जिसके पीछे एक दूरगामी सोच है। इसका प्रयोजन व संदेश बहुत बड़ा है। उन्होंने कहा कि इस झील को बनाने का उद्देश्य सिर्फ पेयजल एवं सिंचाई ही नहीं है, इसके व्यापक परिणाम आयेंगे। इससे पानी के सोर्स रिचार्ज होंगे, पर्यावरण के लिए बेहतर ईको सिस्टम होगा। राज्य सरकार का प्रयास है कि आने वाले समय में यह क्षेत्र पर्यटन की दृष्टि से बेहतर डेस्टिनेशन बने। इससे आने वाले समय में इस क्षेत्र में रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि झील से 18 गांवों को ग्रैविटी वाटर की उपलब्धता होगी एवं 1247 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई की सुविधा उपलब्ध होगी। पहले इस क्षेत्र में 534 हेक्टेयर क्षेत्र में ही सिंचाई हो पाती थी। इस जलाशय के बनने से क्षेत्र की 30 हजार आबादी की प्रति व्यक्ति की प्रतिदिन 40 लीटर पानी की उपलब्धता से बढ़कर 100 लीटर प्रतिदिन हो जायेगी, अर्थात् प्रतिव्यक्ति को ढाई गुना अधिक पानी की उपलब्धता हो जायेगी। इस सूर्याधार में वाटर स्पोर्ट्स को विकसित करने के प्रयास किये जायेंगे। यहां पर साल में 3-4 दिन के कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि डोईवाला क्षेत्र का तेजी से विकास हो रहा है। डोईवाला में सिपेट बनाया गया है। रानीपोखरी में नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी बनाई जा रही है। हर्रावाला में जच्च्चा बच्चा के लिए मल्टी स्पेशलिटी कैंसर हॉस्पिटल बनाया जा रहा है। 400 करोड़ रूपये की लागत से साइंस कॉलेज बनाया जायेगा। जिसमें रिसर्च का काम होगा। इसके लिए जगह चिन्हित कर ली गई है। यह कॉलेज 35-40 हेक्टेयर भूमि में बनेगे। इसमें देश-विदेश के वैज्ञानिक यहां विजिटिंग प्रोफेसर के रूप में आयेंगे। यह राज्य ही नहीं, बल्कि देश के लिए भी बड़ी उपलब्धि होगी। हमारे राज्य में माध्यमिक स्तर तक तो बहुत अच्छी शिक्षा है, लेकिन उच्च शिक्षण संस्थान अभी अधिक नहीं। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि देहरादून में सौंग बांध एवं नैनीताल जनपद में जमरानी बांध दो महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट पर कार्य किया जा रहा है। सौंग बांध से 60-65 वर्षों तक देहरादून एवं उसके आस-पास के क्षेत्रों में ग्रैविटी वाटर उपलब्ध होगा। इससे 100 करोड़ से अधिक बिजली का खर्चा बचेगा। सौंग बांध के लिए फोरेस्ट क्लीयरेंस मिल चुकी है, राज्य सरकार का प्रयास है कि मार्च 2021 तक इसका शिलान्यास हो। रिस्पना नदी के पुनर्जीवीकरण के लिए लगातार प्रयास किये जा रहे हैं। हर जनपद में झीलें बनाई जा रही है। वर्षा जल संचय एवं पानी के सोर्स को बढ़ाकर पानी की दिक्कतों को दूर करने के प्रयास किये जा रहे हैं। इस अवसर पर भाजपा के जिलाध्यक्ष शमशेर सिंह पुण्डीर, राज्यमंत्री करन बोहरा, कृष्ण कुमार सिंघल, खेमपाल सिंह, सचिव सिंचाई नितेश झा, प्रमुख अभियंता सिंचाई मुकेश मोहन, जिलाधिकारी देहरादून आशीष श्रीवास्तव, मुख्यमंत्री के विशेष कार्याधिकारी धीरेन्द्र पंवार, मुख्य अभियंता सिंचाई जयपाल सिंह, अधिशासी अभियंता सिंचाई डी.के. सिंह, स्व. गजेन्द्र दत्त नैथानी के भतीजे संजीव नैथानी आदि उपस्थित थे।

रविवार को दून में रही पूर्ण साप्ताहिक बंदी

देहरादूना। कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए देहरादून जिले के बाजारों में रविवार को पूर्ण साप्ताहिक बंदी रखी गई। रविवार को केवल आवश्यक सेवाओं की दुकानें ही खुली रखने के निर्देश प्रशासन ने दिए थे। देहरादून जिला प्रशासन ने देहरादून में रविवार के दिन साप्ताहिक बंदी लागू की थी। लेकिन, त्योहारों के दौरान साप्ताहिक बंदी में छूट दी गई थी। इस दौरान कोरोना के मामले बढ़ने के बाद जिला प्रशासन ने इसे दोबारा इसे लागू करने का निर्णय लिया है। शराब की दुकानों को खोलने या बंद करने को लेकर साप्ताहिक बंदी के तहत प्रशासन की तरफ से कोई स्पष्ट आदेश ना होने की वजह से शराब की दुकानें खुली रहीं। इस दौरान कई जगह शराब की दुकान पर सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन नहीं हुआ। जिला प्रशासन के अनुसार साप्ताहिक बंदी में फल-सब्जी, दूध, दवा, पेट्रोल पंप और गैस एजेंसी को छोड़कर अन्य व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रखे गए। बड़े शॉपिंग मॉल, डिपार्टमेंटल स्टोर, शराब की दुकानें भी बंद रहीं।

गुरुनानक देव के प्रकाश पर्व पर दी बधाई

देहरादूना। गुरुनानक देव के 551वें प्रकाश पर्व पर उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद अग्रवाल ने प्रदेशवासियों को बधाई दी है।उन्होंने कहा है कि हमें एक समृद्ध एवं शांतिपूर्ण जीवन के लिए गुरु नानक देव के उपदेशों का पालन करना चाहिए। श्री अग्रवाल ने गुरुनानक जयंती की पूर्व संध्या पर अपने शुभकामना संदेश में कहा कि गुरुनानक देव जी के व्यक्तित्व में दार्शनिक, योगी, गृहस्थ, धर्म संस्थापक, समाज सुधारक, कवि, देशभक्त एवं विश्वबंधु के गुण मिलते हैं।उन्होंने शांति, दया एवं मानवता का पवित्र संदेश देने को ले चारों दिशाओं में बड़े पैमाने पर यात्राएं की थीं। इन्हें उदासी के नाम से जाना जाता है। विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि गुरुनानक देव जी के समग्र एवं समरस समाज बनाने के सपने को पूरा करने के लिए हम सभी को मिलकर काम करना चाहिए। उन्होंने इक ओंकार का नारा दिया था, यानी ईश्वर एक है। हम सभी को गुरुनानक देव जी के संदेशों को अपने जीवन में उतारने की कोशिश करनी चाहिए।विधानसभा अध्यक्ष ने कोरोना महामारी के चलते गुरुपर्व को आवश्यक दिशा निर्देशों का पालन कर सतर्कता बरतते हुए मनाने का आह्वान किया है।

राजकीय महाविद्यालयों में 14 मूलभूत सुविधाओं के लिए डेड लाइन तय

-एक माह के भीतर सभी महाविद्यालयों में जुटानी होगी सुविधाएं देहरादूना। उच्च शिक्षा, सहकारिता, दुग्ध विकास एवं प्रोटोकाॅल (स्वतंत्र प्रभार) राज्य मंत्री डाॅ. धन सिंह रावत की अध्यक्षता में उच्च शिक्षा विभाग की समीक्षा की गई। बैठक में डाॅ. रावत ने गुणवत्तापरक उच्च शिक्षा प्रदान करने के लिए आधारभूत सुविधाओं से संबंधित 14 बिन्दुओं की प्रगति की क्रमवार समीक्षा की। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि राज्य के सभी 105 राजकीय महाविद्यालयों में 30 दिसम्बर तक सभी बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराई जाय। बैठक में चर्चा के दौरान विभागीय अधिकारियों ने बताया कि राज्य के 59 राजकीय महाविद्यालयों में रूसा के माध्यम से तथा तथा 13 राजकीय महाविद्यालयों में हंस फाउण्डेशन की मदद से मूलभूत सुविधाएं जुटाई जा रही हैं जबकि शेष राजकीय महाविद्यालयों में राज्य सरकार के द्वारा बुनियादी सुविधाओं के विस्तार लिए धनराशि उपलब्ध कराई जा रही है। जिसके अंतर्गत ई- पुस्तकालय, स्मार्ट क्लास, ई-बोर्ड, कम्प्यूटर्स, प्रयोगशाला व आवश्यक उपकरण, पेयजल, फर्नीचर, शौचालय, खेल मैदान एवं खेल सामग्री, रैम्प, विद्युत व्यवस्था, आदि सुविधाएं शामिल हैं। बैठक में उच्च शिक्षा उन्नयन समिति के दोनों उपाध्यक्षों डाॅ. वी.एस.बिष्ट एवं दीप्ति रावत ने अपने-अपने क्षेत्र के महाविद्यालयों की निरीक्षण रिपोर्ट विभागीय मंत्री के सम्मुख प्रस्तुत करते हुए वहां की समस्याओं से अवगत कराया। जिस पर विभागीय मंत्री डाॅ. रावत ने कहा कि भविष्य में भी दोनों उपाध्यक्ष अपने-अपने क्षेत्रों के महाविद्यालयों का भ्रमण कर मूलभूत सुविधाओं संबंधी कार्यों का निरीक्षण करते रहें। बैठक में उत्तराखंड उच्च शिक्षा उन्नयन समिति के उपाध्यक्ष डाॅ. बी.एस.बिष्ट, दीप्ति रावत, सलाहकार रूसा प्रो. एमएसएम रावत, प्रो. के.डी. पुरोहित, उच्च शिक्षा निदेशक प्रो. कुमकुम रौतेला, संयुक्त निदेशक पी.के. पाठक, नोडल अधिकारी रूसा ए.एस. उनियाल, सहायक निदेशक प्रो. रचना नौटियाल, अनुभाग अधिकारी उच्च शिक्षा पुष्कर सिंह नेगी सहित कई विभागीय अधिकारी उपस्थित रहे।

ओबीसी मोर्चा के नवनियुक्त मंडल अध्यक्ष ने विस अध्यक्ष से की भेंट

ऋषिकेशा। विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद अग्रवाल के बैराज रोड स्थित कैंप कार्यालय पर आज ओबीसी मोर्चा के मंडल अध्यक्ष निर्वाचित होने पर जितेंद्र पोखरियाल ने शिष्टाचार भेंट की एवं आशीर्वाद प्राप्त किया। इस अवसर पर श्री अग्रवाल ने आशा व्यक्त करते हुए कहा की संगठन द्वारा योग्य कार्यकर्ता का चयन कर ओबीसी मंडल के अध्यक्ष की जिम्मेवारी सौंपी है।उस जिम्मेवारी का निर्वहन सक्रियता, लग्न एवं निष्ठा के साथ होना चाहिए। जिससे सरकार द्वारा किए जा रहे कार्य आम लोगों तक पहुंच सके। श्री अग्रवाल ने कहा है कि अंतिम व्यक्ति तक सरकार की योजनाओं का लाभ कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी ही पहुंचाते हैं सरकार द्वारा संचालित योजनाओं के लाभ से कोई भी व्यक्ति वंचित न रहे इसकी जवाबदेही पार्टी के पदाधिकारियों की होती है। उन्होंने कहा है कि ओबीसी के क्षेत्र में अत्यंत काम करने की आवश्यकता है। इसलिए जितेंद्र पोखरियाल का चयन संगठन के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। इस अवसर पर क्षेत्र पंचायत सदस्य प्रभाकर पैन्यूली, राकेश व्यास, अशोक रावत, ज्ञानेंद्र शर्मा, पूरन जेटुडी आदि सहित अनेक लोग उपस्थित थे।

सीएम ने थानो में किया ईको पार्क का निरीक्षण

देहरादूना। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने रविवार को थानो में बनाये जा रहे ईको पार्क का निरीक्षण किया। 2.5 हेक्टेयर क्षेत्र में यह ईको पार्क वन विभाग द्वारा बनाया जा रहा है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने वन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि इस पार्क का सौन्दर्यीकरण किया जाय एवं पार्क में बच्चों को मनोरंजन के साधन भी उपलब्ध हों। पार्क में नेचुरल ट्रैक, सोलर लाईट, फुलवारी, बैठने की व्यवस्थाओं आदि की पूरी व्यवस्था हो। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि इस क्षेत्र में पर्यटन की गतिविधियां तेजी से बढ़ रही है। इस ईको पार्क के बनने से आस-पास के क्षेत्रों एवं पर्यटकों के लिए यह पार्क आकर्षण का केन्द्र बनेगा। राज्य में अनेक पर्यटक स्थल विकसित किये जा रहे हैं। जल, ऊर्जा, रोजगार से संबंधित राज्य में अनेक प्रोजेक्ट ऐसे हैं, जो दीर्घकालिक सोच पर आधारित है। इनका फायदा लोगों को लंबे समय तक मिलेगा।

दुष्यन्त गौतम व भाजपा नेताओं ने भाजपा प्रदेश कार्यालय पर सुनीं पीएम मोदी की मन की बात

देहरादून। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यक्रम ‘मन की बात’ को भाजपा राष्ट्रीय महा सचिव व प्रदेश प्रभारी दुष्यन्त कुमार गौतम व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व प्रदेश सह प्रभारी रेखा वर्मा, प्रदेश अध्यक्ष बंशी धर भगत व अन्य भाजपा नेताओं ने प्रदेश कार्यालय पर सुना। मन की बात सुनने वालों में प्रदेश महामंत्री (संगठन) अजेय कुमार, प्रदेश महामंत्री राजेन्द्र भंडारी व कुलदीप कुमार, प्रदेश पदाधिकारी, विधायक , जिला व महानगर के अध्यक्ष व पदाधिकारी शामिल थे।

उत्तराखंड में सरकार और संगठन बहुत अच्छा काम कर रहेः दुष्यंत कुमार गौतम

देहरादून। भाजपा राष्ट्रीय महासचिव व उत्तराखंड प्रदेश प्रभारी दुष्यंत कुमार गौतम ने कहा कि उत्तराखंड में सरकार और संगठन बहुत अच्छा काम कर रहे हैं। साथ ही सरकार व संगठन में बहुत अच्छा तालमेल है। अगले विधानसभा चुनाव में उत्तराखंड में भाजपा 70 में से 60 सीटों पर विजयी होगी और पुनः सरकार बनाएगी। चुनाव में हम प्रधानमंत्री केंद्र सरकार व राज्य सरकार की उपलब्धियों के आधार पर जनता के बीच जाएंगे। बलवीर रोड स्थित भाजपा प्रदेश मुख्यालय में आयोजित पत्रकार वार्ता में प्रदेश प्रभारी दुष्यंत कुमार गौतम ने कहा कि भाजपा हमेशा जनता के बीच सेवा के लिए उपस्थित रही है। कोरोना काल में जहां अन्य दल लॉकडाउन में लॉक हो गए वहीं भाजपा कार्यकर्त्ता पूरी तरह सक्रिय रहे। कोरोना काल में जनता के जीवन की रक्षा के लिए भाजपा के 165 कार्यकर्ता बलिदान हुए। किसान हमारे भाई हैं और हम उनसे बात के लिए तैय्यार हैं। लेकिन कांग्रेस और अन्य दल उन्हें भ्रमित कर रहे हैं। इस आंदोलन में अलगाववादी तत्वों का प्रवेश चिंताजनक है। आम आदमी पार्टी जिसने कोरोना काल में मजदूरों को भोजन तक नहीं दिया, वह आंदोलनरत किसानों के लिए टेंट लगा रही है और भोजन की व्यवस्था कर रही है। शाइन बाग से जुड़े लोग भी इस आंदोलन में शामिल हो गए हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा 4 से 7 दिसंबर तक उत्तराखंड के दौरे पर रहेंगे। श्री नड्डा 4 दिसंबर को हरिद्वार में संतों से भेंट करेंगे और 5 से 7 दिसंबर तक संगठनात्मक बैठकों में भाग लेने के साथ मीडिया से भी बात करेंगे। श्री नड्डा के दौरे का एक उल्लेखनीय कार्यक्रम एक बूथ समिति की बैठक होगा जिसमें राष्ट्रीय अध्यक्ष के साथ केवल बूथ समिति के अध्यक्ष मंच पर बैठेंगे। यह भाजपा की कार्यसंस्कृति, कार्यकर्ता के सम्मान व समानता का प्रमाण है। 4 दिसंबर को श्री नेड्डा हरिद्वार में संतों से मुलाकात करेंगे, 5 दिसंबर को मुख्यमंत्री व मंत्रिमंडल के साथ बैठक करेंगे, साथ ही कोर कमेटी की बैठक व प्रबुद्ध नागरिक सम्मेलन में शामिल होंगे। 6 दिसंबर को कार्यालय व विभागों की समीक्षा बैठक, प्रदेश पदाधिकारी महामंत्रियों, सांसदों विधायकों, मोर्चा अध्यक्षों, महामंत्रियों, जिला अध्यक्षों के साथ बैठक करेंगे। मंडल स्तर व ऊपर के प्रदेश के सभी कार्यकर्ताओं के साथ वर्चुअल सार्वजनिक बैठक करेंगे। 7 दिसंबर को एक बूथ समिति की बैठक, प्रेस वार्ता, एक मंडल की बैठक, वॉलिंटियर बैठक होगी। पत्रकार वार्ता के प्रदेश सहप्रभारी रेखा वर्मा ने भी संबोधित किया।

खलंगा युद्ध के वीर-वीरांगनाओं को याद किया गया, ‘खलंगा ब्रेवरी वॉक’’ का हुआ आयोजन

देहरादून। कोविड 19 महामारी के कारण इस वर्ष राजधानी के सागरताल नालापानी में खलंगा ब्रेवरी वॉक 2020 पद यात्रा का सूक्ष्म स्तर पर आयोजन किया गया। इस वीरता पद यात्रा का शुभारंभ मुख्य अतिथि मेजर जनरल आर.एस. ठाकुर जी0ओ0सी उत्तराखंड सब एरिया व अति विशिष्ट अतिथि टीडी भूटिया (राज्यमंत्री) अध्यक्ष गोरखा कल्याण परिषद, उत्तराखंड सरकार, वीर गोरखा कल्याण समिति (रजि) अध्यक्ष श्रवण सिंह प्रधान द्वारा हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया। खलंगा ब्रेवरी वॉक 2020 का आयोजन रविवार को प्रातः 7 बजे खलंगा द्वार नालापानी देहरादून से शुरू की गयी। जिसके बाद वर्ष 1814 में हुए खलंगा युद्ध के वीर-वीरांगनाओं को याद करते हुए खलंगा युद्ध स्मारक में श्रद्धांजलि सभा का अयोजन किया गया। खलंगा ब्रेवरी वॉक 2020 के दौरान कुमारी शिकायना मुखिया प्रख्यात व सुप्रसिद्ध गायिका, जे0बी0 राई व सुनीता बिष्ट द्वारा देश भक्ति गीतों की प्रस्तुति दी गयी। मुख्य अतिथि मेजर जनरल आर.एस.ठाकुर जी0ओ0सी उत्तराखंड सब एरिया द्वारा खलंगा ब्रेवरी वॉक 2020 के प्रतिभागियों को स्मृति चिन्ह व प्रमाण पत्र वितरित किये गये। खलंगा ब्रेवरी वॉक 2020 के दौरान वीर गोरखा कल्याण समिति (रजि) अध्यक्ष श्रवण सिंह प्रधान ने सभी प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए कहा कि यह पैदल यात्रा उन वीर गोरखा सैनिकों के शौर्य व पराक्रम की गाथा को समर्पित है। जो अंग्रेजी सेना के साथ युद्ध करते हुए वीरगति को प्राप्त हुए थे। उन्होंने प्रतिभागियों को बलभद्र खलंगा के सम्पूर्ण इतिहास की जानकारी दी। खलंगा पद यात्रा का आयोजन वीर गोरखा कल्याण समिति (रजि), हेल्प क्रॉस ट्रस्ट के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं की सहभागिता एवं शांति फाउंडेशन के सहयोग किया गया। उक्त कार्यक्रम का संचालन देविन शाही द्वारा किया गया। इस कार्यक्रम में वीर गोरखा कल्याण समिति के संरक्षक व पूर्व राज्य मंत्री सारिका प्रधान व शांति फाउंडेशन के महासचिव पूर्वा सिंह भी उपस्थित रहे। इस कार्यक्रम में अरुण सूद अंतरराष्ट्रीय वॉलीबॉल खिलाड़ी व (उत्तराखंड प्रदेश अध्यक्ष क्रीड़ा भारती), कमला थापा (प्रदेश अध्यक्ष हमरो स्वाभिमान), वीर गोरखा कल्याण समिति के वरिष्ठ उपाध्यक्ष कमल थापा, उपाध्यक्ष उर्मिला तामांग, उपाध्यक्ष सूर्य विक्रम शाही, महासचिव विशाल थापा, सचिव देविन शाही कोषाध्यक्ष टेकू थापा, सांस्कृतिक सचिव देवकला दीवान एवं सक्रिय सदस्यगण यामू राना, आशु थापा, झगू राना, डमर थापा, करमिता थापा, बुदेश राई, मनोज तामांग, संजय थापा, बलदेव छेत्री व कर्नल फुल माया एवं नंद बहादुर थापा सहित कई गणमान्य उपस्थित रहे।

कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज ने करोड़ों की योजनाओं का किया शिलान्यास व लोकार्पण

-औली को विश्व पर्यटन मानचित्र पर स्थापित करने का प्रयासः महाराज -मंत्री की अधिकारियों को चेतावनी जनता के फोन जरूर उठायें देहरादून/जोशीमठ। राज्य के पर्यटन सिंचाई एवं संस्कृति मंत्री सतपाल महाराज ने आज जनपद चमोली में सिंचाई एवं पर्यटन विभाग की विभिन्न विकास योजनाओं का शिलान्यास एवं लोकार्पण किया। पर्यटन एवं सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज ने आज जोशीमठ स्थित पर्यटक आवास गृह के परिसर में एक समारोह के दौरान जनपद की विभिन्न पर्यटन एवं सिंचाई योजनाओं का शिलान्यास एवं लोकार्पण करने के साथ ही जनपद के भाजपा पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं के साथ बैठकर समस्याओं को सुना और उनके निराकरण का आश्वासन भी दिया। सिंचाई एवं पर्यटन की विभिन्न विकास योजनाओं के लोकार्पण समारोह में बोलते हुए पर्यटन एवं सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज ने कहा कि अधिकारियों को स्थानीय जनप्रतिनिधियों के साथ तालमेल बना कर जनता की समस्याओं का निराकरण करने में तत्परता दिखानी चाहिए। उन्होने कहा कि जनता के लम्बे संघर्ष के बाद राज्य बना है। इसलिए अधिकारियों यह समझना चाहिए कि उनकी जनता के प्रति अधिक जवाबदेही है। इसलिए उन्हें जनता के साथ संवाद कायम करते हुए उनके फोन अवश्य उठाने चाहिएं। श्री महाराज ने कहा कि पर्यटन विभाग मुख्यमंत्री की 13 जनपदों में 13 डेस्टीनेशन बनाने की योजना को साकार करने की दिशा आगे बढ़ रहा है। कैबिनेट मंत्री ने कहा कि हमारा प्रयास है ओली बर्ड क्लास पर्यटन स्थल के रूप विकसित हो। उन्होने कहा कि सरकार का प्रयास है कि उत्तराखंड विश्व पर्यटन मानचित्र पर अपना एक विशिष्ट स्थान बनाये। सतपाल महाराज ने चमोली जनपद को करोड़ों रुपए की योजनाओं की सौगात देते हुए ओली में एक करोड़ अड़तीस लाख उन्नासी हजार की लागत से बने ओपन एयर आइस स्केटिंग रिंक योजना का लोकार्पण करने के साथ-साथ श्री बदरीनाथ धाम में 48 लाख 68 हजार रुपए की लागत से निर्मित होने वाली कुकिंग गैस एजेंसी के निर्माण भी शिलान्यास किया। सतपाल महाराज ने केंद्रीय वित्त पोषित योजना के अंतर्गत 2 करोड़ 34 लाख 32 हजार की लागत से बनी देवलीबगड़ विकास योजना का लोकार्पण करने के साथ-साथ सिमली में 13 लाख 13 हजार की लागत से बाबा मोहन उत्तराखंडी की याद में बने स्मृति द्वार का लोकार्पण भी किया। इस मौके पर बदरीनाथ विधायक श्री महेन्द्र प्रसाद भट्ट सहित अनेक भाजपा कार्यकर्ता और विभागीय अधिकारी मौजूद थे।

सीएम त्रिवेंद्र ने किया सूर्याधार जलाशय का लोकार्पण, 50.25 करोड़ रु की लागत से बनी है यह झील

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने रविवार को स्व. गजेन्द्र दत्त नैथानी, जलाशय सूर्याधार का लोकार्पण किया। 50.25 करोड़ रूपये की लागत से बनी इस झील की धारण क्षमता 77 हजार घन मीटर है। यह झील 550 मी. लम्बी, 28 मीटर चैड़ी एवं 10 मीटर गहरी है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने झील पर नौकायन किया एवं मत्स्य के बीज डाले। यह झील मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत रावत के ड्रीम प्रोजक्ट में है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने विकासखण्ड डोईवाला में सुसवा नदी के दायें किनारे पर लाल माटी खाले से बडकली पुल तक सुरक्षात्मक कार्य के लिए 2.63 करोड़ की सुरक्षात्मक कार्ययोजना, विकासखण्ड रायपुर के बांदल नदी पर सरखेत ग्राम की 1.85 करेड़ रूपये की लागत की बाढ़ सुरक्षा योजना एवं डोईवाला विकासखण्ड के अन्तर्गत सिमलासग्रान्ट नहर के विस्तारीकरण, सुरक्षा एवं नवीनीकरण की 2.31 करोड़ की योजनाओं का शिलान्यास किया। इस अवसर पर उन्होंने स्व. गजेन्द्र दत्त नैथानी को श्रद्धांजलि अर्पित की।

देहरादून में सूर्यधार झील बनकर हो चुकी तैयार

देहरादून। सूर्यधार में झील बनकर तैयार हो गई है। सूर्यधार झील मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के ड्रीम प्रोजेक्टों में से एक है। इस झील से क्षेत्र को पेयजल और सिंचाई के लिए पानी उपलब्ध होगा। इससे लगभग 18 गांवों को सिंचाई और 19 गांवों को पेयजल मिलेगा जो कि पूरी तरह से ग्रैविटी आधारित होगी। इस क्षेत्र में लंबे समय से पेयजल और खेतों की सिंचाई के लिए पानी की उपलब्धता न होने की समस्या रही है। क्षेत्रवासियों की इसी दिक्कत को समझते हुए मुख्यमंत्री ने सूर्यधार में झील बनाने का ऐलान किया था।            मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र द्वारा समय-समय पर सूर्यधार में निर्माणाधीन झील के निरीक्षण किए जाते रहे। अब, रिकार्ड समय में यह झील बनकर तैयार हो गई है। झील आने वाले दिनों में देहरादून जिले में नए टूरिस्ट डेस्टिनेशन के तौर पर भी उभरेगी। यहां पर सरकार की योजना नौकायन के साथ ही लोगों को प्रकृति का दीदार कराने व अन्य पर्यटन गतिविधियां संचालित करने की है। इस बहुउद्देशीय योजना के माध्यम से प्रति वर्ष 7 करोड़ रुपये की बिजली की बचत भी होगी, इससे किसानों को बारह महीने पानी मिलेगा। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत रविवार को सूर्यधार झीलका लोकार्पण करेंगे।

Friday, 27 November 2020

सर्दियों के इस मौसम में पर्यटकों के स्वागत को तैयार है औली

देहरादून, गढ़ संवेदना न्यूज। उत्तराखंड में बहुत से पर्यटन स्थल हैं जो अपनी प्राकृतिक सुदंरता से सैलानियों को चकित कर देते हैं। उत्तराखंड पर्यटन का ऐसा ही एक नगीना है औली। परिलोक सा खूबसूरत औली शांत प्रकृति की गोद में स्थित है। यहां से हिमालय के शिखरों का भव्य नजारा भी दिखाई देता है और स्कीइंग के लिए अनुकूल ढलानें भी रोमांचित करती हैं। औली में पर्यटकों को जो मंत्रमुग्ध करने वाला अनुभव प्राप्त होता है वही इस बात का साक्ष्य है कि औली भारत के सर्वश्रेष्ठ चुनिंदा विंटर डेस्टिनेशंस में से एक है। देश में सर्दियों के मौसम की आमद हो चुकी है, ऐसे में उत्तराखंड के गढ़वाल हिमालय के चमोली जिले में स्थित औली स्की रिजॉर्ट और हिल स्टेशन सर्दियों के पर्यटन हेतु पर्यटकों का स्वागत करने को बिल्कुल तैयार है। पर्यटन, धर्मस्व एवं संस्कृति मंत्री सतपाल महाराज ने कहा, ‘‘उत्तराखण्ड राज्य में औली विशेष रूप से सर्दियों में साहसिक खेल प्रमियों के लिए सबसे अच्छी जगह रही है। औली में प्रत्येक वर्ष शीतकालीन साहसिक खेलों का फेस्टिवल आयोजन किया जाता है पर्यटन विभाग इस वर्ष भी कोविड के कारण राज्य सरकार के दिशा निर्देशों का पालन करते हुए शीतकालीन खेलों का आयोजन करने की योजना बना रहा हैं, ताकि पर्यटक सौन्दर्य व रोमांच से भरपूर खेलों आनंद ले सकें।’’सर्दियों में पर्यटकों के स्वागत के लिए हुई तैयारियों के बारे में उत्तराखंड पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर ने बताया, ’’उत्तराखंड को उड़ते कुहासे और आसमान छूते देवदारों का वरदान प्राप्त है जिन्होंने दुनिया भर के सैलानियों को आकर्षित किया है। राज्य में अब यात्रा पर कोई प्रतिबंध नहीं है और सर्दियों की छुट्टियां बिताने के लिए औली से बेहतर कोई जगह नहीं है। औली आपको सर्वश्रेष्ठ ऑफबीट जगहें प्रदान करती है, सोशल डिस्टेंसिंग कायम रखते हुए आप यहां घूम सकते हैं-इन जगहों का दूरस्थ इलाकों में होना इन्हें विशिष्ट बनाता है।’’ औली में पर्यटकों के लिए प्रमुख आकर्षण स्कीइंगः राज्य सरकार द्वारा ऐडवेंचर गतिविधियां खोल दिए जाने के बाद उत्तराखंड की ऐडवेंचर एजेंसियों स्कीइंग स्ट्रेचिस हेतु बुकिंग लेना शुरु कर दिया है। सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करते हुए ऐडवेंचर टूर एजेंसियों ने अपने कर्मचारियों के लिए समुचित प्रशिक्षण सुनिश्चित किया है ताकि गतिविधियों के संचालन के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग रखी जाए। स्वास्थ्य संबंधी अन्य उपायों के भी इंतजाम किए गए हैं जैसे थर्मल स्क्रीनिंग, शारीरिक दूरी, चेहरे को मास्क/शील्ड से ढकना। औली में स्कीइंग के प्रभारी श्री कमल किशोर डिमरी ने कहा, ’’सरकार ने पर्यटकों को आने की अनुमति दे दी है इसलिए हमें निरंतर लोगों के फोन आ रहे हैं जो अपने मित्रों व परिजनों के संग यहां आने की योजना बना रहे हैं। हमें उम्मीद है कि सर्दियों के इस मौसम में बड़ी संख्या में सैलानी यहां घूमने आएंगे।’’ स्कीइंग करने के इच्छुक पर्यटकों के लिए दो विकल्प उपलब्ध हैं-प्रोफेशनल और बिगिनर। जिन लोगों ने पहले कभी स्कीइंग नहीं की उन्हें बिगिनर कोर्स की सलाह दी जाती है। इसके तहत स्थानीय स्की ऑपरेटर द्वारा बुनियादी प्रशिक्षण दिया जाएगा। कीमतें वाजिब रखी गई हैं ताकि पर्यटकों के बजट पर कोई बोझ न पड़े और वे स्की ऐडवेंचर का आनंद ले पाएं। रोपवेः औली आने वाले पर्यटक एशिया की सबसे लंबी गोंडोला राइड का मजा लेते हुए जोशीमठ से औली पहुंच सकते हैं। यह ट्रिप आगंतुकों को ऊंचाई से हिमालयी पर्वत श्रृंखला का भव्य और सम्मोहक नजारा उपलब्ध कराती है। औली में दो केबल राइड उपलब्ध हैं- एक है जोशीमठ से औली जिसे जोशीमठ-औली गोंडोला कहते हैं और दूसरी है चेयर राइड जो जीएमएनवी से औली आती है। ये केबल राइड गढ़वाल के पर्वतों का 270 डिग्री व्यू दिखाती हैं, बर्फ से ढकी यह दृश्यावली सैलानियों को आश्चर्यचकित कर देती है। रोपवे के ऑपरेशन मैनेजर दिनेश भट ने बताया, ’’कोविड की वजह से लंबे समय तक घरों से ही काम कर रहे लोगों को बाहर जाने की इच्छा हुई तो उन्होंने कुछ दिन पहाड़ों पर बिताने का फैसला किया। इस वजह से और राज्य सरकार द्वारा प्रतिबंध हटा लिए जाने के बाद, बहुत से पर्यटक उत्तराखंड घूमने आ रहे हैं। हमें अक्टूबर से ही पर्यटकों की ओर से काफी पूछताछ आ रही है। सर्दियों के मौसम में हम उम्मीद कर रहे हैं कि अच्छी तादाद में लोग यहां घूमने-फिरने आएंगे।’’ ट्रैकिंगः भारत में सर्दियों के सबसे आकर्षक पर्यटन स्थलों में से एक औली को कुछ हद तक ऑफबीट यानी लीक से हटकर माना जाता है, और औली के जो लीक से हट कर रास्ते हैं उनका कोई सानी नहीं है। उत्तराखंड के जो आम रास्ते हैं वे भी बर्फ में ट्रैकिंग का अनूठा ऐडवेंचर पेश करते हैं। औली की ढलानें न तो बहुत आसान हैं और न ही बहुत कठिन, यानी यहां ऐडवेंचर और आराम का बढ़िया संतुलन है। बर्फीली चरागाहें व हिम से ढकी चोटिया औली में ट्रैकिंग के अनुभव में ऐडवेंचर एक अलग ही ऐहसास जोड़ देती हैं। गुरसन बुग्याल औली का सबसे मशहूर ट्रैक है। पर्यटकों के लिए औली में होमस्टे के बहुत सारे विकल्प उपलब्ध हैं जहां रहने की अच्छी सुविधा मिलती है और सोशल डिस्टेंसिंग की भी चिंता नहीं करनी पड़ती। ये होमस्टे एकांत में किंतु आसानी से पहुंचने वाले जगहों पर बने हैं और अतिथियों को अत्याधुनिक सुविधाएं मुहैया कराते हैं। एक स्थानीय होम स्टे चलाने वाले राजेन्द्र सिंह राणा ने कहा, ’’कोविड-19 हमारे लिए बहुत बुरा वक्त लेकर आया लेकिन जब सरकार ने प्रतिबंध हटा लिए तो हमें बुकिंग मिलने लगीं। अब सर्दियां आ चुकी हैं तो हम पर्यटकों के आने की आशा कर रहे हैं।’’

बेरोजगारी के मुद्दे पर 17 दिसंबर को सीएम आवास का घेराव करेगा उक्रांद

देहरादून। उत्तराखण्ड क्रांति दल ने बेरोजगारी के मुद्दे पर 17 दिसंबर को मुख्यमंत्री आवास घेराव का ऐलान किया है। आज केंद्रीय कार्यालय में पत्रकारों से वार्ता करते हुए दल के केंद्रीय महामंत्री जय प्रकाश उपाध्याय ने कहा कि दल बेरोजगारों को लामबद्ध कर मुख्यमंत्री आवास घेराव करेगा। प्रदेश के सभी जिलों में बेरोजगारी को लेकर धरना प्रदर्शन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि केंद्रीय अध्यक्ष और संरक्षण मंडल के प्रदेश भ्रमण कार्यक्रम की रूपरेखा भी तय की जा रही है। उपाध्याय ने कहा कि भाजपा की कथनी और करनी में बहुत बड़ा अंतर है। भाजपा का यह कार्यकाल विफल और सबसे निराशाजनक रहा। बेरोजगारी पर सरकार ने कितना काम किया है इसके लिखित आंकड़े सरकार को जनता के सामने रखने चाहिए। कहा कि राज्य के बुद्धिजीवी अब राष्ट्रीय पार्टियों के बहकावे में नहीं आयेंगे और न ही उनके झूठे वादे को स्वीकार करेंगे। कहा कि उक्रांद रोजगार के सवाल पर निरंतर संघर्षरत रहेगा। मुख्यमंत्री आवास घेराव के बाद बेरोजगारों को लामबद्ध करते हुए उक्रांद द्वारा अप्रैल माह में तांडव रैली का आयोजन किया जाएगा। प्रेस वार्ता में जय प्रकाश उपाध्याय,सुनील ध्यानी, लताफत हुसैन, किरन रावत कश्यप,तथा मिनांक्षी सिंह उपस्तिथ थे।

पेट्रोलियम संस्थान में भारतीय अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव पर आभासी सम्मेलन आयोजित

देहरादून। सीएसआईआर भारतीय पेट्रोलियम संस्थान देहरादून में भारतीय अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव के परिचयात्मक सम्मेलन का आभासी आयोजन किया गया। पद्मभूषण डॉ अनिल प्रकाश जोशी अध्यक्ष हिमालयन पर्यावरण अध्ययन तथा संरक्षण संगठन इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि थे। डॉक्टर अं जन रे निदेशक सीएसआईआर भारतीय पेट्रोलियम संस्थान ने मुख्य अतिथि तथा इस कार्यक्रम के सभी प्रतिभागियों का स्वागत किया और मुख्य अतिथि का परिचय देते हुए उन्होंने कहा कि यह हमारा सौभाग्य है क्या आज हमारे इस कार्यक्रम मैं भारत के एक हरित क्रांतिकारी समाजसेवी तथा वनस्पति विज्ञानी मुख्य अतिथि के रुप में उपस्थित रहे। उन्होंने ग्रामीण विकास में उनके महत्वपूर्ण योगदान संबंधी जानकारी भी दी। मुख्य अतिथि डॉ जोशी ने इस अवसर पर अपने भाषण में भारत के प्रधानमंत्री की सराहना करते हुए कहा कि यह एक आत्मनिर्भर भारत तथा भारत की आर्थिक प्रगति के लिए अत्यावश्यक है उन्होंने यह भी कहा कि आत्मनिर्भरता गांवों में पहले से पाई जाती है क्योंकि वे पहले से ही आत्मनिर्भर रहे हैं गांव में कृषि इसका सबसे बड़ा उदाहरण है जिसके लिए वे स्वयं उत्पादक भी थे और बीज रखने या देने वाले भी परंतु अब दरिया बदल गए हैं तथा मैं यह मानता हूं कि भावी भारतीय अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव इन बिंदुओं पर चर्चाएं आयोजित करेगा तथा खाद्यान्न जल तथा बेहतर पर्यावरण पर ध्यान दिया जाएगा इसके साथ साथ विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी की सहायता से हरित पर्यावरण के विकास पर भी चर्चा की जाएगी उन्होंने यह भी कहा कि कोविड वैश्विक महामारी के दौरान लॉकडाउन के कारण हमारी अर्थव्यवस्था प्रभावित हुई है परंतु दूसरी और हम स्वच्छ गगन स्वच्छ जल तथा बेहतर पर्यावरण भी देख पा रहे हैं। डा. डीसी पांडे अध्यक्ष समारोह समिति आईआई पी ने भारतीय अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव 2020 की संक्षिप्त रूपरेखा बताई उन्होंने कहा कि वर्तमान वैश्विक महामारी के कारण तथा संबंधी आदेशों का पालन करते हुए भारतीय अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव 2020 की आयोजन समिति ने यह निर्णय लिया है कि इस वर्ष यह कार्यक्रम आभासी प्रारूप में आयोजित किया जाएगा उन्होंने बताया कि इस वर्ष के विज्ञान महोत्सव का विषय आप निर्धारित कथा विश्व कल्याण के लिए विज्ञान है। डॉ मनोज श्रीवास्तव प्रधान समन्वयक औद्योगिक शैक्षिक कांक्लेव ने भारतीय अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव 2020 को छात्रों अनुसंधानकर्ताओं शिक्षकों अन्वेषक को कलाकारों व्यवसायियों तथा आम जनता के लिए उपलब्ध होने वाला एक सबसे बड़ा मंच बताया जिसका मुख्य उद्देश्य युवाओं को विज्ञान की ओर प्रेरित करना भी है। भारतीय अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव का आयोजन प्रत्येक वर्ष सीएसआईआर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग जैव प्रौद्योगिकी विभाग पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय तथा विज्ञान भारती के द्वारा संयुक्त रूप से किया जाता है डॉक्टर श्रीवास्तव नहीं इस महोत्सव के विजन तथा उद्देश्य पर एक प्रस्तुति भीगी और वर्ष 2015 से प्रारंभ इस भारतीय अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव के पूर्व कार्यक्रमों की कुछ झलकियां भी प्रस्तुत की उन्होंने बताया कि इस महोत्सव के अंतर्गत एक औद्योगिक शैक्षिक सम्मेलन भी आयोजित की जा रही है जिसका समन्वयक सीएसआईआर भारतीय पेट्रोलियम संस्थान देहरादून है। डॉ ज्यति त्रिवेदी वरिष्ठ वैज्ञानिक सीएसआईआर भारतीय पेट्रोलियम संस्थान द्वारा धन्यवाद प्रस्ताव के साथ यह कार्यक्रम संपन्न हुआ।

वीर गोरखा कल्याण समिति रविवार को ‘‘खलंगा ब्रेवरी वॉक’’ का आयोजन करेगी

देहरादून। कोविड 19 महामारी के कारण इस वर्ष राजधानी के सागरताल नालापानी में खलंगा ब्रेवरी वॉक 2020 सूक्ष्म स्तर पर आयोजित की जा रही है। खलंगा ब्रेवरी वॉक 2020 का आयोजन रविवार 29 नवंबर को प्रातः 7 बजे खलंगा द्वार नालापानी देहरादून से शुरू की जायेगी। जिसके बाद वर्ष 1814 में हुए खलंगा युद्ध के वीर-वीरांगनाओं को याद करते हुए खलंगा युद्ध स्मारक में श्रद्धांजलि सभा का अयोजन किया जायेगा। इस पैदल यात्रा का उद्देश्य उन वीर गोरखा सैनिकों के शौर्य व पराक्रम की गाथा को लेकर समर्पित करना है। जो अंग्रेजी सेना के साथ युद्ध करते हुए वीरगति को प्राप्त हुए थे। उक्त कार्यक्रम का संचालन देविन शाही द्वारा किया जायेगा। उक्त खलंगा पद यात्रा का आयोजन वीर गोरखा कल्याण समिति (रजि), हेल्प क्रॉस ट्रस्ट के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं की सहभागिता एवं शांति फाउंडेशन के अध्यक्ष भूपेन्द्र अधिकारी व महासचिव पूर्वा सिंह के सहयोग किया जा रहा है। खलंगा ब्रेवरी वॉक 2020 कार्यक्रम में मुख्य रूप से वीर गोरखा कल्याण समिति (रजि) अध्यक्ष श्रवण सिंह प्रधान, वरिष्ठ उपाध्यक्ष कमल थापा, उपाध्यक्ष उर्मिला तामांग, उपाध्यक्ष सूर्य विक्रम शाही, महासचिव विशाल थापा, सचिव देविन शाही कोषाध्यक्ष टेकू थापा, सांस्कृतिक सचिव देवकला दीवान एवं सक्रिय सदस्यगण यामू राना, आशु थापा, झगू राना, डमर थापा, करमिता थापा, बुदेश राई, मनोज तामांग, संजय थापा, बलदेव छेत्री सहित अन्य लोग भाग लेंगे।

डिजिटल इकोसिस्टम के गवर्नेंस के लिए कानूनी ढांचा जरूरी: रविशंकर प्रसाद

देहरादून। कानून शिक्षा के क्षेत्र में प्रौद्योगिकी बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाने जा रही है और भारत को अंतर्राष्ट्रीय कानूनी प्रणाली में अग्रणी भूमिका निभानी चाहिए। केन्द्रीय संचार, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री और कानून तथा न्याय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने ʺलॉ स्कूलों और कानूनी शिक्षा के भविष्य की पुनर्कल्पना और रूपांतरण रू कोविड-19 के दौरान और इसके परे विचारों का संगमʺ विषय पर वैश्विक शैक्षणिक सम्मेलन के लिए अपने उद्घाटन भाषण में यह बात कही। उन्होंने यह भी कहा कि डिजिटल पारिस्थितिकी तंत्र को गवर्नेंस के लिए एक कानूनी ढांचे की आवश्यकता है जिस पर भारत के कानून के युवा छात्रों को सफल कैरियर के लिए अवश्य अमल करना चाहिए। केन्द्रीय मंत्री ने कहा,“महामारी के दौरान, डिजिटल पारिस्थितिकी तंत्र ने ही दुनिया को एक साथ रखा था। डिजिटल कनेक्टिविटी को सरल और प्रभावी बनाने के लिए चाहे यह इंटरनेट, आईटी सक्षम प्लेटफार्मों या मोबाइल फोन हो, हम इन डिजिटल सिस्टम के माध्यम से भारत में कार्य करना जारी रखते हैं। वैश्विक महामारी ने लोगों के जीवन, स्वास्थ्य और सुरक्षा के साथ तबाही मचाई है लेकिन इसने हमें बहुत अवसर भी दिए हैं। इसने कई चुनौतियां पैदा की हैं जिनके लिए कानूनी समाधान की आवश्यकता है। हालांकि यह परिवर्तन डिजिटल पारिस्थितिकी तंत्र में महत्वपूर्ण है, लेकिन कानूनी शिक्षा का भविष्य प्रौद्योगिकी पर केंद्रित होना चाहिए। प्रौद्योगिकी अवसर पैदा करती है लेकिन यह विशेष रूप से विनियमन के लिए चुनौतियां भी पेश करती है। लॉ स्कूलों को छात्रों को एक सफल कैरियर के लिए तैयार करने के लिए प्रौद्योगिकी से संबंधित कानूनी शिक्षा को अपनाने की आवश्यकता है। यह बहुत महत्वपूर्ण है कि इन चुनौतियों को लॉ स्कूलों में पढ़ाया जाना चाहिए। भारतीय छात्र किसी से पीछे नहीं हैं, लेकिन उन्हें वैश्विक प्लेटफार्मों में उचित प्रदर्शन की आवश्यकता है। प्रौद्योगिकी से संबंधित कानूनों को समझना एक बहुत महत्वपूर्ण पहलू है, जिस पर लॉ स्कूलों को ध्यान केंद्रित करना चाहिए।ʺʺभारत में विशेष रूप से कल्याणकारी कार्यों के लिए प्रौद्योगिकी का व्यापक रूप से उपयोग किया गया है। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) आदर्श बन गया है और हमें स्वास्थ्य, शिक्षा, कृषि और कई चीजों के लिए इसका उपयोग करने की आवश्यकता है लेकिन एआई की सीमा क्या होनी चाहिए? क्या मानव नैतिकता की भूमिका होनी चाहिए? एआई के इस्तेमाल की कानूनी संरचना क्या होनी चाहिए? किसी भी डिजिटल-कानूनी प्रणाली को नैतिक मूल्यों के आधार पर मानव व्यवहार के बुनियादी समय-परीक्षणित गुणों से पूरी तरह से अनजान नहीं होना चाहिए। डेटा अर्थव्यवस्था अन्य समस्याओं को भी पैदा करेगी, जैसेरू डेटा अर्थव्यवस्था और कराधान, साइबर-अपराध और अधिकार क्षेत्र, साइबर बुलिंग, दुष्ट तत्व, डेटा की हैकिंग आदि। इंटरनेट एक वैश्विक मंच है, लेकिन इसे स्थानीय विचारों, संस्कृति और संवेदनशीलता से जुड़ना होगा। इन क्षेत्रों में कानून की संरचना क्या होनी चाहिए? भारत एक वैश्विक शक्ति के रूप में उभर रहा है, इसलिए भारत को अंतर्राष्ट्रीय कानूनी प्रणाली में भी अपनी नियत भूमिका निभाने के लिए दमदार होने की आवश्यकता है।” ओपी जिंदल ग्लोबल यूनिवर्सिटी के संस्थापक कुलपति प्रो (डॉ) सी राज कुमार ने कहा, ष्कोविड-19 के फैलने के लगभग 10 महीने बाद भी, दुर्भाग्य से, हम अभी भी महामारी के बीच में हैं, और विश्व स्तर पर कानूनी शिक्षा के भविष्य के अनुमानों के बारे में असंख्य सवालों से घिरे हैं। महामारी जितना अधिक हमारे उत्साह को हतोत्साहित कर रही हैय इसने हमारे भीतर एक उत्साहपूर्ण भावना को भी जगाया है, हमें रचनात्मक समाधान और नये विचारों को खोजने के लिए प्रेरित कर रही है, जिससे आगे बढ़ने का मार्ग प्रशस्त होगा। अतीत की सुख-सुविधाओं और नए अनुभवों की कल्पना करने और मौलिक विचारों को अपनाने के लिए लॉ स्कूलों की जरूरत है। विचारों के प्रति इस तरह का क्रांतिकारी खुलापन और चुनौतियों पर तेजी से प्रतिक्रिया कानूनी शिक्षा को संकट से उबारने में मदद कर सकती है। यह संदेह से परे है कि यह समय साहसी और असाधारण प्रयोगों का आह्वान करता है, और इस सम्मेलन का लक्ष्य लॉ स्कूल के डीनों, सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीशों, लॉ फर्म पार्टनर्स, वरिष्ठ अधिवक्ताओं, वकीलों, लॉ के प्रोफेसरों सहित दुनिया भर के कानूनी बिरादरी के शुभचिंतकों को एक साथ लाकर विश्व स्तर पर इस विचार प्रक्रिया को लागू करना है।” भारत की प्रमुख लॉ फर्मों में से एक सिरिल अमरचंद मंगलदास के मैनेजिंग पार्टनर सिरिल श्रॉफ ने अपने मुख्य भाषण में कहा, ʺयह सच है कि महामारी ने दुनिया और कानूनी पेशे को हमेशा के लिए बदल दिया है। जो नहीं बदला है वह है न्याय की तलाश और सभी सभ्य समाजों और राष्ट्रों के लिए शीघ्र न्याय प्रदान करने की आवश्यकता। मानवता को मानवीय लक्ष्य की तलाश करने में अभी भी न्याय और पेशेवरों की आवश्यकता है। कानून का नियम बुनियादी मानव स्थिति के साथ विशेष रूप से मुक्त समाजों में जुड़ा हुआ है। आधुनिक कानूनी शिक्षा में कानूनी ज्ञान के साथ भावनात्मक ज्ञान और कौशल के साथ व्यक्तिगत प्रभावशीलता और आर्थिक उद्यमशीलता की मानसिकता शामिल होनी चाहिए। कानूनी शिक्षा में टेक्नोलॉजी, सोशल मीडिया स्किल्स, डेटा एनालिटिक्स, डेटा सिक्योरिटी और डिजाइन थिंकिंग पर भी ध्यान देना चाहिए। कानून शिक्षा का पूर्व-महामारी संबंधी मॉडल अब डिफॉल्ट स्थिति नहीं है, लेकिन एक हाइब्रिड प्रणाली में विकसित होगा, जहां संकाय और छात्र एक सीमाहीन समुदाय बन जाएंगे।” पिछले कुछ महीनों में कोविड-19 महामारी के कारण पैदा हुए व्यवधानों को कम करने के लिए दुनिया भर के लॉ स्कूलों को तेजी से कोशिश एवं कार्रवाई करनी पड़ी है। कई चुनौतियों का सामना करने वाले एजुकेशनल लीडर्स को एक साथ अपने सभी हितधारकों की जरूरतों को पूरा करना पड़ा और इस अनोखे संकट के दौरान उन्होंने भारी मानवता दिखाई। इसलिए, इस सम्मेलन ने कानूनी शिक्षा के भविष्य की पुनर्कल्पना करने के लिए 6 महाद्वीपों और 35 से अधिक देशों के करीब 170 विचारकों को 30 से अधिक विषयगत सत्रों और 2 मुख्य संबोधनों के लिए एक साथ एक मंच पर लाया। सम्मेलन में दुनिया भर के और भारत के अग्रणी लॉ स्कूलों के वरिष्ठ नेतृत्व के विभिन्न विचारों को एक मंच पर एक साथ साझा किया जाएगा जिनमें शामिल होंगे। स्टैनफोर्ड लॉ स्कूल, कॉर्नेल लॉ स्कूल, मेलबर्न लॉ स्कूल, नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ सिंगापुर (एनयूएस) फैकल्टी ऑफ लॉ, यूएनएसडब्ल्यु लॉ स्कूल, जॉर्ज टाउन लॉ स्कूल, फैकल्टी ऑफ लॉ दृ द चाइनीज यूनिवर्सिटी ऑफ हांगकांग, फैकल्टी ऑफ लॉ दृ द यूनिवर्सिटी ऑफ हांगकांग, स्कूल ऑफ लॉ दृ यूनिवर्सिटी ऑफ क्वींसलैंड, डरहम लॉ स्कूल, ऑकलैंड लॉ स्कूल, स्कूल ऑफ लॉ दृ सिटी यूनिवर्सिटी ऑफ हांगकांग, स्कूल ऑफ लॉ – ट्रिनिटी कॉलेज डबलिन, फैकल्टी ऑफ लॉ – अल्बर्ट-लुडविग्स-यूनिवर्सिटेट फ्रीबर्ग (एएलयूएफ), स्कूल ऑफ लॉ – यूनिवर्सिटी कॉलेज डबलिन, फैकल्टी ऑफ लॉ – पोंटिफिसिया यूनिवर्सिडेड जवेरियाना, बर्मिंघम लॉ स्कूल, फैकल्टी ऑफ लॉ दृ यूनिवर्सिडेड एक्सटरनेडो डी कोलम्बिया, नेशनल लॉ स्कूल ऑफ इंडिया यूनिवर्सिटी (एनएलएसआईयू) – बेंगलुरु, गुजरात नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी – जोधपुर, नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी – रायपुर, नेशनल लॉ इंस्टीट्यूट यूनिवर्सिटी – भोपाल, नेशनल लॉ यूनिसर्सिटी – देल्ही, निरमा यूनिवर्सिटी लॉ स्कूल, एनएएलएसएआर यूनिवर्सिटी ऑफ लॉ, स्कूल ऑफ लॉ द बीएमएल मुंजाल यूनिवर्सिटी, और दिल्ली विश्वविद्यालय। इस सम्मेलन में ऑस्ट्रेलिया, बांग्लादेश, ब्राजील, कनाडा, कोलंबिया, कोस्टा रिका, क्रोएशिया, साइप्रस, फ्रांस, जर्मनी, हांगकांग एसएआर, इंडोनेशिया, आयरलैंड, इजरायल, इटली, जापान, कजाकिस्तान, मलेशिया, मैक्सिको, नेपाल, न्यूजीलैंड, नाइजीरिया, कतर, रूस, सिंगापुर, दक्षिण अफ्रीका, स्पेन, तंजानिया, चेक गणराज्य, नीदरलैंड, संयुक्त अरब अमीरात, यूनाइटेड किंगडम, संयुक्त राज्य अमेरिका, तुर्की, युगांडा, उरुग्वे और भारत से वक्ता शामिल हो रहे हैं।

लम्बित निर्माण कार्यों को गति देते हुए उन्हें धरातल पर उतारना सुनिश्चित करेंः मंडलायुक्त

अल्मोड़ा। आयुक्त कुमाऊॅ मण्डल अरविन्द सिंह ह्यांकी व जनपद के प्रभारी सचिव सुशील कुमार ने आज विकास भवन में जनपद में संचालित हो रहे विकास कार्यों जिसमें जिला योजना, राज्य सैक्टर, केन्द्र पोषित व वाह्य सहायतित योजनाओं में प्राप्त बजट व व्यय की गयी धनराशि, स्वरोजगार योजनाओं, कोविड-19 की स्थिति विभिन्न न्यायालय में लम्बित वादों के सम्बन्ध में सम्बन्धित अधिकारियों के साथ गहन समीक्षा करते हुए आवश्यक दिशा-निर्देश दिये। बैठक में आयुक्त ने कहा कि वर्तमान समय में कोराना संक्रमण के कार्यों के कारण विकास कार्यों की गति धीमी हुई है लेकिन अब विकास कार्यों को पूर्ण गति देने के लिए सम्बन्धित अधिकारी लम्बित निर्माण कार्यों को गति देते हुए उन्हें धरातल पर उतारना सुनिश्चित करें ताकि आम लोगो को योजनाओं का लाभ मिल सके। आयुक्त ने निर्देश दिये कि जिन विभागों ने जिला योजना व अन्य मदो में व्यय बुक नहीं किये है वे तत्काल व्यय बुक कर लें जिससे प्रगति दिख सके। उन्होंने विशेषकर लोक निर्माण विभाग, राजकीय सिंचाई, समाज कल्याण वन विभाग, पीएमजीएसवाई के अधिकारियों को स्वीकृत बजट को यथा समय व्यय करने के निर्देश दिये। मुख्य शिक्षाधिकारी को निर्देश दिये कि छात्रों को दी जाने वाली छात्रवृत्ति का सत्यापन का कार्य जल्दी से जल्दी पूर्ण कर लें जिससे छात्रों को छात्रवृत्ति समय से मिल सके। उन्होंने उद्यान अधिकारी को किसानों को समय से पाॅलीहाउस आदि वितरित करने के निर्देश दिये। आयुक्त ने मुख्यमंत्री घोषणाओं की समीक्षा करते हुए कहा कि घोषणाओं पर यथाशीघ्र कार्य करते हुए कार्य योजना को धरातल पर उतारना सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। नगर विकास द्वारा बनाये जाने वाले सामुदायिक शौचालयों के निर्माण में तेजी लाने के निर्देश दिये साथ ही उन्होंने कूड़ा एकत्रिकरण पर भी अधिशासी अधिकारी को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये। उन्होंने इस दौरान कोविड-19 संक्रमण हेतु किये गये तैयारियों एवं बचाव की समीक्षा की। बैठक में जनपद के प्रभारी सचिव ने भी अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश देते हुए कहा कि कृषि विभाग द्वारा कलस्टर आधारित कृषि को बढ़ावा दिया जाना चाहिए इसमें विभिन्न रेखीय विभाग जिसमें पशुपालन, उद्यान, सहकारिता आदि को शामिल करते हुए माॅडल कलस्टर तैयार किये जाये। उन्होंने कहा कि कृषि व रेखीय विभाग के समन्वय से ही किसानों की आय दुगनी हो सकती है। उन्होंने कहा कि कोविड के कारण जनपद में आये प्रवासियों को फोकस करते हुए उन्हें स्वरोजगार के अवसर दिया जाय। उन्होंने लीड बैंक अधिकारी को निर्देश दिये कि विभिन्न विभागों द्वारा संचालित योजनाओं के तहत दिए जाने वाले ऋण को अनावश्यक बैंकांे द्वारा लम्बित न रखा जाय। इस दौरान उन्होंने राजस्व न्यायालय में लम्बित वादांे के निस्तारण में जिलाधिकारी व अन्य अधिकारियों को तेजी लाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि अधिकारी ग्रामीण क्षेत्रों का भ्रमण करते हुए वहा पर मूलभूत सुविधाओं की पूर्ति कराने का हर सम्भव प्रयास करें। प्रभारी सचिव ने कार्मिकों की लम्बित पदोन्नति को भी समय से निस्तारित करने व सेवानिवृत्त हुए कार्मिकों के लम्बित पेंशन प्रकरणों को यथा समय निस्तारण करने के निर्देश दिये। सेवा का अधिकार व सीएम हैल्प लाईन में लम्बित शिकायतों को जल्दी से जल्दी निस्तारित करने के भी उन्होंने निर्देश दिये। बैठक में आयुक्त कुमाऊॅ मण्डल व जनपद प्रभारी सचिव ने विकास कार्यों व अन्य योजनाओं से सम्बन्धित जिले की प्रगति पर संतोष जताते हुए और अधिक मनोयोग से कार्य करने के निर्देश सभी जिला स्तरीय अधिकारियों को दिये। इसके बाद उन्होंने निर्माणाधीन नवीन कलैक्ट्रेट भवन का निरीक्षण किया और कार्यदायी संस्था को कार्यों में गुणवत्ता व प्रोजेक्ट को तय समय से पूर्ण करने के निर्देश दिये जिससे यथाशीघ्र कलैक्ट्रेट नवीन भवन में स्थानान्तरित हो सके। उन्होंने निर्माण कार्यों की प्रगति पर संतोष व्यक्त किया। इस अवसर पर जिलाधिकारी नितिन सिंह भदौरिया ने पाॅवर पांइट के माध्यम से जनपद की विभिन्न विकास योजनाओं व निर्माण कार्यों की जानकारी दी। इस बैठक में मुख्य विकास अधिकारी नवनीत पाण्डे, अपर जिलाधिकारी बी0एल0 फिरमाल, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 सविता हयांकी, उपजिलाधिकारी सीमा विश्वकर्मा, मोनिका, उप निदेशक अर्थ एवं संख्या नैनीताल राजेन्द्र तिवारी, जिला विकास अधिकारी के0के0 पंत, मुख्य शिक्षाधिकारी एच0बी0 चन्द, महाप्रबन्धक उद्योग डा0 दीपक मुरारी के अलावा समस्त जनपद स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे। इससे पूर्व सभी अधिकारियों द्वारा संविधान दिवस के अवसर पर संविधान के उद्देशिका की शपथ ली।

डीएम ने मूल्यांकन के लेखपत्रों का निरीक्षण किया

देहरादून। जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार द्वारा राजपुर रोड में उप निबन्धक कार्यालय देहरादून में पंजीकृत की गई अधिक मूल्यांकन के लेखपत्रों (संपत्तियों) का निरीक्षण किया गया। बड़ी संपत्तियों की खरीद फरोख्त के मौका मुआवने के दौरान जिलाधिकारी ने समस्त उप निबन्धकों को निर्देशित कि या कि सम्पत्तियों के मूल्यांकन में किसी भी तरह की लापरवाही ना बरती जाए। उन्होंने राजपुर रोड में 02 सम्पत्तियों का निरीक्षण किया, जिसमें से एक सम्पत्ति के सन्दर्भ में उन्होंने अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व और उप निबन्धकों को जांच करने के निर्देश दिए। इसके पश्चात एस्लेहाॅल पीएनबी बैंक से लगी एक सम्पत्ति का अपर जिलाधिकारी वित्त राजस्व बीर सिंह बुदियाल द्वारा निरीक्षण करते हुए सन्तुष्टि व्यक्त की गई। जिलाधिकारी द्वारा जनपद में स्थित बड़ी संपत्तियों के खरीद फरोख्त का मौका मुआयना किया जा रहा है तथा किसी भी प्रकार की कमी पाई जाने पर सख्त कार्यवाही की जा रही है। इस दौरान निरीक्षण में जिलाधिकारी के साथ अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व बीर सिंह बुदियाल, उप निबन्धक रामदत्त मिश्रा, बी.एम डोभाल व अवतार सिंह उपस्थित थे।

Thursday, 26 November 2020

भाजपा प्रदेश कार्यालय में संविधान दिवस मनाया गया

देहरादून। भारतीय जनता पार्टी प्रदेश कार्यालय में आज संविधान दिवस मनाया गया और विचार गोष्ठी की गई। भाजपा प्रदेश कार्यालय में आज संविधान दिवस मानने के साथ विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया।विचार गोष्ठी में अपने संबोधन में प्रदेश महामंत्री संगठन अजय कुमार ने कहा कि भारत का संविधान विश्व के महान संविधान में है और ड्राफ्टिंग कमिटी के अध्यक्ष डॉक्टर भीमराव अंबेडकर का विशेष योगदान रहा। साथ ही संविधान निर्माण में अन्य सदस्यों ने भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। आज के दिन हम उन्हें सम्मान के साथ याद कर रहे हैंे। उन्होंने कहा कि हमारे संविधान में देश की विविधता में एकता की विशेषता को समेटा गया है और साथ ही इसका स्वरूप ऐसा है कि यह समय की आवश्यकताओं को पूरा करता रहे। श्री अजय ने कहा कि 26 नवंबर हमारे लिए एक महत्वपूर्ण राष्ट्रीय दिवस है जो हमें राष्ट्र के प्रति अपनी जिम्मेदारियों की याद दिलाता है और संविधान निर्माताओं के योगदान को पुनः स्मरण करने का अवसर भी देता है। इस अवसर पर विधायक हरबंस कपूर ने कहा कि कि हमारा संविधान देश की जनताअपेक्षाओं को पूरा करने के लिए बना है और इसका मूल आधार लोकतंत्र है। विधायक मुन्ना सिंह चैहान ने संविधान निर्माण में डॉक्टर भीमराव अंबेडकर के महान योगदान का उल्लेख किया और कहा कि डॉक्टर अंबेडकर ने संविधान निर्माण के समय देश की एकता अखंडता और कमजोर वर्ग के विकास के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण अपनाते हुए जरूरी प्रावधान किए। उन्होंने डॉ. राजेंद्र प्रसाद व अन्य नेताओं के योगदान का भी उल्लेख किया। विधायकविनोद चमोली ने कहा कि हमारे संविधान में महत्वपूर्ण बात यह है कि देश का जनमानस इससे जुड़ा है और जब कभी इसके साथ कोई छेड़छाड़ की जाती है तो उसके विरोध में तेज स्वर उठते हैं। इंदिरा गांधी द्वारा संविधान के दुरुपयोग पर जनता का विरोध इस रूप में सामने आया कि उन्हें सत्ता से भी हटना पड़ा। प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार ने गोष्ठी का संचालन किया। इस अवसर पर प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ. देवेंद्र भसीन, खजान दास विधायक, उमेश शर्मा, सहदेव पुण्डीर, दायित्वधारी ज्योति गैरोला, वीरेन्द्र बिष्ट, मेयर सुनील उनियाल, कोषाध्यक्ष पुनीत मित्तल, प्रवक्ता विनय गोयल, मयंक गुप्ता, महानगर अध्यक्ष सीताराम भट्ट जिला अध्यक्ष शमशेर सिंह पुंडीर सोशल मीडिया प्रदेश प्रभारी शेखर वर्मा सह प्रभारी परितोष बंगवाल प्रदेश मंत्री पुष्कर सिंह काला, मधु भट्ट, आदित्य चैहान कार्यालय सचिव कौस्तुभानंद जोशी आदि पदाधिकारी उपस्थित थे।

भाजपा प्रदेश प्रभारी गौतम व सह प्रभारी रेखा वर्मा 28 व 29 नवंबर को उत्तराखंड में

देहरादून। भाजपा राष्ट्रीय महासचिव व उत्तराखंड प्रभारी प्रदेश प्रभारी दुष्यंत कुमार गौतम तथा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व उत्तराखंड सह प्रभारी रेखा वर्मा 28 व 29 नवंबर को उत्तराखंड आ रहे हैं। वे यहां विभिन्न बैठकों में भाग लेंगे। भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष और मीडिया प्रभारी डॉ. देवेंद्र भसीन ने बताया कि भाजपा राष्ट्रीय महासचिव व प्रदेश प्रभारी दुष्यंत कुमार गौतम तथा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व प्रदेश सह प्रभारी रेखा वर्मा का 28 व 29 नवंबर को उत्तराखंड आगमन का कार्यक्रम तय हुआ है। दोनों राष्ट्रीय नेताओं के उत्तराखंड का प्रभारी व सहप्रभारी बनने के बाद यह पहला दौरा होगा। उन्होंने बताया कि इस दो दिवसीय दौरे में श्री गौतम व श्रीमती वर्मा विभिन्न बैठकों में भाग लेंगे। इस दौरान वे भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के 5, 6 व 7 दिसंबर को उत्तराखंड दौरे के बारे में जरूरी निर्देश देंगे।

शिव सेना मुख्यालय में शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई

देहरादून। शिव सेना मुख्यालय में 26/11 के शहीदों को शिवसेना प्रमुख गौरव कुमार के नेतृत्व में शिवसैनिकों के द्वारा दीपदान करते हुए श्रद्धांजलि अर्पित की गई। शिव सैनिकों को संबोधित करते हुए शिवसेना प्रमुख गौरव कुमार ने कहा कि हमारे देश की सीमाएं और देश की जनता भारतीय सेना की मुस्तैदी की वजह से ही सुरक्षित है आतंकवाद का मुंह काला होना चाहिए माननीय शिवसेना प्रमुख गौरव कुमार जी ने यह भी कहा कि जनता के लिए शिवसेना किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए खड़ी हुई है। इस मौके पर विकास मल्होत्रा, अभिनव बेदी, सचिन दिक्षित, दिनेश कुमार, वासु परविंदा, विकास सिंह, निधि गुप्ता, निशा मेहरा, महिमा परमार, गोकुल परविंदा, रंजीत सक्सेना, हर्ष सिंघल ,योगेश गुप्ता, अभिषेक सहानी, सहित काफी संख्या में शिवसैनिक उपस्थित रहे।

उत्तरकाशी जिला पंचायत अध्यक्ष के अधिकार सीज, कार्यालय सील

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने जिला पंचायत उत्तरकाशी के वित्तीय परामर्शदाता धर्मेंद्र सिंह रावत को उनके मूल पद एवं अतिरिक्त प्रभार से मुक्त करते हुए अग्रिम आदेशों तक निदेशालय विभागीय लेखा देहरादून से संबंध किए जाने के निर्देश दिए हैं। शासन द्वारा जिला पंचायत उत्तरकाशी में अनियमितताओं के दृष्टिगत जिला पंचायत अध्यक्ष के अधिकारों को सीज करते हुए जिला पंचायत अध्यक्ष कार्यालय को भी सील किया गया है। जिला पंचायत उत्तरकाशी में वित्तीय अनियमितताओं की जांच के दृष्टिगत मुख्यमंत्री ने जिला पंचायत उत्तरकाशी के वित्तीय परामर्शदाता को उनके मूल पद एवं अतिरिक्त प्रभार से मुक्त करते हुए अग्रिम आदेशों तक निदेशालय विभागीय लेखा देहरादून से संबंध करने की सहमति प्रदान की है।

केंद्रांश की धनराशि अवमुक्त करने को केंद्रीय जल शक्ति मंत्री से किया अनुरोध

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने प्रदेश में प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना-हर खेत को पानी एवं भूजल योजना के तहत प्रस्तावित 349.39 करोड़ की 422 कलस्टर योजनाओं के लिए केंद्रांश की धनराशि अवमुक्त करने के लिए केंद्रीय जल शक्ति मंत्री से अनुरोध किया है। केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत को भेजे पत्र में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने अनुरोध किया है कि इस संबंध में राज्य सरकार द्वारा अग्रिम राज्यांश अवमुक्त कर दिया गया है। अतः प्रदेश में प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना भूजल एवं हर खेत को पानी के अंतर्गत 422 लघु सिंचाई योजनाओं के लिए केंद्रांश की धनराशि शीघ्र मुक्त करा दी जाए।

देहरादून में सबसे ज्यादा बढ़ रहा कोरोना संक्रमण

देहरादून। प्रदेश में कोरोना वायरस का संक्रमण फिर तेजी से बढ़ रहा है। बीते एक सप्ताह में 3335 कोरोना संक्रमित मामले मिले हैं। सबसे ज्यादा चिंताजनक स्थिति देहरादून जिले की है। क्योंकि 36 प्रतिशत मामले सिर्फ देहरादून जिले के हैं। वहीं, रुद्रप्रयाग, उत्तरकाशी, चंपावत व बागेश्वर जिले में दो प्रतिशत संक्रमित मिले हैं। ठंड बढ़ने के साथ ही कोरोना वायरस का संक्रमण रफ्तार पकड़ रहा है। पिछले सात दिनों से सबसे अधिक संक्रमित मामले देहरादून जिले में मिल रहे हैं। प्रदेश भर में कुल 3335 संक्रमित मामलों में से 1214 देहरादून जिले के हैं। जबकि हरिद्वार में 352, नैनीताल में 350 और पौड़ी जिले में 264 संक्रमित मिले हैं। मैदानी जिला ऊधमसिंह नगर जिले में 204 यानी छह प्रतिशत संक्रमित मामले सामने आए हैं। रुद्रप्रयाग, उत्तरकाशी, चंपावत व बागेश्वर जिले में सबसे कम दो प्रतिशत संक्रमित मिले हैं।

प्रदेश में 355 नए कोरोना संक्रमित मिले, 11 मरीजों की मौत

देहरादून। उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में 11 कोरोना मरीजों की मौत हुई और 355 नए संक्रमित मिले हैं। कुल संक्रमितों की संख्या 72997 हो गई है। वहीं, 4682 सक्रिय मरीजों का उपचार चल रहा है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार, गुरुवार को 10805 सैंपलों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। देहरादून, पिथौरागढ़, पौड़ी में संक्रमित मामले बढ़े हैं। आज देहरादून जिले में 128 कोरोना मरीज मिले हैं। पिथौरागढ़ में 51, पौड़ी में 39, हरिद्वार में 28, नैनीताल में 24, चमोली में 24, ऊधमसिंह नगर में 18, अल्मोड़ा में 14, टिहरी में नौ, बागेश्वर में छह, चंपावत में छह, उत्तरकाशी में पांच और रुद्रप्रयाग जिले में तीन संक्रमित मिले हैं। आज प्रदेश में 11 संक्रमित मरीजों की मौत हुई है। इसमें दून मेडिकल कॉलेज में दो, सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी में दो, हिमालयन हॉस्पिटल में दो, महंत इंदिरेश हॉस्पिटल में दो, कैलाश हॉस्पिटल में एक, एम्स ऋषिकेश में एक, जिला अस्पताल पिथौरागढ़ में एक मरीज ने दम तोड़ा है। मृतक संक्रमित मरीजों की संख्या 1196 हो गई है। वहीं, 317 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया। इन्हें मिला कर 66464 मरीज ठीक हो चुके हैं।

निश्छल प्रेम के बदले में परमात्मा भी कुछ नहीं दे सकता: मोरारीबापू

रमन रेती में कार्ष्णि गुरु शरणानंदजी महाराज के सानिध्य में चल रही रामकथा के सातवें दिन प्रारंभ में योग ऋषि पूज्य रामदेवजी बाबा ने निश्छल हृदय से अपना वेद, वेदना और वंदना तीनों मोरारीबापू के चरणों में रख दिया। कृतार्थ और कृतज्ञ भाव से उद्बोधन करके सबको आनंदित कर दिया। कथा के प्रारंभ में बापू ने महाराज श्री को ब्रजमंडल के नंदबाबा कहकर उनकी भाव-वंदना की। रामदेवजी बाबा को वैश्विक योग-संचार का केन्द्र बताकर कहा कि आपने सबका योग करवाया है, किसी का वियोग नहीं करवाया। योग गुरु ने पचास साल में डेढ़ सौ साल का काम किया, जगत कर्ज़मंद रहेगा ऐसा कहकर बापू ने साधुवाद दिया। बापू ने कहा, मैं स्वदेशी चीजों का इस्तेमाल करता हूं। निष्केवल प्रेम के बदले में परमात्मा भी कुछ नहीं दे सकता। इस बात को स्पष्ट करते हुए बापू ने कहा कि राम राज्य की स्थापना के बाद भगवान ने कौल-कीरातों के लिए क्या किया? मीरां के लिए गोविंद ने क्या किया? प्रेम का अंतिम चरण है विगलित हो जाना। ऐसे प्रेमियों को बदले में कुछ देने की चेष्टा अपमान है। रामचरितमानस पूर्णतः समर्पण का शास्त्र है। रामायण के आदि को सत्य, मध्य को प्रेम और अंत को करुणा कहा। सत्य से जो संतान प्रकट होती है उसका नाम है अभय। जहां सत्य होता है वहां अभय होता ही है। प्रेम से जो संतान प्रकट होती है वह है त्याग। प्रेम आएगा तो समर्पण आएगा ही। 'केवल मुक्ति', 'केवल ज्ञान', 'केवल निर्वाण' की चर्चा ग्रंथों में मिलती हैं पर 'मानस' में प्रधान रूप से 'केवल प्रेम' की चर्चा है। प्रेम की कुछ श्रेणियां बताते हुए कहा की प्रेम लाक्षावत्, घृतवत् और मधुवत् होता हैं। अब, प्रेमधारा के कुछ प्रतिबंधक तत्वों की चर्चा करते हुए बापू ने कहा, आशाबंध प्रेम का प्रतिबंधक तत्त्व है। आशा एक ठाकुर जी से ही होनी चाहिए। तू ना मिले तो कोई चिंता नहीं, तेरा प्यार मिले। प्रेमधारा का दूसरा प्रतिबंधक तत्व है - उद्वेग। प्रेमी को उद्वेग कैसा! प्रेम करने वाले पर बहुत कष्ट आएंगे। पर आखिरी क्षण तक टिके रहना वो तो गुरु कृपा से ही संभव है। दुःख के लम्हों में उद्वेग नहीं करना चाहिए क्योंकि हमारे पास महाभारत, रामायण, वेद, उपनिषद, दर्शनशास्त्र, संत-आचार्य सब का संबल हैं। प्रेमधारा का साधक तत्व है समुत्कंठा। रोज परमार्थ की नई और स्वादु उत्कंठा जगे। और प्रेम धारा का दूसरा साधक तत्व है -सहज विरक्ति। विरक्तों का प्रेम शाश्वती लिए बहता है। क्योंकि उनका प्रेम कामना रहित, गुण रहित और प्रतिक्षण वर्धमान होता है। मानशून्यता, प्रेम का तीसरा साधक तत्व है। इसमें प्रेमी कोई सम्मान नहीं चाहता। चौथा साधक तत्व है - व्यर्थकालत्वम्। इसमें स्वधर्म निभाते हुए शेष समय में थोड़ा हरि भजन करें। काल को व्यर्थ न गवाएं। परमात्मा के नाम में,धाम में, भगवद् चरित्र में हमारी रुचि बढ़े तो समझना कि प्रेम प्रवाह बढ़ रहा है। कोरोना के संदर्भ में बापू ने कहा कि जब तक वैक्सिन न आ जाए तब तक मास्क ही वैक्सीन है। ऐसा कहकर सबको सावधानी बरतने को कहा। इन चर्चाओं के साथ बापू ने कथा को विराम दिया।

धीरेंद्र प्रताप ने अहमद पटेल को दी भावभीनी श्रद्धांजलि, कहा वे थे कांग्रेस की रीढ़

देहरादून। उत्तराखंड कांग्रेस के उपाध्यक्ष धीरेंद्र प्रताप ने कांग्रेस के कोषाध्यक्ष और सोनिया गांधी के सलाहकार अहमद पटेल को श्रद्धांजलि देते हुए उन्हें कांग्रेस की रीढ़ की हड्डी बताया। उन्होंने कहा कि अहमद पटेल ने पिछले अनेक वर्षों में कांग्रेस को मजबूत करने के लिए जिस तरह से रात दिन काम किया वह बेमिसाल है। उन्होंने कहा कि अहमद पटेल राजनीति के चाणक्य थे ।उन्होंने कहा कि उनके निधन से कांग्रेस ने अपना एक बहुत ही बुद्धिमान, ऊर्जावान और प्रेरणादायक नेता खो दिया है। उन्होंने कहा कि उनकी कमी कांग्रेस को वर्षों तक खलती रहेगी। उन्होंने कहा कि वे अपने साथियों को बहुत ही स्नेह और सम्मान देते थे ।जिसके लिए उन्हें सदैव याद किया जाता रहेगा।

गुलदार की खाल के साथ नेपाली वन्य जीव तस्कर गिरफ्तार

टनकपुर। वन विभाग ने नेपाल से आ रही गुलदार की खाल के साथ एक वन्य जीव तस्कर को गिरफ्तार किया है। चम्पावत जिले के टनकपुर शारदा वन रेंज कर्मियों ने गुलदार की खाल के साथ नेपाली तस्कर को टनकपुर पूर्णागिरि मार्ग से गिरफ्तार किया है। पकड़ा गया तस्कर टनकपुर तहसील क्षेत्र से लगे नेपाल राष्ट्र के ब्रहमदेव इलाके का निवासी है। तस्कर के खिलाफ वन विभाग के अधिकारियों ने वन अधिनियम में मुकदमा दर्ज कर लिया है। शारदा वन रेंज के एसडीओ आर के मौर्या ने बताया कि विभाग को वन जीव तस्कर द्वारा गुलदार की खाल लेकर पूर्णागिरि मार्ग से निकलने की सूचना मिली थी।जिस पर वन विभाग ने मार्ग की चारों तरफ से घेरा बंदी कर दी। विभाग ने उस मार्ग से गुजरते वन्य जीव तस्कर को गिरफ्तार कर किया।जिसकी तलाशी लेने पर एक गुलदार की खाल उसके पास से बरामद हुई है।जिसे तस्कर प्लास्टिक के थैले में रख कर लाया रहा था।पूछताछ में तस्कर द्वारा स्वंयम का नाम बलराज सार्की पुत्र नंद राम सार्की निवासी वार्ड नम्बर 9 बह्मदेव नेपाल राष्ट्र बताता है।वही बरामद गुलदार की उम्र ढाई से तीन वर्ष के करीब आंकी गई है।प्राप्त जानकारी के अनुसार नेपाली तस्कर नेपाल से टनकपुर में गुलदार की खाल की सप्लाई करने आया था।इसलिए वह विभाग की टीम तस्कर के लोकल सम्पर्क भी तलाश रही है।ताकि वन्य अपराध से जुड़े अन्य लोगो को भी पकड़ा जा सके। फिलहाल वन अधिकारियो द्वारा आरोपी व्यक्ति के खिलाफ वैधानिक कार्यवाही अमल में ला उसे न्यायालय में पेश किया जा रहा है।वही गुलदार की खाल के साथ नेपाली वन्य जीव तस्कर को दबोचने वाली टीम में एसडीओ शारदा वन रेंज आर के मौर्य, रेंजर महेश सिंह बिष्ट,राकेश शाह सहित अन्य वन कर्मी साथ रहे।

‘द बैटल ऑफ बिलॉन्गिंग’ पुस्तक का हुआ विमोचन

देहरादून। ‘‘द बैटल ऑफ बिलॉन्गिंग’’ नयी पुस्तक का विमोचन हुआ जो शशि थरूर द्वार लिखी गयी है। वर्चुवल कार्यक्रम प्रभा खेतान फाउंडेशन द्वारा आयोजित किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि हामिद अंसारी देश के पूर्व उपराष्ट्रपति, फारूक अब्दुल्ला, डेविड डेविडर, पवन के वर्मा, मकरंद परांजपे मौजूद थे। लेखक शशि थरूर ने इस समारोह में पुस्तक लिखने के लिए अपनी प्रेरणा को विस्तृत रूप से समारोह में शामिल सम्मानीय अतिथियों के समक्ष साझा किया। इस वेब इवेंट में भारत के वर्तमान सामाजिक, राजनीतिक और सांस्कृतिक मुद्दों पर प्रकाश डालती शशि थरूर की 22वीं पुस्तक के बारे में चर्चा और आलोचनात्मक मूल्यांकन के लिए देश-विदेश से बड़ी संख्या में अतिथि शामिल हुए। सभी मेहमानों ने शशि थरूर की नवीनतम पुस्तक और भारत से संबंधित कई मुद्दों पर गंभीर बहस को गति देने को लेकर इस पुस्तक की काफी सराहना की। मुख्य अतिथि हामिद अंसारी ने जीवंत चर्चाओं पर प्रकाश डालते हुए कहा, इसमें एकग्र भारत के विचार के लिए एक भावुक दलील को शामिल किया गया है, इसमें पहले की उन विचारधाराओं जो अब लुप्तप्राय है इसके जरिये कल्पनाशील मानदंडों पर प्रकाश डालने की कोशिश की गयी हैं। मुझे इसमें देशभक्ति पर निबंध विशेष रूप से ज्ञानवर्धक लगे। किताब के प्रकाशक एलेफ बुक कंपनी के डेविड डेविडर ने कहा, मुझे उम्मीद है कि हर भारतीय इस किताब को अवश्य पढ़ेगा। यह पुस्तक दुर्लभतम-दुर्लभ ‘अपरिहार्य’ श्रेणी में आती है-ऐसी पुस्तकें जिनके बिना आप काम नहीं कर सकते। शशि थरूर ने इस पुस्तक को कलमबद्ध करने से जुड़े कारणों के बारे में बताते हुए कहा, इस पुस्तक में राष्ट्रवाद और देशभक्ति के मुद्दों पर जीवनभर के विचारों, पठन और तर्कों की पराकाष्ठा को शामिल किया गया है जो केवल सैद्धांतिक या अकादमिक नहीं हैं, बल्कि गहन रूप से व्यक्तिगत भी हैं। यह पुस्तक आज के भारत में विशिष्टता के खिलाफ दुनिया में राष्ट्रीयता की समझ की ओर एक पर्यवेक्षक का नोट प्रस्तुत करती है।

पर्यटकों को दी जाएगी सभी जनपदों में स्थित प्राचीन मंदिरों की जानकारी

-नैनीताल में स्थित विश्व का एक मात्र प्राचीन मंदिर जहां गुरू बृहस्पति की पूजा की जाती है देहरादून। राज्य में पर्यटन की रफ्तार को तेज करते हुए पर्यटन, धर्मस्व एवं संस्कृति मंत्री सतपाल महाराज की अध्यक्षता में आज एक बैठक का आयोजन किया गया जिसमें प्रदेश के समस्त जनपदों में स्थित प्राचीन शंकर, विष्णु, राम, नवगृह और गोलज्यू मंदिरों का विवरण लेते हुए पर्यटन एवं तीर्थाटन की दृष्टि से उनके प्रचार एवं प्रसार पर व्यापक मंथन किया गया। पर्यटन विभाग गढ़ीकैंट में अधिकारियों व 13 जिले के डीटीडीओ के साथ वर्चुवल बैठक आयोजित कर पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने कहा कि उत्तराखंड आने वाले पर्यटकों व तीर्थ यात्रियों को सभी प्राचीन और ऐतिहासिक मंदिरों की जानकारी देना आवश्यक है जिससे राज्य में पर्यटन को बढ़ावा मिल सके। बैठक में 13 जनपदों के डीटीडीओ आॅनलाईन उपस्थित हुए और अपने-अपने जनपदों स्थित प्राचीन मंदिरों का विवरण पर्यटन मंत्री के सम्मुख रखा। बैठक के दौरान पर्यटन मंत्री ने बताया कि उन्होंने महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से आग्रह किया है कि वे फिल्म निर्माताओं को उत्तराखण्ड की चर्चित हस्तियों जैसे नैन सिंह रावत, अजीत डोभाल, थारू व बोक्सा जाति, राजा मालूसाई आदि के जीवन पर फिल्म का निर्माण करने के लिए भी प्रेरित करें। पर्यटन की दृष्टि से अल्मोड़ा में स्थित शिव मंदिर कपिलेश्वर व जागेश्वर, पिथौरागढ़ में पाताल भुवनेश्वर, बागेश्वर में बैजनाथ व बागनाथ, चम्पावत में कान्तेश्वर मंदिर, नैनीताल में भीमेश्वर मंदिर, ऊधमसिंह नगर में मोटेश्वर महादेव, टिहरी में कोटेश्वर महादेव मंदिर, रूद्रप्रयाग में पंच केदार, उत्तरकाशी में विश्वनाथ मंदिर, हरिद्वार में दक्ष प्रजापति मंदिर, चमोली में रूद्रनाथ शिव मंदिर व कल्पेश्वर शिव मंदिर, पौड़ी में क्यूंकालेश्वर मंदिर, नीलकण्ड, एकेश्वर मंदिर और देहरादून में लाखामण्डल स्थित शिव मंदिर कुल 24 प्राचीन शिव मंदिरों को चिन्हित किया गया है। वहीं विष्णु भगवान के मंदिरों में बद्रीनाथ मंदिर छत्तरगुला द्वाराहाट अल्मोड़ा, राम मन्दिर नारायण काली, बद्रीनाथ अल्मोड़ा, विष्णु मंदिर कोटली गंगोलीहाट पिथौरागढ़, मूल नारायण बागेश्वर, नारायण कोटि रूद्रप्रयाग, नारायण शिला हरिद्वार, पंच बद्री चमोली, सत्य नारायण मंदिर देहरादून, रघुनाथ मंदिर देवप्रयाग, उत्तरकाशी रघुनाथ गैलबनार, पौड़ी में वैष्व मंदिर समूह देवलगढ़ कुल 16 विष्णु मंदिरों को चिन्हित किया गया है। प्राचीन नाग देवता मंदिरों में नागनाथ मंदिर चम्पावत, पिगली नाग मंदिर पाखू, बेड़ी नाग मंदिर बेरीनाग पिथौरागढ़, फेणी नाग देवता मंदिर, धौली नाग मंदिर बागेश्वर, कारकोटक नैनीताल, सेम मुखेम नाग मंदिर टिहरी, नागराज देवता मंदिर मसूरी देहरादून व डांडा नागराजा मंदिर पौड़ी को चिन्हित किया गया है। नवगृह सर्किट में मानिला देवी व अल्मोड़ा के कटारमल स्थित सूर्य मंदिर, आदित्य सूर्य मंदिर रमक चम्पावत, नैनीताल में स्थित विश्व का एक मात्र प्राचीन मंदिर जहां गुरू बृहस्पति की पूजा की जाती है। उत्तरकाशी खर्शाली में शनि देव महाराज का प्राचीन मंदिर व पौड़ी में स्थित राहु मंदिर को चिन्हित किया गया। अल्मोड़ा के चितई गोलज्यू व गैराण मंदिर, चम्पावत स्थित गोलू देवता व नैनीताल के घोड़ाखाल में स्थित गोलू मंदिर को पर्यटन की दृष्टि से चिन्हित किया गया है। बैठक में उत्तराखण्ड राज्य में पर्यटकों की बढ़ोत्तरी के लिए सिखों के धार्मिक स्थलों, यहां के सिद्धपीठों, बुद्ध स्थलों व अल्मोड़ा के लखुडयार, पाताल रूद्रेश्वर आदि को चिन्हित करने के दिशा निर्देश दिये जिससे राज्य में पर्यटन को चार चांद लगे। बैठक के बाद पर्यटन मंत्री ने मौजूद सभी अधिकारियों व जिले के सभी डीटीडीओ को ईगास बुढ़ी दिपावली की शुभकामनाऐं दी। बैठक के बाद पर्यटन सचिव ने जिले के सभी डीटीडीओ को दिशा निर्देश दिये कि अपने जिले के संबंधित सभी धार्मिक स्थलों का विवरण यथाशीघ्र दें। बैठक में अपर सचिव सोनिका, निदेशक वित जगत सिंह चैहान, अपर निदेशक विवेक चैहान, उपनिदेशक योगेन्द्र कुमार गंगवार, रिसर्च अधिकारी एसएस सामंत तथा अन्य विभागीय अधिकारी मौजूद रहे।

आकाश इंस्टीट्यूट ने अभिषेक माहेश्वरी को सीईओ नियुक्त किया

देहरादून। प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी कराने वाले संस्थानों में देश भर में अग्रणी, आकाश एजुकेशनल सर्विसेज लिमिटेड (एईएसएल) ने उच्चतम मुकाम हासिल करने और व्यावसायिक उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए अपने प्रबंधन को मजबूत करने और पेशेवर बनाने के लिए कंपनी के निरंतर प्रयासों के अनुरूप, अभिषेक माहेश्वरी को कंपनी का मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) नियुक्त किया है। अभिषेक एईएसएल के लिए रणनीति तैयार करने और विभिन्न मुख्य शिक्षण प्रोग्रामों के प्रबंधन के लिए जिम्मेदार होंगे जिसमें क्लासरूम, हाइब्रिड और डिस्टेंस लर्निंग के साथ-साथ डिजिटल भी शामिल हैं। उनका फोकस समूह के लिए लाभदायक विकास करते हुए छात्रों को बेहतर मदद प्रदान करने के लिए पढाई के नयेदृनये तौरदृतरीकों का ईजाद जारी रखना होगा। अभिषेक ने आईआईटी दिल्ली से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में स्नातक की डिग्री ली है और न्यूयॉर्क में कोलंबिया बिजनेस स्कूल से एमबीए किया है। एईएसएल में नियुक्ति से पहले, अभिषेक बायजू के लिए इंटरनेशनल बिजनेस के अध्यक्ष थे, जहां वे विश्व स्तर पर एडटेक कंपनी के विकास के लिए जिम्मेदार थे। बायजू से पहले, वह डिज्नी के कंट्री हेड थे, और भारत में इसके ब्रांडों और व्यवसायों का नेतृत्व किया। उन्होंने प्रिंसिपल इन्वेस्टिंग में कुबेर के साथ और रणनीति परामर्श में मैकिन्से के साथ उनके भारत और अमेरिकी कार्यालयों में भी काम किया है।

लव जिहाद रोकने को बने ठोस कानूनः भैरव सेना, कलक्ट्रेट में किया प्रदर्शन

देहरादून। भैरव सेना नंदा वाहिनी की महानगर अध्यक्ष के नेतृत्व में आज कार्यकर्ताओं ने जिला मुख्यालय में प्रदर्शन कर लव जिहाद के खिलाफ कानून बनाने की मांग की है। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने मुख्यमंत्री को ज्ञापन भी प्रेषित किया। प्रदर्शनकारियों का कहना था कि लव जिहाद पर कानून बनाना अति आवश्यक है क्योंकि ऐसे मामलों में यौन शोषण संबंधी कानूनों के तहत मुकदमे चलते हैं। बलपूर्वक शादियों के मामले में कोर्ट सजा दे सकती है। कहा कि हरियाणा में निकिता तोमर की हत्या जैसे अब तक कई मामले प्रकाश में आए हैं। हर घटना का केंद्र बिंदु एकतरफा अंतर धार्मिक प्रेम या अंतर धार्मिक विवाह ही रहा है। देवभूमि में भी लव जिहाद तेजी से फैल रहा है। जिससे सांप्रदायिक टकराव की स्थिति भी बन जाती है। अंतर धार्मिक विवाह के लिए आर्थिक सहयोग करना कट्टरपंथियों को प्रोत्साहित करना है। प्रदर्शनकारियों ने कहा कि इन मामलों को लेकर देखते हुए लव जिहाद रोकने के लिए कठोर कानून बनाया जाना चाहिए। इस दौरान संदीप खत्री, पूरनचंद्र, रष्टी सिंह, कविता देवी, पूनम देवी, संजय पंवार, करण शर्मा, अनुभव, पंकज चंद्रानी तथा सत्यवीर सिंह आदि शामिल रहे।

देहरादून जिले में 89 मतदेय स्थलों को निरस्त किया गया

देहरादून। जिलाधिकारी व जिला निर्वाचन अधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 की धारा 25 के उपबंधों के अनुसरण में आयोग के पूर्व अनुमोदन से संसदीय विधान सभा (15-चकराता (अ.ज.जा), 16-विकासनगर, 17-सहसपुर, 18-धर्मपुर,19-रायपुर, 20-राजपुर रोड (अ.जा), 21-देहरादून केन्टोमेंट, 22-मसूरी, 23-डोईवाला व 24-ऋषिकेश) निर्वाचन क्षेत्र हेतु मतदान क्षेत्रों अथवा मतदाता समूहों का उपबन्ध किया गया है। जनपद में पूर्व में विद्यमान मतदेय स्थलों 1795 में से 89 मतदेय स्थलों पर मतदाताओं की कमी के कारण इन मतदेय स्थलों को निरस्त किया गया है जनपद में अब मतदेय स्थलों की संख्या 1706 हो गई है तथा 5 मतदेय स्थलों का भवन परिवर्तित किया गया है।

मोर्चा के प्रयास से युवा कल्याण विभाग देगा युवाओं को पीआरडी स्वयं सेवकों हेतु प्रशिक्षणः नेगी

-दिसंबर 2020 के प्रथम सप्ताह में होगा प्रशिक्षण शुरू -निदेशालय ने 2020-21 के लिए भी की बजट की मांग -सूचना आयोग की आहट मात्र से विभाग आया हरकत में विकासनगर। जन संघर्ष मोर्चा अध्यक्ष एवं जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने कहा कि मोर्चा द्वारा नवंबर 2019 को मुख्य सचिव से मुलाकात कर युवाओं को पीआरडी स्वयं सेवकों हेतु प्रशिक्षण दिलाए जाने को लेकर ज्ञापन सौंपा था, जिसमें मुख्य सचिव द्वारा सचिव, युवा कल्याण विभाग को कार्रवाई के निर्देश दिए थे, लेकिन शासन के निर्देश पर निदेशालय, युवा कल्याण विभाग कार्रवाई करने को तैयार नहीं था द्य मोर्चा के जिला मीडिया प्रभारी प्रवीण शर्मा पिन्नी द्वारा सूचना आयोग का दरवाजा खटखटाए जाने से सहमे शासन एवं निदेशालय हरकत में आए तथा 2019- 20 में शिक्षण हेतु प्राप्त बजट का इस्तेमाल अब दिसंबर 2020 के प्रथम सप्ताह में पीआरडी जवानों स्वयं सेवकों के रूप में प्रशिक्षण दिए जाने के आदेश जारी किए। नेगी ने कहा कि इसके अतिरिक्त निदेशालय ने वर्ष 2020-21 के प्रशिक्षण हेतु बजट उपलब्ध कराने का प्रस्ताव शासन को प्रेषित किया, जिससे दिसंबर 2020 के पश्चात युवाओं को प्रशिक्षण का और मौका मिलेगा। मोर्चा युवाओं के हित एवं उनके रोजगार को लेकर मुखर है तथा युवाओं से भी अपील करता है कि अपने हक के लिए जागें।

सड़क की डीपीआर स्वीकृत न होने पर ग्रामीणों में रोष, आंदोलन को चेताया

-क्षेत्र के ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री को भेजा ज्ञापन देहरादून। उत्तरकाशी जिले में यमुनोत्री विधानसभा क्षेत्र अंतर्गत खुरमोला ग्रामसभा में स्यालना-गवानाग मोटरमार्ग से ग्राम पंयासारी होते हुए ब्रह्मखाल-जुणगा मोटर मार्ग तक सड़क निर्माण के द्वितीय चरण की स्वीकृति दिए जाने की मांग को लेकर क्षेत्र के ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री को एक ज्ञापन भेजा है। ज्ञापन में चार साल बाद भी सड़क की डीपीआर स्वीकृत न किए जाने पर ग्रामीणों में रोष व्यक्त किया है। ग्रामीणों ने शीघ्र सड़क की डीपीआर स्वीकृत न किए जाने पर आंदोलन शुरु करने की चेतावनी दी है। सीएम को भेजे गए ज्ञापन में ग्रामीणों ने कहा है कि ग्रामसभा खुरमोला के ग्राम पंयसारी के ग्रामीण पिछले चार वर्षों से पंयासारी मोटरमार्ग निर्माण की मांग करते आ रहे हैं। इस संबंध में कई बार क्षेत्रीय विधायक के माध्यम से भी मांग की जा चुकी है, लेकिन मोटरमार्ग की डीपीआर पर स्वीकृति न मिल पाने के कारण ग्रामीण हताश एवं निराश हैं। पंयासारी, रामनगर, मलदोड़ी, तलासीव के ग्रामीणों ने निर्णय लिया है कि गवनाग मोटर मार्ग से पंयासारी होते हुए ब्रह्मखाल जुणगा मोटर मार्ग तक सड़क निर्माण की द्वितीय चरण की डीपीआर यदि शीघ्र स्वीकृम नही होती है तो ग्रामीण काली मंदिर रामनगर खुरमोला में धरना शुरु कर देंगे। इसके पश्चात भी यदि शासन द्वारा सड़क की डीपीआर स्वीकृत नहीं की जाती है तो ग्रामवासियों द्वारा धरना स्थल पर आमरण अनशन शुरु कर दिया जाएगा। डीपीआर पर वर्ष 2016 में तत्कालीन मुख्यमंत्री हरीश रावत द्वारा प्रशानिक अनुमोदन प्रदान किया गया था। इस क्रम में गवानाग मोटर मार्ग से पंयासारी होते हुए ब्रह्मखाल जुणगा मार्ग तक 5 किमी सड़क एवं 24 मीटर स्पान के सेतु निर्माण की प्रथम चरण की प्रशानिक एवं वित्तीय स्वीकृति 89.93 लाख की प्रदान की गई थी। मार्ग का विधिवत समरेखण अनुमोदन करने के पश्चात मार्ग पर पड़ने वाली वन भूमि की सैद्धांतिक स्वीकृति प्रदान करने के पश्चात सभी औपचारिताएं पूरी कर 2 नवंबर 2016 को शासनादेश जारी कर विधिवत स्वीकृति अपर सचिव वन द्वारा दी गई थी। स्वीकृति के पश्चात वर्ष 2016-17 में मार्ग पर पड़ने वाले वृक्षों का पातन किया जा चुका है और माह सितंबर 2020 तक मार्ग पर 7.48 लाख की धनराशि भी विभाग द्वारा व्यय की जा चुकी है। ज्ञापन में कहा गया है कि बड़ खेद का विषय है कि चार वर्ष पूर्व वन भूमि की स्वीकृति मिलने एवं पेड़ों का पातन हो जाने के बाद भी इस मार्ग की डीपीआर या तो गठित नहीं की गई और यदि गठित की गई तो आज तक डीपीआर पर कार्यवाही क्यों नहीं हुई। सीएम को भेजे गए इस ज्ञापन पर मगनी देवी, आरती, संगीता, बीना, प्रमिला, एकता, विश्वंभरी देवी, रोशनलाल, जगदंबा, श्यामलाल, बृजमणि, रामकला, कलम सिंह, पीएस कुमाईं, महिमानंद आदि के हस्ताक्षर हैं।

Wednesday, 25 November 2020

बंशीधर भगत ने केंद्रीय मंत्री नितिन गड़करी व रमेश पोखरियाल निशंक से की भेंट

देहरादून। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंशी धर भगत ने आज नई दिल्ली में केंद्रीय सड़क परिवहन व राष्ट्रीय राजमार्ग मंत्री नितिन गड़करी व केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल निशंक से भेंट की व विभिन्न विषयों पर उनसे चर्चा की। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष जो तीन दिवसीय दिल्ली प्रवास पर हैं ने आज केंद्रीय सड़क परिवहन व राष्ट्रीय राजमार्ग मंत्री नितिन गड़करी से मुलाकात की और उत्तराखंड के राष्ट्रीय राजमार्गों से जुड़े विभिन्न विषयों पर चर्चा की। श्री भगत ने श्री गड़करी को उत्तराखंड आने का निमंत्रण भी दिया। श्री भगत आज केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल निशंक से भी मिले। श्री भगत ने उनसे उत्तराखंड में केंद्रीय विद्यालयों सहित विभिन्न विषयों पर वार्ता की। उन्होंने डॉ निशंक को उनकी साहित्यिक उपलब्धियों के लिए ‘वातायन अंतरराष्ट्रीय शिखर सम्मान’(लंदन) द्वारा सम्मानित किए जाने पर हार्दिक बधाई।उन्होंने कहा कि इस सम्मान से न केवल डॉ. निशंक अपितु साहित्य जगत व देश का सम्मान बढ़ा है। श्री भगत के साथ वरिष्ठ भाजपा नेता व पूर्व कुमायूँ संभाग मीडिया प्रभारी तरुण बंसल भी थे।

इंदिरा नगर कॉलोनी सीमाद्वार में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया लोकपर्व ईगास

देहरादून। उत्तराखंड के लोकपर्व ईगास बग्वाल पर कैंट विधानसभा के अंतर्गत इंदिरा नगर कॉलोनी, सीमाद्वार क्षेत्र में वरिष्ठ भाजपा नेता दिनेश रावत द्वारा ईगास बग्वाल कार्यक्रम रखा गया जिसमें सभी कोरोना वारियर्स सफाई कर्मचारियों के साथ दीये जलाये गए, भेलू खेला गया। आतिशबाजी करी गयी एवं सभी सफाई कर्मचारियों को सम्मानित करा व मिठाई, दाल के पकोड़े व अन्य पहाड़ी व्यंजनों का आनंद लेते हुए ईगास पर्व मनाया गया। इस अवसर पर क्षेत्रवासियों ने दिनेश रावत जी का आभार जताया व धन्यवाद किया जिनके द्वारा समय समय पर क्षेत्र में इस तरह के पारम्परिक व पहाड़ी संस्कृति से जुड़े कार्यक्रमो का आयोजन किया जाता है। इस अवसर पर वार्ड अध्यक्ष विनोद रावत, बूथ अध्यक्ष किरन रावत भाजपा महिला मोर्चा उपाध्यक्ष उषा रावत, भाजपा नेता हिम्मत भंडारी, सुनील घिल्डियाल, अनिल सुंद्रियाल, कांता प्रसाद धौंडियाल, अरविंद पंत, अनिल कुमार, अशोक कुमार, पवन मटा व सौरभ राणा बबलू समस्त क्षेत्रवासी उपस्थित रहें।

यूकेडी ने शहीद स्मारक पर दिये जलाकर मनाया ईगास पर्व

देहरादून। पर्वतीय आँचल का लोक पर्व इगास बग्वाल को उत्तराखंड क्रान्ति दल द्वारा राज्य के शहीदों को नमन करते हुये कचहरी परिसर देहरादून स्थित शहीद स्मारक पर दिये जलाकर मनाया गया। ततत्पश्चात पार्टी कार्यालय 10 कचहरी रोड़ देहरादून में दिये प्रजल्लित करके लोकपर्व मनाया गया। इगास बग्वाल हमारी लोक परंपरा और आस्था का प्रतीक है जिसमें पर्वतीय आंचलों में दीपावली के रूप में मनाया जाता है। वीर शिरोमणि माधो सिंह भंडारी से लेकर श्रीराम चन्द्र जी की वनवास से अयोध्या वाफिसी की आस्था का पर्व है। यह पर्व भेल्लो के रूप में बुराई पर अच्छाई की जीत का द्योतक है।इस अवसर पर श्री लताफत हुसैन,सुनील ध्यानी, जय प्रकाश उपाध्याय,राजेन्द्र बिष्ट,धर्मेंद्र कठैत,अशोक नेगी,विजेंदर रावत,सीमा रावत,कमल कांत,अनूप आहूजा आदि थे।

भैलो खेलकर धूमधाम से मनाई ईगास बग्वाल

ऋषिकेश। उत्तराखंड की लोक संस्कृति को संजोये ईगास बग्वाल पर आज उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने तपोवन क्षेत्र के अंतर्गत आयोजित कार्यक्रम में भैलो खेलकर पर्व को धूमधाम से मनाया। बता दें कि विधानसभा अध्यक्ष ने आज अपनी बिटिया की शादी में व्यस्त रहने के बावजूद भी उत्तराखंड की संस्कृति को संरक्षित रखने के उद्देश्य से ईगास पर्व को लोगों के साथ बड़े उत्साह के साथ मनाया। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष एवं उपस्थित अन्य लोगों ने गढ़वाली गीतों पर नृत्य किया वहीं, भैलो खेलकर संस्कृति का परिचय दिया। भैलो घुमाकर एक-दूसरे को इगास पर्व की बधाई भी दी गयी।बता दें कि विधानसभा अध्यक्ष द्वारा पिछले वर्ष सांसद अनिल बलूनी के पैतृक गाँव जाकर सांसद संबित पात्रा के साथ ईगास पर्व को मनाया गया था। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि यह पर्व हम सबको जीवन में सुख, समृद्धि एवं उत्तम स्वास्थ्य प्रदान करे। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड, एक ऐसा प्रदेश जहां की संस्कृति कई रंगों से भरी हुई है। जहां की बोली में एक मिठास है। जहां हर त्योहार को अनूठे अंदाज में मनाया जाता है। इगास-बग्वाल एक ऐसा ही त्योहार है जो उत्तराखंड की परंपराओं को जीवंत कर देता है।यह पर्व हमारे पूर्वजों की धरोहर व पर्वतीय संस्कृति की विरासत है।उन्होंने कहा कि हमें अपने लोकपर्वो व संस्कृति को संरक्षित रखने की आवश्यकता है। इस अवसर पर पियूष अग्रवाल, राजेश उनियाल, पूरन राणा, रविंद्र रावत, दीपक नेगी, गिरीश रावत, अनिल रयाल, वीरेंद्र रावत, रीना देवी, सरिता बिजलवान, कविता देवी, स्वेता बिजलवान, विशेष कार्याधिकारी ताजेंद्र नेगी, सूचना अधिकारी भारत चैहान, जनसंपर्क अधिकारी राजेश थपलियाल, सहायक जनसंपर्क अधिकारी कौशल बिजलवान सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

उत्तराखंड: नीती घाटी के गांवों में पहली बार घनघनाएंगे मोबाइल, जियो ने दो 4 जी टॉवर शुरू किए

देहरादून। उत्तराखंड के चमोली में भारत-तिब्बत सीमा से लगी नीती घाटी में रिलायंस जियो के दो 4जी मोबाइल टॉवर शुरू हो गए हैं। रिलायंस जियो नीती घाटी में कुल 10 टॉवर लगाएगा। बाकी 8 टॉवर पर भी काम तेज गति से चल रहा है। घाटी में रहने वाले स्थानीय नागरिकों, ग्रामीणों के साथ सेना के जवानों को भी 4जी संचार सेवाए उपलब्ध हो पाएंगी। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने नीती घाटी के सुग्गी और जुम्मा गांवों में मोबाइल टॉवर का उद्घाटन किया। जुम्मा गांव में हुए खास कार्यक्रम में मुख्यमंत्री वर्चुअली भाग ले रहे थे। उद्घाटन कार्यक्रम में सांसद तीरथ सिंह रावत और बद्रीनाथ के विधायक महेद्र भट्ट भी शामिल रहे। रिलायंस के चेयरमैन मुकेश अंबानी को धन्यवाद करते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि “सीमांत क्षेत्र में अंतिम व्यक्ति को कनेक्टिविटी देने का वायदा मुकेश अंबानी ने पूरा किया है। मैं उनका आभार व्यक्त करता हूं। मुकेश जी डेटा को फ्यूल कहते रहे हैं और मुझे विश्वास है कि हमारे उत्तराखंड के नौजवान इस नई तकनीक और संचार व्यवस्था का लाभ उठाएंगे।“ मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उन 11 गांवों के निवासियों को भी शुभकामनाएं दी जो पहले फेज में जियो के नए टॉवरों के जरिए संचार सेवाओं से जुड़ गए है। भारत में मोबाइल सेवाएं शुरू हुए 25 वर्ष हो चुके हैं लेकिन नीती घाटी के दर्जनों गांव आज तक मोबाइल सेवाओं से अछूते थे। ग्रामीणों को संचार सेवाओं के लिए 45 किलोमीटर दूर तक आना पड़ता था। भारत-तिब्बत सीमा से लगी इस घाटी में बड़ी संख्या में सेना और आईटीबीपी के जवान भी तैनात रहते हैं। ऐसे में जियो की 4जी सेवाओं के शुरू होने का लाभ सुरक्षा एजेंसियों को भी मिलेगा। कठिन इलाकाई स्थितियों और प्रतिकूल जलवायु परिस्थितियों के बावजूद रिलायंस जियो यह उपलब्धि हासिल करने वाला पहला ऑपरेटर बन गया है। आज से पहले कोई भी ऑपरेटर इस सीमावर्ती घाटी में नही पहुंच पाया था। सर्दियों में यह इलाका भारी बर्फबारी की चपेट में रहता है ऐसे में टॉवर इंस्टालेशन का काम समय पर पूरा करना एक रिकॉर्ड है। इस अवसर पर विधायक महेंद्र भट्ट ने 4 जी सेवाएं शुरू करने और घाटी को डिजिटल सशक्तिकरण करने के लिए रिलायंस जियो के प्रति अपनी कृतज्ञता व्यक्त की। रिलायंस जियो उत्तराखंड का सबसे बड़ा और सबसे तेज 4 जी नेटवर्क है। जियो के नेटवर्क पर उत्तराखंड का सबसे अधिक डेटा इस्तेमाल किया जाता है। उत्तराखंड में 38.2 लाख ग्राहकों 4 जी ग्राहकों के साथ जियो निर्विवाद रूप से मार्केट लीडर बना हुआ है। अधिकतर प्रमुख संस्थान, कॉरपोरेट्स, कॉलेज, विश्वविद्यालय, होटल, अस्पताल, मॉल और अन्य वाणिज्यिक प्रतिष्ठान जियो नेटवर्क से जुड़े हैं। राज्य के 13 जिलों की लगभग सभी तहसील, उप तहसीलों सहित 12700 से अधिक गांव जियो से जुड़े हैं।

Tuesday, 24 November 2020

राज्य में 11 कोरोना संक्रमितों की मौत, 528 नए संक्रमित मिले

देहरादून। उत्तराखंड में 11 कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत हुई है। जबकि 528 नए संक्रमित मामले मिले हैं। कुल संक्रमितों का आंकड़ा 72 हजार पार हो गया है। सक्रिय मरीजों की संख्या भी बढ़ कर 4638 पहुंच गई है। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार, बीते 24 घंटे में 10473 सैंपलों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। नए संक्रमित मामले और कोरोना संक्रमित मरीजों की मृत्यु दर बढ़ने से सरकार और स्वास्थ्य विभाग के सामने चुनौती बढ़ रही है। 31 अक्तूबर को प्रदेश में 12 मरीजों की मौत हुई थी। इसके बाद से मौत का आंकड़ा 10 से कम था। आज देहरादून जिले में सबसे अधिक 192 कोरोना मरीज मिले हैं। हरिद्वार में 83, ऊधमसिंह नगर में 69, पिथौरागढ़ में 49, नैनीताल में 37, पौड़ी में 24, अल्मोड़ा में 20, चमोली में 20, उत्तरकाशी में 11, बागेश्वर में सात, टिहरी में छह, रुद्रप्रयाग व चंपावत जिले में पांच-पांच संक्रमित मिले हैं। आज प्रदेश में 11 संक्रमित मरीजों की मौत हुई है। इसमें सुशीला तिवारी मेडिकल कॉलेज हल्द्वानी में दो, एम्स ऋषिकेश में तीन, दून मेडिकल कॉलेज में दो, महंत इंदिरेश हॉस्पिटल में तीन, जिला अस्पताल टिहरी में एक मरीज ने उपचार के दौरान दम तोड़ा है। प्रदेश में अब तक 1173 संक्रमित मरीजों की मौत हो चुकी है। वहीं, आज 173 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया। इन्हें मिला कर अब तक 65703 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं।

असम के पूर्व सीएम तरूण गागोई के निधन पर शोक प्रकट किया

देहरादून। उत्तराखण्ड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने कांगे्रस पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं असाम प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री तरूण गोगोई के आकस्मिक निधन पर गहरा शोक प्रकट किया है। अपने शोक संदेश में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने स्व0 तरूण गोगोई को कांग्रेस पार्टी का वरिष्ठ, निष्ठावान एवं कर्मठ नेता बताते हुए उनके निधन को पार्टी के लिए अपूर्णीय क्षति बताया। प्रीतम सिह ने कहा कि तरूण गोगोई ने पार्टी संगठन की सेवा करने के साथ ही लम्बे समय तक असाम प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में जनसेवा करते हुए पार्टी की नीतियों को आगे बढाने का काम किया। उनके आकस्मिक निधन से जो स्थान रिक्त हुआ है उसकी पूर्ति कभी नहीं हो सकती है वे कांग्रेस कार्यकर्ताओं के दिलों में सदैव जीवित रहेंगे। शोक संतप्त परिजनों को सांत्वना देते हुए उन्होने कहा कि पूरा कांग्रेस परिवार इस दुःख की घडी में उनके साथ है, हम सभी कांग्रेसजनों की प्रार्थना है कि ईश्वर उनकी आत्मा को शांन्ति प्रदान करें तथा शोक संतप्त परिजनों को इस असहनीय दुःख को सहन करने की शक्ति देवें। प्रदेश कांग्रेस कमेटी कार्यालय में आयोजित शोकसभा में प्रदेश कांग्रेस महामंत्री संगठन विजय सारस्वत, प्रदेश महामंत्री नवीन जोशी, प्रदेश महामंत्री राजेन्द्र शाह, याकूब सिद्धिकी, पूर्व मीडिया चेयरमैन राजीव महर्षि, पूर्व मंत्री अजय सिंह, महानगर अध्यक्ष लालचन्द शर्मा, निवर्तमान प्रवक्ता गरिमा दसौनी, युवा कांग्रेस महासचिव संदीप चमोली, डाॅ0 प्रतिमा सिंह, प्रदेश सचिव शोभाराम, दीप बोहरा, भरत शर्मा, सुलेमान अली, सूर्यप्रताप राणा, भूपेन्द्र नेगी, आशीष सेमवाल, विशालमणि, सुभाष बेहड, अजय रावत आदि कांग्रेसजनों ने तरूण गोगोई के निधन पर शोक प्रकट करते हुए उनके परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की है।

शिवालिक एलीफेन्ट रिजर्व की अधिसूचना को निरस्त करने का निर्णय लिया गया

देहरादून। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत की अध्यक्षता में मंगलवार को सचिवालय में हुई उत्तराखण्ड राज्य वन्य जीव बोर्ड की 16वीं बैठक में शिवालिक एलीफेन्ट रिजर्व की अधिसूचना को निरस्त करने का निर्णय लिया गया। इसके साथ ही लालढ़ांग चिल्लर खाल मार्ग की स्वीकृति हेतु राष्ट्रीय वन्य जीव बोर्ड को पुनः प्रस्ताव प्रेषित किये जाने का भी निर्णय लिया गया। बैठक में अन्य जो महत्वपूर्ण निर्णय लिये गये उनमें गोविन्द वन्य जीव विहार वन क्षेत्र के अन्तर्गत पीएमजीएसवाई द्वारा जनपद उत्तरकाशी के मोरी में नैटवाड़ से नुराणू तक 12 कि0मी0 मोटर मार्ग, नैटवाड से हल्द्वाड़ी 23 कि0मी0 मोटर मार्ग, हल्द्वाड़ी से सेवा मोटर मार्ग लम्बाई लगभग 13 कि0मी0, पॉव से सिरगा मोटर मार्ग 08 कि0मी0 मोटर मार्ग, जनपद चमोली के केदारनाथ वन्यजीव प्रभाग के अन्तर्गत रूद्रनाथ मन्दिर पेयजल योजना, कार्बेट टाइगर रिजर्व के अन्तर्गत रामनगर क्षेत्र में धनगढ़ी नाले में 150 मी0 पुल निर्माण, पनोद नाले में 90 मी0 स्पान का पुल, गंगोत्री राष्ट्रीय पार्क के अन्तर्गत नादुंग से जनकताल ट्रेक रूट से 10 कि0मी0 खोले जाने, दुमकू से चोरगाड़ ट्रेक रूट 18कि0मी0 खोले जाने, झाला से अवाना बुग्याल 10 कि0मी0 खोले जाने, जसपुर से ब्रहमीताल ट्रेक रूट 14 कि0मी0 खोले जाने का निर्णय शामिल है। बैठक में वन मंत्री हरक सिंह रावत, विधायक दीवान सिंह बिष्ट, पलायन आयोग के उपाध्यक्ष एस0एस0 नेगी, उपाध्यक्ष वन पंचायत वीरेन्द्र बिष्ट, प्रमुख सचिव आनन्द वर्द्धन, प्रमुख वन संरक्षक रंजना काला, पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) अशोक कुमार, मुख्य वन्य जीव प्रतिपालक जेएस सुहाग, विशेष सचिव डॉ पराग मधुकर धकाते, अपर सचिव सोनिका सहित बोर्ड के सदस्य एवं अधिकारी उपस्थित रहे।

आप का लक्ष्य 2021, ईगास में पहाड़ों के हर घर जले दिया, राज्य सरकार करें सार्वजनिक छुट्टीः डा. राकेश काला




-रिवर्स पलायन के लिए ईगास पर करें सार्वजनिक अवकाश, पहाड़ों में लौटेगी रौनकः आप

देहरादून। राज्य का पारंपरिक त्योहार  ईगास,को लेकर आम आदमी पार्टी ने पूरे प्रदेश में पहाड़ों पर  ईगास मनाने का निर्णय लिया है जिसमें कल आप कार्यकर्ता अपने घरों के साथ,उन घरों में भी दिए जलाएंगे जहां पलायन के चलते सब खंडहर हो गए और एहसास दिलाने की कोशिश करेंगे कि हर घर दिया जले ताकि हमारे त्यौहार और परंपरा विलुप्त ना हो। इसी के चलते आज आप प्रवक्ता डॉक्टर राकेश काला ने एक बयान जारी करते हुए कहा,  पूरे प्रदेश में जब से पलायन हुआ है तब से त्योहार और यहां की परंपरा खत्म होती जा रही है। पहाड़ों में दीवाली के 11 दिन बाद मनाई जाने वाली दीवाली, जिसे बूढ़ी दीवाली या  ईगास कहते हैं इसे एक समय पहाड़ों पर बहुत बड़े स्तर पर मनाया जाता था लेकिन अब पिछले 20 सालों में नीति निर्माताओं और  के उदासीन रवैए और बढ़ते पलायन ने यहां के त्यौहारों को विलुप्ति की और ला दिया है। ऐसे में आम आदमी पार्टी ष्हर घर दीप जले ष् अभियान को लेकर इस  ईगास पर, पहाड़ों में सुने पड़े घरों में दिए जलाएगी और लक्ष्य रखेगी अगले ईगास तक  पहाड़ों पर फिर से रोशनी हो और हमारे त्योहार उसी तरह से मनाए जाय,जैसे पहले मनाए जाते थे।
इसके अलावा आप प्रवक्ता डॉक्टर राकेश काला ने पूरे उत्तराखंड वासियों को ईगास की शुभकामनाएं देते हुए ,मुख्यमंत्री से अपील की, अगर पहाड़ की संस्कृति को बचाना है तो, हमारे इस पारंपरिक त्योहार पर सार्वजनिक अवकाश की घोषणा करें। ताकि लोग अपने सुने पड़े आशियानों तक पहुंच सके और ईगास का त्योहार अपनों के साथ,पहाड़ों में मना सके। आपको बता दें,  ईगास यानि  बूढ़ी दीपावली, जिसे पहले उत्तराखंड में बड़े धूमधाम से मनाया जाता था लेकिन आप पिछले 20 सालों में जिस तरह से राज्य के नीति कारों ने नीतियां बनाई उस से पलायन बढ़ता गया आज गांव के गांव, खंडहर हो गए, खाली हो गए हैं। हमारे पारंपरिक त्योहारों को मनाने के लिए बहुत कम लोग पहाड़ों में बचे हुए हैं।इसलिए  इस  ईगास पर आम आदमी पार्टी  पूरे उत्तराखंड वासियों से आह्वान करती है कि आप  सभी लोग एक पहल करें,ष्हर घर दीप जलेष्को लेकर इस बार, एक दिया जरूर जलाएं और इस त्यौहार को अपने घर में मनाए।एक दिया जरूर उस घर में भी जलाएं जिस घर में कोई नहीं है। जो घर खाली हो चुका ताकि उत्तराखंड की इस पावन धरती पर हमारे तीज,त्योहार ,परंपरा और रौनक फिर से लौट सके। इसी अभियान के चलते हमारा लक्ष्य होगा, अगली ईगास पर पहाड़ों के सभी गांवों मे, लगभग सभी घरों में दिए जले जिसकी शुरुआत आप कार्यकर्ता इस  ईगास पर करेंगे। इसके अलावा आम आदमी पार्टी एक बार फिर, सरकार से मांग करती  हैं कि आप इस ईगास से राजकीय अवकाश की शुरुआत करें ताकि  गांव के हर एक आदमी को मौका मिले अपने घरों में जाकर एक दिया जलाएं , ताकि हमारे विलुप्त होते त्योहारों को फिर से एक नई जान मिल सकें।
------------------------------------------------------

करोड़ों हिंदुओं और आप की जीत- मां गंगा को मिला उसका आस्तित्व: डा. राकेश काला

 देहरादून, गढ़ संवेदना डाॅट पेज न्यूज। मां गंगा को नहर बताने वाले अध्यादेश पर बीजेपी और कांग्रेस ने जमकर सियासत की लेकिन वो नहीं जानते थे मां गंगा के आस्तित्व के साथ सियासत करना,करोड़ों हिंदुओं की आस्था के साथ खेलना जैसा था जिसका अंजाम एक दिन उनको भुगतना जरूर था ,और आखिरकार आज आम आदमी पार्टी,आम जनता और करोड़ों हिंदुओं की आस्था के आगे सरकार को झुकना पड़ा और हरिद्वार में एस्केप चैनल के आदेश को आज मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने निरस्त कर दिया है। आप प्रवक्ता डॉक्टर राकेश काला ने खुशी जताते हुए कहा,इस आदेश के बाद , गंगा को अपना पुराना अस्तित्व एक बार दोबारा मिल जाएगा। और ये जीत आम आदमी की जीत है। यह जीत हर उस हिंदुओं की आस्था की जीत है जो मां गंगा को पूजते हैं और उसे नमन करते हैं। डॉक्टर राकेश काला ने कहा,2016 में हरीश रावत सरकार ने जनता की भावनाओं से खिलवाड़ करते हुए और कुछ लोगों को लाभ पहुंचाने के लिए गंगा को एस्केप चैनल का दर्जा दिया था। उसके बाद मौजूदा भाजपा सरकार ने अपने चुनावी घोषणा पत्र में सरकार में आने पर इसके नाम को 24 घंटे में बदलने का वादा किया था लेकिन इन 4 सालों में भी भाजपा ने गंगा को लेकर कोई कदम नहीं उठाया। आम आदमी पार्टी ने जन भावनाओं का ख्याल रखते हुए मां गंगा के अस्तित्व के लिए लंबी लड़ाई लड़ी। आम आदमी पार्टी के कई कार्यकर्ताओं पर मुकदमे भी करवाए लेकिन आप मां गंगा के आस्तित्व को लेकर लगातार सड़कों पर आई। आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रभारी दिनेश मोहनिया और प्रदेश अध्यक्ष एसएस कलेर को इस लड़ाई लड़ने से रोकने के लिए लिए नोटिस तक भेजा जिसका आम आदमी पार्टी ने दिल्ली समेत पूरे उत्तराखंड में कड़ा विरोध किया था। आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं पर जगह जगह मुकदमे भी दर्ज भी कराए गए लेकिन आम आदमी पार्टी, मां गंगा के सम्मान , और करोड़ों हिंदुओं की आस्था के साथ खिलवाड़ रोकने को पीछे नहीं हटी , आखिरकार आम आदमी पार्टी के आगे आज पुराने फशेले को झुकना ही पड़ा। सरकार को मजबूरन पीछे हटते हुए पुराना आदेश निरस्त करना पड़ा। वहीं आप प्रदेश प्रवक्ता डॉक्टर राकेश काला ने कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत को आड़े हाथों लेते हुए कहा, हरीश रावत ने ही यह पाप किया था और हरीश रावत जी को शर्म आनी चाहिए जो ,आज किस मुद्दे पर राजनीति करते हुए बेवजह का क्रेडिट लेने की कोशिश कर रहे हैं। वहीं इसे आप पार्टी की बड़ी जीत बताते हुए कहा कि यह सच्चाई की जीत है,आम आदमी समेत करोड़ों हिंदुओं की जीत है। उन्होंने कहा, सच्चाई के आगे झूठ ज्यादा दिन नहीं ठहर सकता है इसलिए आप के सड़कों पर उतरने से,बौखलाई सरकार को आज बैकफुट पर आना ही पड़ा। उन्होंने हरीश रावत पर तंज कसते हुए कहा कि जब वह मुख्यमंत्री थे तो उन्हें तभी यह सोच लेना चाहिए था कि गंगा के अस्तित्व के साथ खिलवाड़ करना लोगों की आस्था से खिलवाड़ करने जैसा है।  आज आम आदमी पार्टी मां गंगा के सम्मान की इस जीत को आम आदमी और करोड़ों हिंदुओं समेत उत्तराखंड प्रदेश की समस्त जनता को समर्पित करती है

Featured Post

उत्तराखंड में बारिश से हाल बेहाल, राज्य की 154 सड़कें पड़ी हैं बंद

देहरादून। प्रदेश में मॉनसून लगातार सक्रिय है। भारी बारिश के कारण शुक्रवार 30 जुलाई तक प्रदेश में 154 छोटे-बड़े मार्ग बंद हैं, जिन्हें खोलने...