Monday, 28 June 2021

पुलिसकर्मियों के एसीपी मामले को मोर्चा ने उठाया सीएम के प्रमुख सलाहकार के समक्ष

देहरादून। जन संघर्ष मोर्चा प्रतिनिधिमंडल ने मोर्चा अध्यक्ष एवं जीएमवीएन के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी के नेतृत्व में मुख्यमंत्री के प्रमुख सलाहकार शत्रुघ्न सिंह से मुलाकात कर पुलिसकर्मियों के एसीपी विसंगति मामले में पुलिस मुख्यालय द्वारा शासन को सौंपी गई रिपोर्ट को स्वीकृति प्रदान करने को लेकर मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन सौंपा। शत्रुघ्न सिंह ने मुख्य सचिव से मामले में वार्ता कर कार्यवाही का भरोसा दिलाया। नेगी ने कहा कि एसीपी विसंगति मामले में सरकार द्वारा मुख्य सचिव की अध्यक्षता में कमेटी का गठन किया गया है। उक्त मामले में पुलिस मुख्यालय द्वारा मई 2021 को गृह विभाग को रिपोर्ट प्रेषित की गई है। नेगी ने कहा कि पूर्व में पुलिस विभाग में समयमान वेतन के लाभ के रूप में पदोन्नति पद की प्रास्थिति के अनुरूप कार्मिकों को अगला वेतनमान अनुमन्य था, परंतु एमएसीपी व्यवस्था लागू होने के उपरांत जिन पदों का वेतनमान एवं ग्रेड वेतन, मैट्रिक्स लेवल अनुमन्य कराया जा रहा है, वह पद उस संवर्ग के ढांचे में विद्यमान नहीं है। सातवें वेतन आयोग की सिफारिश के क्रम में एमएसीपी व्यवस्था के अंतर्गत शासनादेशानुसार पदोन्नति पद का लाभ स्वीकृत न होकर अगला ग्रेड वेतन स्वीकृत होने के कारण क्रमशः 10-20-30 वर्ष की सेवा पर स्तरोन्नयन का लाभ स्वीकृत होने के उपरांत एक ही पद पर कार्य तथा एक ही वर्ष के भर्ती कार्मिक अपने समकक्ष वरिष्ठ पदोन्नत कर्मी के समान वेतनमान एवं ग्रेड वेतन वेतन मैट्रिक्स का लाभ प्राप्त नहीं कर पाएंगे, जिससे विसंगति होना लाजिमी है। पुलिस विभाग में 2800 ग्रेड पे यानी एएसआई का पद विभागीय ढांचे में विद्यमान नही है, जिस कारण उनको अगला ग्रेड पे 4600 अनुमन्य होना चाहिए। उक्त विसंगति के चलते कार्मिकों को 10-15 हजार का आर्थिक नुकसान प्रतिमाह होना लाजिमी है, क्योंकि पुलिस विभाग में अराजपत्रित अधिकारियों कर्मचारियों पर स्टाफिंग पैटर्न की व्यवस्था लागू नहीं है तथा पदोन्नति के सोपान भी अन्य विभागों की तुलना में बहुत कम हैं। अधिकांश पुलिसकर्मी भर्ती के पद से ही सेवानिवृत्त हो जाते हैं। एमएसीपी व्यवस्था के अंतर्गत अग्रेतर पदोन्नत पद के वेतन मैट्रिक्स लेवल का लाभ प्रदान किया जाना न्यायोचित है। नेगी ने कहा कि पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश में पुलिस कर्मियों को एसीपी व्यवस्था के अंतर्गत क्रमशः10-16- 26 वर्ष की सेवा पर 2400-2800 तथा 4200 का लाभ अनुमन्य हो रहा है। प्रतिनिधिमंडल में-जिला मीडिया प्रभारी प्रवीण शर्मा पिन्नी थे।

नई बीएमडब्ल्यू 5सीरीज भारत में लॉन्च

देहरादून। नई बीएमडब्ल्यू 5 सीरीज को आज भारत में लॉन्च किया गया है। देश में ही बीएमडब्ल्यू ग्रुप प्लांट चैन्नै में उत्पादित यह कार एक पेट्रोल ( बीएमडब्ल्यू 530आई एम स्पोर्ट) और दो डीजल ( बीएमडब्ल्यू 530डी एम स्पोर्ट और बीएमडब्ल्यू 520डी लग्जरी लाइन) वैरिएंट्स में मिलेगी। आज से सभी बीएमडब्ल्यू डीलरशिप्स पर इसकी बुकिंग की जा सकती है। नई बीएमडब्ल्यू 5 सीरीज स्टाइल और ढेरों अपडेट्स के साथ अपने लीडिंग पोजीशन को और भी मजबूत करने के लिये तैयार है। इसके शानदार आकर्षण को और भी बेहतर बनाती है सेगमेंट में सर्वाधिक दमदार परफॉर्मेंस। इसमें अत्याधुनिक खूबियों का विभिन्न ड्राइवर असिस्टेंस सिस्टम के साथ बेजोड़ मेल पेश किया गया है, जैसे रिमोट कंट्रोल पार्किंग, बीएमडब्ल्यू हेड-अप डिस्प्ले, रिवर्सिंग असिस्टेंट, पार्किंग असिस्टेंट, बीएमडब्ल्यू जेस्टर कंट्रोल। लग्जुरियस इंटीरियर एवं अतिरिक्त कंफर्ट प्रत्येक सफर को और भी आनंददायक बनाते हैं। विक्रम पावाहए प्रंेसीडेंटए बीएमडब्ल्यू ग्रूप इंडिया ने कहाए श्पूरी दुनिया में 50 वर्षों से बीएमडब्ल्यू 5 सीरीज की अद्वितीय स्थिति रही है और इसने शीयर ड्राइविंग प्लेजर का मानदंड स्थापित किया है। यह आइकॉनिक बिजनेस ऐथलीट अब पहले से ज्यादा विकसितए जोशीली और कार्यकुशल बन गयी है। नई बीएमडब्ल्यू 5 सीरीज प्रीमियम एक्जीक्यूटिव सेगमेंट के अंदर एक विशिष्ट कार है। नये डिजाइन सौंदर्य, श्रेणी में सर्वश्रेष्ठ परफॉर्मेंस और अत्याधुनिक तकनीक विजेताओं को जोश से भर देने वाली एकमात्र कार के रूप में इसके स्टेटस को और भी निखारेंगे।

ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस ने मनाया काला दिवस

-प्रशासन के माध्यम से पीएम, वित्त मंत्री, सड़क परिवहन मंत्री को भेज ज्ञापन देहरादून। ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस द्वारा कुलतरण सिंह अटवाल के नेतृत्व में संपूर्ण भारत में डीजल की दिनों दिन बढ़ती हुई अप्रत्याशित कीमतों के विरोध में काला दिवस मनाया गया। साथ ही तहसीलदार, उप जिलाधिकारी व जिला अधिकारियों के माध्यम से प्रधानमंत्री, वित्त मंत्री एवं सड़क परिवहन मंत्री को अपनी मांगों से संबंधित ज्ञापन भेज गए। उत्तराखंड इकाई द्वारा प्रदेश की राजधानी देहरादून में जिला अधिकारी कार्यालय पर ज्ञापन सौंपा गया। ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस ने सरकार से डीजल की कीमतों को कम करने, जीएसटी की जटिलताओं में सुधार करने, मोरटोरियम एवं लंबित मांगों के लिए निवेदन भी किया। अगर सरकार समय रहते ट्रांसपोर्ट व्यवसायीयों को जो कि खत्म की कगार पर है उचित राहत नहीं देती है तो परिवहन व्यवसाय से जुड़े सभी संगठन लामबंद होकर कुलतरण सिंह अटवाल के नेतृत्व में माह अगस्त में अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने की तैयारी कर रहे हैं। देहरादून इकाई से ज्ञापन देने में अनुसूया प्रसाद उनियाल (उपाध्यक्ष उत्तराखंड) गुलजार सिंह, हरभजन सिंह मान (अध्यक्ष देहरादून ट्रक ऑपरेटर एसोसिएशन) जसविंदर सिंह (अध्यक्ष देहरादून ट्रांसपोर्ट नगर समिति) मधुसूदन बलूनी, योगेश गंभीर, अशोक ग्रोवर,राजेंद्र धवन, अनिल शर्मा (सचिव देहरादून ट्रांसपोर्ट नगर समिति) अशोक कुमार गुलानी, अमन रंधावा, बिलाल अहमद, दिलावर सिंह, अनिल चैधरी, दलजीत सिंह कलेर, नवीन आनंद, दीपक अग्रवाल, त्रिलोक सिंह, शाहिद हुसैन, इमरान आदि उपस्थित रहे।

यूरोस्कूल ने लांच किया ’सेंटर आॅफ वैलबीइंग’

-लक्ष्य है समग्र स्वास्थ्य एवं प्रसन्नता व समावेशन की संस्कृति को प्रोत्साहित करना देहरादून। भारत के अग्रणी स्कूल नेटवर्क यूरोस्कूल ने ’सेंटर आॅफ वैलबीइंग’ लांच किया है। इस पहल का उद्देश्य है अकादमिक शिक्षा के दायरे से परे जाकर लोकोपकार करना। यूरोस्कूल के मैनेजमेंट ने ऐक्शन प्लान के साथ एक समर्पित टीम को तैनात किया है जिसका लक्ष्य है यूरोस्कूल नेटवर्क के सभी परिसरों में अपने विद्यार्थियों, शिक्षकों, स्टाफ व प्रबंधन को भावनात्मक व मानसिक सहयोग देना। दुनिया भर में कोविड-19 तीव्र प्रसार के कारण लोगों के शारीरिक स्वास्थ्य, सामाजिक व मनोवैज्ञानिक पहलुओं पर काफी असर पड़ा है। वैलबीइंग से तात्पर्य एक ऐसी अवस्था से है जिसमें व्यक्ति अच्छे स्वास्थ्य एवं प्रसन्नता का सुख पाता है। इसमें शारीरिक व मानसिक सेहत, भावनात्मक व शारीरिक सुरक्षा, जुड़ाव का ऐहसास, उद्देश्य, उपलब्धि व सफलता का बोध निहित होता है। परंपरागत रूप से स्कूलों को विद्यार्थियों की अकादमिक उत्कृष्टता तथा चहुंमुखी विकास का केन्द्र माना जाता है। वर्तमान स्थिति ने स्कूलों की भूमिका को बदल दिया है, अब इनकी भूमिका पढ़ाई-लिखाई से परे तक जाती है। विद्यार्थियों का कल्याण, सजगता और तन्यकता निर्माण आदि सुनिश्चित करने के लिए भी स्कूलों का महत्व बढ़ रहा है। यूरोस्कूल द्वारा लांच किए गए सेंटर आॅफ वैलबीइंग के अंतर्गत कई कार्यक्रमों की एक श्रृंखला है जिनका उद्देश्य स्टाफ, शिक्षकों, विद्यार्थियों और उनके अभिभावकों कुशलता हेतु सहयोग देना है। स्कूल प्रबंधन द्वारा जो नैतिक, भावनात्मक, मनोवैज्ञानिक और वित्तीय सहयोग दिया गया है उससे न्यूनतम तनाव के साथ इस कठिन वक्त से निकलने में मदद मिली है। यूरोस्कूल के सीईओ राहुल देशपांडे ने कहा, ’’दुनिया कोविड-19 के असर से उबरने की कोशिश में है और हम दूर रह कर काम जारी रखे हुए हैं, ऐसे में मानसिक व शारीरिक स्वास्थ्य बेहद महत्वपूर्ण है। जब हमारा मन सकारात्मक एवं राहत की अवस्था में होता है तो हम न केवल तनाव से मुकाबला कर सकते हैं बल्कि बेहतर प्रदर्शन कर सकते हैं और अच्छा काम कर सकते हैं। इस बात के ध्यान में रखते हुए हमने सेंटर आॅफ वैलबीइंग एवं वीकेयर 2.0 लांच करने का फैसला किया। ये ऐसी पहलें हैं जिनमें विद्यार्थी, शिक्षक और हमारे मुख्यालय के कर्मचारी सभी शामिल हैं। हमारे पास सर्वश्रेष्ठ परामर्शक एवं संरक्षक हैं तथा ऐसी प्रबंधन टीम है जिस तक आसानी से पहुंचा जा सकता है।

चिन्तन बैठक में सरकार के साढ़े चार साल की उपलब्धियों पर हुई चर्चा

रामनगर/देहरादून। भाजपा की राम नगर में चल रहे चिन्तन शिविर में सरकार के साढ़े 4 साल की उपलब्धियों पर और कल्याणकारी योजनाओं पर विस्तृत चर्चा की गई। प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने जानकारी देते हुए बताया कि बैठक में 2002 से 2017 तक हुए चुनाव में पार्टी का कैसा प्रदर्शन रहा इस पर विस्तृत चर्चा हुई। साथ ही राजनैतिक परीदृश्य में भाजपा के अलावा अन्य दलों की क्या स्थिति है इस पर भी चर्चा हुई। बैठक में सरकार की साढ़े 4 साल की उपलब्धियो पर विस्तार से विचार और जन कल्याणकारी योजनाओ को अंतिम छोर पर वैठे व्यक्ति तक इन योजनाओं का लाभ किस तरह से मिल रहा है इस पर भी चर्चा की गई। उन्होंने कहा कि सरकार ने 2022 के चुनाव में जनता के बीच जाना है और ऐसी क्या योजनाये है जो सीधे लोगों को लाभ पहुचायेगी इस पर भी विचार गया। आगामी चुनाव में भागेदारी करनी है और सरकार की उपलब्धियां अहम है। जनहित में कुछ प्रमुख योजनाओं पर रोड मैप में चर्चा की जाएगी। बैठक में सत्रों का संचालन प्रदेश महामंत्री राजेन्द्र भंडारी एवं सुरेश भट्ट के द्वारा सयुंक्त रूप से किया गया। बैठक में राष्ट्रीय महामंत्री वी एल संतोष,प्रदेश प्रभारी दुष्यंत कुमार गौतम,सह प्रभारी रेखा वर्मा, प्रदेश महामंत्री संगठन अजेय तथा राष्ट्रीय मीडिया प्रमुख अनिल बलूनी, प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार, बंशीधर भगत, विशन सिंह चुफाल, अजय भट्ट, नरेश बंसल, राज्य लक्ष्मी शाह, अजय टम्टा, पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंन्द्र सिंह रावत, विजय बहुगुणा, सुरेश जोशी, ज्योति प्रसाद गैरोला, बलराज पासी सहित मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत एवं उनके मंन्त्रीमंडल के सभी सदस्य उपस्थित रहे।

सेंचुरी पल्प एंड पेपर ने लॉन्च किया बिरला केयर

देहरादून। महामारी कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए और स्वस्थ रहने के लिए हम सभी यह भली-भांति समझ गए हैं कि स्वच्छता कितनी जरुरी है। अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार, दुनिया भर में मानव स्वास्थ्य को बनाए रखने में स्वच्छता एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। कोरोना से पहले के समय और कोरोना के बाद के समाज में स्वच्छता की भूमिका को समझने की दिशा में उपभोक्ताओं में एक महत्वपूर्ण बदलाव आया है। हालांकि, अभी भी भारत में स्वच्छता समाधानों के बारे में कम जागरूकता है। इसी अंतर को खत्म करने के लिए और उपभोक्ताओं को बाजार में सर्वश्रेष्ठ उत्पाद प्रदान करने के लिए पेपर उद्योग की दिग्गज कंपनी सेंचुरी पल्प एंड पेपर ने भारत में बिरलाकेयर ब्रांड नाम से हाइजीन और वेलनेस सॉल्यूशंस की नई प्रोडक्ट रेंज लॉन्च की है। सेंचुरी ने इस प्रोडक्ट के साथ एक टैगलाइन भी दी है “केयरिंग फॉर यू, योर फैमिली एंड मदर अर्थ”। बिरलाकेयर भारतीय उपभोक्ताओं के लिए हाइजीन और वेलनेस प्रोडक्ट्स में वेट वाइप्स और पॉकेट टिशू की रेंज लेकर आया है। इस प्रोडक्ट की मदद से लोग आसानी से खुद को स्वच्छ और कपेपदमिबजडिसइंफेक्ट रख पाएंगे। ये सभी प्रोडक्ट्स 100 प्रतिशत विस्कोस बिरला प्योरोसेल फाइबर से बने हैं। बिरलाकेयर वाइप्स न केवल उपभोक्ताओं के लिए बल्कि पर्यावरण के लिए भी अच्छे हैं। बिरला प्योरोसेल 100 प्रतिशत नेचर बेस्ड, बायोडिग्रेडेबल, कम्पोस्टेबल, नॉनवॉवन फाइबर है। सेंचुरी पल्प एंड पेपर ने बिरलाकेयर के नाम से अभी 5 विभिन्न प्रकार के वाइप्स लॉन्च किए हैं दृ परफ्यूम्ड फ्लोरल वाइप्स, एक्वा परफ्यूम्ड वाइप्स, बेबी वाइप्स, मल्टीपर्पस डिसइंफेक्टेंट वाइप्स, और मेडीकेटेड बाथ वाइप्स। उपभोक्ताओं को रोजमर्रा के दिनों में तरोताजा रखने के लिए सेंचुरी पल्प एंड पेपर ने बिरलाकेयर पॉकेट टिशू के 2 प्रोडक्ट्स भी लॉन्च किए हैं दृ परफ्यूम्ड पॉकेट टिशू , नॉन-परफ्यूम्ड टिशू। इस मौके पर सेंचुरी पल्प एंड पेपर के सीईओ जेपी नारायण ने कहा कि, “हम लिंक्डइन, फेसबुक और इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के माध्यम से लोगों तक पहुंचने के लिए लगन से काम कर रहे हैं।

स्मार्ट सिटी के नाम पर नगर निगम ने जनता को मूर्ख बनाकर पैसे ठिकाने लगायेः रविंद्र सिंह आनंद

-देहरादून स्मार्ट सिटी के नाम पर करोड़ों रु की लागत से 23 वॉटर एटीएम लगाए, जिसमें से अधिकतर पड़े हैं बंद -गांधी पार्क के समक्ष लोगों को पानी पिला कर किया शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन देहरादून। आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता रविंद्र सिंह आनंद ने आज समार्ट सिटि के नाम पर हो रही जनता के साथ लूट खसोट के विरोध में गांधी पार्क के आगे बंद पड़े वाटर एटीएम पर पानी का कैंफर लगा कर लोगों को पानी पिला कर शांतिपूर्ण ढंग से विरोध प्रदर्शन किया। रविंद्र सिंह आनंद ने कहा कि नगर निगम द्वारा शहर भर में ऐसे 23 वाटर एटीएम लगाए गए है जिनमें से उनके हिसाब से कुछ एक काम भी कर रहे है परंतु गांधी पार्क के सामने, सहस्त्रधारा रोड, रेलवे स्टेशन आदि प्रमुख सभी स्थानों पर यह बस डब्बे बने पड़े है। आनंद ने आरोप लगाया कि इस तरह से नगर निगम जनता की गाड़ी कमाई का पैसा ठिकाने लगाने में लगा हुआ है और जनता का मूर्ख बना रहा है। उन्होंने कहा कि अभी दो दिन पूर्व ही स्मार्ट सिटि के नाम पर तीन अवार्ड की बात समाचार पत्रों में प्रकाशित हुई थी जिसमें एक अवार्ड वाॅटर एटीएम के लिए भी था। यह है उन वाॅटर एटीम की सच्चाई की आज हमें उन लोगांे को स्वयं पानी पिलाना पड़ रहा है जो इस वाॅटर एटीम में पानी पीने की आस से आ रहे है। श्री आनंद ने कहा कि करोड़ो रूपये की लागत से लगे इस वाॅटर एटीएम प्रोजेक्ट का नगर निगम से टेंडर हुआ होगा तभी काम आगे बढ़ा होगा। तो फिर इन सभी वाॅटर एटीएम की मेनटेनेंस का जिम्मा किसका है। क्यों इन लाखों करोड़ो रूपये की कीमत से लगी मशीनों को जंग खाने के लिए और मात्र शोपीस बना कर छोड़ दिया गया है। रविंद्र सिंह आनंद के साथ विरोध करने वालों में आम आदमी पार्टी की प्रदेश प्रवक्ता उमा सिसोदिया, विपिन खन्ना, विशाल बंसल, नवीन सिंह चैहान मौजूद थे।

स्पिक मैके के सांस्कृतिक उत्सव अनुभव का समापन

देहरादून। स्पिक मैके के सांस्कृतिक उत्सव श्अनुभवश् श्रृंखला का दूसरा ऑनलाइन संस्करण का समापन युवाओं को शास्त्रीय संगीत, नृत्य और अन्य लोक-कला रूपों की जीवित किंवदंतियों से जोड़ने के प्रयास के साथ आज हुआ। सप्ताह भर चलने वाले इस सम्मेलन का उद्देश्य युवाओं को समृद्ध सांस्कृतिक विरासत का अनुभव देना और उन्हें खुद को खुद से जोड़ने में मदद करना था। सांस्कृतिक आश्रम जैसा अनुभव प्रदान करने वाले इस उत्सव का समापन भारतीय शास्त्रीय संगीत और नृत्य में प्रख्यात पंडित वेंकटेश कुमार, पंडित साजन मिश्रा, मार्गी मधु, शाहिद परवेज खान और वसीफुद्दीन डागर द्वारा प्रस्तुत एक ऑनलाइन शास्त्रीय संगीत कार्यक्रम के साथ हुआ। श्याम बेनेगल, शबाना आजमी, जावेद अख्तर, उस्ताद अमजद अली खान, तीजन बाई, पंडित शिवकुमार शर्मा, डॉ. एन. राजम, पंडित साजन मिश्रा, उस्ताद शाहिद परवेज खान, अरुणा सायराम, पंडित उल्हास कशालकर, पंडित वेंकटेश कुमार, उस्ताद वसीफुद्दीन डागर, गीता चंद्रन और घनकांत बोरा जैसे जाने-माने कलाकार इस ऑनलाइन सम्मेलन का हिस्सा रहे। स्पिक मैके उत्तराखंड की अध्यक्ष विद्या वासन ने कहा, “स्पिक मैके की अनुभव श्रृंखला को दुनिया भर के छात्रों से जबरदस्त सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली है। इन सात दिनों में कला जगत के प्रख्यात कलाकारों ने कार्यशालाओं, बातचीत सत्रों और संगीत कार्यक्रमों में भाग लिया। कई गुरुओं ने स्पिक मैके की अनुभव सीरीज के सभी सात दिनों की कार्यशालाओं के आयोजन में अपना अनुभव साझा किया।

लेग्रॅन्ड ग्रुप इंडिया ने हरिद्वार में किया टीकाकरण शिविर का आयोजन

-एक दिन में 272 लोगों को टीका लगाया गया हरिद्वार। इलेक्ट्रिकल और डिजिटल बिल्डिंग इंफ्रास्ट्रक्चर के स्पेशलिस्ट लेग्रॅन्ड ग्रुप इंडिया ने हरिद्वार में अपने टेलीमेडिसिन सेंटर पर टीकाकरण अभियान की शुरुआत की। लेग्रॅन्ड टीम को स्थानीय स्तर पर सहयोग कर रही संभव फाउंडेशन के साथ 18 से 45 वर्ष के आयु वर्ग के लोगों के लिए टीकाकरण शिविर का आयोजन किया गया। स्थानीय पीएचसी और डॉक्टरों की मदद से लेग्रॅन्ड की टीम एक दिन में 272 स्थानीय लोगों का टीकाकरण करने में सफल रही। वैश्विक स्तर पर जारी इस महामारी ने देश भर में अनगिनत लोगों के लिए हालात को बेहद मुश्किल बना दिया है। महामारी की वजह से विश्व स्तर पर सामाजिक-आर्थिक परिस्थितियां काफी हद तक बाधित हुई हैं। सरकार द्वारा लॉकडाउन को बढ़ाने के बावजूद स्थिति को पूरी तरह से नियंत्रण में नहीं लाया जा सका है। टीकाकरण ही इस वायरस के प्रसार को रोकने का एकमात्र हथियार है। भारत में टीकाकरण की प्रक्रिया को मजबूती देने की कोशिश में, लेग्रॅन्ड ग्रुप इंडिया का लक्ष्य नागरिकों को कोविड-19 से लड़ने में सहयोग देने में अपनी गति को बढ़ाना है। टीकाकरण शिविर के लिए लेग्रॅन्ड टीम ने आवश्यक बुनियादी ढाँचा उपलब्ध कराया, जिसमें रजिस्ट्रेशन कियोस्क के लिए स्थान, वेटिंग एरिया और ऑब्जर्वेशन एरिया शामिल था। लेग्रॅन्ड की सीएसआर पहल के तहत समाज के कमजोर वर्गों को टीकाकरण की सुविधा मुहैया कराने में स्थानीय सरकार का मदद पहुंचाने के लिए शिविर का आयोजन किया गया था। कंपनी का लक्ष्य हरिद्वार में अनेकी और इसके आसपास के गांवों के अधिक से अधिक लोगों को टीकाकरण में सक्षम बनाने के लिए अपने टेलीमेडिसिन सेंटर में इस तरह के और शिविर का आयोजन करना है। अपनी इस पहल के बारे में बताते हुए, लेग्रॅन्ड ग्रुप इंडिया के सीईओ और एमडी, टोनी बरलैंड ने कहा, “ऐसे भयावह दौर में, जब पूरा देश खुद को सुरक्षित रखने के लिए पूरी मेहनत कर रहा है, लेग्रॅन्ड ग्रुप इंडिया में हम अपने देश के लोगों को मजबूती के साथ खड़े होने में सहयोग करना चाहते हैं। हमें इस बात की बहुत खुशी है कि इस पहल के माध्यम से, हम सभी का टीकाकरण करने और उन्हें कोविड -19 से बचाने के राष्ट्र के मिशन को सपोर्ट कर सकते हैं।” डॉ. आलोक बडोनी ने कहा, लेग्रॅन्ड की टीम के साथ जुड़ने में मुझे बहुत खुशी हो रही है, जिन्होंने ऐसे मुश्किल समय में इस क्षेत्र में टीकाकरण अभियान के लिए स्थानीय स्तर पर हमको सपोर्ट किया।

उत्तराखण्ड में 1928.74 लाख की लागत से 06 पुलों का लोकार्पण किया गया

-रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने किया बीआरओ के पुलों का लोकार्पण, वर्चुअल कार्यक्रम में सीएम ने किया प्रतिभाग हल्द्वानी/देहरादून। मुख्यमंत्री तीरथ सिह रावत ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा लेह से देश मे बीआरओ द्वारा दूरस्थ एवं दुर्गम क्षेत्रों में बनाये गये पुलों (ब्रिजों) का लोकार्पण कार्यक्रम में वचुर्वल प्रतिभाग किया। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने लेह से बीआरओ द्वारा देश मंे बनाये गये 63 पुलों एवं सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण सड़कों का लोकार्पण कर राष्ट्र को समर्पित किये। जिसमें उत्तराखण्ड में 1928.74 लाख की लागत से कुल 06 पुलों का लोकार्पण किया गया। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सम्बोधित करते हुये कहा कि देश के दुर्गम क्षेत्रों में पुल, सडक निर्माण कर कनेक्टीविटी देना सामरिक दृष्टि से अति महत्वपूर्ण है। उन्होंने बीआरओ को दुर्गम क्षेत्रों मे पुल, सडक निर्माण करने पर बधाई दी व कार्यो की सराहना की। रक्षा मंत्री ने कहा कि पुल व सडकें देश के विकास की गति बढाते हैं तथा सडकें विकास, पर्यटन के साथ ही देश रक्षा की दृष्टि से भी अति महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि हम समृद्व-सशक्त देश निर्माण मे तेजी से आगे बढ़ रहे है। लोकार्पण कार्यक्रम मंे मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने रामनगर से वचुर्वल प्रतिभाग किया। उन्होने कहा कि प्रदेश मे 06 पुलों का लोकार्पण किया गया है। उत्तराखण्ड में जोशीमठ-मलार रोड पर रानी पुल लागत 348.12 लाख, ऋषिकेश-धरासू सडक पर खादी पुल लागत 513.00 लाख, जौलजीबी-मुनस्यारी रोड पर कुरकुटिया ब्रिज लागत 142.00 लाख, जौलजीबी-मुनस्यारी सडक पर जुनालीगढ ब्रिज लागत 649.62 लाख, तवाघाट-घाटियाबागढ सडक पर जुंटीगढ ब्रिज लागत 156.00 लाख तथा मुनस्यारी-बगडियार-मिलन सडक पर लास्पा पुल लागत 120.00 लाख के पुलों का लोकापर्ण किया। उन्हांेने कहा कि दुर्गम क्षेत्रों मे पुल सडक निर्माण सामरिक दृष्टि से अति महत्वपूर्ण है। बीआरओ ने दुर्गम क्षेत्रों मे दिन-रात ठंड व बर्फबारी मे भी लगातार काम कर पुलों का निर्माण किया यह बहुत ही सराहनीय व साहसिक कार्य है। उन्होने कहा इन पुलों के निर्माण से क्षेत्रीय जनता के साथ ही सैन्य गतिविधियों के लिये बहुत सुविधा मिलेगी। वर्चुअल लोकार्पण मे सांसद अजय टम्टा ने भी प्रतिभाग किया।

भाजपा नेता दिनेश रावत ने राज्य आंदोलनकारियों को सम्मानित किया

-उत्तराखंड राज्य के लिए लड़े थे, क्षेत्र व क्षेत्रवासियों की समस्याओं के लिए भी लड़ेंगेः दिनेश रावत देहरादून, गढ़ संवेदना न्यूज। वरिष्ठ भाजपा नेता व उत्तराखंड राज्य आंदोलनकारी दिनेश रावत द्वारा कैंट विधानसभा के अंतर्गत प्रेमनगर क्षेत्र में सर्वप्रथम शिवपूरी कॉलोनी शिव मंदिर में उत्तराखंड आंदोलन में अग्रणी भूमिका निभाने वाली मातृशक्ति को सम्मानित किया गया। कोरोना से बचाव हेतु थर्मामीटर, ऑक्सिमिटर, आयुष किट, इम्युनिटी बूस्टर, सैनिटाइजर व मास्क भेंट करे गए। इस अवसर पर उत्तराखंड आंदोलन से जुड़ी स्मृतियों को याद किया गया व साथ ही कोरोना काल में मृत लोगों को श्रद्धांजलि अर्पित करी गयी। तत्पश्चात प्रेमनगर के अंतर्गत स्मिथ नगर में क्षेत्रवासियों को कोरोना से बचाव हेतु जानकारी प्रदान कर थर्मामीटर, ऑक्सिमिटर, प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने हेतु आयुष किट, इम्युनिटी बूस्टर, सैनिटाइजर, मास्क व काढ़ा भेंट किया गया। इस अवसर क्षेत्रवासियों की समस्याओं को भी सुना गया। इस अवसर पर भाजपा के वरिष्ठ नेता दिनेश रावत ने भोले जी महाराज और माता मंगला जी का भी धन्यवाद और आभार प्रकट किया जिनके सहयोग से राहत सामग्री बांटी गई भाजपा नेता दिनेश रावत ने कहा कि भोले जी महाराज और माता मंगला यानी हंस फाउंडेशन का जो सहयोग उत्तराखंड की जनता के लिए रहता है उसके लिए यहां की जनता सदैव उनकी आभारी रहेगी। इस अवसर पर सभासद कमलराज, राज्य आंदोलनकारी सुलोचना भट्ट, प्रभा नैथानी, प्रेमनगर कांवली मंडल महामंत्री कैप्टेन भूपाल चंद, ओबीसी मोर्चा मंडल अध्यक्ष राजेश सेन, मंडल मंत्री व बूथ अध्यक्ष खिलाफ सिंह बिष्ट, महिला मोर्चा मंडल मंत्री अंजू रावत, दिनेश ध्यानी, रजनी रावत, पार्वती नैथानी, मास्टर अशोक, स्वर्ण दास, जगत गुसाईं, अशोक शर्मा, हिम्मत भंडारी, बिक्रम असवाल व क्षेत्रवासी उपस्थित रहे।

एसजेवीएन ने वित्तीय वर्ष में 1633 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ कमाया

देहरादून, गढ़ संवेदना न्यूज। एसजेवीएन ने इस वित्तीय वर्ष में 1633 करोड़ रूपये का शुद्द लाभ अर्जित किया है। यह जानकारी एसजेवीएन के प्रबन्ध निदेशक नन्द लाल शर्मा ने देते हुए बताया कि एसजेवीएन ने वित्तीय वर्ष 2020-21 के दौरान 1633.04 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ अर्जित किया है। यह शुद्ध लाभ गत वित्तीय वर्ष 2019-20 की तुलना में 75.61 करोड़ रुपए अधिक है, जब यह 1557.43 करोड़ रुपए था। उन्होंने बताया कि वित्तीय वर्ष में एसजेवीएन ने कुल 3213.07 करोड़ रुपए की आय अर्जित की है, जो कि गत वित्तीय वर्ष में अर्जित कुल आय 3095.24 करोड़ रुपए से 117.83 करोड़ रुपए अधिक है। इस कारण 10 रुपए प्रति के फेस वैल्यू के शेयर ईपीएस(प्रति शेयर आय) 3.96 रुपए से बढ़कर 4.16 रुपए हो गया है। उन्होंने अवगत करवाया कि निदेशक मंडल ने 2.20 रुपए प्रति शेयर की दर से लाभांश घोषित किया है। इस संदर्भ में 1.80 रुपए प्रति शेयर की दर से अंतरिम भुगतान पहले ही किया जा चुका है तथा 0.40 रुपए प्रति शेयर की दर से भुगतान जल्द ही किया जाएगा। उन्होने बताया हिमाचल प्रदेश में स्थित दो जलविद्युत स्टेशनों तथा गुजरात एवं महाराष्ट्र में दो पवन ऊर्जा स्टेशनों एवं एक सौर ऊर्जा स्टेशन से एसजेवीएन ने कुल 9224 मिलियन यूनिट्स विद्युत का उत्पादन किया है। जबकि इन संयंत्रों की डिजाईन एनर्जी 8700 मिलियन यूनिट्स है। शर्मा ने यह भी बताया कि एसजेवीएन ने गुजरात में 70 मेगावाट सौर ऊर्जा प्लांट के लिए गुजरात ऊर्जा विकास निगम के साथ एक समझौता किया है। उन्होने बताया एसजेवीएन ने पड़ोसी देशों जैसे नेपाल एवं भूटान में जलविद्युत, सौर विद्युत, पवन विद्युत तथा ताप विद्युत क्षेत्र में 16 विद्युत परियोजनाओं को निष्पादित कर रहा है। एसजेवीएन ने 2016.5 मेगावाट की स्थापित क्षमता के साथ वर्ष 2023 तक 5000 मेगावाट, 2030 तक 12000 मेगावाट तथा 2040 तक 25000 मेगावाट कंपनी बनने का लक्ष्य है।.

Saturday, 26 June 2021

सीएम ने किया अन्तरराष्ट्रीय वेबिनार का शुभारम्भ

देहरादून। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने शनिवार को अपने भागीरथीपुरम स्थित आवास से सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय, अल्मोड़ा के योग विज्ञान विभाग द्वारा आयोजित अन्तरराष्ट्रीय वेबिनार को शुभारम्भ किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय द्वारा वेबिनार के माध्यम से योग को आम जन तक ले जाने का सराहनीय प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि देवभूमि उत्तराखण्ड में ऋषि, मुनियों एवं योग साधकों द्वारा प्राचीन समय से ही योगाभ्यास किये जाते रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने योग को अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने का कार्य किया। 2015 से प्रत्येक 21 जून को अन्तरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि योग मनुष्य को शारीरिक एवं मानसिक रूप से स्वस्थ रखता है। योग को अपनी नियमित दिनचर्या में लाना जरूरी है। योग की वजह से भारत की विश्व स्तर पर अलग पहचान है। इस अवसर पर वर्चुअल माध्यम से मुख्य वक्ता डॉ. एच.आर. नागेन्द्र, कुलपति सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय प्रो. एन.एस. भण्डारी, डॉ. नवीन भट्ट, मोनिका बंसल आदि उपस्थित थे।

वित्तीय मामलों में हो रही धोखाधड़ी को रोकने के लिए किये जा रहे प्रयासों के बारे में बताया

देहरादून। वित्तीय जागरूकता अभियान के तहत आईसीआईसीआई फाउंडेशन के तत्वावधान में उत्तराखंड पुलिस डिपार्टमेंट के साथ वर्चुअल मीटिंग (ऑनलाइन गूगल मीट) का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम के दौरान आईसीआईसीआई फाउंडेशन के शाखा प्रबंधक प्रणव कुमार ने फाउंडेशन के द्वारा किए जा रहे कौशल विकास और सामाजिक कार्य को साझा किया साथ ही उन्होंने वित्तीय मामलों में हो रही धोखाधड़ी को रोकने के लिए किये जा रहे प्रयासों पर भी बल दिया। वहीं फाइनेंसियल काउंसलर बिशन सिंह रावत ने वित्तीय साक्षरता के बारे में बताया की आईसीआईसीआई फाउंडेशन द्वारा बैंकिंग सेवाएं, एनपीएस नेशनल पेंशन सिस्टम, जीवन बीमा, सुकन्या समृद्धि योजना सिबिल स्कोर प्रधानमंत्री आवास योजना, आदि पर उत्तराखंड ही नहीं अपितु देशभर में अपना अमूल्य योगदान दे रहा हे ताकि आमजनों की समस्याओ को हल किया जा सके। वहीं इस वर्चुअल कार्यक्रम में पुलिस डिपार्टमेंट और फाउंडेशन के संयुक्त माध्यम से आम जनता को कोरोनाकाल में मदद पहुंचाने पर भी बल दिया गया।

राज्य के पांच अस्पतालों में ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट का लोकार्पण

देहरादून। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने शनिवार को मुख्यमंत्री आवास स्थित कैंप कार्यालय से वर्चुअल माध्यम से राज्य के 05 अस्पतालों में ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट का लोकार्पण एवं एक ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट का शिलान्यास किया। मुख्यमंत्री ने जिन पांच ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट का लोकार्पण किया उनमें जिला चिकित्सालय बागेश्वर में 250 एल.पी.एम., जिला चिकित्सालय चम्पावत में 100 एल.पी.एम., जिला चिकित्सालय पिथौरागढ़ में 200 एल.पी.एम., हिमालयन अस्पताल जौलीग्रांट एवं कोरोनेशन अस्पताल देहरादून में 1000-1000 एल.पी.एम.के प्लांट शामिल हैं। इन पांच संयत्रों द्वारा प्रतिदिन 4.76 मीट्रिक टन ऑक्सीजन का उत्पादन होगा। पिथौरागढ़ में अजीम प्रेमजी फाउण्डेशन की मदद से 600 एल.पी.एम. का ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट लगाया जा रहा है, जिसका मुख्यमंत्री ने वर्चुअल शुभारम्भ किया। उन्होंने अजीम प्रेमजी का आभार भी व्यक्त किया। बागेश्वर में स्थापित ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट के लिए समाजसेवी श्री गोपाल गोस्वामी ने सी.एस.आर के तहत प्रदान किया है। चम्पावत, पिथौरागढ़ एवं देहरादून में स्थापित ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट भारत सरकार द्वारा पीएम केयर फण्ड के तहत राज्य को मिले हैं। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि पिछले तीन माह में राज्य में स्वास्थ्य सुविधाओं को बढ़ाने के लिए तेजी से कार्य हुआ है। कोविड की संभावित तीसरी लहर के दृष्टिगत सभी तैयारियां की गई है। आईसीयू, वेंटिलेटर, ऑक्सीजन बेड की संख्या में काफी वृद्धि की गई है। सीएचसी स्तर तक भी कोविड केयर सेंटर बनाये जा रहे हैं। केन्द्र सरकार के सहयोग से ऋषिकेश एवं हल्द्वानी में 500-500 बेड के आधुनिक कोविड केयर सेंटर बनाये गये हैं। इनमें सभी प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध हैं। इन कोविड केयर सेंटरों में बच्चों के वार्ड के सामने उनके माता और पिता के लिए भी रहने की व्यवस्था की गई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सीएचसी स्तर तक ऑक्सीजन प्लांट लगाये जा रहे हैं। अभी राज्य में 17 ऑक्सीजन प्लांट कार्यशील हैं, जबकि 17 ऑक्सीजन प्लांट की स्थापना का कार्य चल रहा है। इसके अलावा 11 ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट के लिए भारत सरकार से स्वीकृति मिल चुकी है। राज्य के अस्पतालों में 5675 ऑक्सीजन कन्संट्रेटर तथा 14349 ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध है। 2494 ऑक्सीजन कन्संट्रेटर तथा 6231 ऑक्सीजन सिलेंडर जल्द राज्य को मिलने वाले हैं। शिक्षा मंत्री अरविन्द पाण्डेय ने कहा कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में तेजी से सुधार लाने के लिए राज्य सरकार द्वारा हर संभव प्रयास किये जा रहे हैं। इन ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट की स्थापना से कोविड की संभावित तीसरी लहर में लोगों को काफी राहत मिलेगी। उन्होंने कहा कि प्रकृति के संरक्षण एवं सवंर्द्धन के लिए हम सबको अपना योगदान देना होगा। उन्होंने अपील की कि हरेला पर्व पर अधिक से अधिक लोग वृक्षारोपण कर पर्यावरण संरक्षण में अपना योगदान दें। इस अवसर पर बागेश्वर विधायक चन्दन राम दास, मुख्यमंत्री के विशेष सचिव डॉ. पराग मधुकर धकाते, अपर सचिव सोनिका, स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ. तृप्ति बहुगुणा, सबंधित जनपदों के जिलाधिकारी, सीएमओ एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

Friday, 25 June 2021

नीम करौली बाबा मन्दिर लोगों के दर्शनार्थ खोला गया

नैनीताल। कोविड कफ्र्यू के दौरान दर्शनार्थियों के लिए लम्बे समय से बन्द आस्था के प्रतीक नीम करौली बाबा मन्दिर को लोगों के दर्शनार्थ खोल दिया गया है। जानकारी देते हुये जिलाधिकारी धीराज सिह गर्व्याल ने बताया कि कोरोना की दूूसरी लहर के चलते संक्रमण को रोकने के लिए एतिहातिक तौर पर मन्दिर मे दर्शनार्थियांे के प्रवेश को रोकने के उददेश्य से मन्दिर को बन्द किया गया था। उन्होने बताया कि कोरोना का संक्रमण मे काफी गिरावट आयी है जिसको दृष्टिगत रखते हुये नीम करौली बाबा मन्दिर एवं आश्रम मे दर्शनार्थियांे के प्रवेश पर लगी रोक हटा दी गई है तथा विगत मंगलवार से मन्दिर मे प्रवेश की अनुमति दे दी गई है। जिसके चलते दर्शनार्थी मन्दिर मे जा रहे है। उन्होने बताया कि कैची धाम मन्दिर भवाली मे कोविड 19 महामारी के दृष्टिगत सामाजिक दूरी के अनुपालन के लिए निर्धारित दूरी पर गोले बनवाये गये हैं। दर्शन को आने वाले लोग इन गोलों मे खडे किये जा रहे है जिससे सामाजिक दूरी के मानक का अनुपालन किया जा रहा है। इसके साथ मन्दिर परिसर में आने वालों को सेनेटाइज किया जा रहा है तथा मास्क लगाने की अनिवार्यता का भी अनुपालन किया जा रहा है। बिना मास्क के कैची धाम परिसर मे अनुमति नही है। जिलाधिकारी ने कैची धाम आने वाले श्रद्वालुओं से अपील की है कि वह अनिवार्य रूप से मास्क लगाकर धाम मे प्रवेश करें तथा सामाजिक दूरी का अनुपालन भी सुनिश्चित करें।

आपदा के दृष्टिगत सभी अधिकारी आपसी समन्वय के साथ कार्य करेंः डीएम

अल्मोड़ा। जिलाधिकारी व अध्यक्ष जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण नितिन सिंह भदौरिया की अध्यक्षता में कलैक्ट्रेट में मानसून के दृष्टिगत विभिन्न विभागों द्वारा की जाने वाली पूर्व तैयारियों एवं व्यवस्थाओं के सम्बन्ध में संबंधित अधिकारियों के साथ वर्चुअल माध्यम से समीक्षा की। बैठक में जिलाधिकारी ने आपदा से जुडे विभागों को निर्देश दियें कि आपदा के दृष्टिगत सभी अधिकारी आपसी समन्वय के साथ कार्य करें तथा किसी भी प्रकार की घटना घटित होने पर कम समय में राहत एवं बचाव कार्य किया जाय, इसमें किसी भी प्रकार का विलंब न हो, इसका विशेष ध्यान रखा जाय। जिलाधिकारी ने सभी उपजिलाधिकारियों को निर्देश दियें कि सभी तहसील मुख्यालयों में संचालित आपदा कंट्रोल रूम पर पैनी नजर रखी जाय, इसमे वायरलैस सेट सहित अन्य सभी आवश्यक उपकरण दुरूस्त रखा जाय तथा उपकरण संचालन हेतु कार्मिकों को उचित प्रशिक्षण दिया जाय, ताकि आपदा की घटना होने पर त्वरित गति से राहत एवं बचाव कार्य किया जा सके। उन्होंने कहा कि जनपद के किसी भी क्षेत्र में घटित होने वाली घटना की सूचना कंट्रोल रूम को उपलब्ध कराया जाय, तथा घटना का पूरा विवरण अंकित किया जाय। उन्होंने कहा कि विगत दिनों हुई वर्षा के कारण जो विभागीय परिसम्पत्तियों का नुकसान हुआ है उसका मुआयना कर 15 दिन के भीतर आगणन सम्बन्धित उपजिलाधिकारी कार्यालय में प्रस्तुत किया जाय। जिलाधिकारी ने लोनिवि और एनएच के सभी अधिकारियों से मानसून के दौरान सभी सड़कों की नालियों एवं कलमठों की सफाई अनिवार्य रूप से सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। इसके साथ ही उन्होने कहा कि जिन क्षेत्रों में भू-स्खलन के कारण अधिकांश सड़क मार्ग बाधित होते है ऐसे सड़को को चिन्हित करते हुए उनमें पर्याप्त मात्रा में जेसीबी तैनात करते हुए इसके चालको के मोबाईल नंबर जिला आपदा कार्यालय को उपलब्ध कराये जाए तथा अवरूद्ध मोटर मार्ग को तत्काल यातायात के लिए सुचारू किया जाय, तथा ऐसे भू-स्खलन वाले स्थानों पर चेतावनी बोर्ड भी लगाने के निर्देश दिये। जनपद में पेयजल की आपूर्ति आदि के संबंध में समीक्षा करते हुए जिलाधिकारी ने जल संस्थान एवं पेयजल निगम को निर्देशित करते हुए कहा कि वे यह सुनिश्चित करें कि क्षतिग्रस्त पेयजल लाईनों को तत्परता के साथ ठीक किया जाय, तथा जनपद में स्थित पेयजल टेंकों की नियमित रूप से सफाई की जाय, जिस पर सफाई किये जाने की तिथि का स्पष्ट रूप से अंकन हो। उन्होंने कहा कि जिन क्षेत्रों में आपदा के कारण पेयजल लाईने क्षतिग्रस्त हो जाती हैं, ऐसे क्षेत्रों में टैंकरों एवं अन्य वैकल्पिक व्यवस्थाओं के साथ पेयजल आपूर्ति तत्काल सुनिश्चित की जाय। उन्होंने जनपद के दूरस्थ क्षेत्रों में खाद्यान्न की पर्याप्त उपलब्धता बनाये रखने हेतु जिला पूर्ति अधिकारी को आपदा के दृष्टिगत संवेदनशील क्षेत्रों में पर्याप्त खाद्यान्न सामग्री की उपलब्धता बनाये रखने को कहा, तथा यह सुनिश्चित किया जाय कि जिन क्षेत्रों में सड़क मार्ग अवरूद्ध हो उन क्षेत्रों में स्थानीय दुकानदारों के माध्यम से क्षेत्र में खाद्यान्न की आपूर्ति का उचित प्रबंधन किया जाय तथा डीजल व पेट्रोल की निरंतर उपलब्धता बनाये रखने के निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने सिंचाई विभाग के अधिकारियों को निर्देश दियें कि अत्यधिक वर्षा के कारण नदी का जल स्तर बढने पर नदी किनारे रह रहें लोंगो को तत्काल अलर्ट किया जाय, इसके लिए उन्हें पूर्व में ही सचेत किया जाय। उन्होंने विद्युत विभाग को भी निर्देश दियें कि विद्युत आपूर्ति बाधित होने पर तत्काल विद्युत आपूर्ति बहाल की जाय, तथा पर्याप्त मात्रा में ट्रांसफार्मर सहित अन्य उपकरणों की व्यवस्था सुनिश्चित करने को कहा। साथ ही झूल रहें विद्युत तारों को तत्काल ठीक करने तथा विद्युत लाईनों के लिए खतरा बने हुए पेडों की लॉपिंग सुनिश्चित करने को कहा। उन्होंने स्वास्थ विभाग एवं पशुपालन विभाग को आवश्यक दवा के साथ आपदाग्रस्त क्षेत्रों में त्वरित गति से स्वास्थ सुविधा उपलब्ध करायी जाय, इसके लिए पर्याप्त मात्रा में दवा का स्टॉक रखने के निर्देश दियें।उन्होंने नगर क्षेत्र में साफ-सफाई की व्यवस्था हेतु अधिशासी अधिकारी नगर पालिका को निर्देश दियें कि मानसून से पहले नगर क्षेत्र की सभी नालियों एवं कलमठों की साफ-सफाई सुनिश्चित की जाय, ताकि भारी वर्षा के कारण जल भराव की समस्या न होने पाए। इसके साथ ही उन्होंने निरंतर नगर क्षेत्र में फॉगिंग एवं चूने का छिडकाव करने को कहा। जिलाधिकारी ने पुलिस विभाग से पुलिस थानों को आपदा के समय अलर्ट पर रखने, सभी उपकरणों को दूरस्थ रखने के साथ ही इनको संचालित करने वाले कार्मिकों को भी उचित प्रशिक्षण उपलब्ध कराने को कहा। जिलाधिकारी ने सभी जिला स्तरीय अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दियें कि आपदा के दौरान कोई भी अधिकारी अपने मोबाईल फोन को बंद नहीं रखेंगे एवं कोई भी अधिकारी बिना अनुमति के अवकाश पर नहीं रहेंगे और कहा कि यदि किसी अधिकारी द्वारा अपने कार्य में लापरवाही बरती जाती है तो उनके विरूद्ध आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत कार्रवाई अमल में लायी जायेगी। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी नवनीत पाण्डे, उपजिलाधिकारी सीमा विश्वकर्मा, मोनिका, अधिशासी अभियन्ता पीएमजीएसवाई के0सी0 आर्या, अधिशासी अभियन्ता जल संस्थान के0एस0 खाती, आपदा प्रबन्धन अधिकारी राकेश जोशी सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

हेमकुंड पहुंचे दो ट्रैकर एसडीआरएफ ने सुरक्षित निकाले

गोपेश्वर। कोरोना काल में कपाट बंद होने के बावजूद एक विदेशी ट्रैकर समेत दो लोग हेमकुंड साहिब पहुंच गए। प्रशासन को इसकी जानकारी तब मिली, जब घांघरिया से वापस लौटे उनके एक विदेशी साथी ने बीती देर रात गोविंदघाट थाने में दोनों के लापता होने की सूचना दी। इस पर प्रशासन ने शुक्रवार सुबह राज्य आपदा मोचन बल (एसडीआरएफ) व पुलिस की टीम को उनकी मदद के लिए भेजा। बताया गया कि हेमकुंड में पुलिस टीम को देखकर ट्रैकर छिपने लगे। हालांकि, टीम उन्हें सुरक्षित निकालकर घांघरिया ले आई है। जिलाधिकारी स्वाति एस. भदौरिया ने कहा कि ट्रैकर पुलना-घांघरिया से आगे कैसे गए, इसकी जांच की जाएगी। लेकिन, फिलहाल उन्हें सुरक्षित वापस लाना प्रशासन की प्राथमिकता थी। प्रशासन को सूचना मिली कि दो विदेशी समेत तीन ट्रैकर घांघरिया-हेमकुंड साहिब ट्रैक पर निकले थे। इनमें से फ्रांस निवासी मैथ्यू तो घांघरिया से सुरक्षित वापस लौट आए, लेकिन 35-वर्षीय अलजोशा (स्लोवाकिया) व 29-वर्षीय हरप्रीत (चंडीगढ़) का कोई पता नहीं चल रहा। उनसे संपर्क भी नहीं हो रहा। बताया गया कि 23 जून को तड़के जब वह गोविंदघाट से हेमकुंड के लिए निकले तो पुलिस को भी इसकी भनक नहीं लगी। सुबह 11 बजे के आसपास तीनों ट्रैकर 14 किमी पैदल चलकर घांघरिया पहुंचे। वहां गुरुद्वारे में मौजूद सेवादारों ने उन्हें रोककर हेमकुंड साहिब की यात्रा व फूलों की घाटी की सैर बंद होने की जानकारी देते हुए वापस लौटने को कहा। इस पर मैथ्यू तो लौट आए, लेकिन अलजोशा व हरप्रीत ने उनकी एक न सुनी और हेमकुंड के लिए रवाना हो गए। गोविंदघाट थाना प्रभारी सुमंत राणा ने बताया कि जब वे गुरुवार देर रात तक भी वापस नहीं लौटे तो मैथ्यू ने इसकी सूचना पुलिस को दी। बताया कि शुक्रवार सुबह जब एसडीआरएफ व पुलिस की टीम उनकी तलाश में हेमकुंड पहुंची वह उसे देखकर छिपने लगे। लेकिन, शुक्रवार देर शाम रेस्क्यू टीम इंचार्ज मंगल सिंह भाकुनी ने सेटेलाइट फोन से कंट्रोल रूम को सूचित किया गया कि दोनों ट्रैकर हेमकुंड के पास मिल गए हैं। वह पूरी तरह स्वस्थ हैं, लेकिन घबराए हुए हैं।

सड़क में पलटने के बाद आग का गोला बनी कार

रायवाला। ऋषिकेश से हरिद्वार जा रही एक कार रायवाला में डिवाइडर से टकरा कर पलट गई। देखते ही देखते कार में धमाका हुआ और कार से आग की लपटें उठने लगी। कार में सवार पांच लोग नशे में धुत बताए जा रहे हैं। घटना शुक्रवार शाम की है। सूचना मिलने के बाद पुलिस और फायर की टीम मौके पर पहुंची। लेकिन तब तक कार पूरी तरह से जल चुकी थी। बताया जा रहा है कार में पांच युवक सवार थे और सभी शराब के नशे में धुत थे। कार के एक्सीडेंट के बाद सभी लोग मौके से फरार हो गए हैं।

चारधाम यात्रा एक जुलाई से स्थानीय जनपदवासियों के लिए खुलेगी, वरिष्ठ अधिकारी होंगे नियुक्त

देहरादून। राज्य कैबिनेट की बैठक में चारधाम यात्रा एक जुलाई से सीमित संख्या के साथ खोलने पर फैसला लिया गया। यह यात्रा स्थानीय जनपद वासियों के लिए खोली जाएगी। चारों धामों के लिए वरिष्ठ अधिकारी नियुक्त किए जाएंगे। कोविड निगेटिव रिपार्ट यात्रा के लिए अनिवार्य होगी। तीर्थ पुरोहितों को वैक्सीन लगाई जाएगी। सीएम तीरथ सिंह रावत की अध्यक्षता में आयोजित कैबिनेट की बैठक में भागीरथी और अलकनंदा नदी के किनारे के तटों को बाढ़ मैदान परिक्षेत्र घोषित करने का निर्णय लिया गया। कोविड की दूसरी लहर के बाद कंपनियों में काम करने वाले श्रमिकों के ओवर टाइम करने पर वेतन भुगतान सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए। श्रमिकों से हफ्ते में 6 दिन ही काम करवाया जाएगा। सेलाकुई में ऑक्सीजन प्लांट में बिजली की समस्या को देखते हुए अंडर ग्राउंड बिजली लाइन बिछाने को मंजूरी दी गई। शाम पांच बजे सचिवालय में कैबिनेट की बैठक हुई। बैठक में मंत्रीमंडल ने नेता प्रतिपक्ष डा. इंदिरा हृदेश को श्रद्धांजलि दी। इस दौरान दो मिनट का मौन रखा गया। शासकीय प्रवक्ता सुबोध उनियाल ने कैबिनेट में लिए गए निर्णयों की जनाकारी दी। उन्होंने बताया कि चार धाम यात्रा सीमित संख्या के साथ 1 जुलाई से खुलेगी। यात्रा स्थानीय जनपद वासियों के लिए खोली जाएगी। पहले यह यात्रा श्रद्धालुओं की सीमित संख्या के साथ तीन जिलों चमोली, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग जिले के लिए ही शुरू की जाएगी। साथ ही कोविड जांच रिपोर्ट अनिवार्य होगी। वहीं, चारों धामों पर एक-एक वरिष्ठ अधिकारी की तैनाती होगी। जल्द ही चारधाम यात्रा को लेकर एसओपी जारी की जाएगी। सरकारी प्रवक्ता सुबोध उनियाल ने बताया कि कैबिनेट में 10 फैसले किए गए हैं। चारधाम यात्रा को व्यवस्थित करने के लिये देवस्थानम बोर्ड और जिला प्रशासन से समन्वय करने के लिये वरिष्ठ अधिकारी की तैनाती की जाएगी। ये अधिकारी कोविड से संबंधित एसओपी को लागू करने के लिए निगरानी का काम करेंगे। सभी तीर्थ पुरोहितों को वैक्सीन लगाई जाएगी। एक जुलाई से चमोली में बद्रीनाथ, रूद्रप्रयाग में केदारनाथ और उत्तरकाशी में गंगोत्री-यमुनोत्री दर्शन की स्थानीय लोगों को अनुमति होगी। दर्शन के लिए आरटीपीसीआर अथवा रैपिड एंटीजन टेस्ट की निगेटिव रिपेार्ट होना अनिवार्य होगा। टिहरी, उत्तरकाशी एवं चमोली के बाढ़ मैदान परिक्षेत्रण की अधिसूचना जारी की जाएगी। कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर के दौरान कारखानों में ओवरटाईम की छूट दी गई। चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के लिपिक वर्गीय सेवा नियमावली 2021 लागू करने का निर्णय लिया गया।

सभासद पर गुलदार ने किया हमला, दहशत

देहरादून। डोईवाला क्षेत्र में सपेरा बस्ती में अचानक गुलदार की धमक से हड़कंप मच गया। सूचना मिलते ही स्थानीय जनप्रतिनिधि भी मौके पर पहुंचे। इस दौरान मौके पर पहुंचे नगर पालिका सभासद ईश्वर सिंह रौथाण के ऊपर गुलदार ने हमला कर दिया। जिससे वे घायल हो गए। वहीं सभासद का इलाज डोईवाला सीएससी में चल रहा है। सूचना पर वन विभाग की टीम मौके पर पहुंची, विभाग की ओर से गुलदार को रेस्क्यू करने का प्रयास किया जा रहा है। वहीं गुलदार को देख लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गई। लोगों की भीड़ देख गुलदार इधर-उधर भागने लगा। इस दौरान गुलदार ने अचानक वार्ड न-10 के सभासद ईश्वर रौथाण पर हमला कर दिया। जिससे वे घायल हो गए। वन विभाग की टीम गुलदार को पकड़ने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन चलाए हुए है।

सात पीसीएस अधिकारियों के तबादले

देहरादून। उत्तराखंड में बीते कुछ समय से अधिकारियों के बड़े स्तर पर तबादले किए जा रहे हैं। शुक्रवार को भी शासन ने 7 पीसीएस अधिकारियों के विभागों में फेरबदल किया है, जिसका आदेश जारी किया जा चुका है। पीसीएस अधिकारी रामदत्त पालीवाल से परीक्षा नियंत्रक उत्तराखंड लोक सेवा आयोग हरिद्वार की जिम्मेदारी वापस ले ली गई है। अब उन्हें अपर निदेशक प्रशिक्षण निदेशालय हल्द्वानी का कार्यभार सौंपा गया है। पीसीएस अधिकारी मोहम्मद नासिर को संयुक्त सचिव कौशल विकास विभाग उत्तराखंड शासन देहरादून भेजा गया है। उनके पास अभी तक अपर निदेशक प्रशिक्षण निदेशालय हल्द्वानी की जिम्मेदारी थी। पीसीएस अधिकारी प्रकाश चंद दुमका से महाप्रबंधक उत्तराखंड राज्य औद्योगिक विकास निगम सिडकुल की जिम्मेदारी वापस ले ली गई। पीसीएस अधिकारी अरविंद कुमार पांडे को राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) से हटाकर महाप्रबंधक उत्तराखंड राज्य औद्योगिक विकास निगम सिडकुल बनाया गया है। पीसीएस अधिकारी विवेक राय को उपायुक्त गन्ना काशीपुर बनाया गया है। अभी तक वे डिप्टी कलेक्टर नैनीताल थे। पीसीएस अधिकारी परितोष वर्मा से उपायुक्त गन्ना काशीपुर का अतिरिक्त प्रभार हटाया गया है।

मिंत्रा ने अपनी एंड ऑफ रीजन सेल का 14वां संस्करण शुरु किया

देहरादून। मिंत्रा ने अपनी फ्लैगशिप ईवेंट, एंड ऑफ रीजन सेल (ईओआरएस) का 14वां संस्करण शुरु करने की घोषणा की है। यह सेल 3 जुलाई से 8 जुलाई तक चलेगी। इस मेगा फैशन कार्निवल का यह सबसे बड़ा संस्करण 3000 से ज्यादा ब्रांड्स के 9 लाख से ज्यादा स्टाईल लेकर आया है और यह 50 मिलियन से ज्यादा ग्राहकों की फैशन एवं लाईफस्टाईल की जरूरतों को पूरा करेगा। छः दिन की अवधि में इस प्लेटफॉर्म पर ट्रैफिक पिछले साल जून के संस्करण के मुकाबले 75 प्रतिशत ज्यादा होने की उम्मीद है तथा बीएयू के मुकाबले मांग तीन गुना होने की उम्मीद है। पिछले कुछ महीनों में मिंत्रा पर क्षेत्र में पहली बार के यूजर्स की संख्या में काफी वृद्धि दर्ज हुई है, जिससे शॉपिंग के प्रति लोगों का गहरा रूझान प्रदर्शित होता है। इससे इस मेगा ईवेंट के लिए उत्साहजनक एवं सकारात्मक रुख स्थापित होता है, जो ग्राहकों को सुरक्षा के सभी प्रोटोकॉल्स का पालन करते हुए ‘अब तक के सर्वश्रेष्ठ’ ऑफर प्रदान करने पर केंद्रित है। एसएमई को बल देते हुए, मिंत्रा ने ‘मेड इन इंडिया’ हैंडलूम संग्रह को जून, 2020 के संस्करण के मुकाबले कई गुना ज्यादा मजबूत कर लिया है और 1800 ब्रांड्स के 20,000 स्टाईल प्रस्तुत कर रहा है। ईओआरएस शुरू होने के बारे में अमर नागराम, सीईओ, मिंत्रा ने कहा, ‘‘फैशन का ईकोसिस्टम, जैसे ब्रांड्स, सप्लायर्स, करीगर, एसएमई एवं डिलीवरी पार्टनर्स आदि व्यवसाय में गति आने का उत्सुकता से इंतजार कर रहे हैं। हमें उम्मीद है कि ईओआरएस का यह संस्करण आत्मविश्वास एवं वृद्धि में बढ़ोत्तरी करेगा, जिसके आधार पर उद्योग का विकास होगा। यह ईवेंट छोटे, मध्यम एवं बड़े ब्रांड्स के लिए मांग बढ़ाकर उम्मीद की किरण देगी अैर किराना (मेन्सा) नेटवर्क सहित डिलीवरी पार्टनर्स के लिए आय के अवसर बढ़ाएगी तथा ग्राहकों को शॉपिंग की खुशी प्रदान करेगी। हम चैरिटी एट चेकआउट फीचर भी प्रस्तुत कर रहे हैं और अपने सभी ईओआरएस शॉपर्स को समाज की मौजूदा हैल्थकेयर जरूरतों के लिए कुछ राशि अनुदान में देने में भी समर्थ बना रहे हैं।’’

दुश्मनों से लोहा लेते हुए उत्तराखण्ड का लाल शहीद

पौड़ी। पौड़ी जनपद अंतर्गत सतपुली के रहने वाले 23 वर्षीय मनदीप सिंह नेगी जम्मू कश्मीर के गुलमर्ग में दुश्मनों से लोहा लेते हुए शहीद हो गये हैं। मनदीप 11वीं गढ़वाल राइफल में तैनात थे। मनदीप के शहीद होने पर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत व उच्च शिक्षा मंत्री डा. धन सिंह रावत ने अपने सोशल मीडिया पेज के माध्यम से इस घटना पर दुख व्यक्त करते हुए उनके परिवार को इस दुख की घड़ी में सहनशक्ति देने की ईश्वर से प्रार्थना की है। शहीद मनदीप सिंह नेगी का पार्थिव शरीर शनिवार को अपने पैतृक गांव सकनोली लाया जाएगा। ग्रामीणों की ओर से दी गई। जानकारी के अनुसार मनदीप अपने माता-पिता का इकलौता बेटा था। मनदीप के माता-पिता घर पर रहते हैं। पिता कृषक के रूप में घर पर ही कार्य करते हैं। वहीं कुछ समय पूर्व मनदीप की सगाई उसी क्षेत्र के डविला गांव की लड़की से हुई थी और कुछ समय बाद दोनों का विवाह होना भी तय हुआ। पूर्व ब्लाक प्रमुख पोखडा सुरेंद्र सिंह रावत ने बताया कि मनदीप के शहीद होने पर पूरे क्षेत्र में दुख का माहौल है। मनदीप एक होनहार लड़का था। बचपन से ही वह सेना में जाने का जुनून लिए हुए था. मेहनत के बलबूते वह छोटी उम्र में सेना में भर्ती हो गया था। लेकिन अचानक ये सूचना प्राप्त होने के बाद दोनों ही परिवारों में मातम का माहौल छा गया है। शहीद मनदीप सिंह का पार्थिव शरीर शनिवार को उनके पैतृक गांव सकनोली, चैबट्टाखाल लाया जाएगा। गांव के पैतृक श्मशान घाट में पूरे सैन्य सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। मनदीप के शहीद होने पर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने दुख व्यक्त किया है। उन्होंने उनके परिवार को इस दुख की घड़ी में शक्ति देने की प्रार्थना की है।

माइक्रोसॉफ्ट ने विंडोज 11 किया लॉन्च

देहरादून। माइक्रोसॉफ्ट ने यूजर्स को उनकी पसंदीदा चीजों और लोगों के और नजदीक लाने के मकसद से विंडोज 11 लॉन्च करने की घोषणा की है इन्ट्यूसटिव डिजाइन फीचर्स के चलते मल्टीटास्किंग और भी आसान बनाने के अलावा नया माइक्रोसॉफ्ट स्टोर भी है जो यूजर्स को एॅप्स गेम और मूवी तक आसान पहुंच का लाभ दिलाएगा। नया विंडोज 11 काम करने सीखने खेलने और सभी को शानदार अनुभव देने के मकसद से तैयार गया है। माइक्रोसॉफ्ट के चीफ प्रोडेक्ट ऑफिसर, पानोस पाने ने कहा पिछले 18 महीनों में पीसी को इस्तेमाल करने के हमारे तरीकों में अविश्वसनीय बदलाव आया है केवल हमारे जरूरी काम पूरा करने की मशीन जगह अब पीसी के साथ एक तरह का व्यक्तिगत और भावनात्मक संबंध बना है अगली पीढ़ी के विंडोज को बनाते समय हमने इसी बात से प्रेरणा ली है विंडोज ऐसा प्लेटफार्म है जिस पर एक अरब से ज्यादा लोग भरोसा करते हैं विंडोज 11 के साथ हम ऐसा प्लेटफार्म बनाना चाहते थे जहां हर कोई सीख सके, खेल सके और सबसे महत्वपूर्ण कि दूसरों के साथ बेहतर तरीके से जुड़ सके। विंडोज 11 नए आने वाले पीसी के साथ उपलब्ध होगा और इस छुट्टी से योग्य विंडोज 10 पीसी पर इसे मुफ्त अपग्रेड किया जा सकेगा। तेज और ज्यादा सुरक्षित ओएस के साथ उत्पादकता बढ़ाने के लिए आसान डिजाइन विंडोज 11 में यूजर्स की रचनात्मकता को प्रेरित करने और काम पूरा करने के लिए नए और साफ-सुथरे इंटरफेस के साथ आसानी से इस्तेमाल होने वाली विशेषताएं दी गई हैं। यूजर्स स्क्रीन के बीच में दिए स्टार्ट बटन पर क्लिक करके आसानी से अपनी जरूरत की चीजें पा सकते हैं। यूजर्स द्वारा विभिन्न प्लेटफार्म्स या डिवाइसों पर पहले इस्तेमाल की गई फाइलों को देखने के लिए क्लाउड और माइक्रोसॉफ्ट 365 का इस्तेमाल करें। इससे यूजर फाइलों पर वहीं से काम शुरू कर सकता है जहां उसने दूसरे एंड्रॉइड या आईओएस डिवाइस पर काम छोड़ा था।

अनाथ, बेेसहारा बच्चों का जिम्मा उठाया तेजस्वनी ने

-कोरोनाकाल में अनाथ हुए एक ही परिवार के चार बच्चे देहरादून। बीते कोरोनाकाल में प्रदेशभर में कई बच्चे अनाथ हुए हैं जिनमें से चार बच्चों का जिम्मा तेजस्वनी चैरिटेबल ट्रस्ट ने उठाया है। ग्राम कुंजा ग्रांट विकासनगर के अनाथ हुए चार बच्चों की मदद के लिए ट्रस्ट ने हाथ बढ़ाए है। ट्रस्ट के सदस्यों प्रदाधिकारियों ने इन बच्चों की हर संभव सहायता का भरोसा दिलाया है। ट्रस्ट ने बच्चों के लालन-पालन से लेकर उनकी शिक्षा व अन्य जरूरतों को पूरा करने का जिम्मा लिया है। इस बारे में तेजस्वनी चैरिटेबल ट्रस्ट की अध्यक्ष प्रिया गुलाटी ने बताया कि उनको समाचार पत्रों के माध्यम से इन बच्चों के बारे में पता चला, जिस पर वे तेजस्वनी बिजनेस एसोसिएशन की देहरादून चैप्टर हैड त्रिषला मलिक एवं विकासनगर चैप्टर हैड रूपा शर्मा के साथ उन बच्चों से मिलने गईं। वहां पर उन बच्चों और घर के हालात देख कर लगा कि उन्हें बहुत मदद की आवशयकता है। प्रिया ने बताया कि बच्चों में सबसे बड़ी बहन तमन्न 15 साल, गुलशेर 11 साल, गुलिस्ता सात वर्ष एवं सबसे छोटी बच्ची गुलजहां साढ़े तीन वर्ष की है। उन्होंने कहा कि तीनों बच्चियों एवं उनके भाई को इस तरह से अनाथ, बेसहारा नहीं छोड़ा जा सकता था। गत दिवस उनसे मिल कर उनके लिए घर पर छत, दरवाजा, बिजली का कनेक्शन आदि करवाने की व्यवस्था तुरंत ही वहां करवाई गई जो कि कुछ ही दिनों में लग जाएगा साथ ही बच्चे बालिग नहीं है तो उनका बैंक में खाता आदि खुलवाने की भी व्यवस्था करवाई गई। उनका जब तक बिजली का कनेक्शन नहीं लगता तब तक के लिए सोलर लाइट का भेजवाई गई और राशन डलवाया गया। सभी बच्चों के वात्सल्य योजना के तहत फॉर्म आदि भी भरवाए जाएंगे। इस मौके पर मौजूद रूपा शर्मा ने कहा कि वे इन सभी बच्चों का पूर ध्यान रखेंगी और स्थानीय पूर्व ग्राम प्रधान मौहम्मद आरिफ के सहयोग से सभी व्यवस्थाएं करवा रही हंै। प्रिया ने कहा कि यदि किसी को भी इस तरह से कोई बेसहारा अनाथ बच्चे मिले जिनके पास रहने की व्यवस्था न हो उनके लिए भी लोग उनके उनके नंबर 7055331112 पर संपर्क कर सकते हैं उनके रहने एवं लालन पालन की पूरी जिम्मेदारी तेजस्वनी उठाएगी।

जरूरतमन्द लोगों को खाद्य सामग्री वितरित की

देहरादून। श्रीदेव सुमन नगर में जरूरतमन्द लोगों को खाद्य सामग्री वितरित की गई। खाद्य सामग्री का वितरण ऑक्सीजन फॉर दून के सहयोग से रोशनी जन सेवा संस्था के संरक्षक एवँ अध्यक्ष मीडिया कमेटी उत्तराखंड कांग्रेस राजीव महऋषि द्वारा किया गया। इस मौके पर उन्होंने कहा कि कोरोना काल मे तमाम लोगों के कारोबार और रोजगार प्रभावित हुए हैं इसलिए संस्था एक छोटा सा प्रयास निरतंर जरूरत मन्द लोगो के लिए कर रही है। इस मौके उन्होंने सहयोग करने वाली संस्था ऑक्सीजन फॉर दून का आभार प्रकट किया। इस मौके क्षेत्रीय पार्षद संगीता गुप्ता ने कहा कि उनके द्वारा निर्बल एवँ गरीब जनता की निरंतर सेवा की जाएगी। उन्होंने संस्था द्वारा किये जा रहे कार्ये की सरहाना की। संस्था के संस्थापक अध्यक्ष गीताराम जायसवाल ने कहा कि रोशनी जन सेवा संस्था द्वारा इस प्रकार की सहायता के लिए हमेशा प्रयास किये जाते हैं और आने वाले समय में संस्था जरूरतमन्द लोगों की सहायता के लिए अपने प्रयास को ज्यादा से ज्यादा बढ़ाएगी। संस्था के महासचिव संजय कुमार ने कहा कि संस्था विगत कई वर्षों से सामाजिक कार्य कर रही है। हमारे द्वारा स्वास्थ्य शिविर, विकलांग कल्याण शिविर का आयोजन एवँ शिक्षा सामग्री आवंटित करने का कार्य समय समय पर किया जाता है। इस कार्यक्रम में कांग्रेस पार्टी के ब्लॉक अध्यक्ष प्रमोद गुप्ता, अनुराग, जगन्नाथ कनोजिया, बबलू संस्था के सचिव जसवंत सिंह, संगीता सैनी, निम्मी सिंह, निशा आदि उपस्थित रहे।

देश के लिए काला अध्याय था आपातकाल

ऋषिकेश। बैराज रोड स्थित कैंप कार्यालय पर विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद अग्रवाल ने विभिन्न जनप्रतिनिधि एवं कार्यकर्ताओं के साथ संगोष्ठी में कहा है कि आज के ही दिन तत्कालीन प्रधानमंत्री स्व0 इंदिरा गांधी के कहने पर देश में आपातकाल की घोषणा की गई थी। श्री अग्रवाल ने विभिन्न जनप्रतिनिधियों एवं कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा है कि यह देश के लिए काला अध्याय था। ऐसे में राष्ट्रवादी विचारधारा वाले लोगों को जेल में ठूंस दिया गया था। लोकतंत्र की हत्या कर दी गई थी। समाचार पत्रों का प्रकाशन सरकार के दिशानिर्देशों में होने लगा जो भी व्यक्ति अथवा संस्था तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के विरोध में कहते थे उन्हें जेल में बंद कर दिया जाता था। श्री अग्रवाल ने कहा है कि संपूर्ण देश में आपातकाल के खिलाफ आंदोलन खड़ा हुआ और दो लाख से अधिक लोगों को जेल में डाला गया और यातनाएं दी गई। श्री अग्रवाल ने अपने बाल्यकाल के संस्करणों को याद करते हुए कहा है कि उनका परिवार प्रारंभ से ही संघ विचारधारा से जुड़ा रहा और उनके परिवार को भी आपातकाल के समय अनेक यातनाएं दी गई। श्री अग्रवाल ने कहा है कि वर्तमान समय में देश लोकतंत्र के मर्यादाओं के आधार पर चल रहा है। हर व्यक्ति को अपनी बात कहने का अधिकार है जिसे अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता कहा गया है। उन्होंने कहा है कि वह ऐसा कालखंड था जब इंदिरा गांधी के राजनीतिक विरोधियों को हर प्रकार से प्रताड़ित किया जाता था। इस अवसर पर वरिष्ठ पार्षद शिव कुमार गौतम, पार्षद वीरेंद्र रमोला, क्षेत्र पंचायत सदस्य अमर खत्री, मनोज ध्यानी, सुमित पवार अरुण बडोनी, कविता शाह, आदि सहित अनेक लोग उपस्थित थे कार्यक्रम का संचालन राजेश थपलियाल ने किया।

कुम्भ कोरोना टेस्टिंग घोटाले की जांच की मांग को लेकर कांग्रेस 27 जून को करेगी प्रदर्शन

देहरादून। उत्तराखण्ड प्रदेश कांग्रेस कमेटी द्वारा हरिद्वार कुम्भ में कोरोना टेस्टिंग के नाम पर हुए महा घोटाले की उच्च स्तरीय मांग को लेकर प्रदेशभर के जिला, शहर मुख्यालयों में 27 जून को विरोध-प्रदर्शन के साथ राज्य सरकार का पुतला दहन किया जायेगा। प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष सूर्यकान्त धस्माना ने कहा कि भ्रष्टाचार पर जीरो टाॅलिरेंस की बात करने वाली भाजपा सरकार के रोज नये-नये घोटाले उजागर हो रहे हैं। कोरोना जैसी महामारी की आर.टी.पी.सी. आर जांच के नाम पर हरिद्वार कुम्भ के दौरान हुए महा घोटाले ने साबित कर दिया है कि भ्रष्टाचार में आकंठ डूबी भाजपा को आम जनता के स्वास्थ्य की भी कोई चिन्ता नहीं है। कोरोना महामारी में जहां एक ओर भाजपा सरकारें आम आदमी को आॅक्सीजन के लिए दर-दर भटकना पड़ा तथा भाजपा की सरकारें इंतजाम करने में पूरी तरह नाकाम रही हैं। जिस प्रकार कुम्भ के दौरान पीसीआर टेस्टिंग के नाम पर जनता के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ किया गया वह निन्दनीय है। सूर्यकान्त धस्माना ने कहा कि आज इसी कडी में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह के नेतृत्व में कांग्रेसजनों ने गंगा जी के तट पर सुभाष घाट हरिद्वार में घोटाले की जांच को लेकर एक दिवसीय उपवास किया तथा 27 जून को प्रदेश के सभी जिला एवं शहर मुख्यालयों में कांग्रेसजनों द्वारा विरोध-प्रदर्शन के साथ भाजपा सरकार का पुतला दहन किया जायेगा।

जन समस्याओं का समाधान सरकार की पहली प्राथमिकताः सीएम तीरथ

देहरादून। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री आवास स्थित जनता दर्शन हॉल में जन समस्याओं एवं जन शिकायतों को सुना। मुख्यमंत्री ने कहा कि जन समस्याओं का समाधान सरकार की पहली प्राथमिकता है। मुख्यमंत्री ने कई समस्याओं का मौके पर ही समाधान किया। मुख्यमंत्री के समक्ष सड़क, स्वास्थ्य, पेयजल, विद्युत, आर्थिक सहायता, समाज कल्याण से संबधित पेंशन आदि अनेक समस्याएं लोगों ने रखी। मुख्यमंत्री ने समस्याओं के त्वरित समाधान के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिये हैं। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि जन समस्याओं की समय-समय पर नियमित रूप से सुनवाई की जायेगी और उनकी समस्याओं के समाधान के लिए अधिकारियों से पूरा फीडबैक लिया जायेगा। निर्धारित समयावधि में अधिकारियों को जन समस्याओं के समाधान करने के निर्देश दिये गये हैं। जिन समस्याओं को त्वरित समाधान हो सकता, उनका मौके पर अधिकारियों को समाधान करने के निर्देश दिये गये हैं।

सीएम ने की कोविड नियंत्रण एवं वैक्सीनेशन की प्रगति की समीक्षा

देहरादून। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने शुक्रवार को सचिवालय में कोविड-19 महामारी के नियंत्रण एवं कोविड वैक्सीनेशन की प्रगति के सम्बन्ध में सभी जनपदों को वीडियो कांन्फ्रेस के माध्यम से समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने सभी जनपदों से कोविड महामारी के नियंत्रण एवं टीकाकरण की अद्यतन स्थिति की जानकारी ली। बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि सम्भावित तीसरी लहर के दृष्टिगत सभी व्यवस्थाएं पूर्ण हों। उन्होंने समस्त जनपदों की चिकित्सा ईकाइयों में पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन बैड, आई.सी.यू बैड्स की व्यवस्था सुनिश्चित किए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि कोविड की थर्ड वेब से पहले तैयारी का जो समय मिला है, इस दौरान सभी व्यवस्थाएं मजबूत की जाय। वर्षाकाल के दृष्टिगत आपदा की दृष्टि से चिन्हित संवेदनशील स्थानों के बीच भी एम्बुलेंस की व्यवस्था की जाय। सीएचसी स्तर पर भी कोविड केयर सेंटर बनाए जाय। देहरादून एवं हल्द्वानी में ऑक्सीजन बेड, आईसीयू बेड और वेंटिलेटर की सुविधा को और बढ़ाना होगा। देहरादून और हल्द्वानी में कोविड के पीक पर मरीजों की संख्या में तेजी से वृद्धि होती है। मुख्यमंत्री ने बच्चों के अनुरूप मेडिसिन एवं मास्क एवं उपकरणों आदि की व्यवस्था सुनिश्चित किए जाने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि आशाओं के माध्यम से सप्लीमेंट न्यूट्रीशन आदि का वितरण शीघ्र सुनिश्चित किया जाए। प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में भी टेस्टिंग की व्यवस्था की जाए। माईक्रो कन्टेनमेंट जोन एवं कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग को लगातार जारी रखा जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि वैक्सीनेशन को और अधिक गति देने के लिए लगातार लोगों को प्रेरित किया जाए। जिन दिव्यांगों एवं बुजुर्गों का अभी टीकाकरण पूर्ण नहीं हुआ है उनको चिन्हित किया जाए। जिलाधिकारियों द्वारा इनके लिए कैंप लगवाकर टीकाकरण किया जाय। कोविड पर नियंत्रण के लिए जागरूकता अभियान लगातार चलाये जाए। लोकल सैलीब्रिटीज एवं महानुभावों को इसमें शामिल करते हुए जागरूकता कार्यक्रम संचालित किए जाएं। मुख्यमंत्री ने कहा कि वैक्सीनेशन एवं अन्य स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए राज्य को केन्द्र सरकार से हर सम्भव मदद मिल रही है। इसके लिए उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का आभार भी व्यक्त किया। मुख्य सचिव ओमप्रकाश ने भविष्य में लॉकडाउन खुलने के दृष्टिगत भीड़ बढ़ने की सम्भावना को देखते हुए बॉर्डर पर टेस्टिंग आदि की व्यवस्था सुनिश्चित किए जाने के भी निर्देश दिए। एंट्री प्वाइंट में टेस्टिंग आदि की व्यवस्था की अद्यतन जानकारी लेते हुए उन्होंने निर्देश दिए कि बाजार में सोशल डिस्टेंसिंग एवं कोविड एप्रोप्रिएट बिहेवियर का अनुपालन की व्यवस्था चाक चैबन्द की जाए। उन्होंने कहा कि आइवरमैक्टिन का डिस्ट्रीब्यूशन 30 जून तक अवश्य पूर्ण कर लिया जाय। सोशल डिस्टेन्सिग का पालन सुनिश्चित किया जाए। मुख्य सचिव ने कहा कि टीकाकरण के लिए जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए जाएं। बैठक में मुख्यमंत्री के मुख्य सलाहकार शत्रुघ्न सिंह, डीजीपी अशोक कुमार, सचिव अमित नेगी, मुख्यमंत्री के विशेष कार्याधिकारी जे. सुन्द्रियाल, स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ. तृप्ति बहुगुणा, वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से कुमाऊं कमिश्नर अरविन्द सिंह ह्यांकी, गढ़वाल कमिश्नर रविनाथ रमन, सभी जिलाधिकारी, एसएसपी एवं सीएमओ उपस्थित थे।

रोडवेज कर्मचारियों का वेतन रोकने पर हाईकोर्ट सख्त

-मुख्य सचिव समेत कई अफसरों को किया तलब नैनीताल। रोडवेज कर्मचारियों को वेतन न देने के मामले में नैनीताल हाईकोर्ट ने सख्त रुख अपनाया है। हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश राघवेंद्र सिंह चैहान की खंडपीठ ने सचिव वित्त, उत्तराखंड के मुख्य सचिव, सचिव परिवहन और एमडी परिवहन को कल हाईकोर्ट में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से पेश होने के आदेश दिए हैं। कोर्ट ने सभी से पूछा है कि आखिर रोडवेज कर्मचारियों को वेतन भत्ते समेत अन्य सुविधाएं क्यों नहीं दी जा रही है। उत्तराखंड रोडवेज कर्मचारी संघ ने हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर कर कहा है कि सरकार उनके खिलाफ एस्मा लगाने जा रही है, जो नियम विरुद्ध है। सरकार कर्मचारियों को हड़ताल करने पर मजबूर करती आई है। सरकार और परिवहन निगम न तो संविदा कर्मचारियों को नियमित कर रही है और न ही उनको नियमित वेतन दिया जा रहा है। उनको पिछले चार साल से ओवर टाइम भी नहीं दिया जा रहा है, रिटायर कर्मचारियों कों भुगतान नहीं किया गया। यूनियन का सरकार व निगम के साथ कई बार मांगों को लेकर समझौता हो चुका है, उसके बाद भी सरकार एस्मा लगाने को तैयार है।

कोरोना की संभावित तीसरी लहर से निपटने को एसओपी जारी

देहरादून। कोरोना की संभावित तीसरी लहर के अलर्ट को देखते हुए तीरथ सरकार ने उसमें बच्चों के संक्रमित होने की आशंकाओं को देखते हुए विशेष एसओपी जारी की है। एसओपी के तहत चिकित्सालयों में बाल रोग विशेषज्ञों की संख्या बढ़ाने के अलावा उनके उपचार के व्यापक प्रबंध करने के लिए महानिदेशक स्वास्थ्य विभाग को निर्देशित किया गया है। एसओपी में कहा गया है कि 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चों का टीकाकरण जल्दी से जल्दी पूरा किया जाए। हर जिले के सरकारी चिकित्सालयों में पर्याप्त संख्या में आक्सीजन बेड,आईसीयू व वेंटीलेटरों का इंतजाम किया जाए। यदि किन्ही कारणों से यह संभव नहीं हो पा रहा है तो नजदीकी मेडिकल काॅलेज से यह व्यवस्था बनाई जाए। इसके अलावा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों को 1 लेबल का कोविड केयर सेंटर बनाया जाए। हर 1 लेबल के कोविड केयर सेंटर में दस बेडों की व्यवस्था होनी चाहिए। हर जिले में किसी अन्य बीमारी से पीढ़ित 0 से 18 आयु वर्ग के बच्चों की सूची अभी से तैयार कर ली जाए ताकि कोरोना की तीसरी लहर के समय उनकी निगरानी भी की जा सके। एसओपी में यह भी कहा गया है कि केंद्र सरकार से प्राप्त हो रहे आक्सीजन सिलेंडरों के अलावा यदि जिलों में और भी सिलेंडरों की आवश्यकता पड़ती है तो उन्हें अभी से क्रय कर लिया जाए। हर डीसीएच और मेडिकल काॅलेज में आॅक्सीजन स्टोरेज टैंक की व्यवस्था की जाए जिनकी क्षमता कम से कम एक हजार लीटर प्रति मिनट होनी चाहिए। उपर्युक्त विषयक विभिन्न वैज्ञानिक संस्थानों एवं मेडिकल एक्सपर्ट की राय के अनुसार कोबिड-19 महामारी की सम्भावित तीसरी लहर की रोकथाम की तैयारियों के दृष्टिगत राज्य में आवश्यक तैयारियां समयान्तर्गत पूर्ण की जानी आवश्यक हो गयी है। अतएव उपर्युक्त उद्देश्य की पूर्ति हेतु शासन द्वारा सम्यक विचारोपरान्त लिये गये निर्णय के क्रम में मुझे यह कहने का निदेश हुआ है कि निम्नलिखित दिशा-निर्देशों का राज्य स्तर एवं जनपद स्तर से समयान्तर्गत आवश्यक कार्यवाही करने हेतु कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित करने का कष्ट करें।

हर्षिल क्षेत्र के सौंदर्यीकरण कार्य में अधिकारी लाएं तेजीः डीएम

उत्तरकाशी। जिलाधिकारी मयूर दीक्षित ने कहा कि हर्षिल टूरिज्म के क्षेत्र में महत्वपूर्ण स्थान रखता है। उन्होंने कार्यदायी संस्थाओं को निर्माण कार्यों में तेजी लाने के निर्देश दिए। पर्यटन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से निर्माणाधीन हर्षिल में मास्टर प्लान से हो रहे सौंदर्यीकरण के कार्यों की समीक्षा की गई। शुक्रवार को डीएम ने समीक्षा करते हुए आरईएस विभाग को शीघ्र ही बाजार में स्ट्रीट लाइट व सीसीटीवी कैमरे लगाने के निर्देश दिये। अधिशासी अभियंता विद्युत अवगत कराया गया कि हर्षिल में ओपन बिजली की तारों को भूमिगत कर दिया गया है। वहीं जल संस्थान द्वारा बताया गया कि पेयजल लाइनों को व्यवस्थित ढंग से भूमिगत किए जाने की कार्यवाही गतिमान है शीघ्र ही कार्य पूर्ण कर लिया जाएगा। हर्षिल लोक निर्माण कार्य भी अंतिम चरण में है। जिस पर जिलाधिकारी ने कार्यदायी संस्थाओं को कार्य में तेजी लाने के निर्देश देये है। बैठक में पुलिस अधीक्षक मणिकांत मिश्रा, डीएफओ पुनीत तोमर, सीडीओ गौरव कुमार,परियोजना निदेशक संजय सिंह, अधिशासी अभियंता लोनिवि राजेन्द्र सिंह खत्री, जिला पर्यटन विकास अधिकारी प्रकाश खत्री सहित अन्य उपस्थित थे।

पेरोल पर चल रहा आरोपी चोरी के दो वाहनों के साथ गिरफ्तार

-कोतवाली पटेल नगर पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी देहरादून। शिकायतकर्ता गूलशनवर ने थाने पर आकर अपनी मोटरसाईकिल नम्बर यूपी 12 एएफ 2201 चमनविहार के पास से चोरी होने की रिपोर्ट दर्ज कराई। रिपोर्ट में गुलशन ने बताया कि मामा का लडका शहनवाज चमनविहार में एक घर में पेन्ट का काम कर रहा था घर के बाहर उसने अपनी मोटरसाईकिल को खडी कर रखी थी जिसे 20 जून को अज्ञात चोर ने चोरी कर ली। शुक्रवार को पुलिस ने चैकिंग के दौरान कमला पैलेस तिराहा पर आरोपी नाजिम उर्फ कालीझिरी को चोरी के मोटरसाईकिल यूपी 12 एएफ 2201 स्पैलडर प्रो वाहन के साथ गिरफ्तार किया गया। पूछताछ में आरोपी ने बताया कि एक अन्य वाहन एक्टिवा भी चोरी की गई है। जिसे आरोपी के घर से यूए 07 0489 बरामद की गयी। आरोपी के ऊपर पूर्व में भी 13 मुकदमे दर्ज हैं। आरोपी को पकड़ने वाली पुलिस टीम में उपनिरीक्षक कुन्दन राम थाना पटेलनगर, राजेन्द्र कुमार थाना पटेलनगर, कॉन्स्टेबल श्रीकान्त ध्यानी, आशीष कुमार, योगेश सिंह मौजूद थे।

कर्मकार कल्याण बोर्ड कार्यालय में महिलाओं ने किया हंगामा, प्रोत्साहन राशि देने की मांग

देहरादून। कर्मकार कल्याण बोर्ड द्वारा कौशल विकास योजना के तहत महिलाओं को 2 साल पहले सिलाई का प्रशिक्षण दिया गया था। ट्रेनिंग पूरी होने पर 5000 हजार रुपये प्रोत्साहन राशि देने की बात कही गई थी। 2 साल बीत जाने के बाद भी इन लाभार्थियों को अभी तक उनका हक नहीं मिला। इससे आक्रोशित होकर महिलाएं पिछले 4 दिन से कर्मकार कल्याण बोर्ड के बाहर धरना-प्रदर्शन कर रही हैं। कर्मकार कल्याण बोर्ड में चल रही आपसी लड़ाई के बीच यहां श्रमिकों की योजनाओं से जुड़ी रकम जारी नहीं हो पा रही है। यही कारण है कि बोर्ड में महिलाएं पिछले 4 दिन से हंगामा कर रही हैं। साथ ही योजनाओं से जुड़े बजट को जारी करने की मांग कर रही हैं। इस दौरान महिलाएं कर्मकार कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष शमशेर सिंह सत्याल के खिलाफ भी नाराज दिखाई दीं। महिलाओं की मानें तो बोर्ड अध्यक्ष शमशेर सिंह सत्याल की तरफ से बजट भुगतान के लिए कार्रवाई नहीं की जा रही है। पिछले 2 साल से महिलाओं को प्रोत्साहन राशि जारी नहीं की गयी है। दरअसल ये वो महिलाएं हैं, जिन्होंने 2 साल पहले बोर्ड से सिलाई ट्रेनिंग ली थी। इसकी एवज में 5000 रुपये प्रति महिलाओं को कर्मकार कल्याण बोर्ड की तरफ से दिया जाना था। यह पैसा लंबे समय से जारी नहीं हो पाया है।महिलाओं का आरोप है कि बोर्ड अध्यक्ष शमशेर सिंह सत्याल उन्हें कार्यालय में नहीं मिलते और न ही उनकी समस्या सुनते हैं। इस गर्मी में वह अपने बच्चों के साथ कार्यालय आ रही हैं, जिससे उन्हें परेशानी हो रही है। ऐसे में वे अपने हक के पैसों के लिए गिड़गिड़ाने को मजबूर हैं।

कांग्रेस ने हरकी पैड़ी के सुभाष घाट पर उपवास रखकर किया विरोध प्रदर्शन

हरिद्वार। कुंभ कोविड टेस्ट फर्जीवाड़ा मामले में प्रीतम सिंह के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने हरकी पैड़ी के सुभाष घाट पर उपवास कर विरोध-प्रदर्शन किया। इस दौरान प्रीतम सिंह ने फर्जीवाड़े की उच्चस्तरीय जांच की मांग की। इसके साथ ही बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष पर लगे पुस्तकालय घोटाले के आरोपों की भी उच्चस्तरीय जांच किए जाने की मांग की है। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने कहा कि कुंभ के दौरान हरिद्वार पहुंचने वाले श्रद्धालुओं की कोविड जांच के नाम पर जो फर्जीवाड़ा हुआ है, उस पर सरकार द्वारा जो कमेटी बनाई गई है, वह मात्र मामले को रफा-दफा करने के लिए बनाई गई है। प्रीतम ने फर्जीवाड़े की जांच हाईकोर्ट के जज की देखरेख में कराने की मांग की है। प्रीतम ने कहा कि बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक पर हरिद्वार में बने विभिन्न पुस्तकालयों में घोटाले के आरोप लगे हैं। उन्होंने कहा कि इस मामले की भी जांच उच्च स्तरीय कमेटी के द्वारा की जानी चाहिए और दोषियों पर कार्रवाई जरूर होनी चाहिए। इसके साथ ही प्रीतम सिंह ने हरिद्वार में उषा ब्रेको मामले पर कहा कि निगम में पक्ष और विपक्ष सभी की सहमति के बाद ही निर्णय लिया गया है, लेकिन उसमें भी अगर कोई संशय है तो सरकार को उसकी जांच अवश्य करानी चाहिए। इस पर उन्हें कोई आपत्ति नहीं है।

वीडियो बनाने को नदी में कूदे दो युवक, एक की मौत, एक बाल-बाल बचा

-गगास नदी में नहाने गए युवक की नदी में डूबकर मौत -एसडीआरएफ की टीम ने कड़ी मशक्कत के बाद शव को रेस्क्यू किया रानीखेत। बग्वालीपोखर गगास नदी में नहाते समय एक युवक की डूबने से मौत हो गई। एसडीआरएफ टीम ने युवक के शव को शुक्रवार सुबह रेस्क्यू कर नदी से बाहर निकाला। लियाकुलसीवी गांव निवासी कुंदन सिंह अपने दोस्तों के साथ गगास नदी के खरटी खाव तालाब में नहाने गया था। युवक नहाते समय अचानक नदी में डूब गया। युवक के डूबने का कुछ दोस्तों ने वीडियो बना लिया। युवक के डूबने की सूचना दोस्तों ने ग्रामीणों को दी। सूचना पर पहुंचे ग्रामीणों ने युवक को खोजना शुरू किया, लेकिन युवक नहीं मिला। जिसके बाद ग्रामीणों ने युवक की डूबने की सूचना एसडीआरएफ को दी। सूचना पर पहुंची एसडीआरएफ की टीम ने युवक का रेस्क्यू किया। एसडीआरएफ की टीम बीते दिन से युवक की खोजबीन कर रही थी, लेकिन कड़ी मशक्कत के बाद युवक का शव शुक्रवार सुबह बरामद किया गया।

लाॅकडाउन खुलने के बाद बाॅर्डर पर टेस्टिंग बढ़ाए जाने के दिए निर्देश

देहरादून। मुख्य सचिव ओमप्रकाश ने भविष्य में लॉकडाउन खुलने के दृष्टिगत भीड़ बढ़ने की सम्भावना को देखते हुए बॉर्डर पर टेस्टिंग आदि की व्यवस्था सुनिश्चित किए जाने के भी निर्देश दिए। एंट्री प्वाइंट में टेस्टिंग आदि की व्यवस्था की अद्यतन जानकारी लेते हुए उन्होंने निर्देश दिए कि बाजार में सोशल डिस्टेंसिंग एवं कोविड एप्रोप्रिएट बिहेवियर का अनुपालन की व्यवस्था चाक चैबन्द की जाए। उन्होंने कहा कि आइवरमैक्टिन का डिस्ट्रीब्यूशन 30 जून तक अवश्य पूर्ण कर लिया जाय। सोशल डिस्टेन्सिग का पालन सुनिश्चित किया जाए। मुख्य सचिव ने कहा कि टीकाकरण के लिए जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए जाएं।

महाराज ने दी शहीद मनदीप को विनम्र श्रद्धांजलि

देहरादून। कैबिनेट मंत्री और चैबट्टाखाल विधायक सतपाल महाराज ने जम्मू कश्मीर के गुलमर्ग में शहीद हुए 11वीं गढ़वाल राइफल के 23 वर्षीय जवान मनदीप सिंह नेगी की शहादत पर उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की है। कैबिनेट मंत्री और चैबट्टाखाल विधायक सतपाल महाराज ने जम्मू कश्मीर के गुलमर्ग में दुश्मनों से लोहा लेते हुए अपनी विधानसभा क्षेत्र चैबट्टाखाल स्थित सकनोली, पोखड़ा ब्लॉक निवासी 11 वीं गढ़वाल राइफल के 23 वर्षीय मनदीप नेगी सिंह नेगी पुत्र सत्याल सिंह नेगी की शहादत पर उन्हें शत शत नमन करते हुए श्रद्धांजलि अर्पित की है। श्री महाराज ने कहा कि उनकी शहादत की खबर सुनकर पूरे क्षेत्र में शोक की लहर है। देश की रक्षा करते हुए आज उत्तराखंड का एक और लाल शहीद हो गया है। उन्होने कहा कि दुःख की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएं शहीद मनदीप सिंह के परिजनों के साथ हैं।

उपवास नौटंकी, लोकतंत्र पर धब्बा लगाने के लिए देश से माफी मांगे कांग्रेसः कौशिक

देहरादून। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने कहा कि कांग्रेस का चाल चरित्र और चेहरा संवैधानिक संस्थाओ को कुचलने का रहा है और आपातकाल भारत के लोकतान्त्रिक इतिहास में एक काला धब्बा है। पत्रकारों से वार्ता करते हुए उन्होंने हरिद्वार में कांग्रेस के उपवास को नौटंकी करार देते हुए कहा कि कांग्रेस ने साढ़े 4 साल विपक्ष की भुमिका के साथ भी न्याय नहीं किया। कोरोना काल में भाजपा जहां जनता की सेवा में लगी रही तो कांग्रेस धरना प्रदर्शन में ही लगी रही। उसका मकसद महज विरोध करना रहा और भाजपा सेवा कार्यो में जुटी रही। उन्होंने कहा कि हरिद्वार में आरटीपीसीआर रिपोर्ट में गड़बड़ी की सूचना पर सरकार नेे समय गँवाये बिना जान्च के आदेश दिए और वर्तमान में एसआइटी जांच कर रही है। मामले की हाई कोर्ट मॉनिटरिंग कर रहा है। लेकिन कांग्रेस को महज राजनीति करनी है। उन्होंने कहा कि उपवास के बजाय कांग्रेस को आज 25 जून को उन सभी लोगों से माफी मांगनी चाहिए जो उनके नेताओं के द्वारा प्रताड़ना के शिकार हुए। आपात काल में न्यायपालिका को कमजोर करने और चैथे स्तम्भ को बुरी तरह से कुचल दिया गया। यह भारत के लोकतंत्र पर काला धब्बा है। कांग्रेस को हर साल 25 जून को देश की जनता से माफी मांगनी चाहिए। इससे लोगों के बीच यह सकारात्मक संदेश जाएगा कि कांग्रेसी अपने पूर्वजो के कारनामों का पाश्चताप कर रहे हैं और इसके लिए कांग्रेस को अपना बडाघ् दिल करना होगा। कांग्रेस की इसी जिद से वह देश की लोकतान्त्रिक व्यवस्था में सिकुड़ती जा रही है। और यही परम्परा आगे चल रही है। पकिस्तान या चीन से तनाव के वक्त हमेशा उनके सुरों में बोलना तो सिर्जिकल स्ट्राइक के सुबूत मांगने कश्मीर से धारा 370 हटाने पर नाराजगी और बहाली का भरोसा जैसे वक्तव्य से कांग्रेस यह साबित करने में जुटी है कि उसका रवैया नहीं बदला है। भाजपा ने प्रदेश भर में मीसा बन्दियो को सम्मानित किया है। उन्होंने कहा कि भारत के लोकतंत्र पर लगा यह धब्बा मिट तो नहीं सकता, लेकिन कांग्रेस को अपने व्यवहार और आचरण से इसकी तपिश को कम करने के लिए आगे आना चाहिए।

भाजपा राष्ट्रीय सचिव सुनील देवधर ने किया पौधारोपण

देहरादून। भारतीय जनता पार्टी राष्ट्रीय सचिव सुनील देवधर ने मसूरी विधानसभा क्षेत्र के बूथ नंबर 11 राजेंद्रनगर में नीम का पौधा लगाया। वृक्षारोपण के बाद अपने संदेश में देवधर ने कहा कि विगत 23 जून बलिदान दिवस से आगामी 6 जुलाई स्वर्गीय डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी के जन्मदिवस तक देश भर के सभी बूथों पर राष्ट्रीय भाजपा द्वारा वृक्षारोपण अभियान चलाया जा रहा है। देवधर के अनुसार संगठन ने निर्देश दिए हैं कि ना सिर्फ पौधे लगाए जाएं बल्किं प्रत्येक पौधे का एक कार्यकर्ता को अभिभावक भी नियुक्त किया जाए, जो पौधे के पेड़ बनने तक उसका व्यक्तिगत रूप से संरक्षण करें द्य उन्होंने कहा कि वे स्वयं समय-समय पर इस पेड़ से मिलने देहरादून आते रहेंगे। पौधारोपण कार्यक्रम में भारतीय जनता पार्टी प्रदेश प्रवक्ता विनय गोयल , महानगर अध्यक्ष सीताराम भट्ट , पार्षद नंदिनी शर्मा , राजीव गुरंग, पवन काला आदि कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

मुख्यमंत्री ने किया गायक सुभाष बड़थ्वाल के गीत का विमोचन

देहरादून। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने शुक्रवार को सचिवालय में लेखक एवं गायक सुभाष बड़थ्वाल के गीत ‘‘ धम तीरथ जी एनी, एनी उत्तराखण्ड मा’’ का विमोचन किया। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के व्यक्तित्व एवं कृतृत्व पर आधारित इस गीत को श्री बड़थ्वाल ने स्वयं ही लिखा एवं गाया है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत जनता से जुड़े जन नेता है, उनके सादगी एवं जन लोकप्रियता से प्रेरित होकर उनके द्वारा इस गीत की रचना की है। मुख्यमंत्री ने उनके इस प्रयास की सराहना की है। इस अवसर पर विधायक शक्तिलाल शाह, भाजपा प्रदेश प्रमुख मीडिया सम्पर्क विभाग राजीव तलवार, अजेन्द्र अजय आदि उपस्थित थे।

आपदा प्रभावित परिवारों के पुनर्वास को 131.75 करोड़ की धनराशि स्वीकृत की

देहरादून। मुख्यमंत्री ने पिथौरागढ़ एवं बागेश्वर के आपदा प्रभावित परिवारों के पुनर्वास हेतु रूपये 131.75 करोड़ की धनराशि स्वीकृत की है। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने जनपद पिथौरागढ़ के तहसील मुनस्यारी के ग्राम सेनर के 20 आपदा प्रभावित परिवारों के पुनर्वास हेतु रूपये 85 लाख, तहसील धारचूला के ग्राम कनार तोक जिमतड़ा के 07 परिवारों के पुनर्वास हेतु रूपये 29.75 लाख के साथ ही जनपद बागेश्वर के तहसील काण्डा के ग्राम सेरी के 04 आपदा प्रभावित परिवारों के पुनर्वास हेतु रूपये 17 लाख की धनराशि स्वीकृत की है।

पल्स पोलियो प्रतिरक्षण अभियान 27 जून से 03 जुलाई तक, सीडीओ ने ली टास्क फोर्स की बैठक

रूद्रपुर। जनपद में उप राष्ट्रीय पल्स पोलियो प्रतिरक्षण अभियान 27 जून से 03 जुलाई तक आयोजित होने वाले कार्यक्रम की शत-प्रतिशत सफलता के लिये जनपद के प्रमुख चिकित्सा अधीक्षकों के साथ जिला टास्क फोर्स की बैठक वीडियों कान्फ्रेसिंग के माध्यम से मुख्य विकास अधिकारी हिमांशु खुराना की अध्यक्षता में कलक्टेªट सभागार में आयोजित की गई। उन्होने कहा कि कार्यक्रम के सफल संचालन हेतु सभी उप जिलाधिकारी व सीएमएस अभी से ठोस कार्ययोजना बनाये। उन्होने कहा कि सम्बन्धित अधिकारी कोविड वैक्सीनेशन सहित पल्स पोलियो के कार्य को गम्भीरता से ले इसमे किसी भी प्रकार की ढिलायी न करें। उन्होने उप जिलाधिकारी व सीएमएस को निर्देश दिये कि जो सम्बन्धित अधिकारीध्कर्मचारी कोविड में कार्य कर रहे है उनसे समन्वय बनाते हुये पल्स पोलियों का वृहत रूप से प्रचार प्रसार करें। उन्होने कहा कि कोविड संक्रमण की दृष्टिगत रखते हुये पोलियों बूथों पर कोविड-19 गाइड लाइन के अनुसार अभियान को सफल बनाया जाये व पोलियों बूथों पर मास्क, सेनेटाईजर, सामाजिक दूरी का अनिवार्य रूप से पालन किया जाये। उन्होने सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिये कि पोलियों बूथ पर अत्यधिक भीड होने पर व्यवस्था बनाने हेतु सम्बन्धित सीओ से समन्वय स्थापित करना सुनिश्चित करें। उन्होने कहा कि कोई भी बच्चा पोलियों खुराक से वंचित न रहे इस पर विशेष ध्यान दिया जाये। उन्होने जिला शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिये कि आॅन लाईन अध्ययन करने वाले बच्चों को भी कोविड वैक्सीनेशन एवं पोलियों खुराक की भी जानकारी दी जाये ताकि वे अपने अभिभावकों को भी वैक्सीनेशन हेतु पे्ररित करें। उन्होने सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिये कि जिन स्थानों पर पोलियों बूथ बढाने की आवश्यकता है उन स्थानों पर पहले से ही बूथ बढाना सुनिश्चित करें। उन्होने सभी सीएमएस को निर्देश दिये कि जिन स्थानो पर कम वैक्सीनेशन हो रहा है उन स्थानों पर विशेष ध्यान देना सुनिश्चित करें। सीएमओ ने बताया कि पल्स पोलियो अभियान की पूर्ण तैयारी कर ली गयी है जिसमे 27 जून को सभी बूथों पर व 28 जून से 03 जुलाई,2021 तक घर-घर जाकर 0 से 05 वर्ष तक के बच्चों को पोलियो की खुराक पिलाई जायेगी। उन्होने बताया जनपद में 270187 बच्चों को दवा पिलाने का लक्ष्य रखा गया है। जिसके लिये जनपद मंे 1297 बूथ बनाये गये है साथ ही जनपद में 832 टीम गठित की गई है जिसमें 1108 आंगनबाडी वर्कर, 1334 आशा वर्कर, 165 एएनएम व 245 मेडिकल हैल्थ से सहयोग किया जायेगा। इस अवसर पर मुख्य चिकित्साधिकारी डाॅ0 डीएस पंचपाल, संयुक्त मजिस्टेªट विशाल मिश्रा, एसीएमओ डा0 हरेन्द्र मलिक, जिला युवा कल्याण अधिकारी मोहन सिंह नगन्याल, एसएमओ डब्लूएचओ डा0 मनु खन्ना, सहायक जिला पंचायतराज अधिकारी महेश कुमार, डा0 अजयवीर सिंह,जिला शिक्षा अधिकारी एके सिंह, जिला कार्यक्रम अधिकारी उदय प्रताप सिंह, सीओ आशीष भारद्वाज आदि उपस्थित थे।

उत्तराखण्ड राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण ने ली दिव्यांग शूटर व एथलीट दिलराज कौर की सुध

देहरादून। उत्तराखण्ड राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, उत्तराखण्ड उच्च न्यायालय परिसर, नैनीताल को मीडिया के माध्यम से पता चला कि दिलराज कौर जोकि भारत की प्रथम दिव्यांग महिला (जिनके शरीर का बायां पैर एवं बाया हाथ जन्म से ही काम नहीं करता है), एक अन्तर्राष्ट्रीय स्तर की पैरालाम्पिक शूटर है एवं वर्तमान में सरकार द्वारा किसी भी प्रकार का सहयोग न मिलने के कारण आर्थिक कठिनाईयों से गुजर रही है। इस सम्बध्ंा में उत्तराखण्ड राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, उत्तराखण्ड उच्च न्यायालय परिसर, नैनीताल द्वारा तुरन्त संज्ञान लेते हुए जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, देहरादून को उक्त के बारे में अविलम्ब कार्यवाही करने हेतु निर्देश दिया गया। सदस्य सचिव राजीव कुमार खुल्बे, उत्तराखण्ड राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, नैनीताल द्वारा दिये गये निर्देश के अनुपालन में नेहा कुशवाहा, सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, देहरादून द्वारा तुरन्त कार्यवाही करते हुए उक्त दिव्यांग महिला से दूरभाष पर वार्ता कर उनकी समस्या के बारे में जानकारी प्राप्त की गयी। उस दिव्यांग महिला द्वारा सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, देहरादून को बताया गया कि वह एक निशेनाबाज एथलीट है एवं उन्होनें भारत का प्रतिनिधित्व करते कई राष्ट्रीय एवं अन्तराष्ट्रीय पैरालाम्पिक शूटर प्रतियोगिताआंे में प्रतिभाग किया है तथा 26 गोल्ड मेडल, 08 रजत एवं 03 कांस्य पदक जीते हैं एवं विभिन्न पैरा, राष्ट्रीय व शूटिंग वल्र्ड कप में टेक्निकल अफसर के रूप में भी कार्य किया है तथा वह बार एसोसियेशन, जनपद देहरादून में बतौर अधिवक्ता भी पंजीकृत है तथा वह पी0सी0एस0(जे0) की परीक्षा में भी बैठ चुकी है। वह अपनी विधवा माता के साथ किराये के मकान में रहती है। उक्त महिला ने सीमित शारीरिक क्षमताओं के पश्चात् भी राष्ट्रीय एवं अन्तराष्ट्रीय पैरालाम्पिक शूटिंग प्रतियोगिताआंे में कई मेडल जीतकर भारत का नाम रोशन किया है परन्तु इसके बावजूद भी आज तक इनको प्रदेश की सरकार ने प्रथम दिव्यांग महिला खिलाड़ी होने का कोई सम्मान नहीं दिया है एवं न ही किसी प्रकार से आर्थिक सहायता मुहैया करायी है जिसके चलते इस होनहार खिलाड़ी को कोरोनाकाल के दौरान फुटपाथ पर नमकीनध्बिस्कुट बेचकर अपना गुजर-बसर करना पड़ रहा है एवं आर्थिक कठिनाईयों का अत्यधिक सामना करना पड़ रहा है जबकि सरकार को ऐसी दिव्यांग होनहार महिला खिलाड़ी को उनकी गुजर-बसर हेतु आर्थिक सहायता देनी चाहिये थी जो उन्हें अभी तक उपलब्ध नहीं करायी गयी है। तत्पश्चात् सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, देहरादून द्वारा अविलम्ब पराविधिक कार्यकर्ता श्री जहाॅगीर आॅलम, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, देहरादून को उक्त दिव्यांग महिला के घर जाकर उनकी विधिनुसार उचित सहायता करने हेतु आदेशित किया गया। इस दौरान सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, देहरादून भी पूरा समय दूरभाष के जरिये उक्त दिव्यांग महिला के सम्पर्क में रही तथा उक्त महिला के बारे में पूर्ण जानकारी देते हुए माननीय उत्तराखण्ड राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, नैनीताल को भी पत्र प्रेषित किया गया जिसका संदर्भ लेते हुए माननीय श्री राजीव कुमार खुल्बे सदस्य सचिव, उत्तराखण्ड राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, नैनीताल द्वारा उनके सम्बंध में सरकार से वार्ता कर उनको उचित सहायता दिलाये जाने हेतु आवश्यक कार्यवाही करेंगें। इसके अतिरिक्त सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, देहरादून द्वारा उक्त दिव्यांग महिला को अवगत कराया कि यदि भविष्य में उसे किसी भी प्रकार की कोई विधिक सहायता की आवश्यकता हों तो वह जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, देहरादून से सम्पर्क कर सकती है।

एसडीएम ने पल्टन बाजार का निरीक्षण किया

देहरादून। जिलाधिकारी के निर्देशों के अनुपालन में आज उप जिलाधिकारी सदर गोपाल राम बिनवाल द्वारा पल्टन बाजार, का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने व्यापारिक प्रतिष्ठानों में अनिवार्यतः मास्क का उपयोग एवं सामाजिक दूरी के मानकों का पालन करने को कहा। उन्होंने व्यापरियों से कहा कि दुकानों पर मास्क नही तो सामान नही के स्लोगन लगाये जायं तथा दुकान एवं व्यवायिक प्रतिष्ठानों पर आने वाले सभी लोगों को कोविड बिहेवियर का अनुपालन करने हेतु जागरूक भी किया जाए।

60791 लोगों का सर्विलांस किया गया

देहरादून। जिलाधिकारी डाॅं0 आशीष कुमार श्रीवास्तव ने बताया है कि जनपद में कोरोना वायरस संक्रमण के दृष्टिगत प्राप्त हुई रिपोर्ट में 48 व्यक्तियों की रिपोर्ट पाॅजिटिव प्राप्त होने के फलस्वरूप जनपद में आतिथि तक कोरोना से संक्रमित व्यक्तियों की संख्या 111030 हो गयी है, जिनमें कुल 106285 व्यक्ति उपचार के उपरान्त स्वस्थ हो गये हैं। वर्तमान में जनपद में 682 व्यक्ति उपचाररत हैं। आज जांच हेतु कुल 6886 सैम्पल भेजे गए। जनपद में जिला प्रशासन द्वारा 23 तथा विभिन्न विकासखण्डों में 24 होम आयशोलेशन किट का वितरण किया गया। आंगनबाड़ी कार्यकर्तियों द्वारा आज 60791 व्यक्तियों का सर्विलांस किया गया जिनमें 05 व्यक्तियों में कोविड संक्रमण के लक्षण पाए गए। आपदा कन्ट्रोलरूम में होमआयशोलेशन में रह रहे व्यक्तियों एवं वृद्धजनों की सहायता हेतु स्थापित हेल्पलाईन पर आज कोई काॅल प्राप्त नही हुई। इसी प्रकार आज कोविड कन्ट्रोलरूम से होमआयशोलेशन में रह रहे 71 व्यक्तियों से सम्पर्क कर उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी प्राप्त की गई।

चिकित्सालयों के निक्कू वार्ड में सभी प्रकार की व्यवस्था सुनिश्चित की जाएंः डीएम

देहरादून। जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव ने कोविड संक्रमण की रोकथाम एवं प्रभावी नियंत्रण हेतु समस्त उप जिलाधिकारियों, चिकित्साधिकारियों एवं नामित सभी नोडल अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिये। उन्होंने इस दौरान सर्विलांस, सैम्पलिंग एवं टीकाकरण कार्यों पर विशेष बल देते हुए इन कार्यों की नियमित समीक्षा करते हुए कारगर योजना के साथ कार्य करने को कहा। जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्साधिकारी एवं चिकित्सा अधीक्षकों को निर्देशित किया भारत सरकार कल 26 जून को सीएसआर के माध्यम से उत्तराखण्ड राज्य के विभिन्न चिकित्सालयों में आक्सीजन जनरेशन प्लांट का लोकार्पण हेतु सभी आवश्यक तैयारियां करना सुनिश्चित करें। उन्होंने बताया कि आक्सीजन जनरेशन प्लांट का मुख्यमंत्री जी 26 जून को पूर्वान्ह 11 बजे मुख्यमंत्री एनेक्सी भवन के सभागार से लोकार्पण कार्यक्रम में शिरकत करना प्रस्तावित है। जिलाधिकारी ने कहा कि कोविड की सम्भावित तीसरी लहर से निपटने के लिए पूर्ण तैयारियां कर ली जाएं। उन्होंने कहा कि जैसा कि विशेषज्ञो द्वारा तीसरी लहर में बच्चों को अधिक प्रभावित होने की आशंका जताई जा रही है ऐसी स्थिति में चिकित्सालयों के निक्कू वार्ड में सभी प्रकार की व्यवस्था सुनिश्चित की जांए। उन्होंने कहा कि चिकित्सालयों में आने वाले बच्चों के अभिभावकों के लिए रहने की सुविधा चिकित्सालय के नजदीक किए जाने की व्यवस्था करें। जिलाधिकारी ने सर्वप्रथम टीकाकरण कार्यों में और अधिक तेजी लाने के साथ ही टीके की कोई भी डोज बर्बाद ना हों इसका विशेष ध्यान रखे जाने को कहा। उन्होंने विकासखण्ड डोईवाला एवं विकासनगर में टीकाकरण की धीमी रफ्तार पर नाराजगी व्यक्त करते हुए सम्बन्धित एमओआईसी को टीकाकरण कार्यों में तेजी लाने तथा उप जिलाधिकारी डोईवाला एवं विकासनगर को टीकाकरण बढाये जाने हेतु स्थानीय जनप्रनिधि का सहयोग प्राप्त करते हुए विभिन्न माध्यम से जागरूकता कार्यक्रम संचालित करने के निर्देश दिए। उन्होंने जिला सर्विलांस अधिकारी एवं एवं समस्त एमओआईसी को वैक्सीन की उपलब्धता के अनुसार जम्बो साईट बढाये जाने को कहा ताकि अधिक से अधिक लोगों का टीकाकरण कार्य किया जा सके। जिलाधिकारी ने समस्त उप जिलाधिकारियों को अपने-अपने क्षेत्रान्तर्गत अविस्थत सीमा चैक पोस्ट पर बाहरी राज्यों एवं जनपदों से आने वाले व्यक्तियों की सैम्पलिंग करवाये जाने के साथ ही इस कार्य नियमित निरीक्षणध्समीक्षा करने को कहा। उन्होंने कहा कि अन्य राज्यों से जनपद में आने वाले वाहन एवं व्यक्तियों का विवरण तथा प्रत्येक व्यक्ति की यात्रा विवरण भी चैक पोस्ट पर सैम्पलिंग के दौरान प्राप्त करने तथा इस कार्य में पुलिस की सहायता प्राप्त करने को कहा। जिलाधिकारी ने जनमानस से अपील करते हुए कहा कि वर्तमान में अनलाॅक की प्रक्रिया गतिमान है तथा धीरे-धीरे बाजार एवं सभी प्रकार की दुकानें खुल रही हैं। उन्होंने जनमानस से कोविड बिहेवियर अपनाने का अनुरोध किया तथा बाजारों एवं सार्वजनिक स्थानों पर मास्क एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के साथ ही अपने आसपास साफ-सफाई अपनाते हुए बार-बार हाथ धोनें तथा नियमित सेनिटाइजर का प्रयोग करने कहा। उन्होंने जनमानस से कहा कि कोविड संक्रमण के दृष्टिगत केन्द्र एवं राज्य सरकार द्वारा समय-समय पर जारी गाईडलाईन का पालन करें तथा अन्य को इसके लिए प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि कोविड बिहेवियर का पालन एवं टीकाकरण से ही कोविड बीमारी को फैलने से रोका जा सकता है, उन्होंने सभी जनमानस से अपील करते हुए कहा कि अपनी बारी आने पर टीका अवश्य लगवायें तथा अपने परिजनों को भी टीका लगवायें।

भाजपा ने मनाया काला दिवस, मीसा बन्दियों का किया सम्मान

देहरादून। 45 साल पहले देश में थोपी गए आपातकाल को लोकतंत्र पर काला धब्बा बताते हुए भाजपा ने आज काला दिवस मनाया और मीसा के बन्दियो को सम्मानित किया। आज प्रदेश कार्यालय में वर्चुअल कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमे कार्यक्रम की अध्यक्षता मदन कौशिक प्रदेश अध्यक्ष भाजपा, मुख्य वक्ता अजय भट्ट सांसद नैनीताल, और कार्यक्रम संयोजक-डॉ देवेन्द्र भसीन प्रदेश उपाध्यक्ष- भाजपा उत्तराखण्ड ने की। कार्यक्रम में पूरे प्रदेश से भजपा के कार्यकर्ता वर्चुअल रूप से जुड़े। कार्यक्रम में 21 साल की उम्र में आपातकाल में जेल गए हयात सिंह मेहरा को सम्मनित किया गया। प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने कहा 1975 के बाद कांग्रेस ने कभी भी पश्चाताप नही किया। उन्होंने कहा कि कई बार ऐसा होता है कि पुरानी पीढ़ी गलती करती है तो उसकी आने वाली नई पीढ़ी माफी मांगती है कि हमारे पूर्वजो से गलती हो गयी थी, लेकिन कांग्रेस की इस पीढ़ी की जिद के चलते यह संभव नहीं हुआ। उन्होंने कहा कांग्रेस में लोकतंत्र की हत्या करने की होड़ रही है । कभी संसद में बिल की प्रति फाड़ी जाती है तो कभी कांग्रेस सेना से सबूत मांगती है। उन्होंने कहा अगर कांग्रेस लोकतंत्र में जनता का साथ नही देगी तो बहुत जल्द हमारा देश कांग्रेस मुक्त हो जाएगा। श्री कौशिक ने कहा कि आज कोई राजनेता के खिलाफ एफआईआर होती है तो देश में उसकी चर्चा होती है। लेकिन आपातकाल में जो लोग जेल में गए थे, उनको जेल जाते समय ये भी पता नहीं था कि वो वापस घर आएंगे भी या नहीं आएंगे। उन्होंने कहा जब-जब देश संकट में आया तब चाहे हम जनसंघ हों या भाजपा हमेशा हम देश के साथ खड़े रहें। लेकिन आज जब देश संकट में आया तब कांग्रेस ने सिर्फ देश को बदनाम करने का काम किया। कार्यक्रम के मुख्य वक्ता अजय भट्ट ने कहा की आज हम एक ऐसे विषय पर बात कर रहे जो देश पर काला धब्बा है। उन्होंने कहा कि भारत के लोकतंत्र में सबको जीने का हक है और सबके मौलिक अधिकार है। विश्व मे सबसे मजबूत लोकतंत्र हमारा है। अगर, मौलिक अधिकारों का हनन होता है तो भी हम न्यायालय जा सकते है, लेकिन 25 जून 1975 को देश पर एक धब्बा लगा दिया गया। दुर्भाग्य है कांग्रेस ने कभी भी इसकी भत्सर्ना नही की। जब किसी अखबार को कोई खबर छापनी होती थी तो खबर छापने की अनुमति लेनी होती थी।उन्होंने बताया उस समय पुलिस महानिरीक्षक प्रधान संपादक की भूमिका में आ गए थे और उस समय दो प्रकार के समाचार पत्र हुआ करते थे। एक मित्र समाचार पत्र और दूसरा शत्रु समाचार पत्र होता था। मित्र समाचार पत्र को विज्ञापन मिलते थे और शत्रु पत्र की मान्यता ही खत्म कर दी गयी थी। प्रदेश महामंत्री भाजपा कुलदीप कुमार ने कहा 25 जून 1975 कला दिवस एक ऐसा दिन जिसे कोई भी भारतीय नही भूल सकता। इन्दिरा गांधी ने सिर्फ अपने सत्ता के सुख को बनाये रखने के लिए लोकतंत्र की हत्या कर दी और देश के अंदर आपातकाल लगा दिया। देश की जनता को ढूंढ ढूंढ कर जेल में डाल दिया गया 3 लाख लोगो को जेल में डाला गया। कुलदीप ने कहा नई पीढ़ी के लोग तो आपातकाल की विभीषिका को तक नहीं जानते मगर पुरानी पीढ़ी के लोगों को आज भी देश के लोकतांत्रिक इतिहास का वह सबसे काला दिन अच्छी तरह याद है। आपातकाल का यह दौर 21 महीने तक चला था और उस समय हुई कई घटनाओं ने आपातकाल की पटकथा लिखी थी। कार्यक्रम संयोजक डॉ देवेंद्र भसीन ने कहा कि तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी 25 जून 1975 को रात बारह बजे से देश में आपातकाल लाद दिया था। आपातकाल के दौरान नागरिकों के सभी मूल अधिकार खत्म कर दिए गए थे और विरोध करने वाले सभी राजनेताओं को जेल में डाल दिया गया था। उन्होंने कहा यह दिन इतिहास के पन्नों में यह काले दिन के तौर पर दर्ज हुआ। कार्यक्रम पूरे प्रदेश के सभी जिलाकेन्द्रों पर का आयोजित किया गया।

प्रदेश में 128 नए कोरोना संक्रमित मरीज मिले, दो की मौत देहरादून, आजखबर। उत्तराखंड में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 128 नए मामले सामने आए हैं। वहीं दो मरीजों की मौत हुई है। इसके अलावा आज 228 मरीजों को ठीक होने के बाद घर भेजा गया। स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी बुलेटिन के अनुसार, शुक्रवार को 25599 सैंपलों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। बागेश्वर जिले में एक भी कोरोना संक्रमित मरीज नहीं मिला है। वहीं, अल्मोड़ा में 22, चमोली में तीन, चंपावत में एक, देहरादून में 48, हरिद्वार में 14, नैनीताल में नौ, पौड़ी में दो, पिथौरागढ़ में सात, रुद्रप्रयाग में सात, टिहरी में आठ, ऊधमसिंह नगर में चार और उत्तरकाशी में तीन मामले सामने आए हैं। प्रदेश में अब तक कोरोना के कुल संक्रमितों की संख्या तीन लाख 39 हजार 373 हो गई है। इनमें से तीन लाख 23 हजार 855 लोग ठीक हो चुके हैं। वहीं, सक्रिय मामलों की संख्या घटकर 2627 पहुंच गई है। प्रदेश में कोरोना के चलते अब तक चुल 7083 लोगों की जान जा चुकी है। स्वास्थ्य विभाग की चार सदस्यीय टीम केदारनाथ में तीर्थ पुरोहितों व मजदूरों के टीकाकरण में जुटी है। धाम में 228 लोगों को टीका लगाया जा चुका है। डा. रमाकांत यादव के नेतृत्व में स्वास्थ्य विभाग की टीम 21 जून से अब तक 30 तीर्थ पुरोहितों व 190 मजदूरों को टीका लगा चुकी है। यह टीम अग्रिम आदेशों तक धाम में रहेगी।

देहरादून। उत्तराखंड में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 128 नए मामले सामने आए हैं। वहीं दो मरीजों की मौत हुई है। इसके अलावा आज 228 मरीजों को ठीक होने के बाद घर भेजा गया। स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी बुलेटिन के अनुसार, शुक्रवार को 25599 सैंपलों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। बागेश्वर जिले में एक भी कोरोना संक्रमित मरीज नहीं मिला है। वहीं, अल्मोड़ा में 22, चमोली में तीन, चंपावत में एक, देहरादून में 48, हरिद्वार में 14, नैनीताल में नौ, पौड़ी में दो, पिथौरागढ़ में सात, रुद्रप्रयाग में सात, टिहरी में आठ, ऊधमसिंह नगर में चार और उत्तरकाशी में तीन मामले सामने आए हैं। प्रदेश में अब तक कोरोना के कुल संक्रमितों की संख्या तीन लाख 39 हजार 373 हो गई है। इनमें से तीन लाख 23 हजार 855 लोग ठीक हो चुके हैं। वहीं, सक्रिय मामलों की संख्या घटकर 2627 पहुंच गई है। प्रदेश में कोरोना के चलते अब तक चुल 7083 लोगों की जान जा चुकी है। स्वास्थ्य विभाग की चार सदस्यीय टीम केदारनाथ में तीर्थ पुरोहितों व मजदूरों के टीकाकरण में जुटी है। धाम में 228 लोगों को टीका लगाया जा चुका है। डा. रमाकांत यादव के नेतृत्व में स्वास्थ्य विभाग की टीम 21 जून से अब तक 30 तीर्थ पुरोहितों व 190 मजदूरों को टीका लगा चुकी है। यह टीम अग्रिम आदेशों तक धाम में रहेगी।

सीएम ने विभिन्न विकास कार्यों के लिए दी वित्तीय एवं प्रशासकीय स्वीकृति

देहरादून। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने विभिन्न विकास कार्यों हेतु वित्तीय एवं प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान की है। मुख्यमंत्री ने राजकीय चिकित्सालय, खटीमा के आवसीय भवनों के निर्माण हेतु रूपये 2 करोड़, वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली राजकीय मेडिकल कॉलेज, श्रीनगर में वायरोलॉजी लैब की स्थापना हेतु रूपये 03 करोड़ 59 लाख, पिथौरागढ़ में टकाना टाउनशिप की भूमि पर विकास भवन के सामने निर्माण भवन के निर्माण कार्य हेतु रूपये 37 लाख , काण्डा में मिनी स्टेडियम हेतु रूपये रूपये 49 लाख, विकासखण्ड रायपुर में टिहरी नगर स्थित दून यूनिवर्सिटी रोड़ में छूटे हुए क्षेत्र में सीवर लाईन बिछाये जाने हेतु रूपये 47 लाख की वित्तीय एवं प्रशासनिक स्वीकृति प्रदान की गई है। मुख्यमंत्री ने जनपद पौड़ी गढ़वाल के विधानसभा क्षेत्र श्रीनगर के विकासखण्ड थलीसैंण के अंतर्गत थलीसैंण-पीठसैंण मोटर मार्ग से घूरी मोटर मार्ग के नवनिर्माण कार्य हेतु रूपये 30 लाख, विधानसभा क्षेत्र रामनगर के अंतर्गत आनन्द नगर पीपलपड़ाव में सड़क निर्माण कार्य हेतु रूपये 01 करोड़ 06 लाख, जनपद चमोली के विधानसभा क्षेत्र-बद्रीनाथ के विकासखण्ड दशोली के बम्बूधार से मूल गांव छिनका होते हुए मल्ला नौरी तक मोटर मार्ग के नवनिर्माण कार्य हेतु रूपये 01 करोड़ 41 लाख, जनपद पौड़ी गढ़वाल के विधानसभा क्षेत्र श्रीनगर के विकासखण्ड थलीसैंण के अंतर्गत खण्डगांव से सौलासैंण तक मोटर मार्ग के नवनिर्माण कार्य हेतु रूपये 42 लाख, जनपद टिहरी गढ़वाल के विधानसभा क्षेत्र नरेन्द्रनगर में तैला कोटेश्वर मोटर मार्ग के डामरीकरण एवं सुधारीकरण के कार्य हेतु रूपये 2 करोड़ 02 लाख, जनपद ऊधमसिंहनगर के विधानसभा क्षेत्र रूद्रपुर के अन्तर्गत 05 मार्गों का पुनः निर्माण कार्य हेतु रूपये 94 लाख, विधानसभा क्षेत्र रूद्र्रप्रयाग के अंतर्गत विभिन्न पांच कार्यों हेतु रूपये 1 करोड़ 17 लाख, जनपद देहरादून के विधानसभा क्षेत्र चकराता के अंतर्गत विभिन्न 02 निर्माण कार्यों हेतु रूपये 1 करोड़ 86 लाख तथा जनपद टिहरी के विधानसभा क्षेत्र घनसाली के विकासखण्ड भिलंगना में 3 मोटर मार्गो के निर्माण कार्य हेतु रूपये 72 लाख की वित्तीय एवं प्रशासनिक स्वीकृति प्रदान की गई है।

Thursday, 24 June 2021

विकृति और विकलांगता में सुधार-जितना जल्दी उतना अच्छा: डाॅ. संजय

देहरादून। संजय आर्थोपीडिक स्पाइन एवं मैटरनिटी सेंटर एवं सेवा सोसाइटी ने विकृति और विकलांगता के ऊपर एक वेबिनार का आयोजन किया। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार विकलांगता के कई रूप हैं। जैसे कि शरीर के किसी भाग का न होना या फिर उसको चलने में मुश्किल पैदा करना और समाज में हर ढंग से घुल-मिल न पाना। 2018 में भारत सरकार के एक राष्ट्रीय सर्वेक्षण से पता चला कि भारत में पूरी जनसंख्या के लगभग 2.1 प्रतिशत लोग विकलांग हैं जिसमें से लगभग 20.3 प्रतिशत को चलने-फिरने की विकलांगता है। इंडिया बुक रिकाॅर्ड होल्डर आर्थोपीडिक सर्जन डाॅ गौरव संजय ने वेबिनार के दौरान बताया कि किसी भी तरह की विकलांगता चाहे वह शारीरिक हो या मानसिक यह व्यक्ति के लिए रोजमर्रे की जिंदगी में बहुत सी मुश्किलें पैदा करती है। सभी दिव्यांग लोगों की एक सी ही शारीरिक, मानसिक एवं स्वास्थ्य आवश्यकताएं होती हैं जैसे कि एक सक्षम व्यक्ति की। विकलांगता केवल स्वास्थ्य समस्या ही नहीं है बल्कि एक जटिल समस्या है। विकलांग व्यक्ति को भी इस जीवन में हर तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है जिस समाज के साथ वह रहता है। बच्चों में पोलियो, सेरेब्रल पाल्सी, क्लब फुट विकलांगता के मुख्य कारण हैं। हालांकि मार्च 2014 से अपना देश पोलियो मुक्त हो गया है जिससे पोलियो के नए मरीज तो देखने को नही मिलते लेकिन लाखों पुराने मरीज आज भी देश की एक ज्वलनशील स्वास्थ्य, आर्थिक एवं सामाजिक समस्या है। किसी भी तरह के टेढेपन को कुछ हद तक कसरत, आर्थोसिस, कृत्रिम जूते एवं आपरेशन से ठीक किया जा सकता है। डाॅ गौरव संजय ने बताया कि आपरेशन से इन दिव्यांग लोगों के जीवन में बहुत बदलाव लाया जा सकता है और फिर यह लोग भी समाज एवं देश के उन्नति में एक स्वस्थ व्यक्ति की तरह सक्रिय रूप से भागीदार हो सकते हैं। डाॅ गौरव संजय ने वेबिनार के दौरान जोर दिया कि हर तरह के टेढ़ेपन को जल्दी से जल्दी दूर किया जाना चाहिए और यदि सर्जरी की आवश्यकता पड़ती है तो उसे जल्दी कराना चाहिए। मेरा मानना है पौधे सीधे किए जाते हैं पेड़ नहीं। वेबिनार के दौरान पùश्री से सम्मानित आर्थोपीडिक एवं स्पाइन सर्जन डाॅ. बी. के. एस संजय ने बताया कि सड़क दुर्घटनाओं ने अपने देश में एक महामारी का रूप धारण कर लिया है जिसने समाज के एक बहुत बड़े हिस्से को विकलांग बना दिया है। उन्होंने कहा अपने देश में हर साल लगभग 5 लाख सड़क दुर्घटनाऐं होते हैं जिनमें एक चैथाई लोगों की मौत हो जाती है और लगभग एक चैथाई लोग ही अच्छे इलाज के बावजूद विकलांग हो जाते हैं। आजकल सड़क दुर्घटनाऐं जानलेवा होती हैं जिससे मरीज पूरी तरह से स्वस्थ्य नहीं हो पाते हैं या यों कहिए चोट लगने से पहले की स्थिति में नहीं आ पाते हैं। डाॅ. बी. के. एस संजय ने बताया कि आज से लगभग 40 साल पहले सड़क दुर्घटनाओं के बाद हाथ-पैर कटना एक आम बात थी, लेकिन स्वास्थ्य सेवाओं में उन्नति के कारण सड़क दुर्घटनाओं के कारण हाथ-पैर तो नहीं कट रहे हैं लेकिन डायबिटीज, उच्च रक्तचाप, धूम्रपान तथा धमनियों के संकरे होने के कारण पैर कटने की संख्या दिनोंदिन बढ़ रही है। यदि हम सब लोग स्वास्थ्य समस्याओं के प्रति ज्यादा संवेदनशील एवं जागरूक होते हैं तो जीवनशैली में आए हुए बदलावों के कारण होने वाली बमिारियों से बच सकते हैं। हमारी संस्था समय-समय पर इस तरह के कार्यक्रमों तथा मास मीडिया के माध्यम से लोगों को डायबिटीज, उच्च रक्तचाप, सड़क दुर्घटनाओं, विकलांगता, धूम्रपान एवं मदिरापान जैसी अन्य बीमारियों के दुष्परिणामों के बारे में आम जनता को जागरूक करने के लिए कार्यक्रम करते रहते हैं और यह वेबिनार भी इसी कार्यक्रम की एक कड़ी है।

Friday, 18 June 2021

तीरथ सरकार 100 दिन बेकार को लेकर आप कार्यकर्ता उतरे सड़कों पर

देहरादून। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के 100 दिनों के असफल कार्यकाल को लेकर आज आम आदमी पार्टी ने प्रदेश की सभी 70 विधानसभा क्षेत्रों में तीरथ सरकार के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन किया। इसी के तहत, देहरादून में आज आम आदमी पार्टी के सैकड़ों कार्यकर्ता, गांधी पार्क से लेकर घंटाघर तक,सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी और प्रदर्शन करते हुए निकले। आप कार्यकर्ताओं ने सरकार के 100 दिनों की विफलता पर जमकर नारेबाजी की इस दौरान आप कार्यकर्ताओं ने विरोध स्वरूप काली पट्टी बांधकर सरकार के खिलाफ अपना विरोध जताया। आप उपाध्यक्ष के नेतृत्व में सभी आप पदाधिकारी और कार्यकर्ता गांधी पार्क के बाहर एकत्रित हुए और यहां से सभी ने घंटाघर पहुंचकर मुख्यमंत्री के कार्यकाल और सरकार के विरोध में जमकर प्रदर्शन किया। इस दौरान उन्होंने स्व इंद्रमणि बडोनी की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया और प्रदेश सरकार की सदबुद्वि के लिए प्रार्थना भी की। इस दौरान आप प्रवक्ता रविंद्र सिंह आनंद ने कहा, मुख्यमंत्री तीरथ रावत का 100 दिन का कार्यकाल बेहद निराशाजनक रहा। उन्होंने कहा कि पहले मुख्यमंत्री और मौजूदा मुख्यमंत्री देानों के ही कार्यकाल में जनता ने खुद को ठगा महसूस किया। उन्होंने कहा कि इस सरकार के कार्यकाल में एक भी काम नहीं हुआ और साथ ही अभी कुंभ में जो रैपिड टेस्टिंग घोटाला सामने आया उससे प्रदेश को शर्मसार होना पडा है। उन्होंने कहा कि अब मुख्यमंत्री तीरथ पूर्व मुख्यमंत्री पर इस कोरोना टेस्टिंग का ठीकरा फोड रहे हैं। उन्होंने कहा कि एक दूसरे पर आरोप मढने से बीजेपी के पाप कम नहीं होने वाले। आप उपाध्यक्ष ने कहा,पहले जीरो वर्क सीएम बीजेपी ने प्रदेश को दिया,अब जीरो विजन सीएम देकर उत्तराखंड की जनता के साथ छलावा किया जिसका जवाब 2022 में जनता,बीजेपी को देने का मन बना चुकी है। आप के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के कार्यकाल के खिलाफ इस प्रदर्शन में विशाल चैधरी, रजिया बेग,रविन्द्र जुगरान, रविन्द्र आनंद, नवीन पिरशाली,उमा सिसौदिया,योगेन्द्र चैहान,संजय भट्ट,अशोक सेमवाल,राजेन्द्र सिंह, रवि बांगिया, सीमा कश्यप,मनोज चैधरी, , मुकुल कुमार बिडला, हिमांशु पुण्डिर,,दीपक सेलवान,एडवोकेट विनोद कुमार,मीना नागपाल,शिखा गुप्ता, बिल्लू वाल्मीकि, सुनील घाघट, प्रेरणा अरोड़ा, गयूर अली, राजेश शर्मा आदि मौजूद रहे।

अधिकारियों को महाराज ने दी चेतावनी, कार्य में तेजी लायें वर्ना बख्शा नहीं जायेगा

हरिद्वार। पर्यटन तीर्थाटन एवं सिंचाई मंत्री श्रसतपाल महाराज ने आज दूसरे दिन भी हरिद्वार में सम्भावित बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों- ग्राम कांगड़ी, गाजीवाली का स्थलीय निरीक्षण किया। इस मौके पर राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) स्वामी यतीस्वरानन्द के भी उनके साथ थे। निरीक्षण के दौरान सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज ने सबसे पहले कांगड़ी गांव के निकट के गंगा तटों को देखा, जहां से गंगा नदी के पानी के बहाव से गांव को नुकसान पहुंच सकता है। इस पर उन्होने सिंचाई विभाग के अधिकारियों से गंगा के बहाव को डायवर्ज करने के लिये पूर्व में दिये गये निर्देश पर अमल न किये जाने पर नाराजी जाहिर करते हुए कहा कि अभी तक कार्य प्रारम्भ क्यों नहीं किया। इस पर सिंचाई विभाग के अधिकारियों ने कहा कि कल से ही गंगा के बहाव के डायवर्जन का कार्य प्रारम्भ हो जायेगा। उन्होंने अधिकारियों को चेतावनी देते हुए निर्देश दिये कि वे कार्य में तेजी लायें अन्यथा सख्त कार्रवाई की जायेगी। इसके बाद उन्होंने ग्राम गाजीवाली में भी संभावित बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का निरीक्षण किया। सिंचाई मंत्री श्री महाराज ने ग्राम कांगड़ी एवं गाजीवाली आदि में गंगा नदी से बाढ़ सुरक्षा हेतु जो कार्य स्वीकृत व प्रस्तावित हैं, उनके बारे में जानकारी देते हुये बताया कि ग्राम कांगड़ी में गंगा नदी की जलधारा को मोड़ने के लिए क्यूनेट के निर्माण हेतु रूपये 9.89 लाख की धनराशि स्वीकृत की गयी है, कांगड़ी ग्राम में 400 मीटर लम्बाई में गंगा नदी की धारा को मोड़ने के लिए चैनेलाईजेशन के कार्य हेतु दो योजनायें, जिनकी लागत क्रमशः रू0 9.78 लाख एवं रू0 9.90 लाख की है, स्वीकृति के लिए प्रस्तावित की गयी हैं। पर्यटन तीर्थाटन एवं सिंचाई मंत्री ने यह भी बताया कि ग्राम गाजीवाली में पूर्व निर्मित स्पर की मरम्मत का कार्य लागत रूपये 9.60 लाख, पूर्व निर्मित दो क्षतिग्रस्त स्परों का विस्तारीकरण लागत क्रमशः रूपये 9.06 लाख एवं रूपये 6.80 लाख, ग्राम सजनपुर पीली में भूमि कटाव की रोकथाम हेतु बाढ़ सुरक्षा कार्य हेतु रूपये 9.51 लाख एवं ग्राम बसोचन्दपुर गैण्डीखाता में कृष्णायन गौशाला का बाढ़ सुरक्षा कार्य रूपये 7.26 लाख की धनराशि स्वीकृत की गयी है। इसके अतिरिक्त उन्होने बताया कि ग्राम गाजीवाली में 600 मीटर लम्बाई में गंगा नदी की धाराओं को मोड़ने के लिये चैनेलाईजेशन कार्य हेतु तीन योजनायें, जिनकी लागत क्रमशः 9.90 लाख, 9.78 लाख एवं 9.97 लाख (कुल रूपये 29.65 लाख) स्वीकृति हेतु प्रस्तावित किया गया है। इस अवसर पर भाजपा के अनेक कार्यकर्ताओं सहित, सिंचाई विभाग के एस0ई0 श्री डी0के0 सिंह सहित सम्बन्धित विभागों के अधिकारीगण उपस्थित थे।

राजभवन की ओर से जरूरतमंद महिलाओं को बांटी जायेगी 200 राशन किट

देहरादून/नैनीताल। राज्यपाल बेबी रानी मौर्य से शुक्रवार को कुमाऊँ क्षेत्र की स्वयं सहायता समूहों की महिलाओं ने ग्रामीण विकास विभाग सहायक परियोजना निदेशक संगीता आर्य के साथ राजभवन में भेंट की। राज्यपाल ने स्वयं सहायता समूह की महिलाओं से उनके गांवों की वर्तमान में महिलाओं की आर्थिक स्थिति तथा एस0एच0जी के प्रति महिलाओं की जागरूकता की जानकारी ली। महिलाओं को गांवों में एस0एच0जी के प्रति और अधिक जागरूक बनाने के लिए कार्यक्रम चलाकर सजग बनाने तथा अधिक से अधिक महिलाओं को स्वयं सहायता समूहों से जोड़े जाने के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिये। राज्यपाल ने समूह संचालिकाओं से गांव की ऐसी महिलाओं और परिवारों की भी जानकारी ली जिनको राहत सामग्री, राशन किट दिये जाने की आवश्यकता है। उन्होंने इन गांवों में 200 राशन किट, किशोरी बालिकाओं के लिए दो हजार सैनेटरी नैपकींस वितरित किये जाने की बात कही। राजभवन की ओर से उक्त सामग्री गांवों की जरूरतमंद महिलाओं को बांटी जायेगी। राज्यपाल ने महिला स्वयं सहायता समूह की महिलाओं से कहा कि राजभवन महिला उत्थान के कार्यों के लिए हमेशा तत्पर है। यदि समूह संचालन में किसी प्रकार की समस्या हो तो महिलायें निःसंकोच उनको बतायें। उन्होंने ए.पी.डी को समूहों के संचालन के लिए महिलाओं को समय पर बैंको से ऋण, स्थान, उपकरणों की उपलब्धता सुनिश्चत किये जाने के निर्देश दिये। विकासखण्ड हल्द्वानी से स्वयं सहायता समूह एकता की सदस्य पुष्पा पडालनी, विकासखण्ड हल्द्वानी से स्वयं सहायता समूह वैष्णवी की सदस्य बसन्ती राणा, विकासखण्ड कोटाबाग से स्वयं सहायता समूह पूजा की सदस्य उषा, विकासखण्ड ओखलकाण्डा से स्वयं सहायता समूह अम्बेडकर व नारी शक्ति की सदस्य विमला देवी तथा बसन्ती देवी, विकासखण्ड रामगढ से स्वयं सहायता समूह शीतल की सदस्य दीपा लोधियाल तथा विकासखण्ड बेतालघाट से स्वयं सहायता समूह हरीकृष्ण की सदस्य पुष्पा देवी ने राज्यपाल को महिला स्वंय सहायता समूहों के द्वारा बनाये गये उत्पादों की भी जानकारी दी। राज्यपाल ने समूहों को और अधिक सृदृढ़ बनाने के सम्बन्ध में महिलाओं के सुझाव भी आमंत्रित किये। उन्होंने कहा कि अपने परिवार के जीवन स्तर में सुधार, बच्चों को पर्याप्त पोषण, बेहतर शिक्षा के लिए महिलायें ईमानदारी से प्रयास और परिश्रम कर आगे बढ़ें। महिलाओं के सजग और जागरूक होने से एक स्वस्थ और समर्थ समाज का निर्माण होता है। इस असवर पर परिसहाय आर्मी मेजर मूदित सूद एवं परिसहाय पुलिस रचिता जुयाल उपस्थित रहे।

पीसीओएस की वजह से महिलाओं में कोविड का खतरा अधिकः डा. सुजाता संजय

देहरादून। संजय आॅर्थोपीड़िक,स्पाइन एवं मैटरनिटी सेन्टर, जाखन, देहरादून द्वारा आयोजित वेविनार में राष्ट्रपति द्वारा सम्मानित डाॅ0 सुजाता संजय स्त्री एवं प्रसूति रोग विशेषज्ञा ने किशोरियों एवं महिलाओं को पाॅलीसिस्टिक ओवरीयन सिंड्रोम पीसीओएस की बढ़ती हुई समस्याओं के बारे में महत्वपूर्ण जानकारियां दी जिससे की युवतियाॅ इस बढ़ती हुई समस्या से निजात पा सकें। इस जन-जागरूकता व्याख्यान में उत्तरप्रदेश, एउत्तराखण्ड, हिमाचल प्रदेश व पंजाब से 170 से अधिक मेडिकल, नर्सिंग छात्रों व किशोरियों ने भाग लिया। इस समस्या से किशोरियों को निजात दिलाने हेतु संजय आॅर्थोपीड़िक,स्पाइन एवं मैटरनिटी सेन्टर व सेवा एन.जी.ओ. ने एक जागरूकता अभियान चलाया है। सोसाइटी का प्रमुख उद्देश्य यह है कि किशोरियों एवं महिलाओं को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करवाना है। डाॅ0 सुजाता संजय ने कहा कि हार्मोनल असंतुलन पीसीओएस का एक मुख्य कारण है। आजकल लड़कियों में छोटी सी ही उम्र से पीसीओएस यानी की पोलिसिस्टिक ओवेरीयन सिंड्रोम की समस्या देखने को मिल रही है। चिंता की बात यह है कि कई सालों पहले यह बीमारी केवल 30 के उपर की महिलाओं में ही आम होती थी, लेकिन आज इसका उल्टा ही देखने को मिल रहा है। डाॅक्टरों के अनुसार यह गड़बड़ी पिछले 10 से 15 सालों में दोगुनी हो गई हैं। डाॅ0 सुजाता संजय ने बताया कि जब सेक्स हार्मोन में असंुतलन पैदा हो जाती है। हार्मोन में जरा सा भी बदलाव मासिक धर्म चक्र पर तुरंत असर डालता है। अगर यह समस्या लगातार बनी रहती है तो न केवल ओवरी और प्रजनन क्षमता पर असर पड़ता है बल्कि यह आगे चलकर कैंसर का रूप भी ले लेती है। दरअसल महिलाओं और पुरूषों दोनों के शरीरों में प्रजनन संबंधी हार्मोन बनते हैं। एंडोजेंस हार्मोन पुरूषों के शरीर में भी बनते हैं, लेकिन पीसीओएस की समस्या से ग्रस्त महिलाओं के अंडाशय में हार्मोन सामान्य मात्रा से अधिक बनते हैं। यह स्थिति सचमुच में घातक साबित होती है। ये सिस्ट छोटी-छोटी थैलीनुमा रचनाएं होते है, जिनमें तरल पदार्थ भरा होता है जो अंडाशय में ये सिस्ट एकत्र होते रहते हैं और इनका आकार भी धीरे-धीरे बढ़ता चला जाता है। यह स्थिति पाॅलिसिस्टिक ओवेरियन सिंडोम कहलाती है। और यह समस्या ऐसी बन जाती है, जिसकी वजह से महिलाऐं गर्भ धारण नहीं कर पाती हैं। आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में महिलाएं अपने स्वास्थ्य की अनदेखी कर देती हैं, जिस का खमियाजा उन्हें विवाह के बाद भुगतना पड़ता है। लड़कियों को पीरियड्स शुरू होने के बाद अपने स्वास्थ्य पर खासतौर से ध्यान देने की आवश्यकता होती है। महिलाओं के चेहरे पर बाल उग आना, बारबार मुहांसे होना, पिगमैंटेशन, अनियमित रूप से पीरियड्स का होना और गर्भधारण में मुश्किल होना महिलाओं के लिए खतरे की घंटी है। डाॅ0 सुजाता संजय का मानना हैं कि पीसीओएस का सही वक्त पर इलाज शुरू न होने से मरीज का वजन तेजी से बढ़नेे लगता है। अनवांटेड हेयर ग्रोथ टीनएजर्स को मेंटली डिस्टर्ब करती है। इसका लाॅन्ग टर्म इफेक्ट डिप्रेशन के रूप में सामने आता है। इस बीमारी की पहचान देरी से होती है। महिलाओं में अक्सर इसकी पहचान तब तक नहीं होती है जब तक उनमें गर्भधारण से संबंधित समस्याएं ना आ जायें। 30 प्रतिशत संतानहीन महिलाओं में पीसीओएस की समस्या होती है। पीसीओएस के सटीक कारण पता नहीं चलते, लेकिन इसका कारण वंशानुगत और जीवनशैली से संबंधित दोनों ही माने जाते है। हो सकता है ओवेरियन कैंसर बदलती जीवनशैली और भागदौड़ भरी जिंदगी में प्रत्येक घर की महिला तनाव का शिकार हो रही हैं। उनमें से कामकाजी महिलाओं के तनाव का स्तर और भी अधिक होता है। यदि मरीजों को कजरवेटिव इलाज जैसे कि वजन घटाना, हार्मोनल दवाईयों के इस्तेमाल से भी यदि बीमारी ठीक नहीं होती तो ऐसे में इन मरीजों को लैपरोस्कोपिक सर्जरी से प्रभावित सिस्ट को निकाला जा सकता है।

सातवीं कक्षा के छात्र कुशल खेमानी की पहल से कइयों को कोविड से मुकाबला करने में मदद मिली

देहरादून। कोविड-19 की दूसरी लहर ने भारत पर बहुत कहर बरपाया है। मार्च 2021 में कोविड-19 के असर को कम करने के लिए भारत के कई देशों ने लाॅकडाउन की घोषणा की थी। बहुत से लोकोपकारी संगठनों, सरकारों, व्यक्तियों और मशहूर हस्तियों ने प्रभावित लोगों को राहत पहुंचाने के लिए विभिन्न तरीके तलाशे। एक ओर जहां सरकार इस महामारी की चुनौती का समाधान करने में लगी थी वहीं नौजवान भारतीय, यहां तक की स्कूली बच्चे भी देशवासियों की सहायता हेतु कुछ न कुछ प्रयास कर रहे थे। ऐसा ही एक विद्यार्थी है यूरो स्कूल वकाड़, पुणे का कुशल खेमानी। कुशल ने अपने प्रयासों से चार गैर-सरकारी संगठनों के साथ मिलकर और माय गेट ऐप्लीकेशन के जरिए पूरे भारत में हैल्थ चैकअप कैम्प हेतु रजिस्ट्रेशन को सुगम बनाया। ’’पैनडेमिक हैल्थ’’ के बैनर तले बहुत ही कम दरों पर लोगों को यह सुविधा उपलब्ध कराई गई। कुशल कोविड प्रभावित क्षेत्रों से निरंतर सम्पर्क में रहे हैं और उन्होंने दिल्ली, पुणे, मुम्बई व भोपाल में माइंड कोच काउंसलरों के माध्यम से भावनात्मक स्वास्थ्य हेतु वर्चुअल सत्र आयोजित किए, जिनसे 93 लोगों को मदद मिली। कुशल खेमानी का कहना है, ’’ग्रामीण भारत में ज्यादातर लोगों के पास ऐसी स्वास्थ्य सुविधाएं नहीं हैं जैसी हमारे पास शहरों में हैं। महामारी से मुकाबला करने के लिए मैं जो भी विनम्र प्रयास कर सकता था वह मैंने किया। मेरे परिवार और स्कूल ने इस कार्य हेतु मुझे पूरा सहयोग दिया। मैं आशा करता हूं की यह महामारी शीघ्र समाप्त हो जाएगी और हम सामान्य जीवन में लौट सकेंगे।’’ यूरो स्कूल वकाड़ की प्रिंसिपल रेणुका दत्ता ने कहा, ’’यह देख कर बहुत प्रसन्नता होती है की हमारे विद्यार्थी कक्षा से परे भी सोच पा रहे हैं और जरूरतमंद लोगों तक पहुंच रहे हैं। कुशल ने जिस तरह से व्यक्तिगत स्तर पर यह कदम उठाया है उससे वास्तव में हमारे लिए एक बेंचमार्क स्थापित हुआ है। वह अपनी सुविधाओं के दायरे से बाहर निकला और उच्च स्तर की इमोशनल इंटेलीजेंस दिखाते हुए उसने आउटरीच प्रोग्रामों व कैम्पों आदि का आयोजन व निष्पादन किया।’ कुशल यूरोस्कूल वकाड़ की कक्षा 7 में पढ़ता है। कोरोना की पहली लहर में कुशल ने प्रि-प्राइमरी शिक्षकों के लिए एक आॅन-काॅल सपोर्ट सिस्टम स्थापित किया था जिससे शिक्षकों को डिजिटल तरीके से पढ़ाने में मदद मिली। वीडियो टेलीफोनी के इस्तेमाल, एमएस आॅफिस व एमएस पावरपाॅइंट, ऐनिमेटिड व प्रभावी प्रेजेंटेशन के लिए कुशल ने 60 से अधिक शिक्षकों को प्रशिक्षित किया। कुशल ने मई 2020 के मध्य में आॅल स्पार्क इनफिनिटी नाम से अपना यूट्यूब चैनल भी शुरु किया था। समाज के लिए इस अनुकरणीय एवं इनोवेटिव योगदान हेतु कुशल खेमानी को कई सम्मान प्राप्त हुए हैं जिनमें शामिल हैं- प्रामेरिका से कांस्य पदक, मी टू वी मिशन से ट्राॅफी, टीजैडपी से शाइनिंग स्टार अवार्ड, युवा से गोल्डन शील्ड, इंडिया बुक आॅफ रिकाॅर्ड्स से ऐम्बैसेडर आॅफ आॅनर, कोविड-19 हीरो।

अधिकारियों को निर्देश, अन्तर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट के लिए शीघ्र करें भूमि का चयनः महाराज

हरिद्वार। पर्यटन, तीर्थाटन एवं सिंचाई मंत्री सतपाल महारा की अध्यक्षता में शुक्रवार को कलेक्ट्रेट सभागार में अन्तर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट की स्थापना हेतु भूमि चयन के सम्बन्ध में बैठक आयोजित हुई। बैठक में जिलाधिकारी सी0 रविशंकर ने बताया कि हरिद्वार में अन्तर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट की स्थापना हेतु भूमि चयन के लिये एक कमेटी गठित की गयी है, जिसने भूमि के लिये हरिद्वार के विभिन्न क्षेत्रों का सर्वे किया है। पर्यटन, तीर्थाटन एवं सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज ने बैठक में बोलते हुये कहा कि हरिद्वार धर्म नगरी है। इसका बहुत बड़ा महत्व है। यहां से अन्तर्राष्ट्रीय उड़ानें प्रारम्भ होने से विभिन्न उद्देश्यों के लिये विश्व के कई देशों से आवा-गमन होगा, जिससे रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे तथा यह हमारे भविष्य के लिये काफी महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि हरिद्वार का हवाई सम्पर्क विश्व के लगभग सभी देशों से होना ही चाहिये। इस मौके पर पर्यटन तीर्थाटन एवं सिंचाई मंत्री श्री महाराज ने नागरिक उड्डयन विभाग के अधिकारियों से अन्तर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट की स्थापना हेतु जो मानक निर्धारित किये गये हैं, के सम्बन्ध में जानकारी लेते हुये विस्तृत विचार-विमर्श किया। सतपाल महाराज ने बैठक में नागरिक उड्डयन एवं विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे अन्तर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट की स्थापना हेतु संभावित भूमि का मौका मुआयना करके अपनी रिपोर्ट यथाशीघ्र प्रस्तुत करें। उन्होंने कहा कि भूमि के सम्बन्ध में रिपोर्ट प्राप्त हो जाने पर प्रस्ताव आदि बनाने की आगे की कार्रवाई की जायेगी। इस अवसर पर विधायक ज्वालापुर सुरेश राठौर, एडीएम(वित्त एवं राजस्व) के0के0 मिश्रा, डी0सी0 लक्सर शैलेन्द्र सिंह नेगी, एसडीएम भगवानपुर स्मृता पंवार, एस0डी0एम0 सन्तोष पाण्डे, नागरिक उड्डयन, पुलिस विभाग के अधिकारी सहित सम्बन्धित विभागों के अधिकारीगण उपस्थित थे।

Featured Post

कोरोना काल के पश्चात राफ्टिंग का प्रारंभ होना बेहद सुखदः महाराज

ऋषिकेश। पर्यटन व्यवसाय से जुड़े 15 हजार लोगों को पर्यटन विभाग की ओर से अब तक 7 करोड़ की धनराशि वितरित की जा चुकी है। उक्त बात गंगा नदी राफ...